स्कूल लड़की का बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,हिंदी देसी सेक्स स्टोरी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो तेल मालिश: स्कूल लड़की का बीएफ वीडियो, कुछ दिन के बाद मेरे पति आ गए, तो मैं संजय के घर दिन में जाकर चुदवा लेती थी.

जनावर सेक्सी व्हिडिओ

उनकी चूत से भी एक अलग सुगंध आ रही थी, लेकिन जीभ पर एक अलग स्वाद था. मैसेंजर डाउनलोड करना हैकाफी देर तक ऐसे ही मेरी दीदी के बदन को चूसने के बाद उसने दीदी को नीचे बैठा दिया.

पंजाबी दुल्हन का चूड़ा, पायल, नाक की नथ, बिंदी, मंगल सूत्र, सिंदूर सब कुछ था. जैसलमेर का सेक्सी वीडियोआह्ह … स्सस … उफ्फ … ओह्ह … करते हुए मैं मामी के मुंह में लंड को पेलने लगा.

मैंने पीछे से अपना लंड रीता की चुत की फांकों में सैट किया और बिना कोई इशारा दिए मैंने पूरी ताकत से लंड को पेल दिया.स्कूल लड़की का बीएफ वीडियो: जब मैंने वापस जाने के लिए बाइक घुमाई तो वो बोली- जानू, कोल्ड ड्रिंक पीकर जाना.

मैं उनकी तरफ अपना हाथ बढ़ाया तो इस पर भाभी बोलीं- यहां नहीं … छत पर चलते हैं.पहले तो दोनों ने ऐसा दिखाया, जैसे सोने से पहले कोई काम था, वो कर लिया हो.

हिंदी सेक्सी सुपरहिट - स्कूल लड़की का बीएफ वीडियो

सोमेश भी लंड पेलता हुआ कभी नेहा दीदी के दोनों मम्मों को पकड़ लेता, कभी कसकर हाथ से मम्मे पर थप्पड़ मार देता.क्या आप पक्का किसी और से चुदना चाहती हो?तो मोनिषा आंटी ने मना करते हुए कहा- वैसे तो मेरे लिए तुम और तुम्हारा लंड ही काफी है.

मैं इस बात से खुश था कि यदि नाटक कर रही हैं, तो मेरी पूरी लाइन क्लियर है. स्कूल लड़की का बीएफ वीडियो उस सेक्सी टीचर ने मेरी अन्तर्वासना, कामुकता जगायी, मुझे चुदाई, ज़िन्दगी जीना सिखाया.

अब मैंने सोच लिया कि इसे जो भी करना है, कर लेने देती हूँ क्योंकि विरोध का कोई लाभ नहीं था.

स्कूल लड़की का बीएफ वीडियो?

आपका अमित दुबे[emailprotected]यह थी पूजा की दुख भरी कहानी! यही है हमारे समाज का नारी सम्मान. मिहिर को एक मिनट भी नहीं हुआ था कि उर्वशी ने अपनी बेसब्री दिखाते हुए मिहिर के मुंह को अपने हाथों से उठाते हुए उसके होंठों को जोर से चूस डाला. रात हुई तो उर्वशी को अकेलापन सताने लगा और वो सोच रही थी कि वो मिहिर से बात करे या ना करे? अपने पति के अलावा पहली बार वो किसी ग़ैर मर्द के बारे में सोच रही थी.

फिर उसने मेरी गांड से अपना लंड निकाला और मेरी गांड को देख कर हंसने लगा- अबे भोसड़ी के तेरी तो फट गई रे … पूरा होल हो गया. अब तो ऐसा है कि बहुत सी महिलायें मुझे मसाज के लिए बुलाने लगी हैं।रिया की चूदाई कैसे हुई; फिर कभी ये भी बताऊँगा।मेरी ये ब्यूटी पार्लर में सेक्स की सच्ची कहानी कैसी लगी बताना ज़रूर।[emailprotected]. वो जब बाथरूम से नहा कर निकलता है तो मेरा मन करता है कि उसके तौलिया को उतार दूं और उसके जिस्म को नंगा देखूं.

शाम को खाना खाते समय भाभी ने कहा कि रात को तुम मेरे कमरे में आकर ही पढ़ाई कर लेना. वो अपने घूंघट को ठीक करने लगी तो मैंने कह दिया कि ऊषा ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है. हम दोनों एक दूसरे से चिपक गई और एक दूसरे को बहुत देर तक किस करते रहे.

मुठ मारने में इतना मजा कभी नहीं आया जितना मामी के मुंह में लंड को देकर आ रहा था. घर में उनकी बहू थी जो अपनी नन्हीं सी नवजात बच्ची के साथ अपने कमरे में ही लेटी हुई थी.

वो बोली- डार्लिंग आपने मुझे इस स्वर्ग में भेजा हो, मुझे ऐसा लग रहा था.

शाम को तो माँ सूट पहनती थीं, मगर सुबह वो हमेशा नाईटी में ही होती थीं.

फिर बुआ ने कहा- खाना खा लें क्या?मैंने कहा- बुआ आप बुरा न मानो, तो आज मैं थोड़ा एन्जॉय कर लूं?बुआ ने आंखें नचाईं और पूछा- कैसा एन्जॉय?मैंने अंगूठा उठाया और दारू पीने का इशारा किया. आखिरकार पूर्वी भी जवानी पर है … उसे भी लंड की जरूरत होगी और उसके लिए वो कहीं बाहर क्यों जाए, जब घर पर मेरा लंड उपलब्ध है. मैं बोला- मैं निकालने में आपकी हेल्प कर देता हूँ … बस आप अपने दोनों पैर ऊपर कर दो.

सोमेश भी लंड पेलता हुआ कभी नेहा दीदी के दोनों मम्मों को पकड़ लेता, कभी कसकर हाथ से मम्मे पर थप्पड़ मार देता. उस कहानी में मैंने अपनी संख्या न जोड़कर परिवार में सिर्फ 6 लोगों का ही लिखा था. वो मुझ पर गुस्सा होने लगीं कि किसी और कि निजी सामग्री तुम्हें नहीं देखनी और लेनी चाहिए.

मैंने आंटी से पूछा- अब ज़रीना कैसी है? आप किधर जाने की तैयारी में हैं?आंटी बोलीं- बेटा तुम ही उससे बात करो … वो मेरे से तो बात ही नहीं कर रही है.

लेकिन प्रीति मुझे नंगा देख कर एकदम सदमे में टॉयलेट में खड़ी रह गई थी. मैं उस झटके से चिहुँक उठी क्योंकि उसका सुपारा सीधा मेरी बच्चेदानी से जा टकराया था और एक मीठा से दर्द नाभि तक फैल गया. फर्श पर नीचे झुक कर झाड़ू लगाते वक़्त ढीली कुर्ती के अन्दर उसके स्तनों का गोरा गोरा उभार दिखने से मुझे मानो आग सी लगने लगी थी.

इसी तरह 7 महीने पहले दोनों गांव आए हुए थे, तब सरस्वती ने उसे संभोग का मौका दिया और फिर दोनों ने मर्जी से किया. अब मैं सोच रहा था कि मामी को अपने अपने मन की मंशा के बारे में कैसे बताऊं. मैंने तेजी से अपने लंड की मुठ मारते हुए मामी से बातें करना जारी रखा.

उसने मेरी तरफ हंसते हुए देखा, तो मैंने पूछा- बड़े खुश नजर आ रहे हो … क्या हुआ?मुझे पता था कि वो भी भाई बहन की चुदाई का मजा लेने के लिए बेचैन हो रहा है.

मैंने जोर से धक्का मारने का प्रयास नहीं किया क्योंकि मैं आंटी को दर्द नहीं देना चाहता था।धीरे से मैंने प्रमिला आंटी की चुत में पूरा लंड डाल दिया और उनके ऊपर थोड़ी देर लेट गया, उनको किस करने लगा. मैंने पूछा- क्या हुआ भाभी?वे बोलीं- इतना बड़ा लंड … ओ माइ गॉड … तुम्हारे भैया का तो इससे बहुत छोटा है.

स्कूल लड़की का बीएफ वीडियो दोनों के दोनों नंगे थे और मामा ने मामी की चूत को चोदना शुरू कर दिया. तभी उसने मेरी आंखों में झांकते हुए अपने हाथ पीछे ले जाकर अपनी ब्रा को भी उतार दिया.

स्कूल लड़की का बीएफ वीडियो उसके रसीले होंठों को चूसने लगा तो वो पीछे हटने लगी लेकिन मैंने उसको अपनी तरफ खींच लिया. मगर फिर मैंने बहुत मेहनत की और जिसके कारण स्कूल में मैनेजर व प्रिंसीपल साहिबा की नजर में मेरा ओहदा काफी बढ़ गया था.

करीब दस मिनट तक मैंने उसकी चूत को चोदा और फिर जब मेरा माल निकलने को हुआ तो मैंने उसकी चूत से अपना लंड बाहर निकाल लिया और उसके मुंह में दे दिया.

कार्टून सेक्सी ओपन

मेरी कजिन सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपने चाचा की हॉट जवान बेटी की कुंवारी बुर की चुदाई की. मैं दोस्त को आवाज देने ही वाला था कि इतने में बाथरूम का दरवाजा खुला, मैंने देखा कि मेरे दोस्त की माँ मोनिषा मेरी आंखों के सामने सिर्फ टॉवेल लपेटे हुए थीं और वो टॉवेल भी बस मोनिषा आंटी को नाम मात्र ही ढक रहा था. देखते ही देखते सौम्या अचानक बहुत वाइल्ड हो गई और मेरी जीन्स भी उसने उतार दी.

मैंने पेंटी की फूली हुई पहाड़ी पर हाथ फेरा, तो उसमें छुपी हुई चूत बेहद प्यारी लग रही थी. अब तो मैंने लगातार उसे ऐसे चोदा कि वो मदहोश हो गयी और उसके मुख से तरह तरह की आवाजें आने लगी थी. लेकिन जॉयश इस बात का ध्यान रख रही थी, 5 मिनट होते ही वह मंगल के बाल पकड़कर उसका सिर दूसरी की चूत पर रख देती थी.

तो मैंने डर की वजह से जल्दी से अपने आप को छुड़ाया और दरवाजा खोलकर किसी तरह से वहाँ से निकल भागा।दोस्तो यह मेरी सच्ची कहानी है।फिर उस दिन के बाद मैं काफी उसके बारे में सोचता क्योंकि सुशी एक पीढ़ी लिखी और काफी सेक्सी लड़की है, उसने एम ए की पढ़ाई की है, उसके बूब्स लगभग 36″ के होंगे और मेरे दोस्त की बहन दिखने में भी बहुत सुंदर है.

उसने चूमते हुए मेरे कानों में बोला- मेरा लंड चूसोगी?मैंने भी जवाब दे दिया- हां चूस दूंगी. ये सब सोच कर मुझे लगा कि सुरेश बचपन का साथी है और वर्तमान दौर में वो पत्नी के न रहने से सेक्स का भूखा भी है. मैं उससे कन्नी काटती हुई बाहर निकली और उसे कहा- काफी देर से तुम यहां हो … किसी ने देखा तो गलत समझेगा.

ये बात न उसने पूछी कि मैंने किस से चुदाई करवाई है और न मैंने उससे पूछा कि तुमने सबसे पहले किसे चोदा था. क्या हम लोग दोस्त बन सकते हैं?आंटी मेरे बात का मर्म समझ गईं, उन्होंने कहा- हां बिल्कुल बन सकते हैं. मैंने उससे जब ये वादा किया कि जब तुम लोगों को लगे, मुझे कॉल कर देना … मैं खुद आ जाऊँगी.

सुनील को मेरी स्थिति का अंदाजा हो गया और उसने खुद ही मेरा गाउन कमर तक ऊपर उठा लिया. मुझे उस वक्त तक लंड के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी कि ये दुबारा भी खड़ा हो सकता है, यदि कुछ देर कोशिश की जाए.

यहां पर मैं बता दूं कि इंदौर और पालदा के बीच में कुछ दूरी का सुनसान इलाका पड़ता है. हमउम्र मौसेरे भाई बहन माउंट आबू घूमने गए तो दोनों की वासना जाग उठी और …मेरा नाम अतुल कुमार है। मैं झांसी का रहने वाला हूं। यह कहानी मेरे और मेरी मौसी की लड़की के बीच में हुई एक घटना की है. उसके बाद उसने मुझे छोड़ दिया, लेकिन आखरी दो दिन पूरे गैंग ने मेरी लगातार चुदाई की.

देखने वाले लड़के ये सब देख कर हंस रहे थे और बोल रहे थे कि आह क्या चूचियां है … एक बार सोमेश भैया को ढंग से चखा दो नेहा … हम तो तुम दोनों के गुलाम हो जाएंगे.

तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी हॉट आंटी के साथ शॉवर सेक्स वाली चुदाई की कहानी, मुझे ईमेल करके जरूर बताएं. आखिर मैं समझ गया कि वो अब मना नहीं करेगी, तो मैंने समीज उतारनी शुरू की. मैंने लंड को उसकी सांवली सी चिकनी चूत पर रखा और एक जोर का धक्का दे मारा.

सात या आठ मिनट तक चाची और मामी आपस में एक दूसरे से बातें करती रहीं. जिसके कारण आवाज पूरे रूम में गूंज रही थी और प्रमिला आंटी भी आवाजें कर रही थी।अब मेरा पानी भी निकलने का समय आ गया था और प्रमिला आंटी भी कहने लगी- और जोर से … अब मेरा पानी निकलने वाला है.

वो बाइक में मुझसे बिल्कुल सट कर बैठी थी, उसके हाथ मेरी बांहों में लिपटे हुए थे. मैं उस झटके से चिहुँक उठी क्योंकि उसका सुपारा सीधा मेरी बच्चेदानी से जा टकराया था और एक मीठा से दर्द नाभि तक फैल गया. तुम्हें बुरा तो नहीं लग रहा है?वो बोली- नहीं पिता जी, जो होता है अच्छे के लिए ही होता है.

सेक्सी लड़की और कुत्ते की

इतना कहकर उसने मेरे कपड़े उतारने शुरू कर दिए और मुझे पूरा नंगा कर दिया.

सफर की थकान उतारने के लिए पूजा नहाने चली गई और मैं पास के ही होटल से खाना, चाय लेने चला गया. अब मैं उसके पेट पर अपनी जीभ फेरने लगा, उसकी गहरी नाभि को चूमने लगा. उन्होंने संजय के लंड को पकड़ा और बोलने लगीं- अब देर न करो मेरे राजा … जल्दी से लंड पेल दो … मेरी चूत की प्यास बुझा दो.

फिर मैंने पूछ लिया कि मेम अभी आपने भी तो मुझे सेक्सी कहा, तो इसका क्या मतलब है?उसने कहा- तुमने भी तो मुझे सेक्सी कहा, तो इसका मतलब समझा. फिर साहब ने एक जोर का धक्का मारा तो जैसे मेरी जान निकल गई और पूरा लंड मेरी कुंवारी चूत में उतार दिया. क्लोज व्हाट्सएपमेरी उंगली जैसे ही अन्दर बाहर होती, वो ‘आह उईईईई मआ माँ सीईईईईई आह अमित धीरे करो.

उसकी फ़ोटो देख कर कहीं से नहीं लगता था कि वो एक बच्चे की माँ भी बन चुकी है. इसी बीच बातों-बातों में पता चला कि उसकी केवल एक बेटी है, जो बाहर पढ़ रही और पत्नी का 2 साल पहले बीमारी की वजह से स्वर्गवास हो गया.

फिर वो मेरे ऊपर आकर बोली- सबसे पहले तुम्हारा मूड बनना जरूरी है, तभी तुम्हें मजा आएगा. मैंने कहा- आप बहुत दिल की अच्छी हैं, मैं आपके जैसी गर्ल फ्रेंड ही ढूंढ रहा था. तब मैं बोला- वह देखकर नहीं मालूम किया जा सकता, उसे चैक करने के लिए कुछ करना पड़ेगा, तभी पता चलेगा.

मैंने उनको खूब हिलाया लेकिन वो गहरी नींद में सोने का नाटक कर रही थीं. सुरेश ने फौरन से अपना लिंग एक झटके में मेरी योनि की गहराई में उतार दिया. बीस मिनट तक उन्होंने मेरी चूत को चोदा और जब लंड बाहर निकाला तो मैंने उठ कर देखा कि बेड पर खून गिरा हुआ था.

जब मैंने ढंग से नहीं किया, तो दीदी ने मुझे हटा दिया और खुद ही करने लगी.

मैंने कहा- क्या करूं मैडम … अभी तक किसी की चुदाई नहीं की है ना इसलिए कंट्रोल नहीं हो पा रहा है. जब मैं अपनी बहन के लिए लड़का देखने गया था तो मुझे वहाँ पर उस लड़के की बहन पसंद आ गयी और मुझे लड़का भी पसंद आ गया.

फिल्म हॉल के घने अंधेरे में भी हम एक दूसरे की आंखों में देख रहे थे. घर आये हुए मुझे एक सप्ताह ही हुआ था कि मेरे लंड ने मुझे फिर से परेशान करना शुरू कर दिया. इस सेक्सी स्टोरी में कामुकता से भरपूर मेरी दीदी की चुदाई की दास्ताँ पढ़ें.

पहले तो मेरी बहन छुड़ाने की कोशिश करती रही मगर दो मिनट के अंदर ही उसको मजा आने लगा. उसने अपना हाथ मेरे मुँह पर रखा और ठोकर देते हुए कहा- धीरे ही तो डाल रहा हूँ मेरी जान … धीरे से चिल्ला मेरी रानी … मैं अपने संबंध जिंदगी भर जारी रखना चाहता हूँ … और तुम चिल्ला कर सारे मोहल्ले को बता देना चाह रही हो. कुछ समय बाद मैं दो टिकट खरीद लिए और टिकट लेकर अपनी सीट पर आकर बैठ गया.

स्कूल लड़की का बीएफ वीडियो साहब ने मेरे ऊपर चोरी का इल्जाम लगाया तो मैं वहीं खड़ी-खड़ी कांपने लगी. अचानक भाभी की चूत से पानी की फुहार निकली और वो बोल पड़ी- आह … कितने दिनों के बाद मेरी ऐसी चुदाई हुई है … आज से मैं तुम्हारी हूँ … और आगे भी तुम्हारी ही रहूँगी मेरे राजा.

सेक्सी ओपन बताओ

मैंने कहा- कल तुम्हारा एग्जाम है और तुम हाफ गर्लफ्रैंड पढ़ रही हो?ऐसा कहते हुए मैं उसकी तरफ देख रहा था और मैंने देखा समीज में कसी उसकी चूचियां सच में लंड खड़ा करने के लिए काफी थीं. लेकिन प्रीति मुझे नंगा देख कर एकदम सदमे में टॉयलेट में खड़ी रह गई थी. मगर उधर शिफा को देख कर इंशा ने भी अपना लहंगा ऊपर उठाया और दोनों सहेलियां एक दूसरे के सामने अपनी अपनी फुद्दी रगड़ने लगी.

शाम को तो माँ सूट पहनती थीं, मगर सुबह वो हमेशा नाईटी में ही होती थीं. मैं आज की रात अपने दोस्त के घर रहूँगा, जिससे आपको कोई परेशानी ना हो. कैमरा चालू करोवो गर्मी के कारण ऊपर छत पर सोने आ गयी और मेरे बगल में चटाई बिछाकर सो गईं.

कुछ ही देर में मेरा फोन बजा और उसने मुझे अपनी कार का बताया कि किधर खड़ी है.

दस मिनट बाद वो फिर से मेरी चूत में अपना लंड डाल कर मेरी चूत को चोदने लगा. कुछ देर के बाद सोनू नीचे वाले फ्लोर का ताला लगा कर आ गई और चाबी लाकर उसने सामने मेरी स्टडी टेबल पर रख दी.

पायल की चूत से जैसे ही लंड बाहर आया मेरे लंड से पिचकारी छूटने लगी जो सीधी उसके चूचों तक जाकर लगी. वो खुश हो गई और उसने कहा- आप मुझे मेरे साइज के कपड़े ले आओ, तब तक मैं थोड़ा धंधा कर लेती हूँ. मेरे पिता एक बिज़नेसमैन हैं और वो काम के सिलसिले में अक्सर बाहर ही रहते हैं.

उसके बाद भी कई बार मौका पाकर मैंने उस सेक्सी औरत की प्यासी चूत को चोदा.

उसने भी कराहते हुए कहा- आह … यस मेरा भी …बस हम दोनों दस बारह तेज तेज शॉट के साथ झड़ गए. करीब 10 मिनट तक उसकी बुर चूसता रहा मैं और वो अपने हाथों से मेरा सिर उसकी बुर पर दबाये जा रही थी।थोड़ी देर में उसकी बुर ने रस छोड़ दिया जो मैं सारा का सारा पी गया. आह्ह … उम्म … ओह्ह … मस्त मजा आ रहा है … और जोर से … चोदो … आह्ह … तुम्हारा लंड तो मस्त है एकदम.

वीडियो सेक्सी पिक्चर फिल्मलेकिन आप खुद सोचिये कि जब मेरी हॉट दीदी को जीन्स में सभी लड़के घूरते रहते थे तो बिकिनी में तो वे दीदी को देख कर पागल ही हो जाते. खास तौर पर वे, जो पारंपरिक रूप से संभोग करती हैं और जिनके पुरुष साथी केवल अपनी जरूरत पूरी करने में विश्वास रखते हैं.

गांव की देसी चुदाई सेक्सी

मैं भी देख कर हैरान था कि मेरी बहन सच में इतनी चुदक्कड़ और चुसक्कड़ हो चुकी है कि वो पूरे लंड आराम से मुंह में लेकर चूस लेती है. मेरा एक हाथ उसके चूचों को दबाने लगा और दूसरे हाथ से मैं उसकी चूत को सहलाने लगा. अगले महीनों में क्या क्या हुआ था, वो अगली कहानी में डिटेल में बताउंगा.

फिर कुछ दिन बाद भाभी शाम को बच्चों को लेने मेरे घर पर आई थीं, तो मैंने भाभी से पूछा- आपने मुझे कुछ देने का वादा किया था ना … क्या हुआ उसका?भाभी ने हंस कर पूछा- हां बोलो न … क्या चाहिये?मैंने बोला कि मुझे आपको चोदना है. उसने बताया कि कोई दोस्त बना भी तो बस उसके साथ सेक्स करने के लिए …दोस्तो, मैं अमित दुबे हूँ. मैं थरथराने लगी और अपनी योनि को लिंग पर धकेलते हुए उसके सीने पर गिर पड़ी.

इधर भाभी ने उस मूली को पतली तरफ से चाकू थोड़ा सा काटा, उस सिरे को गोल लिया लंड के टोपे की तरह पर कंडोम को अच्छे से चढ़ा दिया. लाला ने भैंस के चारों तरफ घूम कर देखा और फिर माँ की ओर देखते हुए उसने अपने हाथ की एक उंगली हमारी भैंस के पिछवाड़े में डाली और थोड़ा सा आगे पीछे किया. वे तब तक हमारे घर में बने रहते थे, जब तक उनकी मम्मी यानि भाभी जी ऑफिस से नहीं आ जाती थीं.

मैंने उसकी दोनों निप्पल मींजते हुए उससे पूछा- अब कैसा लग रहा है?ज़रीना मादक स्वर में बोली- उंह … बहुत अच्छा … आप ऊपर सहला रहे हो और मुझे नीचे की तरफ़ गुदगुदी हो रही है. वो बोली- तुम मुझे आप क्यों कह रहे हो, मैं तुमसे उम्र में इतनी बड़ी हूं क्या? मुझे ‘तुम’ कह कर ही बुलाया करो.

अंत में दोनों शांत हो एक दूसरे को बांहों में समेट कर हांफते हुए लेट गए.

फिर मैंने उसे लेटाया और उसकी चूत में उंगली से सहलाने लगा तो वो मदहोश होने लगी. ओडिशा सेक्सी वीडियोमैंने अपने हाथ को पेट के रास्ते उसके कुर्ते में घुसा दिया और उसके मम्मों को ब्रा के ऊपर से ही मसलने लगा. सेक्स वीडियो गांवउन्होंने बताया कि अंकल के शरीर से जो गंध आती है, वो मुझे पसन्द नहीं है. मैंने लंड बुर से निकाल कर ज़रीना के मुँह में दे दिया और ज़रीना भी ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी.

ये सुनकर बहन बोलीं- ठीक कह रहीं भाभी … घर में कम से कम बदनामी तो नहीं होगी.

एक बार मैंने उसके निप्पल को काट लिया, तो वो ‘आउच …’ बोल कर बोली- आराम से चूसो … ये अब सिर्फ़ तुम्हारे ही हैं. लेकिन उसकी चुत की दीवारों को मेरे मोटे लंड से बड़ा दर्द होने लगा था. लाइन में दूसरे सिरे पर खड़ी एकता को इसी तरह उत्तेजक प्यार करने लगा.

मैंने उसकी चुत के होंठों को उंगली से फैला दिया और कहा- मूतो मेरी रानी. पांच मिनट तक स्वरा दीदी की चूत को अपने मोटे लंड से रौंदने के बाद उसने एकदम से झटके देने शुरू कर दिये. कुछ देर तक उसकी जांघों को सहलाने के बाद मैं उसके कम्बल में घुस गया.

covid-19 सेक्सी

उर्वशी को मिहिर का लंड देखने में इतना रसीला लगा कि उसने पल भर की देरी किये बिना ही मिहिर के लंड को अपने लबों में अंदर तक समा लिया. मैंने स्थिति को भाँप लिया और अब जोर देने लगी कि यदि हम तीनों मिले, तो क्या क्या और कैसे कैसे करेंगे. और सब लोग हंसने लगे, माहौल हल्का हो गया था क्योंकि अब सब की सब पूरी तरह नंगी हो चुकी थी और उस हॉल का दृश्य ही बदल गया.

तभी भाभी मेरे लोवर में हाथ डालकर मेरी अंडरवियर में से ही मेरे लंड को सहलाने लगीं.

मैं मॉम को गंगा के दूसरी तरफ वाले घाट पर ले गया, जहां बहुत कम लोग नहाते हैं.

भाभी फिर से चीख पड़ीं- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … बहनचोद … जान लेगा क्या …फिर मेरे मुँह से भी गाली निकलने लगी- साली रंडी कुतिया … आज तो तेरी इतनी चुदाई करूंगा कि फिर कभी किसी और के लंड को लेने का नाम नहीं लेगी. मैं उसको बोल देती थी कि जिस दिन मौका मिलेगा, उस दिन ब्रा और पेंटी पहन कर दिखा दूंगी. চুদাচুদিহিনদিमैंने उससे कहा- ऐसा क्या है मोनिषा आंटी में … जो तू उसे चोदना चाहता है?उसने कहा- भाई इस टाइम मोनिषा को देखा है तूने … कितनी हॉट और सेक्सी हो रही हैं.

अनायास ही सम्भोग की स्थिति बन जाने से, कुछ डर और घबराहट की वजह से मेरी योनि गीली ही नहीं हुई थी. उस दिन जब मैंने उसको गाउन में देखा तो पता लगा कि ये किसी भी नौजवान लंबी रेस के घोड़े को हांफने पर मजबूर कर सकने वाले गुणों से भरी हुई जवानी की तिजोरी है. वो धीरे धीरे मेरा साथ देने भी लगीं मगर कभी कभी मुझे रोकने का प्रयास भी करती रहीं.

विभोर और मैं जब स्कूटी से बाहर घूमने जाते थे तो मैं स्कूटी चलाती थी, विभोर पीछे से मेरी चूची दबाता था. एक दो लड़कों को मैंने ओर भी मौका दिया, पर वो अकेले में मुझे मसलते, मेरे जिस्म के मजे लेते … पर मुझे एक दोस्त का सम्मान कभी नहीं देते.

मेरी यह भाई से चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी इसके बारे में कमेंट करके मुझे बतायें.

अमित अभी तक मुझे कहीं प्यार नहीं मिला … और मैं जैसी मोटी, भद्दी हूँ, उसे देखकर मुझे नहीं लगता कि आगे भी मुझे प्यार मिलेगा. वो भी मेरा लंड को आइसक्रीम समझ कर पूरा मुँह के अंदर तक लेकर चूस रही थी. अब मैंने मेरा लंड बाहर निकाल कर उसके मुँह में देना चाहा, तो एक बार तो उसने मना कर दिया.

हिंदी हॉट सेक्स वीडियो उसके बाद उसने मेरी पैन्ट का हुक खोला और पैन्टी सरका कर मेरी चूत में उंगली करने लगा. उससे अब रुका नहीं जा रहा था, क्योंकि वो पूरी तरह से उत्तेजित हो चुकी थी.

मगर मुझे मालूम था कि दुबारा के सेक्स में ज्यादा समय लेगा और अभी रात काफी हो चुकी थी. कुछ देर बाद वो भी झड़ने वाला था। उसके चोदने की रफ़्तार का कुछ पता ही नहीं चल रहा था।मेरी चूत ने भी अपना माल निकाल दिया। उसने माल चूत में लगे लगे ही कुछ देर तक चोदा। उसके बाद मेरी चूत से अपना लंड निकाल कर वो भी मुठ मार कर मेरी चूचियों पर ही झड़ गया।और उसके बाद कभी भी उससे चुदाई का मौक़ा नहीं मिला मुझे! ना ही मैंने कोई कोशिश की उस लंड से चुदने की. मैंने पूछा- और आपकी बेटी?मामी ने कहा- उसको मेरी मां अपने घर लेकर चली गई.

ಇಂಗ್ಲಿಷ್ ಸೆಕ್ಸ್ ಪಿಕ್ಚರ್

मॉम ने पूछा- कहां जा रहे हो?मैंने इशारे से दो उंगलियां दिखाईं और वहां से चल दिया. जब दरवाजे के पास पहुंच गई तो मैंने उनको आवाज देकर कहा- भाभी, आज आप बहुत खूबसूरत लग रही हो. मैं खड़ा हुआ और उसकी टांगों को फैलाकर अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रख दिया.

मुझे देख कर भाभी फिर से हंसने लगीं और बोलीं कि अब जब भी किसी को पसंद करो, तो खुल कर इजहार कर देना. उसके लंड के आकार का अंदाजा मैं उसके पैंट के ऊपर ही लगा रही थी और उस स्पर्श से मैं फिर से जोश में आने लगी थी.

इसी बीच मेरी कामुकता बढ़ रही थी, तो मैं मॉम की नाभि में उंगली करने लगा.

हम दोनों इतने उत्तेजित और गर्म थे कि हमने एक दूसरे का पूरा साथ दिया … हर दर्द पीड़ा को भूल कर एक दूसरे को आत्मसात करने की कोशिश कर रहे थे. ठीक इसी तरह वो एक लय में धक्के मारता और फिर जोर जोर के 3-4 टापें मार कर फिर वापस उसी लय में धक्के मारने लगता. मैंने हॉट आंटी के दोनों बड़े बड़े मम्मों को दबाना शुरू किया और होंठों में लगातार किस करते हुए आंटी के मम्मों को दबाता रहा.

वो बार बार बोल रही थी कि समीर प्लीज … बाहर निकालो … मुझे बहुत दर्द हो रहा है. कुछ देर बाद वो भी झड़ने वाला था। उसके चोदने की रफ़्तार का कुछ पता ही नहीं चल रहा था।मेरी चूत ने भी अपना माल निकाल दिया। उसने माल चूत में लगे लगे ही कुछ देर तक चोदा। उसके बाद मेरी चूत से अपना लंड निकाल कर वो भी मुठ मार कर मेरी चूचियों पर ही झड़ गया।और उसके बाद कभी भी उससे चुदाई का मौक़ा नहीं मिला मुझे! ना ही मैंने कोई कोशिश की उस लंड से चुदने की. रात हुई तो उर्वशी को अकेलापन सताने लगा और वो सोच रही थी कि वो मिहिर से बात करे या ना करे? अपने पति के अलावा पहली बार वो किसी ग़ैर मर्द के बारे में सोच रही थी.

ये सुनकर वो एकदम से मेरे पास आई और मुझे अपने पास खींचते हुए बोली- अरे अमित एक दो किस तो करो … पूरे सफर से तुम मुझसे दूर दूर ही हो.

स्कूल लड़की का बीएफ वीडियो: शायद वो भी ये बात समझ गई थीं कि मुझे उनके चूचों की नाली देख कर मजा आता है, इसीलिए वो मुझसे और भी चिपक कर बैठ जातीं और मुझे पढ़ाने लगतीं. मैं तुरन्त ही मॉम के कान में बोला- चल मेरी प्यारी रंडी मेरा लंड चूस ले.

आख़िरकार दो मिनट से भी ज़्यादा समय तक अद्भुत चरमसुख भोगने के बाद वो शांत हो गई. मैंने पूछा- ये कैसे निकल गया?वो बोला- यार नीलम, मेरा जल्दी निकल जाता है … ये पहले से बीमारी है. भाभी बोली- यार मैं बहुत थक गयी हूँ और मम्मी पापा के आने का टाइम भी हो गया है.

फिर जब मैडम को होश आया कि वो मुझसे चिपकी हुई है तो वो शरमाते हुए मुझसे अलग हुई.

इस तरह दोस्तो … मैंने इन आंटी की गांड चोदी और गांड में जीभ और चूत चाटी. मैंने अपनी टी-शर्ट के नीचे उसको छिपाने की कोशिश की लेकिन वो बार-बार बाहर आकर दिखने लग जाता था. इसके बाद वंदना के दिए हुए लेसन की प्रैक्टिस करते हुए ट्यूशन जाने लगा.