एक्स एन एक्स एक्स हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो गोरे लोगों का

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी सेक्स व: एक्स एन एक्स एक्स हिंदी बीएफ, कुछ देर उसी अवस्था में चोदने पर श्वेता का शरीर अकड़ेने लगा और वो झड़ गयी.

मराठी सेक्स व्हिडिओ नवीन

मैं- क्या?भाभी- पीरियड खत्म होने के बाद तुम मेरी चुदाई भी पायल के सामने ही करोगे. फिल्म हीरोइन सेक्सी वीडियोउसके बाद दिनकर सुम्मी से कह गया था कि कल उसकी बेटी चमेली को देखने लड़के वाले आ रहे हैं, तो अजय और गगन को भेज देना.

अब क्या करूं … ये सोचते हुए मैंने टेबल अपनी जगह वापस रख दी और रूम के नाईट बल्ब को फोड़ दिया. न्यू सेक्सी दिखाएंइसलिए मैंने बाल पकड़ कर लंड मुँह में घुसा दिया और आगे पीछे करने लगा.

शायद उसने कोई पॉवर बढ़ाने वाली गोली खाई होगी जिससे वो इतनी देर तक मेरी बहन कि चुदाई करता रहा.एक्स एन एक्स एक्स हिंदी बीएफ: इससे पहले मेरे मन में मामी के लिए कोई गलत ख्याल नहीं था, पर इस बार मुझे मामी का व्यवहार कुछ अजीब सा लगा.

मेरा नहीं … समझी!स्नेहा मन में बोली साली छिनाल तू महाबलेश्वर चल तो सही … इन सबके लंड तेरी चूत में ना घुसेड़ा, तो मेरा नाम स्नेहा नहीं.मैं अपनी पुरानी सैटिंग निशा को बहुत मिस करता हूँ और वो भी मुझे मिस करती है.

पोर्न पिक्स - एक्स एन एक्स एक्स हिंदी बीएफ

प्रीति मेरे बालों को खींचती नौचती हुई सी-सी … करने लगी।बेतहाशा चूमते हुए मैं उसकी नाभि, पेट और चूचियों पर सब जगह हमला कर रही थी.इसकी चूत में अपने लंड को देकर मैं इसकी चूत की सही से चटनी बनाती और सारा रस निकाल देती इसको चोदकर।मैंने हल्के से उसकी टांगें फैलाईं और योनि को छुआ.

वो मेरी तरफ प्यार भरी नजर से देखने लगी और हम दोनों के होंठ मिल गये. एक्स एन एक्स एक्स हिंदी बीएफ अब उसके गोरे बोबे उसी काली ब्रा में मेरे सामने थे, जिसे मैं चोरी चोरी देख रहा था.

जब मैंने देखा तो पाया कि पॉर्न साहित्य, कुछ डीवीडी और कुछ चुदाई की पिक्चर्स वाली किताबें थीं.

एक्स एन एक्स एक्स हिंदी बीएफ?

पीछे से मैं अपने मम्मों को जानबूझ कर उसके शरीर से चिपका देती ताकि उसे भी गर्मी चढ़ जाए. मैं आपको अपनी प्यासी चूत की कहानी बता रही थी कि कैसे कविता ने मेरे साथ सेक्स करके मेरी लेस्बियन प्यास जगा दी।हॉट लेस्बियन्ज़ कहानी के पहले भागलड़की को लगी चूत चाटने की प्यासमें आपने देखा कि कविता और मेरी ही सहेली प्रीति मेरे घर आई और हम दोनों में सब कुछ खुल गया. इसके आगे क्या हुआ और अब वो भाभी कहां हैं, ये सब मैं भाभी की चुदाई हिंदी में अगली कहानी में लिखूंगा.

कुछ देर बाद मैंने उसको घोड़ी बना दिया और पीछे से अपना लंड उसकी गांड में डाल दिया. कुछ मिनट की चुदाई के बाद जब चाची झड़ने की कगार पर आईं, तो वो मेरी पीठ पर हाथ लपेटकर मुझसे चिपक गईं. भाभी के साथ जो भी हुआ, उसे बताने से पहले एक बार इनकी जानकारी दे देता हूँ.

भाभी जी- आरुष इस बार तुम भी पूरी ताकत के साथ नीचे से धक्का लगाना ताकि पूरा लंड एक ही बार में अन्दर हो जाए और मेरे दर्द की चिन्ता बिल्कुल भी मत करना. लिली की शानदार खड़ी 34 साइज की चूचियाँ और सुन्दर जांघें गजब ढा रही थी. पहले तो वो आराम से मेरे बूब्स दबा रहा था मगर थोड़ी देर बाद वो मेरे बूब्स को जोर जोर से दबाने लगा जिससे मुझे तकलीफ होने लगी तो मैंने उससे धीरे धीरे करने को कहा.

उसने मेरे लोवर में हाथ डालकर लंड को पकड़ लिया और मसलने लगी।मैंने उसकी चूत में उंगली घुसा दी और अंदर-बाहर करने लगा।वो सिसकारने लगी ‘आह्ह … आह्ह … ऊईई ऊईई’ करके आवाजें करने लगी. पता नहीं क्यूँ लेकिन उसे ये विश्वास था कि आज उसे धारा से बात करने का मौक़ा मिल सकता है.

कुछ देर बाद मैं उठकर बाथरूम गया और बड़ी मुश्किल से लंड को थोड़ा नर्म करके पेशाब किया.

उसकी चुत में जब भी लंड अन्दर रुकता था, तो मुझे लगता था कि मेरा लंड उसकी चुत के अंत में जाकर टकरा रहा है.

लॉकडाउन में कम तनख्वाह में घर भी चलाना था, इस वजह से भाभी नया फोन या टैबलेट नहीं ले पा रही थीं. फिर उसने वह जगह बताई, जहां हम दोनों को रात को 9:00 बजे के बाद जाना था. वो बोला- मेरे विचार से अब किसी को कोई प्रॉब्लम नहीं होना चाहिए … क्यों विराज!कोई किसी की खुद्दारी को ठेस पहुंचाना नहीं चाहते थे.

बीस मिनट बाद दुबारा भाभी के पास गया उन्हें चुम्बन किया और उनको कसके अपनी बांहों में ले लिया. मैं किचन में जाकर बादाम के तेल को छोटी कटोरी में निकालकर मैंने उसे हल्का गर्म कर लिया. वे बोले- वाह क्या मस्त हथियार है … मेरे से भी बड़ा है … कितना मोटा है.

जो दिखता है वो कभी नहीं होता है … और जो महसूस होता है, वही हमारी हकीकत होती है.

ये सब सुनते हुए मेरी नजरें कमीज से बाहर आने को बेबस हुए जा रहे प्राची के उभारों पर थीं. मैं गुस्से से प्राची को देखने लगा, तो उसने लंड को मुँह में रखकर ही शरारत वाली मुस्कान देकर फिर से एक बार अपने दांतों के बीच मेरे सुपारे को दबा दिया. लेकिन मैं इस बात से बिल्कुल अंजान था कि वो मुझ पर इस तरह फिदा हो चुकी है कि वो कैसे भी करके मुझे पाना चाहेगी.

इस बार गाउन के साथ ब्रा पैंटी भी उतार दी और अपने आपको एक बार आईने में देखा. उसकी बात सुनकर मैं पास की वाइन शॉप से एक बोतल और ग्लास, स्नैक्स वगैरह ले आया. अभी भी भाभी दिखावा करने के लिए आराम आराम से बोल रही थीं- यश कोई देख लेगा.

यह सही है कि आप अपने काम के पैसे ले रहे हो लेकिन जब परिस्थिति ऐसी हो तो फिर चार्ज नहीं देखा जाता.

साथियो, देसी सेक्स की मनघड़न्त कहानी के लिए आप मेरे साथ अन्तर्वासना से जुड़े रहें. मैं एक-एक डोरी चूमता और वो आहें हैं भरती!डोरियां खुलीं तो सामने आ गयीं ब्रा में कसी उसकी गोरी चूचियां!मैं ब्रा निकाल कर चुभलाने लगा उसकी चूचियों को और ज़ारा लंबी-लंबी आहें भरती हुयी एकदम से झड़ गयी.

एक्स एन एक्स एक्स हिंदी बीएफ मैंने सोचा कि मैं आज घर जा रहा हूँ इसलिए मकान मालकिन ने मेरे लिए कुछ बनाकर दिया है इसलिए. रोशना की चीख निकल गई- आमां ऽहहहह मर गई!मैं थोड़ा रुक गया, फिर धीरे धीरे अन्दर बाहर करते हुए पूरा लंड चुत में घुसा दिया.

एक्स एन एक्स एक्स हिंदी बीएफ फिर मैंने उसको बोला- जैसे वो अपने में खुश है, तो तू भी किसी को पटा ले!वो बोली- एक बार तूने उस लड़के के चक्कर से मुझे निकाला था. मनीष ने नेहा का सिर पकड़ लिया और उसका मुँह चोदने लगा- ले साली मादरचोद … ले अपने खसम का लंड … बहुत आग लगी थी ना तेरी चूत में कुतिया … ले.

जैसे ही मैंने चाची के मम्मे को मुँह लगाया चाची के शरीर में गनगनाहट भर गई.

सेक्सी क्रिकेट

दोस्तो, मैं यश एक बार फिर से अपनी पड़ोसन भाभी की चुदाई की कहानी में आपका स्वागत करता हूँ. मैंने पूछा- आप लोग कहीं जा रहे हैं?मेरी दीदी ने कहा- मॉम डैड को एक हफ्ते के लिए दिल्ली जाना है. नेहा- फिर वी शेप वाली उस सीढ़ी को लेकर मैं उस रूम में गई और जब उस सीढ़ी के ऊपर चढ़ कर देखा, तो मैं आसानी से उस पार का नजारा देख सकती थी.

परन्तु मैं जल्दबाजी नहीं करना चाह रहा था क्योंकि कई बार मैंने देखा था कि 22 साल की इस जवान मस्त लड़की के लिए दो मर्द कोई मायने नहीं रखते थे. ज्यादा देर तक टिकने के लिए मैंने अपने लंड पर थूक डाला और फिर उसको हल्के हल्के हाथ से धीरे धीरे सहलाने लगा. ये सुनकर वो अचंभित हो गयी लेकिन मैंने उसका हाथ पकड़ कर उसको सॉरी कह दिया.

पर मैंने इस सेक्स कहानी में थोड़ा भी कुछ बाहर से जोड़ने का चेष्टा नहीं की है.

मगर तुम सिर्फ ये बता दो कि तुम मुझे पैसे दे क्यों रहे हो, जबकि संजू मुझे वापिस कर देगा?”आई लव यू. मैं लाइट में उसका लौड़ा देखा, तो उसका लंड चमड़ी वाला एकदम काला लंड था. मेरी चुत के पानी से निखिल का लंड पूरी तरह भीग गया था और आराम से चुत में दौड़ रहा था.

[emailprotected]हॉट दीदी सेक्स स्टोरी का अगला भाग:भाई के लंड से दीदी की चुत गांड चुदाई- 2. मैं एक निश्चित दूरी बनाकर चल रहा था ताकि वो एकदम से मेरा स्पर्श न पा सके और सेक्स के लिए पूरी तरह से तड़प जाये. रंजू किसी पुरुष की तरह अनु दीदी पर सवार होकर अब चुम्बन चाटन करने लगी.

मैंने भाभी से कुछ चिकना पदार्थ मांगा जिससे कि लंड आसानी से गांड के अन्दर घुस जाए. मैंने उनकी चुत को सपाट जीभ से कस कर चाटना शुरू किया और एक उंगली हल्के से उनकी चुत में अन्दर सरका दी जिससे मैं उनकी चुत का मर्दन करने लगा.

मैं एक सीट की तरफ मुंह करके खड़ी हुई थी दो लड़के मेरे पीछे आ गए थे और एक लड़का मेरे दाएं और एक बायें आ गया. फटी गांड का सीन देख कर मैं थोड़ी देर और रुक गया ताकि दिव्या भाभी का दर्द कम हो जाए. आपको हॉट देसी औरत चुदाई कहानी कैसी लगी … बताने के लिए मुझे मेरी मेल पर अपनी राय जरूर भेजिएगा.

मैं उन्हें वैसे ही पकड़े रहा और उनकी एक टांग को पकड़कर नीचे से लंड के धक्के लगाने शुरू कर दिए.

उसके गर्म लावा के निकलने का पूरा आभास मेरी चुत की गहरई में हो रहा था. मैंने मना किया था ना!मैंने बोला- साली बहन की लौड़ी रंडी … मुझे पता ही नहीं चला कि मेरा रस कब निकल गया. एक दिन मैं किसी काम से मेरठ गया था और वहां पर समय मिलने पर बेगम पुल पर जगत सिनेमा में एक सेक्सी फिल्म देखने लगा.

मैंने जैसे ही गेट खोला, उन्होंने झटके में मेरा बूब दबा दिया और हंसने लगे. पति का नाम अशोक है और मेरी उससे मुलाकाल ऑफिस में किसी काम के सिलसिले में हुई थी.

मैंने भाभी से कहा- बुला लूं उसे भी … मन हो तो दोनों छेदों में एक साथ मजा ले लेना. मयंक अपने हाथों में एक पूरी भरी हुई व्हिस्की की बोतल व 3 गिलास लिए खड़ा था. लगभग 2-3 मिनट बाद हम दोनों साथ-साथ झड़े और मैंने अपने वीर्य से उनकी चूत भर दी।उनके चेहरे में सम्पूर्ण संतुष्टि के भाव थे जो मेरे लिए बेहद सुकून भरे थे।उन्होंने मुझसे कहा- मैंने ऐसे फीमेल ओर्गास्म सेक्स की केवल बातें सुनी थी जब मेरी सहेलियाँ इसके बारे में बात करती थीं। आज एहसास हुआ कि वो सिर्फ बातें नहीं.

बीप वीडियो

किंजल अपनी प्यारी सी नशीली आंखों से देख कर मुझे स्माइल पास कर देती.

रास्ते में मैंने पूछा कि वो रास्ता कहाँ जाता है? हम एक घण्टे रुके मगर कोई आता जाता नहीं दिखा. एक दिन मैं ऊपरी मंजिल पर स्थित जिम से कसरत करके नीचे आ रहा था उस समय लिफ्ट बंद ही होने वाली थी. निखिल ने अपने हाथों से मेरी साड़ी और पेटीकोट को कमर तक उठा दिया था और हाथों से मेरी चुत को स्पर्श करने लगा था.

मैंने कुछ नहीं कहा, तो बोली कि इसको लंड चूसने की आदत है गांड भी मरवा लेता है. उनका (नसीम भाईजान का) नईम सर जैसा ही मस्त लंड था, पर गांड मारने का अनोखा अंदाज था. सेक्सी आदिवासी गुजरातीवो अपने लिए पानी और सोडे से पैग बना रही थी और मेरे लिए चुतामृत और बर्फ से.

मैं- ये क्या … तू एक कॉल गर्ल है?सीमा- हां, पर तूने प्रॉमिस किया है कि तू किसी से कुछ नहीं बताएगी. इन चारों तितलियों को जो एक बार देख ले, तो अपना लंड मसले बिना ना रहे.

उसके बाद साल भर तक मैं महीने में 2-3 बार उसको होटल ले जाकर चोदता रहा. उसने मुझे अपनी बांहों में कस कर ऐसे जकड़ लिया, जैसे वह मुझे अपने अन्दर समेट लेना चाहती हो. जैसा कि आप को पता है कि चंडीगढ़ में गर्मियों की छुट्टियां मई और जून में दो महीने की होती हैं.

उसने कहा- अगर आपने कल ये बात बोली होती तो मैं आपको खरी खोटी सुना चुकी होती, मगर आपकी स्टोरी पढ़ने के बाद मैं अब हर हाल में आपसे मिलना चाहती हूं. उन्होंने जैसे ही मुझे देखा तो गुस्से से दूसरी तरफ मुँह करके खड़ी हो गईं. तो वो बोली- इतनी जल्दी क्या है?मैंने कहा- अब कंट्रोल नहीं हो रहा है.

मुझे सेक्स करने का बहुत इच्छा बढ़ गयी थी मगर मैं कहीं हाथ पांव भी नहीं मार सकती थी.

उसने अपने दोनों पट मेरे दोनों पटों से बाहर कर लिए और चूत को लण्ड पर घिसाने लगी. मगर जब मैंने उसे दूसरी बार फिर से पकड़ा तो इस बार वो पूरी गर्म हो गई क्योंकि वो लंबे समय से सेक्स की भूखी थी.

फिर मैंने उनसे कहा- मैं तुम्हें एक एड्रेस देती हूं, शाम को वहां पर आ जाना. लंड की लंबाई 7 इंच के आस पास ही है, लेकिन मोटा इतना है कि किसी भी चूत में आसानी से नहीं जाएगा … सामने वाली की आंखों में आंसू ला देगा. फिर मैंने उसके एक मम्मे को दबाया, तो उसने मुझे अपनी बांहों में और जोर से कस लिया.

मेरी आगे वाली कहानियों में कुछ और पात्र जुड़ेंगे जिससे कहानी और रोमांचक होने वाली है. दीदी ने बाथरूम का पंखा चालू कर दिया, जिससे बाथरूम की हवा बाहर कोर्टयार्ड में निकलने लगी. ममता जी को भी अब चुदाई में मजा आ रहा था, इसलिए मेरे धक्के लगाने से ममता जी के मुँह से मदभरी सिसकारियां निकलना शुरू हो गयी थीं.

एक्स एन एक्स एक्स हिंदी बीएफ मामी लंड की मस्ती में बोल रही थीं- आह … कितना गहराई तक जा रहा है आह … फाड़ दे अपनी इस रांड की चूत को. वो लंड चुत के हर झटके में अपनी चरम सीमा तक पहुंचने की कोशिश कर रही थीं.

सील पैक एक्स एक्स एक्स

मैंने उसका हाथ मेरे लंड पर रखवा दिया और उसके हाथ से अपना लंड हिलवाने लगा. फिर स्नेहा अपने भाई से बोली- क्या हुआ भैया … कहां खो गए?ज्योति ने धीरे से शर्माते हुए कहा- चुप कर कहीं भी कुछ भी बोलती है. मैंने भाभी की गांड में अच्छे से घी लगाया और छोटी उंगली से गांड के अन्दर घी लगाया, जिससे उनकी गांड चिकनी हो जाए.

मुझे दर्द हो रहा है, फिर भी तुम मुझको चोदते रहो … ठोको जान अन्दर तक ठोको इस मूसल लौड़े को मेरी चूत में. जहां तक मुझे लग रहा था कि वो पहले भी किसी के साथ यहां पर आई होगी वरना ऐसे ही किसी को इस तरह की जगह के बारे में पता नहीं होता है. सेक्सी विडियो हिन्दी मेमैं ये भी ध्यान रख रही थी कि उसको मजा न मिले और उसको उसके ठरकीपन के लिए एक सीख दे सकूं.

कभी लण्ड को गाँड पर रगड़ती।रेनू ने मेरी जांघों पर बैठ कर लण्ड को चूत के छेद पर सेट किया और बैठ गयी.

मैंने आस-पास देख लिया, थोड़ा अंधेरा हो गया था, तो किसी को दिखे बिना ही मैं ऊपर चला गया. अपनी भगनासा के ऊपर लण्ड को रगड़ कर सिसियाने लगी।वो लिंगमुण्ड को हल्का सा चूत के अंदर डालती फिर निकाल लेती.

रियल कज़िन सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि एक कमरे में दो फुफेरे भाइयों ने अपनी तीन मौसेरी और सगी बहनों के साथ मिल कर सेक्स का धमाल किया. वह मेरी गांड चाट रहा था और मेरी गांड पर जोर जोर से थप्पड़ मार रहा था. दोनों भाभियों के पति शहर में काम करते थे और साल में केवल दो बार ही घर आते थे.

इतना कह कर मैंने उसके बंद पड़े पैरों के बीच में ही ऊपर से एक चुंबन जोर से दे दिया।उसका पूरा शरीर शिथिल पड़ गया और चूत पर पैरों की पकड़ ढीली हो गयी.

मैंने भाभी भाभी कहते हुए दोबारा आवाज लगाई।वो हड़बड़ा कर अपने कपड़े ठीक करते हुए उठी. मैंने अपने लोअर में हाथ डाल रखा था और अपने तने हुए लौड़े को धीरे धीरे सहला रहा था. चाची भी मेरी कमर पर हाथ फिराने लगीं और जल्द ही हमारी जीभ एक दूसरे आपस में प्यार करने लगी थीं.

जंगली जानवरों के साथ सेक्सी वीडियोबीस मिनट की ठुकाई के बाद चुत में कुछ गर्म गर्म फुआरा सा छूटा, जिससे चुत की खुशी का ठिकाना ना था. मगर आज मुझे उन सबका ऐसे घूरना उत्तेजित कर रहा था।काफी देर तक वे लोग मुझे ऐसे ही घूर के हंसते रहे और मुझे भी आज उनके हंसने से मजा आने लगा था.

सेक्सी चोदने वाली वीडियो

चूंकि मेरी मीटिंग्स में मेडिकल टीम साथ रहती थी, फिर भी मीटिंग्स में आने वालों की कमी आने लगी थी. एक बार तो मुझे लगा था कि वो शौहर के फोन के बाद अब चोदने से मना कर देगी लेकिन वो भी आज चुदकर ही जाना चाह रही थी. मैं ऊपर गया तो मैंने देखा कि उसने गद्दा बिछाया हुआ था और चुदाई का अच्छा ठीया बना रखा था.

जब मैंने उसे बताया कि मैं अभी भी कुंवारा हूं, मैंने अभी तक सेक्स नहीं किया. ” उसने कहा।ये तो स्पष्ट जवाब नहीं दिया तुमने, मुझे कैसे पता लगेगा कि तुम मेरी गांड के बारे में क्या फंतासी रखते हो? तुम बस बचने के लिए ऐसा कह रहे हो।” मैंने उससे फिर पूछा।अमन ने कुछ देर तक सोचा और तब तक वो मेरे हाथ से लंड की मुट्ठ मरवाने का मजा लेता रहा।मैं तुम्हारी गांड की पूजी करूंगा. मैंने उनकी दोनों टांगे कुर्सी पर अलग कर दीं और उनकी चूत को चाटने लगा.

उसकी चूत बहुत गर्म और गीली हो रही थी।चूत से सफेद पानी बाहर झांटों को गीला करने लगा. करीब 20 मिनट उसने मेरी ऐसी चुसाई और पिटाई की कि मैं आज तक वैसा मजा नहीं ले पाया. अब मैं कल्पना करने लगा कि मैं उसके कमरे में हूं और वो मेरे सामने चूत खोलकर लेटी हुई है.

भाभी और हॉट लड़कियां अपने मेल करके मुझे जरूर बताएं कि वो चूत में उंगली करने पर मजबूर हुईं या नहीं. पापा कहने लगे- तू यहां क्या कर रहा है?मैंने कहा- क्या हुआ? मम्मी क्यों चीख रही थीं?गुस्से में पापा ने कहा- तू अपने पलंग पर जा कर लेट जा, मम्मी ठीक हैं.

ऑफ़िस की कैंटीन में बैठ कर लंच करते-करते शेखर फिर से धारा और ललित के बारे में सोचने लगा.

अब मेरे बूब्स मेरे बैग से ढके हुए थे जिससे अगर वो मेरे बूब्स दबाता तो किसी को दिखाई नहीं देता. सेक्सी वीडियो मेहरारू वालासंगीता मयंक को एक कमरे की तरफ ले गई और मयंक को वहीं पर रुकने को कहा. सीसी क्रीमप्राची की चूत फिर से पानी छोड़ने लगी थी और मेरे सात इंच के लंड को लेने के लिए तैयार थी. वो चूसना तो और भी ज्यादा चाह रहा था, लेकिन समय की कमी के कारण उसे छोड़ना पड़ा.

मैं अभी भी उधर ही डरकर बैठा हुआ था कि भाभी मेरे घर कि तरफ क्यों गई हैं.

जिसका मतलब साफ था कि मेरा पति अपने वाहियात दोस्तों के साथ उनको कंपनी देने के लिए गया हुआ है।मैंने मोबाइल फोन निकाला देखने के लिए कि उसने कहीं कोई मैसेज न छोड़ा हो।मुझे उसका मैसेज मिला- जान, मैं अपने दोस्तों के साथ आया हुआ हूं. इस तरह मैं उसको अपने बदन का स्पर्श देते हुए सब्ज़ी मंडी आयी।वहां भी वो मेरे एकदम पीछे मुझसे सट कर ही चल रहा था और उसका किंग कोबरा बार बार मेरी गद्देदार गांड पर चुभ रहा था।आगे मैं एक दुकान पर प्याज़ देखने के लिए झुकी तो मेरा पिछवाड़ा एकदम उसके काले नाग से रगड़ता हुआ महसूस हुआ. जब चाचा ने अपने परिवार के लिए अलग मकान लेने की बात की तो मम्मी पापा चाचा से बोले- तुम बच्चों को ले आओ और जब तक मकान नहीं मिलता तब तक इसी मकान में इकट्ठे रह लेंगे.

मैं धीरे-धीरे उनकी गांड को सहलाने लगी और उनके बालों पर हाथ फेरने लगीमैंने अंकल को बताया- आज आपने मेरी बरसों पुरानी इच्छा को पूरा कर दिया. रास्ते में मैंने पूछा कि वो रास्ता कहाँ जाता है? हम एक घण्टे रुके मगर कोई आता जाता नहीं दिखा. मेरे पति के दोस्त हमेशा ही ऐसे कमेंट करते रहते थे … इसलिए मैं नजरअंदाज करके किचन में चली गयी.

सेक्सी वीडियो मोटा लंड

वो फिर एक हाथ से मेरे चूतड़ दबाने लगी और दूसरे हाथ से उंगलियों से चूतड़ों के बीच से मेरी योनि को टटोलने लगी।मैं भी पागलों की तरह कभी उसके चूतड़ों को दबाती तो कभी स्तनों को और साथ ही चुम्बन करती रही।पहले तो प्रीति को मेरी योनि खोजने में दिक्कत हो रही थी मगर उसकी व्याकुलता इतनी थी कि उसकी उंगलियों को मेरा गुदा द्वार मिल गया. चाची- क्या हुआ, यहाँ क्यों आये हो?मैं कुछ नहीं बोला, बस चाची की चूचियों की ओर देखता रहा. वो मेरे घर के पास ही रहता है और पति होते हुए भी उसका घर पर आना जाना लगा रहता है.

आठ बजे तक भाभी मुझे नाश्ता करा देती हैं और मैं 9 बजे काम पर चला जाता हूँ.

फ़लक ने ऊपर उठकर मुझे किस कर लिया और बाथरूम जाने के लिए जैसे ही बैठी वीर्य उसकी चूत से बहकर नीचे चादर पर इकट्ठा हो गया.

मैंने नीचे से जोर लगाकर एक तगड़ा झटका मार दिया और लगभग पूरा लंड अन्दर तक पेल दिया. मैंने भी कोई जबरदस्ती नहीं की और उससे लिपटकर कभी उसकी पीठ सहला देता तो कभी चुम्बन कर देता लेकिन मेरा लण्ड तो उसकी बुर में जाने के लिए तैयार हो रहा था. सेक्स वीडियो अमेरिकनपापा ने मम्मी के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और होंठों का रस चूसने लगे.

उसी हॉस्टल में एक रूम में नईम सर रहते थे, वे हमारे ट्रेनर थे और एक्सपर्ट के तौर पर बुलाए गए थे. यामिना- वो कैसे होती है?मैं बेड पर लेट गया और यामिना से बोला तुम अपनी चूचियों और चूत को मेरे सारे शरीर पर रगड़ कर मसाज करो. मैंने रोशना को बांहों में उठाकर पंलग पर लेटा दिया व उसकी पैंटी के ऊपर से ही चूत को चूमने लगा था.

मैंने धीरे धीरे बुआ की चुत की तरफ पहुंच कर चुत के दोनों होंठों को फैला कर उसके दाने को अपने होंठों में पकड़ कर हल्के से काटा, जिससे पूनम बुआ उछाल लेकर सिहर गईं. जिसमें दोनों पहले अपनी मम्मी और पापा की चुदाई देख कर वही सब रिपीट करने लगे थे.

मुझे यह भी नहीं पता था कि दिव्या मेरा लिंग आराम से ले ली पाएगी या नहीं।इसीलिए मैंने अपने मुंह से थोड़ा सा थूक निकालकर अपने लिंग पर लगा दिया.

”ममता जी ने मुझे रोकते हुए कहा और दोनों हाथों से मेरी कमर को पकड़ लिया. आँटी एकदम लण्ड छोड़कर चूत को मेरे मुंह पर रखकर बैठ गई और चूत को मेरे मुंह पर रगड़ते हुए एक बार खलास हो गई. आज केलॉग्स की टेस्ट बहुत अलग लग रहा था, शायद दूध का अलगपन उसमें उतर आया था.

इंग्लिश सेक्सी वीडियो रिकॉर्डिंग फिर मैंने अपनी निक्कर और अंडरवियर उतार दी और तना हुआ 7 इंच का लंड हॉट चाची के हाथ में दिया और मुँह में लेने को कहा. श्वेता- क्या बात हैं मयंक, पैर पर तो बड़े अच्छे से मालिश कर रहे थे.

मेरा घर कोचिंग से कुछ ही दूर है, तो मैं जल्दी से अपनी बाइक पर उसके पास पहुंच गया. मेरी पिछली कहानी थी:गर्लफ्रेंड की चूत में मेरे मोटे लण्ड का तूफ़ानये देसी गाँव की भाभी की चूत कहानी सन 2017 की है. अब मैंने लंड में थूक लगा कर गांड पर टिका दिया और उनकी कमर पकड़ कर कसके धक्का दे दिया.

छोड़ा छोड़ि पिक्चर

साथ ही मेरे होंठ भाभी के होंठों पर कस गए और मैं उनके कोमल होंठों का रस भी चूसने लगा. अब मुझे समझ में आया कि यह रात भर अपने मामा की लड़की की चुत में खोया रहता है. मैंने उससे प्यार से बोला- तेरी चुत को मैं फिर से चाट लेता हूँ … ताकि थोड़ी राहत मिल जाए.

मैं जिंदगी में पहली बार इतने मोटे लंबे लंड से चुद रही थी, वो भी अपने बेटे के लंड से. लंड के नाम से पानी निकलने से अचानक मेरा शरीर अकड़ने लगा और एक झटके के साथ बहुत सारा पानी मेरी पैंटी पर आ गया.

मैं व्याकुल हो उठा और उठकर आगे बढ़ कर उसका हाथ पकड़कर उसे अपनी ओर खींच लिया.

धीरे धीरे उसको मेरे मोटे लंड से चुदने में मजा आने लगा और अब वो पूरे लंड को आराम से अपनी चूत में ले रही थी. फिर मुझे यह समझते देर न लगी कि ये लोग मुझे देखकर ऐसे क्यों कर रहे हैं. उसका चूचा हवा में झूल गया और ये देखकर मेरे लंड ने सलामी देनी शुरू कर दी.

कमरे के अन्दर आते ही मयंक संगीता को नंगी देख कर बोला- संगीता मैडम, आप बहुत खूबसूरत लग रही हो. अब उसकी गांड भी मेरे अंगूठे का मजा ले रही थी और इसी मजे में वो एक बार और झड़ गयी. उसने सब कुछ देख लिया तो अब शर्म कैसी!बात खत्म हो गई और मुझे अब मम्मी पापा की चुदाई के साथ मजा लेने की मानो छूट मिल गई थी.

शायद उसका वहां खड़ा रहना मुश्किल हो रहा था, इसलिए भी हो सकता था कि वो नीचे बैठ गयी हो.

एक्स एन एक्स एक्स हिंदी बीएफ: पल्लवी ने भी मुस्कुराते हुए जबाव दिया- लेकिन हमारा तो सेकंड ईयर है गंडमरी. मगर क्या आप सच में इतना मजा दे देते हो? मैं तो आपकी सेक्स कहानी पढ़ते हुए न जाने कितनी बार पानी पानी हो गयी!उसकी बात पर मैंने कहा- क्यों? आपको यकीन नहीं है कि मैं इतना मजा दे सकता हूं?वो बोली- मैं तो बस पूछ रही हूं.

देखो प्रभात की कैसी ढीली है तुमसे कमजोर है पर्सनाल्टी में आधा भी नहीं है. अब मुझे सेक्सी वेबकैम मॉडल्स के साथ ही लाइव सेक्स वीडियो करने में मजा आने लगा था. ऐसे लॉकडाउन में शराब तो कहीं मिल ही नहीं रही थी, मगर सन्नी के पास दारू का स्टॉक रहता था, तो उसने मुझे दारू की बात कह दी थी.

मैंने पूछा- मजा आ रहा है जान?मामी- आह … राआहुउल्ल्ल तूने ये का कर दिया … अब चोद दे नाअ … बर्दाश्त नहीं हो रहा है.

रेणु, शेखर की पत्नी एक बहुत ही ख़ूबसूरत और गदराए हुए जिस्म की मालकिन है। आज भी मौहल्ले के मर्द उसे देख कर आहें भरते हैं और शायद अपने नवाब को अपने हाथों में लेकर उसके ख्यालों में अपना काम-रस निकालते होंगे. आज मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं कोई लड़का हूं और किसी लड़की को चोद रहा हूं. वो शायद सोच रही थी कि हम दोनों तो चुदाई करने में व्यस्त हैं, इसलिए उस पर कोई ध्यान नहीं देगा, मगर मैं चुदाई के बीच बीच में खिड़की‌ की ओर देख ले रहा था.