बीएफ बुर का चुदाई

छवि स्रोत,सेक्सी पिक्चर हिंदी दिखाओ

तस्वीर का शीर्षक ,

ओरिया बीपी: बीएफ बुर का चुदाई, कुछ देर ऐसा करने के बाद मैंने उसके गाल पकड़ के दबाये और पूरा मुँह खोल के ऊपर कर दिया.

सेक्सी देहाती बुर की चुदाई

वो अपने हाथों को मेरे सर पर घुमाने लगी और अपनी बुर को मेरे मुँह के तरफ़ धकेलने लगी. सेक्सी फिल्म घोड़ामगर उसने मेरे होंठों को चूसना शुरू कर दिया और मेरे मुंह में जीभ डाल कर मेरी लार को पीने लगी.

कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि आखिरकार मैंने अपनी बहन की सहेली की चूत चोद ही दी. ब्लू फिल्म ब्लू फिल्म सेक्सी सेक्सीउसके बाद भाभी नीचे रजाई में घुस गई और मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी.

”हां आओ ना … बल्कि मैं तो कहती हूँ कि आप ऐसा करो कि आज रात अपने फ्लैट को लॉक ही कर देना और यहीं सो जाना.बीएफ बुर का चुदाई: मैंने लंड पेलते हुए पूछा- अच्छा, ये बताओ कि मेरा लंड बड़ा है कि उन दोनों का बड़ा था.

हम दोनों कुछ भी नहीं बोल रहे थे, बस वो मेरे ऊपर लेटे हुए थे।अब उन्होंने अपना लंड आराम से बाहर किया, तब मुझे कुछ अच्छा लगा.मेरे पूरे बदन को चूमने के बाद नीचे वाले लड़के ने मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया.

मराठी कन्नड सेक्सी व्हिडिओ - बीएफ बुर का चुदाई

मैंने भी उसी कपड़े से अपना लंड साफ किया और हम दोनों ने अपने कपड़े ठीक किए.सेलिना ने मुझे एक दिन और रुकने के लिए कहा मगर मुझे घर पर किसी काम से वापस आना था इसलिए मैं दूसरी रात को उसके पास नहीं रुक पाया.

मैंने थोड़ी देर रुक कर देखा, तो उसकी आंखें बंद हो रही थीं, पर अभी भी वो मोबाइल में कुछ देख रही थी. बीएफ बुर का चुदाई कुछ टाइम के लिए मैं फिर से रुक गया और मौसी की हालत ठीक होने का इंतजार करने लगा.

फिर जीजा ने दीदी के बालों में हाथ फिराना शुरू कर दिया और कुछ ही देर में दीदी को नींद आ गई.

बीएफ बुर का चुदाई?

क्यूंकि आज बुधवार था और दोपहर का शो था तो सिनेमा हॉल लगभग पूरा खाली ही था आगे की सीटों पर कुछ ही लोग बैठे थे. उसके चूचों को दबाते हुए मैं उसके होंठों को चूसने लगा और नीचे की तरफ मेरा लंड उसकी चूत में उतरने लगा. इसी तरह मैंने वाइन उसे फिर से पिलाई और उसके होंठों पे फिर होंठों रख दिए.

मुझे जो हल्की थकान महसूस हो रही थी, वो भी वाइन के नशे से गायब हो चुकी थी. आदाब दोस्तो, आपने मेरी कहानी ‘आपा का हलाला’ पर आप सब की ढेर सारी ईमेल भेजी, आप सबका इस प्यार के लिए बहुत शुक्रिया. वे बोलीं- अब तो चोद दे अपनी चाची को!मैं बोला- संगीता आज से तू मेरी टीचर है … तू जो बोलगी, मैं करूँगा.

फिर मैंने रिप्लाई किया कि आज भी मेरे जैसे बहुत हैं, जो बिना गर्लफ्रेंड के रहते हैं. शायद उसको भी उसकी चोदाई करते हुए लड़के का चेहरा देखना बहुत सुखद लग रहा था. वो रो भी नहीं पा रही थी, बस अपने नाखूनों से मेरे पीठ में चुभा रही थी.

मौसी ने उनसे कहा- अब और रुपये कहां से लाएं?लेकिन वे मौसी से और पैसे मांगने लगीं तो मौसी बोलीं- मेरे पास और नहीं है. मैंने उसकी चूत को तेजी के साथ सहलाना शुरू कर दिया और वो मेरे चूतड़ों को दबाते हुए मुझे अपनी तरफ खींचने लगी.

जब उनके पापा बाहर ड्यूटी पर होते, तो वे दोनों नीचे ही रहती थीं, पर जब अंकल आ जाते, तो वे दोनों नीचे झांकती भी ना थीं.

वो रो भी नहीं पा रही थी, बस अपने नाखूनों से मेरे पीठ में चुभा रही थी.

जल्द ही वो अपना शरीर मेरे शरीर से रगड़ने लगी थीं, जिससे मैं कंट्रोल से बाहर हो गया. जब तक लंड में ताकत थी, तब तक वो अन्दर तना हुआ था, पर बाद में ढीला होकर बाहर आ गया. पहले दो दिन तो मैंने सरलता से निकाल लिए मगर तीसरे दिन सेक्स की चाह से मैं पागल सी हो गई.

इसके बाद क्या हुआ … ये जानने के लिए आप सब अपने विचार मुझे मेल से भेजिएगा. हम दोनों अच्छी तरह घुल-मिल गए।ज्योति आंटी बहुत ही चिकनी थी, उसकी चूची बहुत ही मोटी थी, हम दोनों बहुत फ्रैंक थे पर हमारे बीच कोई ग़लत बात नहीं थी। आंटी बहुत शरीफ़ थी। वो शक्ल से भी शरीफ दिखती थी और उसका पहनावा भी ऐसा था कि कहीं से उसके बदन का कोई हिस्सा बाहर दिखाई ही नहीं देता था. नम्रता- अरे यार क्या लड़कियों वाली बात करते हो, तुम्हारे जैसे पार्टनर के साथ गाली बककर अपनी चूत चुदवाने का मजा अलग है.

मेरे ताऊ ने मेरी बुआ के चूचों को अपने दोनों हाथों में भर कर दबा दिया.

मौसी- साले तुझे मज़ाक सूझ रहा है?मौसी की हालत मैं समझ रहा था और उनके गुस्सा करने की वजह को भी. मेरे मामा के घर पर मेरे मामा मामी और मामा का लड़का, बस सिर्फ़ तीन ही लोग रहते हैं. मेरी चूत टाइट थी इसलिए जीजा जी पंद्रह मिनट से ज्यादा मेरी चिकनी चूत के सामने टिक नहीं पाये और उन्होंने मेरी चूत में अपना वीर्य उड़ेल दिया.

मैंने उसे अपने ऊपर से हटाने की बहुत कोशिश की, पर उसने बिल्कुल एक रांड की तरह मुझे दबोच रखा था. इस बारे में मैं आगे खुलासा करूंगा, आप मेरी कहानी पढ़ते रहिये और मजा लीजिये. मुझे कुछ अज़ीब लगा मैं सोच में पड़ गई कि ‘क्या ये अब फिर मेरी गांड मारने वाला है?’मेरी सोच सही साबित हुई, उसने गांड की छेद में अपना थूक लगाया.

माँ सिसिया कर बोलीं- आह क्या कर रहे हो … उम्म्ह… अहह… हय… याह… आऊ आआअ … आपने ये सब कहां से सीखा? उम्म्मह … आज तो आपका लंड और जीभ दोनों कमाल कर रहे हैं.

उसके बाद अंजलि ने मेरे लंड को अपने मुंह में भर लिया और उसको चूसने लगी. ”अरे नहीं राजे … ऐसे तो मैं न जाने दूंगी … मैं हूँ नस्पोर्ट्स इंचार्ज … मेरी इजाज़त है … आज मत करो बॉक्सिंग प्रैक्टिस ….

बीएफ बुर का चुदाई उसके बाद जीजा ने दीदी को फिर से चूमना शुरू कर दिया मगर इस बार दीदी ने उनको दोनों हाथों से धकेलते हुए दूर कर दिया. मेरे पैरों पर जमी धूल की उन्होंने जरा भी परवाह नहीं की और पांवों की उंगलियां मुंह में लेकर चूसने लगे.

बीएफ बुर का चुदाई उस रिश्तेदार ने ट्रेन में बैठाने से पहले उनसे ये भी नहीं पूछा था कि वो लोग कहाँ पर उतरने वाले हैं. ”क्या हो गया?”इस बार पीरियड नहीं आये। टेस्ट किट से चेक किया। मैं गर्भवती हो गयी हूँ.

फिर 5 दिन बाद मेरे मामा अपनी लड़की की शादी का न्यौता देने और मुझे साथ ले जाने के लिए आए.

इंदौर सेक्स वीडियो

एक बार फिर से मानसी जीजू के लाल रसीले होंठों को चूसते हुए उनकी छाती पर लेट गई और उसके चूचे जीजू की छाती से जा सटे. उसके मुँह से हल्के स्वर में आवाज निकल रही थी- हाय अमीषा मेरी जान … तेरी क्या मस्त चूचियां और गांड है, मन करता है कि तुझे रात भर चोदता रहूँ. लंड चुसाई की मस्ती से जोश में आ कर मैं उसके सिर को अपने लंड पे दबाने लगा.

उसने मेरी चूत को मसलने के बाद मेरी चूत पर अपना लंड रख दिया और मेरी चूत को लंड के सुपारे से रगड़ने लगा. धीरे धीरे उनके झटके तेज़ होते जा रहे थे, अब मेरा दर्द कुछ मजे में बदल रहा था. उस लड़के ने मेरी बहन की चूत में लंड फंसा रखा था और वो उसकी चुदाई करने में लगा हुआ था.

मैं एक चादर लपेट कर बाथरूम में गई तो मेरी टांगें बहुत दर्द कर रही थीं.

जैसे तैसे स्कूल की छुट्टी की घंटी बजी, मैं तेज़ तेज़ साइकिल दौड़ाता हुआ घर गया और कपड़े बदल के तुरंत रानी के बंगले की तरफ चल पड़ा. मैंने दूसरे धक्के में पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में जड़ तक घुसा दिया और उसके होंठों को चूसने लगा. अगर कोई टाइट कपड़ों में ऐसे ही देख ले तो उससे मुट्ठ मारे बिना नहीं रहा जाए और यह तो मेरे सामने अपने असली रंग को दर्शाती हुई नंगी गांड थी।मैंने वीणा के बालों को पीछे खींचते हुए उसकी चूत में अपना लंड ठेल दिया और अपनी पूरी जान लगा कर वीणा की चूत को चोदने लगा.

मैं आगे हाथ बढ़ा कर उनके 36 इंच के चुचों को अपने दोनों हाथों से दबाए जा रहा था. मैं आनंद के मारे अपने लंड को उसके नितम्बों पर रगड़ने में लगा हुआ था और कुछ ही पल में इस रगड़ ने मेरे वीर्य को उफान पर ला दिया. सरला के हाथ भी कहां शांत थे, वह मेरे चूतड़ों पर अपने हाथ घुमा रही थी.

लेकिन जीजा ने अपना सारा माल मेरी चूत में उगल दिया था और वो रुक गये थे. मैंने अपना लंड उनकी चूत के छेद पर रखा और धीरे से अंदर डाला तो हल्की सी सिसकारी उनके मुँह से निकली.

बीच में मैडम फॉर्मेलिटी पूरी करने के लिए आई और शीट पर भरी डीटेल्स चेक करते हुए साइन करने लगी. इसके अलावा फिर सुमिना भी तो अपनी मर्जी से ही कुणाल के साथ सेक्स कर रही थी. मुझे अच्छा नहीं लग रहा था पर वो दोनों मेरे कहने पर रुकने वाले नहीं थे.

उसके बाद ससुराल वालों ने मुझे पैसों के लिए परेशान करना शुरू कर दिया.

अब मैंने बिना देर किए मामी को लिटा दिया और उनकी बुर पे अपना मुँह लगा दिया. प्रिया की शादी के बहुत दिन बाद तक मैं अनमना सा रहा लेकिन धीरे-धीरे हमारी जिंदगी भी अपने ढर्रे पर वापिस लौट आयी. उस दिन अंकल ने दवा खा कर मुझे लगातार एक घंटे तक चोदा, मेरी चूत अंकल के हाथ भर के लौड़े से चुद चुद करके सूज गई थी.

वह उठी और उसने मेरे लंड को पकड़ कर अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगी. उसने कहा- यह टॉवल उठा कर अपने बदन पर लपेट कर चली जा और बाहर बाथरूम में जाकर खुद को अच्छे से धो ले.

फिर मैंने उसकी पीठ पर तेल गिरा के उसकी कमर पर हाथ लगाया, तो और मज़ा आ गया. जाने से पहले कहना चाहूंगा कि आपको भी किसी प्रकार की समस्या हो या किसी प्रकार का सवाल पूछना हो तो आप बेझिझक मुझे मेल कीजिये। आप सबको मेरे द्वारा दिये गये ये जवाब कैसे लगे जरूर बतायें। आप सबकी मेल के इंतज़ार में आप सबका मित्रयश गर्गआप सब मुझे यहाँ मेल करें[emailprotected]. ओके ओके सोनम जी … इट हैपेन्स … यू कैरी ऑन प्लीज!” सुकांत जी मुझसे शिष्टता से बोले.

सिल तोड सेक्स

उसने मेरी लोअर को नीचे करवा दिया और मेरे तने हुए लौड़े को हाथ में लेकर सहलाने लगी.

मैं बुआ के कान के पास जाकर बोला- बुआ, जब मजे ले रही हो तो नाटक करने की क्या जरूरत है. जब वो सात दिन के बाद शाम को हमारे घर आयी तो मैंने उस दिन उसके फीगर को ध्यान से देखा जो 34-30-36 के लगभग था. दस मिनट के बाद वो खुद घोड़ी बनी और मेरा लंड पकड़ के बोली- पंकज जी आप पीछे से डाल लो … मैं थक गई हूं.

मैंने काजल को मेरी बांहों में भर लिया और उसके नर्म होंठों को चूसने लगा. फिर मैंने दिशा को लेटाकर बिना देरी किये अपना लंड एक जोरदार धक्के के साथ घुसेड़ दिया … जिससे दिशा कराह उठी. देवर भाभी सेक्सी मूव्हीमैंने वसुन्धरा को ब्यूटी-पार्लर के गेट पर उतारा और उसको जैसे ही आप तैयार हो जायें, मुझे सैल पर कॉल कर दें, मैं आप को लेने आ जाऊंगा.

पहले तो वो मुस्कुराई, फिर बोली- तू परेशान मत हो … मेरे पास एक तरीका है. एक महिला मित्र नीलिमा ने पूछा: मैं आजकल इस बात को लेकर बहुत ज्यादा चिंतित हूँ कि मैंने बहुत बार अपनी योनि में उंगली और कुछ अप्राकृतिक वस्तुओं के द्वारा योनि को सन्तुष्ट किया.

मुझे बहुत मज़े आ रहे थे, मैं चाहती थी कि बस वो दिन भर ऐसे ही करता रहे।फिर उसने मुझे उल्टा किया और मेरी गांड में अपनी मोटा लोड़ा घुसा दिया. जैसे तय हुआ था, सुकांत जी बुधवार को कोई चार बजे मेरे ऑफिस में मेरे सामने चेयर पर आकर बैठ गए, मैं तो कंप्यूटर पर चेक और दूसरे डाक्यूमेंट्स पास कर रही थी; मैंने सुकांत जी को बगैर देखे समझा कि कोई कस्टमर किसी काम से मेरे सामने आ के बैठा होगा तो मैंने अपनी रेगुलर टोन में उनसे कहा- यस प्लीज, क्या काम है बताइये?और जब मेरी नज़र उन पर पड़ी तो ‘हाय राम …’ मेरे मुंह से निकला और मेरा चेहरा शर्म से लाल पड़ गया. उसके पति उसके साथ कुछ करते या नहीं, इस पर भाभी की अभी तक कोई टिप्पणी नहीं हुई थी.

मैं आगे की तरफ जाकर आंटी के चूचों को दबाने लगा और वरूण ने आंटी की चूत की चुदाई शुरू कर दी. ”क्या हो गया?”इस बार पीरियड नहीं आये। टेस्ट किट से चेक किया। मैं गर्भवती हो गयी हूँ. उसकी चूत पर नीचे के बाल कुछ ज्यादा बड़े थे जबकि मैंने अपनी चूत के बाल बिल्कुल साफ किये हुए थे.

वो मेरे पास आया और बोला- आशना … मुझे पता है कि अभी तुम मेरे रूम के बाहर खड़ी थीं.

अब अंकल भी मस्त होकर मुझे भोग रहे थे और अपनी किस्मत पर नाज कर रहे थे कि मुझे कुंवारी बुर भोगने को मिली. मैंने और तड़पाना ठीक नहीं समझा और मुँह से उसके चूचुक पर पड़ी गुलाब की पंखुरियाँ निगल गया और चूचुक चूसने लगा.

उसने कहा- आशना आगे की ओर घूम जाओ … पर अपनी आंखें बंद रखना … ठीक है!वो मेरे ऊपर से हट गया. सामने से अपना लंड बिना बाहर निकाले, मेरे बुरके के ऊपर से ही मेरी चुत के पॉइंट पे रगड़ने लगा. फिर उसने बाल खींच के मेरा मुंह चूचियों से हटाया और बोली- सुन राजे … अब थोड़ा तेज़ी करने का वक्त आ गया … मैं नीचे से कमर उछालूंगी और तू ऊपर से लंड पूरा बाहर निकाल के ठोकियो … मैं चाहती हूँ हम दोनों एक दूसरे को देखते हुए चुदाई करें … सेक्स करते हुए चेहरा पर कैसे कैसे हाव भाव आते यह देखने में बहुत अच्छा लगेगा.

मेरे और विक्की के सामने ही निहारिका ने अपनी ब्रा उतारी और खुली टी-शर्ट डाल ली. उधर मैं फोन पर आशीष को भी इसी तरह से कामुक सिसकारियां लेते हुए उत्तेजित रखने की कोशिश कर रही थी लेकिन असली मजा तो मुझे यहां जीजा के साथ आ रहा था. उसका नाम डिंपल जयश्री है उसे उसके उपनाम डीजे कह कर बुलाना अच्छा लगता है.

बीएफ बुर का चुदाई उसका पूरा जिस्म कांप रहा था और वो मेरे लंड के झटकों को झेलने की कोशिश कर रही थी. भाभी ने कुछ नहीं कहा तो मैंने बड़े रोमांटिक मूड में आगे बोल दिया- मुझे तो कोई और पसंद है.

पति-पत्नी में बेडरुम की बातें

उसने अपनी एक टांग को मेरे दोनों टांगों के बीच फंसा कर दूसरी टांग को मेरी कमर पर चढ़ा दी. लेकिन फिर एक दिन जब सौरव मुझे चोद कर मेरे घर के पीछे छोड़ने आया, तो मेरे पापा ने मुझे सौरव के साथ देख लिया. वह किसका लंड था और मैंने उस लंड को कैसे तैयार किया वो सब मैं आपको अगली कहानी में बताऊंगी.

महेश ने मुझसे क़हा कि उसकी फैमिली मुझको थैंक्स कहना चाहती है, इसके लिए मैं अपनी बीवी को लेकर आज रात उसके घर डिनर पर आऊं. फिर पता नहीं क्या हुआ कि वो बोले- चल आज तुझे नहीं चोदता, 2 दिन बाद मुझे ऑफिस के काम से बाहर जाना है. महाराष्ट्रातील मराठी सेक्सी व्हिडिओमेरा घर गांव में है, इसलिए मुझे सिटी में रूम किराए पर लेकर रहना पड़ता था.

मैं उनकी बांहों से छुड़ाने की कोशिश करने लगी पर वो और जोर से मुझे अपने पास चिपकाकर मेरे होंठों को चूसने लगे.

कुछ देर इंतजार करने के बाद मेरे पास में वेटिंग लाइन में एक 40 वर्ष की महिला आ कर बैठ गई. एक दिन उसने मुझे बुला कर कहा- मेरा मोबाइल खराब हो गया है, उसे बनवाने के लिए मार्केट में दिया हुआ है … क्या आप लेते आएंगे?मैं बोला- हां ठीक है, मैं बाजार जाऊंगा तो ले आऊंगा.

हुआ यूँ कि एक दिन अचानक मेरे नाना जी की तबियत ख़राब हो गई और मेरी माँ उनके पास गांव चली गईं. भाबी जी भी अपनी गांड उछाल उछाल कर अपना भोसड़ा मुझसे चटवाने में लग गईं. मेरी कुंवारी बुर को देख कर वे बोले- बाप रे … इतनी छोटी सी बुर है तेरी, कैसे ले पायेगी मेरे इस लंड को?उन्होंने अपनी पैन्ट और चड्डी को उतार दिया, बोले- जरा आँखें तो खोल!जैसे ही मैंने आँखें खोली, उनका विशालकाय लंड देख कर मेरी आँखें फटी सी रह गई.

फिर अंकल जी ने मुझे पानी पिलाया और मैंगो वाली कोल्ड ड्रिंक ला कर दी.

मुझे याद करती होगी या नहीं … करती तो होगी!’ ऐसे कितने ही विचार मन में आ विचरते. कुछ देर तक उसके चूचों को चूसने के बाद मैंने उसकी पैंटी को निकलवा दिया और उसको नंगी कर दिया. बस 5 मिनट किस करने के बाद वो रुकी और मेरे आंखों में आंखें डाल के बोली- पैसे दिए हैं … तो चोदेगा भी या बस खिलायेगा ही!(आपको याद होगा टेबल का वो दृश्य, जब मैंने उसके मुँह में नोट ठूँसा था.

सेक्सी आदिवासी लड़की कीमैंने थोड़ी नानुकर के बाद नीचे बैठ कर उसके लंड को एक किस किया और टोपे पर जीभ घुमायी. मैं और गर्म हो गया और लंड चूत से निकाल कर तुरंत उसकी गांड में डाल दिया.

काजल राघवानी सेक्सी पिक्चर

मैं पेट के बल लेट गई और वो मेरे पास खड़ा हो गया पर कुछ नहीं कर रहा था. वे बोलीं- पति देव, आज तो कमाल कर दिया … अब तो तुझे रोज ऐसे ही चटाऊंगी. पेशे-ख़िदमत है एक अद्धभुत प्रेम-कथा के बीज के सालों पहले धूल-धूसरित होने और फिर कालांतर में उसमें से अंकुर पल्लवित होने से लेकर फ़ल के पकने और उस फ़ल की अद्धभुत लज़्ज़त चखने तक की … कच्चे-पक्के जज़्बातों और आधे-अधूरे अहसासों की पूरी दास्तान.

वो नशीली आवाज में बोली- मैंने जिंदगी में बहुत चुदवाया है, पर आज जो मजा चुदाई से पहले आ रहा है, वो कभी नहीं आया. जब तक मैंने शर्ट उतारी तब तक अंजलि ने मेरी पैंट का हुक खोल दिया और मेरा कच्छा भी नीचे कर दिया. ”मैं बोली- ठीक है!मैंने उस वक्त नाईटी और अन्दर ब्रा पैन्टी पहनी थी.

मैंने बेड से नीचे उतर कर अपने पैर भी बेड के इधर उधर कर लिए और अपना लंड को भाभी की चूत पर रगड़ने लगा. मैंने सोचा यदि अभी मना करूंगा, तो ये जो पहले का चूमा चाटी वाला खेल भी नहीं खेल पाऊंगा, तो मैं भैया की बात मान गया. मैंने उन्हें मजाक में ही कह दिया- भाभी आपको फिटनेस सेंटर में आने की क्या जरूरत है … आप तो पहले से ही काफी फिट हो.

हाय नहीं … बस बस … आह … ह … ह!कहते-कहते वसुन्धरा ने मेरे सर के बाल पकड़ लिए और बहुत बेदर्दी से मुझे बेड पर अपने ऊपर खींच कर मेरे होठों पर अपने होंठ रख कर मेरे होंठ चूमने लगी … चूमने क्या लगी, यहां-वहां काटने लगी. मैं अंदाजा लगा रही थी कि उसने बरामदे की लाइट ऑफ कर दी है क्योंकि मैंने आँखे खोल के बाहर झांकने की कोशिश की.

एक दिन हमारी पोल खुल गयी, हम दोनों को मकान मालिक की बड़ी लड़की डोली ने देख लिया.

मुश्किल से 20-25 धक्के हुए होंगे, उतने में मौसी ने मुझे कस कर पकड़ लिया और मुझसे चिपक गईं. सेक्सी वीडियो चुदाई राजस्थानउसके मम्मे मसलते हुए बड़े ही कामुक अंदाज में मैं उसकी गर्दन पे हर जगह किस करता … तो वो वासना से तिलमिला उठती. सेक्सी कहानी हिंदी मूवीशायना बुआ कराहते हुए बोलीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… साले हरामजादे … बोला था न आराम से डालिओ … मेरी चूत को फाड़ेगा क्या?मुझे बुआ के मुँह से गाली सुन कर और जोश आ गया. मेरा एक बार रस निकल गया था, इसलिये मुझको जल्दी झड़ने की कोई टेंशन नहीं थी.

मैंने दोबारा अन्दर देखा, तो बाप और दोनों बेटियों यानि उन तीनों को बिना कपड़े के देखकर मैं गनगना गई.

मैं बी-टेक के फाइनल ईयर में था, तो मैंने सोचा क्यों ना पार्ट टाइम में कोई जॉब कर लिया जाए. तनने के बाद सो चुके लंड से कामरस की एक बूंद निकल कर अंदर ही अंदर अपने मुझे मेरे लंड के टोपे पर ठंडा-ठंडा अहसास करा रही थी. मेरा साथ हुई इस घटना में जिस लड़की का जिक्र मैं करने जा रहा हूं वह मेरे साथ ही मेरी ही कम्पनी में काम करती थी.

मैं धीरे धीरे उसकी नाइटी ऊपर करने लगा और उसकी चुत को पेंटी के ऊपर से ही मसलने लगा. काजल की चूत मारते हुए मुझे करीबन पन्द्रह मिनट से ज्यादा टाइम हो चुका था. अंकल जी पूरे नंगे होकर नीचे कालीन पर बैठ गए और मेरे पांव ऊपर उठा कर सोफे पर रख दिए जिससे मेरी नंगी चूत खुल कर उनके मुंह के सामने हो गयी.

फोटो सेक्सी

फिर धीरे धीरे उसकी चूत की फांकों को टटोलते हुए मैंने सीधा ही अपनी बीच वाली उँगली को उसकी मखमली गहराई में घुसा दिया. मेरे ख्याल से वह अपनी चूचियों को छिपाने के लिए उठी थी मगर अब मैं उसके ऊपर आ चुका था इसलिए वह बस कंधे सिकोड़ कर रह गयी. मैंने सोचा अब ये सही मौका है, इसलिए मैंने बिना देर किए अपना लंड सोनल की चुत पर रख दिया.

भी चल रहा था, फिर भी उसकी गर्दन पर पसीने की कुछ बूंदें थीं। ये बूंदें उसके गोरे बदन पर मोती की तरह चमक रही थी। मैंने इन मोतियों को चूमा और उसकी बाँहों के नीचे आ गया.

उसने अचानक नीचे बैठ कर मेरी पैन्ट खोल कर मेरे लंड को बाहर निकाल कर चूसना शुरू कर दिया.

अगर देखा जाये तो हम दोनों की करतूत में फर्क ही क्या है! जिस तरह से काजल सुमिना की सहेली है वैसे ही सुमिना भी तो काजल की सहेली है. मैंने धीरे-धीरे एक-एक करके उसके ब्लाउज के सारे हुक खोल दिये और उसकी चूचियों को ब्लाउज से बाहर निकाल कर नंगी कर लिया. लड़कियों का वीडियो सेक्सीदस मिनट तक मेहनत करने के बाद मैंने सुमन के मुंह पर अपनी चूत का पानी फेंक दिया.

वो झट से सीधी लेट गई और उसने अपने मम्मों पर अपने एक हाथ को रख लिया. क्या चूत थी यार … गोरी-गोरी, फूली हुई, हल्के गुलाबी रंग की … देखते ही चाटने का मन करने लगा।यह सब देखकर अब मुझसे रहा न गया और मैंने वहीं पर खड़े होकर अपने लंड को हिलाना शुरू कर दिया. साथ ही साथ मैं खुद को मर्द इमेजिन करके सरला के मुँह को चूत समझकर जोर जोर से आगे पीछे होने लगी.

उसकी चूत एक बार झड़ चुकी थी, जिस वजह से चूत में लंड इंजिन के पिस्टन की तरह सटासट अन्दर बाहर होने लगा था. खाना खाने के बाद जिस्म की थकाने ने मुझे और नम्रता को सीधे बिस्तर पर धकेल दिया.

धक्के लगाने के लिए लंड को आगे पीछे करने की कोशिश करने लगा मगर लंड थोड़ा सा हिलकर रह जाता.

फिर मैंने भी उनके साथ दो तीन सुट्टे लगा लिए, जिससे मुझे नशा हो गया था. मैं अपने दोस्तों के पास नहीं बल्कि आज मानसी के चूचों को दबाने की प्लानिंग कर रहा था. वह एक बार तो उछली मगर उसके बाद फिर उसने अपनी चूत को ऊपर से रगड़ना शुरू कर दिया.

सेक्स व्हिडिओ ओपन सेक्सी व्हिडिओ उसके पास आते ही मैं उसे किस करने लगा और साथ में सोनल के मम्मे भी मसलते जा रहा था. मेरी उम्र 28 साल है और अच्छी सेहत के साथ-साथ 6 इंच लम्बे और 2 इंच मोटे लंड का मालिक हूँ। यह मेरी सच्ची कहानी है जो 2 साल पहले एक भाभी के साथ घटित हुई थी। उस भाभी का नाम सायमा था.

लेकिन कंपनी वालों ने परेशान करने के लिए उसे किसी काम से मुंबई जाने को कहा. मैंने उसे डांटा तो दिलिया बोली- देखने दो ना … इनसे क्या शर्म?सारा बोली- दिलिया देख … अब इसी लंड से तेरी भी चूत फटेगी. लेकिन ब्लाउज में सही से मजा नहीं आ रहा था, इसलिए मैंने उसका ब्लाउज खोलने की कोशिश की.

सारा अली खान xxx

उसने मेरी गर्दन को चूमना शुरू कर दिया और अपनी टांगों को मेरी गांड पर लपेट लिया. इसमें बदनामी भी नहीं है और किसी प्रकार की चिंता भी नहीं रहेगी और धोखे का तो फिर सवाल ही नहीं उठता।4. जब वापस से आंखों के सामने रोशनी आई तो मैंने होश में आकर देखा कि रवि जल्दी-जल्दी अपनी बड़ी सी टेबल पर लिटाकर चोदने में लगा हुआ है.

अब हमने अपनी सेक्स स्थिति बदलने की सोची।वीणा ने अपनी गीली चूत में से सना हुआ मेरा लंड बाहर निकाला और कमरे की स्टडी टेबल पर अपने स्तनों को टिका दिया। वीणा अपने पांव पर खड़ी होकर अपने पूरे शरीर को टेबल पर लेटा चुकी थी. वो काम वासना में गांड उठाते हुए बड़बड़ाने लगी कि आह मन्नी … मजा आ रहा है … तुम करते रहो … रुकना नहीं डियर … मैं इसी दिन का कब से वेट कर रही थी.

उसकी इस हरकत पर मैंने अपने लंड को सहला दिया और जब मैं अपने लंड को सहला रहा था तो वो मेरे हाथ और मेरे लंड को ही देख रही थी.

उसके बाद नीचे वाले लड़के ने अपनी उंगलियाँ निकाल लीं और मेरी बगल में खड़ा होकर अपने कपड़े उतारने लगा. हम दोनों सहेलियां बाथरूम में नंगी होकर एक दूसरे के जिस्म को चूमने लगीं. जीजा जी ने मुझे बांहों मे लेकर पलंग पर गिरा लिया और मेरी सलवार में हाथ डालकर मेरी छोटी सी चूत को मसलने लगे.

मैंने कहा- हां जीजा, अपने यार आशीष के अलावा मैं पांच-छह मर्दों से और चुदवा चुकी हूं. इतना अच्छा रिस्पोंस मिलने से मेरा उत्साह काफी बढ़ा और उसी प्यार की वजह से मैं फिर से मेरी अन्य हसीन घटना के साथ हाज़िर हूँ. वो मेरी चूत को चाट रहा था और मैं उसके लंड को चूस रही थी और कुछ देर के ओरल सेक्स के बाद हम दोनों झड़ गए.

घर आकर अपनी बीवी में अनामिका का चेहरा की कल्पना करते हुए दुगने उत्साह से चोदने लगा.

बीएफ बुर का चुदाई: देखते ही देखते वो नंगा हो गया और अपने लंड को एक बार हाथ में हिला कर जल्दी से मेरे ऊपर लेट गया. मैं- क्यों?मेरी ये हॉट एंड सेक्सी देसी चूत चुदाई की कहानी पर आपके मेल का स्वागत है.

मुझे इतना ज्यादा मजा मिलने लगा कि अभी कुछ समय पहले के जानलेवा दर्द को भूल गई. एग्जाम शुरू होने में कुछ ही देर बाकी रह गई थी इसलिए मैडम ने एग्जाम शीट बांटनी शुरू कर दी. बस 5 मिनट किस करने के बाद वो रुकी और मेरे आंखों में आंखें डाल के बोली- पैसे दिए हैं … तो चोदेगा भी या बस खिलायेगा ही!(आपको याद होगा टेबल का वो दृश्य, जब मैंने उसके मुँह में नोट ठूँसा था.

मैं थोड़ी मस्ती के मूड में आ गई और सोचा कि क्यों ना इसको और परेशान करूँ.

मैं दिन भर बहुत चुद चुकी थी तो नींद आ गयी और वो भी सो गया।घण्टे भर बाद राकेश आया और उसने मुझे साइड में लिया तो मैंने उसे थोड़ा रुकने को कहा. टीना आंटी और उनके बच्चों के साथ समय के साथ मेरा अच्छा संबंध, बोलें तो व्यवहार हो गया था. काफी देर बाद जब पूरा लण्ड उसकी चूत में समा गया तो मैं धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा.