बीएफ सेक्सी पिक्चर ओपन

छवि स्रोत,सनी लियोन वीडियो सेक्सी हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

जुनून सेक्सी: बीएफ सेक्सी पिक्चर ओपन, भाभी के नंगे जिस्म से लिपटे होने के कारण मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा.

जयपुर राजस्थानी सेक्सी वीडियो

उसने बोला- दीदी, मेरे बाथरूम में पानी नहीं आ रहा … मैं तुम्हारे बाथरूम में नहा लूं, मुझे कॉलेज के लिए लेट हो रहा है. अमेरिका सेक्सी डांसहालांकि मैं पहले, पहल नहीं करना चाहता था कि शायद मैं ग़लत न होऊं और बेकार में दोस्त के घर पर बदनामी हो जाए.

इसलिए वो इतनी जल्दी अपने हथियार डाल कर मेरी हरकतों का साथ देने लगी. सपना चौधरी की सेक्सी वीडियो बताइएड्रिंक्स का एक दौर जल्दी ही ख़त्म हो गया तो सभी उठे टॉप अप करने के लिए.

अगर तुम में हिम्मत है और तुम उसको बहला फुसला कर ले सकती हो, ले लो मैं एकदम चुप रहूंगी.बीएफ सेक्सी पिक्चर ओपन: उसकी गति पहले से ज्यादा तेज हो गई थी और मेरे चूचे मेरी छाती पर झूलते हुए यहाँ-वहाँ डोलने लगे.

इन्हीं सेक्स कहानियों से प्रेरित होकर मेरी झिझक खत्म हुई और आज मैं अपने साथ हुई सच्ची घटना को भी एक सेक्स कहानी के रूप में बता रहा हूँ.कभी कभी फ्रॉक भी डाल लेतीं पर स्विमिंग पूल में सभी टू पीस बिकनी में ही उतरती थीं.

देसी देहाती सेक्सी वीडियो हिंदी - बीएफ सेक्सी पिक्चर ओपन

अमूमन सोसाइटी में पूल फ्लैट्स के पास होते हैं पर यहाँ पूल सोसाइटी के क्लब के पीछे की ओर बना था, जहां कुछ एकांत सा रहता है, शायद इसीलिए सात बजे के बाद लोग अपने बच्चों को नहीं भेजते थे.एक बार हमने होटल के रूम में फव्वारे के नीचे भी चुदाई का मजा किया, जो अपने आप में बहुत ही अच्छा अनुभव था.

मैंने ख्यालों में काजल के चूचों को चूसना शुरू कर दिया और मेरे लंड पर मेरे हाथ की गति तेज होना चाहती थी. बीएफ सेक्सी पिक्चर ओपन नमस्ते दोस्तो, मैं प्रतिभा अपनी एक नई रियल सेक्स कहानी लेकर आई हूँ.

शादी हुयी थी, लेकिन नयी नयी नौकरी लगी है, इसलिए फैमिली को साथ नहीं ला सका.

बीएफ सेक्सी पिक्चर ओपन?

थोड़ा नारियल तेल मैंने मेरे लंड पर लगा कर उनकी गांड में डालने की कोशिश की. सारिका ने राहुल के बालों को पकड़ कर उसे ऊपर खींच तो राहुल के मुख में उसका एक निप्पल आ गया. काली गहरी आंखें, लम्बी नाक और हल्के गुलाबी होंठ। कभी उन पर लिपस्टिक लगा लेती थी तो किसी मॉडल से कम नहीं लगती थी.

मुझे बहुत मजा आ रहा था। वह अब मेरे मुँह को जल्दी-जल्दी चोदने लगा और अपना सारा वीर्य मेरे मुँह में ही छोड़ दिया. वहीं मेरी मुलाक़ात उससे हुई जो मेरे दिल में, मेरे दिमाग में, मेरे नसों में इस तरह समाई कि मैं बस उसका ही होकर रह गया।बात दिसम्बर के सर्दियों की है, जब मैं ऑफिस से निकल कर अपने कैब का इंतज़ार कर रहा था और साथ ही साथ धुएँ को अपना साथी बनाए हुए था. अब वो मस्ती से बोले जा रही थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… जोर से करर न … जल्दी जल्दी कर … भैनचोद और तेज करर … फाड़ दे मेरी चुत को … आह … इसका भोसड़ा बना दे … और तेज चोद … मेरा होने वाला है … माँ के लौड़े थोड़ा दम्म लगा के मार.

हमारी साँसें बहुत तेज चल रही थी और मुझे बहुत दिन के बाद सेक्स करने के लिए मिला था तो मैं भी बहुत खुश थी. पंकज ने फुर्ती से अपने कपड़े उतारे और राहुल से भी कपड़े उतारने को कहा. बेटी ने जैसे ही बाथरूम का दरवाजा बंद किया तो मेरे पति मेरे चूचों पर टूट पड़े वो मैक्सी के ऊपर से ही मेरे मोटे चूचों को भींचने लगे.

उधर धीरज और सीमा … सीमा के दिमाग में तो ग्रुप सेक्स चढ़ा था तो वो तो बस इन्तजार ही कर रही थी कि कब धीरज बेकाबू हो… उसने धीरज को पागल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी. मेरा हाथ उसकी चूत को सहलाने लगा और मेरे होंठ उसके चूचों पर जा धंसे.

फिर उसने सागर की तरफ देखा और बोली- अब तुम क्यों शर्मा रहे हो … दिखाओ ना पूनम की पसंद कैसी है?सागर ने शिवानी का मुँह देखा और फिर मेरे को देखने लगा.

वो अपने होंठों को मेरे होंठों पर सटा कर पूरे जोर से मुझे चूसने लगे.

उसने नायरा को चिपकाया और उसके कान में पूछा कि क्या वो उसके साथ कम्फर्ट नहीं फील कर रही?नायरा अब तक चारों ओर का नजारा भांप चुकी थी कि सब ओर चूमा चाटी हो रही है. उसने कहा- हाँ तो मसलो ना … रोका किसने है।उसके इतना कहते ही मैं उस पर टूट पड़ा और अभी तक उसने जो ब्रा और पैंटी पहनी थी, उसे उसके शरीर से अलग करके उसके ऊपर छा गया और उसके चूचियों को मसलने लगा. मैं- पता है … तुम लंड को चूसो ना चाची, मेरा लंड गीला हो जाएगा और आसानी से अन्दर घुस जाएगा.

मैं अपनी खाट पर लेटा हुआ था कि मेरे फ़ोन पर मेरी बहन की मिस कॉल आयी. तुम अपने हाथ से ठीक तरह से मालिश नहीं कर पा रही होगी इसलिए दर्द नहीं जा रहा. मैंने तकिये के नीचे रखा कॉण्डोम निकाला और डॉली के हाथ दिया तो बोली- मैं नहीं चढ़ा पाऊंगी.

मेरी क्लास में 10-15 लड़कियां थीं, लेकिन मैं किसी से बात नहीं करता था, क्योंकि लड़कियों से बात करने में मेरी गांड फटती थी.

करण को देख कर राहुल ने उसको हैल्लो किया और पास आकर वो दोनों बातें करने लगे. गाउन के अंदर लटक रहे नर्म और गद्देदार चूचे दबाते हुए मैं उसकी गांड पर अपने लंड की रगड़ दे रहा था. सीमा ने नीचे घुटनों पर बैठकर मुश्ताक का लंड मुख में ले लिया और पूरी ताकत से उसे चूसने लगी.

उसने मेरे पेंट को उतार दिया और फिर अपनी जुबान से धीरे धीरे मेरे लंड को चाटने लगा. मैंने अपना मुँह चुत से हटा लिया और उनके होंठों को होंठों में दबा कर चुचों को दबाने लगा. इसी जल्दबाजी के चक्कर में ना मोहिनी को होश था, ना हमें कि वो कौन से वॉशरूम में गई हैं.

फिगर उसका 34-30-36 था। गांड भी बहुत मस्त थी उस चालू चीज की।शक्ल से तो वो सती सावित्री दिखती थी लेकिन अंदर से पक्की वाली रांड थी.

उसने बोला- दीदी, मेरे बाथरूम में पानी नहीं आ रहा … मैं तुम्हारे बाथरूम में नहा लूं, मुझे कॉलेज के लिए लेट हो रहा है. जब मैंने शुरू में उससे बात करना चालू किया तो हम दोनों में प्यार हो गया.

बीएफ सेक्सी पिक्चर ओपन कुछ देर के बाद यहां-वहां की बातें करने के बाद उसने कहा- क्या तुम्हें उस दिन वाली वीडियो देखनी है?मैंने अन्जान बनते हुए कहा- कौन सी वीडियो?वो बोला- पोर्न वीडियो. हम लोगों ने उस रात चार बार चुदाई की, जिसमें मैंने देसी भाभी की गांड भी मारी.

बीएफ सेक्सी पिक्चर ओपन आंटी ने मेरे लंड को नेहा की चूत पर लगाकर दो-तीन बार लगाया और हटाया. जिन पाठकों को यह कहानी पसंद नहीं आ रही है, जो भद्दे मेल या कमेंट्स कर रहे हैं, वे कृपया इस कहानी को मत पढ़ें.

फिर उन्होंने कुछ देर शांत रहने पर सुनाना शुरू किया- आठ साल पहले की बात है, हम दोनों गांव में घर पर अकेले थे, बच्चे शहर में किराए के घर में थे, जोरदार ठंड का मौसम था.

माधुरी दिक्षित की सेक्सी दिखाओ

उसने डांस करते करते धीरज कि शर्ट के ऊपर के दो बटन खोल कर उसकी चौड़ी चाटी पर अपने लम्बे नेल्स से खरोंचना शुरू कर दिया. इस बार दीदी धीरे से बोल पड़ी- प्रतीक, भाई और बहन के बीच ये सब नहीं होता. लंड चूत में घुसते ही वो मस्त होकर चुदने लगी थी और आहें भरने लगी थी.

जब कभी मुझे भाभी की नाभि दिख जाती है तो मेरा लंड सलामी देने लगता है. मन में जैसे टाइम बम्ब की सुई घूम रही थी, किसी से कुछ कह भी नहीं सकता था. वह एकदम बैठ गई और गिरेबान से उसे पकड़ कर अपनी तरफ खींचती हुई बोली- तो फिर करो ना डॉक्टर बाबू; ऐसे अधूरा इलाज मुझे पसंद नहीं है.

उन्होंने मुझसे पूछ ही लिया- तुम्हारी कोई गर्लफ्रैंड नहीं है क्या?मैंने बोल दिया- नहीं है.

‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ भाभी के मदहोशी में कराहने की आवाज कमरे में गूंज रही थी. वो उठा तो राहुल भी खड़ा हुआ जाने के लिए … तो सारिका बोली- अगर कॉफ़ी नहीं पियोगे तो पैंटी वापिस देनी होगी. चूंकि ये मेरा पहला मौका था, तो मैं खुद को उस दिन दुनिया का सबसे खुशनसीब इंसान समझ रहा था.

मैंने पूछा- ये कहां से लाईं?वो बोली- हॉस्पिटल से आते टाइम हॉस्पिटल के मेडिकल स्टोर से ले लिया था. अब मुझे मालूम हो गया था कि लोहा पूरी तरह से गर्म हो चुका है और उस पर हथौड़ा चला देने का ये बिल्कुल सही वक्त है. नमस्कार दोस्तो, मैं आकाश, दिल से आप सभी का धन्यवाद करता हूँ कि आपने मेरी कहानियों को पसंद किया.

महेश- वाह बहू! कितनी सुशील है तू बेटी … अपने ससुर से ऐसे खुले में चुदाई करवा रही है. मेरे चूचे तन कर पहाड़ी की तरह नुकीले कर दिये थे उसके होंठों के अहसास ने.

एक बार फिर से मैं आप लोगों के लिए अपनी बीवी की चुदाई की कहानी लेकर आया हूं. उसने मेरे पेंट को उतार दिया और फिर अपनी जुबान से धीरे धीरे मेरे लंड को चाटने लगा. लेकिन मैंने उनको मना कर दिया कि मेरे एग्जाम आने वाले हैं और मैं घर पर रहकर ही पढ़ाई करूंगी.

सामने खड़ी हुई लड़की खुद किसी को कह कर अपनी भावनाएं बता रही थी।आंटी बोली- ये तुमको चाहती है, क्या तुम इस बात को जानते हो?मैं- नहीं आंटी, मैंने कभी ऐसा नहीं सोचा।आंटी बोली- जो तुम उस दिन कर रहे थे वो आज मेरे सामने करके दिखाओ.

” नीलम ने अपने ससुर को समझाते हुए कहा।मैं जानता हूँ कि तुम यह सब मुझे दिलासा देने के लिए कह रही हो वरना क्या मेरी इतनी सी बात को तुम नहीं मानती?” महेश ने अपनी बहू की बात को सुनकर बनावटी गुस्सा दिखाया।नीलम को कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या करे, उसका दिमाग ज़ोर से चकरा रहा था।ठीक है पिता जी, मैं तैयार हूँ. इतने में ही मेरी सास कहीं से बीच में आ पड़ी और उस दिन मेरे अरमान सब पानी में बह गए. कभी मुझे उल्टा करके चोदता, कभी मेरी टांगें उठाकर ज़ोर ज़ोर से चुदाई करने लगता.

वो दर्द से तड़फने लगी और बोली- उई माँ … मैं मर गई … इसे जल्दी बाहर निकालो, मुझे बहुत दर्द हो रहा है. उनके लिए नाश्ते में पोहे बना देना और लंच का तुम्हें बता ही दिया है। तू भी खा पी लेना और हाँ … मिर्चें कम डालना.

अब वह मेरे सामने पूरी निर्वस्त्र खड़ी थी और मैं भगवान की बनायी इस क़यामत का दीदार और भगवान् का शुक्रिया अदा कर रहा था. मैं नियमित कसरत करता रहता हूं जिससे मेरे शरीर पर कहीं पर भी अतिरिक्त चर्बी जमा नहीं है. मैंने आंटी की पैंटी की तरफ हाथ बढ़ाया और पैंटी को खींच कर एक तरफ कर दिया तो आंटी की चूत के दर्शन मुझे हो गये.

चाचा चाची की सेक्सी फिल्म

और हमारे क्लास टीचर हम सबको इंटरनल मार्क्स की शीट पर साइन करवा रहे थे.

परवीन- देखो हम जो कर रहे हैं, ये एक बड़ी गलती है, इससे हमें बहुत प्रॉब्लम आएगी. जब भैया ने भाभी के मम्मों पर हाथ रखा, तो वो उनके हाथों में भी आ नहीं पा रहे थे. मैं उससे चुदूं या ना चुदूं … अब इस बारे में हम एक दूसरे से कभी भी कोई बात नहीं करेंगे.

हम स्टेशन गए, अभी ट्रेन आने को 20 मिनट बाकी थे, तो आनन्द और ज्योति को अकेले बातचीत करने को छोड़ दिया और उनसे दूर आकर खड़ा हो गया. मैं अब विनय के हाथों का मजा अपने दूधों पर लेते हुए पोर्न वीडियो देखने में खो सी गई. देसी वीडियो सेक्सी ब्लूमैंने बोला- तुम अकेली कैसे आओगी?उसने बताया- उसकी सहेली मेरे साथ आएगी, वो हल्दी वाले दिन से ही मेरे साथ ही सोती है.

यह वही पैंटी थी जिसे मैंने कई बार बाथरूम में सूंघा और लंड पे रगड़ा था।आखिर पैंटी को भाभी के शरीर से जुदा होना पड़ा। इस दौरान मेरा तौलिया जाने कब मेरा साथ छोड़कर फर्श पे पड़ा था. अब चाहे कुछ भी हो जाये अब मैं तुम्हारे बच्चे को पैदा करना चाहती हूँ.

भाभी बोलीं- आज रुकना नहीं, जितना सब्र किया है, सारा पूरा कर लो, कोई कमी ना रह जाए, तुम्हें पूरी छूट है. उसकी इस तरह की बोली पर मैं भी खुश हो गया और मैंने जल्दी ही आने को बोला- ओके अभी आता हूँ. उधर टीवी पर सनी लीयोनि तेज़ी से चुद रही थी इधर रुचि भी अब मदहोश हो रही थी.

अंजू मेरे लंड को तन्नाते हुए देख कर बोली- चलो लंड खड़ा हो गया, अब इसे मेरी चूत डाल दो. सबका अपना निजी जीवन है, किसे किसके लिए समय है, जो किसी और के बारे में सोचे. राहुल ज्यादा नहीं पीता था तो उसने एक छोटा सा पेग केवल साथ देने के लिए ले लिया और रजनी डिनर लगाने चल दी.

फिर प्रिंस के सामने ही दिलावर मेरी चूत पर होंठ रख कर बोला- दारू के बाद मुँह करारा हो गया.

शाम को बिना शर्म किए साइकिल स्टैंड की तरफ जाकर विशाल सर से मिलती और खूब चुम्मा चाटी करवाती. ” कहते हुए नीलम की साँसें ज़ोर से चल रही थीं। महेश के हाथ का स्पर्श नीलम को अब भी अपनी कमर और जांघों पर पर महसूस हो रहा था।हाँ मुझे याद है और मैं तुम्हारी मर्ज़ी के ख़िलाफ तुम्हें हाथ भी नहीं लगाऊँगा, बस मैंने तुम्हें यहाँ पर लिटाने के लिए ही अपने हाथ का इस्तेमाल किया क्योंकि मैं तुम्हारे सारे जिस्म को अच्छी तरह से देखकर अपनी आँखों में समेटना चाहता हूं.

मैंने मजाक में स्मायरा से कहा- आपको मेरे साथ डर तो नहीं लग रहा?वो बोली- मुझे आप मत बोला करो. फोटोज विदेशी दौरों, पहाड़ों और समुद्री तटों की थी और सभी फोटोज में वो बहुत उत्तेजक कामुक लग रही थी. मैंने देखा कि अंकल अभी सिर्फ़ बरमूदा में थे, उन्होंने ऊपर कुछ नहीं पहना था.

दिल्ली से आने के बाद जैसे ही मैं ऑफिस पहुंचा, तो उस वक़्त मेरे और उसके सिवा कोई नहीं था. ” ज्योति ने अपनी नाइटी उतारने में अपने भैया की मदद करते हुए कहा।बहन आप बेहद ख़ूबसूरत हो. मैंने उससे कहा- श्रेया मैं निकलने वाला हूं … कहां निकालूं?तो वो बोली- जहां तेरी मर्ज़ी हो, निकाल ले अपना पानी.

बीएफ सेक्सी पिक्चर ओपन फिर सर ने मुझे सीधा लेटा दिया … और मेरे दोनों पैर ऊपर करके मेरी चूत को चाटने लगे. मैं सोचता हूँ कि दिल्ली की औरत हो या लड़की … सेक्स के विषय में बिल्कुल नहीं शरमाती.

फुल सेक्सी मूवीस एचडी

मैंने उसे चोदते हुए कहा- आह … तुमने अपना सब कुछ तो दे दिया … अब क्या बाकी रह गया. एक रात मैं बाज़ार से आ रहा था, तभी मैंने देखा कि अर्चना आंटी बहुत भारी सामान उठा कर पैदल चली जा रही थीं. जब वो बार बार सामने से आती जाती, तो उसकी पायल की आवाज मेरा ध्यान खींच लेती थी.

”और फिर गौरी ने मेरी आँखों और चहरे पर पानी के थोड़े छींटे और डाले।मेरा मन तो कर रहा था काश! गौरी मेरे चहरे पर इसी तरह अपनी नाजुक हथेली और अँगुलियों को फिराती रहे और मैं अभिभूत हुआ इसी तरह उसकी नाजुकी को महसूस करता रहूँ।लाओ आपते हाथ भी धो देती हूँ. उन्होंने बहुत ज़ोर लगाया, तो मैंने बोल दिया- अगर गांड में डालने दो, तो वहां जल्दी निकल जाएगा. सेक्सी मासेवह इतनी उत्तेजित हो गयी थी की अपने चूतड़ पीछे की ओर उचका उचका के अपने पापा का लंड अपनी चूत में ले रही थी।मुकुल राय- परीशा मेरी जान, तुम्हारी मम्मी को चोद कर भी आज तक इतना मज़ा नहीं आया था.

आज शॉवर से गिर रही बूंदों की छुअन गर्म जिस्म पर बाकी दिनों की अपेक्षा ज्यादा ठंडी महसूस हो रही थी.

लेकिन मुझे कोई शिकायत भी नहीं है क्योंकि उस कहानी को आप लोगों ने बहुत प्यार दिया. मैंने आंटी को बेड पर लिटा दिया और मैं उनके ऊपर आकर उनको किस करने लगा.

मैंने कहा- हो सकता है, पार्क में ही देखा होगा … क्योंकि मैं यहां रोज़ आता हूं. एक जोर का झटका देकर मैंने पूरा का पूरा लंड चाची की गांड में उतार दिया तो चाची चीख पड़ी. फिर दो मिनट के बाद मेरे लंड ने भी अपना लावा आंटी की चूत में निकाल दिया.

सीमा ने बताया कि कल उसने और अंकित ने एक पोर्न मूवी देखू जिसमें इसे ही 4-5 जोड़े मिलकर बोतल गेम खेलते हैं जिसमें एक बोतल नीचे रख कर घुमाई जाती है.

मैंने आंटी के निप्पलों की तरफ मुंह बढ़ाया तो उन्होंने मुझे रोक लिया. मेरी सास बोलीं- कोई बात नहीं बेटा, ये मूड बनाएंगे … तो आज हम भी इनका साथ दे देते हैं. अब तक मैं अपने पड़ोसी विवान भैया के साथ बहुत बार अपने घर में सेक्स कर चुकी हूँ.

पंजाबी सेक्सी लावाहंसते हंसते बोतल फिर घूमी और रुकी नीता के सामने … नीता जोर से बोली- कमीनियो, अब मैं नहीं उतारने वाली … मैंने पहले ही बोल दिया था. हमारी सांसों के साथ साथ खिलखिलाने और मीठी सिसकारियों की आवाजें आने लगीं.

इंडियन गर्ल सेक्सी वीडियो हिंदी में

फिर वो बाथरूम गई और हाथ धोकर जैसे ही वापस आई, मैंने उसे गोद में उठाया और बेडरूम में ले जाकर उसे बिस्तर पर लिटा दिया. मैं उल्टी पेट के बल लेटी हुई थी जिससे उसको मेरी उभरी हुई गांड दिखी और वह पजामे के ऊपर से ही बिल्कुल आराम से मेरी गांड दबाने लगा. वो मान गई।मैंने अपनी कार उनकी पार्किंग में लगाई और भाई की पल्सर लेकर मार्किट जाने लगे। अब भाई की गाड़ी और बीवी दोनों मेरे पास थे।मुझे थोड़ा संकोच लग रहा था पर भाभी मेरे पीछे दोनों पैर डाल के बैठ गई। मैं बहुत खुश था। लेना तो कुछ था नहीं … ऐसे ही टाइमपास कर रहे थे हम लोग बाजार में घूमते फिरते।इतने में बारिश का मौसम हो गया और हम लोगों ने घर लौटना ही ठीक समझा.

रात को 2 बजे के करीब मेरी आंख खुली तो मैंने देखा कि मेरा हाथ प्रिया की जांघों को बीच में दबा हुआ है. उसके बाद लगभग एक महीने के बाद मेरा जन्मदिन था तो हम लोगों ने मेरे जन्म दिन की पार्टी रखने का प्लान किया. मैंने वापस मुड़ कर देखा तो उसकी छाती पर से उसका दुपट्टा उतर चुका था और केवल एक ही कंधे पर लटक रहा था.

हम उस दिन करीब 4 बजे चाय पीने गए और फिर शाम को अपने अपने घर चले गए. मैं उसके स्तनों को मुंह में लेकर चूसते हुए उसकी योनि को चोद रहा था. खाने की टेबल पर जाकर मैंने रुचि की तरफ देखा तो उसने हाफ पैंट पहनी हुई थी.

कहानी आपको कैसी लगी, आप इसके बारे में कमेन्ट करें और बतायें कि क्या मेरे साथ सही हो रहा था?[emailprotected]. पहले तो उससे सामान्य बातें होती थीं … फिर हम दोनों धीरे धीरे खुलने लगे.

आंटी गुस्सा होकर मुझे और चाची को गाली देने लगीं- साले मादरचोद, साली रंडी.

” सरिता ने महेश को अपने ऊपर से हटाते हुए कहा।क्या हुआ जानेमन?” महेश ने सरिता के ऊपर से हटते हुए कहा।कुछ तो अपनी उम्र की शर्म करो, मुझसे अब यह सब नहीं होता. मराठी सेक्सी वीडियो एक्सकुछ पल ऐसे ही चूमने पर वो और भी मदहोश हो गयीं और अपना दिखावटी प्रतिरोध छोड़ कर उन्होंने भी मेरी पीठ को सहलाना शुरू कर दिया. एक्स एक्स राजस्थान सेक्सीमेरा एक हाथ अभी भी उसकी पीठ और गांड पर धीरे धीरे घूम रहा था, लेकिन मेरी चारू तो अभी भी दुनिया से बेखबर होकर चैन की चुदाई वाली नींद में सो रही थी. अब तक डॉक्टर महाशय खुद को नग्न कर चुके थे, उसका लन्ड विकराल रूप में तन तना रहा था, खड़ा हुआ था.

समीर के लंड का मोटा सुपारा उसकी छोटी बहन की चूत में फँस गया। समीर ने अपनी बहन की टांगों को पकड़ते हुए एक और धक्का मार दिया।उई माँ … मर गयी.

नीलम नहीं चाहती थी कि किसी को कुछ पता चले, इसलिए उसने अपनी चूत पर लंड की छुअन के बाद भी अपने चेहरे हाव-भाव को सामान्य ही बनाये रखा जैसे उसके साथ कुछ हो ही न रहा हो. कभी उसकी चुत के होंठों को अपने होंठों से पकड़ कर खींचता, कभी उसकी चूत के छेद में जीभ डाल देता, कभी अपनी उंगली डाल देता. मैंने अन्दर देखा, तो भैया भाभी के पास बैठे थे और वे दोनों बातें कर रहे थे.

मैं मना करता, तो कहती कि जब तुमको कोई अच्छी जॉब मिल जाए, तब वापस दे देना. अचानक से सर ने इस तरह मुझे चूम लिया, तो थोड़ी देर मुझे कुछ घुटन सी हुई, पर कुछ ही पल में मैं भी सर को साथ देने लगी. उसने मेरा अपर उतार फेंका, काली ब्रा में कैद मेरी जवानी को देख उसका लोअर तम्बू बन गया.

बुर में लौड़ा सेक्सी

मैंने देखा कि वो अखबार को हटा कर चुपके से मेरी चूत को देखने की कोशिश कर रहा था. उसमें एक व्हिस्की की बोतल, बिकनी सैट, नाइटी और मेकअप का सामान था, जिसे देख कर चाची ख़ुश हो गयी. दोनों सर्वेन्ट्स इन्हें खाना खिला कर चले जाते थे तो उनके जाने के बाद सभी जोड़ियाँ और बेतकल्लुफ हो जाती.

मेरा भाई आदी अपने कमरे में था और मैंने उसे बोल दिया था कि वो टीवी देख ले.

फिर मेरा लंड बाहर निकल आया, तो उसके साथ उसका और मेरा रस भी उसकी चूत से बाहर निकलने लगा.

तभी चाची भी अपने बर्तन वगैरह साफ करके किचन का काम खत्म करके टीवी देखने चली आई. मैं पास बैठी यशिमा के होंठों पर किस करने लगा और उसके मम्मों को दबाने लगा. आदिवासी सेक्सी भेजनापहले मैंने उसकी गुलाबी चूत के जी भर के दर्शन किए क्यूंकि किसी लड़की की चूत भी आज मैंने पहली बार ही देखी थी.

एक घंटा से रोमांस जो हो रहा था, लग रहा था कि चाची एक बार झड़ चुकी थीं. जब उसकी त्वचा को थोड़ा सा पीछे खींचा तो चिपचिपा पदार्थ लार बनाता हुआ लंड के टोपे पर एक सनसनी सी पैदा कर रहा था. चूंकि मेरे रूम तक तो उसको चल कर ही आना था तो सोचा होगा कि शायद कोई देख लेखा इस वजह से उसने दूसरे कपड़े पहन लिये थे.

उसने अपने घर का पता बताया तो और फिर हम दोनों में बातों का दौर शुरू हो गया. आज हमारा इस तरह से मिलने का पहला अवसर था … लेकिन दोनों अच्छे से जानते थे कि क्या करना है.

लेकिन मैंने एक बार एक देसी लड़के का लंड देखा था जो पेशाब कर रहा था.

शायद रुचि के मन में भी कुछ चल रहा था लेकिन मुझे अभी उसके बारे में ज्यादा कुछ नहीं पता था कि वो क्या चाह रही है. वो भी तब जब कोई जरूरी मीटिंग होती थी या किसी ज्यादा ही जरूरी काम का दबान आन पड़ता था. एक तो मैंने शिवानी से वायदा किया हुआ था और दूसरा वो अपनी मर्ज़ी से उसको नहीं चोदने गया था.

शेख सेक्सी लेकिन मैं जबसे उन चार अफ्रीकन लौड़ों से चुद चुकी थी उसके बाद से ही मैंने अपनी चुदास मिटाने के लिए एक अफ्रीकन साइज़ का डिल्डो ऑनलाइन मंगा लिया था, जिससे मैं अधिकतर अपनी गांड मारती रहती थी. मन करता है कि मैं वहीं खुले आंगन में अपनी भाभी को लिटा कर उनकी साड़ी पूरी ऊपर उठा कर उनकी चूत नंगी करके देखूँ और चाट लूं.

मैंने पूरी नंगी होकर झट से उसको निकाला और उस पर थूक लगा कर पूरी गीला करके अपनी चूत की फांकों में रगड़ने लगी … धीरे धीरे अन्दर घुसाने की कोशिश करने लगी. हालांकि उसने कहा तो मजाक में ही था पर यह बात मैं सारे रास्ते सोचती रही. ‘आआआअहह …’ अचानक लंड अन्दर जाने से मुझे थोड़ा दर्द हुआ … पर फिर सर मेरी चुत में धीरे धीरे धक्का देने लगे.

सेक्सी इंडिय

माँ ने हर्ष से पूछा- इस टाइम क्या काम है बेटा?तो हर्ष बोला- दीदी एक्टिवा सीखने के लिए कह रही थी. ”मैं कहना चाहती हूं, तेरे चेहरे की लाली बहुत कुछ बता रही है … मेरी जान. ये वाला घर गांव से थोड़ा बाहर भी था, तो वहां ज्यादा लोग नहीं दिखते थे.

जब कुछ देर उसके ऊपर ही पड़े हुए मुझे हो गई तो उसने धक्का देकर मुझे अपने ऊपर से हटाया और एक किनारे कर दिया. अब नीता ने बोतल जल्दी से घुमाई, वो चाहती थी कि कोई और भी नंगी हो … अबकी बार बोतल का मुंह अनीता के सामने आया और पीछे का हिस्सा सीमा के सामने.

उसकी घुटी हुई चीखें अभी भी मेरे कानों में पड़ रही थीं लेकिन मैंने अपने लंड को ज्यों का त्यों ही फंसाए रखा और उसके गोरे गोरे चूतड़ सहलाने लगा.

मेरे अंडरवियर के अंदर मेरा तना हुआ लौड़ा एकदम बेचैन हो उठा था और बार-बार झटके देने लगा था जिसके कारण मैं भी उसको चूमने और चूसने की पुरजोर कोशिशें करने लगा. मैंने आंटी को बेड पर लिटा दिया और मैं उनके ऊपर आकर उनको किस करने लगा. मैं बोला- मैं तेरा सगा भाई थोड़ी हूं जो ऐसे नहीं कर सकती। मैं तो रेडी हूं तेरी हेल्प के लिये.

मैंने प्रिया को फोन किया और उससे कहा कि मैं यहां पर बोर हो रहा हूँ. मैंने बारहवीं अच्छे नंबरों से पास किया और मेडिकल की तैयारी के लिए कोटा आ गया, एक नामी कोचिंग संस्थान में एडमिशन ले लिया. मैंने प्रीति के मम्मों को दबाते हुए पीछे से उसकी गांड पे अपना लंड चिपका दिया और उसकी गर्दन पर किस करने लगा.

मुझे ऑफिस जाना था, फिर भी मैं उससे मिलने के लिए गयी और जब हम एक दूसरे से मिले तो उसने मुझसे अपनी दिल की बात बोल दी कि वो मुझे पसंद करता है.

बीएफ सेक्सी पिक्चर ओपन: फिर जीजा ने मेरी गांड के छेद को अपने थूक से भर दिया और फिर अपने लंड के टोपे को मेरी गांड के छेद पर लगाकर जोर देने लगे. 5 इंच मोटा लंड हवा में उछलने लगा, ज्योति ने अपने बड़े भाई का लंड अपने हाथ में लेते हुए अपने होंठों से उसके गुलाबी सुपारे को चूम लिया।आह्ह …” ज्योति ने जैसे ही लंड को चूमा समीर के मुंह से सिसकारी निकल गई।ज्योति ने अपनी जीभ से अपने बड़े भाई के लंड को चाटते हुए उसके गुलाबी सुपारे को अपने मुंह में ले लिया.

फिर मैंने बिना डरे उनके ब्लाउज का बचा हुआ एक बटन भी खोल दिया और दोनों चूचों को बारी बारी से सहलाने लगा. अब किसी को कुछ दिख तो नहीं रहा था पर चूमने चाटने की सीत्कारें तो बता रहीं थीं कि वहां क्या हो रहा है. मैंने कहा- क्या मैंने कुछ गलत बोल दिया?स्मायरा- नहीं रे!उसका यूं ‘नहीं रे …’ कहना मुझे अन्दर तक मस्त कर गया.

अंदर मर्द की मलाई जायेगी तो रेट अगर कुछ अंदर हुई तो उसमें लिपट कर बाहर आ जायेगी.

मन में जैसे टाइम बम्ब की सुई घूम रही थी, किसी से कुछ कह भी नहीं सकता था. अनिल ने कहा कि मैं उसकी चूत को ऊपर से चाटता रहूं तो मैंने उसके कहने पर ऐसा ही किया. मैंने कहा- मेरे से ऐसी बात कभी भी ना करना कि मैं किसी और के लंड की तरफ देखूं.