16 साल लड़कियों की बीएफ

छवि स्रोत,एक्स वीडियो डॉट कॉम एक्स वीडियो डॉट कॉम

तस्वीर का शीर्षक ,

इंग्लिश बीएफ नंगी फिल्म: 16 साल लड़कियों की बीएफ, नेहा भी आतुर थी और जो होने वाला था उसके लिये तैयार थी तो मेरा साथ देने लगी.

इंडियन बफ फिल्म

तभी उसने जल्दी जल्दी झटके देने शुरू कर दिए और लगभग 30 सेकंड बाद उसने अपना सारा पानी मेरे मुंह में निकाल दिया. एक्स एक्स एक्स वीडियो इंडियाबस तू आज मेरा साथ देती जा … तुझे इतना मजा आएगा कि पूछ मत! तेरा बदन इतना मस्त है कि तुझे तो एक साथ दो लोग मिलकर चोदे तो मजा आये।”मतलब?”मतलब तूने इंग्लिश फ़िल्म में देखा होगा कि एक लड़की को दो लड़के चोदते है आगे पीछे से एक साथ!”हट गंदे! ऐसा मत करना।”क्यों?”तुम किसी और से मुझे चुदवाओगे क्या?”अरे नहीं … जैसा तू बोलेगी वैसा ही करेंगे.

धीरे धीरे रफ्तार बढ़ाते हुए राजधानी एक्सप्रेस की रफ्तार तक पहुंच गया. देसी पोर्न सेक्स वीडियोशन्नो ने पास रखी ब्रा और पैंटी पहन ली और बोली- राज, मेरी मैक्सी तेरे पास है … उसे छुपा लेना.

बाद में मुझे पता चला कि उसने मम्मी को फोन करके कह दिया था कि मेरे पेट में आज बहुत दर्द है और फीवर भी है इसलिए मम्मी ने उसे रुक जाने को कहा था.16 साल लड़कियों की बीएफ: मैंने एक दो बार दोबारा कॉल करके देखने का प्रयास किया लेकिन रोहन ने कॉल का उत्तर नहीं दिया।कुछ देर बाद फिर से रोहन का मैसेज मिला- कैसा लगा राज जी?मैं- सुंदर जिस्म है नेहा का.

मेरा लंड भाभी की चुत में अन्दर बच्चेदानी तक ठोकर मार रहा था जिससे भाभी को बेहद मजा आ रहा था.मैंने कहा- हां भाभी आज मुझे अपनी और आपकी दोनों की जवानी की इस आग को बुझाना है.

સેક્સ ના વીડિયો - 16 साल लड़कियों की बीएफ

फिर तो चिराग एकदम से आगे बढ़ गया और वो अपनी एक उंगली ज्योति की चूत में घुसेड़ने लगा.धारा ने अंदर कोई पैंटी नहीं पहनी थी।शेखर की पूरी हथेली धारा की गद्देदार चूत के ऊपर ठहर गई थी.

उसका हाथ मेरे लन्ड को पकड़े हुए ऊपर नीचे हो रहा था।मेरी आँखें बंद थीं. 16 साल लड़कियों की बीएफ फिर अंकल ने मेरी गांड चूमते हुए एक उंगली गांड में डाल दी, मैं चिहुँक उठा.

अब शहज़ाद ने अपना एक हाथ पीछे करके मेरी मटकती गांड पर रख दिया और मुझे अपने और पास खींच कर एकदम मुझसे चिपक कर चलने लगा.

16 साल लड़कियों की बीएफ?

चाची ने गीली ब्रा पैंटी निकाल कर टॉवल की बजाए एक चुन्नी को अपनी आधी चूचियों के ऊपर से लपेट लिया और बोली- बस, अब तो खुश हो?अकेली चुन्नी में चाची गजब की सेक्सी लग रही थी. आज इस चूत को फ़ाड़ दो पूरा आह्ह आआह्ह साली फिर कभी किसी लौड़े की ये परवाह ना करे … आह्हह ऊह मेरी मुनिया को अपने लौड़े के लिए बना लो सरस … आह मुझे चोदो अह … आह्ह हहाह आम्म्म जोर से चोदो आह्ह अःह्ह अहहम्म महाह हआहह. मैंने अपने लंड पर ढेर सारा तेल लगाया और उंगली में तेल लगा कर आंटी की गांड के अन्दर तेल लगा दिया.

वे मुझे अपने सेक्स के बारे बताती हैं तो मेरी पेंटी गीली हो जाती है. चाची ने अपने माथे में हाथ मारा और गुस्से से मोंटू को जोर जोर से थपथपाने लगी. तन्वी- मुझे पता है क्या हुआ था तुझे!पल्लवी- क्या, क्या हुआ था मुझे?तन्वी- तूने ये सब उस छिनाल ज्योति के कारण किया.

जब तक मेरा रस नहीं निकला, तब तक भाभी गजब तरीके से लौड़े को चूसती रही थीं. उसकी उठती गांड देख कर मैंने अपनी रफ्तार बढ़ा दी और उसको जोर जोर से चोदने लगा. मुझे तुम्हारी माँ पर बहुत तरस आया, उसने मेरे साथ सेक्स करने की रिक्वेस्ट की और उस दिन से हमारे बीच शारीरिक संबंध बने हुए हैं.

थोड़ी देर बाद मैंने उसे बिस्तर पर घोड़ी बनाया और उसकी गांड में हाथ फेरने लगा. मैंने भाबी की मदभरी आंखों में झांक कर कहा- ठीक है भाबी आप कहती हैं, तो मैं यहीं सो जाता हूँ.

अब उस दस मिनट के वीडियो में क्या था, यह मैं आप लोगों को बताता हूं:वीडियो के शुरू में नीरू घुटनों तक की गुलाबी नाइटी पहन कर बेड पर लेटी हुई कोई किताब पढ़ रही है.

दोनों कपड़े बदल कर नीचे चली गईं, जहां पहले से सब बैठे डिनर का वेट कर रहे थे.

उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींचते हुए कहा- तू ऐसे मत शर्मा … मुझे पता है कि तू मेरी बात मानेगी. इसीलिए गलती होना स्वाभाविक है, कृपया मुझे माफ़ करते हुए सेक्स कहानी का मजा लीजिएगा. मयंक इशारा मिलते ही लंड को संगीता के गांड की तरफ ले गया और गांड के छेद पर लंड रख दिया; फिर धीरे से घुसाने लगा.

वो बोला- अगर मैं ऐसे ही तेरे चूचों पर करूं … तो तुझे अच्छा लगेगा!मैंने उसे मना कर दिया. अब कल्पना के लिए कोई चेहरा भी होना चाहिए जो कि मेरे विचार में था ही नहीं. इस तरह से वो मेरेलंड की दीवानीहो गई और जब तब मेरे साथ सेक्स का मजा लेने आने लगी.

मैं- लेकिन जब तुम्हारी चूत में इतना बड़ा और मोटा लण्ड गया तो खून तो आया नहीं?फ़लक- वो एक दिन मेरे दिमाग में सेक्स की गर्मी बहुत चढ़ गई थी तो मैंने जोश में आकर एक लम्बा खीरा अंदर तक घुसेड़ लिया था जिससे खून निकल गया था.

रीमा जैसे ही निखिल के कमरे में पहुंची, तो उसने अपना मोबाइल उठा लिया. मैंने उससे उसका फ़ोन ले लिया ताकि वो मेरे फ़ोन से कुछ भी ट्रांसफर न कर ले. फिर मैंने देखा कि बाथरूम से पानी गिरने की आवाज आ रही थी मतलब आंटी बाथरूम में थीं.

एक दिन हम दोनों अकेले थे, मुझे उसके बूब्ज दिख गए तो …प्यारे दोस्तो, मेरा नाम राज है और मेरी उम्र अभी बाइस वर्ष की है. वो तो थोड़ी देर में ही झड़ गईं क्योंकि वो मेरी और ताई की चुत चटाई देख कर पहले से ही चूने लगी थीं. शन्नो बोली- आह राज चोदो मुझे … और चोदो … मुझे रोज लंड से चुदाई का सपना आता था.

उस बीच भाभी ने मेरे होंठों पर अपने होंठों को जमा दिया और वो मुझे ज़ोर ज़ोर से किस करने लगीं.

मैंने अपना मुँह उनके एक चूची पर लगा दिया, तो भाभी किसी बच्चे के जैसे मुझे अपना दूध पिलाने लगीं. फिर मुझे फ्रिज से ठंडा पानी निकाल कर दिया और बोलीं- बाजार से कुछ सामान लेकर आना है, आप ले आओगे?मैंने कहा- ठीक है, आप लिस्ट बना दीजिए.

16 साल लड़कियों की बीएफ मैंने पूछा- चुप क्यों हो गई? क्या पसंद नहीं आया?उसने हंसने की स्माइली भेज दी. उसी दौरान उन दोनों ने एक एक उंगली मेरी चूत में डाल दी और आगे पीछे करने लगे.

16 साल लड़कियों की बीएफ उसकी आँखें खुलीं थीं लेकिन आँखों के सामने धारा का कामुक बदन ही घूम रहा था।जितनी भी झलक उसने वेब-कैम के ज़रिए देखी थी वो काफ़ी था धारा के कँटीले बदन का अनुमान लगाने के लिए।शेखर भी अपने ख़्यालों में बस उसी झलक को अपने तरीक़े से सोच-सोच कर उत्तेजित हुआ जा रहा था. स्कर्ट उतारते हुए गौतम बोला- दीदी आप इतनी हॉट हो और इतनी छोटे छोटे कपड़े पहनती हो, तो सनी भैया ने आप पर कभी ट्राई नहीं किया!मैं शराफत से बोली- सारे भाई तुम्हारे जैसे ठरकी नहीं होते कि तुम अपनी बहन को ही चोदने में लगे हो.

शीना के मम्में उसकी माँ से छोटे थे पर कड़क थे, और उसकी ब्रा से आधे से ज्यादा बाहर निकले हुए थे.

डॉक्टर बीएफ सेक्सी

मैंने उसको खाना और रहने की जगह दी और उसको अपने घर में काम के लिए रख लिया. मुझे शर्म सी आई, तो मैंने इधर उधर देखा कि किसी ने हमें देखा तो नहीं. रोहन ने नेहा को घोड़ी बना रखा था और पीछे से उसका बदन, उसकी गाँड, उसकी पीठ दिखाकर मुझे उत्तेजित कर रहा था।रोहन का लन्ड जैसे ही नेहा की चूत में गया नेहा ने अपनी कमर हिला कर उसके लन्ड को अपनी चूत में समा लिया.

जिस टाइम ये मेल आया था, उन दिनों लॉकडॉउन चल रहा था तो मैंने उसको रिप्लाई दिया कि अभी तो लॉकडॉउन है तो मैं भी नहीं आ सकता हूँ … और ना ही किसी और को भेज सकता हूँ. मेरा पूरा लंड आंटी अपने मुँह में लेने की कोशिश कर रही थीं पर लंड साइज बड़ा था, तो वो जितना अन्दर ले पा रही थीं, उतना अन्दर ही लंड ही लेकर चूस रही थीं. अंकल, आंटी, उनका एक लड़का … जिसका नाम भूपेंद्र था और एक लड़की जिसका नाम रानी था.

क्या मैं आपसे बात कर सकता हूं?रोहन को मैंने हैंगआउट्स पर मैसेज करने को बोला.

बाद में हमारी दिन में बहुत बार बात हुई और अब रोज ही बातें होने लगीं. सेक्स विद बॉस इन ऑफिस की कहानी का अगला भाग:जवान लड़कों से चूत गांड फटवायी- 3. मेरे मुंह से चूत शब्द सुन कर शीना शर्मा गयी और अपने हाथों से अपना चेहरा ढक लिया.

मैंने तुरन्त ब्लाउज के ऊपर से उनका एक निप्पल पकड़ लिया और मींजने लगा. एक दिन की बात है कि मैं और विवेक घर के पीछे बने बाथरूम में एक साथ मस्ती कर रहे थे. उसने एक बार मेरी आंखों में देखा और तुरंत ही मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

हम दोनों बहुत गर्म हो चुके थे, दोनों की आंखें लाल और उत्तेजना के कारण चेहरे भी लाल हो चुके थे. मैंने लंड मां की गांड के बीच में सैट किया और डरते डरते मां के पेट पर हाथ रख दिया.

हालांकि ब्लू फिल्म में गांड मरवाने वाली फिल्म देख कर मेरा कई बार मन हुआ मगर आप सब जानते ही हैं कि ब्लू-फिल्म की ऐक्ट्रेस गांड मरवाने की ट्रेनिंग लेती हैं, तभी वो बड़े बड़े लौड़े अपनी गांड चुत में एक साथ ले पाती हैं. गगन कभी भी अपनी बहन के चुचे, चुत, गांड जिस पर उसका दिल होता, उस पर थप्पड़ मारता या काट लेता. प्रभा- अच्छा … पहले दोस्त बनाया … अब प्रेमिका बनाना चाहते हो!मैं- हां प्रभा, मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ.

मैंने उससे पूछा- क्या तुम्हारे शौहर तुम्हें नहीं चोदते हैं?उसने बताया- मेरा शौहर अब मुझे बिल्कुल नहीं चोद पाता है.

भाबी को पंखा साफ करवाना था और सीढ़ी थी नहीं, तो मैंने बोला टेबल के ऊपर एक छोटी टेबल रख कर मैं चढ़ जाऊंगा. एक दिन जब वह स्कूल मेरे साथ पहुंची तो पता चला कि आज तो स्कूल में छुट्टी है. उसने ओके कहा और मैंने पम्प पर सर्विस देने वाले आदमी को इशारे से पास बुलाया.

वो दोनों भले ही पहचान के थे, लेकिन दोनों ही अभी अभी जवानी की दहलीज पर पहुंचे थे, तो शायद उन दोनों में कुछ गड़बड़ हो सकता था. मेरे देवर जी ने सेक्स पॉवर वाली गोली खा कर और मुझे भी खिला कर रात भर में मुझे बाजारू रंडी सा बना दिया था.

मैं सोच रहा था कि ये टेस्ट कहां से बीच में आ गया? फोन पर तो ऐसी कोई बात नहीं हुई थी. अब नेहा के बदन पर मेरे हाथ थे जो उसकी ब्रा के आस पास उसके बदन को टटोल रहे थे. अब मेरी चूत में जलन होने लगी लेकिन मैंने राज को रोका नहीं क्यूंकि मैं नहीं चाहती थी कि उसका पहली बार का सेक्स हाथ से पानी निकालकर पूरा हो!तो मैं ऐसे ही पड़ी रही और राज मेरी चूत में जोर जोर से झटके देने लगा.

बीएफ हिंदी वीडियो चलने वाला

एक दिन जब वह स्कूल मेरे साथ पहुंची तो पता चला कि आज तो स्कूल में छुट्टी है.

घर पहुंच कर मैं फ्रेश हुआ और मुठ मारने का मन हुआ लेकिन मैंने मुठ नहीं मारी क्योंकि मैं अपने लंड के रस को संभाल कर रखना चाहता था. मैं- भाभी, कहां हो!भाभी- क्या हुआ रोहित … आज बहुत जल्दी आ गए!मैं- क्या करूं भाभी … आपका दूध पीने का जी किया … तो आ गया. अतः मेरा लंड चाची की चूत में अधिक आराम से नहीं जा रहा था, मुझे एड़ियां उठानी पड़ रही थीं.

दोस्तो, आपको मेरी ट्रिपल सेक्स हिंदी कहानी कैसी लगी, कमेंट करके ज़रूर बताईए. उर्वशी का रंग हल्का सा सांवला है … पर उसके नैन-नक्श बहुत तीखे हैं … जिससे उसके चेहरे पर एक रौनक सी रहती है. सेक्स वीडियोस कमपता नहीं ये क्या बात थी कि उसके ना कह देने से मुझे उसका स्वभाव अब और भी अच्छा लगने लगा था.

जब गांड लंड चिकने हो गए तो मीरा घोड़ी बन गयी और निखिल से बोली- आ जा बेटा … मार ले अपनी मौसी की मोटी गांड. कुछ देर बाद मां कपड़े पहन कर बाहर आ गईं और मुझे देख कर बोलीं- हो गया तेरा?मैंने कहा- हां.

मैंने उसका दूध चूसते हुए कहा- अबे यार, वो भी गर्म हो रही होगी सो मैंने कहा था. फिर भी उसने पूरी कोशिश करते हुए शेखर के लंड को किसी तरह से पकड़ लिया. मैंने अपना मुँह उनके एक चूची पर लगा दिया, तो भाभी किसी बच्चे के जैसे मुझे अपना दूध पिलाने लगीं.

पूरे रास्ते हर दस मिनट पर फरियाल के कॉल पर कॉल आने लगे कि कहां तक पहुंचे. अब पिंकी भी अपनी गांड आगे पीछे करके मज़े से लंड लेने लगी थी।शायद उसकी आवाज अंकल आंटी के रूम पहुंच गई थी।दरवाजे के बाहर से आवाज आई- बहू आराम से … नींद टूट रही है।भाभी बोली- जी माँ जी!मैं अब भी तेजी से अंदर-बाहर कर रहा था पर पिंकी अब चिल्ला भी नहीं सकती थी।वो धीरे धीरे आहह आह करके मस्ती से लंड लेने लगी. रोमांटिक भाभी की वासना की कहानी के अगले भाग में एक चपरासी और अफसर कीबीवी की चुदाई का मजालिखूंगा.

आज पता नहीं मैं कितनी बार गर्म हुई … और न जाने कितनी बार मेरी चूत से गर्मी निकली.

उसने कुछ नहीं कहा और दोनों मां बेटी मेरे लंड से चुदाई का मजा लेने लगीं. मैंने भाबी की मदभरी आंखों में झांक कर कहा- ठीक है भाबी आप कहती हैं, तो मैं यहीं सो जाता हूँ.

कुछ देर उन्होंने मेरी चूत को चाटा और खाया और फिर अपने लंड का सुपारा मेरी चूत पर रगड़ने लगे. वहां मुझे रोज़ नहीं जाना होता था, बस पेपर देने के लिए जाने का सीन था. वो काफ़ी देर मेरी चुचियां चूसने के बाद मेरी चुत की तरफ आ गया और बोला- सच में तेरी चुत एकदम चिकनी है.

दोस्तो, टेलर मास्टर से चुदाई की कहानी का अगला भाग शीघ्र ही आपके सामने होगा. जैसे वो कबसे इसका इन्तजार कर रही हो।मैंने नीतू के दोनों चूतड़ पकड़ के उसे थोड़ा सा हवा में उचकाया और उससे लंड को चूत सीध में रखने को कहा. जब मैं उसकी चुदाई करता था तो उसको बोलता था- कोमल सोचो, अगर इस डिल्डो की जगह असली मोटा लंड तुम्हारी गांड में हो … और हम दो मर्द मिलकर तुम्हारी चूत और गांड चोदें तो तुम्हें कितना मज़ा आएगा.

16 साल लड़कियों की बीएफ अब मैं सिर्फ अंडरवियर में था और मेरा लंड उभार लिए हुआ था जिसे भाभी देख रही थीं. फिर मैंने उसे कहा कि अब हमारे बीच जिस्मानी रिश्ता बनने लगा है तो आज से तुम मेरे लिए अपनी चूत को बिल्कुल साफ सुथरी और चिकनी करके रखोगी.

बीएफ वीडियो स

कुछ देर बाद शहज़ाद मेरे घर आया और हम दोनों साथ घर से ऑटो से बस अड्डे तक आए और बस देखने लगे. वो तेजी से चिल्लायी- आआह्ह मर गई … आईई इह्हह … साले धीरे कर ना!मैंने उसे किस करना शुरू कर दिया और रुका रहा. मैंने फूला हुआ सुपारा चाची की चूत के छेद पर लगाया और पूरा अंदर ठोक दिया.

मगर लगभग आधे मिनट तक शेखर को ना तो धारा ने छुआ था और ना ही उसके लंड की तरफ़ हाथ बढ़ाए थे. सैम अपनी कमर पर एक हाथ रखे हुए था और वो अपने दूसरे हाथ से मेरी मां का सर अपने लंड की तरफ दबा रहा था. एक्स एक्स कुत्तामैं मान गया और हम दोनों दस मिनट तक एक दूसरे को चूम-चाट कर प्यार करते रहे.

मैसेज का टाइम देखा तो पता चला कि बस 15 मिनट पहले ही उसने मैसेज भेजा था लेकिन फिलहाल वो थी ऑफ़-लाईन.

आंटी हंस दीं और वो लंड को मुँह में लेकर उसे लॉलीपॉप की तरह चूसने लगीं. उसका दर्द कम हो गया और मैं अपने लंड को उसकी चूत में आगे पीछे करने लगा.

तो उसने बिना कुछ आवाज किए धीरे से पुरुष टॉयलेट का दरवाजा खोला और छुपकर अन्दर झांकने लगी … ताकि उसको कोई देख ना ले. ”तुम हफ्ते में कितनी बार चुदवाना चाहती हो?”मैं तो दिन में चार बार चुदवा लूँ, मौका तो मिले. तूने बताया नहीं कि क्या तेरा ये पहली बार है?”हां दीदी … मैं पहली बार कर रहा हूँ.

धीरे धीरे निखिल के लंड की चाहत को भी मीरा समझ गयी थी क्योंकि जब भी वो ऐसी कोई हरकत करती तो निखिल का लंड फूल कर उसकी इस क्रिया का अभिवादन करने लगता था.

उसके हाँ बोलते ही मैंने जोर का झटका मारते हुए लन्ड को उसकी चूत में पेल दिया. दोस्तो, मैं प्रकाश एक बार फिर से तीन चुत की एक साथ अकेले लंड से चुदाई की कहानी को आगे लिख रहा हूँ. उनके पति जॉब करते हैं और हम लोग यहीं एक मकान में किराये पर रहते हैं.

डब्लू डब्लू सेक्स वीडियो डॉट कॉममयंक ने संगीता की जांघों पर हाथ फिराना शुरू कर दिया और वो एक मिनट बाद उठ कर संगीता की टांगों के बीच में आ गया. शेखर ने बिजली की फुर्ती से लैपटॉप ऑन करके ‘फ़्री सेक्सी इंडियन’ की साइट पर चैट रूम को चेक किया.

बीएफ हिंदी में सेक्सी बीएफ

धारा के दोनों हाथ शायद कीबोर्ड पर थे इसलिए उसकी गोरी-गोरी बांहें बिल्कुल नज़दीक से चमक रहे थे. मैंने मौसी को बोला- मज़ा आ गया जानू!मौसी बोलीं- अब चुत का रस तो निकलवा ही दिया है … अब क्या करेगा?मैं- अब लंड चुसवाऊंगा. मैंने उससे पूछा- तुम्हारे घर में और कौन कौन रहता है?वो बोला- इधर तो मैं ही रहता हूँ.

पहले तो उसने मेरी दोनों चुचियों पर हमला बोला और उसके बाद मुझे अपना लंड चुसाया. कमर के नीचे उसकी गांड तो देख कर जुबान पर एक ही शब्द आया कि वाह क्या गांड है. अब इसके बाद प्रशांत और राजेश जब भी घर आते और सनी मिल जाता, तो वो दोनों उससे जमकर मजे लेते.

मगर मैं अपनी ताकत से उनके पैरों के बंधन को तोड़ कर उन्हें फिर से चोदने लगा. फिर मुझे एक आईडिया आया और मैंने उनसे कहा- आंटी टीवी चालू कीजिए ना!उन्हें शायद याद ही नहीं था कि सीडी प्लेयर चालू है. वह मेरे मुंह में लंड देकर जोर जोर से झटके देने लगा और अपने हाथ नीचे ले जाकर उसने मेरी गांड को चौड़ा कर दिया मेरी गांड में उंगली करनी शुरू कर दी.

मैंने कहा- आपकी कोई रिश्तेदार नहीं है, जो बिल्कुल आपकी तरह हो दिखने में!मोना भाभी बोलीं- हां है तो एक. उन्होंने मेरे सिर पर प्यार से हाथ फेरा और कहा- बहू, आगे बढ़ और अपनी इच्छा पूरी कर ले.

मैं मौसी के घर गयी थी, वहां अपने बॉयफ्रेंड के साथ वीडियो सेक्स कर रही थी.

अभी भाभी चुदने के लिए तैयार नहीं थीं पर मैंने एक झटके में पूरा लंड चुत के अन्दर डाल दिया. हिंदी देसी सेक्सी चुदाईफिर भी उसने ऋतु से कहा- दीदी, आपसे मेरी जैसे बात होती है, वैसे ही मेरी बात रुचि से भी होती है. एक्स एक्स व्हिडीओ इंडियातभी रीतू ने मचलते हुए कहा- चन्दर, मेरी प्यास बुझा दो … मैं भीतर से तप रही हूँ. हालाँकि शेखर के मन में अभी भी उस रोमांच का अनुभव लेने की लालसा थी लेकिन वो धारा से कह नहीं पा रहा था.

भाभी की मादक आवाजें हर पल तेज होती जा रही थीं- सस्स्स ओफ्फ़ नहिन्यी ईईईईई … आआह ऊऊ मांआआअ.

थोड़ी देर बाद मीरा ने भी अपनी एक टांग उठा कर निखिल की कमर पर रख दी. थोड़ी देर में जब वो नॉर्मल हुयी तो मैंने कहा- ये था तुम्हारा इतराना?तमन्ना- गांड बाकी है अभी!मैं- तो पलटो, उसे भी देखता हूं!तमन्ना घोड़ी बनते हुये बोली- जान धीरे से…मैं कहां सुनने वाला था! जब तक वो बोलती तब तक उसकी चूत के रस से चिकना हुआ आधा लंड उसकी गांड में फंस चुका था!तमन्ना चिल्लायी- प्ली…ज!जब तक उसने प्लीज कहा तब तक लंड अपना काम कर चुका था. वह आकर पीछे से मुझसे चिपट गया और धीरे से उसने अपना हाथ मेरी गांड पर रख दिया और उंगली को चलाने लगा.

मैंने उनकी नाक पर अपनी नाक लगाई और मैंने नीचे से झटके मारने के लगा. ब्लाउज़ इतना कसा हुआ कि उभारों को बांध रखने की नाकाम कोशिश की गयी हो. उसने उस किताब को खोला, तो उस किताब में औरतों और आदमियों की चुदाई करती नंगी तस्वीरें थीं.

सेक्सी ब्लू पिक्चर ब्लू पिक्चर सेक्सी

खाना बनाते वक्त मुझे ऐसा लगा कि अंकल मुझे सामान्य से कुछ ज्यादा छू रहे हैं. चाची- और मैं कैसे रात काटती हूँ … तुम्हें क्या, तुम तो विदेश में कोई ना कोई चूत मार लेते होगे. मुझे चुदाई का इतना अनुभव कैसे हुआ, यह जानने के लिए हम लोग सेक्स कहानी की तरफ चलते हैं.

तभी ऋतु ने मुझसे कहा कि तू अभी यहां से निकल, मैं तुझे कॉल करके बुलाऊंगी, तब तू आ जाना.

लेकिन अब दोनों के बीच का ये शर्म का परदा कैसे हटाया जाए, इस बात को सोचना बाकी था.

तब मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर लगाया और एक ही धक्के में पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया. मैंने उससे पूछा- क्या तुम्हारे शौहर तुम्हें नहीं चोदते हैं?उसने बताया- मेरा शौहर अब मुझे बिल्कुल नहीं चोद पाता है. राजस्थानी छोरी की चुदाईआपने लंड भी इतना मस्त चूसा कि मैं ज़्यादा देर रुक न सका … लेकिन दूसरी बार ऐसा नहीं होगा.

उस दिन मैं जालंधर में ही था तो उसने मुझसे अपने घर में आने का निमंत्रण दिया. 2 मिनट तक सुनीता का मुखचोदन करने के बाद उसने मुझे जल्दी से चोद देने के लिए कहा जिससे कोई आकर हमारी रासलीला में विघ्न न डाल सके और हम अपनी तृप्ति को पा सकें. कुछ पल के बाद मुझे भी लंड के मजे आने लगे और मैं अपने भाई से खुल कर चुदवाने लगी.

वो मेरे थोड़ा पास आयी और बोली- ऐसे क्या देखे जा रहे हो!मैं हड़बड़ा गया और बोला- कुछ नहीं … कुछ नहीं!वो बोली- मैं देख रही हूँ आज तुम मुझे ही अलग तरीके से देखे जा रहे हो!मैं बोला- नहीं, कुछ नहीं. जब लॉकडाउन हुआ था, तब 15 दिन बाद मुझे पता चला कि अंकल अपने भाई के पास देहरादून गए थे और आंटी घर पर अकेली थीं.

मुझे पूरा यकीन है कि टीचर भाभी सेक्स कहानी पढ़ते हुए ही सभी चूतों ने पानी छोड़ दिया होगा.

अगले पांच दिन तक मैंने कंपनी पर पूरा ध्यान दिया और मशीन के बारे में काफी कुछ सीख लिया. ज्योति ने हंसते हुए कहा- हां तू जब चेंजिंग रूम में आई थी, तो चिराग मेरी चूत की क्लिट मसल ही रहा था. उसने कहा- यही तो आपका सरप्राइज था जानू!मैं जानबूझ का भौंचक्का होने का नाटक कर रहा था, साथ ही बोल रहा था कि मैं इसे नहीं चोदने वाला.

मोनिका सेक्सी कभी कभी भाभी का मूड ठीक नहीं होता था, तो वो मुझे बुला लिया करती थीं. उसके एक बूब को मुँह में लेकर मैंने चूसना शुरू कर दिया … साथ ही उसके निप्पल को भी काटने लगा.

मेरी उसके बाद कभी हिम्मत नहीं हुई उससे कहने की … और उसकी भी नहीं हुई. उन दोनों ने मेरी चूचियों को इतना चूसा कि चूचियां बिल्कुल लाल हो गई थीं. मैं उसके हिलते कबूतर पकड़कर दबाने लगा तो वो एकदम बेकाबू सी होने लगी- आ…ह…जा…न! दबाओ! निचोड़ दो इन्हें!कहते-कहते अपनी स्पीड बढ़ा दी.

देसी चुत हिंदी

भाभी हंसी और मैंने उन्हें पीछे से पकड़ लिया और सीधे चूत में उंगली डालने की सोची. अपने साथ आप किसी लेडीज को लेती जाएं … क्योंकि वहां दरवाज़ा नहीं है … बस पर्दा पड़ा है. मां अपनी कामुक सिसकारियों से भरी गर्म सांसें मेरे चेहरे पर छोड़ने लगीं.

प्रभा ने गाड़ी से उतरते ही गुस्से में क़हा- अब कहां ले जाओगे मुझे … अर्थात चोदने के लिए?मैं उसकी इस बिंदास और खुली बात से डरा सहमा सा बोला- मेरे घर में. तभी मैंने एक ज़ोर का झटका देकर फिर से बच्चेदानी पर लंड से चोट मारते हुए कहा- खुश नहीं रहोगी क्या मुझसे?मनोज … मुझे बहुत अच्छा लग रहा है जल्दी करो तेज़ तेज़.

वर्जिन Xxx स्टोरी में पढ़ें कि मैं जवान थी और मेरी अन्तर्वासना उफान पर थी.

मैं उसके हिलते कबूतर पकड़कर दबाने लगा तो वो एकदम बेकाबू सी होने लगी- आ…ह…जा…न! दबाओ! निचोड़ दो इन्हें!कहते-कहते अपनी स्पीड बढ़ा दी. इसलिए वो जानती थी कि जब दो दो लंड चुत और गांड में एक साथ घुसते हैं, तो जन्नत का मज़ा आता है. अनिकेत भैया ने मुझे गोद में उठा लिया और बोले- तुमने तो पूरे घर में चुदाई का माहौल बना दिया है.

मैंने ड्रेसिंग टेबल से लिक्विड वैसलीन की ट्यूब उठाई और ढेर सारी अपने लौड़े के सुपारे पर चुपड़ ली. पहले आधा लंड लेकर चूसती रही फिर धीरे-धीरे पूरे लंड को अंदर लेना चाहा।मगर उसके कंठ तक ठोकर मार रहे लंड का कुछ हिस्सा अभी भी बाहर ही था जो शायद अंदर नहीं जा पा रहा था।या यूँ कहें कि धारा उससे ज़्यादा अंदर नहीं ले पा रही थी. आह्ह … धारा !!” शेखर के मुँह से बस इतना ही निकल सका।धारा ने धीरे-धीरे करके शेखर के लंड के उन सभी हिस्सों को जो कि उसके फ़्रेंची के होते हुए छुए या चूमे जा सकते थे, चूमा और अचानक से लंड को अपने दाँतों से पकड़ लिया.

मम्मी से भाभी ने पूछा- कोई काम तो नहीं है, मैं अपने कमरे में जा रही हूँ.

16 साल लड़कियों की बीएफ: मैंने पहला सिप लिया और कहा- आह … वाकयी भाभी, चाय बहुत बढ़िया बनी है. इसकी वजह थी उसका भोलापन, कमसिन चूत, रसीले होंठ टाईट चूचियां आदि मुझे भड़काते तो जरूर थे … पर मैंने अपने को कैसे रोक रखा था, बता नहीं सकता.

मैं एक हाथ को धीरे धीरे पेट पर फेरते हुए उनकी साड़ी के अन्दर डालने लगा. मैंने मम्मी से बहुत ज़िद की, तो उन्होंने अपने टेलर को यह कहते हुए फ़ोन किया कि बहुत मुश्किल आ गई है. मैं तुमसे तुम्हारा लंड भीख में मांग रही हूं … आह मुझे चोद दो, फाड़ दो मेरी कमीनी चूत को … जल्दी से चोद डालो मेरी चूत को … फाड़ डालो प्लीज मुझे चोद डालो.

धारा की हाइट शेखर से थोड़ी कम थी इसलिए उसे उचक कर अपनी चूत में शेखर का लंड रगड़ना पड़ रहा था.

इस घटना के बाद मेरी नजरें मां की चूत और मम्मों को नहीं भुला पा रही थीं. फिर लाजवाब अन्दर धंसे पेट से होते हुए मेरा लंड पहाड़ों और घाटियों के बीच जा पहुंचा और सुंदर वादियों में खो जाने के लिए मचल उठा. शेखर- जी शुक्रिया। वैसे मन तो आपने मोह रखा है हमारा, जब से वो आँखों पर पट्टी वाले खेल के बारे में सुना है आपके पति, से तब से मेरा मन बस उसी ख़्याल में लगा हुआ है कि इतना रोमांचक होता होगा वो खेल … बिना देखे एक दूसरे के भीतर समा जाना और अपनी आत्मा को तृप्त कर लेना!धारा- सच कहूँ तो मुझे भी वो खेल बहुत पसंद है, एक अलग ही रोमांच है उसमें.