बीएफ इंग्लिश सेक्सी में

छवि स्रोत,हिंदी डॉट कॉम बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

కీర్తి సురేష్ సెక్స్: बीएफ इंग्लिश सेक्सी में, जीभ अन्दर जाने का सुखद एहसास उन्हें ही मालूम होगा, जिनके पति या बॉयफ़्रेंड ने कभी चुत में अन्दर तक जीभ डाली हो.

इंग्लिश बीएफ चुदाई वीडियो

करीब पांच मिनट की धीमी रफ्तार से चुदाई के बाद मैंने एक झटका मारा, तो लंड करीब चार इंच अन्दर घुस गया. दिल्ली की बीएफ एचडीमैंने उसके लंड को अपने हाथ से अपनी फुद्दी के छेद में फ़िट किया और तभी नीचे से वंश ने ठोकर मार दी.

उसने मेरी जीन्स को खींचकर निकाल दिया, साथ ही मैंने अपने अंडरवीयर को उतार दिया. नोएडा की बीएफमैंने कहा- सर, कोर्स कितना आगे निकला है?उन्होंने कहा- ज्यादा नहीं … पर फिर भी है.

पिछली कहानी का लिंक दे रहा हूँ, जिन्होंने नहीं पढ़ी हो वे इस लिंक पर जाकर भाभी की चुदाई का मजा ले सकते हैं.बीएफ इंग्लिश सेक्सी में: मैंने चूत में उंगलिया घुमाते हुए बोला- बता भी दे अब किसका लंड लिया था.

उसके बाद भी हमारी जायदाद का आधा हिस्सा तो तुझे मिलेगा ही … और अगर हम पर भरोसा है, तो तू यहां भी अपने हिसाब से रह सकती है.उस नाशुक्री ब्रा ने कल्पना भाभी की चुचियों पर अपना कब्जा जमाया हुआ था.

बीएफ चोदा चोदी फोटो - बीएफ इंग्लिश सेक्सी में

मुझे मम्मी जी की बात ठीक लगी और उनकी ये सलाह भी ठीक लगी कि 2-3 महीने ट्राय कर लेती हूं.फिर मैंने मीरा मैडम से कहा- चलो मैम, दारू का प्रोग्राम तो खत्म हो गया, अब थोड़ी काम की बात कर लेते हैं.

मेरा ध्यान तब टूटा, जब मोनिका के हाथ में रखा फ़ोन उसके हाथ से छूट कर मेरे सिर पर गिर गया. बीएफ इंग्लिश सेक्सी में मैडम को छोड़ कर मैं वापस आने लगा, तो मैडम ने कहा कि कम्पनी में पता ना चले.

मदहोशी में उसने मेरा प्लेज़र पकड़ा हुआ था और पता नहीं कैसे कंडोम का एक पैकेट नीचे गिर गया और उसने देख लिया.

बीएफ इंग्लिश सेक्सी में?

मैं- अरे कहीं नहीं घोष बाबू, आपकी बात सुनकर उत्सुक हो गया हूँ, बस घर पहुँचने की इच्छा है अब तो जल्दी!घोष बाबू- आपके तो मज़े ही मज़े हैं! सर घर में अपनी बीवी, बाहर देविका जी! अच्छा सुनिए ना … कहीं बाहर चलने का प्लान बनाइये. मैं पूरा सेक्स में डूब चुका था, मैं अपने हाथ उसके पीछे ले गया और उसकी मुलायम नर्म पीठ को कस कर पकड़ लिया। कुछ देर बाद मैंने उसे थोड़ा ऊपर किया और गुलाबो की चुची पर जानवरों की तरह टूट पड़ा। उसके निप्पल जिनको आज तक किसी ने नहीं काटा था, अब मैं उसके दायें निप्पल को चूस रहा था और काट रहा था। फिर मैंने बायें निप्पल को चूसा और काटा और पहली को हाथ से दबोच रहा था. मैं उसके कहने के मुताबिक कुतिया की भांति झुक गयी और मेरी कमर से नीचे का हिस्सा अन्दर स्नानागार में था और बाकी का बाहर.

मैंने जल्दी से अपनी सलवार को ऊपर किया, झट से कमरे के दरवाजे की कुंडी को खोलकर बिस्तर पर जाकर लेट गई. तो मैंने उससे पूछा- आपको कैसा सेक्स पसंद है?उसने बताया कि मैं आज हर तरह का सुख लेना चाहती हूँ, लेकिन इससे पहले तुम मेरी मसाज कर दो. मैंने एक जांघ पर अपनी बेटी को बिठाया औऱ दूसरी जांघ पर उसे बैठा लिया.

बता मुझे अपनी चेली बनाएगी ना?उसने हंस कर कहा- ठीक है, तू आज से मेरी चेली बन गई. मेरी इस सेक्स कहानी के दूसरे भाग में आप लोगों ने पढ़ा था कि मैंने कैसे अपने सगे बेटे को पटाया, उसके साथ शिमला गई और अय्याशी की. जिसे देखते ही वो बहुत डर गई और बोली- देख यार, यह बात किसी से ना कहना … वरना मेरी सारी जिंदगी बर्बाद हो जाएगी.

आज मैं मानो रवि मामा का मूसल सा लंड अपने मुँह में भरने को उतावला हो रहा था. दोनों सहेलियाँ आपस में कुछ गप-शप करने के लिए ऊपर वाले कमरे में चली गईं.

उसने निरोध पहना और मेरे योनि पे अपना लिंग रगड़ने लगा, मैंने भी अपनी टांगों को उसकी कमर पे लपेट दिया.

मैं जाकर सीधा उससे चिपक के बैठ गया और थोड़ा फॉरवर्ड होकर उसके कंधे पे हाथ रख कर पूछा- अगर तुम्हारा सब लोगों के साथ घूमने जाने का मन था तो गयी क्यों नहीं?इस बात पर वो शर्मा गयी और ऐसे ही कुछ जवाब देने लगी और उल्टा पूछती कि मैं क्यों नहीं गया.

यह कहते हुए मैंने अपना लंड उसकी चूत पर सैट किया और धीरे धीरे अन्दर डालने लगा. वो छत का दरवाजा बंद ही करने वाली थीं, पर मैं भी वहां पहुंच गया और दरवाजे को जोर से धक्का दे कर छत पर पहुंच गया. मैं वहीं खड़ा रहा तो वो शर्म की वजह से पेशाब भी नहीं कर पा रही थी।मैंने उससे कहा- अब मुझसे क्या शर्मा रही हो.

मेरे पैरों ने जैसे जवाब ही दे दिया था, अंकल ने मुझे पकड़े रखा था, नहीं तो मैं गिर ही जाती. अब आगे:फिर मैंने मम्मी के फोन से दूसरे दिन आशीष को फोन लगाया पहली बार. वो बहुत डर गया था और मुझसे माफी माँगने लगा- दीदी, माफ़ कर दो, मैं आपका गुलाम बनकर रहूँगा, जो कहोगी वो करूंगा.

घर पहुंच कर मामी अपनी तैयारी में लग गईं और मैं नानी के साथ गप मारने में व्यस्त हो गया.

और फिर मैं तो अपनी मंजिल तक पहुँच ही गयी।भाई लगातार मुझे चोदते जा रहे थे। और अचानक उनके लंड ने अपना गर्म गर्म रस मेरी रसीली चूत में बरसना शुरू कर दिया। भाई का लंड नाच नाच कर मेरी चूत अपने रस से भर रहा था और मैंने मज़े के मारे अपनी गांड भींच करके उनके पानी बरसते हुए लंड को अपनी चूत में जकड़ लिया और भाई के ऊपर लेट गयी।मेरी आँखें तो मजेदार चुदाई के कारण बंद सी हो रही थी. वह कहती रही कि एक बार निकालो, मेरी जान निकल रही है, बहुत जलन हो रही है, ऐसा लगता है जैसे चूत के अंदर सबकुछ फट गया है. उन्होंने बताया कि वह बहुत बिज़ी रहते हैं और चाहते हैं कि यहां पर किसी प्रकार की डिस्टरबेंस न हो.

विनय ने मेरी दीदी की के चूचों को हाथ में ले लिया और उनको दबाने लगे. उनके नंगे बदन को देख कर रात की घटना अब मेरे दिमाग में आने लगी थी और मेरा ध्यान मामी जी की चिकनी चमकती हुई गुलाबी चूत पर केंद्रित हो गया. सरोज भाभी लम्बी लम्बी सिसकारियां लेने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ तो मुझे लगा ये सही समय हैं मैंने बिना देखे ही 3 खतरनाक धक्के लगा दिए.

उसे घर के बाहर ही छोड़ कर मैं जाने ही वाला था कि उसने मुझे रोकते हुए कहा कि अन्दर नहीं आओगे?मैंने बोला- नहीं … आज देर हो गई है.

उसकी इतनी सी उम्र में इतनी चुदाई हो चुकी थी कि उसकी चुत का भोसड़ा बन चुका था. कोमल भी जोर-जोर से सिसकारी भरने लगी थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ उसकी चूत में से अब पानी का बहाव तेज होने लगा था.

बीएफ इंग्लिश सेक्सी में अपनी चूत में मेरी नुकीली और खुरदुरी जीभ का अहसास पाते ही वो उछलने लगी. फिर जब वो शांत हुईं, तो मैंने उनको डॉगी पोजीशन में होने को कहा और वो झट से हो गईं.

बीएफ इंग्लिश सेक्सी में क्यों तुम्हें नीतू कैसा लगा?”मेरी तो उनसे नजरें मिलाने की भी हिम्मत नहीं हो रही थी. मैं प्रधान जी एक स्कूल में शिक्षक हूँ, मेरे सहकर्मी शिक्षक शंकर कुमार झा जो विधुर हैं.

फिर मेरे पति मेरी बगल से चलते हुए आए और बेड पर रखा हुआ दूध का गिलास उठा लिया.

भाभी का फोटो सेक्सी वीडियो

मेरी ये कहानी स्मिता (बदला हुआ नाम) जैसी उन सभी लड़कियों को समर्पित है जिन्होंने अपनी सीमा रेखा से ऊपर उठ कर कुछ करने की ठानी है!आपको मेरी यह आपबीती पसंद आई या नहीं, मुझे ईमेल करें. उसके बाद भी हमारी जायदाद का आधा हिस्सा तो तुझे मिलेगा ही … और अगर हम पर भरोसा है, तो तू यहां भी अपने हिसाब से रह सकती है. मैंने चूत में उंगलिया घुमाते हुए बोला- बता भी दे अब किसका लंड लिया था.

वो मुस्कुराए और एक जोरदार धक्का लगाया, उनका लौड़ा उनकी कमसिन बेटी की चुत को चीरता हुआ अंदर घुस गया. इमरान हंसते हुए बोला- सारा बेगम, हम भी है यहाँ! हमारा भी आदाब कबूल कीजिये. मेरे लंड के धक्कों के साथ उसकी आवाज़ें और ज्यादा तेज होती जा रही थीं.

उसके बाद मैंने बेड पर रखी जैल उठाई और उसको सोनू की चूत के छेद और आसपास लगाया और काफी सारी क्रीम अपने लंड पर लगाई.

मेरी चुदैल चुदक्कड़ बीवी की चुदाई की कहानी के प्रथम भागदौड़ पड़ी मेरी बीवी की चुदाई एक्सप्रेस-1में आपने पढ़ा कि मेरी बीवी ने अनायास ही हमारे पड़ोसी का लम्बा बड़ा लंड देख लिया था और उसकी चूत उस लंड का भोग लगाने के लिए लालयित हो उठी थी. ऐसे तो मैं उसे बहुत बार न्यूड देख चुका लेकिन जब वो सुसु करती है, तब उसे देखने का मज़ा ही कुछ और होता है. मैं मन ही मन कह रहा था कि बोल तो ऐसे रही है जैसे यह यहाँ पर पूजा-पाठ करने आई है.

लगभग आठ बजे तक हम गप्पें लड़ाती रही, बाद में मैं अपने घर आकर खाना बनाने लगी, तब तक दादाजी भी घूमकर घर आ गए. मामी जी ने मुस्कुराते हुए अपनी चूत की तरफ इशारा किया और कहा- देखो तो इस मूसल ने मेरी कोमल सी चूत का क्या हाल बना दिया है?सच में दोस्तों मामी जी की चुत एकदम फूली हुई नजर आ रही थी. मैंने उससे कहा- देख सरिता अब किस वाला खेल बहुत खेल लिया, आज हम दूसरा खेल खेलेंगे.

और मैं मुस्कुरा के शरमा जाती।तन्वी ने मज़ाक में धीरे से मेरे कान में कहा- आंटी, पानी दिल्ली का नहीं किसी और का रास आ रहा है. उनकी मुस्कराहट से मैं समझ गया था कि भाभी मुझसे जरूर चुदवाएंगी, तो मैं मौका ढूँढने लगा.

मेरे लिंग का आकार 7 इंच लंबा और 2 इंच मोटा है। दोस्तो, ये चूत भी क्या चीज बनाई है भगवान ने … ये चूत एक जन्नत है, एक दरिया है. मेरे मन की हालत को देख कर जीजा जी को पता चल गया कि मैं सेक्स के लिए तैयार नहीं हो पा रही हूँ. लेडी मेरा औजार पकड़कर हिलाने लगी और अंकल का औजार मुँह में लेकर चूसने लगी.

अपने साथ क्यूँ चिपका रखा है?मैंने कहा है सर … पर वो कह रही है कि मेरे साथ ही जाएगी … अब बाकी बच्चे भी जा चुके हैं … मैं उसको फिर से बोल कर देखती हूँ.

मीना समझदार थी उसने लेटे लेटे ही लंड मुँह में लिया और चूसना चालू कर दिया. लेकिन जैसा मैंने ऊपर बताया था कि मैं शुरूआत मामी से करवाना चाहता था, इसलिए मुझे थोड़ी राह देखनी पड़ी. फिर रितिका ने मुझे किस किया और बोली- थैंक्स जानू इतना प्यार देने के लिए! ये मेरी लाइफ का सबसे अच्छा दिन था, मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि कोई अनजान इंसान मेरे साथ इतने प्यार से बिहेव करेगा.

लेकिन जैसा मैंने ऊपर बताया था कि मैं शुरूआत मामी से करवाना चाहता था, इसलिए मुझे थोड़ी राह देखनी पड़ी. मैंने भी उसका साथ दिया और पूरी तसल्ली से उसे स्तनों के साथ खेलने दिया.

वो मेरे लंड को प्यार कर रही थी और मैं उसके पूरे जिस्म पे किस कर रहा था. इतना कह के वो मेरे लंड से खेलने लगी और मैं उसके सीने की गोलाइयों से. फिर मैं दीदी की टांगों के बीच में आकर बैठ गया और लंड पर कंडोम लगा कर मैं दीदी की चूत पर अपने लंड का सुपारा रगड़ने लगा.

बेंगलुरु की सेक्सी पिक्चर

उसने बोला- अन्दर मेरे हस्बैंड नहीं हैं, वो कुछ दिनों के लिए बाहर गए हुए हैं.

किसी ने सच ही कहा है जब देने वाला देता है तो छप्पड़ फाड़ कर देता है. दूसरे कमरे में अंदर चुदाई का मदहोश कर देने वाला नजारा साफ-साफ दिखाई दे रहा था. मैंने कहा- अगर तुम्हें कुछ और जरूरी काम नहीं है तो मैं अब सोना चाहती हूँ.

मणि कोमल की कमर पर हाथ फेरने लगा और उसको अपनी तरफ खींच कर उसके होंठ चूसने लगा. वो चारों गाड़ी से उतरे, वे चारों ही पहवान किस्म के थे … जबकि उनके मुकाबले मैं एकदम दुबला पतला हूँ. सेक्सी बीएफ अंग्रेजों की बीएफउसने कहा- जान इतनी जल्दी भी क्या है, पहले तुम्हें मेरे लंड को चूसना होगा.

उसकी गांड चुदाई के बाद हम एक दूसरे की बाँहों में लेट गए और एक दूसरे को चूमते रहे. मैं और आरती दोनों ही अपने अपने पति की नज़रों में सती सावित्री बनी हुई हैं.

मैंने जल्दी ही उसके टॉप को ऊपर उठा दिया और उसने कोई ऐतराज भी नहीं किया. आखिर वो टाइम आ ही गया, जिसका शायद हम दोनों को ही बेसब्री से इंतज़ार था. तब दीपक ने कहा- ठीक है मेरे दोस्त, तुम्हारी यह तमन्ना बहुत जल्द पूरी हो जाएगी.

मैंने दीदी की पीठ को सहलाना चालू किया और उसके चेहरे की खूबसूरती को निहारा. इसलिए मैंने मैडम को मना कर दिया था, पर उन्होंने कहा कि ये उनकी तरफ से गिफ्ट है. जब मैं 10 बजकर 30 मिनट पर फ्लैट पर आई थी तो तब से ही उसका लिंग तना हुआ था.

अब मुझे पूरा यकीन हो चला था कि तलाशी सिर्फ़ एक बहाना है मेरे बदन से खेलने के लिए.

दूसरी तरफ उसने भी मुझे पति के न होने का कह कर मुझे अन्दर बुलाया, मतलब वो भी मुझे अकेले में मिलना चाहती थी. जैसे जैसे मेरे हाथ की उंगलियां उसके जिस्म पे रेंग रही थीं, वैसे वैसे उसकी कामुकता बढ़ती जा रही थी.

मैं- जानेमन, अगर तू कुंवारी है तो दो दो उंगलियां तेरी चूत में कैसे जा रही हैं. आरती ने मेरी तरफ इशारा करके कहा- वो क्या है? उसे देखा नहीं?फिर मेरी तरफ देख कर वो बोला- वाउ … क्या माल ढूँढा है आरती तुमने. मीरा मैडम ने अपनी चूत पर हाथ फेरते हुए बोला- हैलो सिमरन … कहां है यार तू अभी तक आई क्यों नहीं.

फिर एक ही झटके में भैया ने भाभी की चड्डी निकाल फेंकी और भाभी की चुत पर भी रंग मल दिया. उसने अपने होंठ मेरे होंठों के नजदीक लाकर अपनी जीभ अपने होंठों के बाहर निकाली. मेरी हाइट लगभग 5 फुट 7 इंच है। मुझे सुन्दर लड़कियाँ और भाभियां बहुत पसंद है मेरे लंड का साइज 6 इंच लंबा व 3 इंच मोटा है.

बीएफ इंग्लिश सेक्सी में मैं अपने हाथों से अपने दूध दबाने लगी, मेरे मुँह से निकलने लगा- याल्ला … रहम कर! ऐसी चूत चुसाई तो मेरे अब्बू ने भी नहीं करी कभी!मेरी हालत देखकर अम्मी और भाभी भी उत्तेजित होने लगी और अब्बू भाई को ज्यादा परेशान करने लगे. वहाँ पर बुलाकर मैंने कैसे उसकी चुदाई की वह सब अगली कहानी में आप लोगों को सुनाऊंगा.

रितु सिंह की सेक्सी वीडियो

मगर धीरज अभी भी जल्दी में नहीं था, उसने मेरे होंठों और मम्मों को बुरी तरह से चूमना चाटना और दबाना शुरू कर दिया. फिर मैंने बहन को अपनी गोद में उठा लिया, अपनी बांहों में उठाकर मैं उसको बाथरूम में ले गया और उसको कमोड पर बैठाया. वह भी पियक्कड़ थीं, सो उन्होंने भी गिलास को एक ही सांस में खींच लिया था.

सोफे पर बैठते और मेरी तरफ देखते हुए उन्होंने मुझसे बोलना शुरू किया- हां तो आप क्या कह रहे थे?मैं- मैम, मैं यहां कुछ कहने नहीं, करने आया हूँ. इसलिए आपकी इस ख्वाहिश को पूरा करने के लिए मैं आपको आज एक ऐसी ही हिन्दी फिल्मों की हिरोइन की कहानी बताने जा रहा हूँ. बीएफ बीएफ पिक्चर वीडियोमेरी इस चुदाई की कहानी पढ़ कर किसी ने अपना लंड हिलाया हो या चूत में उंगली की हो, तो मेरा कहानी लिखना सफल होगा.

मणि ने कोमल की चूत में लंड पेल दिया और संजय ने कोमल के मुँह में लंड में दिया हुआ था.

उसने अपनी उंगली से मेरी चुत की पंखुड़िया खोलीं और मेरी चुत के दाने पर अपनी नुकीली की हुई जीभ से दंश मार दिया. उसने मुझसे अगले दिन पहुंचने के लिए बोल दिया।अगले दिन मैं शाम 5 बजे उनके यहाँ पहुंच गया, घर दिखने में बहुत अच्छा था। दरवाज़े पर पहुंच कर मैंने डोर बेल बजाई और कुछ देर में दरवाजा खुला.

तो मेरा लंड घप्प से उसकी चूत में चला तो गया पर मेरा थोड़ा बड़ा था तो भाभी को थोड़ा दर्द होने लगा. ये सब बोलते बोलते उसने मेरा सिर अपनी जांघों से जकड़ लिया और तेज तेज सांसें लेने लगी. मैंने सारा के दर्द की परवाह किए बगैर अगला झटका लगा दिया और अपना मूसल लंड चूत में घुसेड़ दिया.

मैंने उसके सामने ही अपना ब्लाउज और ब्रा निकाल कर जमीन पर फेंक दिए और शर्ट को उसके हाथ से लेकर मैं पहनने लगी और फिर मैं शर्ट के बटन लगाने लगी.

कई बार वहां कोई लड़की मिल जाती है, लेकिन ज्यादातर लड़कियों के नाम पे वहां सब लड़के ही होते हैं. तब मैं उसको अपने मोबाइल पर उस कैमरे से ली गई रेकोर्डिंग दिखाने लगी. आरती- हेलो शोभन!शोभन- बोलो जान, आज कैसे याद कर लिया? आ जाऊँ क्या चूत को मस्त करने के लिए?आरती- इसीलिए तो तुम्हें फोन किया है.

बीएफ बढ़िया बीएफ बीएफअब आगे:मेरी सहेली के मामा ने अब मेरी कमर को पकड़कर अपनी हाथों से कस लिया और मेरी चुत पर जीभ नीचे से ऊपर की तरफ रगड़ रगड़ के चाटने लगे. दीदी की ससुराल तो पास में ही थी और मेरा लगाव तो था ही दीदी और विनय जीजू से तो मैं अक्सर दीदी के घर जाती रहती थी।धीरे-धीरे एक साल बीत गया.

सविता भाभी की कार्टून सेक्सी वीडियो

थोड़ी देर बाद मेरा दोस्त उसकी वाली को लेकर झाड़ियों में एक कोने में चला गया. मामा ने भी बोल दिया- जब तक इलाज न हो जाए, तब तक तुझे ही मालिश करना है. इस तरह से उसने मेरी बुर को दुबारा से चाटना शुरू कर दिया और बहुत देर तक चाटता रहा और तब मैं पूरी तरह से गर्म ह कर अपनी बुर को उसके मुँह के आगे ऊपर नीचे करने लग गई.

उनकी कामुक आवाजें मुझे और पागल कर रही थीं और मैं अपनी स्पीड बढ़ाने लगा. फिर उसने रूपा की ओर देखते हुए कहा- रूपा जरा तब तक छोटी बहू को अपने खेत खलिहान घुमाने ले जाओ और हां, इनकी अच्छे से देख भाल करियो, हमारे यहां पहली बार आई हैं, खातिर में कोई कमी ना रहे. रमेश ने शरारती आंखों से मुझे देखते हुए कहा- मालिक, वो पानी खत्म हो गया था, तो मैंने सुबह ही पानी की टंकी भर दी थी, नहाने में कोई दिक्कत तो नहीं हुई ना.

जब मेरा ये हाल था, तो उसका भी वही होगा, जो वो शायद आज नहीं होने देना चाहती थी. अचानक से अनुष्का ने मेरे हाथ हटा दिए और मैंने सोचा कि जोश में आकर मैंने गलती कर दी. भाभी तुरन्त मेरे नीचे आईं और मैंने भाभी की चूत में अपना लंड लगा कर उनके होंठों में अपने होंठ रख कर धक्के मारने लगा.

मैंने भी अपना सिर नीचे बिस्तर पर टिका अपने चूतड़ और उठा कर आसान ग्रहण कर लिया. सोना को देखा तो वो सो रही थी, मुझे बेहद गुस्सा आ रहा था, शादी के बाद हम लोग घूमने गये.

जब मैं शादी करके पहली बार अपने पति के घर गई थी तो वहाँ पर मुझे काफी बड़ी फैमिली मिली थी.

हम दोनों उसके बाद वहीं बिस्तर पड़े रहे और फिर थकान उतरने के बाद नहाने के लिए बाथरूम में चले गये. ब्लू फिल्म बीएफ बीएफ बीएफ बीएफमैंने कहा- अगर तुम्हारे पति को पता चल गया, तो?वो बोली- वो सब मैं देख लूँगी. गर्ल्स गर्ल्स बीएफमैंने कहा- तुमने ही तो बोला था कि कितना भी चिल्लाने पर अपने लंड को बाहर नहीं निकालना. वो बोला- ध्यान से देखो, इसने अपना माखन निकाला है, इसको पी लो और अपनी सेहत बनाओ.

मेरी जीभ तेरे पूरे बदन को फील करना चाहती है।इस प्रकार हमारी काल पर बात हुई और होली की छुटियों में मेरा और रितिका ऋषिकेश में सेक्स करने का प्लान बना.

वह बोली- क्या देख रहे हो?मैंने कहा- मैं पहली बार किसी जवान लड़की को नंगी देख रहा हूँ. कल्पना- अच्छा, कौन थी तीनों?मैं- एक तो मेरी गर्लफ्रैंड थी, बाकी 2 मेरी क्लाइंट थीं. उसके बाद सीधे मेरे पीठ के ऊपर तरफ आके टांगें इधर उधर करके अपना लौड़ा मेरी गांड के छेद में टिका दिया.

बृजेश की तो कई गर्लफ्रेंड भी हुआ करती थी इसीलिए हमारा सेक्स तो कभी कभी ही होता था. पापा का लौड़ा जब मेरी चुत की गहराई में जाता तो मेरी जान निकल जाया करती थी. उनके 34 इंच के तने हुए चुचे देखने में ऐसे लगते थे कि मानो दोनों ने तोतापरी आम लगा रखे हों.

इंडियन सेक्सी वीडियो देसी हिंदी

तेज झटको के साथ मैंने इंदु भाभी में मुख में अपना गर्म गर्म वीर्य उम्म्ह… अहह… हय… याह… करते हुए छोड़ दिया. कुछ दिन रहने के बाद ननकू शहर चला गया पर मीना के दिल में भय सा बैठ गया. मैंने लंड को सहलाते हुए कहा- क्यों राजा, मज़ा आया?‘हाँ मस्त चीज़ है तेरी बहन.

यहाँ मैं बता दूँ कि जैसा कि आपने मेरी पूर्व की कहानी में पढ़ा ही होगा कि मैं और सन्जू अक्सर इमेजिन करके चुदाई करते हैं।मैं बोला- ठीक है, किसको इमेजिन करोगी?वो बोली- जो आप कहो?मैं जानता था कि उसके मन में कुछ है इसीलिए उसने पहल की है।मैं बोला- नहीं, तुम कहो, मैं तो हमेशा कहता हूँ.

थोड़ी देर बाद उन्होंने अचानक मेरा एक हाथ पकड़ा और उसे एकदम दोनों जांघों के बीच रख दिया.

मैं हड़बड़ा कर उठी तो देखा भाभी थी, भाभी से पूछा- तुम कब आयी?तभी अम्मी आ गयी और भाभी बोली- अभी आयी हूँ पांच मिनट पहले! तेरे भाई जान छोड़ कर काम पर गए हैं. उसने मेरी जीन्स को खींचकर निकाल दिया, साथ ही मैंने अपने अंडरवीयर को उतार दिया. देसी गांव की लड़कियों की बीएफचाचा जी का हाथ धीरे धीरे मेरे शर्ट के अंदर जाते हुए मेरी ब्रा से टच हुआ, उन्होंने मेरी ब्रा को ऊपर उठाते हुए मेरे मम्मों पर अपना हाथ पहुंचा दिया और चाचा अपनी भतीजी के नंगे चूचों को सहलाने लगे.

इतने में वो अचानक नीचे गयी और मेरा लंड मुँह में दो मिनट के लिए डाला. हाँ, इतना जरूर हो सकता है कि अपने लंड की प्यास बुझाने के लिए वह आपको कुछ पल वह प्यार वाला अहसास दे दें लेकिन वह तब तक ही होता है जब तक उनके लंड से वीर्य नहीं निकल जाता. मैंने अपनी नजरों को नीचे बेड पर झुका लिया और अपनी गर्दन को नीचे करके बैठी रही.

लगभग आठ बजे तक हम गप्पें लड़ाती रही, बाद में मैं अपने घर आकर खाना बनाने लगी, तब तक दादाजी भी घूमकर घर आ गए. वो मेरी तरफ पलट गयी थी और मैंने उसकी टीशर्ट ऊपर कर दी थी और उसके मम्मे बाहर आ गए थे.

अब मैं कुछ नहीं करना चाहती थी तो मैं मना करने लगी मगर अजय नहीं माना और मुझे गोद में उठाकर दूसरे कमरे में ले आया। दीदी ने रोकना भी चाहा मगर अजय पर कोई असर न हुआ।दूसरे कमरे में लाकर अजय ने दरवाजा लॉक कर लिया.

फिर मैंने अपना एक हाथ से आहना के बालों को पकड़ कर उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए. पर तुम फिकर मत करो, हमारा एक दूसरा फ्लैट भी है, जो दूसरे अपार्टमेंट में है, हम दोनों वहां चले जाएंगे. मैंने कहा- मामी जी, मैं सोता हूँ, मुझे नींद आ रही है, आप गाने देख के टाइम पास करो।मामी जी ने हाँ कर दी और वे पुराने फिल्मी गाने देखने लगी।मैं सोने का नाटक कर रहा.

मैं- क्या तुम्हें नींद आ रही है?साजिदा- नहीं … और तुम्हें?मैं- नहीं, मुझे भी नहीं आ रही, इसीलिए तो पूछ रहा हूं, चलो कुछ बातें करते हैं उस बीच वो लेडी मेरे पास आकर मुझसे बोली- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं?मैंने कहा- कोई नहीं है. शावर से गिरता पानी मामी जी के स्तनों से होता हुआ चूतड़ों तक ओर फिर नीचे चुदाई के साथ लंड से होता हुआ गांड के अन्दर बाहर निकल रहा था, जिससे पच पच पच की आवाजें बाथरूम में गूंज रही थीं.

पिछली कई बार से ननकू जब भी इतवार की छुट्टी पर गाँव आता तो उसे कई बार अपने घर में या अपने भाई के घर चिन्टू भी दिखा था. थोड़ी देर में ही वो थक गई औऱ बोली- मैं थक गई हूं, चलो अब घर चलते हैं. जब मैं स्कूल की छोटी कक्षा में था, तो मुझे सेक्स के बारे में कुछ कुछ पता चल गया था, पर बहुत ज्यादा मालूम नहीं हुआ था.

डाउनलोड सेक्सी वीडियो बीपी

इसलिए मैंने उससे सेक्स चैट करने की कोशिश की, पर वह बहुत ही साधारण लड़की थी, उसे यह सब समझ नहीं आता था. किस्मत से 2 दिन पहले ही उसका फ़ोन आया था और हमारी बातें स्टार्ट हुई थीं. करीब 10 मिनट बाद उसका शरीर अकड़ने लगा और उसकी चुत ने पानी छोड़ दिया, जिससे मेरा लंड पूरी तरह से भीग गया और बिस्तर भी गीला हो गया.

मैं उसके चूचों को पूरा ज़ोर लगाकर दबा रहा था जिससे उसके जवान चूचे जल्दी ही तनकर टाइट हो गए थे और उसके मुंह से कामुक आवाज़ें निकलने लगी थीं. ना वो बाहर गयी किसी के साथ, अगर बाहर जाती, तो बदनाम होती और क्या क्या न होता, कुछ पता नहीं.

आज मैं अपने जीवन की वो सच्चाई बता रही हूं, जिसे मेरे गांव के हर जेंट्स, लेडीज, हर लड़के लड़की को पता है.

मैंने कहा- तुम पागल हो … यार जब इस चूत में से पूरा बच्चा निकल सकता है, तो तेरी चूत क्या सात इंची के लंड से ही फट जाएगी?वो मेरी बात से सहमत हो गई और उसने चुदने का मन बना लिया. एक लौंडे ने मेरी जीएफ रिया को खींच कर गाड़ी से निकाल कर उसे दरी पर बिठा दिया और बोला- चल कपड़े उतार … वरना फिर हम कपड़े फाड़ेंगे, तो तुझे यहां से नंगी ही घर जाना पड़ेगा … सोच ले. मैं- हैलो, कौन?सोनिया- मैं चंडीगढ़ से सोनिया बोल रही हूँ … क्या आप रिषभ बोल रहे हैं?मैं- जी हां … बोल रहा हूँ.

मैंने भाभी से कहा- आज हम दोनों मिले हैं तो लता को भूल जाओ और आओ साथ मिलकर इस मिलन को रंगीन बना दें. ग्राउंड फ्लोर पर जो उड़ीसा का परिवार रहता था उसमें लता भाभी और उनके पति को हेमा भाभी से और उनके फैशन करने से बड़ी चिढ़ थी और वे उसको पसंद नहीं करते थे. जब वह लंड हिला रही थी, तो मेरा भी दिमाग खराब होने लगा और मैंने उसको बिस्तर पर पटक दिया.

उसने काफी देर तक मेरे स्तनों से दूध पिया और फिर धीरे धीरे मुझे पेट, नाभि से चूमता हुआ मेरी योनि तक पहुंच गया.

बीएफ इंग्लिश सेक्सी में: पायल की सोच में डूबते हुए एक पैग खाली कर लिया और तभी अचानक डोर बेल बजी. हम थोड़ी देर हॉल में ही बैठे रहे, फिर दादाजी अपने रूम में चले गए और हम दोनों मेरे बेडरूम में आ गए.

उसने कहा कि इतना लेट रिप्लाई क्यों किया?मैंने उसे सब बताया कि मैंने उसका मेल देखा ही नहीं था. अगले दिन बताये समय के अनुसार में उसी जगह पहुँच गया। वो मुझे लेने के लिए आई. अब से पहले मैंने कभी गौर ही न किया था। तभी जीजा जी ने दीदी के सब कपड़े अलग कर दिये.

इन दोनों डॉली और अन्नू की तरह भी नहीं थी कि लंड आसानी से अन्दर घुसता चला जाए.

दीदी पलंग से उठी और पलंग और सासू माँ के बीच में ऊपर एक रॉड था, उस पर एक नेट वाला परदा पड़ा था, वो खींच लिया. जैसे ही आशीष की बटन खोलने लगी, आशीष मेरी वाइट कलर के टॉप के ऊपर से मेरे सीने को दबाने लगा. उसने अपने होंठ मेरे होंठों के नजदीक लाकर अपनी जीभ अपने होंठों के बाहर निकाली.