बीएफ हिंदी फुल

छवि स्रोत,कामवाली बाई की चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

पुलिस वाला सेक्सी फिल्म: बीएफ हिंदी फुल, उसने गाड़ी को एक ग्राउंड के कोने में लगा रखी थी, जहां पर ना ही कोई रोशनी थी और ना ही कोई आने जाने वाला था.

हरियाणवी लड़की की चुदाई

उसने देखा तो चौंक गई और बोली- ये क्या अंकल? आपने तो सब रेकॉर्ड कर लिया. पाकिस्तान में हिंदू कितने हैंमधुलिका भी उसे ज्यादा कुछ नहीं बोलती थी क्योंकि अब वह सेजल से बहुत खुश होती.

हमें तेज नींद आ रही थी, लेकिन मेरा एग्जाम 10 बजे से था … मानवी का एग्जाम दो बजे से था. छठ माई का गानाकॉलेज के बाहर कुछ लड़के खड़े थे और कॉलेज से निकल रही हर लड़की का एक्सरे अपनी आँखों से कर रहे थे.

मैंने फिर से दूसरी आई डी बनाई और प्राथना की कि मुझे ब्लॉक न करे।मैं अलग अलग तरीके ढूंढने लगा.बीएफ हिंदी फुल: उसने कहा- कल, पक्का? प्रॉमिस?मैंने कहा- हां प्रॉमिस, लेकिन एक बात और भी है”.

वो बोली- क्या मैं सच में अब एक औरत बन गयी हूं?मैंने कहा- हां, तुम्हारे औरत बनने की शुरूआत हो गयी है.अब मीनू ने मेरी खातिर अपने कपड़े निकाले और एकदम नंगी हो गई अपने भाई के सामने.

देवर भाभी की फोटो - बीएफ हिंदी फुल

जब कोई लड़की आपका लंड मुँह में लेती है ना … तो सच में ऐसा लगता है, जैसे आप किसी जन्नत में हो.मैंने जल्दी ही उसको नीचे लिटाया और उसके ऊपर सवार होकर उसकी चूत को चोदने लगा.

मुझे भी उसकी ऐसी आवाजें अच्छी लगीं … और मैंने उसके मम्मों को और जोर से मुँह में भर के जोर से काटना चालू कर दिया. बीएफ हिंदी फुल मैं उसका पानी का चाट चाट के साफ़ कर रहा था और बहू मेरी चूत चटाई का मज़ा ले रही थी.

उस समय मैंने आपको नंगा देख लिया था … बस उसी दिन से पता नहीं क्यों मेरा मन न तो पढ़ाई में लगता था … और न ही किसी काम में.

बीएफ हिंदी फुल?

मामी बोली- कोई बात नहीं, मैं तुम्हें सिखा दूंगी लेकिन ये बात किसी से कहना मत. फिर मैं उसके पेट को चूमते हुए उसकी चूत की ओर बढ़ा मैंने उसकी गर्म गर्म बुर पर अपने होंठ रखे तो उसके मुंह से आह्ह निकल गयी और वो जैसे सिमटते हुए सिहर सी गयी. वो बोली- कुछ तो करो … मुझसे अब रहा नहीं जा रहा … अब प्लीज जल्दी कुछ करो।मैंने उसकी गांड के नीचे तकिया लगाया और उसकी चुत पर लंड रखकर एक जोर से धक्का लगाया तो मेरा आधा लंड उसकी चुत में घुस गया.

मैं बोला- बेटू, अब तुमको जब भी अपनी बुर में पेलवाने का मन करे, मेरा लंड घुसवा लेना अपनी बुर में … या जब भी चूसने का मन करे, तो चूस लेना. स्पष्ट था कि वो वासना की आग में जल रही थी पर नारी सुलभ लज्जा उसके और मेरे बीच में झीनी सी दीवार बनी खड़ी थी. तो मैंने भी अपने पैर की उँगलियों से उनकी पैर की उँगलियों को छेड़ना शुरू कर दिया।हम दोनों का सर कम्बल के बाहर था और कमरे की लाइट जल रही थी। हम दोनों के पैर आपस में मस्ती कर रहे थे।मैंने अपने पैर से उनके पैर को फंसा लिया तो दीदी को दर्द होने लगा.

रचना की हालत एक बेकाबू जानवर की तरह हो गई थीउसने मुझे एक जोर का धक्का दिया और खुद से अलग कर दिया. फौजी साहब अभी भी अपनी आंखें बंद करके लेटे हुए थे कि अचानक उन्हें कुछ और चीज महसूस हुई. फिर मैंने उसको डॉगी स्टाइल में होने को बोला, तो वो अपनी गोरी शानदार गांड मेरी तरफ करके नीचे झुक गई.

उसके साथ कुछ देर इधर उधर की बातों के बाद उसने वही बात फिर से मुझसे पूछ ली. ऐसे लाजवाब लंड को देखकर भाभी से भी रहा नहीं गया और उन्होंने मुझसे कहा- वाह रे मेरे राजा (प्यार से वो मुझे राजा कहने लगी थीं) ऐसे ही लंड को कड़क रखेगा, तो मैं तुझे अपना दूसरा पति बना लूंगी.

फिर थोड़ी देर बाद मैंने उसका लोअर थोड़ा नीचे सरकाया और उसके नंगे कूल्हों को दबाने लगा.

रात को मैं नवीन जी घर डिनर बनाने गई, उस वक्त तक नवीन जी आए नहीं थे.

इतना जोर से कोई करता है क्या? मैं रंडी जरूर हूँ, लेकिन हूँ तो इंसान ही … मुझे भी दर्द होता है. कल्पना भी ठीक वैसे ही मेरी तरफ मुँह करके मेरी गोद में मेरे लंड पर बैठ गयी. हमें ऐसी ही काम वाली चाहिए थी जो कि पूरे दिन घर पर रहे … क्योंकि मेरी मां अब काफी वृद्ध हो चुकी हैं और उनसे काम नहीं होता है.

जो करना है जल्दी करो!फिर वो मॉम से बोली- रेनू कर कुछ हरामी … यहाँ क्या अपने दूध दबवाने आयी है?तो मॉम बोली- पुष्पा, तू क्या यहाँ लन्ड पकड़ने आयी है?इतने में एक लड़के ने कहा- क्यों लड़ रही हो रंडियो? चलो अपने बूब्स दिखाओ!तो मॉम बोली उससे- हरामी, तुझे मना किसने किया है? देख ले वैसे तू ही दबा रहा है. मेरी दीदी ने मेरा परिचय कराया तो पता चला कि उनका नाम रीमा था और वो रिश्ते में दीदी की ननद लगती थी. मैंने पूछा- बहू, दर्द हो रहा है तो निकल लूं?बहू बोली- डैडी, आपका लंड काफ़ी अंदर तक जा रहा है इसलिए थोड़ा दर्द हो रहा है.

इसलिए मैं हर एक एंगल से उनकी चुदाई का मजा लेने के लिए दूसरी खिड़की पर गया और वहां से देखा.

मैंने फिर लंड हाथ से उसकी गांड के गुलाबी छेद पर लगाया और झटका दिया. तभी उसने नीचे झुक कर मेरे खड़े लंड को अपने मुँह में ले लिया और जोर ज़ोर से चूसने लगी. मैंने दरवाजा खोला, तो मोहन भाई ही आया था और उसके साथ एक 25-26 साल का युवक भी था.

मैंने जो पैर में चोट लगने का नाटक किया था, तो उसने मुझसे कहा- चलो मैं तुम्हें छोड़ देती हूं, जहां जाना है वहां ले चलती हूँ. मैं अपनी मौसी की बेटी यानि मौसेरी बहन को एक परीक्षा दिलाने ले गया था. लेकिन कल्पना का पानी नहीं निकला था, तो वो और भी जोर से मेरे लंड पर कूद रही थी.

नौ बजे निधि वहां आ गई।पूजा ने कहा- जीजाजी, दीदी को लेकर आप मम्मी वाले रूम में जाइये.

मैं तो सन्न रह गया कि निशा ने सारा माल पी लिया और अभी भी लॉलीपॉप की तरह लंड चूस रही थी. फिर बहू ने गेट खोला तो वहाँ मेरा बेटा और उसका दोस्त खड़ा था जो उसे छोड़ने आया था.

बीएफ हिंदी फुल कुछ देर तक लंड चुसवाने के बाद मैंने तनु की चूत में लंड को पेल दिया. मैं तैयार हो गया इस काम के लिए और एक एक करके दोनों भाभी के कपड़े उतारने लगा.

बीएफ हिंदी फुल इधर चिन्ना भी जब भी अपने हाथों को कन्धों से नीचे छाती की तरफ लाता तो उन्हें करोना की चूचियों पर थोड़ा और आगे की तरफ बढ़ा देता. ये मेरी पहली सेक्स कहानी है, इसलिए अगर कोई गलती हो जाए तो प्लीज नजरअंदाज कर दीजियेगा.

मैंने अपने दोस्तों से कहा कि कोई मस्त भाभी टाइप की काम वाली दिलवाओ.

सन्नी लियोन फ़िल्में

अब मैंने वहां रुकना ठीक नहीं समझा और मैं भी फ्रेश होकर वहां से निकल लिया. मैंने आखिर में आपको बताया था कि जब हम दोनों सेक्स करके बाहर आए, तो सामने वाले घर के सामने एक शादीशुदा लड़की बैठी हुई थी, जो हमें ही घूर रही थी. उसका नंगा बदन मुझे मदहोश कर रहा था और वो भी मेरे नंगे बदन को मज़े से सहला रही थी.

मेरी बाहरवीं कक्षा की परीक्षा हो गई थी और छुट्टियां चल रही थीं।घर पर मेरा टाइम पास नहीं हो रहा था. ऐसी चुदाई हर औरत चाहती है, मैं आज इतनी ज्यादा संतुष्ट हूँ कि जब तुम मुझे चोद रहे थे … और मैं झड़ रही थी, तब मेरा बदन कांप रहा था. मैंने भी उसकी चूत को थोड़ा फैला कर अपनी जीभ को उसके चूत के अन्दर पेल कर घुमाना चालू कर दिया.

दोस्तो, जब कोई लड़की आपका कड़ा लंड मुँह में लेती है ना … तो सच में ऐसा लगता है, जैसे आप किसी जन्नत में हो.

प्रिय दोस्तो, मेरी ये सेक्स कहानी एक सच्ची घटना पर आधारित है, इसमें कुछ रोचकता डालने के लिए शब्द संकलन किया गया है, बाकी सब कुछ सत्य है. लग रहा था जैसे भगवान ने बड़ी फुरसत से खुद के लिए ये नायाब अप्सरा बनाई और फिर ग़लती से उसे धरती पर भेज दिया।मैं तो उसे ही देखता रह गया. मैंने जोर जोर से उसकी चूत की दोनों पंखुड़ियों को बाजू करके सीधे उसकी चूत में अपनी जीभ घुसा दी.

इतना कह कर मैंने फिर से उसके मुंह को अपने लंड पर दबा दिया और उसके सिर को पकड़ कर जोर जोर से अपने लंड की मुखमैथुन उससे करवाता रहा. और वो मेरे ऊपर आ गई, ऊपर बैठकर लंड अपनी चूत के अंदर लेकर उस पर कूदने लगी, उचक उचक के लंड लेने लगी. उनके सारे जिस्म की कोली भर कर मैंने अपना लंड भाभी की चूत में डाल कर उन्हें जी भर कर चोदने लगा.

कुछ देर तक कान के छेद मैं जीभ फिरने के बाद बोला- बेटी ये क्या हैं?करोना ने शर्म के मारे कोई जवाब नहीं दिया. और थोड़ी देर की चुदाई के बाद हम दोनों ने अपना अपना पानी परवीन की गांड और चूत में खाली कर दिया.

टाइट चूत में चिन्ना के मोटे कड़क लण्ड के लगातार घर्षण से करोना क्लाइमेक्स की तरफ बढ़ने लगी और करीब पांच मिनट की धकाधक चुदाई के बाद करोना बोली- अंकल, प्लीज अब किसी हाल में मत रुकना. और फिर मैंने उनके दोनों पैर फैलाये और अपना लंड एक ही झटके में अंदर डाल दिया। उनके मुख से बहुत तेज आवाज निकली और फिर वो बोली- आराम से करो मेरी जान।मैंने मैम की चूत से आराम से पूरा लंड बाहर निकाला और फिर पूरा अंदर डाल दिया. मैंने और जोर जोर से उसके चूचे दबाए और ब्लाउज के ऊपर से ही उनको काट लिया.

उनके सारे जिस्म की कोली भर कर मैंने अपना लंड भाभी की चूत में डाल कर उन्हें जी भर कर चोदने लगा.

वो सोच में पड़ गई और मैंने इसी का फायदा उठाकर उसके टॉप को उतारना शुरू कर दिया. जैसे ही सुपारा उसकी गांड के छेद में घुसने लगा तो वो दर्द से तड़पने लगी. फिर मीनू ने मेरे को एक चेयर पर बैठने के लिए कहा और खुद बैड के साइड में बैठ गयी और मेरे लंड पर तेल लगा कर मुठ मारने लग गई.

मैंने पूछा- दीदी आपका साइज क्या है?वो बोली- तुम खुद ही पता क्यों नहीं कर लेते हो!फिर मैंने दीदी को बेड पर लिटा दिया. मैंने उसके थरथराते होंठों को अपने होंठों से बंद कर लिया और किस करने लगा.

पर रात को खाने के बाद मेरी उससे बात हुई, तो उसने मुझे बताया उसके पति भी उसे खूब चोदते हैं. हिम्मत करके मैंने पूछा- तुम किसके यहां से हो?मेरे सवाल पर वो घबरा गयी. मैंने अपने लंड को उसकी चूत पर सैट किया और उसकी गर्दन पर किस करते करते पीछे से अपना लंड अन्दर घुसा दिया.

ಹಿಂದಿ ಸೆಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋ ಪ್ಲೀಸ್

मैं उसके मदमस्त मादक रूप में ही खोया हुआ था कि तभी तनु ने पास आकर मेरे चेहरे पर उंगली फेरते हुए पूछा- कहां खो गए ज़नाब? देखते ही रहोगे क्या!बिना वक़्त गंवाए मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

इसका मतलब यह नहीं कि आप घर के आसपास किसी पार्क में चले जाएँ या नुक्कड़ पर इकट्ठे होकर कोरोना पर चर्चा करें. करवट में सो रही मम्मी सीधी हो गईं, अपनी टांगें चौड़ी कर दीं और मेरा लण्ड अपनी मुठ्ठी में पकड़कर मुझे अपने ऊपर आने का इशारा किया. यह स्पर्श किसी लड़की का पहला स्पर्श था।मेरे हाथ उसके पीठ को सहला रहे थे जबकि मेरा लिंग उसके पेट पर दस्तक दे रहा था.

मैंने स्नेहा से कहा- चलो!जब स्नेहा तैयार होकर मेरे सामने आई तो ऐसा लगा जैसे कोई परी सामने खड़ी हो. थोड़ी देर में उठ के अपना लंड रानी की चूत से निकाला और कंडोम उतार के रानी को दे दिया. सेक्स साड़ी वाली सेक्सीमेरी चूत की अधूरी इच्छा कैसे पूरी हुई?लेखिका की पिछली कहानी:मां को चोदा जंगल मेंमेरा नाम शालिनी है.

मैंने भी पुष्पा आंटी के बताए प्रोग्राम के अनुसार अपनी भी सीट बुक करवा ली मॉम और पुष्पा आंटी की सीट के पीछे लाइन में!सन्डे आ गया. हम दोनों मां बेटे अब भाभी की चूत को पापा से चुदवाने की प्लानिंग कर रहे थे.

’ चिल्ला रही थीं औऱ बोल रही थीं कि अब लंड डाल दो बेटा … और मत तड़पाओ. अगर तुम्हें पत्नी के रूप में एक अच्छी लड़की नहीं मिली तो इसे केवल किस्मत का खेल ही कहा जायेगा. फिर वे मेरे बालों में अपनी उंगलियां फिराने लगे और मेरे होठों पर किस करने लगे.

उसका दूध जैसा चमकता हुआ बदन देखकर मुझे ऐसा लग रहा था कि ताजमहल भी उसकी सफेदी के सामने फीका पड़ जाएगा. अब नताशा मुझे जोश की वजह से मेरी पीठ को अपने नाखूनों से नोंच रही थी और मेरे बाल खींच रही थी. मैं ऐसा कैसे कर सकता हूं?उस पर सेजल ने कहा- आज मैं आपकी बेटी नहीं हूं.

मैंने जैसे ही दरवाज़ा खोला, सामने वो भाभी ही खड़ी थी और वो अभी भी मुझे ही घूर रही थी.

मेरी अगली सेक्स कहानी का इंतज़ार कीजिएगा कि कैसे मैंने अपनी बहन की गांड मारी. वो भी बाथरूम से निकल कर मुझसे कुछ भी नहीं पूछती थीं, तो मैं भी खुश रहता था और दिन भर उन्हें ताड़ता रहता था.

मैं- वव्वोह मैं आपको देखकर डर गया था कि कहीं आप सबसे न बोल दो, इसलिए मैंने उसे आज के लिए मना कर दिया. उसकी आंखों पर से पट्टी हटा दी और उसके सर को, फर्श पर बने हुए ‘आय लव यू. उसने मेरे वीर्य की एक एक बूंद अमृत समझ कर अपने पेट में उतार ली और मैंने भी उसके कामरस के अमृत को नीचे की ओर रास्ता दे दिया.

मैंने उसकी चूत में दो-चार धक्के तेजी के साथ लगाये और जब माल एकदम आने लगा तो मैंने जल्दी से लंड को निकाल कर उसके मुंह में दे दिया. जिंदगी में यह सुनहरी मौका एक ही बार आता है।चिन्ना अब अपनी पर आ चुका था. हे भगवान! सुबह के 4 बजे यह लड़की … यहां … मैंने अंदर बुलाया, गेट बंद किया।सीमा- क्यों जनाब कैसा लगा सरप्राइज?मैं- तुम पागल तो नहीं हो? इतनी रात में क्या कर रही हो?सीमा- आपसे मिलने आयी हूँ। लाइट ऑफ करो.

बीएफ हिंदी फुल मैंने अपनी गांड को बिल्कुल ढीला छोड़ रखा था, मुझे मालूम ही नहीं था कि आगे क्या होने वाला है. उसके घर पहुंच कर मैंने पाया कि उसने पहले से ही सुहागरात जैसी सजावट की हुई थी.

बीएफ लड़की

मुझे भी कॉलेज तक तो जाना ही था, तो मैंने उसे बताया कि मैं भी एग्जाम देने के लिए कॉलेज जा रहा हूँ, तुम मुझे कॉलेज तक लिफ्ट दे दो. क्या मस्त अहसास था मुलायम बुर का … वो भी अपनी छोटी बहन की बुर का अहसास मुझे अन्दर तक मजा दे रहा था. सारिका का हाथ हिलाकर उसे जगाते हुए मैंने पूछा- सारिका, ये जो पोर्न वीडियो में दिखाया जाता है, क्या ये सही में किसी स्कूल का किस्सा है?इतना कहते कहते मैंने मोबाइल सारिका को पकड़ा दिया.

लेकिन जब मैंने उन्हें देखा कि वे तो मेरी नंगी चूत से खेलने में ही लगे हुए हैं तो मैंने अलसी और कामुकता भारी आवाजा में कहा- अब ऊपर भी आ जाओ ना. मैंने लंड आगे पीछे करना बंद कर दिया वो बोली- जीजू अन्दर बाहर करो ना. रिया कपूर xxx.मैं तैयार हो गया इस काम के लिए और एक एक करके दोनों भाभी के कपड़े उतारने लगा.

अब वो बोल रही थी- आंह और तेज़ … और तेज़!यही कुछ 15-20 मिनट में हम दोनों झड़ गए.

मुझे हमेशा से ही बड़ी चूचियों को देखने और उनको हाथ से छूने की बहुत तमन्ना रहती थी. वो उसे धीरे धीरे सहलाने लगी। मैं भी एक हाथ से उसकी चूचियों को मसलते हुए दूसरे हाथ के उसके चूतड़ों पर हाथ फेर रहा था। धीरे-धीरे वो सिसकारियां लेने लगी।वह तो सुबह से ही गर्म थी, मेरे थोड़ा सा सहलाने में ही उसके मुंह से आवाजें निकलने लगी और बोली- यार जल्दी करो ना.

लंड से सारा वीर्य निकल जाने के बाद मैं आकांक्षा के बराबर में ही लेट गया. मैं उसके चेहरे और उसके होंठों को पागलों की तरह चूमने लगा और वो अपने मुँह से ‘सीई ससीईई सससीईईई. मैं इतना बोली ही थी कि हरामी ने एकदम से पूरा लंड मेरे चूत में डाल दिया.

चूंकि हम दोनों रोज देर तक बात करते थे, इसलिए हम दोनों एक दूसरे के बहुत करीब हो गए थे.

मैं बहुत दिनों से अन्तर्वासना की इस हिंदी सेक्स कहानी वाली साइट पर सेक्स कहानियाँ पढ़ रहा था. पानी की बूंदें हमारे ऊपर गिरने लगीं और सीमा मेरो बॉडी को अपनी हाथों से मसलने लगी. इसमें मां-बेटा, भाई-बहन, बाप-बेटी के बीच हुए सेक्स की कहानी लिखी होती थीं.

लड़की को चोदा चोदी चोदाफिर मैंने उसे पकड़ा और दीवार से उसको सटा कर उसके होंठों को चूसने लगा. मैंने अपनी बहन की तरफ देखा तो उसने कहा- मैं समझ गई कि आप क्या कहना चाहते हो.

ब्लू फिल्म सेक्स एचडी

उसके बाद मैंने रानी की सलवार खोली और उसे निकालने लगा तो रानी बोली- बाबू जी, आज पूरा मत निकालो. अब मुझे भी ये सब अच्छा लगने लगा था, तो मैंने भी कह दिया कि तेरा ही तो है … पकड़ ले. मेरी माँ ने मास्टर की बेटी तनु को भी बहाने से हमारे घर बुला लिया था.

फ़िर थोड़ी देर चूत पर लंड रगड़ने के बाद उसने मुझे उल्टा घुमाया और मेरे पीछे से चिपक गया. मैंने आंटी की चूचियों को पकड़ लिया और उसकी चूचियों को दबाते हुए चूत में लंड का धक्का पेल करने लगा. मां ने दीदी से कहा- आओ बेटी, अपने पापा को अपनी जवानी का पूरा रस दे दो आज.

मैं बैंक कर्मचारी हूं तो मैं शाम को पाँच बजे अपने कमरे पर आ जाता हूं. मैंने अपनी स्पीड तेज कर दी और मुझे बहुत ज्यादा मजा भी आ रहा था।राज आज बहुत मजा आ रहा है … हां रे …!” नीचे लेटे लेटे आंखें बंद करते हुए सिसकारियां लेते वो बोली।मेरे अंदर भी कुछ होने लगा था. अह!उधर मीनू के सांसें भी तेज हो गयी थी और उसकी चूचियां, जो काफी बड़ी थी, बड़ी जोर से हिल रही थी.

मैंने मोबाईल निकाल कर उनको दिया और कहा- देख लीजिए कैसी खातिरदारी की है मेरे भाईयों ने मेरी. वे शायद अटेंडेंट के साथ मिल कर यही प्लान बनाने गए थे कि अटेंडेंट कुछ देर में आ कर ये कह दे कि मालिश वाली नहीं मिली और फिर करोना को फंसा देने का प्लान था।अब करोना का दिल जोर जोर से धड़क रहा था.

मुझे मिले ईमेल में बहुत लोगों ने पूछा कि मेरी ये सेक्स स्टोरी रियल है या यूं ही काल्पनिक है.

एक कारण तो ये था कि वो चोदने लायक माल थी और दूसरा कारण ये था कि वो मेरे लंड से चुद चुकी थी. अश्लील लतलेकिन तभी बुआ ने हम दोनों को टोक दिया और कहा- जो बात करनी है, खाने के बाद करना. ધ પરથી નામ girlमैंने अच्छी तरह से अपनी मुठ मारी और धीरे से अपना लौड़ा उसकी शर्ट से पौंछ दिया. आप मुझे नीचे दी गयी ईमेल आईडी पर अपने मैसेज भेज कर कहानी के बारे में अपने विचार बतायें.

मेरी सेक्स कहानी के दूसरे भागसर्दी से बचाव के लिए चुदाई की-2में अब तक आपने पढ़ा कि कैसे मैं और मेरी दोस्त ठंड की वजह से करीब आये और फिर हमने चुदाई की.

उसे समझ नहीं आ रहा था कि उसका शरीर एकदम हल्का सा क्यों होने लगा है. मैंने दीदी से पूछा- क्या हाल है दीदी?दीदी ने अपनी चूत की ओर दिखाते हुए कहा- पापा ने सुबह चार बजे तक इसको खूब बजाया है. उसकी इस अदा ने मुझे साफ़ बता दिया था कि आज मेरी बहन चुदने के लिए राजी हो गई है.

पैरों पर किस करते करते मैंने अचानक उसकी गीली चूत को मुँह में भर लिया. उसके बाद भाभी ने क्या किया? मुझे भाभी ने कैसे अपनी चूत दी?दोस्तो नमस्कार. फिर कुछ देर तक इधर उधर की बात करने के बाद वो बोली कि भैया आपका सुसु अब दर्द तो नहीं कर रहा न!मैंने बोला- नहीं.

xx.com बीएफ फिल्म

धीरे धीरे अपने हाथों को मेरे लंड पर आगे पीछे करने लगी।अब मैं उसकी चूत मारने को बेताब था। मैं उसके ऊपर लेट गया. वो भी बाथरूम से निकल कर मुझसे कुछ भी नहीं पूछती थीं, तो मैं भी खुश रहता था और दिन भर उन्हें ताड़ता रहता था. जब तक उसके नाम से रात में अंडवियर को अपने वीर्य से गीला न कर लेता था मुझे चैन नहीं मिल पाता था.

मेरी माँ की चूत का रस विशु ने अपने मुंह में ही रखा और वापस मां को किस किया और सारा माल मां को पिला दिया.

जैसे ही मैं अपने रूम में पहुंचा, तो देखा मानवी अभी तक सो ही रही थी.

मैंने उनका जवाब सुनते ही उनके एक चुचे को ज़ोर से मसल दिया और चूत के अन्दर अपनी जीभ डाल कर उनको चोदने लगा. उन पलों को और अधिक मादक और कामुक बनाने का काम मेंहदी बखूबी कर सकती है. ब्लू फिल्म नंगी स्केनपरन्तु चिन्ना ने फिर चाल खेली, वह चूत पर लण्ड के सुपारे के चार-पांच घस्से मार कर उसे पीछे हटा लेता था.

वैसे डैडी जी, अगर आप बुरा न मानें तो हम दोनों आगे भी ऐसी ही ओपन बातें कर सकते हैं. फिर मैंने रूम हीटर को उसके पैर की तरफ लगाया और बोला कि स्कर्ट ऊपर करके पैर फैलाओ. अगर उस औरत के साथ कुछ गलत हो गया होता तो इज्जत मेरे शहर की खराब हो जानी थी.

सेक्स में बढ़ती रुचि और जागरूकता आजकल युवाओं को नये प्रयोग करने के लिए प्रेरित करती है. मैंने उसकी चूत में लंड को अंदर नहीं धकेला बल्कि उसके होंठों को चूसने लगा.

एग्जाम सेंटर पर मैं फ़ोन नहीं ले जा सकता था, तो मैं अपना फ़ोन मानवी को दे गया और उससे बोला कि मैं एग्जाम देने जा रहा हूँ, तुम ध्यान से जाग जाना और घर से फ़ोन आए, तो बात कर लेना.

क्या गज़ब के कूल्हे थे रीना के!बड़े बड़े फूले हुए चूतड़, थोड़ा बाहर की तरफ उठे हुए।औरत के गोरे और गदराए, रसभरे नितम्ब, नीचे चिकनी मोटी जाँघें केले के पेड़ के तने जैसी, पैंटी दोनों नितंबों की दरार में खो गयी थी. कल्पना- हा … आहा … आह और जोर से और तेज पूरा अन्दर तक चोदो मुझे … मैं झड़ने वाली हूँ मेरे राजा … जोर से चोदो … जोर से चोदो आहा … आहा … मैं झड़ रही हूँ … आहा!उसका बदन अकड़ गया और वो झड़ गयी. आह्ह … दोस्तो, उस पल में उसके होंठों को चूसने में जो आनंद था उसको याद करते ही मेरे लंड में तूफान सा आ जाता है.

हॉट बिकिनी मैं दीदी की चुत चाटने लगा, इससे दीदी सीत्कार करने लगीं और छटपटाने लगीं. मैंने दीदी से पूछा- क्या हाल है दीदी?दीदी ने अपनी चूत की ओर दिखाते हुए कहा- पापा ने सुबह चार बजे तक इसको खूब बजाया है.

मीनू ने लगभग गिड़गिड़ाते हुए कहा- भाई, आज आपको अपना लंड हिलाना ही पड़ेगा. )मैंने कहा- कोमल, अगर सच्ची में मैं तुम्हें अच्छा लगता हूं और तुम मेरी परेशानी को समझ रही हो तो तुम मेरी मदद कर सकती हो. क्योंकि दोस्तो, कल्पना रंडी को मैं तीन शॉट लगाने के दो हजार देता था.

पूजा भाभी की सेक्सी बीएफ

आह दोस्तों लंड के चुत में घुसते ही कितना मस्त मज़ा आया … इसे शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है. फिर उसको चूम कर पूछा- अब पथरी का दर्द कैसा है?वो हंस दी और बोली- पथरी को तेरे इस लोहे के लंड ने तोड़ दिया है. मेरे दोस्त कीबीवी की चुदाईसे उसको मेरे बड़ा लंड का चस्का लग गया था और मैं ज्यादा समय तक भी चोदता हूँ.

अब इसी तरह टिके रहना मुश्किल था तो उसने कहा- यार अब और मत तड़पाओ। तुम्हें और जो कुछ भी करना है वह बाद में कर लेना. मैंने उसकी एक न सुनी और लंड उसकी चूत में और उंगली उसकी गांड में पेल कर एक साथ आगे पीछे करने लगा.

तनु ने बिना देर किये मेरे लंड के गुलाबी सुपाड़े को मुंह में भर लिया.

आने वाली स्थिति की कल्पना से उसकी चूचियों में खुमारी भर गई, निप्पल सख्त हो गये, चूत पानी से लबरेज़ हो गई।कहानी का पिछला भाग:जवान लड़की और नेता जी-2धीरे धीरे करोना को होश सा आया. बहू बोली- डैडी जी, कभी अपने गांड चाटी है?मैंने कहा- नहीं बहू कभी नहीं चाटी है. पोर्न सेक्स वीडियो और देसी लड़की की नंगी फोटो देखना मेरा रोज का काम था.

कुछ देर किस करने के बाद मैं खड़ा हुआ और मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए. अब तक मेरी बहन समझ चुकी थी कि अब बहुत ज्यादा देर तक वो मेरे लंड से नहीं बच सकती. पर आप मुझसे एक वादा कीजिए कि आप छोटी को कुछ नहीं बताएंगी?भाभी ने कहा- मैं वादा करती हूँ.

मैं उसकी चूचियों को दबा रहा था और साथ में ही उसके होंठों को भी चूस रहा था.

बीएफ हिंदी फुल: मुझे उस दिन इस बात का यकीन हो गया कि मैं किसी भी साइज की औरत को संतुष्ट कर सकता हूं. लेकिन हद से ज्यादा भीड़ हो जाने के कारण मुझे नीचे बैठने का मौका ही नहीं मिला.

जब बहू खाना बना रही थी तब भी मैं उसके पीछे खड़ा होके कभी उसे किस करता कभी उसके बूब्स दबाता और कभी उसकी चूत सहला देता. रिटायरमेंट के समय मिले करीब साठ लाख रूपये खर्च करके मैंने अपनी बेटी अंजू की शादी बड़े धूमधाम से की. हालत ये हो गई थी कि जिस दिन मैं उससे चैट ना करूं, उस दिन मेरा किसी काम में मन नहीं लगता था.

दीदी के जाते ही मां ने पापा के अंडरवियर में से उनके लंड को निकाल कर चूसना शुरू कर दिया.

उसने मुझे लेटते देखा, तो वो मेरे खड़े लंड की तरफ लालसा से देखने लगी. थोड़ी देर में उठ के अपना लंड रानी की चूत से निकाला और कंडोम उतार के रानी को दे दिया. मैंने कहा- वैसे मुझे वहां के सिलेबस, क्लासेज और टीचर्स के बारे में जानना था.