बीएफ एचडी डॉट कॉम

छवि स्रोत,बीवी का सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

ക്ഷ്ന്ക്ഷ്ക്ഷ്: बीएफ एचडी डॉट कॉम, चाची की सेक्सी नाइटी को देखकर मैंने बोल ही दिया- चाची आप तो गजब लग रही हो.

सेक्सी जवानी का

इस भाई ने बहन को चोदा सेक्स कहानी के प्रति अपनी राय, सुझाव मुझे जरूर मेल करें. भाभी और देवर की चुदाई सेक्सीराहुल बोला- ओके जान, मुझे पता है तुम्हें नाम तो मालूम है … लेकिन शर्म के मारे तुम नाम नहीं लोगी.

कालू की बात सुनकर मुखिया गुस्से में आ गया और ज़ोर से झल्ला कर बोला- अरे कुत्ते, ऐसी कौन सी बात है, जो तू मुझे नहीं बता सकता. ज्ञानेश्वर सेक्सी व्हिडिओगीता ने मुखिया के लम्बे झूलते लंड पर बस एक सरसरी सी निगाह मारी … और फिर नज़र झुका ली.

तो मैंने क्या किया?दोस्तो, मेरा नाम राज वर्मा है। मेरी उम्र 26 साल, कद 5 फीट और 6 इंच है.बीएफ एचडी डॉट कॉम: सुरेश- कहां चली गई थी तू … पता नहीं यहां कितने काम होते हैंमीता- मैं तो यहीं बाहर ही थी.

तब विक्रम ने एक स्प्रे निकाला और मुझ पर बहुत सारा स्प्रे कर दिया। फिर हम घर की तरफ चल दिये।तब विक्रम बोला- अभी तो हम लड़के तुम लड़कियों का क्या हाल करेंगे घर पर, तू देखती जा।हम करीब शाम 6 बजे हम घर पहुंच गये।दोस्तो, कहानी बहुत लम्बी हो गयी है इसलिए यहीं विराम दे रही हूं.मैंने उनसे कहा- ठीक तो बताइए क्या बात करना है?उन्होंने मुझसे कहा- फोन पर बात नहीं हो सकेगी, आप रायपुर आ जाओ और अकेले ही आना.

गांव की देहाती हिंदी सेक्सी वीडियो - बीएफ एचडी डॉट कॉम

मैं- हां, ठीक है पापा … मैं उन सबके घर इनविटेशन कार्ड पहुंचा दूंगा.वो भी बेड पर आ कूदा और हम दोनों ने एक दूसरे की बांहों में लिपट कर एक दूसरे को चूमना शुरू कर दिया.

इसी कॉलेज में एक लड़की एक तरफ अकेले में बैठकर अपने ही ख्यालों में खोई हुई थी. बीएफ एचडी डॉट कॉम रणजीत तो अपने बिस्तर पर लेट गया और सन्नो बर्तन धोकर मुनिया को देने लगी.

अब आगे की वासना की कहानी:चूंकि सरजू खेतों में काम करके बहुत तक जाता है, तो उसको नींद भी गहरी आती है.

बीएफ एचडी डॉट कॉम?

मैं- क्या भाभी, आग भड़का कर यहां रुक गयी हो, आज मेरे लंड का क्या होगा?रुक्मणी धीरे बोलीं- धीरे बोल बदमाश. मैंने कहा- कोई बात नहीं, मैं तो फिर भी आपकी लेने की पूरी कोशिश करूंगा. जैसे ही उसने अपनी जीभ मेरी चूत के अन्दर डाली, ‘आआआह …’ मेरी गांड खुद ब खुद उछलने लगी.

कालू- एक बात का ध्यान रखना हरी, वो कोई रंडी नहीं है … कोई बदतमीज़ी ना करना … और पहले उनको खुश करना. मौसा जी ‘और कुछ चाहिए आपको’?” मैंने बहुत ही मीठी आवाज में फिर से पूछा; मेरी कजरारी आँखों में मेरे जिस्म की प्यास और आमंत्रण का भाव तैर रहा था. मेरी गांड का छेद राजेश के लंड से चुदकर पहले राउंड में ही ढीला हो गया था.

मैं कुछ करती, इससे पहले ही कासिब ने मेरे मुँह पर अपना हाथ रखा और मुझे उठाकर मेरे कमरे में ले जाने लगा. दोस्तो, आज मैं आपको मेरी और मेरी प्यारी भाभी सुनयना (बदला हुआ नाम) के बीच हुई एक सच्ची घटना के बारे में बताना चाहता हूँ कि किस तरह मैंने अपनी भाभी को पटाया और उनकी चुदाई की. पर अब भाभी के स्तनों को चूस कर अब ये होना एक संकोच तो जाहिर करेगा ही.

थोड़ी थोड़ी देर में दिन में कई बार मैं जब आंख बंद करती तो उसका काला नाग मेरी आंखों के सामने आ जाता. चुदाई के बाद आज भाभी की चाल बदल गई थी और उनकी मटकती गांड को देखकर मेरा लंड फिर से टाइट होने लगा था.

वैसे अपने आप चुत रगड़ना कहां से सीखा?मीता- कहीं से नहीं … बस चुत में मीठी जलन होने लगी, तो हाथ अपने आप वहां पहुंच गया और काम बन गया.

फिर मैंने आगे बढ़ते हुए उसकी मैक्सी को उसके घुटनों पर से ऊपर सरकाना शुरू किया और उसकी चूत तक लाकर छोड़ दिया.

जी चाह रहा था उसके चूतड़ों के बिल में अपना काला मोटा लंड घुसेड़ दूं. बहुत मजा आ रहा था भाभी की चूत का रस पीने में।अचानक मैंने चूत से मुंह हटाया और उसकी चूत में उंगली दे दी और तेजी से चोदने लगा. मैंने भी राहुल के होंठों को जबरदस्ती अपने होंठों में जकड़ते हुए चूसना शुरू कर दिया.

अब धीरे धीरे उसको मजा आने लगा था और वो अपनी कमर को ऊपर उठाने लगी थी. फिर पानी निकालने ने टाइम मैंने लंड खींचा और उसको नीचे बैठा कर उसके मुँह में लंड दे दिया. मैं एक गांव से हूँ, लेकिन मैं गांव में कम और शहर में ज्यादा रहा हूँ.

अब्बू की दुकान पर मोबाइल की बिक्री और रिचार्ज ही होता था, रिपेयरिंग का काम नहीं होता था.

भाभी- अच्छा वो सब छोड़ो, ये बताओ मैं कैसी दिख रही हूँ?मैं तो बस यही सोच रहा था कि सब सच बोल दूं, पर मैंने बात को घुमा कर बोला- भाभी आप तो आज कहर ढा रही हो, मुझे तो बस भैया के चेहरे की खुशी देखना है, जब वो आपको ऐसे देखेंगे. भाभी के मुंह में मेरा माल भरा हुआ था जिसमें से थोड़ा थोड़ा रस नीचे भी टपक रहा था। इधर माल निकलने से मेरा लन्ड ढीला पड़ गया। इस तरह लंड का रस पिलाने से भाभी नाराज़ हो गई। उसका चेहरा लाल हो गया।वो बोली- मैंने सोचा नहीं था कि तुम मेरे साथ ऐसा करोगे. अब मुझे फिर मस्ती छाने लगी और मैं सर की गोदी में ही बैठी बैठी उनसे कस कर लिपट गयी.

अब आगे की ओरल सेक्स फ्री सेक्स स्टोरीज:अभी कालू आगे कुछ और बोल पाता, तभी मुखिया का मुनीम नारायण वहां आ गया. [emailprotected]देसी इंडियन सेक्स की कहानी का अगला भाग:भतीजे की बीवी की चुदाई का मौक़ा- 2. अभी थोड़ी शराब बाकी थी लेकिन मुझे नशा ज्यादा हो गया था तो मैंने पीने से मना कर दिया.

मैंने तारीफ़ करते हुए लिखा- भाभी आप सच में बहुत सुंदर हो … और बहुत सेक्सी हो.

कुछ देर तक मैंने उसको ऐसे ही चोदा और फिर उसको लंड पर बैठने के लिए कहा. भाभी की चूत अंदर से बहुत ज्यादा गर्म थी। मुझे भाभी की चूत में उंगलियां अंदर बाहर करने में बहुत ज्यादा मजा आ रहा था। पूजा भाभी अभी भी अपने आप को छुड़ाने का असफल प्रयास कर रही थी.

बीएफ एचडी डॉट कॉम हॉट चाची सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैंने अपनी माल चाची चुदाई का सोच कर मुठ मारता था. ऐसे ही जब मेरी उंगली उसकी चूत के पास जाती तब भी वो आहें भरते हुए अपनी चूत को सिकोड़ लेती थी।मुझे ये सब करते हुए उसके पति भी देख रहे थे, जो कि हमारे साथ उसी कमरे में थे।फिर मैंने रीमा मैडम को पलटने को बोला.

बीएफ एचडी डॉट कॉम वो मस्ती में आहें भरते हुए चुदने लगी और मैं भी जैसे जन्नत की सैर करने लगा. आंटी के हाथ से मैंने कपड़े ले लिये और अपना नागराज उसके हाथ में पकड़ा दिया.

उन्होंने गोबर के कंडे बनाने के लिए बाल्टी उठा ली और बाल्टी में पानी भर लिया.

इंग्लिश फिल्म बीएफ हिंदी

तब तक रात बहुत हो चुकी थी, तो हम दोनों ऐसे ही नंगे एक दूसरे की बांहों में चिपक कर सो गए. एक तो दिव्या पहले से ही काफी गर्म थी और उसकी चुत ने पानी भी छोड़ दिया था. अब उसके मुंह से जोर जोर से सिसकारियां निकलने लगीं- आह्ह … संदीप … अम्म … ओह्ह … वाऊ … आह्ह … चूस लो … आह्ह … चूस लो यार … और जोर से … आईस्स … या … आह्ह … हम्म … चूसते रहो यार!मैं उसकी चूचियों को कई मिनट तक चूसता रहा और वो मेरे सिर के बालों को सहलाती रही.

मुखिया- तू बड़ा होशियार है रे कालू … मेरी आधी से ज़्यादा मुश्किलें तू आसान कर देता है. भाभी की आह आह … की मस्त आवाज निकलने लगी और वो कहने लगीं- आह अब छोड़ दे जान मैं थक गई हूँ. सुरेश- अरे पगली मैंने भी तुम्हारी चुत का रस पिया ना … वैसे तुमने मेरे लंड का रस पिया था … समझी!मीता- अच्छा ये बात है, मगर बाबूजी अपने जिस तरह मेरी फुन्नी चूसी और मेरा रस निकाला, मैं बता नहीं सकती कि मुझे कैसा लगा.

लेकिन फिलहाल जो अभी हालात चल रहे हैं, उसको लेकर एक सत्य घटना घट गई.

मैंने कहा- सॉरी सिमरन, तुमने मुझे भैया माना था … और तुमने मुझे कितने गंदे काम करते हुए देख लिया. मैं उसकी जांघों पर उंगलियां घुमाता रहा और बीच बीच में उसकी चूचियों को छेड़ता रहा. मैंने सोचा कि लौंडिया चुदने को राजी हो तो मजा ठोकने में ज्यादा मजा आता है.

ये क्या … मैं दंग रह गया कि अभी दो दिन पहले तो अम्मी के चूत पर बाल थे और अब बिल्कुल चिकनी चूत थी. मैंने भी समय नहीं गंवाया और अपना लंड उनकी चूत पर लगाकर एक धक्का दे मारा … लेकिन लंड फिसल गया. वो बोले- देख लो, बीमार हो गयी तो?मैंने कहा- बीमार नहीं पड़ूंगी, सारी रात चुदने की कैपेसिटी है मेरी।ये सब मेरे पति देव भी सुन रहे थे और उनका लन्ड बेकाबू हो रहा था।फिर उसके बाद सर ने मेरे पति से भी बात की और बोले- मुझे तो तुम्हारी बीवी की गांड चुदाई भी करनी है.

वह तेज़-तेज़ सिसकारियां लेने लगी और कहने लगी- भाई जान, अब मत तड़पाओ, अपना लंड मेरी चूत में डाल दो. उसका लन्ड मेरे आंडों को रगड़ते हुए मेरी जांघों में पका-पक घुस रहा था। मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था.

उसका गला भी काफी खुला था, जिससे सुमन की चूचियों की क्लीवेज साफ नज़र आ रही थी. कुछ देर बाद मोनिषा करवट लेकर बैठ सी गई और मेरे फ़ोन में चुदाई देखने लगी. मैंने देखा उनके होंठ कुछ गोल से हुए और उन्होंने जैसे मुझे दूर से ही चूम लिया.

साथ ही रानी तुम्हारे मम्मों को भी जी भर के पियूंगा, बोलो पहले क्या करूं?अम्मी वासना से सिसकारती हुई बोलीं- हां मेरे प्यारे असगर के अब्बू, आज सुबह से बहुत मन हो रहा था.

मैंने क्लास के दरवाजे बंद किए और रोशनी को पकड़ कर पागलों की तरह चूमने लगा और बूब्स दबाने लगा. वो कामवासना से जल उठी थी, लेकिन जैसे ही मैंने झटका लगाया तो 2 इंच ही लंड अन्दर घुस सका था कि वो चिल्ला पड़ी. अपनी मस्त जवानी की सेक्स कहानी के पहले भागपति ने मुझे मेरे बॉस से चुदवा दिया- 1में मैंने आपको बताया था कि शादी के बाद मैं और मेरे पति सोनीपत चले गये थे.

सुमन- खुद ही तो मेरी नींद खराब करने आ गए थे, चलो अब कोई बहाना मत करना. सुरेश- तो कोई बाहर से आता है क्या!मीता- पता नहीं वो कौन है … ये कैसे पता लगेगा! आप ही कोई उपाय बताओ.

ये मार्च की बात है, हम यानि मैं और दीदी मुंबई जाने वाले थे … क्योंकि जीजा जी का ट्रांसफर वहीं हो गया था और वो एक महीने पहले ही मुंबई जा चुके थे. मैं बस अब चाची के चूचे पीते हुए उसकी चूत और गांड को चोदना चाह रहा था. वीर्य जब लंड की नली से निकलता है तो एक अलग तरह का खट्टा- तीखा- कड़वा- मीठा अहसास सब एक ही समय में महसूस होता है और ऐसे में मुंह से जोर की सिसकारी निकलती है जो तृप्ति का अहसास करवाती है.

इंग्लिश सेक्सी व्हिडिओ बीएफ

महेश- तेरी बात ठीक है, मगर वो ऐसी जगह है जो मैं तुझे नहीं दिखा सकता.

कालू- मालिक … वो शम्भू की बेटी आज काम पर नहीं आई … उसकी तबीयत ठीक नहीं है. फिर वह सोफे पर बैठ गया और माँ को बोला- आंटी, पहले तुम एक बट प्लग लेकर आओ, तुम्हारी गांड में डालना है. यही सब सोचते सोचते शाम हुई रात गहरा गई पर मेरी आँखों में नींद नहीं थी.

क्या करूं और क्या ना करूं … वही सोच रहा था कि संगीता कपड़े पहन कर आ चुकी थी. अचानक पता नहीं मेरे मन में क्या आया, मेरा लंड भाबी की सेक्स की कामुक बातों से खड़ा हो चुका था और मैंने अपने लंड की फोटो खींची और भाबी को व्हाट्सएप कर दी. सेक्सी क्लिप दाखवाधोती में ही मोटा मूसल उछल कूद करके धोती को जैसे उतार फेंकना चाह रहा था.

थोड़ी देर बाद उसकी झिझक खत्म हो गई और अब वो मज़े लेकर लौड़े को सहला रही थी. मैं बोला- आप सीधे सीधे पूजा भाभी से मत कहना। उनको कैसे पटाना है वो सब मैं देख लूंगा ।आप तो बस समय समय पर मदद कर देना।उन्होंने कहा- हां, ठीक है.

फिर हम दोनों ने अपने अपने कपड़े जल्दी से पहन लिए और पहनकर बेड पर लेट गए।मौके की नज़ाकत को देखते हुए मैं आपा से बोला- आपा, आप सोनिया को बुलाकर उसे समझा दो, नहीं तो वो किसी से बाहर इस बारे में बोल देगी. कहानी को आगे बढ़ाने से पहले मैं आपको अपने बारे में कुछ और जानकारी दे देता हूं. मामी बोली- क्या हुआ?मैंने कहा- मामी अगर आप बुरा नहीं मानो तो एक बात कहूं?मामी बोली- हां बोल ना … मैं बुरा नहीं मानूंगी.

मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]कहानी का अगला भाग:गांड मरवाने का नशा- 2. आंटी भी मेरे लंड का माल चूत में लेकर मस्त हो गयी और हम दोनों थक कर लेट गये. मैंने दोनों के लण्ड पकडे़ और ऊपर नीचे करने लगी।आदिल और विक्रम ने एक एक चूचा मुंह में ले लिया और उनको चूसने लगे। आदिल ने तभी मेरे चूचे पर काट लिया।मैंने चीख कर कहा- साले, क्या कर रहा है?वो बोला- कुतिया, तूने ही कहा था खाने के लिए.

अगली सेक्स कहानी में मैं बताऊंगा कि शबाना के साथ गांड चुदाई कैसे हुई.

सार्थक का कद लगभग 5 फिट 8 इंच था सांवली सी उसकी काया थी और लंड बिल्कुल काले नाग की तरह लगभग 5 से 6 इंच का एकदम कड़क था. फिर अंदर ही अंदर लौड़े को चूसने लगी और जब बाहर निकाला तो मेरा लंड एकदम से साफ था.

राजेश का लंड हाथ में लेकर मैंने सहलाया और उसके टट्टों को भींच दिया. ये आज सुहानी को चोद कर मालूम हुआ।अपना पूरा दम लगाकर मैं मेरे मोटे लंड की पूरी लंबाई को उसके बिल में पेलता तो वह जोर जोर से दर्द में आह्ह … आह्ह … करने लगती मगर रुकने के लिए उसने एक बार भी नहीं कहा. दाढ़ी बनाते वक़्त टी-शर्ट में उनकी चूचियां हिल रही थीं, जिससे उनके मम्मों के निप्पलों भी एकदम साफ दिख रहे थे.

मैं उसको किस करने लगा और चुचों को दबाने सहलाने लगा, जिससे उसको थोड़ा आराम मिल जाए. मैं बोला- दीदी, एक बात मान लो प्लीज।वो बोली- अब क्या है?मैं- मैं एक बार बस तुम्हें किस करना चाहता हूं. हम दोनों एक लम्बी मैराथन के बाद एकदम से शिथिल होकर एक दूसरे को अपनी बांहों में समेटे हुए यूं ही कब सो गए, पता ही नहीं चला.

बीएफ एचडी डॉट कॉम फिर उसके एग्जाम खत्म होने के बाद मैंने उससे बाहर मिलने का प्लान बनाया और हमने एक होटल बुक किया. मेरी सास ने कहा- ज्यादा बकरचोदी मत कर भसोड़ी के, पहले मुझे संतुष्ट कर मादरचोद … मैं भी बहुत बड़ी खिलाड़ी हूँ.

बीएफ इंडियन बीपी

मैं सोफ़ा पर पैर पसारे हुए बैठा था और वो मेरे ऊपर चुदाई की पोजीशन में बैठी थी. मेरे लिंग से बहुत सारे वीर्य की आठ दस पिचकारियां सामने दीवार पर जाकर लग गईं. मैंने आपको भाभी कहा, आपको बुरा तो नहीं लगा?रुक्मणी- नहीं, बुरा क्यों मानूंगी.

मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपने लंड पर रख कर उसके कान में कहा- बेबी नाटक खत्म करो … और खुल कर मजा लो. अब तो हाल ऐसा है कि बस क्या बताऊं आपको!सुरेश- अच्छा तो ये बात है, अब मैं सब समझ गया. सेक्सी टनाटनइसके बाद मैंने अपना हाथ नीचे ले जाते हुए उनकी भग्नासा (क्लाइटोरिस) को मसलना शुरू कर दिया, जिससे बुआ बिन पानी की मछली की तरह तड़प उठीं.

उन्होंने मेरा लंड पकड़ा और घुटने के बल बैठ कर मेरा लंड मुँह में ले लिया और चूसने लगीं.

मैं उन दोनों को देख रहा था, मुझे संजना के दूध कसम से काफी बड़े लग रहे थे. मगर अक्सर ऐसा ही होता है कि चूत खुद चुदने के लिए तैयार होने के बाद भी चुदने में कितने नखरे दिखाती है। जहां एक और मैं भाभी के पेटीकोट के अंदर हाथ डालने के लिए पूरा ज़ोर लगा रहा था, वहीं दूसरी ओर भाभी भी मेरे हाथ को पेटीकोट में नहीं घुसने देने के लिए पूरा ज़ोर लगा रही थी। खैर, इतने नखरे दिखाना तो लाज़मी भी होता है।मैंने जोर का झटका दिया और हाथ अंदर घुसा दिया.

ठीक है मौसा जी, पर सिर्फ एक ही बार होगा और हम ज्यादा देर तक नहीं रुकेंगे. मैं उसकी चूत को चूसने लगा और वो मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी. फिर धीरज मेरी अम्मी की गांड पर हाथ घुमाते हुए बोला- आंटी आप बहुत सेक्सी हो.

फिर तीनों का पैसा मिलता रहेगा … अब तो खुश हो!बिरजू तो सोच भी नहीं सकता था.

मैंने भाभी को पलट लिया और अब वो पीठ के बल लेट गयी और उसके मोटे मोटे चूचे ऊपर आकर विपरीत दिशाओं में डोल गये. शीशे में अपनी योनि देख कर मैं मन ही यह सोच के लजा उठती कि इसी के भीतर मेरे पति का लिंग प्रवेश करेगा, मेरी सील टूटेगी, मुझे दर्द सहना पड़ेगा फिर मज़ा भी मिलेगा और नमन कितने खुश होंगे मेरी योनि की सील तोड़ कर. बस फिर अब्बू ने अम्मी की गर्दन के नीचे अपने एक हाथ ले जाकर उनका कंधा पकड़ कर अपनी बांहों में भरा और चूम लिया.

एचडी इंग्लिश सेक्सी फिल्मउसकी चुत देख कर मैं हैरान था, मगर अपने मस्त तने हुए चुंचो से वो भरपूर माल लग रही थी. उसके बाद हम दोनों नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर लेटे रहे और बातें करते रहे।उनके पति सोफे पर सोये पड़े थे.

स्कूलों की बीएफ

मैंने उसे फ़ोन से सारा प्लान बात दिया था और ये भी बता दिया था कि इस बार तेरी चुत की मां चुदने वाली है. [emailprotected]इंडियन देसी सेक्स कहानी का अगला भाग:मामी ने भाभी की चूत दिलवाई- 2. अब मैंने उसके काले मोटे लन्ड को पकड़ लिया और उसके सुपारे की चमड़ी को खींचकर पीछे हटा दिया.

मेरी पनियाई चूत का रस मिक्स होने के कारण यह एक अलग दर्जे का स्वाद आ रहा था. मैं अपने साथ काम करने वाले अफसर की बीवियों को चोदने का काम भी करता हूँ. मैं बोला- आप सीधे सीधे पूजा भाभी से मत कहना। उनको कैसे पटाना है वो सब मैं देख लूंगा ।आप तो बस समय समय पर मदद कर देना।उन्होंने कहा- हां, ठीक है.

मामी को मैं देख पा रहा था लेकिन भाभी मेरी सीमा मामी को नहीं देख पा रही थी. तभी दूसरे रूम से भाभी की आवाज आई- सोनिया?वो मुझे पीछे धकेल कर जल्दी से रूम से बाहर निकल गयी. एक पल की भी देरी न करते हुए भाभी ने मेरी पैंट का बटन खोल दिया और मेरी पैंट निकाल दी.

एक दिन मैं ऐसे ही ग्रिंडर पर सर्च कर रहा था, तो मुझे एक प्रोफाइल दिखी. मेरे चाटते चाटते हुए ही उसकी चुत ने गर्मागर्म लावा मेरे मुँह पर छोड़ दिया.

गोरी लड़कियां अपने रूप को लेकर भाव बहुत खाती हैं और उनका एटीट्यूड तो भगवान कसम दिमाग ही पागल कर देता है.

मैं भी जानती थी कि पुरूष के लिंग को स्त्री की योनि में प्रवेश कराया जाता है जिससे दोनों को मजा आता है. सेक्सी हिंदी आदावासीऐसा लग रहा था जैसे वो पहली बार इस आसन में अपनी चुदाई करवा रही हो।खैर, मैंने ऐसे ही लगभग 5 मिनट तक चोदा. सेक्सी वीडियो एचडी जानवरउन्होंने मुझे पूरे कपड़े नहीं उतारने दिए, कहा- मजे फिर कभी ले लेना. पूरी चूत पर केक लगा देने के बाद उसने एक छोटी मोमबत्ती मेरी चूत के अन्दर जरा सी घुसाते हुए खड़ी कर दी.

निशा भाभी की चूत चोदने के बाद मैं मेरे मामाजी के यहां आ गया था।यहां आने के बाद मैंने सरिता मामी की चूत का भरपूर आनंद लिया लेकिन अब मामीजी चूत नहीं दे रही थी। अब वो चूत देने में बहुत नखरे दिखा रही थी.

तब सिमरन ने कहा- पापा होटल में तो रूम मिला नहीं, तो ये मुझे अपने परिवार के पास ले आए हैं. कुछ देर बाद उन्होंने कहा कि तुम तो बड़े एक्सपर्ट लगते हो … अब तक कितनी चुत चोद चुके हो?मैंने कहा कि मैंने चुदाई की शिक्षा अपनी बड़ी मां से ली है, जिनको मैंने सबसे पहले जंगल में पेला था. मेरी रियल आंटी सेक्स स्टोरी आपको पसंद आ रही हो तो मुझे अपने फीडबैक जरूर भेजें.

रिक्वेस्ट करते हुए मैंने बोला- डार्लिंग … आज रुक जाता तो और मज़ा करते. हिंदी कहानी सेक्स की में पढ़ें कि मैं पति के सामने उसकी बीवी को एक बार चोद चुका था. उसने सोचा मीता को लंड चुसवा कर पानी निकलवा दे, मगर अगले पल उसको सुमन का ख्याल आ गया.

बीएफ बीएफ हिंदी वीडियो

मैं उसकी बुर में जीभ डालने लगा और एक उंगली को उसकी बुर में अन्दर बाहर करके लंड के लिए जगह बनाने लगा. ओह … बहुत सताया है इसने मुझे … आज इसकी सारी गर्मी निकाल दो कुणाल … आह चोदो … और जोर से आह्ह … आहह. उसने लंड को अपनी गांड में अच्छी तरह से एडजस्ट करवाया और फिर धीरे धीरे लंड पर ऊपर नीचे होने लगी.

मेरा पूरा रोम-रोम उसके सेक्स के आनंद में डूब गया।मैंने इसके पहले कभी भी गांव की लड़की की जवानी का भोग नहीं किया था। गांव की लड़कियों में शहर की लड़कियों की अपेक्षा ज्यादा सहन शक्ति होती है.

मैंने बैठे बैठे ही दरवाजे की ओर देखा कि संगीता मुश्किल से रवि को संभाल पा रही थी.

मुझे अन्तर्वासना की कहानियां पढ़कर पोर्न देखने से भी ज्यादा तसल्ली मिलती है. सुमन- नहीं, अब सोएंगे बस, वैसे भी आपका लंड अब जल्दी खड़ा नहीं होगा. सूट सेक्सी वीडियोमैं बारी बारी से दोनों के लंड चूसने लगी और सर ने मेरे मुंह में अपना माल पिला दिया.

मैं सेक्स कहानी में आगे बढ़ने से पहले आपको इन भाभी के बारे में बता दूं. फिर मैं उसे गोदी में उठाके बेड पर ले गया और उसके चुचो के साथ खेलने लगा. वो मेरे होंठों को काटने लगी थी और जोर से उम्म … गूं … ऊंऊऊ … गूं … करके आवाजें कर रही थी.

मैं उनके ठीक सामने खड़ा हो गया और हाथ को उनके सूट के अन्दर डालकर उनकी पीठ पर फिराने लगा. सुरेश ने उन दोनों को पीछे के रास्ते से बाहर निकाल दिया और खुद वापस अन्दर आया, तो मीता कुर्सी पर बैठी उसको देख कर मुस्कुरा रही थी.

नमस्कार दोस्तो, मैं पिंकी सेन एक बार फिर से अपनी सेक्स कहानी को आगे लेकर आ गई हूँ.

वो बोला- ले … तेरा चखना! चलेगा?मैं बोला- चलेगा नहीं मेरी जान … दौड़ेगा. इंडियन हॉट भाभी स्टोरी में पढ़ें कि सामने वाली भाभी हमें देखती थी जब मैं अपनी गर्लफ्रेंड की चुदाई करने उसे दोस्त के फ्लैट में ले जाता था. वो मादक सीत्कार लेते हुए बोलीं- आंह जानू … अब आप अपना लंड मेरे हाथ में दे दीजिए, मैं उसे सहलाऊंगी.

इंग्लिश पिक्चर सेक्सी चुदाई वाली सुमन- तो अब क्या होगा … आप क्या करोगे? कोई दूसरा रास्ता नहीं है क्या?मुखिया- रास्ता सिर्फ़ तुम हो सुमन, अब जो भी है … सब तुम्हारे हाथ में है. इस तरह वो बाद में फिर मुझे चिढ़ाने लगीं कि मैं कितनी पतली हूं जबकि मैं चेहरे से काफी सुंदर थी.

फिर बाथरूम में जाकर हम दोनों बारी बारी से फ्रेश हुए, हमने लंच किया. मैंने उसे अशोक की तरफ धक्का मारते हुए बोला- ले कर ले अपनी सारी हवस पूरी. कभी पिंक पैंटी तो कभी ब्लू, कभी गेहूं रंग की ब्रा और तो कभी फूलों के प्रिंट वाली.

जबरदस्ती बीएफ पिक्चर

उनकी चूचियों पर वो सफेद कपड़ा लिपटा हुआ था जिसमें उनके बूब्स आधे से ज्यादा तो बाहर ही दिख रहे थे. मौसा जी सोचो तो सही … अगर फिर से आपने कुछ किया और किसी को पता चल गया तो मैं तो कहीं जाके डूब मरूंगी!” मैंने अपना मुंह अपनी हथेलियों में छिपाते हुए कहा. उसके घने काले बाल, आंखें मदहोश करने वाली, नाक हल्की नखरेवाली, लाल लाल होंठ रसीले से थे, गर्दन हल्की सुराहीदार थी.

अब सोनू जी मुझ पर एक अहसान करोगे?मैंने कहा- मैंने सब सुन लिया है, चिंता न करो. कुछ देर कुतिया बना कर चोदने के बाद अब्बू ने अम्मी की चूत से लंड निकाल लिया.

मैं मीठे दर्द से चिल्लाने लगी- आह … समधी जी मार डाला … आह धीरे धीरे कीजिए.

उसके एग्जाम हो चुके थे, तो मैंने अपनी ससुराल में फोन पर बात की और जाकर उसको अपने घर ले आया. साथ ही भाभी हमेशा हाथों में चूड़ियां और गले में नेकलेस पहने रहती थीं. मैंने कहा- ठीक है, शाम को जब वो ऑफिस से लौटेंगे तो हम दोनों ही आपसे फोन पर बात करेंगे.

अब मेरा भी निकलने ही वाला था तो मैंने उनसे पूछा- लंड का पानी कहां गिराऊं?उन्होंने बोला- चूत में ही डाल दो. अब सिर्फ उसके चूचों के ऊपर क्रीम कलर की ब्रा थी … नीचे फटी हुई जींस और पैंटी रह गई थी. तुम ख्याल करना हवेली में भले रहो, मगर तहख़ाने में जाने की कभी मत सोचना.

मैं अवनी को बार बार चोदकर एक विवाहित जीवन और शारीरिक सुख का आनंद लेना चाहता था। मुझे उस प्रेमरस का अनुभव बार बार घर की ओर आकर्षित कर रहा था।समय व्यर्थ न करते हुए मैंने सीधे घर की ओर प्रस्थान किया.

बीएफ एचडी डॉट कॉम: भाभी ने मेरा सारा रस निचोड़ लिया और लंड को चाटकर अच्छे से साफ भी कर दिया. इस तरह से जब तक भैया नहीं आये, तब तक मैं भाभी की चुदाई लगातार करता रहा और वो भी मौका पाते ही मेरे लंड से चुदवाने लगी थी.

जल्दीबाजी में पति ने ध्यान ही नहीं दिया कि मैं समधी जी की शर्ट पहनी हूँ. फिर दीदी मजाक करते हुए बोलीं- हां हां टाइम हो रहा है … उसका फोन आने वाला होगा. शुरू के दिनों में तो मैं उनसे बहुत डरती थी क्योंकि वो काम की वजह से बहुत चिल्लाते थे.

राहुल उनकी गोलाइयों को नापता हुआ ऐसे दबा रहा था मानो हवा भर रहा हो.

इस तरह से मैंने उसके साथ चार साल मज़े किए और उसके साथपत्नी की तरह चुदाईकरके सारे मजे लिए. वो थोड़ा नखरा दिखाने लगी लेकिन मैं जानता था कि ये चुदेगी, मुझे गर्लफ्रेंड की चुदाई करने को मिलेगी. लेकिन मुझे आप अपनी ऐसे में ही एक फोटो दोगी?अम्मी हंस कर बोलीं- क्यों फोटो का क्या करेगा? क्या रात को फोटो देख कर मुठ मारेगा!धीरज हंसने लगा और बोला- हां वो भी करूंगा और आपके लिए एक ग्राहक भी लाऊंगा.