बीएफ चुदाई वीडियो भोजपुरी

छवि स्रोत,गाय और बैल की सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

नेपाली हिंदी बीएफ: बीएफ चुदाई वीडियो भोजपुरी, आह्ह… जल्दी…दीपक बड़े प्यार से बारी-बारी से दोनों की चूत चाटने लगा।प्रिया ने पहली बार इस मज़े को महसूस किया था कि चूत-चटाई क्या होती है.

ब्लैक हॉट सेक्सी वीडियो

कहानी का पिछला भाग :मेरे चाचू ने बेरहमी से चोदा-2सम्पादक : जूजा जीमैं अपने अब्बू की खुशी में खुश हो गई और वलीद को भी समझा दिया।लेकिन हसन भाई न संभल सके. पंजाबी सेक्सी चुदाई की वीडियोमगर बाद में मैंने सोच लिया कि अब तू ही मेरी मदद करेगी।दीपाली- यार यही बात करने तो तुझे यहाँ बुलाई हूँ.

बड़े ही साफ-सुथरे ढंग से सज-संवर कर आई थी।आज से पहले मैंने उस पर ध्यान नहीं दिया था।वो आती और अपना काम करके वापस चली जाती थी. सेक्सी वीडियो हिंदी मूवी फुलफिर मैं एक होटल में गया। उधर पूछा एसी रूम का क्या लेते हैं तो मालूम हुआ 1500 का है।अभी बात कर ही रहा था कि इतने में उसका फोन आ गया, बोली- कमरा बुक मत करना.

उसकी चूत खून से लाल हो गई थी। सारे पलंग पर खून ही खून देखा कर वो घबरा गई- ये क्या हो गया?मैं- कुछ नहीं.बीएफ चुदाई वीडियो भोजपुरी: फिर शान्त होकर भाभी के ऊपर ही ढेर हो गया।वो मुझे चुम्बन करने लगी और मैं भी उसे चूमने लगा, मेरा लंड उसकी चूत के अन्दर ही था।कुछ देर बाद मैं उठा और बाथरूम गया.

कब हुआ और शादी में 6 साल बाद रानी से मिलने के उपरान्त क्या घटना घटी और यह अनोखा देह शोषण कैसे कहलाया…? तब तक आप सभी मुझे ढेर सारे मेल कर के बताएँ कि आप लोगों को मेरी यह आपबीती कैसी लग रही है और इसे पढ़ने में आपको कितना मजा आ रहा है?कहानी आगे जारी रहेगी।.!तो कहने लगीं- तुम्हारे पैर में तकलीफ होगी। मैंने कहा- मुझे कुछ नहीं होगा।बोलीं- ठीक है रात में,और जाने लगी तो मैंने कहा- अरे कहाँ जा रही हो.

देहाती सेक्सी वीडियो ऑडियो - बीएफ चुदाई वीडियो भोजपुरी

Stranger: maine petticoat ko tango se fek diyaa…Stranger: aur tumse ghir gaiYou: maine tumhe utha liya.इसी के साथ मैं उसके बदन पर लगातार अपना हाथ फेर रहा था।फिर मैंने उसके बाल खोले और उसके बालों के साथ खेलने लगा और उसके बालों को एक तरफ करके उसके कान के नीचे चुम्बन करने लगा, उसके कानों के अन्दर अपनी जीभ डालने लगा.

जिससे मेरे मम्मे उछल कर बाहर आने को बेताब से दिखते हैं मुझे भी तंग ब्रा में ऐसा लगता है कि कोई छिछोरा मेरी चूचियों को मसल रहा है।मेरी पैन्टी का साइज़ 85 सीएम है. बीएफ चुदाई वीडियो भोजपुरी जिसमे समीर (सैम) फर्स्ट आया था लेकिन कॉलेज से निकलने के बाद शौकत (शौकत) का संपर्क एक-दो साल बाद ही सैम से टूट गया और अब शौकत को यह मालूम नहीं था कि सैम अब कहाँ है।शौकत ने एक दिन मुझे चोदते हुए कहा- अगर सैम मिल जाए तो उसके लंड से तुम्हें चुदवाऊंगा.

फिर मैंने उसकी कुर्ती के पीछे की चैन खोली और अन्दर से ही उसकी ब्रा निकालने की कोशिश करने लगा।किसी तरह मैंने उसकी ब्रा निकाल दी। वो मेरे पैन्ट के ऊपर से मेरा लौड़ा सहला रही थी।मैंने धीरे से उसकी कुर्ती भी निकाल दी।उसके दोनों चाँद आज़ाद हो गए.

बीएफ चुदाई वीडियो भोजपुरी?

ऐसा कहकर मैं उन्हें टाल देती हूँ। मगर हक़ीकत यह है कि मैं कभी माँ नहीं बन सकती हूँ शादी के कुछ महीनों बाद मैंने चेकअप करवाया. क्योंकि मैं सिर्फ 18 साल की थी और वो 60-65 साल के मेरे बाबा की उमर के थे।बल्कि मुझे तो ये लगा कि ये बेचारे मुझसे प्यार जता रहे हैं. मैंने उसके मम्मों को अपने मुँह में भरा और धीरे-धीरे नीचे से जोर डालने लगा।कुछ देर तक कसमसाई फिर वो बोली- उसे अब अच्छा लग रहा है।तो मैंने एक झटका दिया और लंड का मुँह (टोपा) अन्दर पेल दिया, वो फिर चिल्लाने लगी और बोली- प्लीज मुझे माफ़ कर दो.

कितना मज़ा आता है।यह सुनते ही उसका चेहरा शर्म से लाल हो गया और मैंने उसके शरीर पर एक अजीब सी फुरकन जैसी हरकत महसूस की. मेरी चूचियों को उखाड़ कर खा जाओ…उनको बहुत मजा आ रहा था और दर्द भी हो रहा था।मुझे इतना मजा आ रहा था कि लग रहा था आज तो बेबो को पूरा का पूरा खा ही जाऊँ या इसकी चूत में होकर अन्दर घुस जाऊँ।आंटी पूरी तरह गरम हो गई थीं. पर मेरी आवाज़ उन सबके कहकहों की आवाज़ में दब गई।लगभग 20 से 30 मिनट तक ज़ोर-ज़ोर से चोदने के बाद तानिया ने फिर से मेरी गाण्ड में अपने गरम वीर्य का फव्वारा छोड़ दिया। वीर्य छूटने के बाद भी उसका लंड मेरी गाण्ड में 5 मिनट तक अन्दर-बाहर होता रहा था। एक हिजड़े की इतना क्षमता देख कर मैं हैरान था।मेरा जिस्म ढीला पड़ गया था.

सच तेरी गाण्ड तो तेरी माँ और रिंकी से भी ज्यादा टाइट है… बड़ा मज़ा आएगा।मैंने अपना लाल सुपारा उसकी गुदा पर रखा और रूपा को इशारा किया।रूपा ने नीलम का मुँह दबोच लिया और मैंने तुरन्त ही सुपारा पेल दिया।मेरा सुपारा आधे से ज़्यादा उसकी गाण्ड के छेद को खोलता हुआ धंस गया।नीलम का जिस्म एकदम कड़ा हो गया ओर वो छटपटाने लगी।रूपा मस्ती में आ चुकी थी। उसे भी मज़ा आ रहा था।वो बोली- जमाई राजा. और सीधा लिटा दिया।उसकी फूली बुर ऊपर की तरफ चमचमा रही थी। उसकी बुर का रंग गहरा काला था और चिकना होने की वजह से उसके फलक बाहर की तरफ खुल रहे थे. क्योंकि ये सब मैं पहली बार देख रहा था, मैं बहुत उत्तेजित हो गया था और मेरा लण्ड खड़ा होने लगा था। मैंने शॉर्ट पहना था पर अंडरवियर नहीं पहना था और उसमें टेड़ा सा आकार आ गया था।नादिया ने मेरे शॉर्ट को देखा और हँस कर बोली- क्या हुआ अक्की.

पर हिलाया नहीं…मेरी फट तो रही थी, पर मेरा लंड मानने वालों में से नहीं था।मेरे लवड़े को तो बस चूत की प्यास थी।वो अब मुझे घूर कर देखने लगी तो मैंने पैर हटा दिया।अब वो मेरे सर की तरफ खिसक कर बैठी ताकि मैं पैर से न छेडूँ. उसकी बात टालने का मन नहीं कर रहा।विकास ने भी उसकी ‘हाँ’ में ‘हाँ’ मिलाई और लौड़ा बाहर निकाल लिया। अनुजा उसको चूसने लगी।दोस्तों अनुजा को लौड़ा चूसने दो.

’ की आवाजें तैर रही थीं।कुछ पलों में हमारे बदन पसीने से भीगे हुए थे और सोनम की कलाइयां मुझ पर अपनी कसावट और पुख्ता कर रही थीं। मेरी चोदने की रफ़्तार भी तेज हो गई और मेरा लण्ड सोनम की चूत को दुबारा भरने को तैयार था।सोनम के शरीर की अकड़न भी बता रही थी कि वो इस मिलन का इंतज़ार नहीं करेगी।तभी सोनम की चूत ने पानी फेंक दिया जैसे ही मेरे लण्ड को चिकनाई का अहसास हुआ.

मैंने मेरे फ्रेंड को और उसकी गर्ल-फ्रेंड को मेरे दरवाजे के सामने पाया। दोस्त मेरे दरवाजे को खोल रहा था और तभी उन दोनों का ध्यान मेरी तरफ गया।वे दोनों चौंक गए थे और मैं तो ठगा सा खड़ा रह गया.

मेरी मॉम एक हाउसवाइफ हैं। मैं मेरे घर की एकलौती लड़की हूँ तो मुझे पूरी आज़ादी है।अब मैं कहानी पर आती हूँ।एक दिन की बात है. लेकिन मैं भी अपने हाथ का उपयोग नहीं कर सकता हूँ।तब वो बोलीं- ये कैसी विधि है कि हम हाथ का उपयोग किए बिना स्वास्तिक निकालें. इसे तो मैं रखूँगा…फिर दूसरे अंकल ने भी सूँघा।अब दादा जी सीधे मेरे तलवे चाटने लगे और तलवों को चाटते हुए वे ऊपर की तरफ आ रहे थे।उस समय जो माहौल था.

जो माहौल को और भी कामुक बना रही थी।दीपिका को नाचने का बड़ा शौक था और वो अच्छी डांसर भी थी।मैं थोड़ी देर उसे नाचते हुए देखता रहा. वो मेडिकल की स्टूडेंट है और दिल्ली ही जा रही है।बातों-बातों में पता चला कि उसकी सगाई हो चुकी है और अगले महीने ही उसकी शादी है।पता नहीं वो मुझसे किसी बात से इंप्रेस सी होने लगी. जरा धीरे-धीरे करो।फिर मैंने जोर से धक्का दे दिया तो रिचा जोर से चिल्लाई और मैंने उसका मुँह दबा दिया। उसकी आँखों से पानी आ गया।मैंने उससे ‘सॉरी’ कहा तो वो कहने लगी- कोई बात नहीं.

जब से बैठे हो मेरे चूचे दबा रहे हो… ह्म्म।मैं हँस पड़ा और उसको और उसके चूचों को एक हाथ से जोर से दबा कर बोला- फिर क्यों चुदवाया आशीष से.

सब हँसने लगे।फिर हम बाकी के रिश्तेदारों से मिले और ऐसे ही रात हो गई। हम सब काफ़ी थके हुए थे तो हमें नींद आ रही थी और हम रात का डिनर करके सो गए।अगली सुबह मे 9 बजे उठी देखा कि सब तैयारियों में लगे हुए हैं।फिर मैं नहाने चली गई। मैं बाथरूम में गई. लेकिन ऊँगली लन्ड का काम कैसे कर सकती थी।मुझे अब कोई नए लौड़े की तलाश थी।उन्हीं दिनों मेरे ऑफिस में सात दिन की छुट्टियाँ पड़ीं. तनकर लोहे की तपती हुई रॉड जैसा होकर मेरी अंडरवियर फाड़ने को तैयार हो रहा था।भाभी ने मुझे धक्का देकर लेटा दिया और भूखी कुतिया की तरह मेरी पैन्ट खोल कर नीचे सरका दी और मेरे लंड को देख कर खुश हो गई, बोली- वाह मेरे राजा.

वो दिखने में किसी परी से कम नहीं लगती थी।कोमल और मैं एक ही स्टेडियम में आते थे, कोमल एथलेटिक्स के लिए आती थी और मैं बॉडी फिट रखने के लिए जाता था।ऐसे ही देखते-देखते हम दोनों की नज़रें मिल गईं और एक दिन मैंने उससे उसका नाम पूछा. तो अधिकतर भाभी रात को जाग कर टीवी देखती रहती थीं।मैं उनको चोदने के लिए बहुत बेचैन रहने लगा था।वो छोटी होली की रात थी. मगर इम्तिहान में फेल हो गई तो इसका साल बर्बाद हो जाएगा।विकास की बात अनुजा के साथ दीपाली भी अच्छे से समझ गई।अनुजा- ठीक है.

वह अमित का इतना बड़ा और मोटा लंड तेजी से अपनी चूत में ले रही है।विन्नी अब तेज चिल्लाते हुए चीखने लगी- डालो.

पर वो असफल रहा।मैंने पीठ की तरफ से कुरते के हुक खोल दिए, अब उसके हाथ और मेरी चूची का मिलन हो चुका था।वो बोला- मैडम. जिससे मालूम चला कि वह एकदम खुले स्वभाव की लड़की है।फिर मैंने उसे सीधा किया और सामने से उसकी मसाज शुरू की और उसे आँखें बंद करने को कहा।फिर मैंने उसके स्तन से तौलिया हटाया और दोनों स्तनों पर खूब सारी क्रीम लगाई और गोल-गोल मलते हुए स्तनों की मसाज करने लगा.

बीएफ चुदाई वीडियो भोजपुरी तो उसने कहा- मैं भी आने वाली हूँ।उसने अपनी चूत को टाइट किया और मुझे चुम्बन करने लगी।फिर हम दोनों एक साथ झड़ गए ‘आआअहह ऊहह. मेरे लंड को संवार रही थी।उसने मेरे पैंट की चैन भी खोल दी और देखते ही देखते मेरे लंड को आज़ाद भी कर दिया।अब वो बोली- ह्म्म्म.

बीएफ चुदाई वीडियो भोजपुरी मैंने उससे चाभी ली और कमरे की तरफ चल दिया।अब आगे क्या हुआ जानने के लिए अगले भाग का इन्तज़ार कीजिएगा।सभी पाठकों के संदेशों के लिए धन्यवाद. फच … की आवाज आती, मेरी बीवी को शायद बहुत मजा आ रहा था, बोली- हाय हाय, मजा आ गया रॉकी तुम सचमुच मर्द हो आहा.

मैंने जो काम बताया था वो किया आपने?सुधीर- जानेमन ऐसा हो सकता है क्या कि तुम कोई बात कहो और मैं ना करूँ.

देहाती बीएफ हिंदी में देहाती

अब क्या होगा मतलब आज सारी रात मेरी चुदाई होगी। यही सोच कर मैं डर रही थी और मेरी चूत भी बहुत मचल रही थी. अभी काफ़ी वक्त है। मैं कुछ ना कुछ सोच लूँगी चल अभी थोड़ी पढ़ाई कर लेते हैं यार…प्रिया- अरे यार तू इतनी अच्छी स्टूडेंट है. मुझे बहुत ज़्यादा दर्द हुआ।वो 5 मिनट रुका रहा और मेरे मम्मों को सहलाने लगा।फिर जब मैं थोड़ी सामान्य हुई तो उसने लंड बाहर खींच कर तेज धक्का मारा और पूरा लंड मेरी गाण्ड में उतार दिया।मैं बहुत ज़ोर से चीखी.

मैं हिम्मत करके ठीक चाची के पीछे चला गया और उनसे साथ कर उनके कंधे पर अपना मुँह रखा और पूछा।मैं- क्या कर रही हो. वो ले लो…यह सुनते ही मैं पागल सा हो गया और अब मेरा सपना साकार होने वाला था।मेरी कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करूँ तो मैंने धीरे से उनका हाथ पकड़ा और दबाने लगा।हाथ पकड़ते ही मेरा लण्ड फुंफकार मारने लगा।आंटी के हाथ एकदम फोम की तरह मुलायम थे. चुम्बनों की बौछार कर रहा था। वो अब गरम हो रही थी और मेरा लण्ड भी खड़ा हो रहा था।जब मैं ज़ोर से उसकी रसभरी चूचियों को दबाता.

पर करता भी तो क्या? मेरा अभी भी हुआ नहीं था तो मैं जल्दी से उठा और अपना लोअर पहना और उसी से जुड़े हुए बाथरूम में चला गया।जल्द-बाज़ी में माया ने भी अपनी साड़ी सही की जो अस्तव्यस्त हो गई थी और चड्डी वहीं पलंग के ऊपर पड़ी भूल गई थी।वो अपने कपड़े सुधारने के बाद बिस्तर बिना सही किए ही चिल्लाते हुए चली गई।‘आ रही हूँ.

इसलिए मैं मजबूर था और रमशा भी मजबूरी में ही उससे चुदवाने को तैयार हुई थी।राहुल ने चाय की प्लेट नीचे रख कर रमशा का हाथ पकड़ा और अपनी गोदी में खींच कर बैठा लिया। उसका लंड अब खड़ा होने लगा. वैसे भी मुझे उनके पूरे शरीर को चूमना ही है और मैंने अपने आप पर संयम रखते हुए उनके करीब गया और घुटनों के बल उनके पाँव के पास बैठ गया।तब सासूजी ने शर्म के मारे अपनी आँखें बन्द कर लीं और पीछे को मुड़ गईं।फिर मैंने उनके दोनों पाँवों को बारी-बारी चाट कर सारा मांड निकल लिया और खड़ा होकर उनकी पीठ से भी मांड चाट लिया।मैंने जान-बूझकर उनकी गाण्ड को रहने दिया था।तब उन्होंने पूछा- हो गया. तो मैं बिलबिला उठा।तानिया अन्दर से एक जलती हुई मोमबत्ती लाई और एक लड़की के हाथ में देकर कहा- जब मैं इसकी गाण्ड मारूँगी.

उसका लौड़ा फूलने लगा और उसने पूरा लौड़ा दीपाली के मुँह में घुसा कर झड़ना शुरू कर दिया।दीपक- आह उफ़फ्फ़ कितना हसीन पल है ये उफ़ आहह. इतना कह कर वो मेरे पास आकर बैठ गई और अपना हाथ मेरी छाती पर रख कर सहलाने लगी।अब मेरा लण्ड माने नहीं मान रहा था। मैंने भी अपना हाथ उसकी चूचियों पर रखा और दबाना शुरू कर दिया।अब उसके मुँह से ‘आआआअह. मैं समझ गया था कि वो सना नहीं ही बल्कि वो इक़रा थी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने कहा- सना तुम्हारा भी जवाब नहीं.

अब मुझे भी लगा कि मेरा होने वाला है।मैंने अपनी गति और बढ़ा दी, वो भी चुदते-चुदते वापस मस्त हो गई और गालियाँ बकने लगी।‘मादरचोद. फिर देख।फिर मैंने उतर कर अपनी जींस वगैरह सही से बंद की और घर की ओर चल दिए।करीब दस मिनट में हम अपार्टमेंट पहुँच गए.

मैंने पूछा- क्या हुआ?उसने बोला- इतना बडा लंड?मैं मुस्कुरा कर फिर से उसे चुम्बन करने लगा।फिर मैंने उसके पजामे का नाड़ा खींच दिया. वो पूरा खाली पड़ा था। वे लोग मुझे बेडरूम में ले गईं और अपने-अपने कपड़े उतारने के बाद मेरे भी कपड़े उतारे और चालू हो गईं।एक मुझसे चुम्बन कर रही थी और दूसरी मेरा 6″ लम्बा और 3″ मोटा का खड़ा लंड अपने मुँह में लेकर चूस रही थी।कुछ देर बाद एक ने अपनी चूत मेरे मुँह पर रखी. एक दिन मैं घर में अकेला था घर के सभी सदस्य रिश्तेदार के यहाँ नामकरण प्रोग्राम में गए थे।दो दिन तक मुझे घर की रखवाली करनी थी.

पर तीन पीढ़ी पुरानी जान-पहचान होने के कारण हम लोग उन्हें मौसी कहते थे।उनके बड़े लड़के की शादी थी।बारात जाते समय मेरी सीट के बगल में उनकी काली-कलूटी 18 साल की लड़की बैठी थी, उसका नाम निम्मी था।मुझे गोरी और खूबसूरत लड़की अच्छी लगती है.

अपने एक हाथ से उसके गरम हथियार को अपनी टपकती हुई चूत पर सैट किया और अमन को निशाना लगाने के लिए उत्साहित किया-. हम सबने हाथ धोए और भरपेट खाना खाया।आज हम तीनों ने बिना कपड़े पहने ही खाना खाया।फिर आंटी मेरे लिए वही मिल्क-शेक लेकर आईं और मैंने शेक पीने के बाद आंटी से कहा- चलो 2-3 घंटे सोते हैं।आंटी ने कहा- ठीक है. वो पूरा खाली पड़ा था। वे लोग मुझे बेडरूम में ले गईं और अपने-अपने कपड़े उतारने के बाद मेरे भी कपड़े उतारे और चालू हो गईं।एक मुझसे चुम्बन कर रही थी और दूसरी मेरा 6″ लम्बा और 3″ मोटा का खड़ा लंड अपने मुँह में लेकर चूस रही थी।कुछ देर बाद एक ने अपनी चूत मेरे मुँह पर रखी.

प्लीज़ इसे गलत मत लो।अंकिता की आँखों में मुझे सच्चाई लगी और वो आंसू की बूँदें मुझे झकझोर गईं।मैंने अंकिता को पकड़ कर मजाक में कहा- अरे. फिर मैंने उसका हाथ पकड़ा और गेस्ट हाउस मैं घुस गया।फिर मैंने 800 रुपए में एक कमरा बुक किया और हम कमरे में चले गए कमरे में जाते ही उसने मुझे अपनी बाँहों में जकड़ लिया और मुझे चुम्बन करने लगी।वो कामुकता से कहने लगी- आज तुम मुझे चोद ही डालो.

और मेरे लण्ड पर बैठ गई।एकदम से हुए इस घटनाक्रम में पहली बार मुझे सम्भलने का वक़्त नहीं मिला। जब तक मैं कुछ करता. धीरे-धीरे हम दोनों के जिस्म एक-दूसरे में समा गए।उसने फुसफुसा कर कहा- दरवाजे बन्द कर लो।मैंने दरवाजे बन्द किए और उस पर टूट पड़ा. बस आप 6 बजे शाम को मॉल में मिलना।मैंने कहा- ठीक है।उस दिन मैं जल्दी ही घर आ गया और वक्त से दस मिनट पहले ही मॉल पहुँच गया।मुझे अभी कोई पन्द्रह मिनट ही हुए थे कि उसका फोन आया- कहाँ हो.

बीएफ सेक्सी पिक्चर इंडिया

मेरे कॉलेज के सामने एक छात्र दुर्घटनाग्रस्त हो गया और कॉलेज वालों ने उसे अपने कॉलेज का छात्र मानने से ही इन्कार कर दिया।सारे लड़के भड़क गए.

तो मेरी तो गाण्ड ही फट जाती। अब वो मेरा लण्ड चूसते-चूसते मेरी गाण्ड भी मार रही थी। मुझे अब मजा आने लगा था।वो बोली- बॉबी. काफ़ी ढूँढने के बाद वो वैसे ही बिना ब्रा पहने ही ड्रेस पहन कर घूमने लगी जिससे उसके मम्मे और निप्पल आज खुले ही लटक रहे थे।मैंने उससे कहा- आज तू कुछ अलग सी लग रही है।तो उसने शर्मा कर कहा- क्या मेरी फिगर में तुम्हें कुछ चेंज दिख रहा है?मैंने हँसते हुए उसके मम्मे दबाए. जब वह युवती बीच-बीच में मेरे लौड़े को हिला कर अपने सही स्थान पर सैट करवा रही थी।मैं बार-बार उसे नवयुवती इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि मैं उसका नाम नहीं जानता था।फिर मैंने एक हाथ उसके शरीर से हटाया और अपने लौड़े को पैंट की बैल्ट की तरफ मोड़ लिया.

आज मेरी प्यास बुझा दो मेरे साजन।मैं उनके मुँह से ‘चोदो’ शब्द सुन कर बहुत उत्तेजित हो गया और उनको गोद में उठा कर उनके शयनकक्ष में ले जा के पलंग पर पटक कर उनके कपड़े उतारने लगा।कपड़े उतारते समय मैंने देखा कि उनका गुलाबी पेटीकोट चूत के पास काफी भीगा हुआ था।भाभी ने मेरे कपड़े निकाल कर फेंक दिए।भाभी अब पूरी तरह से नंगी हो चुकी थी. प्रिस्क‍ला ने बताया- जब मैंने दरवाजा खोल कर अन्दर झांका तो सशा का यार उसके ऊपर लेटा हुआ है और दोनों मदद के लिए पुकार रहे हैं. ब्लू पिक्चर सेक्सी सॉन्गतुम्हारा बैग वहीं था और सुबह जब उठी तो तुम्हारा फोन ‘लो-बैटरी’ की वार्निंग दे रहा था। तो मैंने उसे चार्जिंग पर लगा दिया।मैं आप सबको बता दूँ कि विनोद और रूचि दोनों का एक ही दो बिस्तरों वाला कमरा था और उसी को उन्होंने स्टडी-रूम भी बनाया हुआ था।खैर.

पर मेरे एक दोस्त ने मुझे दोबारा लिखने को कहा और उसके जोर देने के कारण आज दोबारा लिख रहा हूँ।अब मैं उस दिन की घटना पर आता हूँ।मामी को चोदते हुए मुझे लगभग 8-9 महीने हो गए थे. फिर मैं उसके होंठों को चूसने लगा, वो भी मेरे होंठों को चूसने लगी।फिर मैंने अपनी जीभ को उसके मुँह में डाल दिया.

क्या मस्त गाण्ड थी यार…आंटी मेरे लण्ड को पकड़ कर कच्छे के ऊपर से खींचने लगीं और अपनी चूत मैं घुसाने की कोशिश करने लगीं।फिर मैंने देर ना करते हुए उनकी पैन्टी भी निकाल दी।उन्होंने भी मेरा कच्छा उतार दिया और मेरे लण्ड को देख कर चौंक गईं. उसका गोरा रंग और उसके 34 साइज़ वाले दो-दो किलो के बड़े-बड़े स्तन मुझे पागल बनाते थे।वो एक चलती-फिरती सेक्स बॉम्ब थी. सारा रस निचोड़ लिया।फिर मुझसे भी न रहा गया मैं नीचे बैठ कर उसका केला चूस लिया।कुछ ही देर में उसने मुझे फर्श पर लिटा दिया।चूत में आग लगी थी खेल शुरू हो गया और चूत-लन्ड के खेल में… मैं अपनी सील तुड़वा बैठी।पानी में खून बह निकला.

अब मुझे लौड़ा चूसना अच्छा लगने लगा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !वो सिसकारी भरने लगा. ऐसा बोल कर नीता मेरे पास आई और उसने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मुझे चुम्बन करने लगी।मैंने भी उसी की तरह चुम्बन करना शुरू किया. दीदी को डराती हूँ।अनुजा बिस्तर पर बैठी कुछ सोच रही थी कि अचानक दीपाली ने ‘भों’ करके उसे डरा दिया।अनुजा- दीपाली की बच्ची.

जैसे मियाँ-बीवी हों।रिसेप्शन से चाबी लेकर हम कमरे में गए।कमरे में जाने के बाद उसने अपना सामान एक तरफ रखा।मैं बिस्तर पर बैठ गई.

ज्यादा मजा उसे आ रहा था।मसाज के बाद उसके नितम्ब और भी ज्यादा चिकने और कोमल हो गए थे। फिर मैंने माहौल को थोड़ा और अच्छा बनाने के लिए उससे कुछ बातें करने को कहा. वो बोली- अब अच्छा लग रहा है।मैंने फिर आहिस्ता से झटके देना चालू करे, उसे थोड़ा दर्द हुआ, फिर वो अपनी मस्त मादक गाण्ड उछाल कर चुदवाने लगी।मैं अब अपनी रफ्तार बढ़ा कर चुदाई कर रहा था, वो भी नीचे से चिल्लाने लगी- फ़क मी.

मुझे भाभी कुछ ज्यादा ही सुन्दर लगने लगीं।भाभी ने मुझसे पूछा- मैं तुम्हें कैसी लगती हूँ?तो मैंने कहा- आप मुझे बहुत सुन्दर और सेक्सी लगती हो. !इस पर झूठी नाराजगी जताई और बोलीं- धत, ये सब करने के लिए थोड़ी ही कह रही हूँ।मेरी जिद पर मान गईं, बोलीं- प्लास्टर कटने के बाद देखेंगे।मैंने सोचा अभी मान गई है बाद में कहीं मुकर जाए तो।मैंने कहा- आज. कब हुआ और शादी में 6 साल बाद रानी से मिलने के उपरान्त क्या घटना घटी और यह अनोखा देह शोषण कैसे कहलाया…? तब तक आप सभी मुझे ढेर सारे मेल कर के बताएँ कि आप लोगों को मेरी यह आपबीती कैसी लग रही है और इसे पढ़ने में आपको कितना मजा आ रहा है?कहानी आगे जारी रहेगी।.

तो यहाँ के लोग इस बात को बुरी निगाह से देखते हैं। हालांकि अब समय बदलने के साथ-साथ सभी जगह वर्जनाएं टूटने लगी हैं।कोच्चि को यहाँ की हरियाली के कारण अरब सागर की रानी कहते हैं। ये बात उस समय की है. पर गाण्ड में ऐसा नहीं होता है।मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ। मैंने कल्लो की चूचियों को पकड़ कर पूरा लंड उसकी गाण्ड में ठाप दिया और वीर्य की धार से उसकी गाण्ड को भर दिया।कल्लो बोली- चलो. अब आगे की योजना मुझे बनानी थी।सोनम का अनुभव मेरे साथ होने के कारण मुझे पता था कि पूनम को कैसे गरम करना है इसलिए सोनम से भी अच्छी तरह से मैं पूनम को बिना दर्द दिए.

बीएफ चुदाई वीडियो भोजपुरी अभी तो बस चूम रही हूँ…गौरव बीच-बीच में मेरे मम्मे दबा देता था।अब मैंने उसके लंड पर दस-बीस बार मुठ मारा और फिर धीरे से मुँह में ले लिया।गौरव का लंड ज्यादा मोटा नहीं था. जो एक अच्छी कंपनी में कंप्यूटर इंजीनियर हैं और मेरा बेटा सोनू जो अभी सिर्फ 5 साल का है। परिवार के मुखिया के रूप में मेरे ससुर हैं.

बीएफ 3:00 वाली

वो लगातार दीपाली की गाण्ड में शॉट लगाते जा रहा था।कोई दस मिनट तक ताबड़तोड़ चुदाई के बाद विकास के लौड़े से लावा फूट गया और लौड़ा जड़ तक गाण्ड में घुसा कर वो झड़ने लगा।बस दोस्तो, आज के लिए इतना काफ़ी है। अब आप जल्दी से मेल करके बताओ कि मज़ा आ रहा है या नहीं!तो पढ़ते रहिए और आनन्द लेते रहिए. जिससे रूचि भी हड़बड़ा गई और उस चड्डी को बिस्तर पर फेंकते हुए मुझसे बोली- तुम यहाँ क्या कर रहे थे?तो मैंने बाथरूम की ओर इशारा करते हुए बोला- यहाँ क्या करते हैं?वो बोली- मैं उसकी बात नहीं कर रही हूँ।‘तो किसकी बात कर रही हो?’वो बेड को दिखाते हुए बोली- यहाँ की. और फिर सास के सामने देख कर बोला- ठीक है न?सास ने अपनी मूक सहमति दे दी थी।दूसरे दिन सुबह मैं और ज्योति ऑफिस चले गए और उसके लिए जहाँ जॉब फिक्स की थी.

फ़िर मैंने दूसरा धक्का मारा तो मेरा आधा लन्ड अन्दर जा चुका था और भाभी की आंखों से आंसू निकल रहे थे।फ़िर मैंने आधे लन्ड से ही चुदाई शुरू कर दी।भाभी को मजा आने लगा और फ़िर एक जोर से धक्का मारा तो थोड़ा सा लन्ड ही बाहर रह गया लेकिन भाभी चीखने लगीं और मेरी पकड़ से छूटने की कोशिश करने लगीं।फ़िर देर ना करते हुऐ मैंने एक और धक्का मार दिया. तो तेरी माँ भी चुद जाए तो भी तेरी ही गाण्ड मारेगी।सोनम का मुँह खुला का खुला रह गया वो मुझे जानती थी कि मैं कितना बड़ा कमीना हूँ। उसने तुरंत मेरा लण्ड मुँह में लिया और जोर-जोर से उसका टोपा चूसने लगी। मैंने लगभग आधा लण्ड और घुसाया और उसके मुँह को चोदने लगा।सोनम जोर-जोर से मेरा लण्ड चूसने लगी. इंडियन भाभी सेक्सी ब्लू फिल्म‘रिया-ब्लू’ का परफ्यूम की सुगन्ध उसके बदन से आ रही थी।मैं नज़रें झुकाए बाहर ही खड़ा था।वो मुझे अन्दर आने को बोल कर वापस रसोई में चली गई।मैं हॉल में टीवी देखने लगा.

कमरे में घुप्प अँधेरा था।तभी चुदासी हो चुकीं भाभी ने अपने हाथों से लंड पकड़ा और अपने छेद पर लगा कर बोली- अब डालो.

मेरे मुँह से ‘अहह’ निकल गया…तो दादा जी ने कहा- क्या हुआ निकी?मैंने जाने कैसे कह दिया- कुछ नहीं…उसके बाद तो जॉन्सन अंकल और दादा जी तो जैसे खुल ही गए और दादा जी ने ज़ोर-ज़ोर से मेरे मम्मों को दबाना चालू कर दिया. तो वो चले गए और मैं फिर उदास हो गई। मुझे अभी भी यकीन नहीं हो रहा था कि ये चाचा ऐसा इन्सान निकलेगा। मुझे यह बात माँ को बताने तक की हिम्मत नहीं हुई.

भाभी ने पूछा- छुप कर मेरी ब्रा-पैन्टी का क्या करते हो?मुझे झटका लगा- भाभी, आपको कैसे पता?तो उन्होंने कहा- मुझे सब पता है. तुम्हारा बैग वहीं था और सुबह जब उठी तो तुम्हारा फोन ‘लो-बैटरी’ की वार्निंग दे रहा था। तो मैंने उसे चार्जिंग पर लगा दिया।मैं आप सबको बता दूँ कि विनोद और रूचि दोनों का एक ही दो बिस्तरों वाला कमरा था और उसी को उन्होंने स्टडी-रूम भी बनाया हुआ था।खैर. पतले-पतले होंठ और भरे हुए गुलाबी गाल मेरे लण्ड पर क़यामत ढा रहे थे।फिर मुझसे नहीं रहा गया और मैंने आंटी को अपनी बाँहों में जकड़ लिया।उनका जिस्म गरम और रूई की तरह मलायम लग रहा था.

असली मजा लेने का तरीका कल समझाऊँगी।वो बोला- अब अपना स्वाद चखाइए।मैं बिस्तर पर अपनी सलवार खोल कर चित्त लेट गई और अपने घुटने पेट की ओर मोड़ लिए।उसने मेरी बाल रहित बुर के होंठ से अपने होंठ भिड़ा दिए और चूत की पुत्तीयों को अपने मुँह में भरकर बुरी तरह चूसने लगा।उसके चूसने के ढंग से उसके अनाड़ीपन झलक रहा था.

पर पता नहीं उसमें क्या बात है कि देखते ही लंड उछलने लगता है और उसे पाने के लिए बेक़रार हो उठता है।मैं उसके बारे में इससे पहले कुछ जिस्मानी सम्बन्ध के बारे में नहीं सोचता था. फिर थोड़ी देर बाद वो उठा और मुझे उठा कर बिस्तर पर ले गया और मेरे पूरे जिस्म को चूमने लगा।अब मुझे वो अच्छा लगने लग गया था।फिर उसने मेरी टाँगों को खोला और अपना लण्ड मेरी चूत पर रख दिया और साथ ही मेरे मम्मों को दबाने लगा।फिर आहिस्ता से अपना लण्ड मेरी चूत में डालने लगा. तुझे मज़ा आएगा…प्रिया भी पूरी गर्म हो गई थी।अब दीपक भी चूत को चोदने के लिए बेताब हो रहा था। उसने प्रिया के पैर मोड़ दिए और लौड़े पर अच्छे से थूक लगा कर चूत पर टिका दिया और एक धक्का मारा.

67 सेक्सी वीडियोअभी कहानी पर ध्यान दीजिएगा।दीपक वहाँ से किसी काम के लिए चला गया मगर सोनू ने शायद आज पहली बार ही प्रिया को इतने गौर से देखा था। उसका मन प्रिया के लिए मचल गया था।सोनू वहाँ से सीधा मैडी के घर गया और उसको जरूरी काम है बताकर बाहर बुलाया।मैडी- अरे क्या है. उसने खुद को मुझसे लिपटा कर मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़कर मेरी मुठ मारने लगी।‘तुम्हारा लंड तो मुझे तभी पसंद आ गया था.

हिंदी में बीएफ चाहिए हिंदी बीएफ

मेरी मॉम एक हाउसवाइफ हैं। मैं मेरे घर की एकलौती लड़की हूँ तो मुझे पूरी आज़ादी है।अब मैं कहानी पर आती हूँ।एक दिन की बात है. इतनी टाइट चूत थी वो।लेकिन फिर मैंने उसकी चूत में थोड़ा सा तेल लगा कर दुबारा लौड़ा अन्दर डाला जिससे उसकी चूत की सील खुल गई और फिर मैंने उसकी चुदाई चालू कर दी।वो चिल्लाने लगी- आअहा. क्योंकि बिस्तर तो मैं नीचे लगा आया था।अब मैं रिचा का इन्तजार कर रहा था कि कब वो ऊपर सोने के लिए आए।रात के 11 बजे रिचा का भाई उसकी बहन छत पर आ गए.

उन्हें देख-देख कर मेरा दिमाग खराब हो रहा था और मैं ब्लू-फिल्म भी देख रहा था। मैंने मोबाइल बंद कर दिया और लेट गया। मामी मेरी तरफ करवट लिए हुई थीं तो मुझे उनके मम्मे गले के नीचे से साफ दिख रहे थे।अब मैंने मामी को चोदने का प्लान बना लिया. आंटी के कमरे की बत्ती बुझी हुई थी।मैंने जब की-होल में से देखा तो टीवी पर ब्लू-फिल्म चल रही थी और आंटी अपनी बहन के साथ फिल्म देख रही थीं।आंटी को मैंने मिस कॉल मारा. उसने मुझसे बोला- तुम भी अपना ‘टूल’ दिखाओ।मैंने कहा- अभी तो मैं परिवार के बीच हूँ रात में सब दिखा दूँगा।वो बोली- थोड़ी झलक तो दिखा.

कामुक और रोमान्टिक इंतकाम पर खत्म हुई।हसन भाई फिर उठे और उसने मेरे गदराए जिस्म को चूमा और अपने कपड़े पहन कर बाहर चले गए।मैंने भी अपने कपड़े पहने और लेट गई।हसन भाई अनवर भाई के पास चले गए और वहाँ सो गए…और मेरी सहेली मदीहा वापस मेरे पास आ गई।इसके बाद भी हसन ने मेरे साथ बहुत एंजाय किया।वो कहानी बाद में सुनाऊँगी. जिससे माया की आँखें बाहर की ओर आने लगीं और देखते ही देखते मैंने अपना सारा माल उसके गले के नीचे उतार दिया।माल निकल जाने के बाद मुझे कुछ होश आया तो मैंने अपनी पकड़ ढीली की. जरा जल्दी करो मेरी साँसें फूली जा रही हैं।तो मैंने भी अब ज्यादा देर न करते हुए उसे बिस्तर पर लेटा दिया और अपने सारे कपड़े उतार कर उसके ऊपर चढ़ गया। मैंने लण्ड को उसके मुँह के पास रख कर उसे मुँह में लेने को कहा तो उसने मना कर दिया। फिर मैंने अपना मुँह उसकी चूत के पास ले जाकर उसकी चूत चाटने लगा.

अब इनको भी मसाज कर दे।और ऐसा कहकर उन्होंने मेरे हाथ अपने हाथों में ले कर अपने मम्मों पर रख दिए और अपने मम्मे सहलवाने लगीं। वो अब कामुक हो रही थीं. मेरे लंड को संवार रही थी।उसने मेरे पैंट की चैन भी खोल दी और देखते ही देखते मेरे लंड को आज़ाद भी कर दिया।अब वो बोली- ह्म्म्म.

कि अब तुम मेरी चूत चाटो…’यह कह कर भाभी खड़ी हो गईं और अपनी चूत मेरे चेहरे के पास ले आईं।मेरे होंठ उनकी चूत के होंठों को छूने लगे।मेरे प्यारे पाठकों मेरी भाभी का यह मदमस्त चुदाई ज्ञान की अविरल धारा अभी बह रही है।आप इसमें डुबकी लगाते रहिए.

आह्ह… मेरी चूत का भोसड़ा तो बना दिया आह्ह… अब क्या इरादा है आह्ह… उठो भी…दीपक ने लौड़ा चूत से निकाला तो प्रिया कराह उठी।दीपक एक तरफ लेट गया।दीपाली ने जल्दी से प्रिया की चूत को देखा… कोई खून नहीं था वहाँ हाँ दीपक के लौड़े पर जरा सा लाल सा कुछ लगा था।दीपाली- अरे ये क्या. कैटरीना कैफ की सेक्सी तस्वीरमम्मों को चुसवाने का मन है?मेरे मुँह से सीधे अपने आप ‘हाँ’ निकल गया…बोले- तू तो बहुत चुदासी हो रही है निकी…उन्होंने सीधे मेरी ब्रा को पकड़ कर जोश में खींच दी. सील तोड़ सेक्सी मूवीआप मर्दों को वैसे ही पता चल जाता है।’इतने मे जॉन्सन अंकल ने मेरी दोनों टाँगें फैला दीं और मेरी चूत में अपनी जीभ लगाकर चाटने लगे और बोले- साली बहुत चुदासी है. वो मेरे पास आकर बैठ गईं और टीवी देखने लगीं।थोड़ी देर बाद मुझसे पूछा- तू मुझे नहाते हुए देख रहा था क्या?उस समय मेरी तो फट गई.

एक हाथ उसके मम्मों को दबाने में लगा था और दूसरे हाथ की ऊँगली से उसकी चूत को और तेज़ी से मलने लगा। फिर मैं नीचे आया और उसके पेट पर चुम्बन करने लगा। मैं अपनी जीभ से उसकी जाँघ को चाटने लगा और फिर चूत को चूमने-चाटने लगा।उसने चूत को चटवाने से मजा पाते ही अपनी टाँगें और खोल दीं। अब मैं उसे अपनी जीभ से प्यार से सहलाने लगा.

बत्तियां बन्द ही रखूँगा।यह कहते हुए शौकत मेरा हाथ पकड़ कर मुझे सैम के कमरे में ले आए और बिस्तर पर जगह बनाने के लिए सैम को हिलाया और मुझे अपने और सैम के बीच में लिटा कर खुद भी लेट गए। मेरा नंगा बदन सैम से छू गया और सैम एकदम से चौंक गए।शायद उनके लिए ये सब अविश्वसनीय था।तभी शौकत ने सैम का हाथ पकड़ा और मेरी चूचियों पर रख दिया. मेरे बंजरपन के तानों को दूर कर दो… अन्दर ही निकालो…मैं अब ज़ोर-ज़ोर से पूरी ताक़त से चोदने लगा और कुछ ही पलों में मैंने अपना पूरा का पूरा वीर्य उसके चूत के अन्दर ही डाल दिया।मेरा पूरा माल निकलने के भी बाद मैं कुछ समय उसे चोदता रहा. मिल ही लेना।मैं उसे लेने पहुँच गया और देखा कि एक 35-36 साल का आदमी उसके पास खड़ा था।वो मेरे पास आई और कहा- ये हैं मेरे सर प्रवीण जी.

तो खुद ही चली जाऊँगी।और वो मुझे धक्का देकर हँसती हुई बाथरूम में भाग गई।लगभग 10 मिनट बाद जब वो वापिस आई. उस खिलाड़ी को बाहर निकालो।मैंने उसकी बात पर सहमति जताते हुए अपने सारे कपड़े उतार दिए और हम दोनों आदमजात नंगे हो गए।उसने मेरे तने हुए लण्ड को देखा तो वह एकदम पलंग से उठी और मेरे लौड़े को हाथों में ले लिया और उसकी मोटाई व लम्बाई नापने लगी।फिर अपने सीने पर हाथ रख कर बोली- हाय माँ. खाना खा कर दोनों सैम के कमरे में चले गए और मैं ड्रॉइंग रूम की लाइट बन्द करके अपने कमरे में शौकत का इंतज़ार करने लगी।करीब आधा घंटे बाद शौकत कमरे में आए.

बहुत गंदी बीएफ

पर बोली कुछ नहीं।अब उसको उठा कर मैंने उसका कुरता निकाल दिया तो उसकी ब्रा में मम्मे को देख कर तो मेरे लौड़े की हालत ख़राब होने लगी।वो ज्यादा गोरी तो नहीं है. वो सीत्कार कर रही थी।दस मिनट तक चोदने के बाद मैंने उसके बालों को अपने हाथों में ले लिया और पूरे तरीके से डॉगी स्टाइल में उसकी चुदाई करने लगा।उसकी कामुक आवाजें. और इतना कहते ही मैंने एक धक्का मारा और गीली मलाईदार चूत में लंड फिसलता हुआ सीधा बच्चेदानी से जा टकराया…भाभी के मुँह से सिर्फ ‘उईईईईई माँ.

लेकिन वो शॉट मारता रहा।कुछ देर बाद लंड ने गाण्ड में जगह बना ली थी।अब मेरा दर्द भी कम होने लगा।अब मुझे मजा आने लगा….

वो साला हमेशा उसके बारे में ही बात करता रहता था। हालांकि मैं भी उसको देखने या मिलने का बहाना ढूंढता रहता था।तभी मुझको पता चला कि हर शाम वो अपने घर के बाहर आती है.

तुम संजय के बारे में क्या बात कर रही थीं?फ्लॉरा ने संजय की करतूत के बारे में उनको बताया तो दोनों हैरान हो गईं. चल अब संभल जा… मैं तेरी सवारी शुरू कर रहा हूँ।इतना बोलकर विकास रफ्तार से गाण्ड मारने लगा। दीपाली भी ‘अई उ उफ़फ्फ़ कककक’ करती रही। दस मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई से विकास के लौड़े में करंट पैदा हो गया था। वो अब अँधाधुंध शॉट मार रहा था।दीपाली- अईयाया सर. हॉट कॉम सेक्सीसाड़ी से दिखती और बलखाती उनकी नंगी गोरी कमर देख कर मेरा लौड़ा पागल हो जाता था।मेरा मन करता था कि साली को वहीं पटक कर चोद दूँ.

सैम ने मुझे दम भर के चोदा फिर एक साथ शौकत और सैम ने मेरी चूत और मेरे मुँह को अपने वीर्य से भर दिया।मैं वीर्य को बड़े ही स्वाद से खाती हूँ, यह देख कर सैम भी मस्त हो गया और शौकत के बाद उसने भी अपना लवड़ा मेरे मुँह में लगा दिया और मैंने भी बड़े मजे से सैम का लवड़ा खूब चूसा और उसका लौड़ा एक बार फिर खड़ा हो गया।फिर चुदाई शुरू हो गई. मैं कल बताती हूँ कि कैसे दीपक को राज़ी करना है… अब तो कुछ भी हो जाए तेरी चूत की सील दीपक ही तोड़ेगा।प्रिया- थैंक्स यार उम्म्म्मा…ख़ुशी के मारे प्रिया ने दीपाली को चूम लिया।दीपाली- अब ये सब बातें भूल जा देख आज शुक्रवार है. मेरी चूचियाँ और कुछ और?फिर इतना सुनते ही मैं समझ गया कि भाभी को भी अन्दर से लंड खाने का मन है।फिर मैंने उनको जाकर पीछे से पकड़ लिया।वो छुड़ाने की हल्की कोशिश करते हुए बोली- मुझे पता है कि आप जवान हो.

” की आवाज़ आ रही थी।मेरी साँसें तेज़ हो रही थीं और चाची भी ज़ोर-ज़ोर से सीत्कार कर रही थीं। मैंने चाची को बगल से लिटा कर चोदना शुरू किया और साथ में ही उनके मम्मों को भी दबाने लगा।मेरी चुदाई और भी तेज़ हो रही थी. यह कहानी मेरी एक सहेली कनिका के बॉयफ्रेंड की है, उस के कहने पर भेज रही हूँ…हाय दोस्तो, मेरा नाम विवियन है, बी-फार्मा कर रहा हूँ, मेरी उम्र 19 वर्ष की है।मैं गांधीनगर में रहता हूँ। मैं आपको मेरी पहली सेक्स कहानी सुनाने जा रहा हूँ।मेरे घर के पास संध्या नाम की लड़की रहती थी, वो भी 18 वर्ष की भरी-पूरी जवान लड़की थी।एक दूसरी लड़की मेरी गर्ल-फ़्रेण्ड थी.

उसने शर्माते हुए बोली- मुझे लंड चूसना है।मैंने खुश हो कर उसको बैठा दिया और तुरंत अपना लंड उसके मुँह में दे दिया.

वो मेरे बाल पकड़ कर जोर से चुम्बन करने लगी।मुझे ऐसा लग रहा था कि वो मेरे मुँह से मेरे अन्दर घुस जाएगी। मेरा लंड भी एकदम लोहे जैसा टाइट होकर उसकी नाभि पर टिक गया. किसी चीज की जरूरत हो तो मुझे बुला लेना।मैंने कहा- ठीक है।वो कमरे में चली गई और मैं टीवी देखने लगा।तभी राधिका ने मुझे आवाज लगाई- पंकज जरा कमरे में आना. उसकी चूत को देखते ही मेरा लंड फिर आकार लेने लगा।मैं फिर उसकी जाँघों को सहलाने लगा और उसके ऊपर एक बार चढ़ गया।फिर हवस का तूफान कमरे में छा गया और प्रेम-रस की बारिश से हम दोनों सराबोर हो गए।मेरी चुदाई से वो मेरी दीवानी हो गई थी.

उल्लू की सेक्सी मूवी फिर मैंने उसे सीधा लिटाया और हम फिर 69 की अवस्था में आ गए।मैंने अपनी बीयर की बोतल उठाई और उसकी चूत में बीयर डाल कर चाटने लगा तो कविता की चूत में चिरमिराहट लगने लगी!वो भी मेरा लंड मुँह लेकर चूसने लगी. तो तुम ही बताओ कि तुम्हारे और तुम्हारी माँ के शरीर की बनावट में कोई ख़ास अंतर है क्या?तो वो थोड़ा सा लजा गई और मुस्कान छोड़ते हुए बोली- सॉरी राहुल.

ईईईईईईईइ…वो अपने दांत भींच कर चुपचाप तकिए में सर दबा कर रोने लगी।मेरा पूरा लंड उसकी गाण्ड में था। मैं उनकी पीठ सहला रहा था।‘भाभी सॉरी. पर चीख नहीं सकती थी। निशी की आँखों से आंसू टपक रहे थे।थोड़ी देर में उसका दर्द कुछ कम हुआ। अब वह धक्के पर ‘आह. पर इलाज भी साथ में करता चल।फिर मैं चाची की गाण्ड के पास बैठ गया और चाची की गाण्ड को देखने लगा और दबाने लगा.

बीएफ चाहिए सेक्सी सेक्सी

इन पांच दिन हमने बहुत चुदाई की और इसी बीच बाजार से मैंने एक लॉकेट भी लाकर भाभी को पहनाया और भाभी ने मंगलसूत्र समझ कर पहन लिया. मैंने उसकी पैंटी नीचे सरकाई और उसको दीवाल की तरफ घोड़ी जैसा झुका कर खड़ा कर दिया। अब मुझे उसकी गुलाबी फूली हुई चूत सामने दिख रही थी. देखते ही देखते जॉन्सन अंकल मेरे मम्मों को ज़ोर से दबाने लगे और उनको सूँघने लगे।तभी दूसरे अंकल ने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और चूमने लगे। करीब 5 मिनट तक उन्होंने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख कर मुझे चूसा। मैं कांप गई.

रात के 12 बज चुके थे।तभी मैंने हिम्मत करके पिंकी का कमरा खोजा और उसके कमरे में चला गया।वो उधर अकेली लेटी हुई थी और उसने उसने मैक्सी पहनी हुई थी. मैंने ज़्यादा वक़्त बर्बाद करने की जगह बोला- तुम्हारा चेहरा इतना खूबसूरत है कि जो अब देख रहा हूँ तो कहीं और देखने का मन नहीं करता.

क्योंकि पार्क में और सब करना मना भी था और अनुचित भी था।मैंने बातों-बातों में उससे पूछा- तुम मेरे साथ कैसे सेक्स करना पसंद करोगी?तो उसने अपनी माथे की क्लिप एक हाथ से उल्टा करके दिखाते हुए बोली- इस तरह से मतलब वो ऊपर.

मैंने उसकी कमीज़ को निकाल दिया और ब्रा को ऊपर की तरफ करके मैं उसकी चूचियों को चूसने लगा। उसके निप्पल सख्त हो गए थे।मैंने उसको पेड़ के साथ चिपका कर खड़ा किया और उसकी गाण्ड पर हाथ फिराया। फिर मैंने उसकी सलवार में हाथ डाल कर उसकी नंगी गाण्ड पर हाथ फिराया, मैंने एक ऊँगली उसकी गाण्ड में डाल दी. ईमेल किया ज़ाएगा।दोस्तो, यह कहानी मेरी एक नेट फ्रेंड शिवानी की है जिसने मुझे अपनी चुदाई की दास्तान बताई और मैंने उसे शब्दों में पिरोया है।आप शिवानी मेम की जुबानी इस कथा का आनन्द लीजिए।प्रिय पाठको, हैलो. तो पहले वाली मेरे बाजू में आई और बोली- चल अब चूत की खुजली मिटा दे।अब तक मेरा भी पूरी तरह से टाइट हो गया था.

पता नहीं चला।अब मेरे हाथ उसके स्तनों पर अपना दबाब बना रहे थे।फिर मैंने उसके गालों को चुम्बन करते हुए उसके कन्धों तक आया और फिर उसकी मदमस्त चूचियों को चूसने लगा।पायल की सिसकारियां बढ़ती जा रही थीं।वो अपने हाथों से मेरा सर दबा रही थी. chut kooStranger: ahha ahahYou: maine moo poora gadh diya…You: chut mainYou: aur uska pani chatne lagaStranger: ahha ahStranger: ahh ahaStranger: bas karoahhaYou: meri ungli gaand main gayiYou: aur…fasss gayiStranger: ahh aahStranger: ayiiiiiiiStranger: ahhhhStranger: mar gaiStranger: ahhha hahaaStranger: jaanuStranger: nikalo ahhStranger: tna math karoYou: maine…. फिर मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी।अब वो मेरे सामने पूरी नंगी थी।मैं उसके मम्मों को ज़ोर से मसलने लगा और वो चिल्लाने लगी।मैं उसकी चूचियाँ चूसने लगा, निप्पल भी चूसने लगा.

देखो कैसे झांक रही है झरोखे से…मैंने नलिनी भाभी को बाँहों में कसकर उनके लाल होंठों को चूमते हुए कहा।और उन्होंने…कहानी जारी रहेगी।.

बीएफ चुदाई वीडियो भोजपुरी: जैसे ओखली में मूसल चल रहा हो।उसकी चीखने की आवाजें, ‘उउउम्म्म आआअह्ह्ह् श्ह्ह्ह्ह् अह्ह्हह आह आआह’ मेरे कानों में पड़ कर मेरा जोश बढ़ाने लगीं।जिससे मेरी रफ़्तार और तेज़ हो गई और मैं अपनी मंजिल के करीब पहुँच गया। अति-उत्तेजना मैंने अपने लौड़े को ऐसे ठेल दिया जैसे कोई दलदल में खूटा गाड़ दिया हो।इस कठोर चोट के बाद मैंने अपना सारा रस उसकी गाण्ड के अंतिम पड़ाव में छोड़ने लगा और तब तक ऐसे ही लगा रहा. अब अमित ने धक्के लगाना शुरू कर दिए।कुछ देर बाद विन्नी अमित को पकड़ कर मस्ती में चिल्लाती हुई ‘फक्क मी.

और दूसरी उसके ऊपर घोड़ी बन कर उसे चुम्बन कर रही थी।मैंने लंड को फिर से घोड़ी वाली की चूत में डाल दिया।थोड़ी देर चोदने के बाद नीचे वाली के छेद में डाल दिया. मैंने क्लासिकल भी सीखा है।रजनीश बोला- तो मुझे एक नमूना दिखाओ ना।विभा बोली- फिर कौन सा डान्स करूँ?रजनीश बोला- जो तुम्हें अच्छा लगे वो. जो कि बिस्तर पर उल्टी लेटी हुई थी।मैंने उसकी गाण्ड पर ज़ोर से थपकी मारी तो वो डर कर उठ बैठी मैंने कहा- साली मेरे लण्ड को साफ कौन करेगा.

मैं फालतू में मारा जाऊँगा।दीपाली ने लौड़े पर हाथ रख दिया और बड़े प्यार से सहलाती हुई बोली।दीपाली- बाबा कोई नहीं आएगा प्लीज़.

तब उसने मुझे भी इशारा करके डांस-फ्लोर पर बुला लिया।मैं उसके पीछे खड़ा हो गया और डांस करने लगा।थोड़ी देर में मैंने उसकी कमर को पीछे से पकड़ते हुए डांस चालू रखा और डांस-डांस में थोड़ी देर में ही अपना पूरा बदन. मैं खाना खाकर अपने कमरे में आधे डर और आधे मन से सिगरेट पी रहा था और साथ ही एक अगरबत्ती भी कमरे में जला दी थी।टीवी पर फैशन चैनल ऑन करके देखने लगा।धीरे-धीरे अपने लोवर पर हाथ बढ़ाया. बाद में!मैं उसके लंड को बुरी तरह चूसने लगी लेकिन क्षण भर में ही उसने ऐंठते हुए लंड से पिचकारी छोड़ दी।मैंने उसके वीर्य को अपने गले के अन्दर उतार लिया।उसने कहा- यह क्या हुआ.