हिंदी में साड़ी वाली सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,வீடியோ கால் செஸ் வீடியோ

तस्वीर का शीर्षक ,

राजस्थानी नंगा फोटो: हिंदी में साड़ी वाली सेक्सी बीएफ, चाची मेरा लंड देख कर हैरान थीं कि इतना मोटा और लंबा लंड कैसे हो गया.

जापान सेक्सी जापान सेक्सी

मैंने प्यार से उसका हाथ अपने हाथ में लेने की कोशिश की, तो उसने मेरा हाथ छिटक दिया. शिवांगी जोशी सेक्सीऔर झड़ गई।अब मैंने उनकी मोटी मांसल जाँघों को अपने कंधे पर लिया और मोटा गरम लण्ड का सुपाड़ा उसकी चूत के छेद में हल्का सा घुसाया।उसके मुँह से ‘आहह…’ निकला.

अगले दिन सुबह जब मैं उठा, तो मेरी बहन कुछ काम कर रही थी और मम्मी नाश्ता बना रही थीं. भाभी हॉट सेक्सी मूवीकिसी की नई-नई शादी हुई है और वाइफ को ये डर है कि जब सेक्स होगा तो बहुत दर्द होगा.

अब मैं मनीष की बातें सोचने लगा तो सही में मुझे मेरी भाभी माल लगने लगीं.हिंदी में साड़ी वाली सेक्सी बीएफ: ’ की आवाज़ आई।इस आवाज और लण्ड पर गीलापन महसूस करके मैं समझ चुका था कि उसकी सील टूट गई है.

गोली का नाम सुनते ही पायल झट से बैठ गई और पुनीत को घूरने लगी।पायल- ओह्ह.इतना सुन कर मुझे ऐसा करने में काफ़ी लाज़ लग रही थी, मैंने अब सबसे पहले अपनी आँखें ही बंद कर लीं.

सेक्सी औरतों का फोटो - हिंदी में साड़ी वाली सेक्सी बीएफ

जब मैं कॉफ़ी पी रहा था तो मेरी नजर भाभी गांड की तरफ गयी, जो कि काफी उठी हुई है.जो सही-ग़लत नहीं समझ रहा था।मैं धीरे-धीरे उनके ब्लाउज का बटन खोलने लगा। वो अभी भी सो रही थीं.

मैंने लंड को नीचे सरका दिया और उसके ऊपर लेट गई और धीरे-धीरे उसके लंड का वीर्य मेरी चूत से निकल कर उसके लंड पर गिरने लगा।आगे की कहानी अगले भाग में।आपको कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बताइएगा और हाँ. हिंदी में साड़ी वाली सेक्सी बीएफ अन्तर्वासना के मेरे सभी दोस्तों को मेरा यानि कि अरुण का नमस्ते।आज बहुत दिनों बाद मैं एक बार फिर आप सभी से मुखातिब हूँ.

ज्यादा उत्तेजना की वजह से दोनों ही कभी कभी बीच बीच में अपना मुँह एक दूसरी की चूत में जोर से दबा रही थी.

हिंदी में साड़ी वाली सेक्सी बीएफ?

इसलिए मुझसे सारे लोग काफी खुश रहते थे।हम जिस किराये के मकान में रहते थे उसमें दो हिस्से थे. तैरते समय मैं बार बार उस औरत को देख रहा था और थोड़ी देर के बाद देखा कि वो औरत भी मुझे देख रही है और हल्की हल्की मुस्कुरा रही है. स्वाति ने ब्रा नहीं पहनी थी। शायद इसलिए कि दरवाज़ा खराब है जल्दी में सिर्फ टॉप और कैपरी पहन कर आ गई थी।मैंने उसका टॉप पूरा उसके बदन से निकाल दिया, उसकी चूचियाँ एकदम गुलाबी और बहुत प्यारी थीं।मैंने उसकी चूचियों को दोनों हाथों में भर लिया और चूसने लगा.

उसके बदन की कंपकपाहट से मैं समझ गया अब वो झड़ने वाली है और वो जोर से कांपी और वो झड़ गई।उसकी माँसल जाँघों के बीच में मेरा सर दब गया था. और मेरे साथ 69 की कंडीशन में लेट गया। मेरे मुँह में उसका लंड और उसके मुँह में मेरी चूत थी।मेरी चूत भी पानी छोड़ रही थी। मैंने यह महसूस किया कि उसका लंड भी कुछ बड़ा हो गया था।ये सब करते हुए काफ़ी देर हो गई थी. ’ उन्होंने अत्यधिक गुस्से से कहा।मैं वहाँ रुकता तो मामला और बिगड़ सकता था.

मेरी उम्र इस वक्त करीब 42 वर्ष की है लेकिन यह बात अब से 10 साल पुरानी है. दूसरे सीन में वो लंड चुसवाता हुआ पल्लवी की गांड पर तेज तेज थप्पड़ भी बरसा रहा था, जिससे पल्लवी के चूतड़ एकदम लाल हो गए थे. पहले मैंने धीरे से मामी की कमीज़ उतार दी और उनकी चूचियों से खेलने लगा.

बस तुम जल्दी से लन्च करा दो और वादा करता हूँ कि रात में तुम्हारी चूत की सारी गरमी अपने लण्ड से चोदकर निकाल दूँगा।’यह कहते हुए पति मुझे अलग करके कपड़े निकाल कर फ्रेश होने बाथरूम में चले गए।मैंने रसोई में जाने के लिए जैसे ही दरवाजा खोला. प्रणाम दोस्तो, कैसे हो सब आप सब!मेरी पिछली कहानीदीदी जीजू का दिलवा दोमें आपने पढ़ा कि मेरी दीदी की शादी के बाद जब उसने मुझे अपनी सुहागरात की कहानी सुनायी और जीजू के शानदार, जानदार लंड की तारीफ़ की तो मैंने अपने मन में धार लिया कि मैं जीजू का लंड लेकर रहूँगी.

तभी अचानक किसी ने मेरे कमरे का दरवाजा खटखटकाया तो हम सही हुये और मैंने दरवाजा खोला.

मैं बिस्तर पर साइड में बैठ गया। हल्की-हल्की सर्दी होने के कारण उसने कहा- रजाई में पैर ढक लो.

केवल अनु लाइट जला कर सोने चली गई।अनु बीच-बीच में मुझे आवाज़ दे रही थी. इससे पहले मैं सिर्फ़ अन्तर्वासना से कहानियां पढ़ता था और अपने आपको उत्तेजित करके मुठ मार लिया करता था. मैंने ज्योति को पीछे से ही अपनी बांहों में भर लिया और उसके चुचे पकड़ कर पीछे से ही मसलने लगा.

और फिर हम एक-दूसरे को चुम्बन करने लगे। उसे किस करते वक़्त मेरा एक हाथ उसके मम्मों पर चला गया. मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं हवा में उड़ रहा हूँ।लंड चुसवाने का मजा वही जान सकता है. लेकिन मेरे लिए वो आवाज़ सुनी ना सुनी एक बराबर थी। फिर इस बार किसी ने मुझे हिलाकर जैसे नींद से जगा सा दिया.

मेरे देवर ने मेरी चूत को बहुत देर तक चाटा जिससे मेरे अन्दर की सेक्स की आग बाहर निकल गयी और मुझे अपने देवर से चुदवाने का मन करने लगा.

झांकते ही उसके दिल की धड़कने इतनी बढ़ गईं कि उसकी आवाज उसे खुद सुनाई देने लगी. मैं भी उठकर चाचा के लण्ड को मुँह में लेकर सुपारे पर जीभ फिराने लगी।चाचा मेरे सर को पकड़ कर मेरे मुँह में सटासट लण्ड आगे-पीछे करते हुए मेरे मुँह की चुदाई करते रहे और मैंने जी भर कर चाचा के लण्ड को चूसा।फिर चाचा ने मुझे वहीं दीवार के सहारे झुकाकर बोले- रानी अब चूत मार लेने दो. मयूरी- तो यही मौका है… अपने बेटों का लंड अपने चूत में लेने का… छोड़ना मत…शीतल- पक्का… तू तैयार हो और कॉलेज जा.

दस मिनट की मेहनत के बाद उसकी चूत का पानी रिसने लगा और उसके लंड हिलाते हिलाते मेरा भी लंड उसके हाथ में छूट गया, मैं झट से उसकी चूत में मुँह लगा कर उसके चूत का पानी चाट गया, दोनों का पानी निकल जाने के कारण थोड़ा थक गए थे. मीता की गोल गहरी नाभिकूप को देखकर मैं खुद को रोक नहीं पाता तो उसको नाजुक खमदार कमर को हाथों से थामकर ज्यों ही गहरी नाभिकूप पर अपने होंठ रखता और एक गहरा चुम्बन अंकित करता तो उसकी पतली कमर कमान की तरह तन जाती और एक लम्बी मादक सीत्कार उसके होंठों से खारिज होती तो मेरी वासना आनन्द के अलग ही आसमान में गोते लगाती. ताकि वो पेट से ना हो सके।फिर थोड़ी देर बाद हम घर को निकल गए।मित्रो, यह थी मेरी कहानी.

क्योंकि उसका जन्म ईरान में हुआ था।हम दोनों में बहुत अच्छी दोस्ती हो गई और हम एक-दूसरे को छूने का बहाना ढूंढते रहते थे। एक दिन ऑफिस से वापिस जाते समय बहुत तेज बारिश शुरू हो गई।उस दिन उसकी तबियत कुछ ठीक नहीं लग रही थी तो मैंने उसे घर छोड़ने का निर्णय लिया।अब हम दोनों बारिश में भीगते हुए उसके घर पहुँचे.

मेरे भैया ने जब उनको मेरे कम्प्यूटर कोर्स के बारे में बताया तो उन्होंने तुरन्त हां कर दी, उल्टा वो तो काफी खुश भी हो गए थे. मैं उस औरत की खूबसूरती से बहुत ही प्रभावित हो गया था और आंखें फाड़ फाड़ कर उसको देख रहा था.

हिंदी में साड़ी वाली सेक्सी बीएफ क्योंकि ये उनका गाण्ड मराने का पहला अनुभव था। फिर 5 मिनट रुक कर मैंने धक्के लगाने शुरू किए और गाण्ड में ही झड़ गया।फिर दोनों एक-दूसरे के साथ लेटे रहे. मैंने अपना लौड़ा उसकी चूत में पेल कर मैंने उसकी चूत के परखच्चे उड़ाने शुरू कर दिए.

हिंदी में साड़ी वाली सेक्सी बीएफ पहली बार किसी ने मेरे हाथों पर किस किया था।भाई- देखो किसी को कुछ पता नहीं चलेगा. प्रिया के इतना बोलने की देर थी कि मैंने उसको कस के पकड़ कर दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और अब उसके कान के पीछे के हिस्से को चूमने और चूसने लगा.

डेस्क की तलाशी लेतीं।एक दिन मैंने गुस्से से उनसे पूछ लिया- आप सिर्फ मेरी तलाशी क्यों लेती हो? क्लास में और भी तो स्टूडेंट्स हैं.

बीएफ भाभी की

मैंने जल्दी से अपने हाथ में रंग लिया और जा कर पीछे से भाभी को पकड़ कर उनके गालों में रंग लगा दिया. लेकिन मेरे लिए वो आवाज़ सुनी ना सुनी एक बराबर थी। फिर इस बार किसी ने मुझे हिलाकर जैसे नींद से जगा सा दिया. मैंने शीतल की सलवार का नाड़ा खोलकर उसको नंगी कर दिया, उसकी पैंटी को भी उतार दिया। पहली बार उसकीचूत के दर्शनहुए.

और भागती हुई मेरे पास आई और मुझे फिर से गले लगाती हुई बोली- आई लव यू सूरज. वह भी सिसकारियां भरने लगी- अमित आह आह!और मुझे अपनी बांहों में भर लिया. मेरी बात सुनकर भैया थोड़ा चौंक से गए और कहने लगे कि अभी तक तो तुझे उनके‌ घर रहना पसंद नहीं था, अब क्या हो गया?मैंने भैया को यह बात कहकर गलती तो कर दी थी, मगर फिर मैंने बात को सम्भालते हुए भैया को बताया कि अब उनके घर रहकर ही मुझे कोर्स करना है तो एक दो दिन पहले जाकर अपना सामान आदि ठीक से लगा लूंगा और उनके परिवार के हिसाब से वहां रहने‌ के लिये अपने आपको तैयार भी कर लूंगा.

प्रिय अन्तर्वासना पाठकोफरवरी महीने में प्रकाशित कहानियों में से पाठकों की पसंद की पांच कहानियां आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए….

मेरे जीजू को मेरी गांड बहुत पसंद है और अब तो वो मेरी गांड को भी कभी कभी जोर से दबा देते हैं. लौड़ा सरसराता हुआ अन्दर चला गया।वो ज़ोर से चिल्लाने की कोशिश करने लगी. आज मैंने देखा, वो नहाने के बाद जब बेडरूम में कपड़े चेंज कर रही थीं, तो पूरी नंगी थीं.

’चाचा ने मुझे बाँहों में भर लिया। अपने लौड़े का दबाव मेरी बुर पर देते हुए मेरे होंठों को किस करने लगे।मैं भी चाचा को तड़फाने का सोच कर बोली- वह देखो कोई आ गया है. मेरी बॉडी साइज़ एकदम मीडियम आकार की है और लंड की साइज़ भी नॉर्मल ही है. तो मैं आपके योनि छिद्र अर्थात चूत का समग्र दर्शन कर उसका चूषण कर सकता हूँ.

मेरे अन्दर भूख इतनी ज्यादा थी कि भाभी को मैंने चार बार चोदा।फिर भाभी बोली- अब जल्दी हटो. लगता है तुम्हारा ही पम्प ख़राब हो गया है।मैंने उनकी बात को समझते हुए मौका देखकर चौका मारा- चाची ख़राब होने के लिए पंप का इस्तेमाल होना जरूरी है। और मेरा तो अभी तक यूज ही नहीं हुआ है।इस पर चाची फट से बोलीं- ठीक है.

तो उसने मेरा हाथ पकड़ते हुए कहा- आप चाहें तो मेरी उदासी दूर कर सकते हैं।मैंने कहा- नहीं. ’मेरा इतना कहना था कि चाचा मेरी जाँघों के बीच मुँह डाल कर मेरी मुनियाँ को चाटने लगे। अपनी चूत चाचा की जीभ का स्पर्श पाकर मैं गनगना उठी, मेरे मुँह से सिसकारी फूट पड़ी- आई सीईईई. प्रिया मुझ पर गुस्सा तो थी मगर वो काफी उत्तेजित भी थी, इसलिए कुछ देर मेरे होंठों को जोरों से चूसने और काटने के बाद उसने मेरे होंठों को छोड़ दिया और अपने पैर मेरी कमर के दोनों तरफ करके मेरे ऊपर बैठ गयी.

क्या बताऊं दोस्तो कि कितना मजा आ रहा था! मन तो हो रहा था कि वहीं उसके पास सो जाऊं और उसको अपनी बांहों में भर लूं लेकिन ट्रेन में होने की वजह से मैंने ऐसा कुछ नहीं किया; बस अपने हाथों से कभी उसके गालों को कभी उसके स्तनों को दबाता।मैंने प्राची के कान में धीरे से कहा कि वह थोड़ा ऊपर आ जाए.

मैंने फिर अपने लंड को साली की चूत में डालना चाहा तो वह मारे डर के अंदर नहीं जाने दे रही थी. तो दोबारा नहीं करना क्या आपको?भाई- डरो नहीं दीदी, तेरी गाण्ड इतनी प्यारी है. भाभी का फ़िगर तो बस ऐसा कि साला मेरा जूस हलक से नीचे नहीं उतर रहा था.

लेकिन वो उछल पड़ी और मना करने लगी। पर फिर भी मैंने अपनी एक उंगली उनकी गाण्ड में घुसा दी और अन्दर-बाहर करने लगा। उन्होंने अपनी गाण्ड को हिलाना शुरू किया।फिर 5 मिनट बाद मैंने अपने सुपारे को उनकी गाण्ड के छेद पर रख कर जोर का धक्का लगा दिया, वो चिल्ला उठी. रीतिका भाभी की उम्र 26 साल है और उसका फिगर 34बी 30 36 है। वह दिखने में बुहत ही हाट लगती है।बात है मनाली में मेरे छोटे भाई और भाभी के हनीमून जाने की जब मैंने रीतिका के साथ लेस्बीयन सेक्स किया। मुझे पापा ने भाई के साथ इसलिये भेजा था कि मैं वहाँ बहुत बार जा चुकी थी।हम वहाँ 23 तारीख को पहुँच गये थे.

मैंने अपने पति की तरफ़ देखा तो उन्होंने बोलना शुरू किया- यह प्लान तुम्हारे लिये मैंने और विकी की मैनेजर ने बनाया था. वो नीचे से उछल रहा था और मालती ऊपर से खुद को नीचे कर के अन्दर ले रही थी. पर उसको कोई असर नहीं हुआ।फिर उसने मेरी चूत में धक्के मारने शुरू किए.

हिंदी ऑडियो सेक्स बीएफ

फिर मैं जानबूझ कर ऐसा करने लगा।आंटी ने भी मुझे नहीं रोका।मैं मजा लेता गया.

थोड़ी देर मयूरी की रसीली चूत को चाटने के बाद, अब तक मयूरी की चूत ने 3-4 बार पानी छोड़ दिया था और उसकी माँ ने उसकी चूत के पानी का एक-एक बून्द अपनी होंठों और जबान से चाट-चाट कर साफ किया. फिर कुछ टाइम सोच कर अपना एक पैर उसके मूढ़ा पर रख दिया और धीरे से उसकी गांड से पैर लगाया. हम लोग पूरी तरह तो नहीं ऊपरी तरह से तो मजा ले सकते हैं। प्लीज बहू साथ दो ना.

नीचे उसने नीले रंग की पतली सी पैंटी पहनी हुई थी, जो कि उसकी इस सफेद पारदर्शी नाइटी में साफ दिख रही थी. कि इतने में मुन्ना अंकल ने अपनी दो उंगलियां मेरी चूत में जोर से घुसा दी, सट से उनकी उंगलियां अंदर घुसी और मैं राज अंकल से लिपट गई, उनके ऊपर मेरे हाथ अपने आप चले गए, मैंने जोर से अपनी बांहों में राज अंकल को कस लिया और इतनी जोर से उनके होंठों को चूमा, चूसा कि उनके होंठ में मुझे पता भी नहीं चला और मेरे दांत गड़ गए. नित्या मेनन सेक्सकिसी ने सही फ़रमाया है:ना चोदो किसी को इतना …कि उसकी चूत तुम्हारी कमजोरी बन जाए;उसे चोदो कुछ इस तरह …कि तुम्हारा लंड उसके लिए जरूरी बन जाए.

मेरा पति दूसरी औरत के चक्कर में मुझको 2-3 साल से चोदना छोड़ दिया है।मैंने उसे गले से लगा लिया, वो मुझसे लिपट गई, फिर मैंने उसे चुम्बन किया तो अब बहुत जोरदारी से उसने मेरा साथ दिया।मैं उसके चूचे भी सहला रहा था और उसकी बुर में उंगली फिरा रहा था, वो फिर से मेरा साथ देने लगी।मैंने उसे धीरे से पलंग पर लेटा दिया और उसके पैर खोल कर उनके बीच में आ गया।अब मैंने अपना लण्ड बुर के छेद पर टिका कर धीरे से दबाया. इसस्स … उफ्फ्फ … आआह!”उरोजों को किनारों से सहलाते हुए मैंने अपने होंठों को एक स्तन की गुलाबी नोक पर रखा और अपने दांतों से उन्हें कुरेदने लगा और इसी वक्त मेरा दूसरा हाथ दूसरे उरोज को हल्के हल्के मसलने लगा था.

लेकिन अंकल मेरे सिर को ज़ोर से पकड़े थे … जिस वजह से मैं कुछ कर नहीं पा रही थी. मेरे मोबाइल पर गाने नहीं लग रहे हैं।मैंने देखा तो मेमोरी कार्ड ठीक से इन्सर्ट नहीं हुआ था. इसमें मेरा लंड नहीं जा पाएगा।मैंने हँसते हुए हाथ बड़ा कर लंड पकड़ा और अपनी चूत के छेद पर लगा कर कहा- चल अब धक्का दे.

मैं चाची के उन मम्मों को छिपी निगाहों से देखता रहता था, पर चाची को इस बात का पता नहीं लगता था. दिल तो नहीं भरा था चुदाई से, मगर उसका टाइम हो चुका था, इसलिए उसने बाय बाय कर दी. मैं अपना लन्ड उसकी चूत में उतारता ही जा रहा था, मैंने अपने टट्टे तक उसकी चूत के साथ सटा दिए और मेरा लौड़ा उसकी बच्चेदानी तक उतर गया।वो पहले तो चीख रही थी परन्तु बाद में मजेदार सिसकारियाँ भरने लगी और कहने लगी- उ…ई… आ.

उधर प्रीति को भी कुछ समझ में नहीं आया और वह मीठानंद की बांहों में जाकर उनसे चिपक गई.

फिर हम सब साथ मिलकर नहाए और खाना खाया।मैंने गीत और संजय से विदा ली और आ गया।गीत अब हमसे चुदाई करवा कर काफी खुल चुकी थी, हममें कोई भी शर्म नहीं रही थी और उसे गालियाँ देना और सुनना बहुत पसंद है, गीत को हमारी चुदाई से बहुत ज्यादा मज़ा आया, उसके बाद तो मानो वो चुदवाने के लिए तड़प उठी कि ऐसी चुदाई उसकी रोज़-रोज़ हो।एक दिन गीत का मूड बहुत सेक्सी था और उसने कॉल किया. उसके हाथ के स्पर्श से मेरा लंड एकदम खड़ा हो गया था और बाहर निकलने के लिए तड़प रहा था.

’ की आवाजें आ रही थीं।करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद मेरा माल निकलने वाला था।उस दौरान वो दो बार झड़ चुकी थीं, मैंने उनसे पूछा- मेरा निकलने वाला है. मैं दर्द से छटपटा रही थी, पर अंकल की बांहों की मजबूती से फंसी हुई थी. अभी तक की इस मस्त चुदाई स्टोरी में आपने जाना था कि जगत देव अंकल के मोटे लंड ने मेरी चूत से खून निकाल दिया था और इस बात को राज अंकल ने सबसे कहा कि मेरी चूत की सील जगतदेव अंकल ने ही तोड़ी है.

अब तक की इस मस्त सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि प्रिया ने मुझे फिर से उसके साथ सेक्स करने के लिए मजबूर कर दिया था और वो मेरे कपड़े उतारने के लिए उन्हें फाड़ने पर उतारू थी. कोई रोमाँटिक इंग्लिश मूवी आ रही थी।थोड़ी देर बाद मूवी में चूमा चाटी का सीन आ गया. ’ की आवाजें निकालने लगी।थोड़ी देर में ही उसकी पकड़ टाइट हो गई और उसकी चूत ने अपना पहला कामरस छोड़ दिया।मैं फिर भी नहीं रुका.

हिंदी में साड़ी वाली सेक्सी बीएफ भाभी एक्सपर्ट थी, उसने मुझे बहुत सारी बातें सेक्स के बारे में सिखाईं और मुझे एक्सपर्ट चोदू बना दिया. वो भी मेरा साथ देने लगी। वो आज भी टी-शर्ट और स्कर्ट पहने थी। मैंने उसे पलंग पर इस तरह से लिटाया कि उसके पैर ज़मीन पर ही थे और पीठ पलंग पर।मैंने उसकी टी-शर्ट ऊपर कर दी.

बीएफ हिंदी में बढ़िया वाली

प्रिया के गले की चैन को तो मैंने अच्छी तरह से पहचान लिया था, जिसको अब उसने पहनना बन्द कर दिया था. तब तुझे कोई प्रॉब्लम तो नहीं होगी?मैंने कह दिया- चल तू पटा ले, अगर वे पटती हैं. इसी तरह दो तीन बार मेरे लंड को अपने थूक से गीला कर करके उसने अपनी ब्रा से बिल्कुल साफ कर दिया.

मैंने कहा- देख ले अपनी रीमा दीदी की चूत।मोनू आँखें फाड़-फाड़ कर देखने लगा और बोला- दीदी आपका छेद तो बहुत छोटा है।मैं बोली- इसमें 6 महीने से कुछ भी घुसा नहीं है. फिर जब रात को जब मैं घर आया, तो उस वक्त करीब रात के 11:30 बज गए थे. इंग्लिश सेक्सी नंगी ब्लूसो मैंने उसी जगह एक रूम रेंट पर ले लिया था।मैं इस कमरे में अकेला ही रहता था.

पर मैंने भी ठान रखी थी कि इस परीक्षा का सामना लंड की तरह डट कर करूंगी।उसने मेरी कमर के नीचे तकिया रख दिया और मेरे चूतड़ों को पकड़ कर थोड़ा ऊपर उठा लिया और अपना लंड मेरी चूत से सटाया और फिर आहिस्ता-आहिस्ता अपना लंड मेरी चूत में प्रवेश करने लगा। जैसे ही उसका लंड एक बार पूरी तरह से अन्दर घुस गया.

शायद पूल गेम खेल रही थी अचानक मैं उसके कमरे में पहुँचा था और उसे पीछे से डरा दिया।वो घबरा गई और चीख पड़ी। उसके बाद उसने मुझे बिस्तर पर धक्का दिया और मैं बिस्तर पर गिर गया।अब उसने पूछा- क्यों डराया मुझे?मैं हँसने लगा।उसके बाद उसने पूछा- क्या हुआ. थोड़ी देर बाद मुनीर भी तारा की योनि के पास आ गयी और अब वो माइक के साथ बारी बारी से तारा की योनि चूसने और चाटने लग गई थी.

जिसकी तलाश में मैं बहुत सालों से था।उस दिन मम्मी और पापा किसी काम से बाहर गए हुए थे। घर में मेरे और मेरी बहन के अलावा और कोई नहीं था।मेरी बहन करीब दोपहर के दो बजे नहाने के लिए बाथरूम में गई हुई थी और रोज़ की तरह वो आज भी अपने कपड़े बाहर ही छोड़ गई थी। जब वो नहा कर बाहर आने ही वाली थी. वो भी मेरा साथ देने लगी।मैंने एक हाथ से उसकी ब्रा का हुक खोल कर ब्रा को अलग कर दिया।क्या चूचे थे उसके. फिर मैं तो एक इन्सान था और वो भी अपनी भाभी की चूत का दीवाना।मैंने भी देर न करते हुए उन्हें अपने आप पर खींच लिया और उनके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें चूमने लगा। कभी उनकी जीभ मेरे मुँह में तो कभी उनकी मेरे मुँह में.

अकेली औरत देख कर इसके मन में गंदे विचार आते हैं। इसने जरूर कुछ ना कुछ तो किया ही होगा।सन्नी ये बात बोलते वक्त निधि को घूर रहा था और उसकी हालत देखकर वो समझ गया कि इससे बात उगलवाना आसान है.

मुझे नींद नहीं आ रही थी। बार-बार मेरा लण्ड खड़ा हो जाता था। आधी रात को मैं उठा और पेशाब करने चला गया और जब वापस आया तो देखा कि चाची सो रही थीं. हम एक दूसरे के शरीर की हसरतों को, अहसासों को शरीर की चाहत को मन की गहराई से बिना कहे समझने लगे थे. मन कर रहा था कि एक-दूसरे में समां जाएँ।जब दो प्यार भरे दिल पहली बार मिलते हैं.

ब्लू फिल्म सेक्सी देहाती मेंवह चपड़-चपड़ चाटने लगा। शिवम उसके सामने बैठ कर दोनों हाथों से उसके दोनों स्तन मसलने लगा जबकि उसके इशारे पर मैं फिर उसे अपना लिंग चुसाने लगा।बस कर रे. जब मेरा दर्द कम हुआ तो सरबजीत ने एक और धक्का मार कर पूरा लंड मेरी गांड में पेल दिया.

एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो ब्लू पिक्चर

पूजा ने मुझसे मेरी पर्सनल लाइफ के बारे में कुछ सवाल किए और अपनी जिंदगी की बहुत सारी बातें मुझसे शेयर की. करीब 15 मिनट में वो बहुत ज्यादा गर्म हो गई और वह चिल्लाने लगी- आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… दीदी प्लीज कुछ डालो!मैं और जोर से चाटने लगी और उसने मेरे सर को पकड़ लिया और अपनी चूत में धक्का मारने लगी. क्योंकि उसका जन्म ईरान में हुआ था।हम दोनों में बहुत अच्छी दोस्ती हो गई और हम एक-दूसरे को छूने का बहाना ढूंढते रहते थे। एक दिन ऑफिस से वापिस जाते समय बहुत तेज बारिश शुरू हो गई।उस दिन उसकी तबियत कुछ ठीक नहीं लग रही थी तो मैंने उसे घर छोड़ने का निर्णय लिया।अब हम दोनों बारिश में भीगते हुए उसके घर पहुँचे.

तभी राजीव अंकल मेरी पीठ पर बेहोश की हालत में चिपक कर मुझे चूमने लगे और बोले- वन्द्या थैंक्स … आज मुझे तेरी गांड चोदने में जो संतुष्टि मिली, पूरी जिंदगी में कभी ऐसी सेक्सी चुदाई नहीं मिली, ना ऐसा मजा मुझे मेरी बीवी को चोदने में मिला, न कभी और बाहर वालियों को चोदने में मिला. मेरी चूत पानी छोड़ने लगी, मेरा देवर मेरी चूत के पानी को पी रहा था और मेरी चूत को चाट रहा था. उन्होंने अपना मुँह मेरे लंड पे रख के पानी निकाला और मैं पूरा पानी पी गई.

ट्रेन में कोई सीट खाली ना होने की वजह से उसे कोई कंफर्म सीट नहीं मिली तो मैंने उससे कहा- आप चिंता मत कीजिए और आप आराम से यहां बैठ सकती हैं. 3-4 मिनट के बाद उसे सीधा करके सामने से पैर उठाया और चूत चुदाई शुरू कर दी, फिर दोनों पैर हवा में उठा कर अपनी कमर में क्रॉस करवा कर भीगी बरसात में चुदाई का मज़ा ले रहे थे. मी प्रथमचा लंड जसजसा चोखत होते तो उसासे देत माझ्या तोंडात लवडा पूर्ण घुसवण्याचा प्रयत्न करू लागला.

तब मैंने थोड़ी सी हलचल की और उसकी चूत में अन्दर डाल कर अपनी उंगली चलाने लगा. बातों-बातों में भाभी ने पूछ दिया- अजीत क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेण्ड नहीं है?मुझे हल्का सा झटका सा लगा.

सिम्मी इतनी वासना और मस्ती में आ चुकी थी कि मैंने कब अपना अंडरवियर उतार फेंका, उसको भनक भी नहीं लगी.

वो उठ कर बैठ गई और मेरे पैर पकड़ते हुए बोली- भैया, प्लीज़ गांड मत मारो. बाथरूम सेजब मैं घर आने के लिए निकल रहा था तो रेवती बोली- सरस, आज तो रविवार है आपकी छुट्टी भी होगी, तो आप आराम से फ्रेश होकर खाना खाकर चले जाना. वीडियो सेक्सी खुल्लमतो मेरा लंड उसकी चूत के मुँह में लग रहा था। वो भी वहाँ से हिलना नहीं चाहती थी।मैंने कहा- अंकु. गाण्ड भी लाल-लाल हो गई थी, उससे उठा भी नहीं जा रहा था, उसके शरीर पर सब जगह वीर्य के धब्बे पड़े थे.

इतने में मैंने उनके सारे कपड़े उतार दिए और बिस्तर में पटक कर उनके मम्मों को चूसने लगा। धीरे-धीरे में उनकी झांटोंदार चूत में अपना मुँह ले आया, मैं उनकी दोनों टाँगें फैला कर चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा।जैसे मैंने जीभ चूत के मुँह पर रखी.

लग रहा था कि मार दूँ वहीं पर लेकिन नहीं मार सकता था।हमारी चुदाई अधूरी रह गई थी।फिर से वही चलता रहा. पर तब तक देर हो चुकी थी और मेरा सारा पानी स्वाति की चूत में छूट गया।मैं भी इतनी प्यारी चूत चोदकर निहाल हो गया। मैं स्वाति के ऊपर से उठा और उसको देखने लगा। नंगी लेटी हुई बहुत ही सुन्दर लग रही थी।मैं नंगा ही उठा और बाथरूम में चला गया। मुझे बड़ी ज़ोर से पेशाब लग रही थी. और तू चिंता मत कर कल तुझे प्रेगनेंसी वाली टेबलेट ला दूंगा, तुझे कोई दिक्कत नहीं होगी.

और इसी को सुनिश्चित करने के लिए एक बार मैंने उससे ओरल सेक्स की इच्छा जाहिर की कि मैं उसके कामरस को फिर से अपनी जीभ से चूसना चाहता था और यह इच्छा मैंने बड़े ही प्रबल तरीक़े से मीता के सामने रखी थी. मैंने सोचा इतना अच्छा मौका मिला है और मैं बजाए इसे चोदने के, सो रहा हूँ. पर फिर भी मैं जानबूझ कर पीड़ा होने का नाटक कर रहा था।‘तुम्हें अब दर्द नहीं होता ना?’ टीचर ने मेरे खुले लण्ड को देखते हुए पूछा।‘होता है.

ब्लू फिल्म बीएफ एचडी बीएफ

मेरे मामा के घर मामा-मामी और उनकी दो बेटियाँ हैं उनकी सिर्फ दो बेटियां आनवी और अनु हैं. आप जाईए और देखिए कि वह कहाँ है?मित्रो, इसके बाद क्या हुआ क्या संतोष भी. डैड ने मॉम की गांड पर जैसे ही लंड रखा, वो उचक कर बोलीं- गड़बड़ नहीं करना.

जल्दी करो।मैंने नीचे शाल बिछाया और उनको पेट के बल लिटा दिया और उसकी उभरी हुई मोटी मांसल गाण्ड को चाटना चालू कर दिया।अब भाभी की सीत्कार निकल रही थी- आ.

कुछ ही देर में फर्स्ट टाइम सेक्स का दर्द काफूर हो गया और उसे भी भी लंड का मजा आने लगा.

मैं उसके होंठों को होंठों में पकड़ लेता जिससे उसकी आवाज बाहर निकल ही नहीं पाती थी। दस-पंद्रह मिनट तक ऐसे ही चलता रहा, अब मेरा लण्ड सब्र खोता जा रहा था, मैंने उसकी कमर पर हाथ फेरते हुए उसके पेटीकोट का नाड़ा झटके से खोल दिया और दूसरे ही पल उसके होंठों को होंठों में लेते हुए ब्लाउज के बटनों पर हाथ रखते हुए झटके से खींच दिए और उसकी चूचियों के निप्पलों को सहलाने लगा।वह चूचियों पर हाथ पड़ते ही ‘सिस्स्स्स. उन्होंने जैसे ही दबाव बनाया, मुझे बेहद दर्द होने लगा और राज अंकल का लौड़ा गांड से फिसलकर बाहर हो गया. मोटी आंटी सेक्सी फोटोफिर पिंकी ने गुडनाईट कहते हुए एक लम्बा सा चुम्बन किया और कॉल काट दी।दोस्तो, आगे मैंने कैसे सोनी को पूरी रात चोदा.

तभी विकास के मुँह से डगमगाते हुए शब्द निकले- दा…दा… दादा जी… आआआप…!उफ्फ़ सॉरी सॉरी दोस्तो, मैं आपको अपने बारे में तो बताना भूल ही गयी. मैं- किसी को क्या पता चलेगा और तुम बेकार का डर रही हो।कह कर मैं उसके होंठों को फिर से चूसने लगा। ममता ने भी अपना जिस्म ढीला छोड़ दिया। मैं समझ गया कि अब वो मेरे लण्ड के लिए तैयार हो गई है। मैंने उठ कर अपनी पैन्ट उतार दी। अब मेरे जिस्म पर सिर्फ एक फ्रेंची थी. हमारी डील पक्की हो गई।उन्होंने मुझे कांट्रॅक्ट के पेपर दिखाए और मुझे प्रमोशन लैटर भी दिया जिसमें मेरी उम्मीद से ज़्यादा पगार थी।मैं बहुत खुश हुई.

पर आपका?चाची बड़े प्यार से बोलीं- मुन्ना अब तेरी बारी है।ऐसा कहकर वो मेरे मुँह पर आकर बैठ गईं। मेरे चेहरे के दोनों और अपने जाँघें फैलाए हुए चाची ने चूत मेरे मुँह के सामने लाकर रख दी।मैं पहली बार इतनी करीब से चूत देख रहा था।चाची बोलीं- चूसो विनोद. प्रीति धीरे से मुस्कुराईं और मेरे सीने से लगते हुए कहने लगीं- तेरे लंड का रस बड़ा मस्त है.

साले का हथियार तो खड़ा हो गया था, पर मेरे हाथ लगते ही उसका सारा माल मेरे मुँह पर आ गया … मैं तो प्यासी ही रह गई.

वो अगली बार ही पोस्ट करूँगा।प्लीज़ मुझे ईमेल करें।[emailprotected]. दूसरे से चादर को जोर से पकड़ रखा था, उसका सर उत्तेज़ना से इधर-उधर हो रहा था।ममता- राजी. प्रिया ने इस पर कुछ कहा तो नहीं, मगर एक बार मेरी तरफ गुस्से से देखा और फिर जोरों से मेरे होंठों‌ को चूसने और‌ काटने लगी.

छत्तीसगढ़ी लव शायरी इस पर उसने अपना मुँह मेरे लंड के पास लिया और अपने होंठों से मेरे टोपे को दबा दिया।सच मानिए मेरी जान ही निकल गई. और मैं उसकी चूत चाट रहा था।फ़िर मैं उसके ऊपर लेट गया, उसके पैरों को फैलाया और लौड़ा उसकी चूत पर रख कर उसे मसलने लगा।फ़िर मैंने कन्डोम निकाला और पहन लिया, फ़िर मैं लौड़ा उसकी चूत के अन्दर सरकाने लगा।उसकी चूत काफ़ी कसी हुई.

मैं इतना बोल कर हँस दी।भाई उठ गए और मेरे पास बैठ गए और उन्होंने मुझे एक गाल पर चुम्बन किया।मैं बोली- भाई, ये क्या कर रहे हो? मत करो. बहुत ठंड थी। दोपहर का समय था उसकी बेटी अपनी मौसी के साथ उसके घर गई थी।भाभी घर पर अकेली ही थी. मैं उनकी गोदी में ही रही और जहाँ मेरी मौसी का घर था, वहाँ तक गेट पर मैं यूं ही गोद में आ गई.

बीएफ सॉन्ग बीएफ

मेरा वो तो बहुत गर्म है।तभी सुनसान जगह आई और भाभी ने एकाएक मेरे लण्ड पर हाथ रखा और कहा- आज शाम 8 बजे घर के पीछे वाले अरहर के खेत में मिलना. औरत इससे आप पर फ़िदा हो जाएगी।अपने हाथों से मैं भाभी की पीठ हौले-हौले सहला रहा था. मम्मी जी (सासु माँ) को मिलने का दिल कर रहा है, घर चलें?मैं- ओके नो प्रॉब्लम.

वो इतनी जोर से चीखी थी कि मैं भी सहम‌ सा गया और उसे दोबारा पकड़ने की मेरी हिम्मत ही नहीं हुई. जिसमें मैंने अपना लण्ड सैट किया था।‘यह क्या है?’ उभरी हुई जेब देखकर उन्होंने पूछा।‘हॉट डॉग है.

थोड़ी देर तक चुदाई के बाद डैड ने जल्दी जल्दी चोदना शुरू किया और लगा जैसे कि उन्हें कंपकंपी सी आ गई हो.

इतना कहकर पुनीत बिस्तर पर आ गया और पायल की गाण्ड को सहलाने लगा।पायल- उफ्फ. उसने मुझे अपनी तरफ खींचते हुए कहा कि तुम भी मुझे अच्छे लगते हो, जब से मैंने तुझे देखा है. जिसे याद करके मैं आज भी खुश होता हूँ।मेरे जीवन में और भी घटनाएं हुई हैं लेकिन ये मेरे जीवन की मेरे लिए सबसे प्यारी घटना लगती है।कहानी पर अपने कमेंट्स कहानी के नीचे ही लिखें।.

इसी बीच मैंने मौका देखकर उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और सलवार को नीचे कर दिया. मुझे भी कुछ मज़े लेने दे।वो मेरे ऊपर चढ़ कर मेरे पूरे शरीर को चाटने लगीं।सच यार. पता नहीं ये क्या करने वाला है।मैंने अपने टाँगें फैला दीं।उसने बोला- आज तुझे मैं जन्नत की सैर करवाता हूँ।यह बोल कर उसने अपना लंड मेरी चूत में पेल दिया।जैसे ही उसने लंड डाला.

मैंने कहा- अभी आपने मेरी बदमाशी देखी ही कहाँ है।वो बोलीं- अच्छा जी.

हिंदी में साड़ी वाली सेक्सी बीएफ: क्योंकि भाभी की गाण्ड अभी तक किसी ने मारी नहीं थी। मैंने भी सरसों का तेल लण्ड पर लगा कर गाण्ड के अन्दर डालने लगा। थोड़ा ही अन्दर जाने लगा कि भाभी दर्द से चिल्ला कर बोली- ओह्ह. मैं उसको किस करने लगा और पांच मिनट तक ऐसे ही उसके मम्मों को सहलाते हुए उसे किस करता रहा.

पर आज तक चाची जैसी मज़ा लेने-देने वाली कोई नहीं मिली।मेरी रियल सेक्स स्टोरी कैसी लगी? अपने विचार मेल करें।[emailprotected]. मैंने उससे दूर होते हुए कहा- अरे यार इतनी भी क्या जल्दी है … पहले डोर तो लॉक कर दो, कोई देख लेगा. आप ही चूस के खड़ा कर दो।” रोहित ने शिवम को कोहनी मारते हुए कहा।हम्म.

जब उनका कॉलेज बंद हो जाता है।मैं- क्या तुमने अपने भाई का लंड देखा है या नहीं?अनु- नहीं.

34-28-32 का फिगर देख कर स्टेशन पर ही मेरा मन बेचैन होने लगा।अभी मैं उसी के ख्यालों में ही खोया था कि अचानक वो मुझसे गले मिलने लगी। उसकी 34 साइज़ की चूचियां मेरे सीने पर चुभ रही थीं. ’ की तेज आवाज करती हुई मेरी मुनिया मूत्र त्याग करने लगी।सूसू करने से मुझे काफी राहत मिली और फिर मैं फुव्वारा खोल कर नहाने लगी. उसका विषय है ‘सेक्स में सनक’सनक कुछ लोग पागलपन को भी कहते हैं लेकिन यहाँ सनक से मेरा तात्पर्य पागलपन से नहीं है.