बीएफ सेक्स वीडियो फिल्म

छवि स्रोत,आज की खबर सट्टा किंग दिसावर

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ देखने वाली बीएफ: बीएफ सेक्स वीडियो फिल्म, मैंने अपनी सबसे अच्छी तस्वीरों में से कुछ तस्वीरें खुशी को व्हाटसप कर दी.

सेक्स फिल्म नई

क्योंकि भाभी मुझे चुदाई में हंस हंस कर चुदाई का मजा देती है और लड़की की चुत में उसे दर्द के कारण थोड़ा कम सहयोग मिलता है. लड़की का बच्चामैंने जल्दी से उनके सामने ही अपनी स्कर्ट उतार कर जींस टॉप पहन लिया.

मुझे पता नहीं था कि कुछ ही देर तक हिलाने के बाद एक चिपचिपा पदार्थ मेरे लंड से एकदम से फूट पड़ेगा अन्यथा मैं इस तरह दीवार पर खाली नहीं हो जाता. गांव सेक्सी फिल्मवैसे तो मुझे सबसे अच्छा चुंबन भावना का लगा था, पर मैंने नई लड़की का हौसला बढ़ाना ठीक समझ कर कहा.

उसने अंदर बेबी पिंक कलर की पैंटी पहन रखी थी, उसको भी उतार दिया। उसके बाद नीचे जाकर उसके पैरों के अंगूठे को किस करने लगा और उसकी देसी बुर की तरफ बढ़ने लगा।उसकी बुर एकदम पाव रोटी की तरह फूल चुकी थी।झूठ नहीं बोलूंगा … उसकी देसी बुर एकदम सफेद है और अंदर से गुलाबी है.बीएफ सेक्स वीडियो फिल्म: मामी मेरा लंड अपने हाथ में लेकर सहलाने लगीं और थोड़ी देर मैं ही मेरा 3 इंच मोटा और 9 इंच लंबा लंड तैयार था.

मैंने कुछ रुक रुक कर झटके मारे और भाभी की चूत को गर्म वीर्य से भर दिया.मुझे उस दिन पहली बार अहसास हुआ कि परम के लण्ड में शायद उतना दम नहीं है कि मेरी गांड में घुस सके.

डॉट कॉम सेक्सी वीडियो - बीएफ सेक्स वीडियो फिल्म

अब मैंने पायल से कहा- पायल, मुझे वैभव के पास छोड़ दो, मैं वहां से मिलकर आ जाऊंगा.हमारे बीच तब सिर्फ मां बेटे का ही रिश्ता था … लेकिन आज की बात अलग थी.

उनकी ये बात मुझे जम गई और मैंने रेल का रिजर्वेशन लेने की कोशिश की, मगर उसमें भी मुझे सफलता नहीं मिली. बीएफ सेक्स वीडियो फिल्म मैंने भाभी की दोनों चुचियों को पकड़ लिया और नीचे झुक कर उनके निप्पलों को चूसने लगा.

थोड़ी देर बाद फिर सलीम कहने लगा- चलो चलें, रात हो जाएगी … यह जगह ठीक नहीं है.

बीएफ सेक्स वीडियो फिल्म?

फिर मैं बोली- अगर तुमको दिक्कत ना हो तो क्या मैं तुम्हारे साथ चल सकती हूँ तुम्हारी गर्ल फ्रेंड बन के? क्योंकि ये तो ज़रूरी है नहीं कि उसी कॉलेज की कोई लड़की हो तुम्हारी फ्रेंड; बाहर की भी तो हो सकती है?इस बात से वो एकदम से खुश हुआ और बोला- ये तो बिल्कुल ठीक आइडिया है. प्रेम हदें नहीं जानता रिश्ते नहीं मानता, मैंने भी नहीं सोचा था कि मुझे प्रेम करने का इतना अवसर मिलेगा और इतनी खूबसूरत प्रेमिकाएं मिलेंगी, खैर किस्मत और ईश्वर की मर्जी को कौन जानता है. तो फिर बताते क्यों नहीं कि आपको कहां क्या कष्ट है, मेरी कसम का मान भी नहीं रखा आपने तो!” वो कुछ रुष्ट स्वर में बोली.

मैंने उसकी बात पर मुस्कुराते हुए एक कदम आगे बढ़ाया और रेशमा के नजदीक जाकर उसकी गर्दन पर हाथ डालकर बाल हटाए और उसकी गर्दन को चूम लिया. अंकिता भाभी ने पहले पीने को मना किया, पर मुकेश के फोर्स करने के बाद उन्होंने दो पैग ले लिए. ”मैंने तुरंत कहा- जो हुक्म मेमसाब … कहिये इस दास के लिए क्या आर्डर है?पिंकी खुश हो गयी- मतलब तू सब शर्तें मानता है न?मैंने कहा- जी हाँ मेमसाब.

तभी मेरे भाई ने मेरी कलाई पकड़ते हुए कहा- यहीं बदल लो रानी … हमसे क्या छुपाना. उस दिन से भाभी मुझसे खुलने लगी।अब मैं आपको थोड़ा भैया के बारे में बता दूं. भाभी- तो फिर सारा दिन क्या करते हो?मैं- भाभी बस ऐसे ही कभी टीवी देख लेता हूं तो कभी फोन में टाइम पास कर लेता हूं.

हम दोनों चुदाई करना चाहते थे तो मैंने थियेटर में में चुदाई का प्लान किया. बचने का मेरे पास कोई रास्ता नहीं था, इसलिए मैंने मौके की नज़ाकत समझ कर काले से दारू का ग्लास लिए औऱ एक बार में ही गटक गयी और कहा- और दो.

बस जब खुद का मन हुआ तो कपड़े उतार कर चढ़ गया मेरे ऊपर।इसके अलावा मैं सन्तुष्ट हुई कि नहीं उससे उसे कोई मतलब नहीं.

एक बार तो पूरा खीरा अंदर चला गया और मेरे हाथ में केवल कंडोम का रबर ही रह गया जिसे पकड़ कर मैंने बाहर खीँच लिया.

मैं- चल कुत्ते, अब आगे आ और अपनी मालकिन के प्यारे से छेद को चाट ले. भाभी बोली- आज दिन में मैं ब्यूटिशियन के यहाँ गई थी और उसने स्पेशल ट्रीटमेंट से मुझे तुम्हारे लिए तैयार किया है. अब इसके बाद की जीजा साली सेक्स कहानी मैं फिर कभी सुनाऊंगा कि मैंने अपनी साली की चुदाई में और क्या क्या मजा किया?इस जीजा साली सेक्स कहानी पर आप अपनी राय देना न भूलें.

मैं- आखिरी कुछ दृश्यों में तुम्हें देख कर मैं खुद को रोक नहीं पाया. भाभी ने झुककर चादर को देखा तो एक संतोष की सांस ली और आंखें बंद कर ली. मैंने सोचा कि क्यों न आज गर्लफ्रेंड के न होने का फायदा टीवी पर क्रिकेट मैच देख कर लूं.

वो बुरी तरह तड़प उठी क्योंकि मैंने एक उंगली एकदम से उसकी चूत में घुसा दी। उसकी पूरी चूत भीग गई थी.

शीला ने उसे पानी देते हुए पूछा- कॉफ़ी पियेंगे?अब राजेश तो खुश हो गया. उसकी गरम बातें सुनकर मैं जोश में आ गया और अपना लंड उसकी चूत पर रख कर एक ही झटके में उसकी चूत में घुसेड़ दिया. विक्की अचानक हुई इस बेइज्जती से थोड़ा हिचका लेकिन फिर भी वो मेरे कहते ही अपने घुटनों पर आ गया.

उसने अपने लंड को बाहर निकाला और हम दोनों हांफते हुए फर्श पर गिर पड़े. तभी सलहज नजदीक आकर बोली- शर्म नहीं आती है मेरे सामने हल्की हरकतें कर रहे हो. और मैं भी इस ताबड़तोड़ चुदाई से थोड़ी थकान महसूस कर रहा था। मैं भी किट्टू के ऊपर ही ढेर हो गया.

उसके चेहरे पर लाज की गहरी लाली स्पष्ट दिख रही थी पर उसकी कामवासना युक्त गुलाबी आंखें चढ़ी चढ़ी सी लग रहीं थीं जैसे उसने कोई नशा कर लिया हो.

अब समस्या फिर से नैना से दूर रहने की थी कि कैसे मैं उससे दूरी बना कर रखूं. उसके रूम का दृश्य सुहागरात के जैसा बना हुआ था, मगर मैं उसको अपनी मां के रूप में देखना चाह रहा था.

बीएफ सेक्स वीडियो फिल्म मैं सीधा होकर अब अहिस्ता अहिस्ता अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा, तो मम्मी भी अपनी गांड उठा उठाकर मेरा हथियार अपनी चुत मे ले रही थीं. रमेश- क्यूं मेरी जान, रात में मेरा लंड लेकर मजा नहीं आया क्या?रिया- रात की बात अलग थी.

बीएफ सेक्स वीडियो फिल्म हर महिला चुदवाने के बाद मुझे कुछ ना कुछ गिफ्ट, पैसे, गहने देती थी … इससे मेरी सलहज जो अब मेरी बीवी थी, वो भी खुश हो जाती थी. किन्तु कुछ ही देर ऐसे लेटे रहने के बाद नेहा ने मेरे फौलादी सीने और उसमें आच्छादित बालों को सहलाते हुए कहा- मैं एक बात पूछूँ?मैंने भी कहा- हां पूछो न!नेहा ने कहा- क्या तुम सभी को इसी तरह संतुष्ट करते हो … या फिर तुम्हारे लिए मैं कुछ खास हूँ?अब अगर मैं कहता कि सारी महिलाएं मेरे लिए खास हैं, तो उसे बुरा लगता और मैं उससे झूठ बोलना नहीं चाहता था.

अब मेरी बारी थी अपने उस गुलाम को मजा देने की। मैंने उसको बेड पर खींच लिया.

सेक्सी सेक्सी वीडियो पंजाबी

जब तक और लड़कियां थीं तो औरों ने कई बार नीचे नैन्सी आंटी से हल्के से रवीना की शिकायत की कि वो कुछ ज्यादा ही अश्लील है. ये कहानी उसी के शब्दों में होगी लेकिन उससे पहले मैं उसका परिचय आपको दे देता हूं. हमने अपने मकान को किराये पर चढ़ाया हुआ है जिसमें नीचे वाले फ्लोर पर एक डॉक्टर का परिवार रहता है.

मेरा लौड़ा भी तन कर कड़क हो चुका था जो मेरी जीन्स में डंडे जैसा दिख रहा था. मतलब आज मेरे मोटे और लम्बे लंड से मामी की चुत से हल्का सा खून भी निकल आया था. अगर आप लोगों को मेरी पहली स्टोरी पसंद आई हो और मेरे नये सेक्स गुलाम का काम पसंद आया हो या फिर आप मुझसे बात करना चाहते हों तो मुझे कॉन्टेक्ट करें.

आप मुझे कॉर्पोरेट लेवल पर प्रोमोट कर दो और मैं आपके लौड़े पर उछल उछल कर तब तक चुदती रहूंगी जब तक आपका मन नहीं भर जायेगा.

सिसकारते हुए मैंने कहा- आहह्ह … हां ऐसे ही … मेरे लंड को ऐसे ही चोदो जैसे तुम उस दिन कार में उन लौड़ों के ऊपर चुद रही थी. दोस्तो, मैं सिमरन एक बार फिर से वापस आ गयी हूं अपनी स्टोरी का अगला भाग लेकर।आप लोगों ने मेरी इस स्टोरी के पिछले पार्टसेक्सी कॉलेज गर्ल ने जूनियर को बनाया सेक्स गुलाम- 1में देखा था कि कैसे मैंने अपने जूनियर को अपनी चूत चटवाकर मजा लिया था. अब जहां भी मैं जाती, वो दोनों मेरे साथ ही जाते और हम तीनों हर जगह बहुत एन्जॉय करते.

दोस्तों उस दिन के बाद हमें जब भी मौका मिलता, मैं और मेरी मामी दोनों एक दूसरे को बहुत सारा सुख देते और मज़े करते. मैं उसके चूमने के साथ साथ ये भी जानने की कोशिश करने लगा कि मुझे चूमने वाली कौन है. मैं अपनी गांड उठा उठा कर सर के लंड पर उचक उचक कर अपनी चुदाई करवाने लगी.

अब तो अगले 15 दिनों तक जब तक शीला की सास का फोन नहीं आया कि कल उसका आदमी आएगा, दिन में दो तीन बार हर जगह, हर मुद्रा में चुदाई हुई. उधर ननद ने मेरी शर्ट उतार कर अपनी भी सैंडो उतार दी और अपने एक चूची पकड़ कर मेरे होंठों पर घिसने लगी.

मैंने उसके दोनों उरोजों को दोनों हाथों से दबाना और सहलाना शुरू कर दिया. उस दिन तो मैं अपने घर चली गई थी, लेकिन मुझे उनका लंड मिलना पक्का हो गया था. कोई पांच मिनट तक लंड चुसाने के बाद वो मेरी टांगों को फैला कर मेरे ऊपर चढ़ गए.

तुम मेरे रूम में सोने के लिए आ जाओ, मुझे अकेले सोने में बहुत डर लगता है.

मैंने सरोज के टॉप को बाहर निकाल दिया और उसकी स्कर्ट के इलास्टिक में उंगलियां देकर नीचे खींच दिया. नेहा भी तुरंत बोली- कोई बात नहीं, उससे ज्यादा हम इन्हें तड़पा देंगी. अच्छा, हां … ला दे!” मैंने जैसे तैसे कहा और उठ कर बैठने की कोशिश करने लगा.

मैं- अपनी मालकिन के छेद की सैर करने के लिए तैयार हो?मैंने उसकी गोटियों को भींचते हुए पूछा और उसके मुंह से अंदर ही अंदर कपड़े में से आवाज गूंजी. जब मैं बहुत अधिक उत्तेजित हो गया तो मेरे लिंग ने वीर्य की पिचकारी छोड़ दी.

मैंने उससे बोला- एक बार फिर करते हैं!मेरे बोलते ही उसने जल्दी से अपने कपड़े निकाल दिए और मेरा लंड बाहर निकाल कर चूसने लगी. मेरा और क्रिया का तो सही चल रहा था लेकिन जरीना के साथ मौका नहीं मिल रहा था।मेरा कमरा ऊपर था. 15 बजे रमेश ने घड़ी की ओर देख कर कहा- यार, वह रंडी अभी तक आयी नहीं?रवि- आ जायेगी, वैसे भी सब्र का फल मीठा होता है।रमेश- ठीक ही कहा तूने। अच्छा तब तक मैं बाथरूम से फ्रेश हो कर आता हूँ।रमेश बाथरूम में घुस गया.

सेक्स+विडियो

हम नीचे चले गए और खाना खाकर मैं ऊपर आ गया और अगले दिन की चुदाई के लिए खुद को और अपने लौड़े को रेस्ट देने के लिए कमरा बंद करके सो गया.

तो लवी मुझे बिलकुल नई लगी।टीशर्ट में खुले छोड़े हुये मम्मे जो उसके हिलने से इधर उधर डोल रहे थे. मैंने इस वक़्त ब्रा पैंटी नहीं पहनी थी जिससे मेरे निप्पल मेरी टी-शर्ट में से साफ़ दिखाई दे रहे थे. सेक्सी फैमिली स्टोरी में पढ़ें कि एक घर में मुझे तीन शानदार चूतें मिल रही थीं.

मैंने उनको अपनी तरफ घुमाया, वो आराम से घूम गईं और सर नीचे करके खड़ी हो गईं. पर राजेश ने आज तक किसी औरत को हाथ नहीं लगाया था, अलबत्ता कॉलेज लाइफ में उसकी एक गर्लफ्रेंड थी जिससे उसके शारीरिक सम्बन्ध भी थे. सेक्सी सेक्सी गांव कीआते ही हम दोनों एक दूसरे से लिपट गये और जोर जोर से एक दूसरे को चूसने लगे.

एयरपोर्ट पर जब निशा अन्दर जाने के मुझे बाई और अपना ख्याल रखने के लिए बोल रही थी, तो उसने बोला था- रमित नैना का ख्याल रखना. उसके पति की नाइट शिफ्ट और मेरे वीक ऑफ के दौरान ही हम पूरी रात एक साथ समय बिताते थे.

वो अब कामुक सिसकारियां लेने लगी और मुझे भी अपनी कामुक बातों से उकसाने लगी. दिमाग में अब सिर्फ निष्ठा ही निष्ठा और उसका भरपूर जवान जिस्म ही था कि वो कैसे चुदासी होकर मुझसे लिपट गयी थी और बिना चुदे ही झड़ने लगी थी. उनके सिर के अलावा पूरे शरीर में बाल ही नहीं थे, एकदम गोरी और चिकनी भाभी मेरे सामने नंगी थीं.

स्वरा के काम करने के दौरान मैंने चाय बनाई, मैंने भी पी और उसको भी पिलाई. सलीम ने गांड के चारों तरफ उंगली घुमाई और बोले- अन्दर है बे … अब मैं अनाड़ी नहीं रहा. मैं तुम्हारे घर नहीं आ सकती, क्या तुम मेरे घर आ सकते हो?मैंने कहा- अभी आता हूं.

ब्रा और पैन्टी में खड़ी शांति मुझे टीवी एक्ट्रेस रीमा लागू की छोटी बहन लग रही थी.

और फिर वो भी दम से चोदते हुए मेरी चूत में गर्म गर्म वीर्य गिराता हुआ झड़ गया।हम दोनों एक साथ झड़ चुके थे और कंबल के ऊपर निढाल हो के गिर गए. अपने लण्ड और स्वरा की बुर पर क्रीम लगाने के बाद मैंने स्वरा के चूतड़ उठाकर तकिया रखा.

मैं क्या करूं बताओ, मैं तो यहां किसी को जानती भी नहीं?” वो घबराहट भरे स्वर में बोली. मेरा लंड ऐसे काम कर रहा था जैसे किसी गुफा को खोदते टाइम ड्रिल मशीन को अन्दर-बाहर करते हैं. फिर मैंने एक हाथ से उसके चूचों को आज़ाद किया और चूचों को सहलाने लगा। उसके निप्पलों को बारी बारी मसलने लगा और दूसरे हाथ से बालों को सहलाते हुए लगातार उसके होंठों को अपने होंठों में जकड़ने की कोशिश करने लगा.

वो बहुत ज्यादा गर्म हो गयी और ऐसे तड़पने लगी जैसे मछली को पानी से बाहर फेंक दिया गया हो. अभी आधा लण्ड ही अन्दर गया था कि घों घों करते हुए मनजीत बोली- बहुत दर्द हुआ, विजय. फिर बोला- मेरी तो कई बार थूक से ही निपटा दी … गांड तीन दिन दर्द करती रही थी.

बीएफ सेक्स वीडियो फिल्म भाभी- अकेले खाना बनाकर क्या करोगे, यहां मैं बना तो रही हूं, तुम भी यहीं खा लेना!भाभी के मुंह से ये शब्द सुनकर जैसे मेरे मन में गुदगुदी सी होने लगी. अब राजेश को लगा कि वो निकलने वाला है तो उसने लंड बाहर निकालने की कोशिश की.

सेक्सी वीडियो गांव की लड़कियों का

भाभी की चूत में जीभ डाल डाल कर मैं उसकी चूत के नमकीन पानी को चूस रहा था. जब ट्रेन स्टेशन पर आकर रुकी तो उसने मुझे ट्रेन से नीचे उतर कर कॉल किया. वहां पर हमने बाथ टब के गर्म गर्म पानी में एक दूसरे के जिस्मों के सहलाया.

तुम्हारे अन्दर प्रतिभा है और मेरे अन्दर प्रतिभा दास!उसकी बात पर हम दोनों ही खिलखिला उठे और तभी उसके मोबाइल पर किसी का कॉल आ गया. हम काफी देर तक वहां पर नहाते रहे और एक दूसरे के जिस्मों से खेलते रहे. प्लास्टर कितने दिन में खुलता हैमैं अपने आप को खुशकिस्मत समझ रहा था कि इतनी सुंदर और पढ़ी लिखी लेडी की चूत में मेरा लण्ड जाने वाला है.

और बहुत तेज़ तेज़, बहुत जल्दी जल्दी एक बार फिर सेक्स किया लगातार झड़ने तक।फिर बस खुद को साफ किया और कपड़े पहने।सुनील ने सुनिश्चित किया कि रास्ता साफ है.

दोस्तों इस सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको पम्मी की चुदाई की कहानी का पूरा मजा लिखूँगा. मां धीरे … उफ़ उफ़ आह।मैं उसके दूध ज़ोर-ज़ोर से दबा रहा था।पगली डरने की क्या बात है?”मैं उसके ऊपर से उतर कर उसकी बगल मैं लेट कर उसके होंठ चूम कर मुस्कुराते हुए बोला- लाओ मैं तुम्हारा परिचय इन मस्त चीजों से करा दूँ, फिर डर नहीं लगेगा.

उसके चूतड़ हल्के हल्के से थिरकने लगे थे, जैसे लंड चूत में गया हुआ हो और चूत उस लंड को अपनी समस्त गहराई तक भीतर घुसा लेना चाहती हो. दोगी या इसे हिला हिला कर इसका पानी निकाल दोगी?” मैंने कराहते हुए पूछा. वो दोनों मेरी ओर देखकर कमरे में चली गईं और मैं पांच मिनट होने का इंतजार करने लगा.

दोस्त के मोबाइल पर ही मैंने देसी सेक्स चैट साइट में लॉग इन किया और फिर अपनी प्रोफाइल बनायी.

वैसे भी दिवेश ड्यूटी के चलते कई बार रात को लेट आते हैं, तो खा कर आते हैं. करीब एक घंटे बाद मोबाइल पर फोन की घंटी बजने से हम दोनों की आंखें खुलीं. मैं उनके सामने बैठ गई, तो उन्होंने मुझे बिल्कुल अपनी कुर्सी के बगल में बैठने के लिए कहा.

फुल वीडियो सेक्सी हिंदी मेंउसकी उम्र लगभग 27-28 वर्ष रही होगी।लिफ्ट में मैंने उससे नाम भी पूछ लिया. और तुम्हारे अन्दर जो लेखन की प्रतिभा है, उससे प्रतिभा का आकर्षित हो जाना स्वाभाविक है.

सेक्सी टाइगर

सब मुझसे अपने अपने ढंग से बात करके दोस्ताना हो रहे थे, बातों में हंसी मज़ाक, चुटकुले चल रहे थे. मैं खुशी का ये उपहार लेना नहीं चाहता था, पर मैं जानता था कि यहां मेरी मर्जी नहीं चलेगी. मैं मामी के मुँह से इस समय एक चुदासी रंडी की भाषा सुनकर बेहद उत्तेजित हो गया था.

मैं समझ गया कि आज की रात मुझे उस बिस्तर पर शशि भाभी की जवानी का रस पीना है. कुछ ही देर में भाभी हांफने लगी और मेरे ऊपर पसर गई और बोली- अब तू ऊपर आ जा … और जैसे मैंने किया है ऐसे ही मुझे चोद! और साथ साथ कभी कभी मेरी चूत में अपनी उंगली भी चला देना. अगर मैं उस समय रुक जाता तो फिर हम चुदाई नहीं कर पाते। अब सच बताओ बाद में मजा आया कि नहीं?हां, थोड़ी देर के बाद बहुत मजा आया था। ये सुहागरात मुझे हमेशा याद रहेगी। लव यू जानू”अभी सुहागरात पूरी कहां हुई है। पूरी रात तो वैसे ही पड़ी है.

उनको देख कर जैसे सर का चेहरा ही चमक गया और वो मेरे मम्मों पर झपट पड़े. हमें सोफे पर परेशानी हो रही थी तो मैंने उसको बोला- चल बेडरूम में चलते हैं. मैं- ओ शशि!मैं शशि भाभी के गालों को चूमने लगा, वो भी मेरा साथ देने लगीं.

शीला ने कप उठाया और साथ ही राजेश के बेड रूम से बाहर पड़ा टॉवल उठाया और किचन में चली गयी. लौड़ा चूत में पूरा फिट होकर जैसे ही बच्चेदानी से टकराया तो उसकी हल्की सी दर्द भरी आह्ह … निकल गयी.

रात को खाना खाने के बाद छत पर घूमता था तो जरीना भी अपनी छत पर आ जाती थी.

अब लंड रीना के हाथों में था, वो उसे सहला रही थी, हल्के से खींच रही थी. बिहार का देहाती सेक्सनिष्ठा अपनी आंखें मूंदें चुपचाप मेरा लंड अपने दोनों हाथों से दबाये लेटी थी. देहाती सेक्सी भोजपुरीमैं हवस भरी आवाज में कहा- आह्ह… मस्त है।वो बोली- क्या?मैंने कहा- खाना!वो बोली- हाथ किसके हैं?मैं- हां जी, हाथ तो आपके ही हैं. अब मैं अपने रूम में एकदम नंगी थी और नील के बारे में सोच सोच कर अपनी चूत सहला रही थी.

धीरे से साड़ी उठाकर पेंटी के किनारे से ही उनकी चिकनी चुत को चूसने लगा.

एक बार हमें भी पिला दो अपनी जवानी का जूस।ये कहकर उसने तुरंत फिर से मेरे लंड के टोपे पर उसके सुराख के बिल्कुल ऊपर जीभ रख कर ऐसे अंदाज़ में घुमाई कि मैं बर्दाश्त न कर पाया. मैंने उनको अपनी बांहों में जकड़ते हुए अपने में समाने की कोशिश की तो मेरे लंड खड़ा होकर उनकी कमर से लड़ने लगा. अब भाभी शरमाती हुई बोली- धत्त … तो आपने क्या-क्या सुन लिया देवर जी?मैंने कहा- ज्यादा कुछ नहीं भाभी … लेकिन सिसकारियों की आवाज़ बहुत आ रही थी.

मैं 26 साल का जवान लड़का हूं और कोयम्बटूर में अपनी गर्लफ्रेंड के साथ लिव इन रिलेशन में रहता हूं. मैं- सर ऐसे मत कीजिये वरना वो सोचेंगे कि मैंने आपसे उनकी शिकायत की है. अब रवि ने झुक कर अपने दोनों हाथों से रिया की गांड को चौड़ी कर दिया और उसकी गांड और चूत में अपना मुंह देकर चाटने लगा.

और भाई सेक्स

अपने लण्ड पर कोल्ड क्रीम लगाकर मैंने लण्ड का सुपारा शांति की चूत के मुखद्वार पर रख दिया. फिर मैं संजय का इशारा पाकर नेहा को छोड़ कर गीत के पास चला गया और मेरी जगह संजय ने सम्भाल ली. एक दिन बैंक में कुछ घंटों की इंटरनेट सर्फिंग के बाद मुझे दिल्ली सेक्स चैट की वेबसाइट मिली.

मेरी सौतेली मां बीच-बीच में अपनी कमर पीछे हिलाकर मेरे लंड को दबा दे रही थीं.

लड़के ने उठकर उसकी सलवार खोल दी और उसकी पैंटी को खींच कर उसकी जांघों तक सरका दिया.

”अरे नहीं मेरी जान … तुम्हारे बापू को इन सब बातों की हवा तक नहीं लगेगी। अगर तुम्हारा भी देखने का मन हो तो मैं भी तुम्हें अपना सब कुछ दिखा सकता हूँ. अंतर बासना सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे एक यात्रा के दौरान मुझे एक अमीर औरत मिली. डॉग और गर्ल्स का सेक्सी वीडियोउसकी बुर में से पानी निकलने लगा।लेकिन उसने मुझे वहीं रोक दिया और मुझे जाने के लिए कहा।उसके बाद रात होने का इंतजार करने लगा कि बस कब रात हो और मैं जरीना की देसी बुर की चुदाई करके उसका उदघाटन करूं।मैं वहां से आ गया.

फिर जैसे आम को दबा दबा कर चूसते हैं, वैसे ही मैं दोनों मम्मों को चूसने लगा. फिर बस रवाना हुई, उस समय वो मेरी सीट के पास आकर बैठ गयी और समय अनुसार अपना गुस्सा चिकोटी काट कर उतारने लगी. मैं जिस वक्त नीचे हॉल में पहुंचा, उस वक्त सभी बारात स्वागत के लिए बाजे-गाज ढोल नगाड़ों के साथ निकलने की तैयारी में थे.

माफ किजयेगा … मैं उसकी खूबसूरती में खो गया था।उसके चुचे 30 के होंगे, कमर 26 और चूतड़ 30. मैं मीठी कराह से बोला- आह रीना अब बस भी करो मेरी जान … मुझे चुत से लंड चुसवाना है.

फिर उसने एक हल्का धक्का दिया और उसके उस हल्के से धक्के से ही मैं निढाल होकर बिस्तर पर गिर गया।उसने मेरी जांघों में फंसे मेरे कच्छे को मेरी टांगों से निकाल कर मेरे शरीर से ही अलग कर दिया और अपना जिस्म भी नंगा कर लिया.

मतलब मेरा वीर्य फ्रेंची में ही सोते समय निकल गया, मुझे पता ही नहीं चला. मैंने कहा- अब तो मिल गया न सबूत कि मैं अपनी हर रानी को कितना अधिक प्यार करता हूँ … रानी जब मेरे सामने होती है तो मेरी सभी इन्द्रियां, मेरा पूरा ध्यान, मेरा दिमाग और मेरी आत्मा सब रानी पर सौ प्रतिशत नहीं बल्कि एक हज़ार प्रतिशत केंद्रित होती हैं … मुझे दुनिया की बाकी हर बात दिमाग से निकल जाती है … रानी, रानी और सिर्फ रानी ही रानी मेरे सर्वस्व में होती है. मेरी ओर इशारा करके वे जावेद से बोले- जावेद, इनका मेरे ऊपर बड़ा अहसान है.

राजस्थानी गर्ल सेक्स वीडियो मेरे पास आकर वो बोला- मुझे नहीं पता था कि इस शहर में मुझे इतनी जल्दी अपनी किंकी सेक्स फैंटेसी को पूरा करने का मौका मिलेगा. मौसम ही इतना ठंडा है, इसमें उनकी क्या गलती?रिंकी- बदमाश … मैं वैसे भी तुम्हें अपनी गांड में लंड नहीं डालने दूंगी.

ऐसा कामुक नजारा देख कर मैंने भी नेहा की नंगी गांड को अपने हाथों में भर कर जोर जोर से भींचना शुरू कर दिया. करीब पांच मिनट बाद मैंने उससे बोला- मुँह में ले लो … रस गिरने वाला है. मैं- आंटी, मैं आपको परेशान तो नहीं कर रहा हूं?वो बोली- नहीं, बिल्कुल नहीं.

सेक्स तेलुगु सेक्स

मैंने डांटा- चुप हरामज़ादी … तेरी माँ भी चोद दूंगा खड़ी करके … मरी क्यों जा रही है रंडी? भोसड़ी वाली, पचास बार झड़ के फालतू टांय टांय कर रही बहन की लौड़ी. फिर मैं भाभी जी की चुत में उंगली करने लगा और वो मेरे लंड को हिलाने लगीं. मेरी पड़ोसन भाभी की चुदाई कहानी के पहले भागपड़ोस की भाभी सेक्स की चाह-1में अब तक आपने जाना कि मेरी और शशि भाभी की बातें होने लगी थीं.

थोड़ी देर बाद नशा हम दोनों पर हावी होने लगा और वो पूरे रोमांटिक मूड में आ गई थी. रवि ने अपने बलिष्ठ हाथों से उसके मम्मी पकड़ लिए और उन्हें दबाते हुए कविता को पागल कर दिया.

लेकिन उसका खड़ा ही नहीं हुआ।यह कहानी फिर कभी सुनाऊंगा।हमारी बातें अब सेक्स तक पहुंच चुकी थी.

रात को ही प्रधानमन्त्री जी ने घोषणा की तो राजेश सोच में पड़ गया कि अब उसका घर कैसे चलेगा. इसके साथ ही मैंने नेहा की नाइटी को थोड़ा आगे से उठाकर अपने दोनों हाथों से उसकी जांघों को पकड़ लिया और एक हाथ से उसकी चिकनी चूत को सहलाने लगा. भाभी फिर से चीखने लगी लेकिन अबकी बार उसकी चूत लंड को जैसे खा जाने के मूड में आ गयी थी.

उसकी आंखों के सामने रवि के चेहरे पर रिया को देख कर नाचती वो हवस बार बार सामने आ रही थी कि कैसे रवि उसकी बेटी की चूत और गांड को चोद रहा था. उसने फोन उठा कर स्पीकर ऑन कर दिया और बोली- हां बोल रत्न!रत्न- क्या बात है रंडी? क्या जादू कर दिया तुमने रात वाले बुड्ढे पर?रिया हंसते हुए बोली- क्यों, क्या हुआ?रत्न- साला आज रात फिर वह तेरी चूत चुदाई की डिमांड कर बैठा है. इसके अलावा कहानी के बारे में कुछ विशेष राय साझा करना चाहते हैं तो भी आपका स्वागत है.

रिया- चख लो सेठ, ऐसा मौका फिर मिले ना मिले।रमेश- रंडी तू बहुत ही बड़ी रांड है। रवि तू हट वहां से, जरा मैं भी चखूँ इसका स्वाद।रमेश रिया की गाँड के पास आ गया और रवि ने आगे आकर रिया के मुंह में अपना लंड ठूंस दिया.

बीएफ सेक्स वीडियो फिल्म: मैं जोर से अपने बूब्स दबाने लगी और आखिरकार मेरा पानी उसके मुंह में निकल गया. उसके लंड की नोक से लेकर उसके टट्टों के ऊपर तक नेहा की जीभ घूम रही थी.

किसी का सौंदर्य इतना मनमोहक भी हो सकता है? शायद मैं प्रतिभा से ना मिलता, तो इस बात की कल्पना भी नहीं कर पाता. जोदिल्ली सेक्स चैट वेबसाइटकी एक बहुत ही बोल्ड, शरारती और कामुक वेबकैम मॉडल के साथ हुआ था. पूरे कमरे मैं मानो बस फच फच की आवाज़ और सिसकारियों की आवाज ही आ रही थी.

जिया- हम्म … सच में राज बहुत लक्की है … वर्ना उसे आप जैसी शादीशुदा औरत के साथ मजा करने को थोड़ा मिलता.

मैंने उसकी टांगों को फैलाया और उसकी फूली हुई चूत को जीभ से चाटना शुरू कर दिया. जाते जाते जावेद एकदम से मुझसे बोला- तुम्हें मेरी लेने में देर बहुत लगी थी. भाभी- कहां जा रहे हो?मैं- भाभी दूध लेने मार्केट जा रहा हूँ … आज टिफिन भी नहीं आया है, तो कुछ खाने का भी लाना है.