नंगी बीएफ फिल्म वीडियो में

छवि स्रोत,बीएफ पिक्चर देखने वाली सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

भाभी की सेक्स व्हिडिओ: नंगी बीएफ फिल्म वीडियो में, थॉमस ने अपनी जीभ मेरी चुत पर रखी और चाटने लगा मेरी तो जान ही निकले जा रही थी और मुझे थॉमस से चुत चटवाने में बहुत मजा भी आ रहा था थॉमस अपनी जीभ से मेरी चुत की पंखुड़ियों को खोल कर अन्दर तक चाट रहा था.

हिंदी विडियो xxx

भैया मार्किट के लिए निकल गए, तो मैं जल्दी से भाभी के रूम में आ गया, जहां भाभी उल्टी लेटी हुई थीं और मस्त लग रही थीं. मराठी व्हिडीओ ट्रिपल एक्सऊपर से झूला भी कस रहा था, दिलिया की चूत बार बार झड़ रही थी और पिचकारियां छोड़ रही थी.

घोष- कोई बात नहीं है, मैं तो इसलिए पूछ रहा था कि नई जगह है कभी अकेले में डर लगे?दीपिका- ओके, डोन्ट वरी, गुड नाईट. ब्लू मूवी हिंदी वीडियोदोस्तो, बिहारन चन्द्रा भाभी को मैंने किस तरह से चोदा और उन्हें चुदाई से पहले अपने सपनों में चोदने की कहानी सुना कर मजा दिया … ये सब मैं आपको इस सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूंगा.

अब मेरा मन बेकाबू हो चुका था, मैं पलंग से नीचे उतरकर उसके पास पहुंचा और उसके कूल्हे को कसकस कर मसलने लगा.नंगी बीएफ फिल्म वीडियो में: उसके एक दूध को मैंने अपने मुँह में भर लिया था और जोर जोर से खींचते हुए चूसने लगा था.

मैं सीधा लेट गया और पूनम ने मेरे सोये हुए लंड को अपने मुंह में भर कर फिर से चूसना शुरू कर दिया.तभी भाभी पानी पीने के लिए आईं, तो उन्होंने मुझे देखा कि मैं ठंड से कंप रहा हूँ.

देसी गांव की छोरी की चुदाई - नंगी बीएफ फिल्म वीडियो में

मेरी सेक्सी कहानी के पहले भागमेरी चूत चुदाई से पति का प्रमोशन-1में अब तक आपने पढ़ा कि मेरे पति मुझे अपने बॉस के घर डिनर के लिये ले गये.आई लव यू प्रतोष!मैंने भी कहा- सेम टू यू डार्लिंग।तो दोस्तो कैसी लगी मेरी यह कहानी आप सब अन्तर्वासना पाठकों को?मुझे आपके जवाब का इंतजार रहेगा।आप सबका दोस्त प्रतोष सिंह फिर अगली बार हाज़िर होऊंगा एक भाभी की चुदाई के साथ! और आशा करता हूं कि आप सब मुझे आप अपना प्यार[emailprotected]पर जरूर भेजेंगे।तब तक के आप सब अपना ध्यान रखिए और पढ़ते रहिये कामुक और मजेदार कहानियां![emailprotected].

पर गर्लफ्रेंड ने मना कर दिया कि वह यह नहीं करना चाहती।मैं उसे बोला- यार, तेरे लिए ही तो मैं गांव आया हूं. नंगी बीएफ फिल्म वीडियो में मैं एक हाथ से चूत को फैला कर दूसरे हाथ से लंड को चूत में लेने की कोशिश करते हुए बैठने लगी.

बाथरूम के अन्दर वो खड़े होकर मूतने लगी, मैं वहीं बाहर खड़े होकर उसे मूतते हुए देखने लगा.

नंगी बीएफ फिल्म वीडियो में?

मैंने कहा- भाभी, आपसे मैंने पहले ही पूछा था कि आप बुरा नहीं मानेंगी इसलिए मैंने आपसे ये सब कहा. बोल सह लेगी थोड़ा सा दर्द?सरिता- हां सह लूँगी … पर मजा तो दिलवाओ और बताओ आजतक मैंने किसी को नहीं बताया है, जो अब क्यों बताऊंगी? आप चिंता न करो, बस खेल शुरू करो. मेरे लंड से वीर्य की धार पिचकारी के रूप में चाची की चूत में पचर-पचर करके अंदर गिरने लगी.

मैंने चारों ओर की छतों पर नजर दौड़ाई, पर आस-पास की छत पर कोई नजर नहीं आया. उसके बाद मेरे पति काम पर चले जाते थे और 4-5 महीने मैं प्यासी ही रहती थी. सुबह 8 बजे मेरी आँख खुली तो मैं बिल्कुल नंगा अपने बेड पर पड़ा था और दीपिका अपने बेडरूम में जा चुकी थी.

जब कुछ देर भैया को मेरे ऊपर लेट कर चुदाई करते हुए हो गई तो उसके बाद उन्होंने मुझे उठने के लिए कहा. पहले उनकी गर्दन पर, फिर उनकी छाती पर और फिर जैसे ही उनकी उंगली को उनकी चूची पर देखा, तो ब्रा के ऊपर से ही उनके बोबों को बुरी तरह चूसने लगा. शादी होने पर मैंने तरह-तरह के सपने देखे थे मगर जैसा सोचा था वैसा कुछ नहीं हुआ.

मैंने मानसी के फोन पर मैसेज छोड़ दिया कि मैं रात 11 बजे के बाद उसके रूम में आऊंगा और वो दरवाजा खुला ही रखे. सच में दोस्तो, ये कोई बहाना नहीं था, आज मुझे हक़ीकत में नींद आ गई थी.

बिटिया रानी, सुबह घूमना तो बहुत अच्छा होता है सेहत के लिए, मैं तो कहती हूं तू रोज जाया कर!” मम्मी खुश होकर बोलीं.

पहले मैं पाठक था मगर अब अपनी स्वयं की कहानी लिखने के काबिल हो गया हूँ.

थोड़ा तेज आवाज में नम्रता के पति देव बोले- पहले मैं तुम्हें ठंडी समझकर तुम्हारे पास नहीं आता था और अब मैं खुद तुमसे चाह रहा हूं कि मेरी रानी मुझसे सेक्सी बात करे, तो तुम नखरे कर रही हो. उनकी नजर मेरी लोअर पर गई तो मेरे लंड ने लोअर के ऊपर लंड के टोपे की जगह से लोअर को कामरस से गीला कर दिया था. उसका सूट काफी गीला हो गया था और मुझे उसके बड़े बड़े बूब्स साफ़ दिख रहे थे.

मेरे हाथ जब उसकी चूचियों को सहलाते हुए उसकी बगल में गये तो वहां बिल्कुल भी बाल नहीं थे. कामवासना से जलती मेरी बिटिया की नंगी टांगें फैलाकर मैंने उसकी कोमल और कुंवारी चूत में अपना लंड अन्दर घुसाना चाहा लेकिन उसकी चूत बड़ी टाईट थी इसलिए मेरा लंड फिसल गया. मैंने साड़ी के ऊपर से ही उसके यौवन द्वार को सहलाना जारी रखा, साथ ही उसके मुकुट यानि क्लिट को छेड़ने लगा.

उसके नर्म मुलायम कूल्हों को पीछे से नंगा करने के बाद मैंने अपनी निक्कर भी उतार दी.

… ये सेक्सी और हैंडसम बंदा?पिंकी- मम्मी के बैंक में है, हम से वो बहुत बड़ा है. दीपिका ज़ोर जोर से आवाजें निकाले जा रही थी और शराब के सुरूर में अपना सिर इधर उधर पटकती जा रही थी. अब मैं भी जोश में आ गया था, तो मैंने भी उनके बाल पकड़ कर जोर जोर से लंड को भाभी के मुँह में अन्दर बाहर करना चालू कर दिया.

बहुत ही मस्त स्वाद था उसकी चूत का नमकीन नमकीन सा!10 मिनट मैं उसकी चूत को चाटता रहा और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. सेक्स के प्रति मेरा अधिक रुझान होने के बावजूद भी मैं नहीं चाहती कि किसी पड़ोसी के साथ मेरा चक्कर चले. रितेश मीरा की चूचियों को चूसने लगा और मीरा भी अपने हाथों से रितेश के लंड को मसलने लगी.

चाची ने हंसते हुए कहा- तूने सच में आज तक किसी को नहीं चोदा है?मैंने कहा- आज लंड की ओपनिंग सेरेमनी है संगीता रानी.

अमित खड़े खड़े ही मुझे होंठों पर किस करने लगा … मेरे चुचे दबाने लगा. वो अब थोड़ा कम ऊपर नीचे हो रही थी क्योंकि वो झड़ गयी थीं … लेकिन मैं चालू था.

नंगी बीएफ फिल्म वीडियो में जब शीना की तरफ से कोई भी प्रतिक्रिया नहीं मिल रही थी, तो मैंने सोचा कि क्यों ना शीना की गांड मारी जाए. भाभी के 36 के साइज के उभरे हुए बूब्स मुझसे सट गये। मैं तो आप सभी को बताना भूल ही गया कि मेरा और भाभी का रिश्ता बहुत ही अच्छा और हँसी-मजाक वाला है।भाभी से मैंने कहा- भाभी, आप हाथ-मुंह धो लो तब तक मैं आपके लिए कॉफी बनाता हूँ.

नंगी बीएफ फिल्म वीडियो में आपने अब तक की इस मस्त कर देने वाली कहानी में जाना था कि हीना मेरे लंड को चूसने के लिए तैयार ही हो रही थी कि मैंने उससे 69 में होकर उसकी चुत चाटने की इच्छा जाहिर कर दी. पहली बार मैंने किसी अमेरिकन सेक्सी गर्ल की चुदाई की थी जिसका अनुभव वाकई में निराला था.

नाइटी पहन लेना … एकदम रिलेक्स हो जाना … कॉटन और कंडोम भी गद्दे के नीचे रखे हैं.

ট্রিপল এক্স সেক্স

कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि बहन की चूत को चोदने के बाद मैंने उसकी गांड को भी चोद दिया. मैंने उसे अपनी बांहों में भरते हुए कहा- मैंने जब आपको पहली बार देखा था तभी दिल ने कहा था, मेड फॉर ईच अदर. उस पर लड़कियों की नंगी तस्वीरों वाली छोटी मैगजीन भी साथ में देखने को मिल जाती थी।बस एक दिन ऐसा ही हो गया.

इस बार मैंने अपनी चीभ को नुकीला करके चूत के फांकों में 2-3 बार ऊपर नीचे किया, जिससे मौसी खुद को संभाल नहीं पाईं और अपना हाथ मेरे सर से हटाकर अपनी कमर के पीछे मेज़ पर रख दिया. उसने एक बार कहा भी- वाह … मेरी दुल्हन ने आज तो बड़ी ही स्वादिस्ट चूत परोसी है. अब भाभी ने भी अपने दोनों पैर खोल दिए और उनकी चूत रस से सराबोर हो गयी.

”उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी लुंगी पर रखा, उस वक्त मुझे करंट सा लगा.

मगर मैं तो हरामी हूं, मैं माना ही नहीं- बोलो ना रश्मि … तुम्हारी शादी शुदा चूत पर हक तो तुम्हारे पति के लंड का है. मैं सोचती थी कि यदि ये किसी को पता चल जाएगा, तो मेरी और मेरे परिवार की बदनामी भी हो सकती थी. मैं आपसे सिर्फ इतना चाहती हूं कि आप किसी भी तरह मेरा ट्रान्सफर यहां से करवा दीजिये.

मैंने सलवार के ऊपर से ही उसकी चूत पर हाथ फेरा तो उसके मुंह से सिसकारी निकल गई. उसका सूट काफी गीला हो गया था और मुझे उसके बड़े बड़े बूब्स साफ़ दिख रहे थे. फिर मैंने उसके सलवार का नाड़ा खोल दिया और उसे उतार कर एक साइड में फेंका और उसकी चूत पर एक जबरदस्त चुम्बन जड़ते हुए उसकी चूत चटाई शुरू की.

मैं खुशी खुशी पलंग पर पहुँच गया और भाभी अपनी चारपाई पर उठ कर बैठ गईं. इतना बोल कर वो मुझ पर झपट पड़े और मेरी नाइटी देखते ही अलग करके मुझे नीचे बिठा दिया.

और बड़ी बात तो यह थी कि मुझे भी चूत चुदाई की जरूरत थी तो कहीं ना कहीं मैं भी प्रिंसिपल के लंड का मजा लेना चाह रही थी. फोन को स्पीकर पर करते हुए और अपने को थोड़ा संयत करते और थोड़ा सेक्सी आवाज में बोली- हां बताईये. बेबी रानी ने कहा- राजे तू कपड़े पहन ले … अभी वो आता होगा न रूम सर्विस वाला … हम दोनों तो नंगी रहेंगी.

अब आगे:अंकल आज भी कल की तरह रिवीजन करेंगे या सीधे आगे के चैप्टर पर जाएंगे?” यह कहते हुए आज के खेल की शुरूआत मैंने खुद ही की.

मैंने भी पार्टी की तैयारी कर ली और कुछ सामान खाने के लिए ले आया और पीने के लिए ड्रिंक्स भी ले आया. इसके बाद वो मुझे अपने चूचे उठा कर दिखाने लगी और मुझसे पूछने लगी कि बता तो क्या मेरे ये बड़े दिखने लगे हैं. फिर हम तीनों ने एक साथ शावर लिया और मैंने शावर में ही जूली को किस करना शुरू कर दिया.

मैं ऊपर से नीचे होता, तो वो नीचे से अपनी गांड उठा कर लंड को ज्यादा से ज्यादा अन्दर लेने की कोशिश करती. इधर नम्रता को भी जब मेरी गर्म पेशाब का अहसास अपनी चूत में हुआ, तो वो आह-ओह, आह-ओह करने लगी.

बात आगे बढ़ने से पहले ही मैं बोला- मां पिताजी कहां हैं?वो बोलीं- अभी आ जाएंगे, वो कुछ काम के लिए बाहर गए हैं. डॉक्टर ने कहा- मैं शाम को आ जाऊंगी, फिर सब कर के दिखाना, तब तक आराम करो. वो मेरे बाल को पकड़ कर मुझे अपनी तरफ खींच कर मेरी चूची को मेरी कमीज के ऊपर से दबा रहा था.

xxx दिपीका

हमारा संयुक्त परिवार है तो मेरे चाचा-चाची भी हमारे ही घर में हमारे साथ रहते हैं.

जब थकान कुछ कम हुई तो उसके चूतड़ के नीचे दोनों हाथों से ऊपर लाता और वापिस छोड़ देता. यह पारिवारिक कहानी थोड़ी लम्बी है अतः मेरा आप सभी से अनुरोध है कि कहानी से जुड़े रहें, आपको आनन्द आएगा. उसने फिर से अपने जिस्म के पूरे दम से मेरी चूत की चुदाई शुरू कर दी और फिर पूरे दस मिनट तक उसने मुझे चोदा। मैं एक बार फिर से झड़ गई इस दौरान।अब पवन का जिस्म अकड़ने लगा और तभी पवन के लंड ने गर्मागर्म मलाई की पिचकारी मेरी चूत में मार दी। पवन ने अपना ढेर सारा गर्म वीर्य मेरी प्यासी चूत में भर दिया।इस चुदाई से मुझे जो सुख मिला वो अवर्णनीय है.

बाप-बेटी की वासना से सराबोर इस सेक्स कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा था कि कैसे रमेश ने रिया की गांड को चोदने में कोई कसर नहीं छोड़ी. जवान लड़की की चूत की कहानी आपको कैसी लग रही है?लड़की की चूत की कहानी जारी रहेगी. सेक्स ब्ल्यू फिल्मचाची के मुंह से आह-आह … हम्म … हय्य … गौरव … ओह्ह … मेरे चोदू भतीजे … मेरी चूत को फाड़ दे बेटा!मैं पूरे जोश में आ गया और चाची की चूत को रौंदने लगा.

साड़ी के ऊपर से ही मैं उसके चूतड़ों को भी सहला देता और अपनी उंगली को उसके चूतड़ों की दरार के बीच घुमा आता. प्रतिभा ने कहा- संदीप तुम्हारे अन्दर जादू है, तुम्हारे शब्द किसी मोहपाश की तरह लोगों को अपनी ओर खींच लेते हैं … दुनिया को देखने का तुम्हारा नजरिया भी बेहतरीन है और तुम्हारा व्यवहार भी शानदार है.

पांच मिनट तक किसिंग करने के बाद मनीषा ने उठने का इशारा किया और बोली- मनोज आ जायेगा, हमें उठ जाना चाहिए. यह सब तो एक दूसरे की सहमति और सहयोग से ही यह सब अच्छा रहता है।”हम्म!”मुझे लगा नताशा कुछ सोचने लगी है। शायद वह इस क्रिया को भी एक बार आजमा लेने पर विचार करने लगी है। काश! अगर एक बार वह हाँ कर दे तो फिर तो मैं उसे इस प्रकार अपने झांसे में फंसा लूंगा कि बाद में तो वह कितना भी मना कर चिल्लाये मेरे लंड को अपनी गांड से नहीं निकाल पायेगी।प्रेम! मैंने कभी इस प्रकार के संबंधों के बारे में सोचा ही नहीं था. दीपिका ने फोन उठाया और स्पीकर ऑन करके बोली- हाँ संजना, कैसी हो?संजना- तुम बताओ, सब सेटिंग हो गई?दीपिका- हाँ, सब हो गई.

उसने मुझे शादी की मुबारकबाद दी और पूछा- अब सारा को क्या कर दिया? थोड़ा आराम से सेक्स किया करो. मौसी ने अपनी आंखें बंद की हुई थीं और वे सांसों को कंट्रोल करने की कोशिश कर रही थीं. इसके बाद वो मुझे अपने चूचे उठा कर दिखाने लगी और मुझसे पूछने लगी कि बता तो क्या मेरे ये बड़े दिखने लगे हैं.

बताइये क्या सामान लेकर आना है?भाभी बोली- बच्चा लाना है!यह कहकर भाभी ने मेरी तरफ आंख मार दी.

रमेश- हां तो तुम अभी हगोगी न … उस मीठे मसाले को जिसे तुमने अपनी गांड में भर रखा है. नम्रता मेरे बालों को सहलाते हुए हम्म-हम्म करते हुए मेरे जोश को बढ़ा रही थी.

मेरा लंड नम्रता की चूत को काफी घिस चुका था और खुद भी काफी रगड़ चुका था, सो अब रस बाहर निकलने के लिए बेकरार हो रहा था. फिर उसने एक हाथ से लंड का चिकना टोपा चुत की फांकों पे फंसा दिया और एक जोर का धक्का लगा दिया. खाना खाने के दौरान मैं नोटिस कर रहा था कि खुशी प्रतिभा और सुमन से ठीक से बात नहीं कर रही थी.

कुछ समय पहले जब मैं लखनऊ गया था, तब मेरे बंगले के बगल के दुकानदार से दोस्ती हो गई थी. यह शहर का सबसे अच्छा सिनेमा हॉल था। मैं उसके साथ पहले भी यहाँ आ चुका हूँ। यहाँ भीड़ काफी कम होती है. तो कभी किसी जोक पर भाभी भी मेरे ऊपर पूरा गिर कर मुझे गर्म कर देती थीं.

नंगी बीएफ फिल्म वीडियो में रानी ने फिर मुझसे अपनी जांघों पर छलक के लगी हुई अमृत की कुछ बूँदें चटवाई. फिर देखते ही देखते मेरे अंदर हवस जाग गई और मैंने मनीषा के होंठों को चूस लिया.

लुगाई की चूत मारते दिखाओ

इतने में हरकेश ने अपना लंड बाहर निकाला और उसकी गांड के छेद में टिका दिया. मैं मम्मी मौसी के पास बैठकर बात करने लगा, वो कमरे में अपने कपड़े रख रही थी. मीता- हम्म … पर …मैं- देखो … मुझे पता है कि तुम मेरे घर क्यों आ रही हो … और वहां क्या करोगी.

कुछ दिन तो सब कुछ ठीक रहा लेकिन थोड़े दिन बाद मेरी नीचे वाली मुनिया यानि मेरी चूत मेरे पति की याद में आँसू बहाने लगी और मेरे दिल को बेचैन करने लगी. कई बार तो चुदाई में जब लौंडिया झड़ती है तभी सुस्सू भी थोड़ी सी निकल जाती है, विशेषकर यदि चुदाई में चूत ज़ोर से स्खलित हुई हो. आदिवासी गर्ल फोटोमेरे लंड से वीर्य की पिचकारियाँ छूट छूट कर साली जी की चूत में भरने लगीं.

चूंकि चाची की चूत काफी दिनों से न चुदने के कारण कस गई थी, इसलिए उनके मुँह से ‘आह… उहह … उहह.

मैंने भी अंकल को कस कर गले लगाया हुआ था और अपने स्तन उनके सीने में गड़ा दिए थे. फिर मुझे वैसे ही लिटाए रखकर उन्होंने अपना उल्टा हाथ मेरे बायीं ओर बेड पर टिकाया … और दाएं हाथ से लंड को पकड़ कर गांड पर रगड़ना शुरू कर दिया.

रीना के सारे कपड़े उतार कर मैंने उसे पूर्ण रूप से नग्न कर दिया। यह करते हुए मुझे पिछली बार का हाफ स्वैपिंग वाला किस्सा याद आ गया, जिसमें उस दिन उसे शर्म आ रही थी. मैं जब तक कुछ कह पाता, तब तक वो अपनी बात बोल कर बलखाती और गांड मटकाती हुई दूर भाग निकली. नेहा की अपने हस्बैंड से नहीं बनती थी, प्रेग्नेंसी के बाद से झगड़ा होने के बाद अपनी माँ के पास आ गई थी और बच्चे की डिलीवरी भी यहीं हुई थी.

मैंने भी साफ साफ शब्दों में बात करते हुए सर से कह दिया- सर आपको जो कुछ रूपया पैसा जितना भी चाहिए आप मुझे कह सकते हैं.

मैं प्रशिक्षण केंद्र के अन्दर पहुंचा, तो वहां करीब तीस लड़के और लड़कियां एक साथ बैठे हुए थे. मेरा लंड एकदम टाइट हो रहा था और कॉटन के पजामे में साफ नजर आ रहा था. अभी तक की कहानी में आपने पढ़ा कि मौसी की लड़की के आने के बाद मेले वाले दिन मैंने उसको पटा लिया और रात में उसके साथ अच्छे से फ़ोरप्ले किया, पर बात चुदाई तक नहीं पहुँच पाई थी … क्योंकि मम्मी जाग गयी थीं.

हिंदी में बीएफ दिखाइए हिंदी में बीएफमेरी चूत गीली हो गयी थी और हम दोनों लोग सेक्स करते-करते एक दूसरे को किस भी कर रहे थे. ”कुछ नहीं होगा। मेरा भाई है न राजेश, उसकी एक जान पहचान की लेडी डॉक्टर है.

दीपिका वीडियो सेक्सी

चूंकि मानसी मुझे एडल्ट चैट साइट पर मिली थी, तो हमारी ओपन सेक्स पर ही बात हुई और हम दोनों ने अपनी पहली ही सेक्स चैट में अपने आपको ठंडा कर लिया. अब रिया भी गांड में लंड के दिये दर्द से निकल कर आनंद की चौखट को चूम रही थी. मेरी पिछली सेक्स कहानीतलाकशुदा का प्यारचार भागों में नवंबर 2019 को प्रकशित हुई थी.

मैंने मंजू से पूछा- कुछ पूछूँ? बताओगी मंजू?वो बोली- जी!तुम्हारी घर से भागने वाली बात बताओगी?”वो बोली- जरूर … उस समय मेरा एक लड़के से सम्पर्क था. ये बात उसने मुझे खुद बताई थी कि उसका गुजरात में 4 लड़कों के साथ चक्कर था जिन्होंने उसे खूब चोदा था. अगले कुछ ही मिनटों के बाद हम बेड पर एक दूसरे के जिस्मों को चुदाई का मजा दे रहे थे.

कुछ देर बाद बाद जब दर्द कम हुआ तो अनिल भैया ने मुझे घूमने को कहा … ताकि वे देख सकें कि हुआ क्या था. ”मम्मी ने मेरे सिर से आँचल थोड़ा सरकाया और उपिंदर ने मेरी मांग में सिंदूर भर दिया।अंशु बोली- कामिनी अब से घर में तू बिना सिंदूर के नहीं रहेगी। हम दोनों में से किसी एक से रोज़ लगवाया करेगी. एक दिन रविवार छुट्टी थी मगर बॉस ने कहा- कुछ काम है ऑफिस में तो तुमको आना होगा.

फिर उसने हाथ पीछे ले जाके ब्रा का हुक खोला और उसे भी वैसे ही बेड के नीचे गिरा दिया. बस मन कर रहा था कि लिंग को उसकी योनि में डाल कर उसकी योनि को चोद दूं.

इसी दौरान मेरे एक बॉयफ्रेंड ने मुझको अन्तर्वासना पर सेक्स कहानी पढ़वाई.

रात 9 बजे मैं उनके घर आ पहुंचा- भाभी दरवाजा खोलिए … बहुत ठण्ड लग रही है. हिंदी बीएफ बीएफ हिंदी बीएफउन्होंने मुझे किस करते करते मेरी सलवार और सूट को निकाल दिया और मैं ब्रा और पेंटी में रह गयी. देहात की ब्लूउसकी बात का जवाब न देकर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और लगभग 15-20 मिनट की पलंग तोड़ चुदाई करके आखिर कार अपने लंड से वीर्य की पिचकारियाँ मार मार कर उसकी चूत को भर दिया. उसका लन्ड कुछ इस तरह मेरी चूत में कड़क हो रहा था मानो उसके लन्ड में भी हड्डी निकल आयी हो.

धीरे धीरे मेरे हाथ उसकी पीठ से नीचे उसकी ड्रेस ऊपर की तरफ हो चले और उसकी जांघों को सहलाने लगे.

मैं अभी तक नहीं झड़ा हुआ था और संजना यह बात जानती थी … तो उसने सीधे से आकर मेरा लौड़ा अपने मुँह में लिया और सीधे चूसने लगी. सुमीना बोल रही थी- बस आआह आआअ आह आअह हहह उम्म मम्मह अआआ आअ आउउ उउउ पापा खा जाओ … पी जाओ मेरी चूत को … बहुत तड़पती है ये!और नीचे से अपने नंगे चूतड़ उचका उचका कर अपनी चूत को अपने पापा के मुँह पर रगड़ रही थी. मैंने उसकी जांघिया पर हाथ फिराया तो पता लगा कि उसकी कच्छी गीली हो चुकी है.

वह मेरे होंठों के रस को ऐसे चूसने लगा जैसे एक भंवरा शहद को चूसता है. अंकल जी मेरी पीठ पर हाथ से सहलाने लगे; मेरी चिकनी पीठ पर उनके हाथ निर्विघ्न फिसल रहे थे क्योंकि ब्रा तो मैंने पहनी ही नहीं थी. मुझे अपनी गोद में बिठाकर रवि अपने दोनों हाथों से मेरी निप्पल्स को मरोड़ने लगा.

जौनपुर का बिरहा

अनिता की चूत एक बार झड़ चुकी थी तो मुझे उसे फिर से चुदाई के लिए तैयार भी करना था. वंश कार चला रहा था, मैं उसके साइड में बैठी, उसकी जांघों में हाथ फेर रही थी. उसके हाथ मेरे पूरे बदन पर रेंग रहे थे जो मुझे उत्तेजना की अलग ही दुनिया में ले जा रहे थे.

अंत में मेरे सब्र का बांध टूट गया और मैंने जीजा से कह दिया- क्या बात हो गई? जवानी खत्म हो गई क्या?जीजा मेरी बात सुन कर शर्मिंदा हो गये और चुपचाप एक तरफ जाकर लेट गये.

(तुम एक अच्छी चुदक्कड़ हो)वो- थैंक्स मास्टर …उसने झुकी नजरों वाली इमोजी के साथ भेजा।मैं- ह्म्म्म!मैं- व्हाट आर यू वेयरिंग? (क्या पहन रखा है तुमने)वो- गाउन मास्टर.

अब आशीष को क्या पता था कि मेरे जीजा का लंड मेरी चूत में उतर गया है और मुझे सच में ही बहुत दर्द हो रहा है. फिलहाल वो बस मजे ले रही थी … ना उसके मुँह से कुछ आवाज निकल रही थी … और ना ही वह कुछ कह रही थी. जानवरों के बीएफतभी उन्होंने मेरे मोबाइल में कुछ ब्लू फ़िल्म देख लीं और मुझसे बोलीं- प्रणय, तुम ये सब देखते हो?मैंने पूछा- क्या भाभी?वे बिंदास बोलीं- ब्लू फ़िल्म.

धीरे धीरे पापा डिप्रेशन में जाने लगे तो मैंने उन्हें डाक्टर को दिखाया तो उन्होंने माहौल बदलने की बात कही. प्रियंका मेरे से एक साल बड़ी है … जबकि वनिता मेरे से एक साल छोटी है. मैंने गुस्सा होकर कहा- इतनी रात को आप घर नहीं जाइएगा, चोर बदमाश सब घूमते हैं.

मेरी चूत पानी पानी हो रही थी, डर भी लग रहा था कि कहीं कोई और इस गेरेज में ना आ जाए और हमे देख ना ले. यह सुनकर भाभी ने मेरी पैंट में तने हुए मेरे लंड को ऊपर से ही छू लिया और अपने हाथ से सहलाना शुरू कर दिया.

कुछ देर बाद बाद जब दर्द कम हुआ तो अनिल भैया ने मुझे घूमने को कहा … ताकि वे देख सकें कि हुआ क्या था.

उसकी दोनों टांगों को मेरे कंधे के पास रख कर मैं दोनों पैरों पर बैठ कर पेलने लगा. लड़कियों के लिए खड़े होकर सुस्सू करना कितना दिक्कत वाला होता है यह हम सभी जानते हैं. उसके बाद मैं नहाने गया और नहाने के बाद मैं एक घंटे के लिए बाहर गया.

देसी गांव की छोरी की चुदाई मेरा कमरा बेड के चरमराने और लण्ड की चूतड़ों पर थाप की आवाजों से गूंजने लगा. नम्रता होंठ को छोड़ते हुए बोली- शरद मैं इस अहसान का बदला जिंदगी पर नहीं चुका पाऊंगी.

वसुन्धरा की आँखें बार-बार झुकी जा रही थी, होठों पर हल्की सी मुस्कान आ गयी थी और माथे पर लिखा 111 कब का विदा ले चुका था, आवाज़ में से तल्ख़ी गायब हो चुकी थी और उस के हाव-भाव में आक्रमकता की बजाये एक शालीनता सी आ गयी थी. मैंने गुस्से में आकर कहा- सर, आपने मुझे समझ क्या रखा है? मैं कोई बाजारू औरत नहीं हूं. इस बीच गुप्ताइन बोली- डॉली का तो अच्छा हो गया, गोलू की भी नौकरी लग जाती तो चिन्ता खत्म हो जाती.

दीपिका एक्स एक्स

मेरा तना हुआ लौड़ा एक बार कट के अंदर जाकर फिर से बाहर आ गया और मेरा अंडरवियर नीचे मेरे घुटनों तक सरका दिया शिखा ने. कमरे में सिर्फ सांसें, आहें और कामुक कराहें ही गूंज रहीं थीं या साली जी की चूत से निकलती चुदाई की हल्की सी सरसराहट जैसी ध्वनि सुनाई दे रही थी. मैंने दस लम्बे लम्बे शॉट मार कर उसकी बुर में ही सारा वीर्य डाल दिया.

मैंने कहा- अरे मुस्कान, तुझे क्या हुआ है बेबी, तू बिल्कुल चुप बैठी है? चुदते हुए भी बस आह उह के इलावा कुछ नहीं बोली?इससे पहले कि मुस्कान कुछ बोलती, प्रियंका बोली- इसकी चुप्पी तो मैं तोड़ती हूँ. उसी रात की बात है कि जब हम सोने लगे तो मेरे मन में सेक्स के ख्याल आने लगे.

नहीं सर … आज बहुत थक गई हूं … फिर कभी!”कुछ पल रुक कर मैंने उनसे कहा- सर, एक बात पूछनी थी आपसे?पूछो ना!” सर बोले.

अचानक मेरे दिमाग में आया कि क्यों न अहमदाबाद जाने का प्लान किया जाए. उनकी जोड़ी को देख कर हर कोई कह सकता था कि ये दोनों तो एक दूसरे के लिए ही बने हैं. मैंने उसको खेत की मेढ़ पर सीधा लिटाया और उसकी टांगों को अपने कंधे पर रख लिया। रंजना को नीचे लेटाने के बाद उसकी योनि मेरे सामने थी.

बस राज बस! मेरे लिए आपकी आँखों में आंसू आये, मैंने दोनों जहां पा लिए. सच में जब माणिक मेरी जांघों को हल्का हल्का मसल रहा था, तब मुझे ये सब बहुत अच्छा लग रहा था. मैं उसके कानों की तरफ गया और कानों पर किस करके बोला- मास्टर वांट्स योर ब्रा! (मालिक को तुम्हारी ब्रा चाहिए)उसने नजरें झुकाये रखी.

उसको बहुत ही ज्यादा दर्द हो रहा था और उसकी आंखों से आंसू आना शुरू हो गये थे.

नंगी बीएफ फिल्म वीडियो में: यह रस भरी चुदाई स्टोरी जब अपने चरम पर पहुंचेगी, तब आपको खुद ब खुद अपने आइटम पर हाथ ले जाना ही पड़ेगा. शादी के बाद जब हम हनीमून पर गए थे, तो तुमने ऐसे ही मुझे दिन रात चोद चोद कर मज़े दिए थे.

उसने मुस्कुराते हुए कहा- इसका क्या मतलब हुआ राहुल जी?मैंने उसकी बात का कोई उत्तर नहीं दिया, तो वो मुस्कराती हुई अपने काम में लग गई. मैंने गुस्सा होकर कहा- इतनी रात को आप घर नहीं जाइएगा, चोर बदमाश सब घूमते हैं. एक दिन अंकल ने मुझे अकेले में पूछा भी- क्यों नीतू … सब ठीक है ना?उनकी आवाज से ही पता चल रहा था कि वो भी टेंशन में हैं.

मैंने कहा- आप ड्यूटी पर नहीं जा रहे हो क्या?वो बोले- नहीं, आज तबियत कुछ ठीक नहीं लग रही.

तब उसने कहा- नहीं … जब वो बिना पिये आता है, तब पूरा अन्दर पेल चोद लेता है, पर उसका लंड तुम्हारी तरह नहीं है तुमने सच कहा है कि उसकी लुल्ली है. इस तरह एक जवानी दहलीज पर कदम रखती कमसिन लौंडिया मेरे हाथ से निकल गयी, पर जाने से पहले वो मुझे मेरी जिंदगी के सारे मजे करा गयी. खाना खाने के बाद चाची बोलीं- तू गेस्ट रूम में चल, मैं बाबू को सुला कर आती हूँ.