बीएफ देहाती एक्स एक्स

छवि स्रोत,चुदाई वाली ब्लू फिल्म दिखाएं

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी बीएफ वीडियो बीएफ: बीएफ देहाती एक्स एक्स, उसके कुछ लड़कों के साथ की चुदाई के वीडियो पूरे कॉलेज में वायरल हो गए थे.

कुंवारी लड़की का सेक्सी

आप में से जिन स्त्री पुरुषों का यौन जीवन एक ही साथी तक सीमित है, वे यौनांगों की विविधता और खूबसूरती से अनभिज्ञ हैं. डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स वीडियो हिंदी मेंदीदी की इस तरह की बातें सुनकर मुझे कुछ ऐसा लगा कि इसकी बातों में भाई बहन वाली फीलिंग नहीं लग रही है.

स्खलित के बाद सुलेखा भाभी‌ की चुत के अन्दर की दीवारें प्रेमरस से भीगकर अब और भी चिकनी और मुलायम हो गयी थीं जिससे मेरा लंड अब और भी कुशलता से उनकी चुत की मालिश कर रहा था. नंगे नंगे नंगे वीडियोइससे पहले कि लंड चुचियों के बीच में जाता, उसने अपनी चुचियां ऊपर कर लीं और अपने दोनों हाथों से मेरी जांघें नीचे दबा कर बोली- बदमाशी नहीं और चीटिंग भी नहीं.

थोड़ी देर में रूम की घंटी बजी, मैंने दरवाज़ा खोला तो बाहर सोनाली खड़ी थी.बीएफ देहाती एक्स एक्स: काफी देर के बाद जब हम अलग हुए तो सांसें पूरी तरह उफान में थीं, उसका सीना तेज़ी से ऊपर नीचे हो रहा था.

नमस्कार दोस्तो, मैं राज रोहतक (हरियाणा) से फिर एक बार अपनी एक और हकीकत लेकर आप सबके सामने हाजिर हूँ.उनके मुँह से ‘आहह … एम्म … ओह … आआअ … डालो ना अन्दर …’ जैसी आवाजें निकल रही थीं.

राजस्थानी चुदाई देसी - बीएफ देहाती एक्स एक्स

उसने बताया कि उसके पिता पहले यहीं काम करते थे और इसी क्वार्टर में रहते थे.मैंने कहा- जब मैं सुबह दूध लेने जाती हूँ तो वह मेरे दूधों को घूरता रहता है.

अब तक मैं कपड़े पहन चुका था तो वो जोर से सांस लेते हुए बोली- लोग केवल बोलते रहते हैं और कपड़े पहन कर कमरे में बैठे रहते हैं. बीएफ देहाती एक्स एक्स मैं ब्रा के ऊपर से ही उसके दूध पीने लगा, मालिनी मेरे लौड़े से खेलने लगी.

अब गमछा जो मेरी जांघ पर था, उसे अपनी तरफ़ ले लिया और मेरे कान में धीरे से बोले कि वन्द्या तुम थोड़ा सा उठो ऐसे खड़े हो कि किसी को कुछ समझ न आए.

बीएफ देहाती एक्स एक्स?

अंदर जाकर मैंने रूम को लॉक कर लिया और चाची के पैरों से फिर शुरूआत कर डाली. शादी से पहले तो वह मेरी गर्लफ्रेंड थी इसलिए मैंने भी कभी ज़बरदस्ती नहीं की थी. मैंने करीब 15 मिनट तक उसकी गांड को चोदते हुए मैंने अपना सारा पानी उसकी गांड में छोड़ दिया और धड़ाम से उसके ऊपर गिर गया.

वो इतनी बड़ी चुदक्कड़ है साली कि मुझे ये भी नहीं पता चलता था कि वो कब किस ब्वॉयफ्रेंड से चुदवाती है. मामी की गांड चोद कर सुहागरात मनायी-4से आगे की कहानी:जब रूपा बर्तन साफ करके, पास के स्टोर रूम में जा रही थी, तो वो रूम के दरवाजे की दहलीज पर रुक गई. यह सुनकर मुझे बहुत दुख हुआ, पर मेरे मन में ख्याल आया कि भाभी मुझसे कुछ चाहती हैं क्या … एक बार कोशिश करके देखना चाहिए, इस वक्त लोहा गर्म है, हथौड़ा मारने का ये सही वक्त है.

अब मैंने अपनी जीभ उसकी चूत की दरार में रख दी और नीचे से ऊपर की ओर चलाने लगा और नीचे से ऊपर की तरफ पूरी चूत पर जीभ की खुरदुराहट से मजा देने लगा. मैं अपने हाथ से चादर को भींच रही थी और अब 20 मिनट की घमासान चूत चटाई के बाद मेरी चूत का बाँध टूट गया. मेरा पति मेरी नज़रों में बिल्कुल चूतिया था और आज भी वैसा ही है।उस दिन भी मैंने उसको बड़ी ही आसानी से चकमा दे दिया.

उसने मुझे देख कर हाथ हिलाया कि क्या हुआ, मैंने गर्दन हिलायी- कुछ नहीं. रवि मुझसे बोले- क्या हुआ, तुम क्यों उछल पड़ी?मैं कुछ नहीं बोली, तभी उन्होंने अपनी उंगली को चूत में अन्दर चलाना शुरू कर दिया और बोले कि तुम तो बहुत सेक्सी और पागलपन की हद तक गर्म हो यार.

और खाना बनाने के बाद सबको खिलाया और खाने के बाद सब अपने कमरे में सोने चले गये.

अब वो हल्की गर्म सांसों के साथ सिसकारियां लेते हुए पूरी उत्तेज़ना में आ गई थी.

लड़की को अधूरे में कोई चोदना छोड़ दे तो वह सोच नहीं सकता कि लड़की की क्या हालत होती है. कुछ देर के बाद मेरे जेठ ने अपना हाथ मेरे सीने पर रखा, कुछ देर मेरे ब्लाउज के ऊपर से मेरे मम्मे मसलने के बाद उन्होंने मेरे ब्लाउज के हुक खोलना शुरू कर दिए. घर पर आकर सबसे पहले मैंने बाथरूम में जाकर अपनी चूत को शांत किया और फिर राहुल के बारे में सोचने लगी.

फिर उतने में ही गैब्रियल और मैक दोनों शांत होकर आराम से मुझे रगड़ने लगे. जिनकी शादी नहीं हुई थी … उनमें से एक ने कहा- साला कल मुझे होटल में ले गया और पूरा 7 इंच का अन्दर डाल दिया. फिर बहुत इंतजार करने के बाद वो रात आ ही गई जिसके लिए मैं पागल हुआ जा रहा था.

क्या तुम्हारा पति तुम्हें चोदता नहीं है?मैं- जेठ जी, जाने दो ना उसे, वो नहीं चोदता तो क्या हुआ.

फिर मेरी जिद पर उन्होंने तब तक उसे मुँह में लिया, जब तक वो पूरी तरह खड़ा नहीं हो गया. दो मिनट में ही मेरा लड़ फिर खड़ा हो गया और वो रॉड जैसा सख़्त हो गया. तुम चिल्लाते हुए मेरे लंड को अपने गांड में लेने लगीं- आह … इस्स … मर गयी रे … मेरी माँ, गांड में लंड दुखता है … आह … बापरे … धीरे धीरे डाल ना साले हरामी … तेरी माँ की चुत!बस मुझे यही चाहिए था, तुम पूर्ण रूप से समर्पित हो जाओ … यही मेरी इच्छा थी.

शादी से पहले तो वह मेरी गर्लफ्रेंड थी इसलिए मैंने भी कभी ज़बरदस्ती नहीं की थी. प्रमिला ने भी अपने अनुभव को साबित किया और झट से मेरे मूसल लंड को मुँह में लेके अन्दर बाहर करने लगी. शादी के इस अवसर पर जब भी हमें मौका मिला, हम भाई बहन ने सेक्स किया और मैंने हर बार उसकी गांड मारी.

मैं भी गर्म थी और मुझे भी चुदवाने का मन कर रहा था तो हम दोनों ने एक दूसरे को बहुत देर तक किस किये.

वह क्या बोलेंगे तू इंजॉयमेंट कर बस … यह जो अपनी लाइन में उधर विंडोज तरफ बैठे हैं, सबसे बड़ी मूछें रखी हैं. पूजा अब ‘ऊईआह … उहआह …’ की आवाजें निकालकर चुदाई में चार चांद लगा रही थी.

बीएफ देहाती एक्स एक्स फिर वो बोली- कोई बात नहीं, मुझे भी मज़ा आ रहा था।उसकी ये बात सुनकर मैं तो जैसे सातवें आसमान पर पहुंच गया. उसमें मम्मे चूसने से लेके गांड मारने तक की हर एक स्टाइल मेरी चुत को गीला कर रही थी.

बीएफ देहाती एक्स एक्स नैना भी अपने चूतड़ ऊपर उठा कर अपना लोअर निकालने में मेरी मदद करने लगी. उसने फिर सवाल किया- देखनी है?मैंने हां में सिर हिलाया तो उसने अपनी साड़ी ऊपर की, पैंटी हटाई और मुझे अपनी चूत दिखा दी.

मैं बस स्वर्ग के आनन्द में डूबकर केवल उसके बाल पकड़े हुए मादक सिसकारियां ले रही थी ‘ऊउफ़्फ़ बेटा … अअअहह … ऊऊम्म्म … नहीं!दस मिनट की धुआंधार चूत चटाई के बाद ही मेरा पहली बार माल निकल गया और मैं वहीं सोफे पे आंख बंद करके पड़ी थी.

सेक्सी कंगना

हेमा बहुत सुंदर और सेक्सी लड़की थी, गोरा गोरा रंग, गोल गोल और गोरी गोरी चूचियाँ, बड़ी और सेक्सी कमर और गोल सुडौल जांघें क़यामत ढाती थीं. मनीषा- कितने दिन की छुट्टियों पे हो?मैं- 15-20 दिनों की छुट्टियां हैं, फिर वही एयरफोर्स और हम!मनीषा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रैंड है क्या?अचानक हुए इस सवाल से मैं हैरान हो गया और उसकी तरफ देखने लगा. अपनी तारीफ़ सुनकर भाभी बोली- हेमा के पास क्या है, जो वह लोगों को दिखाने की कोशिश करती है.

मैं पंजाब के जालंधर का रहने वाला हूँ। मेरी हाइट 5 फुट 7 इंच है और मेरा औजार 6 इंच लंबा और बहुत मोटा है।अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है उम्मीद करता हूँ कि आप सब को पसंद आएगी। ये बात तब की है. प्रियंका ने इतना बड़ा लंड आज तक देखा ही नहीं था तो उसका डरना और घबराना ज़ाहिर सी बात थी क्योंकि मेरा लंड भी 5. मैं उसे मनाने लगा कि यार मेरे लंड में बहुत दर्द हो रहा है … इसका कुछ तो करो.

मैं जैसे अंकल की गोद में बैठने लगी तो जगत अंकल का लौड़ा मेरी गांड के छेद पर टच हो गया.

उसका लंड मेरे मुँह में अन्दर बाहर होने लगा और फिर… मेरे प्रियतम का सफेद पानी मेरे होंठों के बीच में बरस गया. मैंने उठकर उसे पीछे पकड़ लिया और कहा- जानू, वीर्य पान तो कर लिया … अब मूत्र का स्वाद भी चख लो. कुछ देर उसने और योनि चाटी, तो मैं खुद बोल पड़ी- योनि के भीतर जीभ डाल कर चूसिये न सुखबीर जी.

मैं अपनी प्यारी भाभियों, आंटियों और मेरी सहेलियों की चूत चूस चाट कर उन सभी का भी स्वागत करती हूँ। वो भी तैयार हो जायें अपनी चूत में डिल्डो या उंगली डालने के लिए. कुछ देर बाद मैंने एकता को मेरे पीछे किया और अपने पैरों को चौड़ा करके प्रमिला की तरफ को थोड़ा झुक गया. किसी प्यासे को पानी मिले,भूखे को भोजन,मन की भूख का तो कुछ नहीं,पर तन की भूख करे सृजन.

प्रमिला बोली- हां यार … ये तो सच में घोड़ा ही है … तभी तो अन्नू और डोली ने इसे अपने साथ रखा हुआ है. तुझे नहीं पता यार … वो गाना है ना … निगोड़े मर्दों का … कहाँ दिल भरता है? करने को तो मेरी बीवी भी बहुत अच्छे से कर देती है … पर कच्ची कलियों का मज़ा कुछ और ही होता है.

सर्राफा मार्केट और पिपली बाजार में खाने पीने की चीजों की बहुत शानदार दुकानें हैं. महेश ने अब अपनी गोदी से मेरा सिर हटा दिया और सीट में ही सर रखकर अपना पैंट खोलने लगे. सारे मर्द सीटों पर बैठ गए, अब जगह बची नहीं थी, तो औरतें नीचे पैरों के पास बैठ गयी.

मुझे रूपा को ज्यादा तड़पाना ठीक नहीं लगा, उसकी चूत पर से अपना मुँह हटा लिया और सीधा होकर घुटनों के बल बैठ गया.

उसके बाद वह बोली- आप हार्ड ड्रिंक भी करते हैं?तो मैं बोला- हां … लेकिन यहां तो कहीं नहीं है. फिर मैंने अपना सुपारा बाहर निकाला, लंड को थोड़ा हिलाया और हल्का सा काम रस उसकी चूत पे गिराया. तभी मुझे खिड़की पर किसी के होने का आभास सा हुआ, जिससे मेरी नजर खिड़की पर चली गयी, जो कि हल्की सी खुली हुई थी.

चाची बहुत देर से कहीं बाहर गई थीं, तभी वो पड़ोसन, जिसे मैं दीदी कहता था … घर आईं. पांच मिनट उसकी चूत में उंगली अन्दर बाहर करने के बाद उसका शरीर अकड़ने लगा.

सेक्स करने में इतना आनंद इससे पहले मैंने कभी भी महसूस नहीं किया था. मेरी सहेलियों ने मुझसे काफी बार पूछा कि ‘क्या हुआ तुझे?’ पर मैं कुछ नहीं कह सकती थी क्योंकि मैं अपने पति को बाहर के लोगों के सामने शर्मिंदा नहीं होने देना चाहती थी. नूपुर ने एकदम से खिल कर कहा- सच्ची? आप आ रहे हो … तो फिर झूठ क्यों बोला?मैं- बस तुम्हारे मजे लेने के लिए.

सेक्सी किंग वीडियो

मैं आपको बता देती हूँ कि हम दोनों पति पत्नी दिन में कभी भी किसी भी समय मूड बन जाने पर शौक से चुदाई कर लेते हैं, इसलिए मैं अक्सर चड्डी पहनती ही नहीं हूँ.

धीरे-धीरे मैंने चाची के पेट को चाटते हुए उनके पूरे पेट को गीला कर डाला और फिर मैं नीचे की तरफ बढ़ने लगा. मैंने कोई ध्यान नहीं दिया और उसकी चुत में लंड और जोर से अन्दर बाहर करने लगा. क्योंकि चुदाई की मस्ती के चलते ये होश ही था कि लंड का रस और चूत की मलाई किधर टपक रही थी.

पर वह एक्सपीरियंस्ड चोदू थे, तो मेरी कमर पकड़ कर जल्दी जल्दी धक्के लगाने लगे. अब मामा ने अपने दोनों हाथ बोरियों पर टिका दिए और अपने शरीर का पूरा वजन अपने हाथों पर ही देते हुए अपने कूल्हों को बोरी से ऊपर उठा लिया. इंडियन बफ हिंदी मेंवो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी और अपनी जुबान मेरे मुँह में डालकर किसिंग का मज़ा ले रही थी, वो किसिंग में एक्सपर्ट थी तो उस पर नशा चढ़ने लगा.

कुछ ही देर में लंड ने चूत से चिकनाई निकाल ली थी और सटासट अन्दर बाहर होते हुए भाभी को रगड़ाई चालू हो गई. ‘आज से तू मेरा दोस्त अजय नहीं’‘पर क्यों?’‘आज से तू कामिनी, मेरी माशूका.

वो कसमसा रही थी लेकिन मैंने नुपूर को ढीला नहीं छोड़ा, उसके होंठों को बोबे को दबाता रहा और लंड को चूत में ठोके हुए पड़ा रहा. अरे उतारिये मुझे मास्टर जी, कोई आ जाएगा तो क्या सोचेगा?”कोई नहीं आएगा … मैंने आते वक़्त बाहर का दरवाजा लॉक कर दिया था. मेरा लंड ज्यादा बड़ा तो नहीं है, पर मेरे दोस्तों में जो मुझसे उम्र में बड़े हैं, मेरा उनसे भी बड़ा लंड है.

भाभी तो उसको देखकर रोने ही लगी क्योंकि तीन साल बाद जो मिली थीं वो दोनों. मुझे बड़ा बुरा लग रहा था कि मैं अपने पति को गांड चोदने का मौका नहीं दे पा रही थी. वो दर्द के मारे रोने लगी और मुझसे लंड बाहर निकालने के लिए कहने लगी.

अब ये क्या कर रहे हो … नहीं सुधरोगे तुम? मैंने बताया ना कि उस रात दीदी तुम्हारे साथ थीं.

इसके बाद जगत अंकल ने सीधे मेरी पेंटी के ऊपर से, जहां मेरी चूत थी, वहां पर हाथ रख दिया. अब तक मैंने आप को अपनी उम्र नहीं बतायी, मेरी उम्र अभी 22 साल है और काफी लड़कियों के साथ में मैंने सेक्स किया हुआ है.

करीब चार-पांच मिनट तक ऐसा लगा कि मैं अभी मर जाऊंगी … दर्द के मारे जान निकल रही थी. वो बोला कि आकाश जब से नेहा यहाँ आयी है, तुम तो उनको चड्डी तक पहनने नहीं देते. मैं- अरे मैडम आप यहां शिफ्ट हुई हैं … यह तो मेरे बगल का ही क्वॉर्टर है, चलिए बैठिए दोनों को स्कूल ही जाना है.

बिल्कुल छोटी सी, कमसिन और चिकनी चुत थी उसकी और चूत की दीवारें रस से भरी हुई थीं. मैं उसकी चिकनी चुत को देखने के लिये अब उतावला सा हो गया और जल्दी से अपना हाथ उसके घाघरे से बाहर निकालकर उसके घाघरे को उतारने की कोशिश करने लगा. तब जाकर मालिनी खामोश हुई, लेकिन पूरे रास्ते वो मन ही मन हंस रही थी.

बीएफ देहाती एक्स एक्स इसके बाद हम दोनों ने दो दो नीट पैग और खींचे, फिर चुदाई का खेल शुरू हो गया. तभी मुझे खिड़की पर किसी के होने का आभास सा हुआ, जिससे मेरी नजर खिड़की पर चली गयी, जो कि हल्की सी खुली हुई थी.

हरियाणा की सेक्सी फिल्म वीडियो में

उसने बड़े आराम से मम्मी का पल्लू गिराया, ब्लाउज के उभार को प्यार से दबाया और कहा- आपके पास ये माल है तो नाम मालिनी ही होना चाहिए न. करीब 5 मिनट बाद पापा झड़ गये और उनके ऊपर गिर गये और लण्ड का पानी मॉम की चूत में छोड़ दिया और आहह उउहह करके झड़ गये।तब हम दोनों भी उठकर अपने कमरे में आ गयी. इस बार वो जग गई, उसने मुझे देखा मैं तुरंत सोने का नाटक करने लगा और हल्की आंखों से देखने लगा कि वो क्या करती है.

फिर मैंने हिम्मत करते हुए कहा कि प्लीज़ बुरा मत मानिए और मुझे ग़लत मत समझिए, क्या मैं आपकी कुछ मदद कर सकता हूँ?वो सवालिया निगाहों से मेरी तरफ देखते हुए बोली- वो कैसे?मैंने कहा- आपकी हालत मुझसे नहीं देखी जा रही है, क्या मैं अपने हाथों से आपके स्तन से बॉटल में दूध निकाल दूँ. अब मैंने उसे पलंग के किनारे पर करके उसकी चुचियों को पकड़ कर धक्के लगाने शुरू कर दिए. बहन भाई की सेक्सी वीडियो फिल्मउसने बताया कि उसके पिता पहले यहीं काम करते थे और इसी क्वार्टर में रहते थे.

कहानी का पहला भाग:मेरी सहेली मेरे ग्रैंडफादर से चुद गयी-1ओह नो … इट्स हॉरिबल.

मैंने भी धक्का मारते हुए बोला- आह नैना मेरा भी निकलने वाला है … क्या मैं अपना लंड बाहर निकाल लूँ?तो वो गिड़गिड़ाते हुए सी बोली- नो प्लीज अन्दर ही रहने दो … अन्दर ही डिस्चार्ज कर दो. मैं ट्रेन में चढ़ा आर सीधा अपनी बर्थ पर जाकर व्यवस्थित होते ही दस मिनट में ही थम्पसअप को पी लिया और तुरंत सो गया.

अपने कपड़े पहनने के बाद नेहा अब मुझे भी कपड़े‌ पहनकर अपने कमरे से जाने के लिए कहने लगी. जब मैंने उसका हाथ नहीं छोड़ा तो पता नहीं उसको क्या सूझा, उसने अपने बदन के भार से धकेलकर मुझे बिस्तर पर गिरा लिया और खुद भी‌ मेरे साथ साथ मेरे ऊपर ही गिर गयी. लता भाभी बोली- ऐसे होली खेलते हैं?हेमा की तो टांगों में लगा रहे थे!” इतना कहते ही उन्होंने दोबारा मुट्ठी भरकर गुलाल मेरे चेहरे पर ज़बरदस्ती रगड़ दिया और अपना हाथ मेरी छाती में घुसा कर रगड़ने लगी.

अगर आपको इसमें कोई ऐतराज ना हो तो?चाची ने मुझसे कहा- हाँ ठीक है, तुम बैठकर अपना मन बहला लो, मुझे उसमें कोई आपत्ति नहीं है!उस समय चाची ने सफेद रंग का सलवार कुर्ता और चूड़ीदार पजामा पहना हुआ था जिसमें वो बड़ी सुंदर नजर आ रही थी.

दादाजी अपना हाथ उसकी गर्दन के पीछे ले गए और सोनल के सिर को अपनी तरफ खींचा. मैं एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ तो एक दिन मेरे बॉस ने कहा कि तुम्हें कल ही कोलकाता के लिए निकलना पड़ेगा. मैं 40 साल की हूँ मेरा फिगर 38 सी 36 40 है और मैं दिखने मे बहुत ही हॉट और सेक्सी हूँ.

हिंदी सुहागरात वीडियोवो मेरे पास आ कर बैठ गई और बोली- जानू प्यार से करोगे ना बेबी?मैंने उसका हाथ पकड़ कर कहा- मुझ पर विश्वास रखो … बहुत ही प्यार से करूंगा. यहां तक कि बाद में नीना अपनी सहेलियों और बहनों को भी ‘चक्की’ स्टाइल में चुदाई करने की मुफ्त सलाह देने से कभी नहीं चूकी.

सेक्सी में साड़ी वाली

हम दोनों कुछ देर के बाद उठे तो मैंने अपनी सहेली के पति के लिए कॉफ़ी बनाई और उसके बाद हम दोनों ने नंगे ही बैठ कर कॉफ़ी पी. उसकी चूचियों के निप्पल गुलाबी थे … मगर जिस निप्पल को मैंने अभी तक चूसा था, वो एकदम लाल और तन कर कठोर हो गया था. फिर मैंने अपना हाथ उसके दूध से हटा दिया और हाथ को उसकी बुर पर ले गया.

मैं उन दोनों की कमर में हाथ डाल कर बारी बारी से दोनों को किस करता हुआ बाथरूम में ले जाने लगा. ”लेकिन ये सब गलत है मास्टर जी … समाज क्या कहेगा, किसी को पता चल गया तो?”घबराती क्यों हो कौशल्या रानी … किसी को नहीं पता चलेगा. बहुत ही अजीब सी खुशबू थी उनके लंड की, अजीब सी गंध मार रहा था … पर मुझे कुछ होश तो था नहीं, जो मैं कुछ कहती.

दो छत्तीस साइज़ के मम्मे और दो बत्तीस साइज़ के सख्त बूब्स आज़ाद हो गए. लेकिन इस बार झड़ने के बाद वो और गर्म हो गयी और नीचे से अपने चूतड़ उठाने लगी. रवि मामा अपने खेत वाले घर पर चले गए और मैं नानाजी के नज़दीक खटिया लगा कर सो गया.

फ़िर एकदम से उसने मेरी कमर पर से टांगें नीचे कर के मेरे पैरों में फंसा लीं. उसने अश्लीलता से अपने होंठ काटे और बड़ी ही कातिल हंसी के साथ बोला कि जूठा पीने से प्यार बढ़ता है.

उसकी चूत गीली थी सो एक ही धक्के में मेरा लंड उसकी चूत में चला गया और वो कराह उठी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’वो कराहने के साथ साथ मुस्कुरा भी रही थी और कह रही थी कि आज इस फौलादी लंड से चुदवाने का मज़ा आएगा.

अब उससे भी कंट्रोल नहीं हो रहा था, वह भी पूरी तरीके से गर्म हो गई और धीरे-धीरे उसका साथ देने लगी. સેક્સ હિન્દી સેક્સफिर भी उसे कोई अफसोस नहीं था, क्योंकि चूत के रास्ते उसके पूरे शरीर में मस्ती समाई हुई थी जिसे वह भूल नहीं पा रही थी. ब्लू पिक्चर सेक्सी हिंदी वीडियोसच तो यह है कि अभी तक मैंने आपका ठीक से चेहरा भी नहीं देखा है कि कैसे दिखते हो आप … और घूम के देख भी नहीं सकती हूं. शायद जल्दबाजी में सलवार के नाड़े की गांठ उलझ गयी थी या फिर मेरे ऊपर लेटे होने के कारण उससे वो नाड़ा खुल‌ नहीं रहा था.

तभी रवि ने रिक्शा वाले से बोला- आज अपने लंड का रिक्शा मेरी बहन की चूत पर चढ़ा दे.

मेरी नौकरी इंस्पेक्टर की थी, जिसका काम था कि हर एक प्रपोजल की पूरी तरह से छानबीन करके अपनी रिपोर्ट देना, जिसके लिए मुझे बाहर भी जाना पड़ता था. रात में खाना ख़ाकर हम बैठे थे पर पियू के पति (रमेश, काल्पनिक नाम) खाना खाने के बाद भी ड्रिंक कर रहे थे. अब चाची मुझसे बात करने के लिए मेरे पास मेरे कमरे में आ गई लेकिन तब मैंने उनसे कोई भी बात नहीं की क्योंकि मैं उनकी रात वाली बात से बहुत नाराज था और मुझे उनके ऊपर बहुत ज्यादा गुस्सा आ रहा था.

मैंने उससे सेक्स करने की बात कही, पहले तो उसने मना कर दिया, लेकिन काफी मनाने के बाद मान गई. वह कहने लगी- राज … निचोड़ लो पूरा रस, बहुत तरस रही हूँ … आह्ह्ह …हम दोनों ने एक दूसरे को नंगा करना शुरू कर दिया. मगर मैंने बिना देर किए अपने तने हुए 8 इंच लंबे 4 इंच मोटे मूसल से लंड की फोटो सेंड कर दी.

सेक्सी फिल्म दिखाओ सेक्स

चाची आज भी मुझे दिल से उतना ही चाहती हैं, जितना मैं उन्हें चाहता हूँ. कुछ देर में अनिल आया तो मैंने पूछा कि कहां थे इतनी देर से … मैं 10-15 मिनट से जाग रहा हूं. अन्तर्वासना पर मैं पहली बार मेरे साथ हुई घटना को शेयर कर रहा हूँ, जो पहले कभी सपना था अब हकीकत में बदल चुका है.

मैं- मुझे तो नहीं है!नेहा- ओके, ठीक है जब तुम बुलाओगे, तो मैं आ जाऊंगी.

अब स्वीटी बहुत मजे से अपनी कमर उछाल उछाल कर मेरे लंड से चुदवा रही थी.

कुछ पल के लिए तो मैं थोड़ी सामान्य ही रही, पर 2 मिनट के बाद मुझमें भी खुमारी चढ़ने लगी. अनुप्रिया नीचे थी और मैं अनुप्रिया के ऊपर थी कि तभी जोर कमर उछालते हुये अनुप्रिया मेरे मुँह में फच्च से झड़ गई. एक्स एक्स एक्स एक्स देहाती वीडियोमैं तो बस अब आंखें फाड़ कर उसकी चूचियों को‌ ही देखने में मस्त हो गया.

मेरी बहन रोज़ रात को देर से घर आती और कुछ अमीर लड़के बड़ी कार से उसको छोड़ने आते. उस रोज मैंने भाभी को घर के हर कोने में ले जाकर चोदा, पूरी रात चोदता रहा. जब चाची से और ज्यादा बर्दाश्त नहीं हुआ तो चाची ने मुझसे बेडरूम में चलने के लिए कह ही दिया.

मैंने पूछा- अब चूत कैसी है?उन्होंने गांड उठाते हुए कहा- तुम खुद देख लो … तुम्हारे लंड के लिए तड़प रही है. वैसे तो मैं जयपुर से हूँ, लेकिन फाइनेंस बैंक में एरिया सेल्स मैंनेजर होने की वजह से पूरे राजस्थान में घूमा हूँ.

आह … कितना गर्म मुँह है तेरा। इसको बोल … जितना आज तूने किया है … ये भी करे … वरना मैं तुझे चोद दूँगा आआह्ह्ह!”कुछ देर बाद उन्होंने मेरे मुँह से लंड निकाल लिया- बोल … क्या कहती है? इसको मनाएगी या अपनी चुदवायेगी?उन्होंने गुस्सा दिखाते हुए कहा.

इतना कहकर पुनीत मेरे होंठों पर अपने होंठ रख कर मेरे होंठों को चूमने लगा और मेरे नाक को चूसने लगा. उन्होंने मुझे भी साथ चलने को कहा, पर घर में कोई ना होने के कारण मैं जा ना सकी. वह क्या बोलेंगे तू इंजॉयमेंट कर बस … यह जो अपनी लाइन में उधर विंडोज तरफ बैठे हैं, सबसे बड़ी मूछें रखी हैं.

एन एक्स एक्स एक्स मैं कुछ बोली नहीं, पर यह सुनकर और सोचकर ही मेरी सांसें बहुत भारी होने लगी थीं. कुछ देर में लता ने अपनी टांगों को थोड़ा चौड़ा किया तो मैंने अपना हाथ उनकी चूत तक पहुंचा दिया, लता ने पैंटी नहीं पहनी थी.

अब मैं भी अपनी कमर उठाने लगी और महेश को गाली देकर बोली- कुत्ते और डाल अन्दर साले मादरचोद. हेमा भी अब धीरे-धीरे मेरी अंडरवियर के ऊपर से मेरे लंड को सहला रही थी, जो कि पहले ही पूरी तरह खड़ा हो गया था. चुदाई के मौके पर लंड का चौका नाम की यह कहानी एक घमंडी औरत ललिता जो कि एक काल्पिनक किरदार है, उसकी चुदाई की है.

खिलौना सेक्सी

नाइटी में वो बहुत खूबसूरत लग रही थी और इस वक्त उसके बाल भी खुले थे. थोड़ी देर उससे इधर उधर की बात करने के बाद उसने बताया कि जब मन नहीं लगता तो बच्चे के साथ मॉल आ जाती हूँ. एक दो बार मुझे इशारा कर चुके हैं कि थोड़ा कुछ तो जैसे तेरे बूब्स दूध दबा दें या चुम्मी ले लें, पर मैंने सोचा पहले मैं तुझे गर्म कर दूं, तो गर्म करने के चक्कर में मुझसे रहा नहीं गया और तू भी आउट आफ कंट्रोल हो गई.

शशश … आआह्ह्ह … महेश्श्शश …” प्रिया ने जोरों से सुबकते हुए कहा और अपनी कमर को ऊपर हवा में उठा लिया. फिर अगले हफ्ते उन्होंने बुधवार के दिन रामगढ़ जाने की बात बताई और कहा कि रात तक आएंगे.

दोपहर को खाने के समय लड़कियां आपस में बातें करने लगीं जो जरूरत से ज़्यादा अश्लील हुआ करती थीं.

तभी उसने कहा- सर … हैलो सर … क्या हो गया …? आप इतनी गौर से मुझे देख रहे हैं?मैडम ने ये थोड़ा इतरा कर बोला, तो मैंने हकलाते हुए कहा- नहीं नहीं … कुछ नहीं. तब वह मूछों वाले दादा साहेब अंकल बोले- पहले तो तुम मुझे अंकल कहना छोड़ दो, अभी हम लोगों को साथ रहना है. मैं खाला को बेकरारी से चूमने लगा और चूमते चूमते हमारे मुँह खुले हुए थे जिसके कारण हम दोनों की जीभ आपस में टकरा रही थीं.

फिर मैंने सोचा कि नेहा की चुत का रस भी तो मेरे होंठों पर लगा हुआ है, जिसको वो भी तो चूस रही है, ये सोचकर मैं उसके होंठों को चूसता रहा. लगातार 7 से 8 मिनट तक चूत चुसाई से चाची एक तेज़ अकड़न के साथ झड़ गयी थी और ढेर सारे कामरस की नदी बहा दी और थोड़ी देर के लिए शांत पड़ गयी थी. आह्ह्ह्ह… भाभी के होठों की छुअन से मेरे लंड में जैसे बिजली सी दौड़ गई और मेरा लंड दोगुनी शक्ति के साथ झटके देने लगा.

उन्होंने फिर से मेरे होंठों पर लंड को रखा और थोड़ा-थोड़ा अंदर-बाहर करने लगे.

बीएफ देहाती एक्स एक्स: यही कोई 10 किलोमीटर का रास्ता काटा होगा कि पूजा का फोन आया और वो बोली कि आप मिरज को मत आओ, मैं सीधा सीटी में ही पहुंच जाऊंगी … उधर 10-30 तक आ पाऊंगी. अब हॉल के अंधेरे का लाभ उठा कर मैंने फिर से हाथ चलाना शुरू कर दिया.

मैं अपने ब्वॉयफ्रेंड से भी चुदवाती हूँ लेकिन मेरी इस सहेली के भाई का चोदने का अंदाज कुछ दूसरा था. फिर मेरे परिवार ने मुझे काफी समझाया कि चिंता की कोई बात नहीं है, वो लोग घर संभाल लेंगे. अनु इतना जल्दी जल्दी और इतना जबरदस्त चूस रही थी, बिल्कुल कुल्फी की तरह लंड चुसाई हो रही थी.

अब मुझसे भी कंट्रोल नहीं हो रहा था, सो मैंने उसकी टांगों को फैलाया और अपने लंड को पकड़ के थोड़ा उसकी चूत के मुँह के अन्दर डाला, फिर धक्का मार के पूरा उसने लंड उसकी चूत के अन्दर डाल दिया.

कुछ ही देर में हम दोनों जोश में आ गए थे और हम दोनों पागलों की तरह एक दूसरे को चूमने चूसने लगे थे. हुक मत खोलो, मैं ऐसे ही चूचे बाहर निकालती हूँ, ताकि कहीं कोई जाग गया तो तुरंत बूब्स अन्दर कर लूँगी. उसने कैंटीन की ओर एक नजर डाल कर देखा और मुझे अनदेखा करके आगे चली गयी.