बीएफ व्हिडिओ बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,कॉलेज सेक्सी वीडियोस

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स व्हिडिओ गुजराती: बीएफ व्हिडिओ बीएफ बीएफ, फिर वो उठी और मुझे नीचे पटक कर मेरे लंड को भूखी शेरनी की तरह चूसने और खाने लगी.

सेक्सी चौकड़ी

अब पोजीशन ये थी कि भाभी की दोनों जांघों के बीच सीट का हैंडल था और उनके दोनों हिप्स मेरी जांघों में फिट थे. बिहार सेक्सी फिल्मेंफिर एक जोरदार किस करके बोली- आपने तो आज जन्नत की सैर करा दी … आपने अभी तक अपना लंड भी मेरी चूत में नहीं डाला, फिर भी मुझे इतना मज़ा दे दिया.

भाभी धीरे धीरे मेरी तरफ झुक कर बैठ गई और अपना एक हाथ उन्होंने बीच में रख लिया. काजल गुप्ता सेक्सी वीडियोजब भी मैं घर से बाहर निकलती हूँ, तो सभी की नज़रें मेरी गांड पर ही टिकी रहती हैं.

कुछ देर तक लंड से यूं ही खेलने के बाद उसने लंड पकड़ कर मसलते हुए मुठीयाने लगी और फिर वो झुकी और सुपारा चाटने लगी और फिर गप्प से आधा लंड मुंह में भर लिया.बीएफ व्हिडिओ बीएफ बीएफ: वो बोली- बहन के लंड कहाँ था इतनी देर से?तो वो बोला- मुझे छुपकर आना पड़ता है.

मैंने कहा- आपको क्या लगता है … मैं आपकी झूठी तारीफ़ करता हूँ?वो बोलीं- झूठी सच्ची तो नहीं मालूम मगर मेरी तारीफ़ कोई करे, तो मुझे अच्छा लगता है.पता नहीं … मेरी जांघों में ऐसी क्या बात है … पर आज तक जितनों से भी चुदी हूं सब मेरी जाँघों से लिपटे रहते हैं और सब मेरी मोटी और ऊपर की ओर उठी हुई जाँघों की प्रशंसा जरूर करते हैं।मैंने अपनी जवानी में 20 वर्ष की उम्र तक कभी भी चुदाई का मौका नहीं छोड़ा। यहां तक कि मैं एक बार अर्धवार्षिक परीक्षा में पास होने के लिए 52 वर्षीय हेमन्त सर का लंड चूस कर माल पी गयी थी.

भालू का सेक्सी - बीएफ व्हिडिओ बीएफ बीएफ

मुझे विश्वास ही नहीं हुआ कि उस जैसी कमसिन कन्या मेरे साथ चुदाई को राज़ी हो जाएगी.रश्मि की नंगी चूची देख कर जैसे उसको कोई पुराना गड़ा हुआ खजाना मिल गया हो, कुछ ऐसी चमक आ गयी थी उसकी आंखों में।धीरज खोकर उसने रश्मि की चूचियों को अपने हाथों में भर लिया और उनको आराम आराम से भींचना शुरू कर दिया.

अब रश्मि भी रिया और रेहाना की तरह होटल्स में जाकर ग्राहकों को खुश करने लगी. बीएफ व्हिडिओ बीएफ बीएफ वे बोलीं- राज मैं आज 4 साल बाद सेक्स कर रही हूँ … मैं बहुत खुश हूँ.

तुम्हें तो पता ही है कि मैं तेरे जीजू के अलावा और किसी को घास तक नहीं डालती हूँ.

बीएफ व्हिडिओ बीएफ बीएफ?

मैंने कहा- मैंने तो सोचा था कि जब पहली बार तुमने मेरी कहानी पढ़ी होगी और तुम्हें मेरी कहानी अच्छी लगी होगी. फिर उसने अपने हाथ से मेरे गाल दबा कर मुँह खोल कर अपना लंड मेरे मुँह में घुसाने लगा. मैं थॉमस के लंड को लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी और थॉमस भी हल्की हल्की आहें ले रहा था.

बाजू में निष्ठा गहरी नींद में सोई हुई थी उसकी सांसों के उतार चढ़ाव से चादर के भीतर से उसके स्तनों का उठना बैठना साफ दिख रहा था. कुछ ही देर में मेरा लंड फिर से ताव में आने लगा साथ ही मैं निष्ठा की गांड का छेद लंड से टटोलने लगा. इस तरह उन पांचों पुलिस वालियों ने चुत चुदाई का मजा लिया और लंड की ताकत को सराहा.

मामी को लाइव सामने देख कर मैं बता नहीं सकता कि मुझे क्या महसूस हो रहा था. रमेश ने ये बात सुनते ही मोबाइल वापस नीचे रख दिया और बड़े गौर से उसका खूबसूरत चेहरा देखने लगा. सेक्स कहानी के अगले भाग में हॉस्पिटल में नर्स की चुदाई की कहानी को पूरे विस्तार से लिखूंगा.

उन्होंने तुरंत मुझे एक चाभी दी और बोले- यहां बगल में मेरा एक फ्लैट है … तुम वहां रह लो … क्योंकि तुम दूर से आती हो … और तुम जैसी खूबसूरत महिला एक छोटी सी खोली में रहे, ये मुझे अच्छा नहीं लगेगा. मैंने गुरजीत को बेड पर लिटाया तो देखा कि उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं है.

रास्ते भर वह एएसआई और लेडी कॉन्स्टेबल हम तीनों को डराते, धमकाते रहे.

अंकल ने अपने होंठ मेरे होंठ पे लगा कर मेरा एक हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया।मैंने भी अंकल का लंड थाम लिया और आगे पीछे करने लगी.

तो उसने पैंट अलग करके गाड़ी के अन्दर डाल दी और मेरे घुटने के नीचे से हाथ निकाल कर मेरी गांड पर सहारा देकर मुझे अपनी बाजू में उठा लिया. इस समय भले में कहने को ही चिकना नहीं हूँ, पर उस वक्त मैं सही में चिकना लौंडा था. मैंने नेहा से कहा- नेहा मेरी एक बात मानोगी?नेहा कहने लगी- मैं तुम्हारी सारी बातें मानूंगी, बताओ क्या बात है?मैंने नेहा से कहा- आज जब तुम्हारी मम्मी यहां आए तो तुम अपनी मम्मी से कहोगी कि रोहित का फोन आया था और मैंने उस हरामजादे को बोल दिया है कि दुबारा अगर यहां फोन किया तो मैं पुलिस में रिपोर्ट कर दूंगी.

तो आप कहानी का आनन्द लीजिए।मेरी इस कहानी की शुरूआत भी अन्तर्वासना की पाठिका द्वारा मेल पर चैट करने से होती है. कुछ ही देर के बाद मेरी प्यारी नेहा एक पराये मर्द के सामने नंगी होने वाली थी. बिन्दू को मैंने बांहों में भर कर किस किया और उसे उसके कमरे तक छोड़ कर नीचे की सीढ़ियों के दरवाजा खोल दिया.

मैंने भी उसकी बात पर बोला- हां यार उसने …इसके आगे में कुछ बोलता तभी फोन रिंग होने लगा.

मैंने बिन्दू की कमर और चूतड़ों पर हाथ फिराना शुरू किया तो बिन्दू ने अपनी चूत को मेरे लंड पर दबा दिया. उनका लंड फूल कर एक मोटे तंदरुस्त साढ़े सात इंच लम्बे लौड़े में तब्दील हो चुका था. चूत चाटने के बाद अंकुश ने मुझे बालकनी की रेलिंग पर झुका कर मुझे घोड़ी बना दिया और अपने लंड के टोपे को मेरी चूत के अन्दर डाल दिया.

मैंने रास्ते में ही सब स्नाक्स एंड लाइट डिनर कर लिया था ताकि चुदाई के वक्त मुझे भूख की तलब न लगे. ऊपर इलास्टिक के दम पर टिके रहने वाली फैंसी फ्राक पायल के नोकदार मम्मों में अटका हुई सी प्रतीत हो रही थी. आंटी बोलीं- राज क्या हुआ?मैं बोला- आंटी, मैंने पहले कभी नहीं किया है.

जैसा कि आप जानते है मैं रायपुर छतीसगढ़ से हूँ, लेकिन मैं अभी कॉम्पिटिशन एग्जाम की तैयारी के लिए दिल्ली में रहता हूँ.

सच्ची जीजू? तो फिर जीजू फक मी जल्दी … चोद डालो मुझे; अब नहीं रहा जाता!” साली जी थरथराती आवाज में बोली और मेरा लंड पकड़ कर मसलने लगी. नीचे मिनी स्कर्ट होने के कारण से ये मेरे घुटनों के ऊपर तक ही आ रही थी, जिससे मेरी गोरी गोरी जांघें साफ़ दिख रही थीं.

बीएफ व्हिडिओ बीएफ बीएफ मैंने जाकर देखा तो वो भरवां करेले बनाने के लिये करेले चीर कर उनमें मसाला भर रही रही थी. तो उसके बाद उसने अपना एक हाथ मेरी चुचियों पर रख दिया और घुमाने लगा.

बीएफ व्हिडिओ बीएफ बीएफ अब मैं पूजा के साथ कुछ ऐसा करने वाला था जिसे पढ़ कर मेरी चुदासी लौंडियों की चूत और चोदुओं का लंड बहने लगेगा. मैंने उसके एक निप्पल को जोर से पकड़ कर ऊपर की ओर खींचा, जिससे उसने दर्द भरी ‘आआह.

सभी कमसिन कलियों भाभियों और आँटियों को संदीप साहू का प्रेम भरा नमस्कार.

एक्स एक्स एक्स वीडियो दिखाइए

अब प्रतिभा मेरे लंड के सुपारे को ही चूसने चूमने लगी, लंड के नीचे गोलियों को सहलाने लगी. मुझसे बिल्कुल भी नहीं चला जा रहा था क्योंकि मेरी गांड और चुत में बहुत दर्द हो रहा था. मैं अपनी गांड मटकाते हुए घर से निकली और चूंकि कुछ ही दूर पर मेरी क्लास थी, तो मैंने पैदल ही जाना उचित समझा.

वो पास रखी कुर्सी पर बैठ गया और मुझे अपने खड़े लंड पे बैठने का इशारा किया. मैडम ने मुझे चूमा और बोलीं- सच में मेरी आग शांत हो गई … आई लव यू जान. जब पायल और मैं ही रह गए तो पायल ने टाइम देखा और कहा- अभी बीस मिनट बाकी है, तब तक बैठकर बातें करते हैं.

मैं अपनी पूरी मदहोशी में थॉमस के लंड पर उछल रही थी और पूरे रूम में बस फच फच फच की आवाजें आ रही थीं.

मैं झट से उसके लंड को शांत करने के लिए चढ़ गयी और उछल उछल कर चुदवाने लगी. उन्होंने मुझसे बोला- ओके … आप बैठो थोड़ी देर में बॉस बुलाएंगे, तो आप अन्दर चली जाना. रश्मि ने थोड़ा ज़ोर लगाया ताकि अपना हाथ छुड़ा सके लेकिन अगले ही पल उसे याद आ गया कि वो यहाँ रमेश की रात रंगीन करने आई है ना कि कोई विरोध करने।हाथ का स्पर्श अध-खड़े लंड पर महसूस कर दोनों की हालत पतली हो गयी.

मैंने अपनी बांहें फ़ैला दीं। हम फिर से एक दूसरे की खुजली मिटाने में जुट गए।उस रात हमने चार बार धुंआधार चुदाई की. अब आगे:मैंने अपनी जीभ को उसकी कुंवारी चूत के कुंवारे छेद में डाल कर चोदना चालू किया, तो मीता भी उचक कर मेरा लंड चूसने लगी. वो मुझे दूर खेतों में ले गया, जहां मेरी पहचान वाले तीन लड़के पहले से मौजूद थे.

फिर उसने थोड़ा सा थूक निकालकर मम्मी की गांड पर लगाया और गांड चाटनी शुरू कर दी. हाय मेरी चूत को फाड़ दो… कहां रह गए थे … पहले क्यों नहीं मिले? सारी जिंदगी छोटे से लंड से चुदती रही.

मेरी आँखें अब बंद हो रही थी, मेरी चूत की गर्मी अब बरदाश्त के बाहर थी. अब आगे:मैंने उसे समझाते हुए कहा- देखो … मैं ऐसा कह रहा हूं, जरूरी नहीं कि तुम मान ही जाओ. मैंने पूछा- तीन साल पहले क्यों और कैसे तुम्हारे मन में ऐसा आया?अब गुरजीत का जवाब और भी अधिक चौंकाने वाला था, उसने बताया:एक दिन रात में आप हमारे घर के सामने टहल रहे थे तो मेरे पापा ने मम्मी से पूछा- ये अक्सर यहां क्यों टहलता रहता है?इस सवाल से मम्मी सकपका गई और बोली- मुझे क्या पता, क्यों टहलता रहता है.

मैं चाहता था कि अब वो मुझे जब हुकुम करें … तब ही लंड अन्दर पेलूंगा.

वो अपनी मां से कहीं अधिक हसीन निकली, वो प्रीति जिंटा जैसी दिखती थी. भाभी कहने लगी- राज मैंने कभी गांड में नहीं करवाया है, मुझे बहुत डर लगता है. फिर रॉबर्ट ने अपना लंड मेरी चुत से बाहर निकाला और मैंने उसके लंड को अपने हाथ में लिया.

मैंने उसको पहले ही बोल दिया था कि उसकी चूत में लंड देते हुए मैं अबकी बार कॉन्डम का यूज़ नहीं करूंगा. मैंने पहले तो चुत को पानी से धोया … फिर शेविंग क्रीम से अच्छे से चुत पर झाग बनाया.

इसके बाद एक बार मुझे उसके घर जाने का अवसर मिला, तो मैं उस दिन उसे चोदने की पूरी तैयारी से गया हुआ था. मेरी नंगी चूचियां उसके सामने हिलने लगी- आह्ह चाहत … क्या चूत है तेरी … उम्म उम्म्म्म अह्ह्ह्ह फ़क की मादक आवाज़ पूरे जिम में गूंज रही थी. मैं चीख रही थी- आह डार्लिंग … मेरी चुत फाड़ दो … आह अहह थॉमस फक मी बेबी … फक मी हार्ड जान.

जिम एक्स एक्स एक्स

मैं भी मन ही मन सोच रही थी कि तुम्हारे जाने के बाद तो अपनी चूत की गर्मी शांत करवाने के लिए पड़ोसियों की ही मदद लेनी पड़ेगी.

हाथ जब पैंटी के अंदर जा सकता था तो वहां नहीं डाला? जब विन्नी चुदने को तैयार है तो पूरी तरह उसको निर्वस्त्र क्यों नहीं किया?दोस्तो, ऐसा मैंने इसलिए नहीं किया क्योंकि मुझे अकेले को केवल अपनी ही भूख नहीं मिटानी थी. नेहा के कहते ही मैंने अपने लंड पर दबाव बढ़ाया, सुपारा अंदर जाने लगा, ऐसा लग रहा था जैसे लौड़ा कोरी चूत में जा रहा हो. मैंने कल्पना की कि मैं और क्लेरिसा ऑफिस के टैरेस फ्लोर पर देर रात तक काम कर रहे हैं.

कुछ देर मज़ा लेने के बाद वो थोड़ा साइड में हुआ और तिरछा होकर बैठ गया. उसके दोनों घुटनों के नीचे से अपनी दोनों बाजू निकालकर नेहा को मैंने लण्ड पर लटका लिया और अपनी हथेलियों से उसके चूतड़ों को झूला झुला कर लंड पर मारने लगा और साथ साथ कमरे में थोड़ा चलने लगा. सेक्सी फिल्म इंडियन कीइस बात पर मैंने थोड़ी असहजता दिखाई और पूछा- क्यों मामा का इतना लम्बा नहीं है क्या?वो ‘हुंह.

हमारा घर एल L शेप में बना हुआ है और हमारी करीब 30 बीघा खेती की जमीन हैं. आज गर्मी ज्यादा होने और बिजली न आने की वजह से आंटी भी छत पर ही सो रही थीं.

मैं भी अपने पति के साथ मेरी सुहागरात को लेकर कुछ ऐसे ही सपने देख रही थी. मौसी- तब फिर ठीक है … कोई नहीं, वैसे भी मैं प्रीति से तीन ही साल तो बड़ी हूँ. सारे हलवाहों व अन्य स्टाफ के साथ ये देखने के लिए रहना पड़ता था कि वे मक्कारी न करें.

मैंने नीचे एक ब्लैक स्कर्ट पहन ली, जो कि सिर्फ मेरी कमर से मेरी चुत तक ही आ रही थी. उसकी भरी हुई चुचियां उसके झुके होने से ऐसा लग रही थीं, जैसे अभी छलक कर बाहर आ जाएंगी. फोन भी चालू ही था, उससे बात करते करते मैं उसके घर के पास पहुंच गया.

तभी उतनी देर में सर ने अपना लंड पेंट में से निकाल कर धीरे से मेरी स्कर्ट उठा कर एक ही बारे में अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया.

तभी अर्पित ने मेरा टॉप ऊपर खींचा और मेरी बांहों से उतारते हुए उसको मेरे जिस्म से अलग कर दिया. बेड की हाईट इतनी मस्त थी कि उसका लंड पूरी सही जगह पे मेरे चूत को स्पर्श कर रहा था।मैंने अपनी चूचियों को खींच कर अपने मुँह के पास लाकर चूसते हुए इशारा किया- चोदो मेरे राजा!अर्जुन ऊपर अपनी कातिल हंसी के साथ मेरी चूत को फाड़ देने वाले लंड को मेरी चूत के पूरी गहराई में उतार दिया.

मैं उस दिन बिना ब्रा पैंटी के थी, मेरे दोनों हाथ चुत पर चले गए, जिससे चुत ढक गयी. उसमें भैया कभी किस करते, स्तन दबाते तो कभी भग्नासा को सहलाते भाभी की तो लगातार सिसकारियाँ निकल रही थी।ये सब करते-करते जब थोड़ी देर हो गयी तो भैया ने भाभी को बाथटब में ही घोड़ी बना दिया और पीछे से चुदाई करने लगे. उनकी चुत इतनी गुलाबी थी … मानो मामी ने अपनी चुत में गुलाबी लिपस्टिक लगा रखी हो.

कुच्ची ने इतना बोलकर मेरे कंधे पर हाथ रखा और कान में आहिस्ते से बोला- तो वो फोन वाली लड़की को चोदा कि नहीं … क्या नाम था उसका?मैं- गुड़िया!हम दोनों ने साथ में ही नाम लिया. मैं लंड सैट करने के नजरिये से थोड़ा खिसका और उसके उभरे चूतड़ों पर चटाक से मैंने एक चांटा दे मारा. मैंने कहा- चप्पू देखने से पता चलेगा कि नदी में चलने लायक हैं भी या यूं ही डुप डुप करके नदी को गंदा करके रह जाएंगे.

बीएफ व्हिडिओ बीएफ बीएफ उसने साड़ी पहन ली और फिर मैंने उसके हाथों में हरे रंग की चूड़ियां पहनाईं. नीरा- राज, अभी नहीं प्लीज़! अमन के पीठ पीछे ये सब करना ठीक नहीं होगा.

एक्स एक्स एक्स मूवी ब्लू

मैं अपने प्रेम को अपने अंदर समेटे खुशी के बहाने अपनी प्रेमिका को महसूस कर लेता था. बाकी के बचे तीन दो लड़कों ने भी बारी बारी से मेरी चुत चुदाई के पूरे मज़े लिए. कभी वो एक ग्राहक के साथ रात बिताती तो कभी एक साथ दो दो को ले जाती और दोनों को ही झेलते हुए खुद भी चुदाई का मजा लेती और उनको भी अच्छी तरह खुश कर देती.

उनकी टांगें फैलाकर मेरे लंड का सुपारा उनकी चुत पर ऊपर से नीचे तक रगड़ने लगा. उसने एक झटके में अपना जांघिया और बॉक्सर निकल कर दूर कर दिया और पूरी जोर से एक बार में ही अपना पूरा 8 इंच का खड़ा लंड मेरी गीली चूत में पेल दिया. अंतरवासना सेक्सी व्हिडिओ”पर तुम्हारे घर वाले?”उन्हें छोड़ो, तीन घंटे मेरे हैं। उसके बाद ही कोई पूछेगा।” उसने कहा.

मैं- अच्छा … खैर छोड़ो, ये बताओ मेरे लंड को उसकी मंज़िल तक कब पहुंचा रही हो?वो- क्या बताऊं … तुमने आज मेरी हालत खराब कर दी थी.

जब तक हम यूं घर में अकेले हैं तो बस एक ही काम पर ध्यान दिया करो बस!” मैंने कहा. जब मेरी कहानीआधी हकीकत आधा फसानाप्रकाशित हुई थी तब मुझे बहुत से मेल आये थे, उन्हीं में से एक मेल खुशी का भी था।आप तो जानते ही हैं मैं सभी मेल के जवाब देने की पूरी कोशिश करता हूँ.

पीछे से रमेश ने रश्मि की गांड पर लंड लगा दिया और उसको अंदर घुसाने की कोशिश करने लगा. मैं- क्यों ना हम वीकली ऑफ वाले दिन मिलें?मीता- ओके … तो परसों मैं आपके घर आ जाऊंगी. और आपने अपना मुन्ना तो दिखाया नहीं?”मेरा मुन्ना भी देख लेना, गुरजीत कौर.

आंटी ने चड्डी के ऊपर से ही मेरा लंड पकड़ा और बोलीं- आह … तेरा तो बड़ा मस्त लंड है.

मीता की सुराही जैसी गर्दन और उसके कुर्ते के अन्दर उसकी उभरी हुई चूचियां कहर बरपा रही थीं. जो भी मुझे देखे, बस अपने बिस्तर पर लिटाने का ख्वाब देख ले। मेरे बदन के दो सबसे आकर्षक हिस्से है पहला मेरे स्तन, जो 34C के आकार के हैं. कुछ देर बाद मैंने स्पीड बढ़ाई और बिन्दू ने अपना सिर इधर उधर मारना शुरू कर दिया.

ब्लू सेक्सी पिक्चर वीडियो सॉन्गअभी उसकी चूत चाटने की मेरी तमन्ना अधूरी ही रह गई थी।[emailprotected]अन्तर्वासना हिंदी कहानी का अगला भाग:ठरकी मामा ने की सेक्सी भांजी की चुदाई-2. कुछ पल बाद उसने फिर से हाथ को मेरे दूध पर रखा और धीरे धीरे से मेरे दूध को मसलने लगा.

मराठी सेक्स साड़ी वाली

फिर पैंटी की लाइन से किस करता हुआ वो मेरी जांघों के अंदर चूमने लगा. वे कहने लगे- ये सब जिम में मत करो … शर्म नहीं आती गे बनने में!उनकी बात सुनकर हम दोनों की तो हंसी ही नहीं रुक रही थी … क्योंकि वो शरद और मुझे गे समझ रहे थे. अगली बार उस रॉंग नम्बर वाली विलेज गर्ल सेक्स स्टोरी में आपको फिर से उसकी चुदाई की दुनिया में ले चलूंगा.

मैं तो यही सोच रही थी कि बस … मगर 10-11 मिनट में तुमने क्या क्या कर दिया … पूछो ही मत!मैं- क्यों?वो- क्यों क्या … घर आने के बाद में 10 मिनट तक बैठ कर यही सोच रही थी कि तुम कहां कहां क्या क्या कर रहे थे … मेरे गले पर सीने पर … और तुमने वहां भी हाथ लगा दिया था. मैंने उसे घुटने के बल बिठा दिया और अपने लंड को हिलाते हुए उसे दिखाया. अगले साल ही देख लेना।सुनील ने कहा- नहीं यार, लूँगा तो आज ही … चाहे यहीं लेनी पड़े तेरी।अब ऐसा तो था नहीं कि मेरा मन नहीं था.

बाकी बाहर की दुनिया के लिए वो एक निहायती शरीफ लड़की थी जो हमेशा बुरका पहनती थी, जिसे लड़कों की तरफ देखना भी पसंद नहीं था. रीता दिमाग से भले ही पैदल थी लेकिन वह अपने जिस्म की कीमत अच्छी तरह से जानती थी. अब की बार 30 मिनट तक चुदाई चली होगी और वे दोनों थक कर निढाल हो गये.

रोहन ने मुझसे बोला- पर तुम तो क्लाइंट से मिलने गयी थी, वहां कुछ हुआ तो नहीं?मैंने कहा- हां मैं क्लाइंट से मिलने गयी थी और डील भी हो गयी है. उस वक़्त मैं खड़ा होने की सिचुयेशन में नहीं था … क्योंकि मेरा लंड मेरे पैंट में ही तम्बू बना रहा था.

हम दोनों बिस्तर पर बैठे थे, तो अब प्रतिभा ने मुझे थोड़ा पैर फैलाने के लिए कहा.

तकरीबन दो मिनट तक उसने मेरी चूत चाटी और अपनी तौलिया खोल कर मुझे लंड चुसवाने लगा. हिंदी वीडियो हिंदी सेक्सी वीडियोउसके बाद उन्होंने पैंट उतार कर एक तरफ कर दी और फिर से मेरे ऊपर आ लेटे. सेक्सी सेक्सी चुदाई वीडियो हिंदीमीता पास आई और अपने नर्म हाथों से मेरा मुँह बंद करके पूछा- क्या हुआ?मैं- कुछ नहीं … तुम बहुत खूबसूरत लग रही हो, बिल्कुल दुल्हन की तरह. मुझे ऐसा एहसास होने लगा था, जैसे कोई कोमल रुई ठंडी मेरी चुत पर रख दी हो.

मैंने उसे एक बार फिर से रोकने लगी और गिड़गिड़ाने लगी, पर वो नहीं रुका.

कुछ देर की दमदार चुदाई के बाद मैंने शाजिया के अन्दर ही अपना सारा पानी छोड़ दिया. मैंने उंगली और अंगूठे से नेहा की चूत के बाहरी होंठों को थोड़ा खोला तो चूत की दरार के ऊपर बहुत ही सुंदर गुलाबी रंग का मोती सा बना हुआ था जो उसका क्लीटोरियस था. भाभी मेरे सपनों की कहानी से बाहर आकर मचलने लगीं- आह प्रकाश … मैंने चोदा था तुम्हें … तुम्हारे सपनों में आकर? ये सुनकर ही मेरी तो चूत झड़ी जा रही है … आह मेरे लौड़े … बता ना बहनचोद कैसे चोदा मैंने तुझे तेरे सपनों में भोसड़ी के … बता जल्दी वर्ना मैं तेरी गांड मार दूंगी मादरचोद.

जीजा साली सेक्सी कहानी में पढ़ें कि लड़की जब पहली बार चुद जाती है तो उसकी चाल हमेशा के लिए बदल जाती है. हमें अपनी हार दिखने भी लगी थी।मेरी टीम में 3 लड़के थे और मुझे मिला के 3 लड़कियां थी। प्रतियोगिता दोपहर तक हो जाती थी और शाम को हम उनके कॉलेज कैम्पस में घूम लेते थे थोड़ा बहुत।मेरी सहेली निधि ने मुझे बताया- सुहानी, दूसरी टीम का कप्तान तुझे पूछ रहा था।मैंने पूछा- क्यूँ पूछ रहा था, क्या हुआ?उसने कहा- कैसे बात कर रही है सुहानी चौधरी? तू हमारे कॉलेज की सबसे कॉलेज की सबसे खूबसूरत लड़की है. मैं बिन्दू के साथ लेट गया और उसके गालों पर प्यार से हाथ फिराने लगा.

ब्लू फिल्म हिंदुस्तानी

उसने मुझे पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और फिर मेरी दोनों टांगों को फैला दिया. रमेश लड़की को गर्म करने की कला में पूरा मास्टर था जिसका असर रश्मि पर साफ दिख रहा था. उन सबके जाने के बाद हम भी अपने टेंट में वापिस आ गए और आपस में बात करने लगे कि ये लोग यहां पर भी मजे कर रहे हैं और हम लोग सूखे ही हैं.

मैं उसके लंड को हिलाए जा रही थी और बीच बीच में उसके टोपे को चूस भी रही थी.

उसने उसके बालों को पकड़ लिया और अपना लंड उसके मुंह में घुसा कर जोर जोर से पेलने लगा.

आगे पीछे होते हुए तो कभी ऊपर नीचे होते हुए पूरी मस्ती में वो अपनी चूत को चुदवा रही थी. प्रिंसीपल सर ने बोला- पहले आप लोग एक पेपर पर रंगोली बना कर दिखाओ, जिसकी रंगोली की डिजायन सबसे अच्छी होगी, वो ही रंगोली बनाएगा. जीएफ सेक्सीमम्मी ने मामा को काफी समझाया भी था कि जब घर है ही, तो फिर रेंट पर फ्लैट लेने की क्या ज़रूरत है.

अदिति बोली- अर्पित, हम शादी के बाद गोवा चलेंगे और ऐसे ही एक शाम किसी बीच पर करेंगे. शाम को उसकी मम्मी से बात हुई तो उन्होंने मुझे बताया कि आज दामाद नौकरी के सिलसिले में बाहर गए थे. मैंने अनिकेत को एक किस की, तो बदले में वो भी मेरी जीभ को चूसने लगा.

मैंने कहा- हां मामी गर्लफ्रेंड नहीं पटी, तो क्या हुआ … मोबाइल में कई पलंगतोड़ कुश्तियां देख चुका हूँ. वो भी खुले असमान के नीचे शायद एक तो अनिकेत की भुजाओं की मजबूत पकड़ और उसकी चौड़ी छाती का सहारा.

फिर पिताजी बोले- बेटा हर्षद … अब तुम भी सो जाओ, सुबह तुम्हें जल्दी जाना है ना! मैं भी सोने को जाता हूँ … कल मुझे ऑफिस भी जाना है.

रकुल ने पहले मेरी टीशर्ट फिर मेरी जीन्स को खोल कर मुझे पूर्ण नंगा कर दिया और मेरे खड़े लिंग को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी।थोड़ी देर बाद मैंने उसे पलँग पर सीधा लेटा दिया और उसके 36 के गोल, गोरे, तने हुए स्तनों को अपने मुंह में भर लिया और चूसने लगा. एक पॉइंट बच्चेदानी का मुंह भी होता है जो लेडी की क्लिटोरियस से भी अधिक सेंसिटिव होता है. भाभी कुछ नहीं बोली, बस एकदम आंखें बंद करके धीरे धीरे मेरे लंड को सहलाने लगी.

ब्लू पिक्चर सेक्सी सेक्स सेक्सी मैं विन्नी की बातों से प्रभावित हो गया और मैंने भी उसकी मित्रता को स्वीकार कर उसके द्वारा की जा रही गरीब बच्चों की मदद के लिए उसकी सरहना की. अब मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी चूचियों को मसला, फिर एक चूची मुँह भर चूसना शुरू कर दिया.

मैंने बिन्दू से कहा- चलो एक बार मेरे लौड़े को तुम्हारी चूत का किस लेने दो. लेकिन इस बार चुदाई डबल बैड पर हो रहीं थीं तो भैया ने 69 पोजीशन बना ली. मैंने उसके लंड के नीचे लटकती एक बॉल को अपने मुँह में लिया और उसे चूसने चाटने लगी.

मराठी सेक्स वीडियो एक्स एक्स एक्स

पांच दिन बीत गए थे … मेरी उससे इस विषय पर कोई बात नहीं हुई … ना ही वो मेरी दुकान पर आई. पिछली कहानी में आपने जो पढ़ा था, आज उसी कड़ी की एक और चूत म लंड की कहानी लिख रहा हूँ. तब मुझे भाभी की पैंटी टोल नाके की तरह परेशान करने लगी, पर इस नाके को उखाड़ फेंकना मेरे वश में था.

उसने मोबाइल में झांका और अपनी कुहनी को मेरे हाथ से एक इशारे से रगड़ दिया. अब वो वक़्त भी आ गया था … जब हम दोनों के कामरस से कुछ दाग हमेशा के लिए छपने वाले थे.

हमने डिनर भी बाहर ही किया और लौट कर मेरा मूड तो बना हुआ ही था कि निष्ठा के साथ एक राउंड और हो जाये पर फिर सोचा कि चलो आज रात और इसे फुल रेस्ट करने दो कल से करेंगे.

ऐसा कहकर आप मेरे लंड को फिर से बेतहाशा चूसने चूमने लगीं भाभी और फिर अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी. अब पोजीशन ये थी कि भाभी की दोनों जांघों के बीच सीट का हैंडल था और उनके दोनों हिप्स मेरी जांघों में फिट थे. फिर उसने जोर से मम्मी का चेहरा पकड़ा और उनको जोर जोर से किस करने लगा.

भाभी ने अपनी आँखें बंद की और मेरे हिप्स को पकड़ कर अपनी ओर खींचने लगी. ऊपर से मुझे अनिकेत पर गुस्सा आ रहा था कि ऐसे समय में ये किसी कच्चे रास्ते से ले जा रहा था. मैं जब अपने कपड़े निकाल रहा था, तब वो मेरे जिस्म को देखने में लगी थी.

मेरी प्यारी भाभी जी हैं ही इतनी अच्छी।तो आज मैं भैया भाभी की हनीमून की घटना बताने जा रहा हूँ जो खुद मुझे भाभी ने ही बतायी थी।दोस्तो, वैसे शादी के बाद सुहागरात और फिर हनीमून का मज़ा ही कुछ और है.

बीएफ व्हिडिओ बीएफ बीएफ: ” मैंने कहा और उसके ऊपर इस तरह से हो गया कि मेरा मुंह चूत की तरफ हो गया और मेरी पीठ निष्ठा के मुंह की तरफ हो गयी. पायल ने कहा- ठीक है कोई बात नहीं, मुझे तो दीदी ने आपको देखने ही भेजा था कि आपको कोई परेशानी तो नहीं.

मैं उसे लेकर एक रेस्टोरेंट गया, हम दोनों ने काफी पी।फिर मैंने उससे पूछा- मैं दो महीने के लिए आया हूँ. फिर रॉन ने उसको घोड़ी बना लिया और उसकी चूत में पीछे से लंड पेल दिया. मां हंसती हुई बोलीं- तुम बहुत बदमाश हो गए हो … जल्दी से उठो और तैयार हो जाओ.

अपना लंड चुसवाते हुए ससुर जी मुझे गंदे गंदे इशारे कर रहे थे जिससे मैं और ज्यादा चुदासी हो रही थी.

मैंने उसकी कमर को अपने पैरों से जकड़ लिया और गले में हाथ डाल कर जोर से पकड़ लिया. लेकिन एकदम से मैंने जाकर सनम के मुंह पर अपनी चूत रख दी जिससे उसका मुंह बंद हो जाए. निष्ठा का मूड अब कुछ सुधर चुका था सो अब चुदाई करने का मन होने लगा था.