बीएफ मोटा

छवि स्रोत,अजय देवगन सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीएफ देखना चाहिए: बीएफ मोटा, मैंने देखा कि मेरी बीवी की सलवार जमीन पर थी और वह बिस्तर पर लेटी थी.

व्व्व क्सविडिओस कॉम

मेरी थोड़ी ही मेहनत के बाद सिस्टम चल पड़ा और सामने सबसे पहले एक ब्लू-फिल्म चलती हुई दिखने लगी. 10 साल की लडकीकरीब 5 मिनट के इंतजार के बाद हिमानी भी वहां आ गई और बोली- अनुराग मुझे डर लग रहा है.

आंटी मुझे अच्छी तरह से जानती हैं तो हमारे अच्छे संबंध हैं। जब उन्हें पता चला कि मैं भी शहर में हूं तो उन्होंने मुझसे उनके घर रुक जाने के लिए कहा. सेक्सी बताइए सेक्सीउसने सिगरेट सुलगाई और बोला- क्या तुझे सर्दी लग रही है?मैंने कहा- नहीं तो!वो हंस कर बोला- तो ये कपड़े क्यों पहने हैं.

मेरा लंड उसकी जीन्स में उसकी गांड की दरार में घुसने की कोशिश कर रहा था.बीएफ मोटा: तभी मैं बाथरूम में गया और पूजा भाभी को कमरे में चलने के लिए कहने लगा।भाभी कहने लगी- थोड़ी देर रुक … मैं बाकी बचे कपड़े धो लेती हूं।मैंने कहा- भाभी इतना टाइम नहीं है, ये काम तो आप बाद में भी कर लेना!लेकिन भाभी तो कपड़े धोने में लगी हुई थी.

तब तक मैं उसका लंड पकड़ कर आगे पीछे करने लगी और अमन मेरी पैंटी के अन्दर हाथ डाल कर मेरी चुत को मसलने लगा.मैंने छोटू से पूछा- क्यों बुलाया है, क्या काम है?वो बोला- मुझे क्या पता … जाकर पूछ लो.

लिंग बड़ा कैसे होता है - बीएफ मोटा

हमारे मायके में हर शादी में हम दोनों साहिल को बुला लेती हैं और खूब चुदाई का मज़ा लेती हैं।[emailprotected].भाभी ने भी ये देख लिया, मगर वो कुछ नहीं बोलीं और अपने काम में लग गईं.

कल्पना ने मुझे कॉल करके बताया कि अब वो उसके गांव मैं है और बहुत खुश है. बीएफ मोटा अम्मी ने बाहर से आवाज देकर पूछा- राणा आज तू जल्दी कैसे आ गया … क्या कॉलेज नहीं गया था?मैंने कमरे से ही आवाज दी कि अम्मी आज कॉलेज की छुट्टी हो गई थी और मुझे बहुत तेज भूख लगी है, आप मुझे खाना दे दो.

आप जानते हैं कि शादी का दिन किसी भी लड़की के जीवन के नये अध्याय की शुरूआत का दिन होता है.

बीएफ मोटा?

नीचे देखा तो रानी अपनी सहेलियों के साथ पार्क में बैठी थी जो हमारे घर के सामने ही था. उस ब्लू फिल्म में एक लड़के ने अपना लंड उस लड़की की चूत में डाल रखा था और दूसरे लड़के ने अपना लंड उस लड़की की गांड में डाल रखा था. दो दिन बाद तो मंडी भी बंद हो जाएगी, फिर आप अपना गुजारा कैसे करेंगी?वो रोते हुए बोलीं- जब तक ज़िंदा हैं, तब तक किसी तरह से जी लेंगे.

इतना कहते हुए मैंने मॉम का पेटीकोट उठाकर उसकी गांड पर एक बेल्ट मारी. दाना ऊपर को खींचा तो शबाना भाभी की एक मीठी कराह के ससाथ उनकी गांड ने ऊपर उठ कर अपनी चुत के दाने की पैरवी की. अब आगे की Xxx बुआ सेक्स कहानी:बुआ मेरे सामने बिना ब्रा के अपने मस्त चुचे हिला रही थीं.

इतने में उन्होंने मुझे नीचे बिठाया और राहुल मेरे होंठों पर अपना लंड घिसाने लगा. मगर अब उसे सुगर की बीमारी हो गई है, तो उसका लंड खड़ा ही नहीं होता है. साहिल ने जैसे ही तौलिया देने के लिए आगे हाथ बढ़ाया, राजसी ने उसको अंदर खींच लिया और अब वो भी उसके साथ शावर के पानी से भीगने लगा.

थोड़ी देर बाद मैंने उसकी चूत में अपना रस छोड़ दिया और अपनी सांसों पर काबू पाता हुआ उसके बगल में लेट गया. Xxx चूत की कहानी में पढ़ें कि एक जवान कॉलेज गर्ल अपने पापा के दोस्त के सामने नंगी हो गयी थी.

मैं उसे यूं ही प्यार कर रहा था और शबाना अपनी गांड की दरार में मेरे लंड को रगड़ कर मजा ले रही थी.

मैंने मौके का फायदा उठाते हुए उनसे कहा- भाभीजी आप अपना ये बैग मुझे दे दो और आप बच्चे को लेकर चढ़ जाओ.

मैंने कहा- हुकुम करो डार्लिंग, मेरी जान और शरीर आज से तुम्हारे ही हैं. मैंने ध्यान दिया अमित मेरी बीवी की चुचियों की दरार को भूखी नजरों से देख रहा था. क्या बताऊं दोस्तो, इतना मजा आ रहा था उसकी नर्म नर्म कोमल चूची को पीने में कि मन कर रहा था कि सारी उम्र इन चूचियों के दूध को ऐसे ही पीता रहूं.

पूछने पर बताया कि मेरे आने से पहले ही उसने साफ़ किया है।फिर मैं उसकी दोनों टांगों के बीच में आ गया और अपनी जीभ से उसकी बुर के छेद को चाटने लगा. बुआ बोलीं- हां हां भोसड़ी के … चैक कर ले मादरचोद … अभी भी कुंवारी चुत सी कसी हुई है. उसको लेटे हुए देखा तो मैंने अपने सारे कपड़े उतार कर रजाई उठा ली और उससे चिपक कर लेट गया.

सर जी, क्या कर रहे हो?” वो हंसती हुई मेरी बांहों से निकलने का प्रयास करती हुई बोली.

हेमा चाची तो बस सेक्स भरी आवाजें निकाले जा रही थींमस्त चुदाई होने लगी थीं मैं हुम्म हुम्म करके चाची की चुत में लंड पेले जा रहा था और चाची भी नीचे से अपनी गांड उठा उठा कर लंड से लिहा ले रही थीं. अठारह मार्च को मेरी ससुराल से मेरी पत्नी का भाई मेरी पत्नी को लेने आया. उनकी मालिश करते करते मेरा पल्लू मेरे ब्लाउज से हटा हुआ था, पर वो कमर से निकल कर जमीन पर गिर गया था, मैंने उसे ऊपर नहीं किया.

मेरी उस समय छुट्टियां चल रही थीं, में छुट्टियां बिताने अपनी बुआ के यहां गया था. अंदर जाते ही मैंने उसको नीचे उतारा और उसको पीछे घुमा कर उसकी पीठ पर से बाल आगे कर दिए. वो जोर से सिसकारियां भरने लगी- आह्ह … ऊह्ह … ओह्ह … राज … और अंदर तक … आह्ह … अम्म … चाटो … चूसो.

हम दोनों ने कपड़े पहने और मैंने मेडिकल से दर्द की और गर्भनिरोधक गोली लाकर उसे दी और मैं अपने घर आ गया.

अब उसके लन्ड की नस और उसके हाथों का मेरे सर पर दबाव धीरे धीरे कम होने लगे।उसने अपना हाथ हटा लिया. फिर मैंने धीरे से उसके हाथों को उसकी चूचियों से अलग किया और उसके गोरे गोरे दो अमरूद मेरे सामने नंगे थे.

बीएफ मोटा इतना कहते हुए मैंने मॉम का पेटीकोट उठाकर उसकी गांड पर एक बेल्ट मारी. दोस्तो, आगे बढ़ने से पहले मैं आपको रानी के बारे में कुछ बता देता हूं.

बीएफ मोटा शालू भी ये बात जान गयी थी कि लंड चूत पर आ चुका है और अब इसे अपने जिस्म में समा कर मजा लेने में ही सुख है. मैं भी मौके की फिराक में था।एक दिन मुझे वो मौका मिल ही गया।उस दिन मैं सुबह जंगल में से आम लाने गया था.

वो सिसकारते हुए बोली- क्या चाटने का मन कर रहा है, बोल ना सीधे सीधे … इतना घुमा क्यों रहा है?मैं बोला- तुम्हारी गीली चूत चाटने का बहुत मन कर रहा है.

सेक्सी व्हिडिओ मराठी मालिका

दो मिनट बाद मैं नजर बचाकर सावधानी से उसके घर में पीछे के गेट से घुस गया. लेकिन साहिल ने अभी भी खुद को रोक रखा था।तभी पूनम ने पूछा- क्या दिक्कत है इसमें?तो उसने बताया- सॉफ्टवेयर की दिक्कत है मैम!इस पर पूनम थोड़ा गुस्सा होकर बोली- मैम नहीं, पूनम बोला करो।साहिल ने कुछ ही देर में ठीक कर दिया और पूनम उसको थैंक्यू बोलने लगी।अब साहिल ने बोला- मैं चलूं?तो फिर पूनम उसको रोकने के बहाने बोली- ये मेरा ऊपर वाला पंखा नहीं चल रहा. मैंने उसे इशारा किया तो उसने हां में गर्दन हिला दी।फिर वो भाभी से कुछ बात करके बाहर आ गई और बोली- चलो घर चलते हैं।मैं उसके साथ चल दिया- बोलो, क्या बात करनी है?प्रिया- कुछ खास नहीं.

भाभी बोलीं- मेरी जान … इतना मत तड़पाओ … अब मुझसे रुका नहीं जा रहा है. उसकी नजर मेरी तरफ नहीं पड़ी थी और न ही उसे इस बात का कोई ध्यान था कि कोई उसे देख रहा है. अबकी बार उसने ये मौका मुझे दिया और खुद बिस्तर पर लेट गया और मुझे ऊपर आने के लिए कहा.

मैंने उसके हाथ से सिगरेट ले ली और एक कश खींच कर व्हिस्की से अपने मुँह का स्वाद ठीक किया.

अब मैं समझ गयी कि मेरी दो बार झड़ने के बाद अब ये पहली बार झड़ने वाला है. मैंने उससे कहा- अब इसे प्यार तो करो!उसने खामोशी से घुटनों के बल बैठते हुए मेरे लंड को सहलाया और उसकी चमड़ी को आगे पीछे करके गुलाबी सुपारे को अपने सामने कर लिया. फिर उसने मेरे दोनों पैरों को अपने कंधों पर रखकर लंड को मेरी चूत में डाल दिया.

शादी के एक वर्ष बाद ही मुझको बेटी हो गयी।अभी तक तो मेरा वैवाहिक जीवन अच्छा चल रहा था कि तभी एक दिन मेरे पति अपना मोबाइल बाहर भूल कर नहाने चले गए।आमतौर पर ऐसा कभी होता नहीं था, वो हमेशा अपना मोबाइल अपने साथ रखते थे. वो मुझे चूम रही थी।मैंने उसे अपने ऊपर लिया और अपना लोड़ा निकाला और उसे दे दिया।वो मेरे बड़े और तने हुए लोड़े को देख कर बहुत खुश हुई और उसे हाथ में पकड़ कर हिलाना शुरू कर दिया।‘आआआ आआआ आहहह …’ उसके हाथ में क्या जादू था … ‘ऊउउ उम्म ममम … आआ आअ ह्हह …’और अचानक उसने मेरा लोड़ा चाटना शुरू कर दिया. वो नारीसुलभ लाजवश बार बार अपने नंगे जिस्म को छुपाने का प्रयास करती कभी दोनों हाथों से अपने मम्मों को ढक लेती कभी दोनों हाथों से अपनी पैंटी को ढक लेती.

मैं कमरे से बाहर आया और वहां किसी ऐसी जगह की खोजबीन करने लगा जहां मैं हिमानी की चूत का आनन्द ले सकूं।जल्दी ही बैंकेट हॉल के थर्ड फ्लोर पर कोने में एक छोटा सा कमरा दिखाई दिया जिसमें एक बेड पड़ा था. मैं सोफे पर सिर रख कर आंखें बन्द किए धीरे धीरे मादक आवाज निकाले जा रहा था.

उसके बाद अपने घर आकर मैंने बहुत सोचा कि कैसे क्या करूं … सीधे सीधे टार्गेट पूरा करूं या खुशबू का रास्ता अपना लूं. वो मस्त हो कर मेरे लंड पर उछल उछल कर चूत चुदाई का मजा ले रही थी।अब उसने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और चूत से लंड को चोदने लगी।उसकी रफ़्तार बढ़ती जा रही थी और लंड के घोड़े पर सरपट दौड़ रही थी।अब उसकी चूत कसने लगी और लंड पर दबाव बनाने लगी।उसके चेहरे का रंग लाल हो गया और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. फ़रज़ाना दीदी बोली- मज़ा आ गया यार … तेरे लंड से अपनी चूत चुदवाकर! उंगली से चोद चोद कर बोर हो गयी थी। साला लंड में जो मज़ा है वो उंगली में नहीं।फिर हम दोनों ऐसे ही नंगे पड़े थे कि अचानक मेरे घर से फ़ोन आया.

मुझे रहा ही न गया और मैं उनके दोनों मम्मों को बारी बारी से दबाते हुए चूसने लगा.

ऐसी गोल गोल चूचियों को फिर से पीने का मन कर रहा था लेकिन अब स्पर्म जा चुका था और फिर से मैं सारी क्रिया को खराब नहीं करना चाहता था. फिर मैंने उसकी जीन्स में अंदर हाथ डाला और उसकी गांड के ऊपर से उसकी पैंटी को दबाने लगा. उसने लगभग आधे घंटे तक मेरी चूत चुदाई की और अपना वीर्य मेरी चूत में छोड़ दिया.

कभी कभी तो हेमा चाची मुझसे बात करते समय किसी मजाक पर हंसते हुए मुझे छूने की कोशिश करतीं. जैसे ही मैंने कविता की चूची दबाई … वैसे ही उसके मुंह से आह्ह … निकल गयी.

वो मेरे इस तरह आने से एक बार को तो चौंकी, मगर अगले ही पल उसने मुझे हैलो बोल कर बैठने को कहा. मेरा मूड बनता गया और मैंने इस प्रक्रिया को जोर जोर से दोहराना शुरू कर दिया; यानि मैं लेटे लेटे ही मुठ मारने लगा. पूरे जिम में हम दोनों ही थे, इसलिए सर मुझसे बिना शरमाए अपने कपड़े चेंज करने लगे.

इंडियन महिला सेक्सी व्हिडीओ

ये सब कैसे हुआ, इंडियन सिंपल गर्ल सेक्स स्टोरी पढ़कर आप भी मस्त हो जाएंगे.

उस समय मैं अपने मोहल्ले का बड़ा ही फ्रेण्डली किस्म का लड़का था, जो मोहल्ले की लगभग सभी भाभियों और चाचियों से बात करता रहता था. वो पहली बार था जब मैंने पानी निकालने के बाद उसे अपनी उंगली से पीया था. बल्कि अपना पूरा शरीर उसने जैसे मुझसे सौम्प दिया कि जो मेरे मन में हो, वो मैं कर सकती हूँ उसके साथ।आप मेरी अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पर अपनी राय अवश्य दीजिये.

अम्मी भी हंस कर बोलीं- हां यार, राणा अब बड़ा हो गया है, उसके सामने मुझे भी बड़ी शर्म आ रही थी कि वो न जाने क्या सोचेगा. तो उसने मुझसे कहा- क्या हुआ?मैंने उसको अपनी बांहों में ले लिया और वहीं किस करना चालू कर दिया. नंगे वॉलपेपरमेरा लंड खड़ा था गर्मी से पसीना मेरे बदन से चुआ जा रहा था … मगर मुझे बस चाची का महकता बदन उनकी चूचियों की रगड़न और चूमने से मेरे मुँह के अन्दर गई उनकी लार ही मदहोश करे जा रही थी.

आप लोगों को मैं बता दूँ कि मैं एक जमींदार खानदान से हूं और इसी वजह से आज भी गांव में हम लोगों की बहुत इज़्ज़त है. मैं 11वीं पास करके 12वीं में पहुंच ही पाया था कि फ़ेसबुक के जरिए हम दोनों मित्र बन गए थे.

मैं मामा के जिस्म का दीवाना था और मैंने अपनी हर चाहत पूरी करने की ठान ली. बाकी का जो वीर्य हेमा चाची के मुँह में था, उसे हेमा चाची ने पी लिया. उसने पूछा- तो मां ने कुछ कहा कि नहीं?मैं- नहीं, ऐसा तो कुछ खास नहीं कहा, बस हाल-चाल पूछ रही थीं और कह रही थीं कि मानसी को कोराना के हालात में यहां नहीं भेजना चाहिए था.

कुछ सात आठ मिनट की लंड चुसाई के बाद अमन ने अपना रस मेरे मुँह में ही छोड़ दिया और मैंने अपने अमन के नमकीन अमृत को अपने हलक के नीचे उतार लिया. ये सब हुआ यूं था कि सलमान ने लंड को थोड़ा सा बाहर खींच कर धक्का मारने की कोशिश की थी जिस वजह से लंड चुत में घुस ही न सका था. मैंने पूछा- क्या हुआ?जया- मैंने आपको गलत समझा था लेकिन दो दिन तुमको नहीं देखा, तो मुझे पता चल गया कि मुझे भी तुमसे प्यार हो गया है.

वो बोली- नहीं … पीछे नहीं।मैंने लंड को मामी के मुंह में डाल दिया और झटके मारने लगा.

मैंने अकेली पाकर उसको पकड़ा और उसके नींबू जैसे चूचे चूसकर उसकी कमसिन कुंवारी छोटी सी देसी चूत को चाट कर उसको गर्म किया. भाभी ने सिर्फ वासना से लंड की इस हरकत को देखी और लंड साफ़ करके हाथ हटा लिया.

मैं आज भी जब उसचुदाई की रातके बारे में सोचती हूं, तो मेरा रोम रोम झूम उठता है. एक दिन मैंने हिम्मत करके उसके मम्मों को पकड़ लिया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर चुम्बन कर लिया. चाची मुझसे चिपक कर अपने हाथ को मेरी छाती पर मसलते हुए बोलीं- भास्कर जिंदगी में ऐसा सुख मुझे आज तक नहीं मिला.

नीचे के फ्लोर में भैया भाभी, बीच में मम्मी पापा और ऊपर मैं रहता था. फिर इसी कमरे के सब दरवाजे बन्द कर लिए, सारी खिड़कियों पर पर्दा डालकर कमरे में बिल्कुल अंधेरा कर दिया. ये बात उसको भी समझ में आ चुकी थी क्योंकि मेरी बॉडी अब पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी.

बीएफ मोटा वहां पर बहुत सारी औरतें और लड़कियां थीं जो भाभी के साथ बैठी हुई हंसी मजाक कर रही थी. मगर हो कुछ और ही गया!नमस्कार दोस्तो! कैसे हो आप सब?मेरी पिछली कहानियों को आप सब ने बहुत प्यार दिया और आप सभी की तरफ से बहुत सारे संदेश भी मिले.

देसी सेक्सी स्टोरी हिंदी

दी भी मजे से प्रतीक का लण्ड जीभ लगाकर चूसने लगी।इतने में मैंने अपनी टीशर्ट और अपनी जीन्स उतारी दी।दी प्रतीक का लौड़ा चूसते हुए मेरा लण्ड पकड़ कर हिलाने लगी. हम दोनों ने अपना अपना ग्लास उठाया और उसने चियर्स कहते हुए मेरी सील टूटने के जश्न शुरू होने की बधाई दी. दो दिन तक उसके घर नहीं गया तो अगले दिन उसकी मम्मी घर आई और मुझसे बोली- दो दिन से घर नहीं आए मोहित? सलोनी याद कर रही थी तुम्हें!डरते हुए मैंने कहा- हां आंटी, वो थोड़ा काम में लगा हुआ था.

आंटी बोली- मुझे तेरा माल अपनी गांड में महसूस करना है।ये सुन अर्पित ने आंटी को अपने नीचे लेटा कर उनके दोनों पैरों को अपने कंधों पर रखा और लंड से कंडोम उतार लिया. मैं उन्हें शॉपिंग करवाने ले गया और लाल कलर की ड्रेस गिफ्ट की जो उन पर और भी सेक्सी लग रही थी।शाम को दी के घर पर ही पार्टी थी. fire सेक्सी पिक्चरजवान जिस्म थे, तो जल्दी ही फिर से आग लग गई और हम दोनों ने फिर से चुदाई की.

उस टाइम उसकी उम्र 28 साल थी।मैं उसको देखकर ही उसका दीवाना हो गया था।मुझे उसको पटाने में काफी मेहनत करनी पड़ी। आखिरकार वो फ्रेंडशिप के लिए राज़ी हो ही गई।उसके दो बच्चे हैं- एक लड़का और एक लड़की।वो दोनों स्कूल जाते हैं।उसके सास ससुर उनसे अलग रहते हैं और उसके हस्बैंड विदेश में हैं। उसका पति दो साल में दो महीने के लिए ही आता है.

अब बताने के बाद साहिल ने अपना हाथ पीछे किया और रानी से फिर से लिखने को बोला।अबकी गलती करने पर साहिल अपने दोनों हाथों को उसके हाथों के नीचे से ले जाकर कीबोर्ड पर टाइप करने लगा जिसकी वजह से साहिल का हाथ रानी के चुचों को मसल रहा था।अगले पल साहिल ने फिर से रानी से लिखने को बोला. वो बोली- ब्रा के हुक क्यों खोल दिये?मैं बोला- ये हाथ में लग रहा था.

उस वक़्त भी मेरी नजर फ़रज़ाना दीदी पर ही थी और उसने भी ये देख लिया।फिर हम चाय पीने लगे. फिर मैंने उसको साड़ी उतारने को कहा तो वो उठ खड़ी हुई और अपनी साड़ी उतारने लगी. मुझे उनकी आवाज से एकदम से कुछ याद सा आ गया और मैं उनके दोनों मम्मों को बारी बारी से चूसने लगा.

इधर मैं धक्के पर धक्के देते हुए उससे कहा रहा था- आह बेबी … अभी मजा आने लगेगा … हहह.

वो बोली- मगर मैं उससे प्यार करती थी, मुझे नहीं पता था कि वो मेरे साथ ऐसा करेगा. इस दूसरे राउंड में भी नन्दा एक बार की झड़ चुकी थी, पर मैं अभी नहीं झड़ा था. लेकिन उस लड़के के बारे में जब मैंने रागिनी को पूरा सच बताया तो वो रोने लगी और बोली- मुझे नहीं मालूम था कि ये ऐसा लड़का है।मैंने रागिनी को समझाते हुए बोला- देखो मुझे पता है कि इस उम्र में ये सब होता है.

हर वीडियो डाउनलोडकविता- मेरे पति को भी वो सूट बहुत पसंद है, इसलिए मैं जब भी पहनती हूं वो खोल देते हैं. वो बोली- तुम तो काफी एक्साइटेड लग रहे हो?मैंने कहा- हां, आप भी होना चाहती हो क्या एक्साइटेड?वह मुस्करायी और उसने अपनी वन पीस ब्लैक ड्रेस की जिप पीछे से खोल दी और गर्दन हिलाकर पीछे की ओर इशारा कर दिया.

मर्द मर्द की सेक्सी वीडियो

उससे मेरी ज्यादा बात नहीं होती थी लेकिन कभी कभी पढाई के किसी टॉपिक को लेकर बहसबाजी जरूर हो जाती थी. ‘आह मजा आ गया … ईसीईई उई आह … और तेज रगड़ दो … आह मस्त लंड है तुम्हारा … आह. फिर मैंने उसकी चूचियों को पर थप्पड़ मारकर कहा- बता साली रांड, ये क्या चल रहा था?अब भी उसने कोई जवाब न दिया.

फिर मैंने अपनी पैंट को उतार दिया और उससे कहा- मेरी चड्डी उतार कर लंड को चूसो. उसने फर्स्ट फ्लोर पर एक कमरे की लाइट ऑन की और मुझे बोली- यहां सोना है आपको. बस कमी रह गयी थी तो ये कि वीर्य से भरे हुए गांठ लगे कॉन्डम फर्श पर नहीं पड़े थे.

मेरे सामने मैडम अब भी ब्रा में थीं मगर उनके मम्मे ब्रा से बाहर निकले हुए थे. [emailprotected]मेरी चुत स्टोरी का अगला भाग:बॉस के बिज़नेस पार्टनर से चुद गई- 2. वो मेरी रियल सिस्टर नहीं है बल्कि हमारे घर के सामने वाले घर में रहती थी और मैं उसको दीदी कहकर ही बुलाया करता था.

कुछ देर में मुझे दर्द से राहत मिल गई और उसके लंड से अपनी गांड मरवाने का मजा लेने लगा. पोर्न फिल्मों में गांड मरवाते देखती थी तो मन तो मेरा भी था कि एक बार पिछवाड़े को भी ड्रिल करवाना है.

मैंने उसको बेड पर पीठ के बल लेटाया और उसकी टांगों को कंधे पर रख कर उसकी चूत में लंड को पेल दिया.

आप भी मुझे उस वक्त ये कह देतीं तो मैं अपने घर पर यही कह कर आपको ढंग से चोद कर ही जाता. होंडा की बुलेटउसके लिए आप सभी का धन्यवाद।दोस्तो, यह सेक्सी टीचर चुदाई कहानी मेरी और मेरी प्रिंसिपल मैडम मोनिका (बदला हुआ नाम) की है।मोनिका की उम्र लगभग 35 साल, हाइट 5. कसावा क्या हैकुसुम अब सोच में पड़ गई।बाबा- एक समाधान मेरे पास है। तुम मां भी बन जाओगी और किसी को कुछ पता भी नहीं चलेगा।कुसुम हाथ जोड़ कर बोली- बाबा तो बता दो. उसने अपने लंड पर कॉन्डम पहन लिया और उसकी चूत पर ऊपर से लण्ड रगड़ने लगा.

कुछ देर उसी स्थिति में रहने के बाद फिर से जब अलीमा ने अपने चूतड़ हिला कर इशारा किया, तो बलविंदर समझ गया कि अब लंड चुत में अन्दर बाहर किया जा सकता है.

आप लोग तो जानते ही हैं कि कोरोना के कारण अभी देश में आधा अधूरा लॉकडॉउन सा ही चल रहा है. फिर एक हल्की सी आवाज हुई, तो मैं एकदम से घबरा कर आगे पीछे देखने लगा कि कहीं आंचल आ तो नहीं गईं. 10 मिनट के बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया।मैंने रानी से बोला- रानी एक बार चूसोगी?उसने कहा- एक शर्त पर!मैंने पूछा- क्या?वो बोली- मेरी चूत को जीभ से चोदने का मजा दे दो मुझे.

पहले आंटी ने मेरा एक टट्टा मुँह में भर लिया, फिर दूसरा भी चूसने लगीं. लेकिन आज तुझे मेरी कसम है कि तू मुझे इससे चुदने से नहीं रोकेगी।अब मैं कुछ नहीं बोल सकती थी उसकी कसम के आगे!तो उसने एक प्लान बनाया कि मैं 6 बजे तक मार्किट चली जाऊँ … जिससे अगर कोई दिक्कत होगी तो सिर्फ राजसी का नाम आयेगा. इसके बाद मैंने उसके पूरे शरीर में केक लगाया और पूरे शरीर को चाटना शुरू कर दिया.

और साली की सेक्सी

मैंने कहा- तुम लोग बस बैठी रहो, थोड़ी देर बाद मैं तुम चारों को एक साथ चोदूंगा. मगर जिस दिन उनकी चुदाई एक गैर मर्द से हुई, उस दिन मैंने अपनी अम्मी की खूबसूरत मादक नंगी जवानी के दीदार किये थे. जिसपे साहिल की नज़र थी।अब पूनम से साहिल का सर पौंछने के बाद उसके चेहरे को पौंछा.

मैंने कहा- कैसा है?वो मुस्कुराईं और अगले ही पल घुटनों के बल बैठ कर मेरी चड्डी को नीचे करके लंड को बाहर निकालने लगीं.

उन्होंने मुझसे कहा- इधर ही किचन में आ जाओ, यहीं बात करेंगे, तब तक मैं खाना भी बना लूंगी.

मेरे साथ कई बार ऐसा हुआ कि औरत संतुष्ट नहीं हो पायी और मेरे पैसे कटे. वो सिसकारती हुई बोली- आह अंकल … अब क्या कर रहे हो … इतने दिन से मैं रोक रही थी … तो पास आने की कोशिश कर रहे थे. दीदी का दूधबिस्तर पर ले जाकर बलविंदर ने अलीमा को आराम से ऐसे लेटा दिया, जैसे अलीमा कोई नाजुक फूल हो.

लेकिन जैसे ही मैंने उनका फ़ोन देखा … मेरे पैरों के नीचे से मानो ज़मीन खिसक गई।वो फ़ोन किसी लड़की का थी जिस पे उसका नाम और आगे जान लिखा हुआ था।जब वो फ़ोन कट गया तो मैंने उनका मोबाइल खोलने की कोशिश किया लेकिन उसमें पासवर्ड लगा था. फिर तुम आराम से अपनी बहन की लाइव चुदाई देख लेना कि कैसे तुम्हारी बहन चार लंड से चुदती है. अजीत- तू तो खेली हुई रंडी लगती है!अंजलि- तो तुमको क्या लगा था?शेखर- हम लोगों को तो पता ही है तेरे बारे में सब कुछ.

शेखर: एक मिनट … पहले मैं चोदूंगा, फिर तुम।अंजलि: एक साथ ही करो दोनों. अब आंटी ने बैठ कर ब्लाउज और पेटीकोट, चड्डी को धोया और जैसे ही वो झोपड़ी की तरफ मुड़ीं, मैं वापिस झोपड़ी में आ गया.

मैं बोला- क्यूं साली, बहुत घमंड है न तुझे अपनी जवानी पर! तेरी ये जवानी मैं सारी दुनिया को दिखा दूंगा.

उन्होंने मेरा हाथ पकड़ा और कहा- बहू आज तक ऐसी सेवा मेरी किसी ने नहीं की है, जैसे तुमने की है. लंड चुत में लेते ही मेरी अम्मी की दर्द के मारे चीख निकल गई और वो सलमान की छाती को अपने हाथ से पीछे धकलेने लगीं. मैंने वाशरूम से उस लड़के को आवाज देकर कहा- सुनिए जी, जो मेरे बैग में एक पैकेट है, उसको दे दो न.

मेरा गांव मेरा देश फुल मूवी अब आगे की बाथिंग सेक्स स्टोरी:मैं अपने घर से फोन आ जाने के कारण घर चला गया और वो काम किए, जिसके लिए घर वालों ने मुझे बुलाया था. मैं उसके लंड को पकड़े हुए ही था- फिर वो लड़का क्या करता है?वो मेरे हाथ को अपने हाथ पर दबाता हुआ बोला- वो मेरे लंड को चूसता है.

भाभी ने कहा- हां आपका ड्रम अन्दर है, किसी का सामान निकलना था तो हटा कर मैंने अन्दर रख लिया था. मेरे लंड के बाहर निकलते ही मेरा लंड बहुत ही चिपचिपा और लिसलिसा सा हो गया था. मैंने कहा- जब तेरे जैसी रांड चुदने को मिल गई हो तो लंड की क्या मजाल तो खड़ा होकर सलामी न दे.

सेक्सी वीडियो पुरानी हिंदी

प्रियंका की लंड लेने की भूख मिट गयी थी और मेरी उसकी चूत को चोदने की चाह. मैंने उसके निप्पल्स को देखा और अपनी उंगली की चिमटी में उसके निप्पल को जोर से खींचा. मैंने पूछा- क्या कर रहे हो?तो कहने लगा कि फूफा के बिजनेस के हिसाब का काम कर रहा हूं.

जैसे जैसे मेरी जीभ उसकी चूत के अंदर जाती वैसे ही उसके मुंह से एक तेज़ सिसकारी निकलती जाती. मैंने बिना आवाज किये खिड़की के अन्दर झांका तो सलमान ने मेरी अम्मी को एक मुर्गी की तरह दबोचा हुआ था और अम्मी हंसते हुए उसकी पकड़ से छूटने के लिए मचल रही थीं.

मैं बिस्तर पर लेट गया और वो मेरे लंड पर अपनी चुत फंसा कर कूदने लगी.

मैंने कई मर्तबा सोचा कि अपनी अम्मी की एक गैरमर्द से अपनी चुत चुदाई की चीटिंग सेक्स स्टोरी को लिख कर भेजूं, मगर कभी अभी पढ़ाई के चलते समय ही नहीं मिला … या यूं कहना ठीक रहेगा कि साहस ही नहीं हुआ. क्यों न रात में भाभी की चुदाई करके उसको मनाया जाये?वैसे भी भैया भाभी को तो साथ लेकर नहीं जायेंगे क्योंकि उनकी खेत वाली चूत चुदाई का सारा मजा खराब हो जायेगा. थोड़ी देर बाद मेरा शरीर अकड़ने लगा और मैं मम्मी के मुंह में ही झड़ गया.

वो मस्त आवाजें निकालने लगी- ऊह आह आई लव यू सुरेश!मैंने भी कहा- लव यू हेमा डार्लिंग. मेरे पापा मुझ पर बहुत भरोसा करते हैं, मैं उनका भरोसा नहीं तोड़ सकती. शुरू शुरू में सब ठीक था … फिर मैं सैट हो गई … मतलब अब मैं अपने जॉब का काम समझने लगी थी.

मैं बोला- 7 दिन का भूखा है मेरा लंड।वो बोली- गुड़गांव में कौन देती है इसे अपनी जान की खुराक?मैंने कहा- चाची जान नहीं जन्नत का मज़ा!और अब मैं झटके मारने लगा.

बीएफ मोटा: लेकिन मेरा तना हुआ लंड उठा था वह मेरे शॉर्ट्स से स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहा था।मैं वहां से बस भागने ही वाला था कि तभी वाशी बोली- मीत, कहाँ जाता है? रूक!और वह मुझसे पीछे से चिपक गयी।मैं इतना दंग रह गया कि वाशी, जिसे मैं भोली-भाली समझ रहा था, वह मुझसे ज्यादा बिगड़ैल लड़की थी।उसने मुझे इस तरह से पीछे से पकड़ लिया कि मैं हिल नहीं पा रहा था. उसे हालात का भाब हुआ तो वो रोने लगी और बोली- पापा ये ठीक नहीं किया आपने.

शुभम फ़ोटो क्लिक कर रहा था उन दोनों का। वीडियो भी बना रहा था।शुभम: वाह … टैक्सी, तू तो नंगी होकर एकदम बवाल लगती है,अंजलि: आह्ह … और जोर से चाटो, खा जाओ मेरी चूत को!ऐसा कहते हुए वो आदित्य के मुंह में झड़ गयी और आदित्य ने बहन को बेड पर उल्टा पटक दिया. मैंने मम्मी को घुटनों के बल बैठा दिया और तौलिया उतार कर लौड़ा उसके मुँह में दिया. कई मिनट तक अर्पित ने लौड़ा चुसवाया और फिर आंटी चुदने के लिये तैयार हो गयी.

दीदी बोली- एक दिन में ही थक गया बेटा, रोज कैसे करेगा?मैं बोला- दीदी अब क्या करूं? आप इतना तेज करने को बोलती हो कि मैं थक जाता हूं.

भाभी फोन पर भैया से बात करके मुझे फोन देकर वापस चली गईं और मैं भी कुछ देर अपना माथा पीटता रहा. उन्होंने कहा- मेरा पति काम के चक्कर में कभी मुझ पर ध्यान नहीं देता. यहां मैं ये बता दूं कि मंजुला का ये फोटो मैंने चोरी से खींचा था जिसका उसे भी पता नहीं था.