सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी में देहाती

छवि स्रोत,लड़कियों की बीएफ वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

વિડીયો સેકસી: सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी में देहाती, अब मैं धीरे धीरे उसकी पीठ पर हाथ रगड़ने लगा और उसके गालों को चूमने लगा.

xxxxचुदाई

इससे पहले मैं कुछ करती उन्होंने अपना लंड निकाल कर मेरी चूत पर लगा दिया और गांड को पकड़ कर मेरी चूत में दे दिया. बीएफ चोदी चोदा सेक्सखुद नहा कर आने के बाद उन्होंने मुझे एक तौलिया देते हुए नहा लेने के लिए कहा.

मैंने डॉगी स्टाइल ले लिया और उसने मेरी कमर को पकड़ कर अपना लंड फिर से मेरी चूत में डाल दिया. देहाती बीएफ एचडी हिंदीएक काला सा छोटा सा तिल उसकी गर्दन पर उसकी खूबसूरती को और भी बढ़ा रहा था.

मैंने उनकी चूत में उंगली डाली और चूत के पानी को लेकर उनकी गांड पर फिराने लगा.सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी में देहाती: तो क्यों न हम कहीं और किसी अनजान शहर में चलकर रहते हैं, वहीं एक छोटा सा घर ले लेंगे.

बस ऐसे ही किस्मत से मौसम बन गया और मैंने उसकी गांड और चूत दोनों चोद डालीं.इसीलिए उनके अब्बू ने मकान में किसी जवान लड़के या गैर शादीशुदा पुरूष को नहीं रखा हुआ था.

गांव की भाभी के साथ सेक्सी वीडियो - सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी में देहाती

आखिरी के 5 मिनट में मैंने उसे फिर से जानवरों की तरह चोदा, जिसमें श्वेता को दर्द और मजा दोनों आया.मैंने अपनी पिछली देसी बुर की चुदाई कहानीभतीजी की चूत का उद्घाटनमें भी आपको बताया था कि मैं हापुड़ से हूं और शादीशुदा हूं.

मौसी के बारे में सोच सोच कर ही मेरा लंड खड़ा हो रखा था और ऊपर से उस इंग्लिश मूवी के हॉट सीन नेमेरी हवसको और ज्यादा भड़का दिया था. सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी में देहाती और जब वो पीछे मुड़ कर ब्लैकबोर्ड पर लिखने लगतीं, तो मेरा सारा ध्यान मैडम की सेक्सी गांड पर होता.

उनके चेहरे के भाव देख कर लग रहा था कि दोनों ही चुदने का मन बना चुकी हैं.

सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी में देहाती?

कुछ ही देर बाद मैं सीमा के ऊपर चढ़ गया और उसके होंठों को बेतहाशा चूमने लगा … वो भी मेरा साथ देने लगी. चूंकि सात फेरों के वक्त दोनों एक दूसरे के करीब बैठे थे तो जिस्मों की गर्मी एक दूसरे के अंदर मिलन की आग को कुछ हद तक हवा दे रही थी. मैंने चाची की दोनों मोटी मोटी चुची को पूरी तरह से दबा दबा कर उनका दूध पी गया.

मैं सिर्फ पेटीकोट में थी और ऊपर सिर्फ वो डोरी वाला अधखुला ब्लाउज था. मैंने कहा- हां बेटी तुमको थोड़ा दर्द सहन करना पड़ेगा क्योंकि तुम्हारी अच्छे से चुदाई नहीं हुई है. मैंने जैसे-तैसे अपने आप पर काबू किया और उसे देख कर उत्तेजित होने लगा.

वास्तव में हम दोनों को ही इस तरह से किस करने में बहुत मजा आ रहा था. फिर मुझे बहुत अच्छा स्वाद आया, तो मैंने अपने दोनों हाथों से उसके चूतड़ों को थोड़ा सा फैला दिया और गांड खोल कर अपनी लंबी जीभ उसकी गांड में अन्दर तक डाल दी और गांड चाटने लगा. वैसे भी मैं एक मर्द हूं, मुझे किसी के होने से आपत्ति होनी भी नहीं चाहिए थी.

चार हफ़्तों के बाद मैंने उसे एक रेस्तरां में ले जाकर प्रोपज़ कर दिया. वहां छत पर एक टॉयलेट था। मैंने प्रीति को बाहर नजर रखने के लिये बोलकर कविता को गोद में उठा लिया और उसको लेकर टॉयलेट में अंदर घुस गया।टॉयलेट में जाकर हमने एक दूसरे को बेतहाशा किस करना शुरू कर दिया। मैं उसकी शर्ट के ऊपर से ही उसके गोल गोल टाइट चूचे भी दबा रहा था.

उनकी इस बेताबी से मैं मस्त हो गया और उनका सर पकड़ कर लंड चुसाई का मजा लेने लगा.

एक बार तो मेरा दिल किया कि उन्हें धक्का देकर हटा दूं और नीचे भाग जाऊं या चिल्ला के कह दूं कि मैं उनकी बेटी जैसी रूपांगी हूं.

उन्होंने मुझे रुकने का इशारा किया और वो फ्रिज में से मक्खन निकालने लगीं. मैंने भी सोची कि चलो मर्द का लंड मिल रहा है … आज इसकी बात मान ही लेती हूँ. मेरी इस कास्टिंग काउच सेक्स स्टोरी के बारे में अपने विचार प्रकट करने के लिए आप कमेंट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर छोड़ें अथवा मुझे मेरी ईमेल पर संपर्क करें.

मैं दर्द के मारे तड़प उठी और मेरे मुंह से अचानक ‘हाय राम … मम्मी ईईई … स्सस्सस्सी ईईईई’ निकल गया. खैर, मैंने आकर तेरा मजा खराब किया है तो मैं ही तेरा मजा अब पूरा भी करूंगी. मैंने उसकी टांगों को फैलाया और उसकी चूत में जीभ देकर जोर जोर से अंदर तक चाटने लगा.

मै ज़रा सा आगे हुआ और धीरे धीरे सेक्स का खेल शुरू हो गया।मैंने उसकी गर्दन पर चूमना चालू कर दिया.

मैं चूत में धक्का लगाने ही वाला था कि वो बोली- कॉन्डम तो लगा लो बेवकूफ!ये बोलकर वो उठी और बेड की दराज से उसने एक कॉन्डम निकाला. वहां थोड़ी रोशनी थी और मैंने देखा कि मॉम का बदन कई जगह से कीचड़ में सन गया था. दूसरा धक्का मारने से पहले मैंने मनीषा के चूतड़ उठाकर एक तकिया उसकी गांड के नीचे रख दिया.

फिर अगले दिन मैं उसको मिलने शाम के समय में गया। वो कुछ अजीब तरीके से चलते हुए आ रही थी. मैं भी आंखें बंद करके उसके जिस्म पर लिपटा पड़ा था और नीचे ही नीचे उसकी टाइट चूत में लंड को अंदर बाहर करता हुआ चुदाई का असीम आनंद ले रहा था. उसके बाद मैंने काउंटर पर फीस भरी और दवाईयां लेकर मैं वहां से भाभी को लेकर घर आ गया.

मैंने एक गिलास में लार्ज पैग बनाया और सोडा डाल कर गिलास उठा कर उसके होंठों से लगा दिया.

मैंने फ़ौरन कानों में ईयरफ़ोन लगा कर नीचे सीधा लेटकर मालिश शुरू कर दी. उनको मेरा ये व्यवहार इतना अच्छा लगा कि उनके दिल में मेरे लिए एक जगह बन गयी.

सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी में देहाती मेरी देसी बुर कीचुदाई स्टोरी के पिछले भागगाँव वाली चाची ने बुलाया- 1में आपने पढ़ा कि मैं अंकित यादव अपनी चाची को चोदने के लिए उनके गांव गया हुआ था. मैंने पहले उसके गोल चिकने चूतड़ों को चाट कर साफ किया और फिर चूतड़ों को अलग अलग करके उसकी गांड के छेद पर लगा रस चाट कर साफ कर दिया.

सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी में देहाती मैंने धीरे से अपने दोनों हाथों की पहली उंगली के साथ उसकी पैंटी में अंदर उंगली घुसाई और उसको धीरे धीरे खींच कर उसकी मखमली चूत को नंगी कर दिया. सुरेश- अच्छा नाम मत बता, ये तो बता कि पहली बार किया था क्या? और ये सब कब किया … और उसका वो कितना बड़ा था?गीता- हां, कल मैंने पहली बार ही किया था और उसका वो भी काफी बड़ा था.

पर न तो उन्होंने कभी ऐसा किया और न ही कभी मेरी हिम्मत हुई कि मैं अपने पति के लंड को अपने मुंह में भर लूं या उनसे कहूं कि आओ मेरी चूत चाटो.

સેકસી હિરોઈન

फिर भाभी चुपचाप उठीं, अपना मुँह पौंछा और धीरे धीरे लंगड़ाते हुए बाथरूम में चली गयीं. मैं तेजी से मुठ मारता हुआ प्यासी भाभी की गोरी चुत पर पहुंचा और उसकी चूत को जोर जोर से चाटने और काटने लगा. मैं मुड़ा और उसको अपनी बांहों में लेकर जोर से उसकी कमर पर अपने हाथ फिराने लगा.

मुझे पता नहीं चल रहा था कि मॉम ये आवाजें कामुकता में कर रही थी या ऐसा दर्द के कारण हो रहा था. बड़ी मस्त दिख रही थी सोती हुई वो। उसको ऐसे नंगी सोते हुए देख कर मेरा लंड फिर खड़ा हो गया. मैंने मस्त सी सफ़ेद ट्रान्सपेरेंट साड़ी पहन ली और पटाखा बनकर निकल गयी। मैं बहुत सेक्सी लग रही थी। लो-नेक ब्लाउज से मेरे दूध बाहर आने के लिए तरस रहे थे और मेरी गांड किसी लंड से चुदवाने के लिए मचल रही थी.

जवानी ऐसी कि जो भी उस कमसिन कली को देख ले तो उसके सोए हुए लंड में जान आ जाए.

उसकी चूत काफी खुली हुई थी और देखकर लग रहा था कि जैसे वो अपनी चूत को बहुत चुदवाती है. लगभग यही दो-तीन मिनट तक चुत चाटने के बाद मैं भाभी के होंठों को चाटने लगा. फिर नॉर्मल होने के बाद वो बोली- नाहिद, मैं तुम्हारी दीवानी हो गयी हूं.

मैंने दीदी से पूछा- और सुनाओ दीदी … खुशखबरी कब सुना रही हो?दीदी ये सुन कर हंसने लगीं और बात को टालने लगीं. फिर वह पूजा की ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स को प्रेम पूर्वक दबाने लगा. उसके हाथ की पकड़ मेरे लंड पर इतनी कसी हुई थी कि मानो वो मेरे लंड को जड़ से उखाड़ना देना चाहती हो.

उसने अपनी जांघों को भींच लिया और मेरे सिर को हाथों से दबा कर अपनी चूत को चुसवाने लगी. हां तू बता, क्या हुआ … मैंने जो कहा था वो किया?कालू- हां मालिक मैंने हवेली की साफ सफ़ाई करवा दी है.

सीमा जी- आह पिला देना मेरे भोसड़ी के आशिक … मैं भी अपनी इस चूत से तुम्हें पेशाब पिलाऊंगी. वो सिसकारते हुए अपने बूब्स को चुसवाने लगी- आह्ह … चचाजान … उफ्फो … ऊईई … आह्ह … अम्म … चाचू … मेरे चूचे … ओह्ह … मजा आ रहा है।इस तरह से उसके मुंह से निकल रहे वो वासना भरे उत्तेजक शब्द मेरे लंड में जैसे दोगुना जोश पैदा कर रहे थे. जगह का नाम इसीलिए नहीं बता रहा हूँ कि लोग उस जगह से धर्म जाति और नारी की प्रवृत्ति का अनुमान लगा लेते हैं, जो कि गलत है.

दोस्तो, यह कहानी मेरे और मेरी भतीजी के बीच में हुई घटना के बारे में है.

मैं शाम को चार बजे तक अपने घर आया तो एक छोटा सा लड़का आया और बोला- अंकल, जिन दीदी की शादी है उन अंकल ने आपको बुलाया है. वो काफी देर तक बाहर नहीं निकली तो मैं भी ऊंघने लगा और कब मुझे नींद आ गई, कुछ पता ही नहीं चला. मैं- तो क्या तू इससे पहले भी मिली है उससे?रिया- हां, एक बार जब जयपुर काम से गये थे, तब हो गया था इसके साथ.

धीरे धीरे मैं उनकी कमर पर आ गया और मॉम के मोटे मोटे चूतड़ मेरे सामने थे. मगर जब वो रोज रोज पीछे की मांगने लगे, तो मैंने तरस ख़ाकर गांड मारने की इजाजत भी दे दी.

सेकसीकहानी आंटी की चुदाई की में पढ़ें कि कैसे आंटी ने मुझे अपने घर बुलाया और गन्दी गालियाँ देकर मेरे साथ जंगली सेक्स करने लगी. उसके बाद कुछ मजबूरियां ऐसी हुईं कि मुझे फिर ये काम पैसों के लिये करना पड़ा. मुझसे रुका न गया और मैं यहां आकर इस तरह से मुठ मारते हुए अपने लंड को शांत करने लगा.

हिंदी सेक्सी kahani

रात में भी सारी रात चुदाई चली और अब सुबह एक राउंड रेशमा के साथ भी हो गया था.

लड़कियों के मुस्कराहट में पता नहीं क्या जादू होता है कि हर लड़का उस अदा पर मर मिटता है. वरुण और राज ने मेरे लिए बीयर ऑफर की, लेकिन मैंने यह कहकर मना कर दिया कि आज बहुत हो गई … अब नहीं. अब क्या बताऊं दोस्तो, जब भी श्वेता आंख मारती है … तो उसके दिमाग में जरूर कोई बड़ी शैतानी चल रही होती है.

अगले ही पल भाभी ने गर्म आहें भरते हुए मेरे चेहरे पर ही पानी छोड़ दिया. आज सुमन बेचारी रात में यौवन की आग में तड़प रही थी और उसी तड़प में जलती हुई वो सो गई. आदिवासी सेक्सी ब्लू वीडियोउनकी आंखों में चुदाई की वासना देख कर मैं बोला- अब खेल चालू करते हैं.

‘क्या हुआ जानू … आज अपनी दिशा की याद नहीं आई क्या?’ दिशा इठला कर बोली. वो अपनी चूत को मेरे लंड पर सैट करते हुए बैठ गयी और उछल उछल कर चुत चुदवाने लगी.

हुआ यूं कि मैं पंजाब में रहने आ गया था और मुझे यहां पर एक अच्छी कंपनी में नौकरी मिल गयी थी. जैसे ही उसका लंड मेरे गुलाबी होंठों से बाहर हुआ, मेरी लार और उसके लंड के माल का मिश्रण मेरे बोबों से बहता हुआ मेरी चूत तक पहुंच गया था. फिर मैंने उसे खड़ा किया और अपनी गोद में उठा कर उसके नितम्बों को पकड़ कर दबाने लगा.

मोनिषा बोली- ठीक है भैया, मैं कुछ स्नेक्स बना देती हूं … तब तक आप टीवी देखिए और मां पिताजी को आने में टाइम भी लगेगा. इस बात पर मेरे पति ने मेरी गांड में लंड डाला और पीछे से मेरी चुदाई का मजा लिया. मुझे गिरता देख मॉम वहां से मेरी मदद के लिए दौड़ी और जल्दी से आकर मेरे हाथ पकड़ कर मुझे उठाने लगी.

पंकज- साली कुतिया … तू फार्म हाउस तो चल! तुझे नंगी भगा-भगा कर चोदेंगे.

ऐसे में मैंने भी अब अपने आप पर कंट्रोल करते हुए उससे शरारत करने के मन से कहा- राहुल, मेरा किसी और से अफेयर है. वो मेरे पास आया और उसने पूछा- कोई परेशानी?मैंने उसे बताया, तो उसने दरवाजे को धक्का दिया और अन्दर आ गया.

वो कहने लगी कि वो हर शनिवार को जाती है और कई सारे क्लाइंट्स को खुश करके आती है. तभी सर ने आगे हाथ लाकर मेरे मम्मों को पकड़ लिया और मम्मों को मसलते हुए जोरों के झटके देने लगे. मैंने जल्दी से अपनी चाय खत्म की और उठ कर जाने लगा तो अंकल ने रोक लिया.

पांच मिनट में ही पापा उनके मुंह में ही झड़ गए और सारा माल मम्मी को पिला दिया. हां मैं तेरी रंडी हूँ आज से … जब तेरा मन करे, जहां मन करे चोद लेना साले. मैंने उनको सीधा लिटा दिया और उनके दोनों पैर फिर से खोल कर चुत फैला दी.

सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी में देहाती मम्मी की गांड उठी हुई है और चूचियां ऐसी तनी हुई हैं कि किसी को उनकी चूचियां देख कर मुँह में पानी आ जाएगा. तब भी उसने मुझसे एक बात मनवा ली कि वो मुझे किस करेगा और मेरे मम्मों को दबा कर मजा लेगा.

इंग्लिश ब्लू सेक्सी फिल्म दिखाइए

इसके बाद मैंने कंडोम को डस्टबिन में फेंक दिया और पारिज़ा के पास लेट गया. मैंने जैसे-तैसे अपने आप पर काबू किया और उसे देख कर उत्तेजित होने लगा. ऐसा होता है कि कोई कोई की नजरें अच्छी लगती हैं और किसी की नजरों से नफरत सी होने लगती है.

वो जोर जोर से चिल्लाते हुए कहने लगी- नहीं … नहीं … मुझे नहीं चुदना … निकालो इसे … याल्ला … मर गयी. चार हफ़्तों के बाद मैंने उसे एक रेस्तरां में ले जाकर प्रोपज़ कर दिया. तिरपल सेक्स बीएफचार हफ़्तों के बाद मैंने उसे एक रेस्तरां में ले जाकर प्रोपज़ कर दिया.

वो बस उसे पकड़े खड़ी रही। फिर मैंने उसके ट्राउज़र में हाथ घुसाया और सीधा उसकी चूत को पकड़ लिया.

मैं अब अनचाहे ही उनके होंठ चूसने लगी थी और मेरे हाथ उनकी पीठ पर सहलाने लगे थे. उसका गोरा गोरा चिकना चेहरा देखकर दुनिया का कोई भी मर्द उसको पाने की चाहत कर सकता था.

क्योंकि अगर किसी साठ साल के मर्द को काजल अग्रवाल जैसी सेक्सी औरत को चोदने का मौका मिल जाएगा, तो वो जीवन में कभी भी नहीं भुला सकेगा. दस मिनट तक मैं फराह के होंठों का रस पीता रहा और फिर उसने छोड़ने को कहा. मेरी पीठ पर नाखून रगड़ते रगड़ते मनीषा ने मेरा लोअर नीचे खिसका दिया और मेरे चूतड़ों पर हाथ फेरने लगी, मेरा लण्ड पूरी तरह से तैयार हो चुका था.

ऐसे में मैंने भी अब अपने आप पर कंट्रोल करते हुए उससे शरारत करने के मन से कहा- राहुल, मेरा किसी और से अफेयर है.

गोरी चूचियों पर बिल्कुल हल्के भूरे रंग के निप्पल थे जैसे केक पर टॉपिंग लगा दी गयी हो. मैंने कहा- मैडम आप कुछ परेशान लग रही हैं?इस पर सुषमा मैडम रोते हुए कहने लगीं- मेरी मां बीमार हैं और उनको पैसों की बहुत जरूरत है. जब मैं वापस आया तब तक डीपी सर का तबादला भी हो गया। नये सर आ गये थे.

बीएफ सेक्स सेक्सी सेक्सी सेक्सीसुमन तो बस ये सुनते ही मुखिया के मूसल से लौड़े पर टूट पड़ी और बड़े मज़े से लंड चूसने लगी. वो तुरंत उठकर जाने लगी, तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और खींच कर उसे अपनी गोद में बैठा लिया.

ट्रिपल सेक्सी वीडियो कॉम

मैं भी जीभ अंदर घुसा घुसा कर मौसी की चूत को गर्म करने में लगा हुआ था. कह रहा था कि आपकी वाइफ ने आकर कहा है कि वो काम नहीं करना चाहती और मेरे दबाव में काम करने के लिए राजी हुई हैं. मैंने उसकी काले रंग की ब्रा भी उतार दी अब वो सिर्फ़ पेंटी में रह गई थी.

मैंने सोचा कि अपने पति का लंड थोड़ी देर मुँह में ले लेती हूँ, तो ये आज मुझे कम चोद पाएंगे. उन्हीं सब बातों को लेकर पांच मिनट पारिज़ा को मैं बातों में फुसलाता रहा, तब जाकर वो इसके बात के लिए राजी हुई. गीता- आह काका आह … अब बर्दाश्त नहीं होता, आप बस डाल दो अपना लंड मेरी चुत में … उफ्फ आह.

सुरेश- अच्छा ये बात है … और कोई आदमी किसी औरत पर चढ़ता है, तो क्या होता है?मीता- तब भी बच्चा होता है … और क्या!सुरेश- बस तुम्हें यही पता है. अंकल नग्न होकर सोफे पर बैठ गए और हम दोनों बियर पीते हुए आराम करने लगे. बंगले का लॉक खोल कर मैं अन्दर आया ही था कि पीछे से मैडम भी अन्दर आ गईं.

अब घुसा दो मेरी चूत में।पापा बोले- नहीं पहले गांड में डालूंगा फिर उसके बाद चूत को मिलेगा. ‘मौसाजी यहां से कहां जायेंगे, क्या करेंगे, शायद आत्मग्लानिवश आत्महत्या ही न कर लें; उसके बाद क्या होगा … कल घर में कोहराम मच जाएगा; हंसता खेलता परिवार नरक बन जाएगा.

सुमन- उफ … कितनी गर्मी है, हम गांव कब तक पहुंच जाएंगे?दोस्तो, ये सुमन है.

डॉक्टर सुरेश के दवाखाने में एक 43 साल की औरत सुलक्खी के साथ एक कमसिन उम्र की लड़की आई. हिंदी में ब्लू फिल्म वीडियो बीएफमालिनी ने अपना पैग ख़त्म करने के बाद गिलास को नीचे फेंक दिया जिसे देख कर मुझे अहसास हो चुका था कि नशा अब दोनों के ऊपर चढ़ कर बोल रहा है. देसी सेक्शमैंने धीरे से उनको दोनों हाथों में लेकर देखा तो काफी वजनदार माल था. फिर मैं सॉरी बोलते हुए वकील के सामने ही झुक गयी और मेरा पल्लू नीचे गिर गया.

मैं- चाची कहां हैं?सुनयना भाभी- वो खाना खाकर अपने रूम में सो गईं, तुम सीधा ऊपर मेरे रूम में आ जाओ.

करीब आधे घंटे तक लगातार मैंने उनकी चूत को चोदा और उनकी चूत में पानी छोड़ दिया. मुझे भी ये अच्छा लगता था कि वो कविता के साथ मेरा रिश्ता जोड़ रही है. काफी देर तक मैं उसकी चूचियों को दबाता रहा और उसके बाद उनको बारी बारी से मुंह में लेकर पीने लगा.

मैंने जल्दी से अपनी चाय खत्म की और उठ कर जाने लगा तो अंकल ने रोक लिया. फिर मैंने उसकी टाँगों को कंधों पर ले लिया और जोर से उसे चोदना शुरू कर दिया. लेकिन सच में बता रही हूँ जब अंकित ने पहली बार मेरी गांड मारी तो मुझे भी बहुत मज़ा आया.

हिंदी फुल्ल सेक्सी विडिओ

उसके लंड का सुपारा मेरी चूत में जा फंसा और मैं दर्द में बिलबिला उठी. मैंने दोनों पैर ज़मीन पर टिका कर अपनी कमर हवा में उठा ली और अपने दोनों चूचे दबाने लगी। विकास एक हाथ से मेरी गांड में अंगूठा अंदर बाहर कर रहा था और दूसरे हाथ से मेरी चूत के दाने को सहला रहा था।इससे मैं इतनी ज्यादा उत्तेजित हुई कि मैंने रुक रुक कर अनगिनत फव्वारे चूत चाटते हुए उसके मुंह पर बरसा दिए। पूरी तरह झड़ने के बाद मेरी कमर धड़ाम से नीचे गिरी. मैंने मस्त सी सफ़ेद ट्रान्सपेरेंट साड़ी पहन ली और पटाखा बनकर निकल गयी। मैं बहुत सेक्सी लग रही थी। लो-नेक ब्लाउज से मेरे दूध बाहर आने के लिए तरस रहे थे और मेरी गांड किसी लंड से चुदवाने के लिए मचल रही थी.

मैंने सरिता चाची की साड़ी ऊपर की और उनकी टांगों को फैला कर देखा कि चाची की चूत एकदम चिकनी थी.

वो घबराए हुए स्वर में बोली- चूऊऊहाआ …इतने में चूहा भी भाग चुका था, लेकिन फिर भी वो मेरे पास चिपकी रही.

[emailprotected]Xxx इण्डिन अंकल सेक्स स्टोरी का अगला भाग:भतीजी संग उसकी सहेलियां भी चोद दीं. उसके गोरे और चिकने जिस्म को देख कर मुझे इतना अंदाजा तो हो गया था कि इसको चूत को चोदने के लिए कोई मर्द कितने भी पैसे देने के लिए तैयार हो जाता होगा. देसी एक्स एक्स एक्स इंडियनकुछ देर बाद मैंने उनकी सलवार भी उतार दी और पैंटी भी निकाल कर अलग फेंक दी.

तभी दरवाजे पर से एक आवाज आई- ये क्या हो रहा है?हमने देखा तो एक आदमी सामने खड़ा था. बाहर अमित रेश्मा के साथ बैठा हुआ था और सानू किचन में काम कर रही थी. इसलिए जब से ही हम इसी रूम में आए हैं, तुम्हें इतना नशा था कि तुम वहीं सो गई थी.

उसने भी देखा और कहा- मैडम जैसे आपके स्तनों की कसावट है, उस पर ये बहुत जंचेगा. मेरी बीवी की गांड कैसे चोदी उसके अब्बू ने!दोस्तो, मैं कामिल अपनी सेक्सी बीबी और उसके अब्बू के बीच की चुदाई की कहानी का आखिरी भाग आपके सामने पेश कर रहा हूँ, मजा लीजिएगा.

महक मेरे हाथ से गुलाब लेते हुए बड़े प्यार से बोली- ओह्ह्ह गुरू … बस इतना कहने के लिए कितना टाइम लगा दिया तुमने … आय लव यू टू गुरू.

मैं भी अलग हो गया और उससे कहा- अब इस पिस्टन का क्या करूँ? इसे भी शांत कर. दोस्तो, मैं पिछले कई सालों से विश्वविख्यात हिंदी सेक्स कहानी की साईट अन्तर्वासना का नियमित पाठक रहा हूँ. मैं उसके सूट के कपड़े को पेट से हटाकर उसके नाजुक से पेट पर घुमाने लगा, जिसका अहसास उसकी ऊपर नीचे होती हुई छाती और बंद हुई आंखें भी बता रही थीं.

সেক্স ক ভিডিও मुखिया गीता के ऊपर से हटा, तो लौड़े के बाहर आते ही खून और वीर्य चुत से बहने लगा. जैसे मैं अपना मुँह चुत के पास ले गया, वैसे सुनयना ने मेरा सर पकड़ा और चुत चाटने से मना करने लगीं.

मुखिया ने आव देखा ना ताव और झट से अपना आठ इंच का लंड उसकी चुत में एक ही झटके में अन्दर तक पेल दिया. मैं लंड को चुत पर रगड़ने लगा, तो सुनयना भाभी कहने लगी कि प्लीज़ और मत तड़पाओ … जल्दी डालो ना … नहीं तो मैं मर जाऊँगी. … ओह्ह ओह्ह ओह्ह्ह्हो डीपर और अन्दर तक पेल साले … मेरा फिर से रस निकलने वाला है.

போர்ன் தமிழ்

प्यासी भाभी की सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी चाहत की यादों में गाड़ी चलाता जा रहा था कि एक भाभी ने हाथ देकर मुझे रोका. वो हंसकर बोला- भाभी, आज पानी की नहीं बल्कि किसी और ही चीज की प्यास लगी हुई है. जब मैं सुरेखा के घर पहुंचा, तब सुरेखा की तेवर कुछ अच्छे नहीं लग रहे थे.

वो रेलिंग पर बाहर की ओर मुंडी निकाल कर मुझसे चुदने का मजा लेने लगी. तब मैंने उसे रोका और बोला- पहले मुझे यहां से निकलने दो, बाहर देखो कोई है?उसने वैसे ही ट्राउजर और पैंटी ऊपर खींची.

उसके मुँह से ये सुनकर मुझमे हिम्मत आ गई और मैं बोला- यार किसी को पता नहीं चलेगा.

अब तक की हॉट वाइफ स्टोरीमेरी हॉट बीवी की उसके अब्बू संग चुदाई- 1में आपने पढ़ा कि मेरी बीवी चुदास से गर्म हुई पड़ी थी और उसके अब्बू उसे चोदने के लिए उसके सामने आ गए थे. उसके बदन से पसीने की गंध आ रही थी जो मुझे उसकी जबरदस्त चुदाई के लिए उकसा रही थी. करीब 5 मिनट उनके होंठों को चूसने के बाद मैंने बोला- यही तो मेरा काम है … आपको खुश करना.

हम दोनों एक दूसरे से चिपक गए और ऐसे ही गले लगाए हमें काफी देर हो गई. अब तक उनको उंगली से होने वाला दर्द खत्म हो गया था और वो भी मजा लेने लगी थीं. लंड अन्दर डालने से पहले मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी कमर को पकड़ कर हल्का सा झटका दिया और दनादन पेलने लगा.

वो बोला कि भाभी आपको कोई तकलीफ़ नहीं होगी, मैं बड़े आराम से चोदूंगा.

सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी में देहाती: मैंने उससे कहा कि तुम्हारी दीदी ने मुझे पैसे दिये थे, ये उसके लिये है, उसको ले जाकर दे दो. मेरे ऊपर की ड्रेस काली थी और लाल रंग की लिपस्टिक मेरे होंठों पर गजब ढा रही थी.

चढ़ तो गई पर उतर नहीं पा रही। प्लीज उतार दो ना।और मैं रोने का नाटक करने लगी।अमित ने दो मिनट रूकने को बोला और लोहे की एक सीढ़ी लेकर आया. जब भाभी गाड़ी चला रही थीं, तभी अचानक से उन्होंने ब्रेक मारा और मैं उनके ऊपर को सरक गया और मेरे होंठ उनकी नंगी पीठ पर चिपक गए. फिर उससे अगले दिन शाम के टाइम मुझे सुषमा मैडम का फ़ोन आया कि उनके घर मैं गैस के सिलेंडर की कुछ प्रॉब्लम आ रही है.

24 घंटे उनके दिमाग में चुदाई ही चलती रहती है।मैं भी कोई सती-सावित्री नहीं हूं.

वो एकदम से पीछे हटकर बोली- क्या कर रहे हो! तुम्हारे भाईसाहब देख लेंगे. बंगाल वाली लड़कियां किसी फैमिली में बच्चों और एक बुजुर्ग माता की देखभाल किया करती थीं और 2 घंटे पार्लर में काम करती थीं. शायद कुंवारी लड़कियां नहाते समय अपनी चूतों को रगड़ कर साफ नहीं करती हैं, या सिर्फ रोज़ी जैसी लड़कियां!!बहरहाल, मैंने उसकी चूत चाटना शुरू कर दिया.