पूजा बीएफ

छवि स्रोत,19 सेक्सी पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

आंटी की चुदाई हिंदी: पूजा बीएफ, डिम्पल भाभी पूरा दिन घर में अकेली रहती थीं और इस कारण मेरी उनसे अच्छी खासी दोस्ती हो गयी थी.

मद्रासी आंटी सेक्सी वीडियो

अरे अच्छे से अच्छा ही दिलवाएंगे तुझे, मेरे कहने का मतलब तेरे फोन में तुझे क्या क्या देखना है?” ऐसा कहते हुए मैंने अपने हाथ की उँगलियों से उसकी पीठ पर हारमोनियम सी बजाई. 2021 का सेक्सी वीडियो चाहिएकई बार तो तुम्हारा ख्याल अपने मन में रखकर तुम्हारी माँ को चोदता था मैं.

अब मैं कमोड पर बैठ गया और अपनी दोनों टाँगें बंद करके और स्नेहा को लंड पर बैठने को कहा. सेक्सी वीडियो 2012 कीअब मुझे नींद तो आ नहीं रही थी, मैं आंखें बंद करके सोने का नाटक करने लगा.

मैंने उनसे कहा- भाभी, यहां से मेरा हाथ ठीक तरह से वहां पर नहीं पहुँच रहा है.पूजा बीएफ: उस दिन 12 बजे सारे लेक्चर्स खत्म हो गए थे, सब लोग क्लास से बाहर आ गए.

वो अपना ब्लाउज और जैकेट उतारने के लिए रुकी और कपड़े उतार कर वापस लौड़ा चूसने लगी.और फिर उनको नायाब चूचियों को जो कि बड़ी-बड़ी और भारी-भारी होने के साथ-साथ उतनी ही कड़ी और टाइट थीं, को पहले तो दबाने और फिर जोर-जोर से मसलने में लगे.

लड़की और घोड़ा वाला सेक्सी - पूजा बीएफ

आखिर में मैंने उसके कोमल रसीले होंठों पर अपने होंठों को रख दिया और उसके होंठों से बह रहे अमृत को पीने लगा.मैंने कहा- क्यों आज कोई काम नहीं है क्या?वो बोली- आज मेरे पार्लर का हाफ डे है.

पर अब पेटीकोट खराब होने का डर था तो मैंने साड़ी के साथ पेटीकोट ऊपर कमर तक उठा दिया, पर जैसे ही ठंडी हवा लगी. पूजा बीएफ मैंने महसूस किया कि उसके निप्पल एकदम कड़क हो गए थे और मम्मे भी तन गए थे.

चूत का रस चाटने के बाद मैं अब उनके मुँह में मुँह डाल कर उनको ही उनकी चूत के रस का स्वाद चखाने लगा.

पूजा बीएफ?

तो भाभी मुझसे चिपक गयी और बोली- थोड़ा सब्र करो!फिर हमें बाजार से लौटते हुए काफी रात हो गयी. इसलिए मैं भी तुमको पूरा नंगा देखूंगी… फिर मुझे बराबर लगेगा… तुम समझ रहे हो न?रजत घबरा भी रहा था और शर्मा भी रहा था. उसने ऑफिस पहुँचते ही फोन किया- और सुनाओ मीता रानी, क्या हो रहा है?मैंने कहा- बस आराम कर रही हूँ तुम्हारी बदौलत.

रात को करीब 8:15 पर उसका फ़ोन आया- मैं टॉयलेट में आ रही हूँ… तुम तैयार रहना. तुमने अन्दर क्यों किया?वो बोला- अरे यार रुका ही नहीं गया, मुझे चुदाई का कोई तजुर्बा नहीं है. वाह क्या धक्के मार रहे हो, तुम्हारा लंड बिल्कुल मेरी चूत की जड़ तक पहुँच रहा है और मुझे दीवानी बना रहा है.

दोनों भाई-बहन काम वासना में लिप्त सब कुछ भूलकर एक दूसरे पर कुर्बान हो जाना चाहते थे. इस घटना के बाद से मेरी भाभी को देखने की नज़र बदल गयी, जो शायद उनको भी पता चल गया था. फच … फच … करते हुए उसकी चूत से मेरा लंड टकराता, तो ऐसे ही मधुर आवाज पलट कर आती.

शायद आज से भाभी ही सब काम कर देंगी, पर डर के मारे मेरा पूरा बदन काँप रहा था. अब मुझे उस पर थोड़ा तरस आया और मेरा लंड भी चूत की डिमांड करने लगा था.

मयूरी- क्या आप जानना नहीं चाहते कि वो कौन लोग हैं जिन्होंने आपकी बेटी की जवान चूत का भेदन किया और उसकी सील तोड़ दी?अशोक- हाँ… जरूर जानना चाहूंगा… बताइये… कौन हैं वो लोग?मयूरी- वो दो लोग आपके अपने दोनों बेटे हैं.

भीड़ की वजह से वो मुझे ठीक से देख नहीं पा रही थी, पर शायद उसे भी मैं पसंद था.

रजत के लिए जीवन में यह पहली बार था जब वो किसी लड़की की नंगी चुत को इतने नजदीक से देख रहा था. स्नेहा भी अत्यंत चुदासी थी, वो मेरे सिर को अपने मम्मों पर दबाने लगी. तभी दोनों कचकचाकर एक दूसरे से लिपट गए और इधर मेरा लंड भी एक बार और पिचकारी छोड़ गया.

कम्मो ऐसे नहीं रुक सकते यहां, गोलगप्पे भी खा लेंगे अभी बाद में!” मैंने कहा. कि वाकई में मैं क्या-क्या कर सकती हूँ।”और न सिर्फ वह चपड़-चपड़ लिंग चूसने लगी, अपितु उल्टे हाथ से दोनों बॉल्स भी धीरे-धीरे सहलाने दबाने लगी. प्रिया बोली- ये दूध पी लो और थोड़े फ्रेश हो जाओ, फिर देखती हूँ तेरे लंड की ताक़त.

यह बात आज से लगभग 5 महीने पहले की है, जब मैं अपना एक एग्जाम निपटा के कुछ दिन के लिए अपने गाँव आया था.

डॉक्टर ने बताया कि इसको कोई दिमाग में किसी सोच ने असर किया है, जिससे यह बेहोश हो गया है. प्रिया‌ के हाथ के दबाव से मेरे लंड के आगे की चमड़ी थोड़ा सा पीछे हो गयी थी और गुलाबी रंग का हल्का सा सुपारा नजर आ रहा था. मैंने कहा- डिल्डो यूज़ करती हो?उसने मुझे अजीब सी नजरों से देखा और ‘हाँ’ में सिर हिलाया.

आंटी मेरे ऊपर चढ़ गईं और मेरे तने हुए लंड को अपनी चुत की फांकों पर रखते हुए अन्दर फंसा लिया. वो वहां शावर के नीचे खड़े हुए थे पानी उनके ऊपर से लेके नीचे लंड तक बह रहा था. पल्लवी ने सख्त विरोध करते हुए करवट बदल ली। मैं उसे मनाने के लिये उसकी पीठ से चिपक गया और उसके निप्पल को दबाने लगा। अब मैंने पल्लवी को गर्दन के नीचे से अपने हाथ डाले और उसकी मम्मे को सहलाते हुए निप्पल को मसल रहा था.

मैं उसके गर्दन के चारों तरफ किस कर रहा था, पागलों की तरह उसके चुचे दबा रहा था.

मेरी सास ने मुझसे सबके जाने के बाद कहा- बहू मुझे नहीं पता था कि मेरे घर पर तुम जैसे बहू आई है. क्या लंड में जंग लग गई है?उसके मुँह से इतना सुनते ही मैं कंट्रोल बाहर हो गया और मैंने अपनी वाइफ को सेक्स के लिए पूरी नंगी कर दिया.

पूजा बीएफ पढ़ाई से पहले तुम्हारे दिमाग से सेक्स शांत करना होगा, फिर तुम्हें पढ़ाई की बात समझ आएगी. जैसे ही मेरी निगाहें नीचे गईं तो मैंने देखा सामने पान की दूकान पर सत्यम खड़े थे और वे ऊपर ही देख रहे थे.

पूजा बीएफ मैं अपने बॉयफ्रेंड के साथ चुदवाती थी तो मुझे अब चुदवाने का मन करने लगा. इस बार के झटके से मेरा लंड उनकी चुत की मक्खन जैसी चिकनी और गरम दीवारों को ‘सर.

वैसे भी इंसान एक लंड और एक चूत से ज्यादा और है भी क्या। सगे रिश्ते तक मर्यादा तो फिर ठीक है लेकिन जहां शादी जायज है वहां चोदने में क्या परेशानी.

हिंदी सेक्सी पिक्चर एचडी

लेकिन आज की कहानी मेरी पिछली कहानी से भी पहले की है जब मैं किसी चूत के लिए तरस रहा था, तड़प रहा था. इसी लिए सभी औरतों ने मिलकर पायल को भी काम करने के लिए और खुद के पैरों पर खड़ा होने के लिए बहुत समझाया. तभी ना जाने क्या हुआ संमाली अंकल मेरी गर्दन पकड़ कर मुझे जम के चोदने लगे और बोले- वन्द्या, तू आने वाले दो-तीन साल में बहुत बड़ी छिनाल रंडी बनेगी.

जिनकी शादी नहीं हुई वो तो खुल्लम खुल्ला जाती हैं बिना झिझक के चुदवाती हैं. इस वर्ष 31 अगस्त के दिन मेरी बहन के बेटी का बर्थडे था तो मैं और हमारी बेटी 30 तरीख को सोलापुर से मुंबई के लिए निकल गए. धीरज एक मिडिल क्‍लास परिवार से था, उसने मुझे बताया कि वो एक मिडल क्लास के परिवार से है और उसके कुछ रिश्तेदार तो बहुत ही ग़रीब हैं.

फिर वो आई, मैंने बोला- रीना मैंने आज तक कभी ऐसा नहीं किया, सो डर लगता है, सोसाइटी में किसी को पता चलेगा तो?रीना ने बोला- इस सबकी तुम बिल्कुल चिंता मत करो.

मैं नया ही जवान हुआ था और अभी सेक्स के बारे भी में भी ज्यादा कोई जानकारी भी नहीं थी. अरे क्या बात है दीदी, आज तो बिल्कुल जल रही हो आप!”हां रे, सही में जल रही हूँ. अभी मैंने सीधी ही हुई थी कि आगे वाले ने मुझे घुमा दिया और अब मेरी रसभरी चूत उसके लंड के आगे आ गई.

हां तो दोस्तो, मैं कुछ देर उनसे हँसी मज़ाक करके उनकी बातों को समझकर एक दो दिन बाद आने की कह दिया. पहले तो उसक बड़े प्यार से चूमा और फिर उसको घप से अपने मुँह में घुसा लिया. शायद यही वजह है कि अशोक अब भी शीतल से बहुत प्यार करते हैं और लगभग रोज़ ही शीतल की जबरदस्त चुदाई करते हैं.

वो लड़का बोला- मैं आपके घर आ जाऊं?तो मैं बोली- आ जाओ!तो वो लड़का कुछ देर के बाद अपनी बाइक से मेरे घर आ गया. और चूत में उंगली करवाने में बहुत मज़ा आता है और तुझे ऐसे झड़ने में चुदाई से ज्यादा मज़ा आता है.

अशोक आश्चर्य से- क्या…????मयूरी- हाँ… मैंने पहली बार अपने दोनों भाइयों से ही चुदवाया था… वो भी एक साथ. मैंने जैसे ही प्रिया की चूत में दो उंगलियां डालीं, तो अभी दोनों उंगलियां आधी ही अन्दर गई होगीं कि प्रिया सिसकारने लगी- ओह … दर्द हो रहा है. मेरे प्यारे दोस्तो, यह मेरी पहली कहानी है कामुकता से भरी देसी लड़की की चुदाई की!मेरा नाम रॉकी है.

एक बार तो सोचा मना कर दूँ क्योंकि ऐसे मजा नहीं आएगा लेकिन फिर सोचा चलो कुछ तो मिलेगा.

देखा है तो इतना मजा भी तो दिया है, वैसे मेरा क्या देखना है तुमको?” मैंने भी सेक्सी आवाजें निकलते हुए कहा. मैंने अंकल के लंड को काफ़ी हल्के हाथ से पकड़ा क्योंकि मुझे कुछ लाज़ लग रही थी. डोसा इडली वगैरह साउथ इंडियन फ़ूड खाने की मेरी पसंदीदा जगह तो वैसे इंडियन कॉफ़ी हाउस है; क्योंकि वहां जैसा स्वाद कहीं और मिलता ही नहीं है.

मुझे नवरात्रों में डांडिया खेलने का बड़ा शौक है, मैं नवरात्रि में गरबा करने घाघरा चोली पहन कर हमारे काम्प्लेक्स के नज़दीक में, जहां गरबा होता है, वहां चली जाती हूँएक दिन वहां मुझे एक मेरे से छोटी उम्र की महिला मिली. यूं तो उत्तर भारत में साउथ इंडियन खाने के तमाम रेस्टोरेंट्स हैं पर वो स्वाद आ ही नहीं पाता.

संपत ने कुछ नहीं कहा और वो मेरी मम्मी की चुचियों को तेजी से मसलने लगे. वो कुछ समझ नहीं पा रही थी, तभी रशीद ने उसके बालों को सहलाते हुए उसके बालों की तारीफ करना शुरू किया और सुनील बदन की खुशबू लेने लगा. मुस्कान अब मेरे ऊपर पेट के बल लेटी हुई थी और उसका मुँह मेरे लंड को चूस रहा था.

सेकसी म्युजिक भोजपुरी गाना वीडियो

तुम और तुम्हारा बदन ज़रा भी नहीं हिला इस दौरान … सिवाए तुम्हारी पैन्ट में बने उभार के!इसके आगे की सारी बातें भी अंग्रेजी में हुई थीं लेकिन अन्तर्वासना हिंदी कथा साईट है, इसलिए मैं यहाँ सब हिंदी में ही लिखूंगा.

फिर से उसने करीब आधा लिंग बाहर खींचा और फिर से दोगुनी ताकत से झटका मार दिया. उसकी आँखों में अनुनय विनय का भाव आ गया और सलवार पर उसकी पकड़ स्वयमेव ढीली पड़ गयी और उसने सलवार छोड़ कर अपने हाथ ऊपर कर दिए. बस मैं उसके ऊपर किसी भुक्कड़ की तरह टूट पड़ा और दोनों मम्मों को भींच कर दबाता और हॉर्न जैसे दबा दबा कर चूसता जा रहा था.

पता नहीं वो किस मिट्टी का बना हुआ था, मेरे साथ सोते हुए भी मुझे हाथ भी नहीं लगाता था. उसकी सलवार का नाड़ा तो खुला ही पड़ा था सो मैंने सलवार उतारने का उपक्रम किया तो कम्मो ने तुरंत अपनी कमर उठा दी और उसका सफ़ेद चूड़ीदार मैंने निकाल कर फिर उसे अच्छे से तह करके बगल में रख दिया; आखिर उसे अभी इसे ही तो पहन कर शादी में जाना था. सेक्सी चुदाई वाली फिल्म दिखाओबहूरानी के साथ मैंने बीसों बार संभोग किया था और हर बार हमें एक आत्मिक संतुष्टि और चरम सुख की अनुभूति ही हुई; कभी भी आत्मग्लानि या अपराधबोध से मन ग्रस्त नहीं हुआ.

अशोक- मैं तुम्हें इसके लिए और हर चीज़ के लिए धन्यवाद देता हूँ… क्योंकि तुम्हारी वजह से ही घर के हर सदस्य को आज चोदने और चुदाने के लिए किस्मत से बहुत ज्यादा मिल पाया है. मैं उठा और भाभी के साथ चल पड़ा, उसी वक़्त मालूम हुआ कि भैया कहीं बाहर गए हुए हैं, शाम तक आएंगे.

नाड़े को खोलने में बड़ा समय लगा, जिसका मजा वह हंसती हुई आँखें बंद करके ले रही थी. बस 4 -5 मिनट के धक्कों में ही तारा लड़खड़ाने लगी और झड़ते हुए अपना संतुलन खोने लगी. मैं पल्लवी के ऊपर से उतरकर उसके बगल में आ गया।एक बार इस अमृत को पीकर देखो, अच्छा लगेगा।” मैंने पल्लवी को आग्रह किया.

दूसरे दिन लड़के के माँ और बाप दोनों ही आए और मैंने और दीपक ने उनका पूरी तरह से स्वागत किया. भाभी मेरे नीचे पड़ी हांफ रही थीं और मैं बड़े बड़े धक्कों से उनकी चूत को नहला रहा था. उसके पानी की वजह से इतनी जबरदस्त चिकनाहट हो गई थी कि लंड पूरा बाहर निकल जाता था.

मयूरी- फिर तुमने ये क्यूँ कहा कि तुम नहीं देख रहे? मतलब मैं तुम्हारे सामने एकदम नंगी हूँ… और तुम मेरी चूचियों को देखो भी ना तो ये तो वही बात हुई ना कि ये उतनी आकर्षक नहीं है?रजत- दीदी… ऐसी बात नहीं है… ये इतनी आकर्षक हैं कि इन पर से नजर हटाना मुश्किल है.

ऊपर वाला जब देता है तो छप्पर फाड़ के देता है, मुझे आज पता चल गया था. हम दोनों ने पायल के दोनों हाथ कसके ऊपर उठा लिए और उसकी बगलों के बीच में मुँह डाल कर उसको चाटने लगे.

क्या तुम मुझे चोदते चोदते थक गए क्या?मैं तब पूजा की चूची को अपने मुँह से निकालते हुए बोला- अरे यार समझती नहीं क्या? मुझे लगा कि मेरा लंड अपना पानी छोड़ने वाला है और इसीलिए मैंने तुम्हारी चूत की चुदाई थोड़ी देर के लिए रोक दी ताकि लंड का जोश थोड़ा ठंडा हो जाए और मैं तुम्हें देर तक चोद सकूँ. कम्मो ने मेरे सीने को कुछ देर तक निहारा और फिर उठ कर मेरी छाती से लग गयी और अपना मुंह वहीं छुपा कर गहरी गहरी सांस लेने लगी, फिर वहीं पर दो तीन बार चूम लिया. मैंने प्रिया को अपने गले से लगा रखा था और उसके बदन के साथ ठिठोली भी कर रहा था.

तब मुझे लगा कि इस औरत के साथ चुदाई का चान्स है!हमारे बीच फोन पर सेक्स सम्बन्धी बातें तो होती ही थी तो फिर चाय खत्म करने के बाद वो कुछ बोलती, उससे पहले ही मैंने उसको पकड़ा और किस करना चालू कर दिया. मुझे लगा था कि आपके पिता ने मेरी शादी आपसे करने के लिए चाचा से कहा होगा. कल से कह रहे थे ना कि छोरियों की चूतें तो बहुत मारी हैं अब कोई नमकीन लौंडा मिले तो उसकी भी गांड फाड़ दें.

पूजा बीएफ लेकिन दस पन्द्रह दिन तक रोज गांड मरवाने के बाद मैंने दोनों जिन्दगी शुरू कर दी. फिर सोचा कि दिल्ली में ऐसे होटल भी जरूर होंगे जहां लोग लड़की लेके जाते होंगे घंटे दो घंटे के लिए पर मुझे वो सब नहीं पता था.

नागालैंड के सेक्सी

मैंने कहा- मैं इतनी जल्दी तुम पर विश्वास कैसे कर सकता हूँ?ये कहकर मैंने फोन काट दिया. वो चुपचाप मेर नीचे पड़ी थी और खुद अपने हाथ से मेरा लिंग अपनी चुत पर सैट कर रही थी. यह झूला सबसे बड़ा काफी ऊंचाई तक जाता है और नीचे आते समय एकदम से दिल काँप उठता है, लेकिन मजा बहुत आता है.

इसलिये मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ फिक्स किए और एक जोरदार झटका दे दिया. वहां पहुंच कर हम दोनों एक फॅमिली केबिन में जा बैठे और मीनू कार्ड देखकर, कम्मो से पूछ पूछ कर खाने का आर्डर कर दिया. इंडियन बंगाली सेक्सी वीडियोआपको आना हो तो मेरे गांव ही आ जाना बस और वहीं पर आराम से बिना किसी डर के करना जो करना हो!” उसने अपना फैसला सुनाया.

जब सुबह वो आई तो मैं नाईट ड्रेस में सोया हुआ था और सुबह सुबह पेशाब नहीं करने की वजह से मेरा लंड तना हुआ था। पता नहीं उसने देखा होगा या नहीं … पर उस दिन के बाद वो मेरे नजदीक रहने लगी, मुझसे बात करने लगी थी और मेरी हर बात का ख्याल रखने लगी थी।फिर एक दिन कुछ काम से मेरे चाचा को राजस्थान गांव में जाना पड़ा, तो घर में मैं अकेला ही था क्योंकि चाचीजी ओर उनके बच्चे गांव में ही रहते थे.

दिनेश के बदन में कुछ कपड़े थे, वह भी उसने पूरे उतार दिए और पूरा नंगा हो कर मेरे सामने तरफ आ गया. रशीद अपना लंड पायल की पीठ पे फिराने लगा … उसके चूतड़ों को मसलने लगा.

वो नम्बर देने में बहाने बनाने लगी तो मैंने भी बोल दिया- क्या तुम्हें मुझ पर भरोसा नहीं है?तो अंत में उसने भी नंबर दे ही दिया. नींद में उसकी नाइटी ऊपर की ओर खिसक गई थी और नीचे उसने पैंटी पहनी हुई थी. उसने अपनी आँखें इस कदर बंद की हुई थीं, जिससे साफ़ दिख रहा था कि वो दर्द को भरपूर सहने की कोशिश कर रही थी.

फिर मैं उनके बगल में आकर लेट गया और वो मेरी तरफ करवट करके मेरे कंधे पर अपना सर रखकर लेट गईं.

चाचा मुझसे लिपटे लिपटे बोले कि चल वन्द्या डार्लिंग अब लेट जा, अब अपन मस्त चुदाई का खेल शुरू करते हैं. जब वो सुबह उठने को हुआ तो मैंने उसे अपने पास खींच कर उस का लंड अपने मुँह में लेकर अच्छी तरह से चूसा, तब तक … जब तक कि उसका पूरा लावा नहीं निकला. मेरे प्यारे दोस्तो, यह मेरी पहली कहानी है कामुकता से भरी देसी लड़की की चुदाई की!मेरा नाम रॉकी है.

अनुष्का हीरोइन की सेक्सी वीडियोमैंने सूट में हाथ डाल के दोनों मम्मों को पकड़ लिया और झटकों की गति भी बढ़ा दी. फिर दो दिन बाद उसका कॉल आया, उसने अपना नाम ऋचा (बदला हुआ नाम) बताया.

गोल्डन सटका मटका गोल्डन सटका मटका

बाय।फिर शाम तक मैं उनके कॉल का वेट करता रहा, पर कोई कॉल ना आया। डिनर के बाद जब मैं 17 सेक्टर की मार्किट घूमने गया, तो कॉल आया- हाँ रवि कैसे हो?मैं- जी ठीक हूँ. इतनी देर में शीतल रसोई से एक कटोरी में सरसों का तेल लेकर कमरे में दाखिल हुई. पर बाद में जैसे जैसे गपशप होने लगी, कहानियों का, पॉर्न का और सेक्स का जिक्र होता गया, माहौल अपने आप बनता गया.

बाकी लड़कियों ने पूछा- किसके साथ?तो वो थोड़ा शर्माने लग गयी और बात को टालने लगी. फिर जब मुझे लगा कि प्रिया अब ठीक हो गई है, तो वैसे ही मैंने लंड को थोड़ा सा बाहर निकाल कर एक और जोर से धक्का दे दिया. वो फोटो खुलते ही कम्मो थोड़ी घबरा सी गयी और उसने फोन की स्क्रीन को अपने हाथ से छुपा लिया.

अब आगे:मैंने दिव्या को अपने पास बुलाकर उससे कहा- दिव्या, तुमने मुझे नया जीवन दिया, तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकता हूं. अब मयूरी अशोक के सामने लेटी हुई थी, अशोक ने उसके स्कर्ट को थोड़ा ऊपर किया जिस से वो उसकी चूत के दर्शन कर पाए. उन्होंने अपनी टांग को सीधा करते हुए साड़ी उठा दी और कहा- शायद जाँघों पर है.

ये बात मेरे मुँह पर थप्पड़ के जैसा लगा मैंने गुस्से में कह दिया- अगर मैं चाहूँ तो अभी बच्चा तक पैदा कर सकता हूँ. इसी के साथ उसकी गांड मेरे लंड पर रगड़ने की वजह से मेरा लंड भी खड़ा हो गया था.

अभी जो कहानी लिख रहा हूँ यह मेरे और मेरे दोस्त के साथ हुई एक सच्ची घटना है।बात आज से 3 साल पहले की है मेरे पास मेरे दोस्त जय (काल्पनिक नाम) का फोन आया- भाई विराट, तेरी भाभी गर्भवती है और मुझे चुदाई किये बहुत दिन हो गए.

मैं उसके गले में किस करने के साथ उसके मस्त गोल बूब्स को कपड़े के ऊपर से दबा रहा था. सेक्सी चाहिए वीडियो देखने वालाभाभी उठ गईं और मुझे देखकर बोलीं- दिव्येश मैं कुछ थक भी गई हूं, सो आराम कर लेती हूँ. 12 जुलाई सेक्सी वीडियोएक मर्द अपने घुटनों के बल कुत्तों की तरह बिस्तर पर झुका हुआ था और उसके पीछे मुनीर मर्दों की तरह धक्के मार रही थी. मैं जरा लंगड़ाते नंगी ही गई, थोड़ा दरवाजा खोला तो बाहर से रीना बोली- बधाई हो सीमा.

अब तक मैं समझ चुका था कि आग दोनों तरफ बराबर ही लगी है, पर ये समझ नहीं आ रहा था कि गरम लोहे पर हथौड़ा कब और कैसे मारूं.

मैंने अनजान बनते हुए कहा- आंटी बताना जरा किधर लग रही है?यह कहते हुए मैंने उनकी साड़ी में अपना सर अन्दर घुसाया. और रही सही बाकी की कसर माइक ने पूरी कर दी, उसने तो मुझे पूरी तरह से निचोड़ ही दिया. कुछ ही देर में मैं उनके मुँह में और वो मेरे मुँह में अकड़ कर झड़ गईं.

मैचिंग कलर का ब्लाउज नुमा टॉप, जो उसकी नाभि के थोड़ा सा ऊपर तक आ रहा था और उसके ऊपर ब्लैक जैकेट. चाचा जी ने खड़े खड़े ही मेरी चुत में अपना लंड डाल दिया और मैं ऊपर नीचे होकर उनका साथ देने लगी. कॉलेज के लगभग दो महीने पूरे हो गए थे, सब लोग दूसरे को समझने लगे थे.

network alerts पे चला

जब मैं घर गया तो होली के 2 दिन शेष थे, तो सोचा भाभी पर पानी डाल कर उन्हें सरप्राइज दे दूँ लेकिन मुझे क्या पता था कि मेरे लिए ही सरप्राइज तैयार है. माइक भी पूरा समर्थन देता रहा और तब तक लिंग की चोटें मारता रहा, जब तक कि मुनीर पूरी तरह झड़ कर शांत न हुई. जब मैंने कहा कि मैं उसके साथ उसके घर जा रही हूँ तो बड़ी जेठानी ने केवल इतना कहा कि ज्यादा रात मत करना और अगर देर हुई तो अगली सुबह जल्दी आ जाना.

मैंने अपना सीधा हाथ अपनी जीवनसंगिनी की कमर के ऊपर रख दिया और लंड को और अधिक बाहर निकाल कर गांड के अन्दर घुसेड़ने लगा.

उसने मेर पैरों को फैला दिया और उसके बाद अपना पूरा लंड मेरी चूत में डाल कर मुझे चोदने लगा और वो साथ साथ मुझे किस कर रहा था और मुझे चोद रहा था.

दोस्तो अपने मेल जरूर भेजें और मुझे बताएं कि मेरी ये सेक्स कहानी कैसी लगी. मनीषा दर्द से चिल्ला रही थी, पर मैंने हाथों से उसके मुँह को दबा रखा था. हेलो वीडियो सेक्सीउसने झट से मुझे सहारा देते हुए उठाया और पूछा- अरे क्या हुआ?मैंने कमजोरी का दिखावा करते हुए कहा- पता नहीं.

तो मृदुला बोली- रिलेशन ज़्यादा दिन स्टे नहीं कर सकता क्योंकि मेरे हज़्बेंड जैसे ही आएंगे मुझे ऑस्ट्रेलिया ले जाएंगे और मैं जितना तुम्हें समझी हूँ वो ये कि तुम मुझसे दिल लगा बैठोगे और फिर हर्ट हो जाओगे. क्लास ओवर हो गई, उसके बाद मैंने उनसे अपना मोबाइल लेने की बहुत रिक्वेस्ट की. मैंने सोचा यही अच्छा मौका है, मैंने उससे बोला- क्या मैं आ जाऊं?उसने भी हां बोल दिया- हां आ जाओ.

चाची की मोटी मोटी गदरायी हुई जांघों के बीच मोटी और झांटों से भरी चूत में मेरा लंड घुसता और निकलता साफ़ दिखाई देने लगा था. मैंने बोला- इतना क्या है रीना यहां?उसने बोला- वो जो उनके दोस्त आने वाले है, उनके लिए पार्टी अरेंज की है, ये सब उसी की तैयारी हो रही है.

फिर मैंने एक प्लान बनाया और सोने की कोशिश करने लगा था कि मैं कल सुबह जल्दी उठ कर दोपहर को अपने प्लान पर काम कर सकूं.

मैंने जैसे ही दरवाजा बंद किया पीछे से ज्योति ने मुझे अपनी बांहों में भर लिया. तो फिर तू पहले की तरह बैठ न मेरे बिल्कुल पास, इतने सालों बाद मिली है आज!” मैंने कहा और उसकी कमर में हाथ लपेट कर उसे अपने से चिपका लिया. हम लोग खाना खा चुके थे, लेकिन बारिश बन्द होने का नाम ही नहीं ले रही थी.

सेक्सी मूवी पंजाबी पिक्चर भाभी के बालों को एक तरफ हटा कर मैं पीठ को चूमने लगा और हल्के हल्के उंगलियां घुमाने लगा. चूंकि मेरा लंड उसकी गांड में चुभ रहा था, जिससे उसकी हालत खराब हो रही थी और मुझे भी अब रहा नहीं जा रहा था.

पिंकी को बिल्कुल घरेलू लड़की की तरह से सजाया था ताकि उसका असली रूप उनको ना दिखे. मैं एक बिल्कुल सीधा साधा सा व्यक्ति हूँ लेकिन कभी कभी जीवन में इस प्रकार की घटनाएं घट जाती हैं, जो कि व्यक्ति के जीवन को पूरी तरह बदल देती हैं. वे इतनी तेजी से लंड अन्दर बाहर कर रहे थे कि जैसे कोई मशीन लंड पेल रही हो.

गन्दी कहानी

मैं अपने आप अपनी कमर को उछालने लगी और मनोहर का लंड पूरा का पूरा मुँह में अन्दर-बाहर करने लगी. वह जैसे ही बेड से उठी, मैंने उठ कर उसे बाँहों में भर लिया और उसके सुलगते होंठों पर होंठ रख दिए. यह अपने परिवार को लेकर ही नहीं, और भी कई लोगों के लिए बाबा ने सच्ची बातें बताई हैं। सोचने समझने की बात तो है अगर उन्होंने कोई संकट बताया है तो हम उसका इलाज करें क्योंकि उन्होंने कहा था कि अगर तुम सूझबूझ से काम लोगे तो उस संकट से बचा जा सकता है.

मैं आराम से अपना आठ इंच लम्बे लंड को मामी की गांड में अन्दर बाहर कर रहा था. क्योंकि जीने को पूरी लाईफ पड़ी है और हम लोग मैत्री का रिश्ता नहीं तोड़ना चाहते थे.

हम उसकी बिल्डिंग में पहुंच गए थे और लॉबी में लिफ्ट का इंतज़ार कर रहे थे.

थोड़ी देर तक एक दूसरे की आंखों में देखते हुए आंखों से ही बातें करते रहे. जैसा कि सभी पाठक जानते होंगे दिल्ली में सेक्स बाजार, होटल मसाज पार्लर, दिल्ली का रंडीखाना मशहूर जी बी रोड जगह पर उपलब्ध है. अचानक मनीषा ने मुझसे पूछा- पंकज तेरी कोई गर्लफ्रेंड है क्या?मैंने मना कर दिया, फिर पूछा- आज ये क्यों पूछा, कोई ख़ास वजह?वो बोली- नहीं.

अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के बारे में उन्हें पहले से ही पता था, शायद उनकी किसी सहेली ने बताया था उन्हें, तो वो भी इस बेस्ट साईट पर चुदाई की कहानियाँ तो पढ़ती थी. भाभी भी गरम होकर मेरे सर को अपनी चूची पर दबाने लगीं, सिसकारी लेने लगीं. मैंने स्पीड बढ़ा दी और उनकी चूत में ही झड़ गया, फिर हम दोनों थोड़ी देर ऐसे ही एक दूसरे से लिपटे हुए पड़े रहे.

मैं चन्द्रप्रकाश भोपाल में पढ़ने के लिए गया था और कमरा लेकर अकेला रहता था.

पूजा बीएफ: वही रंग रूप, वही हुस्न, वही साइज़, बल्कि हिमानी से ज्यादा ही सेक्सी लुक वाली महिला थी वह. मेरी सास ने मुझसे सबके जाने के बाद कहा- बहू मुझे नहीं पता था कि मेरे घर पर तुम जैसे बहू आई है.

मैंने हंसते हुए कहा- अच्छा! मैं तो सोच रहा था कि तेरा लॉक पहले से ही किसी तोड़ दिया है. इस वजह से घर में अकेले रहने की आदत बन गयी है, मेरा समय ही नहीं कट पाता है. मयूरी- ठीक है मेरे राजा… अपनी दीदी की चूत को एक बार प्यार से अलविदा कहो और जाकर दरवाजा खोलो… मुझे कपड़े पहनने में थोड़ा वक्त लगेगा.

सुबह विक्रम उठा और अपने कोचिंग चला गया जहाँ वो कम्पटीशन की तैयारी करता था.

तब समाली अंकल बोले- बता वन्द्या तुझे मैं कैसा लगता हूं?मैं बोली- बहुत मस्त लग रहे हो अंकल. आधे से ज्यादा लोग दारु पी कर टुन्न हैं वे तो डांस करेंगे और नोट उड़ायेंगे, लेडीज को भी नाचने और फोटो खिंचाने से ही फुर्सत नहीं होगी. मैं भी उछल उछल कर उनके लम्बे लंड से गांड चुदाई के मजे ले रही थी और कामुक सिसकारियां निकाल रही थी ‘आहहह हहह.