अंग्रेजों की हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,village एक्सएक्सएक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

कॉलेज गर्ल सेक्स मूवी: अंग्रेजों की हिंदी बीएफ, मैं बस अपनी आंखें बंद करके साक्षी की जुबान को अपने लंड पर चलता हुआ महसूस कर रहा था.

সেক্সের ভিডিও দেখান

फिर अगले दिन शाम को मामी मेरे पास आईं और पूछने लगीं- मेरी ब्रा और पैंटी में तू ही मुठ मारता है, मुझे सब पता है. औरतो का कंडोमकोई गारंटी से नहीं कह सकता कि अगले पांच मिनट में क्या होगा?मैं घर जाने को ऑफिस से चला था, पर अब कहीं और जा रहा था.

हम-दोनों साथ ही झड़े तथा मैंने अपना फ़व्वारा उनकी चूत में ही छोड़ दिया. सेक्स वीडियो फिल्म बीएफफिर जैसे ही मैंने लंड गांड में डाला तो मेरा लंड पूरा घुसता चला गया.

चूंकि अब पहले कपड़े उतारने की बारी उसकी थी तो मैंने कोई भाव न दिखाते हुए कहा- भगाने की क्या जरूरत थी, अच्छी चली तो थी तू, लेकिन क्या हो सकता था.अंग्रेजों की हिंदी बीएफ: अब तो मैं और भी लण्ड पियूँगी।हर तरह की बातें, गन्दी गन्दी बातें और अश्लील बातें करती है और प्यार से न्यू हिंदी Xxx गालियां भी देती है।पाठको, कैसी लगी मेरी न्यू हिंदी Xxx कहानी? कमेंट्स और मेल में मुझे बताएं.

कोई उसे किस करने लगा, कोई उसकी गांड पर हाथ फेरने लगा, कोई चूत चाटने लगा.मैंने उनसे उनके लंड की फोटो मांगी तो भैया ने मुझसे भी मेरी चूत और चूचों की फोटो मांग ली.

ब्लू सेक्स करते हुए दिखाएं - अंग्रेजों की हिंदी बीएफ

उसकी गांड मारने के साथ ही मेरा एक हाथ उसकी कमर से होते हुए उसकी चूत के ऊपर दाने को सहला रहा था.मैंने उसकी चूत में लंड को अन्दर बाहर अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया था.

मेरी इस हरकत से माधुरी ने कुलबुलाते हुए कहा- तुम तो बड़े ही अनुभवी लगते हो, तुम्हारी बीवी बहुत भाग्यशाली होगी क्योंकि चुदाई की कला में तुम तो बहुत ज्यादा एक्सपर्ट हो. अंग्रेजों की हिंदी बीएफ इरोटिक फोरप्ले सेक्स कहानी में मैंने एक ठंडी लड़की को फोरप्ले में इतना गर्म कर दिया कि लंड चूत में जाते ही वो झड़ गयी.

ये सोचते ही मेरे लंड महाराज अब नेकर फाड़ कर कुछ और फाड़ने को बेताब हो रहे थे.

अंग्रेजों की हिंदी बीएफ?

दरअसल में मीना के घर रह कर ही पढ़ाई कर रही थी मेरे बड़े भाई की गर्लफ्रेंड।।उसका नाम मीना था. मैं हॉस्पिटल में था, मेरी ड्यूटी ख़त्म होने में आधा घंटा था और डॉक्टर साब जा चुके थे. उसके बाद …दोस्तो, अन्तर्वासना पर ये मेरी पहली सेक्स कहानी है, जो मैं आपके सामने लेकर आया हूँ.

आपको मेरी कॉलेज सेक्स Xxx कहानी कैसी लगी?आप मुझे मेल पर अपनी प्रतिक्रिया दे सकते हैं. लेकिन पता नहीं मुझे क्या हो गया, मैं उसे देखने में इतना खो गया कि मुझे याद ही नहीं रहा कि ये मेरी बहन है. मेरी तो यह फंतासी थी ही कि मैं किसी भाभी के साथ बाथरूम में नहाऊं और चुदाई का मजा लूँ.

अपने हाथों से उसकी जांघों को पकड़ कर थोड़ा खोला और उसके नीचे को आ गया. आलिम साहब- देखो नगमा जान, समझने की कोशिश करो, मैं तुमको इधर हमेशा के लिए नहीं रख सकता. मैंने उसकी चूत से हाथ निकाला और उसकी कमर को पकड़ कर लंड पर गांड खींचने लगा.

तुमको अपनी ननद का दुःख कहां देखा जाता है?वो बोली- आप क्या चाहती हो दीदी?मैंने कहा- वो सब बाद में बताती हूँ. मैंने उससे पूछा- क्या मैं अन्दर आ सकता हूं?उसने कोई जवाब नहीं दिया क्योंकि वह पूरी तरह से मदहोशी में थी, शायद झड़ चुकी थी.

मेरे परिवार में मैं, मेरे पापा मम्मी, दो चाचा और दोनों चाची, उनके बच्चे सब साथ में रहते हैं.

वो मेरी गर्दन और गले को चूसने लगा और मैंने उसको अपनी बांहों में जकड़ लिया.

वो गुलाबी चूत मुझे कुछ खट्टी नमकीन सी लग रही थी मगर मुझे उस समय होश ही नहीं था और मैं चूत चाटे जा रहा था. वो तो उसके खेत पर तेरे साथ मजा मिल जाता है इसलिए उसके साथ सोना पड़ता है. मैंने चाची की गांड में तेल डाला और लंड को गांड पर लगा कर घुसेड़ दिया.

फिर शाम को चाची मेरे पास आईं और पूछा- कैसी लग रही हूँ?मैं- यार चाची, आप तो एकदम सेक्सी माल लग रही हो. ’बापू ने काकी का एक हॉर्न दबाया और बोला- साली, तेरी मखमली चूत में एक झटके में ही लंड पेलने में मजा आता है. उस वक्त मैंने नॉर्मल सा गाउन पहना था, जिसके सामने के दो बटन खुले हुए थे और उस जगह से मेरे दूध की लाइन दिख रही थी.

मैं महसूस कर सकती थी कि सारा का सारा लंड मेरे अंदर समा चुका है और मेरी बच्चेदानी से जा टकराया है.

मैंने कहा- क्यों, प्यार क्यों नहीं करते हैं?वो मानो मेरे सामने फट पड़ना चाहती थी. मेरी आंखों में बार बार बारिश में भीगी बहन ही दिख रही थी, बाथरूम में उसकी नंगी जवानी मुझे गर्म कर रही थी. हमारे पास दो रूम हैं, जब तक आपका मन हो या दूसरा कमरा नहीं मिलता, तब तक यहां रहा जा सकता है.

उसके बाद मैंने उनकी दोनों टांगों को फैलाया और उनकी चूत में अपनी दो उंगलियों को एकदम से डाल दिया और अन्दर बाहर करने लगा. फिर जलालुद्दीन आलिम ने अपना हाथ मेरे नीम्बू पर रख दिया और उसको सहलाने लगे. मैं उस बात से बहुत दुखी था कि तीन महीने बाद मैं माधुरी को नहीं देख पाऊंगा.

मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि जिसके लिए मैंने सब कुछ किया, वो आज मेरी बांहों में समाई हुई है.

फिर चाची मुझे लिटा कर चूत रखकर लंड पर बैठ गईं, लंड सनसनाता हुआ अन्दर समा गया. वो बोलने लगे- आंह ले … तुझे अपनी बीबी बनाकर रखूंगा जान … तुम बहुत सेक्सी हो … आह तुम्हारी जैसी औरत को चोदने का मजा ही अलग है आंह तुम जैसे कहोगी, हम वैसा ही करने को तैयार हैं.

अंग्रेजों की हिंदी बीएफ मैं जीजू कि तरफ देखते हुए बोली- सच जीजू, आप सिखाएंगे क्या मुझे? लेकिन कैसे सिखाएंगे, घर में किसी को पता चल गया तो हम सबको जूते पड़ेंगे. उत्तेजना के इस चरम पर उसने चूतरस छोड़ना शुरू कर दिया और उसके साथ साथ मेरा लंड भी वीर्य निकालने लगा.

अंग्रेजों की हिंदी बीएफ तुम्हारी लेगिंग्स में से तुम्हारी जांघें और उसमें कमर से फंसी हुई पैंटी का आकार ऊपर से देख कर ऐसा लगा कि बस तुम्हें वहीं पटक कर चोद दूँ. छोटे चाचा भी खेती के काम में पूरी तरह से लगे रहते हैं और पापा जो भी सामाजिक काम होता है, उसे देखते हैं.

उसकी मांसल जांघें, उसका भरा पूरा बदन देखकर मैं एकदम पागल हो गया और अपनी शर्ट को निकाल फेंक मैं कमरे में घुसा, कुंडी लगाई और सीधा रम्भा के ऊपर चढ़ गया।अब रंडी रम्भा मेरे शरीर के नीचे थी, उसके बदन की गर्मी को मैं अपने बदन पर पास महसूस कर सकता था।मैंने रम्भा को बेतहाशा चूमना शुरू किया.

हिंदी राजस्थानी सेक्सी पिक्चर

और ज़ोर से चोद आआह हहमम आहह हहम उई माँ … क्या चुदाई करता है तेरा लंड … मुझे बहुत मज़ा आ रहा है और ज़ोर से चोद. आज मैं आपको अपने जीवन की एक सच्ची सेक्स कहानी सुनाने जा रहा हूँ जिसमें मैंने अपनी चचेरी बहन को चोदा!मैं कॉलेज में पढ़ता था और तब मेरे एग्जाम चल रहे थे. मैंने उसे पकड़कर अपनी ओर खींचा और उसकी चड्डी के ऊपर से ही उसकी चूत को मसलते हुए बोला- मैं तुम्हारा इंतजार करूंगा.

थोड़े देर बाद मैं भी जोश में आ गया और उसको कसके चोदना चालू कर दिया. गाली देते देते और चुदाई करते करते उनके धक्के तेज होते गए और मैं भी नीचे से जोर जोर से उछलने लगी थी. मैंने भी एक चांस लेने की सोची कि अगर बात बनेगी तो ठीक है नहीं तो जैसा चल रहा है, वैसा ही चलता रहेगा.

करीब एक मिनट के बाद फरियादी भाव से बोली- आज मेरी फाड़ कर रख देना, मेरी आग आज शांत कर दो.

मैं उसके करीब आ गया और उसके बालों को आगे कर दिया, जिससे उसकी गोरी पीठ दिखने लगी. मैं घर का माहौल अच्छा रखने के लिए माफ़ी मांग लेता, जिससे बच्चे पर असर ना हो. उसने कहा- तुमने बताया नहीं, आज मैं कैसी लग रही हूँ?मैंने कहा- तुम तो हमेशा से सुन्दर लगती हो.

चाचा जी थक कर वापस आते थे और दारू पीकर आते थे, तो बस खाना खाया और सो जाते थे. वंदना भी मिस्टर रंजीत के लंड के आकार से हैरान और डरी हुई लग रही थी।उसने मिस्टर रंजीत से कहा कि वह इस बड़े लंड को अपनी चूत में नहीं ले सकती है इसलिए वह केवल उसका लंड चूसेगी और अपने बड़े स्तनों से चोद देगी।यह सुनकर मिस्टर रंजीत क्रोधित हो गए और मेरी पत्नी वंदना से कहा- वंदना तुम मेरे कमरे में अपनी मर्जी से आई हो और यहाँ चुदाई के लिए आई हो. वो दर्द से कराहने लगी और बोली- आपके जीजा का लंड छोटा है और कभी इतनी अन्दर तक नहीं गया.

मैंने उसकी जांघों को तब तक सहलाया, जब तक कि उसने अपनी दोनों टांगें पूरी तरह से खोल न दीं और मुझे उसकी सूती पैंटी के अन्दर उसकी चूत छिपी हुई महसूस नहीं हो गई. तो उसने हंस कर कहा- अरे यार, होली पर हम सब लोग ऐसे ही मस्ती करते हैं.

उसके भाई छोटे थे और पढ़ाई करते थे तो वो अपने भाइयों की देखभाल के लिए उनके साथ ही रुक गयी. मैंने उनको‌ जवाब दिया- आंटी, मम्मी तो अपना कमरा बन्द करके गयी हैं, तो आपको उनके कपड़े तो नहीं मिल पाएंगे. बीवी बोली- जी, शर्मिंदा तो मैं भी हुई थी लेकिन उसे मैंने समझाने की कोशिश की है.

जब मॉम सज-धज कर तैयार होकर बाहर निकलती हैं, तो क्या बच्चे, क्या बूढ़े और क्या जवान … सभी के लंड मेरी मॉम की सेक्सी जवानी को देखकर सलामी देने लगते हैं.

मैं आपको बयां नहीं कर सकता कि उसकी चूत की वो खुशबू मुझे किस कदर मदहोश कर रही थी।उसकी चूत को सहलाते हुए मैं उसकी चूत के आस पास चूमने लगा. कुछ देर बाद मैं भी वहां पहुच गया, तो मैंने भी उसे मुठ मारते देख लिया. आलिम साहब- देखो नगमा जान, समझने की कोशिश करो, मैं तुमको इधर हमेशा के लिए नहीं रख सकता.

मगर थोड़ी देर बाद मेरी चूत में भी खुजली होने लगी तो मैंने सबको चुदाई करने से रोका. मेरे आंसू देखकर वो मुझे प्यार से सहलाने लगा और मेरे गाल पर, माथे पर, होंठों पर किस करने लगा.

बस कुछ एक मिनट में ही मेरे लंड का लावा छूटा और साथ ही साथ माधुरी का बदन भी अकड़ने लगा. पहले तो मॉम मना करने लगीं लेकिन फिर सबने काफी ज़िद की तो मॉम मान गईं. अचानक मेरे जिस्म ने एक तेज झटका लिया, फिर चार-पांच और तेज तेज झटके लिए, मेरी गुच्छी से एक अजीब सा फौआरा निकला और मैं निढाल होकर गिर पड़ी.

नीता अंबानी की नंगी फोटो

उसने कहा- अब क्या किसी मुहूर्त का इन्तजार कर रहे ही … अन्दर पेलो न!मगर मैं शांत था और लंड को सिर्फ चूत की चाशनी में तैर रहा था.

अब जैसे जैसे मैं चूचियों को दबाने लगा, चाची की रफ्तार अचानक से तेज होने लगी और वो आह आह करके लंड पर मस्ती से कूदने लगीं. यह सब देख कर मैं एकदम से उत्तेजित हो गया और उसे देखते हुए मदहोश होने लगा था. उस समय घर मेहमानों से भरा हुआ था और सभी ने समारोह के लिए अच्छे कपड़े पहने हुए थे.

जलालुद्दीन ऐसे ही तेज तेज धक्के मारते रहे और मेरे नीम्बू हर धक्के के साथ उछलते रहे. कुछ देर ऐसा ही चला, फिर मैंने उसके टॉप में हाथ डाला और उसकी पीठ सहलाने लगा. मुसलमानी बीएफजलालुद्दीन ने भी अपने शेरवानी उतार दी और मुझे अपने सीने से लगा लिया.

कॉलेज कैंपस में मेरा हॉस्टल काफी अन्दर था और मेरा रूम भी एकदम आखिरी में था. बाकी की चुदाई कहानी आप लोग अगले भाग में पढ़ें कि किस तरह से सुरेंद्र जी ने मेरी चुदाई की और वो जितने दिन मेरे साथ रहे.

बेडरूम में उन्होंने मुझे खड़ा किया और तुरंत ही ब्रा की स्ट्रिप खोल दी. चाची अन्दर जाने लगीं और मैं पीछे से उनकी ठुमकती गांड को निहारने लगा. वो इठला कर बोली- मैं यहां रुक गयी तो मेरी इज़्जत ख़तरे में आ सकती है.

दूसरी तरफ साक्षी की गांड भी सिर्फ एक ही बार चुदी थी तो वो इतना ज्यादा खुली नहीं थी. अब मैं जा रहा हूँ और आप चुदाई शो का आनंद लीजिये।प्रिय पाठको, आपको मेरी वाइफ चीटिंग सेक्स कहानी अवश्य रुचिकर लग रही होगी. शर्म के मारे मेरी इतनी हिम्मत भी नहीं पड़ रही थी कि आँखें उठाकर अपने सरताज कि तरफ देख लूँ.

आपा अपने घुटने पर बैठ गई और उसने जीजू का लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और बड़े प्यार से चूम लिया.

मैंने उससे कहा कि तुम्हें हाथ में पकड़ने में मजा नहीं आ रहा क्या?उसने नाटक किया कि मैं चाचा चाची को सारी बात बता दूंगी. चाची ने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और बोलीं- वाह आज मेरी क्या मस्त चुदाई की तूने … मुझे बहुत मज़ा आया.

मम्मी की चूत के लबों को खोलकर अपने लंड का सुपारा मम्मी के चूत के मुख पर सैट करके मैं आगे की ओर झुका और मम्मी की दाहिनी चूची अपने मुँह में पकड़कर चूसने लगा. यूं तो हर किसी के सेक्स करने का अपना तरीका और अपना अपना अंदाज होता है, पर मुझे पहले फोरप्ले, उसके बाद धीरे धीरे धीमी गति से चुदाई, बाद में तेज और वहिशयाना तरीके से चुदाई करने में मज़ा आता है. फिर अगले ही पल मैंने सोचा कि मामी को जब ये बात पता थी तो उन्होंने अब तक मामा से क्यों नहीं कही.

इस समय मेरी सारी गोटियां अपने से उसके पाले के फासले में महफूज़ जगहों पर बैठा दीं. ये सब इतनी जल्दी शायद इसलिए हो गया था क्योंकि एक तो साक्षी छह महीने बाद चुदाई कर रही थी और दूसरी तरफ मैं उसकी चूची को जोर जोर से चूस रहा था. फिर मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ, तब मैं खड़ा हुआ और चाची की छाती पर जाकर बैठ गया.

अंग्रेजों की हिंदी बीएफ नीना बहुत सुन्दर तो नहीं थी, गेहुंआ रंग, स्वस्थ शरीर, आकर्षक मध्यम आकर के चूचे, भरा बदन, गोल नितम्ब वाली औरत थी. फिर मैं अपना हाथ उसकी पैंटी के ऊपर ले गया, पैंटी के ऊपर से ही उसकी बुर को दबाने लगा.

मुंबई कॉलेज की सेक्सी वीडियो

तूने उसे मेरी गांड मारने का बताया था क्या?”हां मैंने बीवी को बताया था कि हम लोग हॉस्टल में रवि की गांड मारते थे, रवि को और हमें बहुत मजा आता था. मेरे घर में मैं, मेरा बड़ा भाई और मामी पापा, चाचा चाची और उनकी लड़की रहते हैं. मेरा लंड उसकी जांघों के बीच उसकी चूत को सहला रहा था और हम दोनों किस कर रहे थे.

मैं ये भूल गया था कि अब तक मैंने उसे पटाया भी नहीं … और न ही हमारी इतनी अच्छे से बात हुई थी. लेकिन मैंने उसके दोनों हाथों को मोड़ कर उसके पीठ के पीछे किया और अपने बदन को उसके ऊपर चिपका दिया. बीएफ चुदाई वाली देसीतब चाची ने बहाना बनाया या सच में कहा- मेरा अभी कुछ दिन पहले ही पीरियड आया है, यदि तुमने नशे में कुछ कर दिया, तो मैं प्रेगनेंट हो जाऊंगी.

मैंने चाची से कहा- चाचा से तुम्हारी गर्मी नहीं निकाली गई है, अभी भी तुम्हारा जिस्म आग उगल रहा है.

ऐसे मैं एक दिन मैंने रोते रोते अपनी आपा से कह दिया कि मुझे शादी नहीं करनी. हम लोग गांव वालों की मदद करते, फल सब्जी उगाने के आधुनिक तरीके गांव वालों को भी सिखाते.

मैंने चाची को फिर से बेड पर ही कुतिया बना दिया और पीछे से चूत में धीरे धीरे पूरा लंड घुसा दिया. मुझे उसकी कोमल कोमल चूचियां चूसने में ही इतना मज़ा आ रहा था कि उन्हें छोड़ने का मन ही नहीं कर रहा था. साथ ही मम्मी पतली हैं लेकिन बहुत गोरी है लेकिन बहन जी टाइप बनकर रहती है।दरवाज़ा बंद करने के बाद मम्मी भी मैडम के पास आकर खड़ी हो गयी तो मैडम ने उनसे कहा- क्या सजा दूँ इसको? बताओ?मम्मी बोली- आप देख लो.

आंटी एक बार रस छोड़ चुकी थीं लेकिन मेरे कपड़े अभी नहीं उतरे थे और आंटी के हाथ में लंड नहीं आया था इसलिए मेरे लंड ने हार नहीं मानी थी.

वह इस तरीके से सोई हुई एकदम मासूम हिरनी लग रही थी मेरा मन तो कर रहा था कि मैं तुरंत जाकर उस पर चढ़ जाऊं!लेकिन फिर मुझे लगा कि रम्भा कहां है।मैंने देखा कि बाथरूम की रोशनी जली हुई है. उसने मेरे कान में कहा- मैं भी आपसे चुदना चाहती थी, पर मैं चाचा चाची के सामने कह नहीं पाई. वो बिस्तर पर इतना मस्त खेलने लगी थी कि कभी कभी तो मुझे खुद भी लगने लगता था कि ये साली मुझे पूरा खा जाएगी.

बीएफ सेक्सी देखनी हैमैं अपना लंड तुम्हारी गांड के छेद में घुसते और गांड को चोदते हुए हुए देखना चाहता हूँ. फ़िर मैंने जैसे ही उसकी साड़ी को दोनों हाथों से पकड़कर उसकी कमर तक उठाया, वो झटककर मुझसे दूर हो गई.

कनाडा सेक्सी वीडियो

फौजी बाबू शादी और सुहागरात के अगले ही दिन ड्यूटी पर चले गए थे और करीब एक साल से छुट्टी न मिलने से घर नहीं आ सके थे. समीर ने भी मेरी चूत का पूरा पानी पी लिया और चूत को चाट कर अच्छे से साफ कर दिया. चाची- तू भी हिलाता था क्या मुझे देखकर?मैं- हां चाची, मेरा मन तो कबसे आपकी लेने का था, पर आप कुछ भाव नहीं देती थीं, तो मैं रात को आपकी पैंटी और सलवार लेकर हिला लेता था और अपना माल उसमें डाल देता था.

’तभी मैंने उंगलियों से उसकी चूत की फांकों को फैलाया और लंड को टिकाकर अग्र भाग अन्दर डाला. मैंने पास पड़ी अपनी पैंट की जेब से तेल की बॉटल निकाली और साक्षी की गांड के छेद पर तेल की शीशी का मुँह लगा दिया. वो मजा लेते हुए कह रही थीं- बेटा और चोद … फाड़ दे अपनी चाची की गांड … आंह और चोद मेरे बेटे.

उसने मुझसे बात करने की भी काफ़ी कोशिश की पर मैं उस पर काफी गुस्सा था तो मैं बात नहीं कर रहा था. मैंने महसूस किया कि उस बात से मैं और खाला, हम दोनों ही बहुत खुश थे. मैं- तो क्या मतलब था?डिंपी- तुमने तो ऐसे चोदा जैसे ये बस आखिरी बार ही हो … और मैं कल चली जाऊंगी.

उसकी कमीज़ उसके घुटनों के थोड़ा ऊपर तक ही थी और उसने नीचे कुछ भी नहीं पहना था. पिछले बीस पचीस दिन से जलालुद्दीन मेरे साथ ही रह रहे थे तो मुझे पता भी नहीं चला कि चुदाई का रिश्ता कब मुहब्बत में बदल गया.

यह सुनकर मेरी आपा हंस पड़ीं और मेरे सर पर हाथ फेरते हुए बोलीं- नहीं रे पगली, शादी के बाद तो मियां बीवी में यह सब होता ही है.

उन्होंने लपक कर मेरे लंड को मुँह में ले लिया और चूसना चालू कर दिया. देहाती चाची सेक्स वीडियोमेरी नीचे को नजर गई तो कोमल भाभी की हाई हील्स से बाहर झांकती हुई गुलाबी एड़ियों को देखकर मैं सोचने लगा था यदि इसकी एड़ियां इतनी गुलाबी हैं, तो चूत कितनी गुलाबी होगी. एक्स एक्स एक्स सेक्स डॉट कॉम हिंदीदोस्त की चाची की शादी कुछ पहले हो गई थी और मेरी मामी की शादी अभी दो महीने पहले ही हुई थी. मैंने देखा कि साक्षी नीचे बैठी थी, वो हाथ में एक जग लेकर पानी से अपनी चूत और गांड को धो रही थी.

फिर वो धीरे धीरे प्यार से चुदाई करता रहा, मुझे भी गांड मरवाने में, बॉटम सेक्स में मजा आने लगा.

फिर उन्होंने दोनों हाथों से मेरा घूँघट उठाया और मेरा चेहरा देखा तो देखते ही रह गए. अब मैं जा रहा हूँ और आप चुदाई शो का आनंद लीजिये।प्रिय पाठको, आपको मेरी वाइफ चीटिंग सेक्स कहानी अवश्य रुचिकर लग रही होगी. एकदम गोरी-चिट्टी निर्वस्त्र भाभी मेरे सामने पानी में लेटी ऐसी लग रही थीं जैसे आसमान से कोई जलपरी या मत्स्य सुन्दरी मुझे प्रणय का वरदान देने उतर आई हो.

उसने बातों ही बातों में मुझे यह भी बताया कि उसका पति यानि मेरा साला भी किसी काम से दिल्ली गया हुआ है और वह भी 2 दिन बाद ही आएगा. उसने अपनी आंखें बंद की हुई थीं, वो आज कोई हूर की परी से कम नहीं दिख रही थी. मैं किसी मर्द की औरत बनने वाली थी जो मेरे साथ सुहागरात मनाने वाला था.

हिंदी सिस्टर सेक्स

मॉम भी सिसकारियां लेते हुए नींद में ही बोल रही थीं- आह आह म्म उफ्फ्फ्फ़ आह राहुल आह आह राहुल. मैंने भी निखिल के बदन के दोनों ओर अपनी बांहें लपेट ली।हम दोनों एक दूसरे से लिपटे हुए थे और मुझे भी अच्छा लगने लगा. यह बात उन दिनों की है, जब मैं 20 साल का हुआ ही था और लॉकडाउन लगा हुआ था.

अब जलालुद्दीन साहब ने अपना लण्ड एक बार फिर बाहर निकाला तो फिर अंदर नहीं डाला.

लेकिन कुछ दिनों के बाद एक फैमिली वहां पर आई थी।वे काफी अच्छे लोग लग रहे थे.

कुछ देर बाद मैं फिर से नीचे आया और चाची की जांघों को फैला कर चुदाई की पोजीशन में आ गया. गर्मी के दिनों में मैं रात को ऊपर आ जाता था, जहां वो सोयी हुई होती थी. भाभी की सेक्स फोटोदोस्तो, कभी अनुभव करना कि जिस वक्त लंड चूत में हो, उसी वक्त जीभ आपस में एक दूसरे से लड़ रही हों, तो कितना ज्यादा जोश बढ़ता है.

मैंने अपने लंड को उसकी गांड में डाल दिया और अपनी कमर को ऊपर नीचे करके उसे चोदने लगा. मैंने पूछा- बर्थडे सेक्स का मजा आया?शबाना मुस्कुरा कर बोली- बहुत … और आपको?मैंने कहा- मुझे भी बहुत आनन्द आया. मैंने देखा तो वहां कोने में पहली मंजिल पर माधुरी की शॉप का बोर्ड दिख गया.

जैसा कि आप‌ लोग जानते ही होंगे कि शादी ना होने पर भी आपके शरीर की यौन आवश्यकताएं तो पूरी करनी ही पड़ती हैं और जब वो ना पूरी ना हो रही हों, तो खुद से ही उन्हें शांत करना पड़ता है. वो खुद भी पूरा नंगा होकर मुझसे लिपट गया और मुझे किस करते वक़्त मेरे मम्मे अपने छाती से रगड़ने लगा.

सच में मुझे ऐसा लग रहा था मानो छोटू का लंड मेरा गाला फाड़ते हुए मेरे पेट तक चला जाएगा.

मैं महसूस कर सकती थी कि सारा का सारा लंड मेरे अंदर समा चुका है और मेरी बच्चेदानी से जा टकराया है. एक दिन चाची ने मुझसे कहा- सागर, मुझे बाईक से क्लिनिक पर छोड़ आ!चाची एक महिला डाक्टर के घर पर नर्स का काम किया करती थीं. आगे की सेक्स कहानी अगले भाग में लिखूँगी कि कैसे मैं भैया की शादी के फंक्शन में गई और शादी वाले दिन तक उनसे चुदाई करवाई.

गुजराती क्सक्सक्स मेरा और समीर का रिश्ता दो साल से था, पर शादी हुई … तब से मैंने समीर से सारे रिश्ते तोड़ दिए थे. फिर अगले छह दिनों तक मैंने स्नेहा कीबुर का मलीदाबना दिया; वो मेरे लंड की रंडी बन गई थी.

वह लड़का बोला- घर क्यों? मैं तो टैक्सी बुक कर रहा हूँ, सुबह तक गोवा पहुँच जाऊंगा और अपने दोस्तों से मिल लूंगा. चाचा का नाम रंजन, उम्र 45 साल, चाची संतोषी उम्र 39 और उनकी बेटी उम्र 19 साल की थी. उन्होंने मेरे दोनों पैर खींच कर चौड़े किये और अपना लंड मेरी चूत पर घिसने लगे.

हिंदी हीरोइन सेक्सी वीडियो

माधुरी ने पहले मेरे लंड के टोपे को अपनी जीभ से चाटा, फिर मेरे लंड की गोटियों को भी अपने मुँह में लेकर चूस चूस कर खींचने लगी. हालांकि मेरी उम्र लगभग 32 साल हो गयी है लेकिन कुछ मजबूरियों और मेरी खुद की आर्थिक उथल-पुथल के चलते अभी तक शादी की नौबत नहीं आई है. मैं देखने में उतना ठीक-ठाक हूँ, जितना किसी लड़की को एक लड़के में चाहिए होता है.

सबसे पहले मैंने बड़े पैकेट को खोला, जिसमें एक बेहद खूबसूरत और महंगी साड़ी थी. अब मैंने उसके गले में बांहें डाल लीं और वो मेरी चूचियों को दबाता रहा.

उन्हें अपने आस पास की कोई सुध ही नहीं थी कि उन्हें कमरे की दीवार के छेद से कोई देख रहा है.

ऐसे ही लगभग 2 महीने बीत गए लेकिन अभी तक ऐसा कुछ भी नहीं हुआ जिससे मैं उससे कुछ कह पाता. साक्षी के बदन से दूध की खुशबू से मेरा लंड और कड़क हो गया और मेरी पैंट में ही उसमें से पानी आना शुरू हो गया था. मैंने गांड के छेद पर लगा तेल मलते हुए अपनी एक उंगली गांड के अन्दर घुसाई, तो साक्षी की आउच की आवाज आई.

‘अच्छा ये बताइए कि ये चलेगा कैसे?’मैं फोन हाथ में लेकर उसके फंक्शन समझने लगा, थोड़ी सी कसरत के बाद फोन चालू हो गया. कुछ देर बाद भाभी को चुदाई में मजा आने लगा और वो कमर उछाल उछाल कर मेरा साथ देने लगीं. फिर मैंने थोड़ा साहस दिखाते हुए और मुस्कुराते हुए जवाब दिया- थोड़ी? अरे आंटी आप तो बहुत सुन्दर हो.

मैंने उससे पूछा कि मैं अपना माल कहां निकालूं?उसने बोला- चूत में ही निकाल दो.

अंग्रेजों की हिंदी बीएफ: इससे मेरी हिम्मत बढ़ गई, मैंने अपने हाथ से उनके ब्लाउज में से एक बूब को बाहर निकाल लिया. ये बात सुन कर मैं बहुत ही ख़ुश हो गया और मैंने उनसे पूछा कि क्या मैं आपके घर आ सकता हूँ?उन्होंने बोला- आ तो सकते हो, पर ये रिस्क वाला काम होगा.

मैं भी अपनी चाची को जमकर चोद रहा था और थप्प थप्प की आवाज के साथ अब मेरी सिसकारियां निकलने लगी थीं. वो बोली- इट्स ओके, पर तुम मेरा नाम कैसे जानते हो? मैं तो तुम्हें नहीं जानती और ना तुमसे पहले कभी मिली?मैंने कहा- मैं तो आपको जानता हूं. उस कच्ची उम्र में एक दिन जब मैं सुबह सो कर उठी तो यह देख कर बुरी तरह घबरा गई कि मेरी कच्छी खून से भरी हुई है और मेरे बिस्तर पर भी खून फैला है.

पर किसी के जग जाने के डर से रात में एक बार से ज्यादा चुदाई नहीं हो पाती थी.

उसको जलालुद्दीन आलिम इसलिए कहा जाता था क्यूंकि वो जिन्न पकड़ने में माहिर था. फिर थोड़ी देर बाद भाभी मेरा फिर से साथ देने लगीं और अपनी गांड उछाल उछाल कर मुझे उत्तेजित करने लगीं. मैं- अब दोनों चार हाथ पांव पर चलकर पलंग तक जाओ और पलंग पर पीठ के बल हाथ पांव फैलाकर बाजू बाजू लेट जाओ.