हिंदी ट्रिपल एक्स बीएफ

छवि स्रोत,बुर्के वाली की बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

वीडियो बीएफ सेक्सी हिंदी: हिंदी ट्रिपल एक्स बीएफ, फिर अचानक ही उन्होंने मुझसे सवाल किया- तुम्हें कैसी लड़की पसंद है?मैं भाभी की बात को सुन कर चौंक गया.

मराठी देसी सेक्सी बीएफ

मुझे अब पता चला कि चूत को चटवाने में कितना मजा आता है, मुझे चूत चटवाना बेहद पसंद हो गया. बीएफ वाली बीएफ वाली बीएफबॉस- नेहा रंडी मेरे लंड का पानी निकलने वाला है, तेरी गांड को भर देगा.

मैंने एक ज़ोर का धक्का मारा, जिससे मेरा लंड आधा उसकी चुत में घुस गया और उसकी चीख निकल गई ‘हयी मम्मी… मैं मर गई… आह. चुदाई की सेक्सी वीडियो बीएफतो वो बोली- तुझे मुझमें सबसे ज्यादा क्या पसंद है?मैं कुछ नहीं बोला, वो अपने चूचे उठा कर कहने लगीं- देख शर्मा मत.

पहले तो धीरे धीरे कर रहा था कि कुछ देर के बाद मेरे कंधों को पकड़ कर मुझे आगे झुका दिया और अब वो लंड को मेरी गांड में जल्दी जल्दी अन्दर बाहर करने लगा.हिंदी ट्रिपल एक्स बीएफ: उसने अन्दर कच्छा तो पहना भी नहीं था, शायद वो सीधे संभोग के लिए ही तैयार था.

उसी पोज़िशन में कुछ देर रुकने के बाद मैं धीरे धीरे धक्के लगाने लगा.सिराज ने पूछा- क्या हुआ? लगे रहो उसके साथ!तो एक ने कहा- जनाब उसको तो दारु ज्यादा हो गई है, अब वो लुढ़क गयी घंटे तक! हमारा तो एक ही बार हुआ था, अभी मन भी नहीं भरा.

बीएफ सेक्सी मोटी मोटी चूत - हिंदी ट्रिपल एक्स बीएफ

उन्होंने कहा- मैं आपके आगे बैठ जाती हूँ, ताकि आपको मालिश में आसानी हो.मेरे पूरे तन बदन में करेंट दौड़ उठा, मेरी कामुकता जाग उठी… लेकिन ये मेरी दीदी थी, मैंने दीदी को हटाया.

मैंने उन्हें एक किस किया और कहा- जाओ भाभी लेकिन मन अभी भरा नहीं!तब मैंने भाभी को बस में बिठा कर घर के लिए रवाना कर दिया. हिंदी ट्रिपल एक्स बीएफ अब वो 69 की स्थति में मेरा लंड पकड़ कर चूसने लगी और मैं चुत और गांड बारी बारी से उंगली पेलने लगा.

इस बार मैं अपने घर आया तो पता लगा कि विशाल की अभी नई नई उसकी शादी हुई थी और वो अभी यहीं है तो इसलिए मैं उसके घर पर उसे बधाई देने चला गया.

हिंदी ट्रिपल एक्स बीएफ?

एक हाथ से उसके बालों को जकड़े दांत पीसता हुआ ओमार लड़की को नॉनस्टॉप चुसाई के लिए कहता जा रहा था. फिर मैं नीचे हुआ और वो मेरे ऊपर सिर रख कर लेट गई, हम दोनों कब सोए पता ही नहीं चला. मेरी इच्छा अधूरी रह गई।पर मैं समझ सकता था कि सबके सेक्स करने का तरीका अलग अलग होता है इसलिए मैंने ज्यादा जोर नहीं दिया। हाँ.

फिर भी उसने 2-3 इंच लंड अपने मुँह में भर लिया था और पूरा उसे चूस रही थी मानो जैसे कोई अमृत से भरा गन्ना हो. तभी मैंने सोचा कि एक बार स्कूल के बाथरूम में जाकर माँ वाली वीडियो देख लूं, तो याद आया कि मोबाइल घर ही छूट गया था. किसी नवयौवना के अधरों का चुम्बन, उनका रसपान करना, विशेष तौर पर जब वो भी दिल से साथ निभा रही हो, कितनी स्वर्गिक आत्मिक आनन्द की अनुभूति कराता है, इसे शब्दों में बयाँ करना आसान नहीं है.

अंकल बोले- आरती, मैं अपनी बीवी बोलूं तुम्हें?मैं बोली – 5 मिनट हैं आपके पास जो मन हो कहिए करिए पर जल्दी! कोई आ गया तो मैं बर्बाद हो जाऊंगी!अंकल बोले- ओके मेरी सेक्सी आरती, तुम मेरी बीवी हो!और तुरंत मेरी टांगों को फैलाया, मुंह को मेरी चूत में रख कर पहले चूमा और फिर चाटने लगे. मैंने कहा- बेटा, मैं तेरी माँ हूँ यह ठीक नहीं है।फिर रोहण बोला- माँ, आप भी तो कब से प्यासी हो! और हम शादी कर लेंगे।मैंने भी रोहण को ‘आई लव यू…’ बोल दिया और मैंने कहा- पहले तुम मुझसे प्रॉमिस करो कि हम शादी कर लेंगे?रोहण ने ‘हाँ’ बोल दी. कुछ देर बाद कमरे की लाइट जली तो देखा कि फूफा जी थे, कुछ देर बाद मेरी मम्मी भी आ गईं.

लेकिन मैं अपनी जवानी की आग से मजबूर हो गई थी।फिर मैं राजी हो गई।उसने मुझे घोड़ी बनने को कहा. उन दिनों हमारे घर का मरम्मत का काम चल रहा था, इसलिए हम सभी एक फ्लैट में रहने आ गए थे.

फिर दीदी ने उन तीनों को खड़ा करके उनके हाथ ऊपर रस्सी से बांध दिए और एक चाबुक से उनकी खाल उधेड़ने लगीं.

मेरी दीदी बहुत अच्छा शतरंज खेलती हैं सो मैं हार गया, मैंने सोचा कि ये मौका भी हाथ से गया.

रोज सुबह 8 बजे पापा अपने फैक्ट्री के ऑफिस चले जाते, हमारी एक बड़ी कास्टिंग इंडस्ट्री है. तो मुझे अपनी ओर देखते पाया। वो थोड़ी सी मुस्कराई और शर्म से आँखें झुका लीं।प्यासी जवानी की इस अदा ने मानो मुझ पर बिजली गिरा दी। मैंने उसे सीधा लिटा और गालों को चूमने लगा। मधु मुझे दूर करते हुए बोली- अब बस भी करो राज।मैं बोला- जान तुमसे अलग होने का दिल ही नहीं कर रहा।मधु ने मुझे अपनी बांहों ले लिया और बोली- मन तो मेरा भी नहीं कर रहा। लेकिन नीचे माँ जी इन्तजार कर रही होंगी। अब मुझे छोड़ो. मेरे सामने बस उनका नंगा बदन और गुस्से से कोड़ा मारते हुए उनकी शक्ल याद आ रही थी.

हिंदी सेक्स स्टोरीज के पाठकों को मेरा नमस्कार… मेरा नाम जीत रॉक है, मैं इंजीनियरिंग का स्टूडेंट हूँ और अभी सेकंड ईयर में हूँ. दीदी ने मेरे चूतड़ों पर एक हंटर मारा तो मुझे उसकी चोट से दर्द की जगह मजा आया. मतलब जो मेरी गांड बजा रहा था, वो अब चुत चोद रहा था और जो चुत मार रहा था, वो अब मेरी गांड ठोक रहा था.

मैं खड़ा हुआ और अपने चारों तरफ देखा, कोई नहीं था, पशु-पक्षी यहां तक कि हवा भी नहीं चल रही थी सिवाय घड़ी की टिक टिक के कोई आवाज नहीं आ रही थी.

यह देसी सेक्स कहानी है एक भाई बहन के बीच हुए वासना के उस आकर्षण की, जिसने प्रेम का रूप ले लिया. दीदी बोलीं- ठीक है चल पहले तू अपने कपड़े उतार दे और मेरे कमरे में आ जा. ” कहते हुए माया ने अंकित का लंड अपनी चुत पर सैट किया और धीरे धीरे नीचे होने लगी.

वो दिल्ली में बड़ी पुलिस अफसर थी पर विक्रांत को बहुत साल पहले से चाहती थी. मैं समझ गया था कि अब यह मेरे इस नाग को अपने मुँह में लेकर मुठ मारने वाली है. फिर वो साले मेरी बीवी के हाथ में रूपए देते हुए अपने कपड़े पहनने लगे.

मैं- ठीक है दीदी, आज नहीं फिर कभी लेकिन अब एक बार चूत की चुदाई तो करने दो ना.

सख्त और मुलायम चूचियां, हाथों से सहलाने के कारण चूचियों पर लाल लाल धारियां के निशान पड़ गए थे, जिसे देखकर लग रहा था कि ये कश्मीरी सेब हैं. मैं दिखने में बीस साल का एक कसरती बदन का मालिक हूँ परन्तु मेरी सूरत सामान्य है.

हिंदी ट्रिपल एक्स बीएफ क्या भैया से कटवाने के बाद से जंगल खड़ा कर लिया?सुकुमारी भौजी ने कराहते हुए कहा- इस चैत(होली के बाद का महीना) में तोसै (तुझसे) झांटें कटवाऊँगी. अब दीदी मेरे सामने सोफे पर बिल्कुल नंगी थी, पैंटी उतर जाने के बाद मैंने देखा कि दीदी की चूत पर एक भी बाल नहीं था और चूत एकदम साफ और चिकनी थी, चूत का पानी चूत के बाहर की तरफ लगा हुआ था जिससे चूत एकदम काँच की तरह चमक रही थी.

हिंदी ट्रिपल एक्स बीएफ कभी मुझसे कस के लिपट के अपनी टांगें मेरी कमर में लपेट देतीं और और झड़ने लगतीं कभी उनकी चूत मेरे लंड से संघर्ष करने लग जाती. तभी माँ ने मुझे बोला- अपना फ़ोन दो!तो मैं डर गया लेकिन माँ की बात थी तो डरते डरते देना पड़ा.

मैंने उसको एक बार दर्द देने का तय करके अपना पहला जोर का झटका मारने का निश्चय किया.

ब्लू फिल्म सेक्सी बीएफ पिक्चर

मैं जल्दी से उसके ऊपर चढ़ गया ओर अपना एक हाथ उसके मम्मों पर रख कर दूसरा हाथ उसकी चुत पर फेरने लगा. मैं अभी भी उसके जिस्म को चूम रहा था और अपने ही पानी का मज़ा ले रहा था. फिर रोज योग का सेशन होने लगा और एक दिन मुझे रात को ऑफिस जाने का आईडिया आया और मैंने मोना को बताया तो वो थोड़ी नाराज हुई पर बाद में समझाने पर मान गई.

एडल्ट स्टोरी का पिछला भाग :बस के सफर से बिस्तर तक-2मगर मैंने तुरन्त अपना हाथ उनकी नंगी चूची पर रख कर उसे अपने हथेली में पूरा भर लिया. बहुत ही किस्मत वाले होते हैं वो लोग जिन पर कोई नारी इतना विश्वास करती है कि उन्हें अपने गोपनीय नारीत्व के प्रतीक अंगों को निहारने और छूने की इज़ाज़त देती है. संजय ने अपने धक्के और तेज कर दिए, जिससे मैं समझ गई कि वो भी अब झड़ने वाला है.

अब चाची की चूत में रस बहने लगा था जो किसी रसीले आमरस की तरह मेरे हाथ को महसूस हो रहा था.

पर शायद किसी ने सच ही कहा है ऊपर वाला जब देता है तो छप्पर फाड़ के देता है. मैं तो बहूरानी के कमनीय बदन में जैसे खो सा गया था कि पापा जी, कहाँ खो गए आप?” बहूरानी की आवाज ने जैसे मुझे नींद से जगाया. हम दोनों चुदाई में एक दूसरे के साथ डूबे हुए थे, हमें दुनिया की कोई फ़िक्र ना थी.

मेरा कभी झूठी कहानियाँ लिखने का मन करता मग़र अनुभव न होने के कारण लिख नहीं पाता था. कुछ देर बाद मैं अपनी जीभ निकाल कर उसके होंठों पर फेरना लगा, उसने मेरी जीभ पाने होंठों में पकड़ ली और चूसने लगी. अब तक हम चारों नंगे हो गए थे, तभी मैंने अपने चुच्चों को रगड़ना शुरू कर दिया, इसे देख कर मम्मी बोलीं- कमीनी, साली कुतिया.

इधर मेरे दोनों हाथ सुकुमारी भौजी की चूचियों पर, उधर सुकुमारी भौजी का एक हाथ उनकी चूत की रगड़ में और दूसरा हाथ मेरे बालों को खींचते हुए मचल रहे थे. उसने बेड पर मुझे लिटा दिया और वही क्रीम निकाल कर लगा दी और मालिश करने लगा.

मैंने भी बिना समय गंवाये उसकी जींस का हुक खोल कर उसको उतारने के लिए बोला. मैं उसे समझाने लगा कि बस 2 मिनट का दर्द है बाबू, इसके बाद मजा ही मजा. वो बोली कि हां बदल तो मेरी भी रही हैं लेकिन हमारी इस फीलिंग्स का कोई फायदा नहीं.

मेरी इस हिन्दी सेक्स स्टोरी के पहले भागचलती ट्रेन में आंटी को चोदामें आपने पढ़ा कि कैसे मेरे दोस्त को ट्रेन में एक परिवार मिला, उसमें आंटी और उनकी दो बेटियाँ, अंकल और एक बेटा थे.

भाबी ने कहा- सत्या, मुझे जोर से भूख लग रही है, चलो चल कर कहीं खाना खाते हैं. वो तीनों हमारी इतनी तारीफ कर रहे थे कि हमें ही शर्म आने लग गई।तभी रानी ने केक काटने के लिये बोला जो चिंटू और परीक्षित लेकर आये थे।केक काटकर रानी ने सबसे पहले मुझे खिलाया और उसके बाद तीनों को, फिर मैं बेशर्मी दिखाते हुए उसे हैप्पी बर्थडे” बोलते ही उसके होंठों पर किस करने लगी। हमें इस तरह किस करता देखकर उन तीनों ने भी रानी के होठों पर किस दी उसके बाद हमने खाना खाया. वो चाहते थे कि जैसे मैंने मुम्बई वाली भाभी को संतुष्ट किया, वैसे ही मैं उनकी बीवी को करूं.

मैंने बाहर जाकर देखा तो मोना सीधी लेटी हुई थी और आनन्द उसके पेट को हल्के से चूम रहा था और धीरे धीरे मेरी बीवी के होंठों को चूस रहा था. मेल आयी तो किसी महिला के नाम की आईडी से थी पर मैं शपथपूर्वक नहीं कह सकता कि लिखने वाली भी, सच में कोई महिला ही है.

मैंने भी देर करना उचित नहीं समझा और अपना लंड उनकी चूत में ठोक दिया. किशोर ने दूसरा धक्का मारा, पर लंड उतना ही गया, मेरी अनचुदी बहन बहुत जोर से छटपटा रही थी. मैं उसकी आँखों में देखते हुए उसकी गुलाब की तरह लाल लाल होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा.

सेक्स विथ आंटी

यह कह कर मैंने अपना लंड उसके हाथ में दे दिया।वो मेरे लंड को सहलाते हुए बोली- मैं तो कब से चुदना चाह रही थी। मुझे पता था कि तुम मुझे चोदना चाहते हो.

शायद जवान होने के कारण उसमें मुझे देख कर कामवासना ज़्यादा चढ़ गई थी। मुझे आज फिर से अपनी नौकरानी के बेटे श्याम की याद हो आई थी। मेरी चूत भी फड़क उठी तो मैंने कहा- ठीक है लेकिन किसी को बताना नहीं ओके।वो- ओके चाची जी।वो बहुत खुश हुआ. मैं तो हैरान रह गया कि मैंने मेरी पहली चुदाई सील पैक चूत के साथ की थी. मैंने मन ही मन सोचा कि साली ड्रामा कर रही होगी इसलिए मैं नहीं रुका और तेजी से धक्का लगा दिया, तो लंड पूरा अन्दर घुसता चला गया.

बॉस की दो उंगलियों को पकड़ कर अपनी गांड में डलवा कर बॉस के मुँह में ही बोल दिया- ये मेरी गांड का छेद मिलेगा. अरे ये तो सर दर्द वाला बाम है, ओह्ह तो रोशनी तुमने हमारे कंडोम पे बाम लगा रखा था. बीएफ फिल्म भोजपुरी हिंदीवो अपनी चूत पर थप्पड़ मारती और गालियां देती, भगवान को कोसती कि मुझे जवान बना कर क्यों तड़पा रहा है.

उसने धीरे से गोलू की मुर्झायी हुई भिन्डी को अपनी आंख बंद करके चूसा. जैसे ही पापा का लंड मेरी गांड के छेद में टच हुआ, मैं एक्साइटेड हो गई, पापा मुझसे पूरा पीछे से लिपट गये, बहुत सारा थूक मेरी गांड में लगा दिया.

इस बार तिगुनी उत्तेजना के साथ सुकुमारी भौजी ने मेरे विश्वास को जगाया. तो बात करीब दो साल पहले की है, तब मेरी उम्र 19 साल थी और मई का महीना था, मेरे पेपर को टाइम था तो मैंने सोचा घर जाना चाहिये तो कपड़े पैक किये चल पड़ा रेलवे स्टेशन और वहां बैठा ट्रेन की राह देख रहा था. उसके मुँह से ये सुनकर अजीब सा लगने लगा कि इतने दिनों में उसने अपने दुखों का कभी जिक्र ही नहीं किया था.

तभी आनन्द ने उसे कमरे में रखे सोफे पर बिठाया और वो घुटनों के बल नीचे बैठ गया. बाद में मैंने अलग हुआ तो हल्का सा खून भी था, मैंने उसे प्यार से चूम लिया. जैसे ही उनका गरम-गरम रस मेरी चूत में भरा, मुझे बहुत मजा आया। मैं बोली- राजेंद्र, तूने क्या कर दिया, कैसे गजब चोदा कि इस गजब का मज़ा दे डाला!इतने में अब मेरी पीठ को चूमते हुए राजेंद्र अंकल उठ गए.

मन में कहने से क्या होता है भला!एक बात तो बताना भूल ही गया, उसकी छोटी बहन निकिता जो अभी पढ़ती है.

मैं उसकी उभरी हुई गांड को दबाने लगा, मुझे ऐसा लग रहा था, शायद उसने पेंटी नहीं पहनी या फिर मधुर मिलन में कोई अड़चन ना आए तो उसने पहले ही उतार दी हो. पुलकित तो वैसे ही बहुत गोरा चिट्टा था, तो उसे किसी मेकअप की ज़रूरत नहीं थी.

अब तुम्हारा क्या मूड है?”तो उसने मुस्कराते हुए अपने दूध खुजाए और कहा- वही. मैदान साफ देख मैंने रीना को बेड पर पीठ के बल लिटाकर उसकी चुत पर सवार हो एकदम से मस्त चुदाई करने लगा. कामिनी अब गर्म हो चुकी थी, उसने बिना देर लगाए विवेक की शॉर्ट्स का हुक खोल दिया और खींचने लगी.

जब मैंने अन्दर की दरवाजा खोलने के लिए बेल बजानी चाही तो पता चला अन्दर कोई मर्द भी है, जिसकी आवाज़ आ रही थी. इधर मेरी अपनी वैवाहिक सैक्स-लाइफ बहुत बढ़िया थी! तो मुझे भी जिंदगी से कोई ख़ास शिक़वा नहीं था. मैं भी मामी की चूत में हाथ फेरने लगा और वो भी मादक सिसकारियाँ भरने लगीं.

हिंदी ट्रिपल एक्स बीएफ मेरी इस हरकत से वो एकदम से सिहर गई और आगे कुछ ही पलों में मेरा सिर अपनी चुत में घुसेड़ने लगी. फिर मैं धीरे धीरे अपने हाथ को उनकी चूचियों की तरफ़ बढ़ाने लगा और चुची तक आकर अपने हाथ को रोक दिया, फिर हिम्मत करके उनकी चूचियों को सहलाने लगा.

हिंदी सेक्सी वीडियो सोंग्स

जोया कढ़ाई वाले एक सलवार सूट में थी लेकिन वह मेकअप में किसी एक्ट्रेस से कम नहीं लग रही थी. बस और ये आखिरी बार है, इसके बाद मैं मिनी के साथ कुछ भी करने को कभी नहीं कहूँगा. आज मैं अन्तर्वासना के माध्यम से अपना पहला अनुभव आप दोस्तों के सामने रख रहा हूँ.

मैं अभी देख ही रहा था कि भाभी ने एक शरारती स्माइल दी और दवाई लगाते हुए बोलने लगीं- यह चोट मेरी वजह से नहीं, तुम्हारी वजह से लगी है. मैंने अपना चेहरा साफ किया और कमल के पास आ गई, उसने मुझे गले लगा लिया और मेरे कान को अपने दांतों से चुभलाते हुए बोला- सरिता आई लव यू. हिंदी बीएफ रोने वालीबचपन से ही एक रूढ़िवादी और नियम की पक्की यानि कट्टर फैमिली में पली बढ़ी होने की वजह से मैंने कभी किसी लड़के की तरफ नजर उठा कर नहीं देखा और ना ही शादी से पहले मेरा कोई अफेयर रहा.

उसने रोड के किनारे कार को लगा दिया और मैं कार से उतर गई और मुझे वॉमिटिंग होने लगी.

अब जो कहानी कहानी आप पढ़ेंगे, उससे आपके लंड से पानी निकल जाएगा और चुत गीली हो जाएगी. सुकुमारी भौजी ने मुझे धक्का दिया, मगर मुझे अहसास तक नहीं हुआ और मैं बेहिचक उनके दोनों संतरों को दबाने लगा.

चूँकि ऐसी घटना मेरे जीवन एक बार ही घटी, इसी कारण एक प्रस्तुति के बाद मेरी लेखनी बाँझ हो गयी और अगर मेरी लेखनी में दम है तो मैं दोबारा ऐसी ही कोई और कालजयी रचना रच कर दिखाऊं. लव यू आल![emailprotected]मेरी ट्रू सेक्स स्टोरी का अगला भाग :बॉस के साथ दुबारा चुत चुदाई का मजा-2. मैं थोड़ी देर शांत रहा, फिर एक और शॉट मारा और पूरा लंड उनकी गांड में डाल दिया.

फिर लंड को उसके चूत के छेद पे रखा, मेरा लंड एकदम डण्डे की तरह टाईट था.

वैसे एक बात तो है दोस्तो जब बात चुदने चुदाने की हो तो साला इंसान सारी शरम हया बेच कर खा जाता है. उन्होंने मुझे देखते हुए कहा- क्यों जनाब, आजकल पढ़ाई पे बहुत ध्यान दे रहे हो क्या बात है? वैसे लगता है तुम अपनी चाची को तो भूल ही गए, न तो मेरा फोन उठाते हो और न ही मिलने के लिए घर पे आते हो, मुझसे नाराज हो क्या?मैंने कहा- नहीं चाची, ऐसी कोई बात नहीं है. मैं बोली- वर्षा तेरा काम तो हो गया अब मेरी चूत कब से पानी पानी हो रही है.

ब्लू देहाती बीएफकुछ देर बाद वो कमसिन जवानी उठी और बगल के खेत में अपना पेटीकोट उठा कर मूतने लगी. अब मेरा एक हाथ उसकी जाँघों से होता हुआ उसकी चूत की तरफ बढ़ने लगा और दूसरा हाथ उसकी चूचियों को दबाए जा रहा था.

हिंदी में सेक्स बताएं

फिर से मैंने अब अपने आपको अच्छे से ठीक किया और लिपस्टिक लगाई, ड्रेस से मैचिंग की और मैं बाहर आंगन में आ गई. पूरा कमरा मेरी मम्मी की चुदाई की सेक्सी सेक्सी आवाजों से गूंजने लगा. अब मैं उसके चूतड़ पकड़ कर उसे उछाल रहा था, वो खुद भी उछल उछल कर अपनी चुत चुदाई करवा रही थी.

हट पहले मुझे लंड मुँह में लेने दे?”मम्मी ने तुरंत ब्रायन का लम्बा मोटा लंड अपने मुँह में ले लिया. मेरे हृदय में बहूरानी से मिलने की अभिलाषा तीव्र से तीव्र हो रही थी, मैंने अपने बेटे के आने की प्रतीक्षा नहीं की और मैं अपने बेटे के फ़्लैट की ओर बढ़ गया. तभी मैंने बर्फ के दो टुकड़े उठाए और एक टुकड़ा मुँह में दबा कर उनके होंठों पर फिराने लगा और उनके मुँह में डालकर बर्फ चुसवाने लगा.

उसी रात गांव में चोर आ गये, बड़ा हल्ला गुल्ला हुआ और दीक्षा अकेली थी तो वो डर गई. फिर उसके बाद तो मेरी हालत ऐसी हो गई कि मैं आप सबको क्या बताऊं आप लोग को भी पता होगा, अगर अपने किसी से सच्चा प्यार किया होगा तो आप मेरी स्थिति समझ सकते हैं. मेरी सेक्स कहानी के पहले भागमेरी रशियन बीवी दो लंडों से खेली-1में आपने पढ़ा कि कैसे मेरी रूसी गोरी नाजुक सी बीवी एक गोरे और एक काले लंड के साथ खेल रही है.

मेरी बांछें खिल गईं, मैं समझ गया कि घूमना तो बहाना है,भाभी खुद चुदवाने आईहैं. मेनका- आह आह अतुल, चूसते रहो मेरी चूत को, मेरा आ…आह आहह्हा हाअ आहहाहा निकलने वाला है आह अहह… अतुल मैं… आह अतआ… गयी… अतु…ल… आहहहह्ह…और मेनका दीदी की चुत का ज्वालामुखी फट गया.

फिर अपने फ़्रेंड के कमरे पर आ गया और उससे चाभी ली और घर आकर अगले दिन का इंतजार करने लगा.

उनके पति एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करते हैं और उनका एक बच्चा भी है. बीएफ सेक्स वीडियो देहाती हिंदीचूंकि पति से कुछ होता जाता नहीं था, इसलिए मेरी निगाह वरुण पर ही टिकी थीं. सेक्सी बीएफ वीडियो एक्स वीडियोपानी के गिरने से उसके टॉप से शरीर का उभार स्पष्ट दिखाई दे रहा था, उसकी ब्रा चमकने लगी थी. रोशनी ने उठ कर हम दोनों के लंड पर पप्पी लगाई और कपड़े पहन के नीचे चाय बनाने चली गई.

तो उसने कहा कि देखो अब मैं कैसे खाऊंगी?इतना कहते ही उसने मेरे होंठों पर लगी चॉकलेट को चूसना शुरू किया.

प्यासी जवानी की मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भागबॉय से कॉलबॉय का सफर-1बॉय से कॉलबॉय का सफर-5में अभी तक आपने पढ़ा…चुदाई की प्यासी मधु की चूत की चुदाई के बाद मेरा मन उसकी गाण्ड मारने का भी था। मैं मधु को चुदाई के साथ बातों में भी खोलना चाह रहा था।अब आगे. जब मेरी नताशा ने उसके टोपे को खूब अच्छी तरह धार दे दी, तो उसने अपने अण्डों को इकठ्ठा कर हाथ में जकड़ते हुए उसके मुंह में धकेल दिया, जिसे सुन्दर लड़की अपनी गुदगुदी जीभ द्वारा चाटने को मजबूर थी. कभी कभी वो मेरे खाने की और मेरी खूबसूरती की तारीफ़ कर देता, खासकर जब मैं ब्लैक सूट पहनती.

उस सफ़र में कोई बात तो खास नहीं हुई लेकिन वो मेरा हाथ रास्ते भर पकड़े रहा. मैं अपने रास्ते पर ही था कि अचानक से एक कार मेरे बिल्कुल पास से आगे निकली, जिसमें मेरी दीदी आगे बैठे हुई थीं, मैंने दीदी को पहचान लिया था. चाहे वो उसका ससुर हो, पर सेक्स की भूख इंसान को रिश्तों को समझने के लायक नहीं छोड़ती.

फुल सेक्सी बीएफ वीडियो

एक दिन रात में दस बजे मैं कमरे में बैठा था, मेरा छोटा भाई सो गया था. कुछ पल बाद मयूरी दरवाजे को ठीक से अन्दर से बंद करने के बाद वापिस मोहन लाल के पास आई, उसने दुपट्टे का एक भाग अपने सर पर रखा और उसके पैर छूती हुई बोली. मोना- ये क्या कर रहे हो आप? अभी तो मेरी लेग की कुछ एक्सरसाइज बाकी है.

मैं कुछ देर रुक गया।थोड़ी देर में उसने अपने कूल्हे हिलाने शुरू कर दिए तो मैं समझ गया कि अब दर्द कम हो रहा है। बस फिर मैं अपने लण्ड को हिलाने लगा। उसकी चूत में मेरा लण्ड टकराने लगा। वो हिल-हिल कर लण्ड का स्वाद लेने लगी। मैं धक्के मारने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी। करीब 5 मिनट के बाद दोनों एक साथ झड़ गए.

इधर मेरे मुंह में अंगूर का दाना और सख्त, और बड़ा होता जा रहा था जिसे जब मैं बीच बीच में हल्के से अपने दाँतों से दबाता था तो न सिर्फ प्रिया के मुंह से आनन्द भरी सीत्कारें निकलती थी बल्कि मेरे लिंग पर प्रिया की उंगलियाँ और ज़्यादा कस जाती थी.

पति से जब भी मेरी लड़ाई होती है तो मेरा देवर मुझे कोसता है और बोलता है कि तुम भैया को दोष क्यों देती हो? तुम अपना इलाज करवाओ! डॉक्टर को दिखाओ, डॉक्टर से सब चेक करवा लो!डॉक्टर ने कहा कि मेरे पति का स्पर्म काउंट कम है. उधर वो आईटम उसी भाव में मस्ती से गांड उठा उठा कर फसल की कटाई कर रही थी. बाप बेटी की बीएफ सेक्सी वीडियोलेकिन सबसे रिच, स्मार्ट, सेक्सी एंड इंटेलिजेंट होने के कारण कोई उससे कुछ बोलने की हिम्मत नहीं करता था.

मैं वैसे बहुत मजाक करती हूँ अपने ऑफिस में और सब लोग मुझे पसंद भी करते हैं. ” अब अंकित माया की गांड से लेकिन चुत तक धीरे धीरे अपनी जीभ चलाने लगा. उनके चेहरे पर ब्रायन के लंड जड़ तक घुस जाने के कारण दर्द साफ झलक रहा था.

वैसे तो मेरा परिवार बंगाल से है मगर अब दिल्ली में स्थापित हो चुका है. यहाँ सब मिलनी कर रहे थे और मैं उस लेडी को देखता हुआ सोच रहा था कि यार क्या मस्त माल है… साला लंड के नीचे आ जाए तो मजा आ जाए.

मेरा लण्ड फिर खड़ा हो गया और मैं मधु के जवान जिस्म को नंगा होते हुए देखने की चाह को नहीं छोड़ सका।मधु ने मेरी तरफ पीठ की हुई थी.

पदमा की गांड में जबरन बल पूर्वक मोटा लंड घुसाने से उसकी दर्द के मारे चीख निकल गई- आऐईईइ ऊऊऊ ऊऊऊऊ मादरचोद मार दिया. मैंने दीदी के एक निप्पल को किस किया तो उन्होंने मेरा सिर पकड़ कर कसके अपने निप्पलों पर दबा लिया. शाम को जब 8 बजे वो वापस आए तो उनके साथ एक लड़का आया, जो करीब 24 साल का था.

बीएफ सेक्सी वीडियो पिक्चर दिखाइए इस हिंदी सेक्स स्टोरी के पहले भागबॉय से कॉलबॉय का सफर-1में अब तक आपने पढ़ा कि अन्तर्वासना पर मेरी सेक्स कहानी पढ़ कर एक भाभी मधु ने मुझे मेल की, वो अपनी मजबूरी से भरी कहानी को मुझे सुना रही थी। वो अपने पति के छोटे से लिंग के बारे में बता रही थी।अब आगे. पुलकित नीचे झुका और उसे मंजरी के ब्लाउज़ की डोरी खोलनी शुरू की और उसका ब्लाउज़ ढीला करके उतार दिया.

मैं चाचा को इसलिए कुछ नहीं बोलती थी क्योंकि वो कभी कभी मेरी हेल्प भी कर देते थे और कभी कभी मुझे अपनी कार से ऑफिस भी छोड़ देते थे. फिर वो मेरे पास बैठ गया और मेरे पैरों को हाथ से पकड़ कर सॉरी बोलने लगा. वो मुझे मजे से चोदने लगे, मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा था, वो बड़े आराम से मेरी चूत चोद रहे थे- आआह आआह आह सस्स… पट पट… सस्स्स हाह!फिर कुछ मिनट बाद उन्होंने अपनी स्पीड बढ़ा दी, बड़ी तेजी से मुझे चोदने लगे.

हिंदी वीडियो बीएफ

अब आपको पता ही है कि ऐसे वक्त में बातें तो कैसी होनी हैं, उस टाइम प्यार का खेल ही होता है. मैंने बहन की एक बड़ी चुम्मी ले ली और मैं बहन के बदन पे हाथ फ़िराने लगा. फिर रोहण और मैं फ्रेश हुए और इस तरह हमने दुबई में पूरे 10 दिन तक चुदाई की थी और फिर हम भारत वापिस आ गए।अगले दिन मैं आफिस गयी और सब लोग मुझे ही देख रहे थे क्योंकि मेरी मांग में सिंदूर था। सब मेरे बारे में ही बात कर रहे थे.

थोड़ी देर हम दोनों ऐसे ही पड़े रहे और जब उसका दर्द कुछ कम हुआ तो मैं फिर से धक्के लगाने लगा. उसने भी वैसे किया वो मेरा लंड चूसने लगी और ढेर सारा थूक मेरे लंड पर लगा दिया.

दीदी- अरे इतना खुश क्यों हो रहे हो? कोई जोक वाला मेसेज आया है क्या मोबाइल पे?मैं- जी दीदी, बहुत अच्छा मेसेज आया है.

मैंने अपनी पसंद का वो टॉप लेकर चल दी, तो अवी ने अपनी पसंद की ड्रेस भी दे दी और कहा- चलो देखो पहन कर देखो, सही होती है या नहीं. पांच मिनट बाद मैं होटल पहुँच गई और रूम की जानकारी ली कि किस फ्लोर पर है. हाह!’उसने कुछ ही देर में अपना शरीर ऐंठ लिया और अपनी चूत का माल मेरे मुँह में ही छोड़ दिया.

मैंने उससे हग मांगा तो उसने कहा कि दीदी घर पर हैं, मरवाओगे क्या?मैंने कहा कि एक हग ही तो करना है उसे कुछ पता नहीं चलेगा. ये सुनकर मेरे दिल को बड़ी तसल्ली हुई क्योंकि इसी लिए तो मैंने ये सब प्लान किया था. इधर मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था तो मैं अपने हाथ से अपने बूब्ज़ दबाने लगी.

उधर वो आईटम उसी भाव में मस्ती से गांड उठा उठा कर फसल की कटाई कर रही थी.

हिंदी ट्रिपल एक्स बीएफ: मैं सोचने लगी ‘अब कैसे समझाऊ वर्षा को?’मैं सोच कर बोली- वर्षा, वो कमीना है, खुद को कुछ समझता है, उसे लगता है कि हम दोनों उसके बिना रह नहीं सकती, अब वर्षा सो जाओ और उसे भूल जाओ और उसकी बात फिर से मत करना!वो चुपचाप सो गई. पूजा ने गोलू को भी हाँ में सर हिला दिया, गोलू बड़ी ख़ुशी से उसकी नाजुक चूत में अपनी कड़क भिन्डी फेरने लगा.

मुझे इससे और हिम्मत मिल गई, मैंने उनका गाउन नीचे से ऊपर किया, तो उनकी गोरी और चिकनी जांघें मुझे दिखने लगी थीं. फिर जोर से दूसरा धक्का मारा, मेरे पैर ऊंचे हो गये, पूरा लंड चला गया मेरी चूत में, मुझे ऐसा दर्दनाक अहसास हुआ कि कोई जबरन मेरी चूत में लकड़े का मोटा डंडा घुसेड़ रहा हो!मेरी नाक में से सिर्फ ‘ऊऊऊऊ ऊऊऊ…’ निकल रहा था. ’ भर रहे थे।”फिर?”फिर मुझे लगा कि अब लण्ड इतना कठोर हो गया है कि शायद ये मेरी चूत को फाड़कर अन्दर जा सकता है, तो मैं खड़ी होकर बिस्तर पर टाँगें फैला कर लेट गई और आँखों से इशारा करके यश को चोदने के लिए बोला।यश ने जल्दी से मेरी टाँगों के बीच आकर लण्ड को चूत पर टिका दिया। मैंने एक हाथ नीचे ले जाकर लण्ड को पकड़ लिया.

बॉस- ठीक है नेहा पर ऑफ़िस में चुदवाने आओगी ना?मैं- सर आज जो हुआ, उसके बाद बहुत डर लग रहा है.

भाभी के कहने पर कभी कभी उनके घर में चला जाता और सोनू के साथ खेल लेता. दोनों लडको के लंड लोहा लाट हो, तोप की तरह सलामी देते हुए खड़े थे, जब ओमार ने अपना लंड बाहर निकाल नताशा के चूतड़ों को ऊपर उठाते हुए उसकी भक्काड़ा चूत और गांड का प्रदर्शन किया. उस कहानी में आपने पढ़ा था कि कैसे मेरी साली की युवा बेटी हमारे साथ रहने आई और कैसे मेरे और उसके बीच सेक्स सम्बन्ध पल्लवित हुए!प्रिया के और मेरे उस रात के सपने जैसे प्रेमालाप के बाद हमें दोबारा कोई ऐसा मौका ही नहीं मिला और सच मानिये कि मैंने दोबारा ऐसी कोई कोशिश ही नहीं की.