बीएफ सेक्सी फिल्म बढ़िया

छवि स्रोत,पोरीचा सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

शेकशी बीएफ: बीएफ सेक्सी फिल्म बढ़िया, उसकी चूत गीली हो गई थी।मेरा लण्ड उसकी चूत में जाने के लिए बेताब हो रहा था। मैंने उसे सोफे पर अधलेटा कर दिया और लैगी और पैन्टी को नीचे खिसका दिया और उसकी चूत पर एक गहरा चुम्मा ले डाला।वो ‘हाय.

सेक्सी बीपी वीडियो एक्स

मैं उस वक्त भी दो बियर पी चुका था।मैंने नशे में कह दिया- क्या करने आऊँ. राशि खन्ना का सेक्सीतो प्लीज़ लिखिए और हम सब अन्तर्वासना के परिवार से अपने अनमोल क्षण बाँटिए।मुझे मेरी कहानी अन्तर्वासना के साथ बांटने में बहुत खुशी हुई है।अन्तर्वासना मेरी फेवरेट साईट है.

’मैंने देखा उसने खास मेरे लिए मेरी पसंद का डिनर बनाया था, शायद मामी से मेरी पसन्द पूछ ली होगी।मैंने डिनर किया और फिर उसके कमरे में आ गया।भाभी बोली- बस दो मिनट में आई. ओपन सेक्सी बीपी फिल्मवो भी कोई कम मस्त माल नहीं था। उस टाइम तो नेहा भाभी ने लाल रंग की साड़ी पहनी हुई थी और क्या मस्त माल लग रही थी।फिर सोचा कि इसे भी कभी न कभी तो चोदूँगा ही।फिर नेहा भाभी अन्दर आई.

तब तक उसकी पैन्टी पूरी गीली हो चुकी थी।फिर मैं उसकी पैंटी को उतार कर उसकी क्लीन चूत चाटने लगा।मैंने पूछा- जान चूत के बाल कब साफ़ किए?वो बोली- जान आज ही.बीएफ सेक्सी फिल्म बढ़िया: मेरे राजा मुझे रॉनी बाबूजी ने खेल के बारे में सब बता दिया है।अर्जुन- नहीं तू कुछ नहीं जानती.

अपने भाई राजू (भाभी के पति) से टयूबबैल खोलने के लिए चाबी ले आ।क्योंकि उनका घर हमारे खेत के पास है।मैं चाबी लेने उनके घर गया.जब गाड़ी अपने स्टॉप पर रुकी।गाड़ी रुकते ही हम एक-दूसरे से हट गए, उसने कहा- जरा यह तो पता करके आओ कि अगला स्टॉप कितनी देर बाद आएगा।मैं उसका इशारा समझ गया। अब उससे रुका नहीं जा रहा था। मैंने नीचे उतर कर पानी की बोतल ली और पूछने पर पता चला कि अगला स्टॉप 15 मिनट की दूरी पर है और उससे अगला 2 घंटे की दूरी पर है। यानि अगले स्टॉप के बाद हम असली मजे ले सकते थे.

नया दुल्हन का सेक्सी सुहागरात - बीएफ सेक्सी फिल्म बढ़िया

अर्जुन की बात सुनकर सन्नी को हँसी आ गई, उन दोनों की चुदाई देख कर उसका लौड़ा भी ‘टन.’ मैडम ने अपनी चूत पसार दी।मैं लण्ड को पकड़ कर मैडम की चूत पर रगड़ने लगा। थोड़ी देर रगड़ने के बाद मैंने लण्ड को चूत पर रख कर एक धक्का मारा.

धीरे-धीरे उसका दर्द कम होने लगा और वो गाण्ड उठाने लगी।मैं धीरे-धीरे लंड अन्दर-बाहर करने लगा, मौका देखकर एक और झटका मारा और मेरा पूरा लंड उसकी चूत में जा चुका था।थोड़ी देर मैं ऐसे ही पड़ा रहा, जब वो फिर से सिसकारियाँ भरने लगी. बीएफ सेक्सी फिल्म बढ़िया जो कि हमेशा लॉक ही रहता था क्योंकि मेरे डैड का ट्रांसफर मुंबई में हो गया था.

फिर अम्मी ने अंकल के लौड़े को अपने चिकने बोबे से लगा दिया और उसे अपनी छाती पर घिसने लगी।अम्मी अब बिस्तर पर बैठ गईं और अपनी चिकनी चूत को उंगली से पहले सहलाने लगीं.

बीएफ सेक्सी फिल्म बढ़िया?

उसकी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं था।हमने जोरदार किस किया और बिस्तर पर लेट गए।थोड़ी देर बाद मैं ऑफिस के लिए निकल गया।आज तक हम दोनों मस्त सेक्स करते हैं और मज़ा करते हैं।दोस्तो, यह थी फौजी की बीवी के साथ मेरी मस्ती की कहानी। ऐसे और मस्त एक्सपीरियेन्स मैं आपसे शेयर करता रहूँगा. बर्तन की आवाज़ से काजल बहुत डर गई और मेरे कमरे से भाग गई।तब मुझे अपनी मम्मी पर इतना गुस्सा आ रहा था कि कोई कल्पना भी नहीं कर सकता।मैंने सोचा कि काजल तो पट ही गई है इसे तो मैं अब कभी भी चोद सकता हूँ. और दूसरे हाथ से मेरी गाण्ड को मस्त मसाज देते हुए मुझे तैयार करने लगा।तब मैं बोला- मेरा माल निकल जाए उसके पहले मैं तुम्हें चोदना चाहता हूँ।पायल ने कहा- ठीक है.

मगर मैं तुम्हारे कहने का वेट कर रहा था।इतना कहकर पुनीत ने लौड़ा चूत से निकाला और ‘ठप’ से पूरा एक साथ गाण्ड में घुसा दिया।पायल- ऐइ. वो समझ गई कि प्रभा (मेरी मौसी का नाम) की नथ उतरने में ज्यादा देर नहीं है। उसे लगने लगा था कि शायद उसकी शादी के पहले ही प्रभा का कौमार्य भंग हो जाएगा।इस घटना को यहीं रोक रहा हूँ. पर इस पोज में मजा भी बहुत आया था।कुछ देर बाद मैंने सोनी को ऊपर उठाया और सोनी ने अपनी दोनों टाँगें मेरी कमर पर कस लीं.

टोनी समझ गया अब ज़्यादा बोलने से कोई फायदा नहीं और वो वहाँ से निकल चुपचाप निकल गया।इनकी ये बहस जब चल रही थी तब अर्जुन ने क्या किया वो भी देख लो।अर्जुन वापस अन्दर गया और कोमल को बाँहों में लेकर किस करने लगा. लेकिन इस टाइम जीन्स बटन लगे होने के कारण टाइट थी।तो मेरा हाथ देर से अन्दर जा पाया. अधिक कुछ हो नहीं सकता था।मैंने जींस पहन रखी थी अंडरवियर के अन्दर लण्ड ने आकार लेना शुरू कर दिया था। मेरा मन कर रहा था कि मेघा को अभी चोद दूँ.

और मैं जाने लगा।जाते-जाते उसने कहा- कॉलज में मिलते हैं।मैंने ‘हाँ’ में सर हिला दिया. इसकी रसीली कहानियां पढ़कर न जाने कितनी ही बार हाथ से गाड़ी चलाता हूँ।उन सभी लेखकों को धन्यवाद.

‘तू सोया नहीं अभी?’‘नहीं भैया, बस सोने ही वाला था!’‘आज तो बहुत थक गए यार.

पर मेरा मन आज कुछ मस्ती करने का था। मैं ऑफिस जाने से पहले सुबह बार-बार अपनी पत्नी को छेड़ रहा था। मेरी पत्नी प्रिया की चूत भी शायद मचल रही थी.

तो आप मुझसे शादी नहीं करना।मैं बोला- ठीक है…उस रात को मैं फिर उसके घर गया और इस बार उसके साथ काफी देर तक फोरप्ले किया और अपने लण्ड के सुपारे पर सरसों का तेल लगाया और उसकी चूत के छेद पर रख दिया।मैंने एक जोर के झटके के साथ लण्ड को उसकी चूत में घुसा दिया।वो चिल्ला पड़ी. वो भी अब तक काफी खुल चुकी थी।मेरी रिवॉल्विंग चेयर के पास आ कर खड़ी हो गई।मैंने अपना सीधा हाथ उसके चूतड़ों पर रखा और हल्के से दबाते हुऐ अपनी तरफ खींच लिया. ’ ही निकल रहा था।अब मैं एकदम अपनी चरम पर थी और बड़बड़ा रही थी- चोदो भैया.

क्योंकि अपने घर में वो छोटे कपड़ों में रहती थी।जब वो छोटी सी स्कर्ट और छोटे से टॉप में होती. उसको दर्द नहीं होता क्या?कहने लगी- उसको तो अब आदत हो गई है वो 3 साल से गाण्ड मरवा रही हे।मैं बोला- तुमको भी सिर्फ़ एक बार ही दर्द होगा बस. बस अभी आता ही होगा।यह बात सुनकर मेरे दिमाग़ में एक आईडिया आया और मैं जूही का हाथ पकड़ कर सीधा उसे बेडरूम में लेकर गया।वो बोली- अरे यह क्या कर रहे हो.

पर वो थोड़ा शरमा कर पीछे हो गई।पर मैं तो किसी मौके को हाथ से जाने नहीं देने वाला था। मैंने प्यार से.

Really, this is not a joke (सचमुच, यह मजाक नहीं है।) तुमारा फोन पर voice भी very sexy था।’‘सेक्सी…’ कल्पना ने यह शब्द पहले भी सुना था। डायना से भी अधिक सेक्सी होने की प्रशंसा अजीब लगी।‘में तुमारा फोटो देख के बहुत excited थी। लेकिन सामने में you are more sexy looking than…. पर उन्होंने मुझे इतनी जोर से पकड़ रखा था कि मैं पूरी ताकत लगा कर भी अलग नहीं हो पा रही थी।मेरे बार-बार कहने को सुन कर उन्होंने अपना मुँह मेरे मुँह से लगा दिया और मेरा मुँह बंद कर दिया। उन्होंने अब अपने हाथ मेरे पीठ से हटा के चूतड़ों पर रख दिए।अब मेरे चूतड़ों को जोर से दबाते हुए ऐसा करने लगे. जब मैं 12वीं के पेपर दे कर फ्री हो गया था। तब मेरे ताऊ के लड़के यानि मेरे भईया ने अपना बिज़नेस चेंज किया और उसके लिए उन्होंने गाँव से आकर हमारे शहर में घर ले लिया। उन्हें अपने व्यापार में दूसरे शहरों में जाकर माल लाना पड़ता था.

दिल वाला ही समझ सकता है। मगर लगता है कि अब लड़कियों और भाभियों ने कहानी पढ़नी कम कर या लगता है कि जैसे पढ़ना ही बंद कर दी है. तो मुझे होश आया और वो मुझे पकड़कर अन्दर ले गई।मैं सोफे पर बैठ गया और वो रसोई में चली गई।वो चाय लेकर आई और एक कप देखकर मैंने कहा- आप चाय नहीं पीती क्या?तो उसने कहा- क्या मैं आपके साथ एक कप में चाय नहीं पी सकती क्या. ताकि दो जिस्मों का मिलन अच्छे से हो सके।कोमल की 34″ नाप की मस्त चूचियां और 36″ की जबरदस्त गाण्ड को देख कर अर्जुन पागल हो गया, उसने भी कपड़े निकाल दिए और बिस्तर पर कोमल को लेकर चूमने लगा।सन्नी जब अन्दर आया तो अर्जुन और कोमल किसी साँप के जोड़े की तरह एक-दूसरे से लिपटे हुए थे।सन्नी- वाह.

मेरा नाम महेश है, मैं दिल्ली में रहता हूँ, मेरी उम्र अभी 22 साल है.

तुम मिलो या न मिलो। मैं सिर्फ और सिर्फ तुमसे मिलने आ रहा हूँ।ममता- अरे सुनो तो. लेकिन डर के मारे कुछ कर नहीं पा रहा था।फिर मुझे एक आइडिया आया… मैंने अपने बैग से पैन निकाला और जान बूझकर उसे उसके पैरों की तरफ गिरा दिया.

बीएफ सेक्सी फिल्म बढ़िया सुरभि मेरे मुँह से उठ कर अपनी गाण्ड का छेद दिखाते हुए मुँह में रगड़ कर उठ गई।प्रियंका ने लण्ड और हाथ पकड़ कर मुझे उठाया. जो कि मेरी मजबूरी थी। लेकिन आज भी जब मैं उस घटना के बारे में सोचता हूँ तो काफी शर्मिंदा होता हूँ कि मैंने किसी दूसरे की पत्नी के साथ सेक्स कर अच्छा नहीं किया, मेरा दिल आज भी मुझे उस घटना के लिए माफ़ करने को तैयार नहीं है।मैंने अपनी आत्मकथा अन्तर्वासना पर इसलिए डाली है ताकि आप लोगों की इस बारे में राय जान सकूँ।क्या मैंने अपनी होने वाली बीवी के साथ धोखा किया है.

बीएफ सेक्सी फिल्म बढ़िया गर्भवस्था में सेक्स ना करें क्योंकि ये बच्चे को नुकसान पहुँचाता है।24. पर जरा आराम से करो।मैंने बोला- सोनिया तुम इधर ध्यान मत दो तुम रिंकू का लण्ड चूसो।उसका ध्यान हटा और मैंने एक जोर के झटके के साथ अपना लण्ड सोनिया की चूत में डाल दिया। फिर मैंने मदन को भी ऐसा ही करने को कहा.

आप सभी लण्ड मनचलों और गरमा-गरम चूतों को मेरा एक और प्रणाम।अभी तक मैंने जितनी भी कहानियाँ लिखीं.

सेक्सी बीएफ आवाज में

और ज्यादातर घर से बाहर ही रहता था।कार में बैठते ही मुझे एक बार उनकी आँखों में एक शरारत सी नजर आई. मेरे चाहने वाले चूत चोदू चुदक्कड़ दोस्तों को मेरा प्यार!आप लोगों ने मेरी कहानी ‘चूत के दम पर नौकरी’ को बहुत सराहा और खूब सारी फोटो भेजीं. जिससे आशा के चरित्र पर सवाल खड़े हो जाएं।उसने वैसा ही किया सन्नी को भड़काया कि आशा किसी और से चोरी-छुपे यहाँ मिलने आती है। उसने खुद होटल में दोनों को जाते हुए देखा। उसकी बात सन्नी ने मान भी ली और आशा से कॉन्टेक्ट भी नहीं किया।अब हाल यह था आशा फ़ोन करती.

इसमें मेरी बीवी और मेरे दोस्त के साथ हम तीनों की चुदास का वर्णन लिखा है. वो अब मेरे लण्ड पर आराम से हाथ फेर रही थी। एक बार तो मुझे लगा कि कहीं मैं जींस में ही न झड़ जाऊँ।मैंने जैसे ही मेघा की चूत पर सलवार के ऊपर से हाथ रखा. जिसे मैं बेताबी से चूसने लगा।मैं बैंगन को लगातार अन्दर-बाहर कर रहा था.

मैंने एक ही धक्के के साथ अपने पूरे लण्ड को उसकी चूत में जड़ तक घुसा दिया।थोड़ी देर रुकने के साथ ऊपर-नीचे करना शुरू किया।कुछ देर दर्द से बिलबिलाने के बाद वो भी अपनी कमर हिलाकर मेरा साथ देने लगी।करीब दस मिनट के इस खेल के बाद मैं उसकी चूत में ही झड़ गया।उस रात मैंने उसे तीन बार चोदा। अब जब भी मौका मिलता है.

जिनमें उसकी होठों से आता हुआ पानी जा रहा था… और उसकी चूचियों को और भी सेक्सी बना रहा था।कंधे पर लाल रंग का दुपट्टा था जो उसके एक उभार पर से होता हुआ दाएं घुटने तक जा रहा था. नमस्ते दोस्तो, मैं अभिजीत हूँ मेरी उमर 19 साल है, मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ, मैं मुंबई में रहता हूँ। लोगों की कहानी पढ़ कर सोचा आपको मेरी कहानी के बारे में भी लिखूँ।मेरा मानना है. तो हम सब जल्दी सो जाते हैं।हम दोनों को सोने की कहाँ जल्दी थी, मॉम और डैड के कमरे में जाते ही हम एक-दूसरे को बेहताशा चूमने लगे।मैंने कहा- आज क्या इरादा है मेरी रानी?उसने कहा- आज मैं तुम्हें बाँध कर चुदूँगी।मैंने पूछा- ये आईडिया कहाँ से आया?तो बोली- तुमने मुझे एक बार ऐसी ही कहानी सुनाई थी ना.

पर कुछ कहने की हिम्मत नहीं हो रही थी।एक दिन किसी बात पर हमने शर्त लगाई कि जो हारेगा उसे पिक्चर दिखाना पड़ेगी। मैं उसे पिक्चर दिखाना चाहता था. और मैं कभी अपनी हद पार नहीं करता था।मेरी यह स्टोरी मेरी गर्ल फ्रेंड के बारे में है. तो उसमें कन्डोम के 2 पैक थे।मैंने उससे बोला- अनु यार ये सब क्या है.

अब फ़र्क़ सिर्फ़ इतना था कि इस बार काजल जागी हुई थी और टीवी देख रही थी।मैं ये मौका किसी भी हाल में नहीं जाने देना चाहता था. विलास भी उसकी बात सुन कर उत्तेजित हो रहा था पर उसने धीरे से कहा- यहाँ घर हैं आस-पास.

काश मुझे वो पीने का मौका मिल जाए…लेकिन कोई बहाना नहीं मिल रहा था उनके घर जाने का. और काफ़ी लड़के मुझे बहुत उल्टा-सीधा बोलते रहते थे। लेकिन पता नहीं क्यों ये सब मुझे अच्छा लगता था।उसी समय कॉलेज की एक लड़की ने मुझे बताया कि जिस लड़के को मैं पसंद करती हूँ. उसने अपने मम्मों को मेरे होंठों के पास खुद ही कर दिए और अपने चूचे की नोंकों को मेरे होंठों से छुआने लगी।मैं इस कामुक अदा से गरम हो उठा और ‘गप्प’ से मैंने उसके निप्पलों को.

अच्छा भैया फिर मिलते हैं।बाकी अब अगले भाग में मित्रो, आप जरूर ईमेल करें.

तो वो छटपटाने लगती। होंठों को चूमने के साथ ही साथ मैं उसकी जीभ को अपनी जीभ से मिला रहा था।करीब 15 मिनट तो उसको मैंने लिप्स को खूब चूमा. कुछ देर बाद मेरी गर्लफ्रेण्ड आई और मेरा हाथ पकड़ कर मुझे कॉलेज के गेट पर ले जाने लगी. हम दोनों लगभग 10 मिनट तक ऐसे ही एक-दूसरे को चूसते रहे।फिर वो मुझे अपने कमरे में ले गई, मुझे कमरे में बिठा कर बोली- तुम रुको.

तो यह मांग कभी भी ख़त्म नहीं हो पाएगी।रोहित के साथ तो मैंने सिर्फ़ 4 बार ही ऐसा ब्रूटल सेक्स किया और इस बात को आज 8 महीने हो गए हैं. मैं और जोर-जोर से उसकी चूत को चाटता और गाण्ड में उंगली करता रहा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब जैसे ही मैंने 2 उंगलियां उसकी गाण्ड में डालीं.

उसने मेरे होंठों को चबाना शुरू कर दिया।अब धीरे-धीरे मेरे हाथ उसके कन्धों की तरफ बढ़े. आई मीन गाण्ड की तरफ से चूत चोद रहा था।हमें जल्दी से चुदाई का कार्यक्रम खत्म भी तो करना था. और गाँव की सारी औरतें भी हगने के लिए यहीं आती हैं। अब तक गांव की सारी चूतें देख चुका हूँ। गाँव की हर लड़की.

सेक्सी वीडियो बीएफ एचडी बीएफ

अब मैंने सोनी के होंठों को अपने होंठों में दबा लिया और आराम-आराम से चूसने लगा.

जिनको पढ़कर मेरा भी दिल अपनी आप बीती लिखने का किया और मैं हाजिर हूँ अपनी कहानी के साथ।जब मैं 18 साल का हुआ था. मैंने उसको बोला- अब मैं कभी तुम्हारी गाण्ड नहीं मारूँगा।तो वो बोली- क्यों नहीं मारोगे?मैं बोला- तुमको दर्द होता है ना इसलिए. जब जांघों पर ऊपर की ओर साबुन मलते हुए हाथ अंडरवियर पर आंडों के ऊपर पहुंचा देता तो मेरे मुंह में आई लार को मैं अंदर गटक जाता और एक लंबी आंह छोड़ देता.

लेकिन कभी उसने अपनी किसी हरकत से इसका अहसास नहीं होने दिया और अंजान सा बना रहता था।इसका एहसास मुझे बाद में हुआ. और जब फटते हैं तो सब कुछ फाड़ कर रख देते हैं!यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !रवि भी बिल्कुल ऐसा ही था. वीडियो चुदाई सेक्सी हिंदीको पकड़ कर कुछ आगे किया और फ्री कर ली। मेरा कहने का मतलब मैंने अपनी कमीज को कुछ आगे की तरफ करके लूज सी की ताकि कुछ हवा अन्दर जा सके और इससे मुझे कुछ आराम भी मिला।मुझे पता नहीं चला कि मेरी क़मीज़ का गला काफ़ी आगे बढ़ गया है और मेरे पसीने में भीगे मस्त मम्मे.

तो मैंने एक दिन बोला- क्या मैं आपको देख सकता हूँ?तो उसने कहा- ओके ठीक है. ये मेंगो डाली में भी चूसूँगी।मैंने अपना लण्ड उसके मुँह की तरफ कर दिया और चूत चूसने लगा.

मैं आराम से पीयूष की बगल में लेट गया।फिल्म देखने के बाद पीयूष लाइट ऑफ करके अपनी गर्लफ्रेंड से चैट करने लगा. तो लण्ड भी तेरी गर्मी से अकड़ गया है।ममता- छी: तुम कितने गंदे शब्द यूज़ करते हो. कॉलेज में भी अक्सर मेरी फ्रेंड्स कहते हैं कि मेरे डैडी की काफ़ी अच्छी पर्सनॅलिटी है.

मैंने उस बर्तन में अपना पानी निकाल दिया। भाभी की भी सब्जी तैयार होने वाली थी। मैंने भी अपने कपड़े सही किए. सो उसे थोड़ा समझाया और उसके होंठों को अपने होंठों में लेकर झटका मारा. दोनों एक दूसरे से सटे हुए बैठे थे और पिछले वाले का एक हाथ अगले वाले की जांघ पर रखा हुआ था.

तो फोन मैं ही उठाता था।इस तरह से शादी से पहले ही भाभी से मेरी अच्छी दोस्ती हो गई थी।फिर भैया की शादी हो गई.

वो ऊपर से अपनी टी-शर्ट को उतारने की हरकत करते हुए मेरे पास आई और दीवान पर मेरे बगल से बैठ गई।मेरी तरफ मुँह करके और बोली- जीजू. और मैं भी जानती हूँ कि तुम भी ये ही चाहते हो।आंटी अपने होंठों से मेरे होंठों को मिला कर चुम्बन करने लगीं।मैंने सोचा कि मौका अच्छा है.

संदीप भैया बरामदे में बैठकर नहा रहे थे, उनका पूरा बदन पानी में भीगा हुआ लकड़ी की पटड़ी पर आलथी पालथी मारकर बैठे हुए थे, दांए हाथ में पानी का डोल सिर पर जाता हुआ उनके बगल के बालों को दिखा रहा था. अब वो भी मेरे धक्कों का जबाब धक्कों से दे रही थी।काफ़ी देर की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद अब मेरा माल निकलने वाला था। मैंने ऊषा को बोला- मेरा माल निकलने वाला है।ऊषा ने कहा- मेरी चूत में ही गिरा दो. अब तू जा पायल वेट कर रही है।पुनीत के जाने के बाद सन्नी वहीं खड़ा रहा, थोड़ी देर में टोनी और अर्जुन एक साथ वहीं पर आ गए।सन्नी- आओ आओ.

पता नहीं कैसे!फिर उसने मेरा लोवर और पैन्टी भी उतार दी, अब मैं उसके सामना पूरी नंगी पड़ी थी।फिर मैंने कहा- तुम भी अपने कपड़े उतार दो।तो उसने भी अपने कपड़े उतार दिए।उसका लंड 7. उसने मेरा लंड अपने मुँह से निकाला और मेरे ऊपर आकर मुझे चुम्बन करने लगा।मैंने जैसे ही मुँह खोला. आई मीन गाण्ड की तरफ से चूत चोद रहा था।हमें जल्दी से चुदाई का कार्यक्रम खत्म भी तो करना था.

बीएफ सेक्सी फिल्म बढ़िया उसकी चूत पानी छोड़ रही थी।मैंने उसकी सलवार के अन्दर हाथ डाल कर उसका नाड़ा खोल दिया और सलवार को नीचे गिर जाने दिया।अब वह ब्रा और पैन्टी में कयामत लग रही थी। थोड़ी देर किस करने और उसके उरोजों को दबाने के बाद उसे अपनी गोद में उठा कर बिस्तर पर ले जाकर लिटा दिया।मैं उसके ऊपर लेट गया और किस करने लगा. तेरे मस्त चूचे और चूत के दीदार करा दे।कोमल तो पहले ही गर्म हो गई थी.

जीजा साली के सेक्सी वीडियो बीएफ

तो मैंने धीरे से अपना हाथ उसकी कमर पर रखा और धीरे से उसके नज़दीक जाकर एक ‘लिपकिस’ कर दिया।वो एकदम से थोड़ा दूर हटी और कहने लगी- पहले दरवाजा तो बन्द करो. तो महंगा लगता है। मेरा सारा ध्यान तो घर के माल पर ही था।मौसी ने उससे कहा- आज रात को यहीं रुक जाओ. जो उन्होंने खुद मुझे ये स्टोरी लिख कर मुझे ईमेल की है।लीजिए उनकी स्टोरी उन्हीं की ज़ुबानी सुनते हैं।हैलो.

इस पोर्न स्टोरी के पिछले भागउसकी चूत चुदाई का कभी सोचा ही न था-1में अब तक आपने पढ़ा. वो अपने पापा के साथ रहती थी और उसके पापा भी ड्राइवर थे और इस वक्त उसके कमरे में कोई नहीं था।मैं वहाँ थोड़ी देर बैठा रहा और फिर वहाँ से उठ कर सीधा साइबर कैफे चला गया और वहाँ अन्तर्वासना खोल कर. मराठी सेक्सी व्हिडिओ पाहण्यासाठीइसके पहले क्लास में दूसरे स्टूडेंट आ गए।फिर उस रोज के बाद वो मुझे अलग नज़रिए से देखने लगा।एक दिन वो और मैं घर जा रहे थे.

तो मैंने हल्के-हल्के झटकों से अपना पूरा लण्ड जूही की चूत में डाल दिया। मेरे इस प्रहार से उसकी आँखों से लगातार आंसू निकल रहे थे.

चाबी लेकर तेल की टंकी चैक करने के लिए झुका तो वो भी मेरे ऊपर छाता लेकर कर खड़ी हो गई. जिसमें लड़का लड़की बहुत पैशन से एक-दूसरे को किस कर रहे थे।वो देख कर बोली- भैया, ये क्या लगा दिया?तो मैंने कहा- ये तो नॉर्मल पिक्चर्स हैं।इस पर वो बोली- ये नॉर्मल है.

नापा हुआ है।यह स्टोरी मेरे ऑफिस में मेरी और प्रोजेक्ट मैनेजर की है। मुझे नहीं लगता कि उसके बारे में बताने के लिए मेरे पास कोई शब्द भी है. आहह उम्म उम्म!फिर उसकी चूत अचानक से मेरे लण्ड को अन्दर खींचने लगी और मेरा लण्ड उसकी चूत में ही दबने लगा।फिर हम दोनों ने एक ज़ोर का झटका लगाया और दोनों का एक ही बार में गिर गए।हम थोड़ी देर यूँ ही एक-दूसरे के ऊपर पड़े रहे। फिर वो उठ कर. मैं आपको बता दूँ कि मेरी बहन मुझसे बहुत प्यार करती है और मेरा ख़याल भी रखती है। बचपन से मुझे बुरी संगत और आदतें लग गई थीं.

पर पता नहीं इसे उस हालत में देखकर मुझे एक अजीब सा फील आने लगा। शायद एकदम कुँवारी लड़की का बदन देखकर वैसा फील होने लगा था।तभी उसने मेरी तरफ पीठ करते हुए कहा- ज़रा इस ब्रा के हुक्स निकाल दो।उसकी मुलायम और राउंडेड गाण्ड देख कर मेरे लंड में हलचल शुरू हो गईमैंने उसी हालत में ब्रा को अनहुक किया और उसने उस आखिरी कपड़े को अपने बदल से अलग कर दिया।मैं यकीन नहीं कर पा रहा था कि ये वही लड़की है.

देवर हमेशा उसको चोदने के सपने देखता है।कुछ दिनों के बाद हमारे शहर में काफी चोरियाँ होने लगीं. नहीं तो मुँह में ही झड़ जाऊँगा।’उन्होंने मेरी बात को अनसुना कर दिया और लण्ड चूसती रहीं।मैं समझ गया कि भाभी को मेरा वीर्य पीना है।अब कुछ ही देर में मैंने मेरे लंड का पानी भाभी के मुँह में छोड़ दिया।तो मित्रो, कैसी लगी मेरी काल्पनिक कहानी. और जल्दी से अपनी स्कर्ट पैंटी के साथ उतार कर नीचे फेंक दी।अब वो फिर से मेरा लण्ड अपनी चूत में डालकर कूदने लगी.

एक्स एक्स जबरदस्ती सेक्सीवो अपने पापा के साथ रहती थी और उसके पापा भी ड्राइवर थे और इस वक्त उसके कमरे में कोई नहीं था।मैं वहाँ थोड़ी देर बैठा रहा और फिर वहाँ से उठ कर सीधा साइबर कैफे चला गया और वहाँ अन्तर्वासना खोल कर. तो वो उछल पड़ती थी।काफ़ी देर मम्मों को चूसने के बाद मैंने उसकी साड़ी उतार दी। अब वो सिर्फ़ पेटीकोट में थी.

सेक्सी बीएफ एचडी में सेक्सी

’ की आवाज़ आती थी।फिर एक दिन मैंने उससे कहा- मुझको तुझे चोदना है।तो वो तैयार हो गई और अगले दिन का प्रोग्राम बना।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं अपनी बाइक पर लेकर गया. !मस्त आवाज करते हुए वो झड़ गई और सारा पानी मेरे मुँह पर निकाल दिया।मैंने देखा सोनी की चूत पूरी तरह से गीली हो गई है।मैंने सोनी को पीठ के बल लेटा दिया और दोनों टाँगें खोल कर बीच में आ गया, मैंने अपने लण्ड को सोनी की चूत पर रखा और रगड़ने लगा।सोनी को भी मजा आने लगा. फिर मैंने दूध पिया और काजल गिलास लेकर अपने काम में बिज़ी हो गई।मैं कॉलेज चला गया।यह स्टोरी बहुत लम्बी है.

अभी मैं आपका अधिक समय ना लेते हुए सीधे कहानी पर आता हूँ।बात इसी दीवाली की है। जब मैं जबलपुर से अपने घर को लौट रहा था. कंडटक्टर मेरी तरफ देख कर मुस्कुराया और वो पुलिस वाला अपने लंड को पैंट में से ही सहलाते हुए मेरे पास आ गया. मतलब वो मज़े ले रही थी। फिर मैंने थोड़ी ज़ोर से सहलाना शुरू किया और फिर उन्हें दबाना भी.

आयशा के मम्मों को दबा और मसल रही थी। मैं आयशा की कमर पकड़ कर जोरदार झटके दोनों की चूत में मार रहा था।इस तरह से करीब 10 मिनट चुदाई करने के बाद प्रियंका बोली- अब डॉगी पोज़. मेरे दोस्तो, आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है? आप मुझे अपनी प्यारी प्यारी ईमेल करके मुझे बताओ।कहानी जारी है।[emailprotected]. कुछ देर वो सब ऐसे ही पड़े रहे उसके बाद अपने-अपने कपड़े पहन कर जाने के लिए र हो गए।टोनी जब वापस आया.

हम दोनों ने सभी घर वालों के साथ डिनर किया। फिर लॉन में कुछ टाइम तक वॉक की।अब हमने अपने बेडरूम की राह ली। मैंने अन्दर जाकर बेडरूम को लॉक कर लिया। फिर मैंने टीवी ऑन कर दिया। पिंकी जाते ही बिस्तर पर लेट गई थी. पर ये तो मेरी बदनसीबी थी कि तुम मुझे बाद में मिले ही नहीं।वो सच कह रही थी क्योंकि मैंने 7वीं कक्षा के बाद स्कूल बदल लिया था।वो बोलने लगी- तुम मुझे पहले मिल जाते.

’‘तो वहाँ क्यों खड़ा है अंदर आ जा…!’जैसी ही बरामदे में कदम रखा, मैं सहम सा गया.

ये देख तेरी बुआ के दूध कितने बड़े हैं। मुझे उन पर गुस्सा आता है।राकेश- देख अवि. राजस्थानी सेक्सी चुदाई हिंदी मेंतो देखा कि दो बज चुके हैं। हमें अपनी काम-क्रीड़ा में इसका पता ही नहीं चला।आगे इस वासना की आग को भड़कते हुए पढ़ने के लिए अन्तर्वासना से जुड़े रहिए।कहानी जारी है।[emailprotected]. सेक्सी एक्स एक्स वीडियो कॉमऔर तो और मैंने उंगली निकाल कर अपना मुँह ही उनके पीछे लगा दिया और उनकी गाण्ड और चूत का रसपान करने लग गया।भाभी भी अपनी चूत पसार कर अपने मुँह से मदहोश कर देने वाली आवाज़ें निकाल रही थीं- इसस्स्शह. मैंने उसकी टाँगें फैला दीं और बीच में बैठकर अपने लौड़े को अन्दर के रास्ते पर लगा दिया।ज्यादा तकलीफ नहीं हुई क्यूंकि वो एक बच्चे को निकाल चुकी थी।फिर भी लम्बा लौड़े होने की वजह से वो आवाज़ें निकालने लगी- आहह… आआआउह.

तो एक खासियत भी देता है। दोस्तो, बताना चाहूँगा कि भगवान ने मुझे लण्ड मस्त दिया है.

सविता हँसने लगी- तब तो तुम्हें देखना ही पड़ेगा।मैं- क्या भाभी तुम भी. जिसका जिस्म देख कर कोई भी लण्ड बग़ावत किए बिना बाज़ नहीं आएगा।सोनाली की कमनीय काया क़रीब 38-30-36 की होगी. जैसे-तैसे मैं बाथरूम में गई और तैयार होने लगी।मैं और सुधा उनकी गाड़ी से घर आ गए। मैं बहुत थकी हुई थी और हम दोनों जल्द ही सो गए।अब आगे.

तब मैं समझ गया कि भाभी आज कुछ अलग ही मूड में हैं।मैं भी कहाँ दूध से धुला हुआ था. उधर वो मुझे धक्के पर धक्के दे कर संभोग किए जा रहे थे।मैं अपने जिस्म को ढीला करने लगी थी. पता नहीं गर्म होने की वजह से मजा आ रहा था।मैं जोर-जोर से लम्बी साँसें ले रही थी और मेरी सिसकियां उनकी हरकतों के साथ ताल मिला रही थीं।मैं अब पूरी तरह से बेकरार सी हो गई और मैंने अपनी एक टांग पास में पड़ी कुर्सी पर रख अपनी योनि के छेद को लिंग के निशाने पर रख दिया.

कुत्ता लड़की बीएफ वीडियो

फिर मैंने प्रोग्राम इंस्टाल किया और पूछा- कौन सा फोल्डर लॉक करना है?उसने कहा- वो मैं कर लूँगी।मैं समझ गया कि क्या बात है, मैं बोला- चलो ठीक है. मुझे जहाँ मर्ज़ी वहीं पटक कर मेरी चूत में अपना लंड डाल देते थे और मेरी जमकर चुदाई करते थे।’‘क्या अब नहीं करते. सुधा ठीक कह रही है।राकेश ने मुझे अपनी बाँहों में उठा लिया और तालियाँ बजने लगीं।सुधा मेरे और राकेश के सामने गेट पर खड़ी हो गई और बोली- राकेश जी, ये मेरी फ्रेंड की लड़की है और ये भी मेरी फ्रेंड है.

निशांत तो छोटा बच्चा था और वो जल्दी ही सो गया था। हमें और क्या चाहिए था.

उसके बाद भी सोते तो हम साथ ही थे पर उसकी नींद अब इतनी पक्की नहीं थी। अब मैं जैसे ही उसको छूता.

इससे मेरा लण्ड खड़ा हो गया।वो मेरा लण्ड देख कर बोली- बाबू ये क्या है??मैंने जवाब दिया- ये तुम्हारे लिए रोज़ फ्लावर है. !मैं उनके ऊपर थी और भाई मेरे नीचे एक-एक करके मेरा दूध पी रहे थे। उनका हाथ मेरी कमर से मेरी चूतड़ों को दबा रहा था।वे बोले जा रहे थे- मेरी जान ऋतु, क्या मस्त चूतड़ हैं तेरे. सेक्सी वीडियो सेक्स अंग्रेजीनंगा तड़फता हुआ। जब मैंने इस चीज़ को गूगल किया तो मुझे पता लगा इसे ‘फेस सिटिंग’ कहते हैं। जिसमें लड़की मेल के मुँह पर बैठकर उसकी जीभ और होंठों से अपनी ‘पुसी’ को चटवाती है.

मेरा मन भी उसे चोदने का कर रहा था, मैंने उसके दोनों पैरों को चौड़ा कर दिया और चूतड़ों के नीचे एक तकिया लगा दिया। उसकी चूत फूलकर ऊपर उठ गई, मैं अपने लण्ड का सुपारा उसकी चूत पर ज़ोर-ज़ोर घिसने लगा।वो चुदासी सी बोली- बस बहुत हो गया. उसने एक कंटीली सी स्माइल दे दी।मैंने भी कहा- अभी तो इससे काम चला लेता हूँ. मैं उन्हें धीरे-धीरे अपनी उंगलियों से सहला रहा था और दूसरे हाथ से उसकी जाँघों को सहला रहा था।थोड़ी ही देर में वो अपनी टाँगों को मेरी टाँगों से रगड़ने लगी और ‘इस्स्स्स.

’ कर रही थी और मुझे चुदाई का पूरा मजा दे रही थी।मैं भी पूरे दम से उसे चोद रहा था।दस मिनट के बाद उसने कहा- तुम नीचे आओ. प्रियंका ने तेज-तेज उसके मम्मे मसलते हुए अपनी दो उंगलियां उसकी गाण्ड में घुसेड़ दीं। मैंने सुरभि की चूत में पूरी दम से तेज धक्का मारना शुरू कर दिया। पूरा बैंगन अन्दर.

लेकिन मैं उसकी चूत में धक्का मारता रहा।वह भी कस कर मेरे से चिपटी रही और रोते हुए बोलती रही- भैया अब बस करो.

जो उसे मज़ा देने लगा। मैंने लण्ड पर अपना मुँह आगे-पीछे करने की स्पीड मज़ीद बढ़ा दी. फिर क्या था।राकेश ने मेरी कमर में हाथ डाल दिया और मेरे पेट को सहलाने लगे. आप मेरे साथ ऐसा करने की सोच भी कैसे सकते हो।मैंने समय का फायदा उठाते हुए कहा- क्या करूँ काजल तू इतनी सेक्सी है.

सेक्सी पिक्चर स्टोरी तो मैं उसको छोड़ बाहर जाने लगा।अब उसने मुझे पकड़ा और मेरा हाथ अपने सूट के गले में डलवाने लगी।मैं उसकी ब्रा के अन्दर अपना हाथ ले जाकर उसके मम्मों को मसलने लगा।आज मैंने एक हाथ उसकी सलवार में भी डाल दिया. तब मुझे विश्वास हुआ कि ये सपना नहीं था।तब मैंने काजल से कहा- तू इतनी रात को मेरे कमरे में क्या कर रही है.

मैंने हैरानी से कहा- यह तुम क्या कह रहे हो? लेकिन मैं अपनी बीवी को किसी और मर्द को चोदने नहीं दूँगा।राजेश बोला- मुझे भी वैसी कोई इच्छा नहीं है। मैंने कहा ना. पर एक अच्छे साथी की तरह मेरा साथ दे रही थी।मैंने कहा- मेरा निकलने वाला है. ऐसा करते वक्त मैंने बहाने से उसके लंड को छू लिया।छूते ही लंड ने झटका मारा और उसने खुद ही मेरा हाथ पकड़ कर लंड पर रगड़वाने लगा.

सेक्सी बीएफ बढ़िया वाली सेक्सी बीएफ

यूँ भी समझ सकते हैं।बरहराल मुझे शादीशुदा लड़कियाँ, भाभियाँ बहुत पसंद हैं, मुझे सेक्स के टॉपिक बहुत पसंद हैं, सेक्स करने के लिए मैं मरा जाता रहा हूँ।मेरी कहानी तब शुरू हुई. तो उन्होंने मेरी बात मान ली और कहा- तुझे एक काम करना पड़ेगा।मैंने कहा- क्या?तो उन्होंने कहा- इसी तरह मैं तेरी चूत चोदूँगा।मैं तो खुद यही चाहती थी. उसके चूचे और चूत तो बहुत ही चिकनी और लण्ड उठाऊ है।मेरी गर्लफ्रेंड का नाम अर्चना है और मैं उसे प्यार से अर्चू बुलाता हूँ। वो अभी बीएड की परीक्षा दे चुकी है और मैं कंप्यूटर इंजीनियर हूँ।हम जब भी मिलते.

वो तो तैयार हो चुकी है।मैंने पीछे से जाकर उसके मम्मों को पकड़ लिया. धीरे से अपने होंठों को उसके होंठों पर रख दिया।मुझे उसका तो पता नहीं.

और थोड़ी देर चूसने के बाद मेरा लण्ड छोड़ दिया।अब हम दोनों फिर से नहाकर बाहर निकल आए।बाहर हमने देखा कि सुरभि अपनी आँखें बंद करे हुए.

दो बार तूने मुझे हर्ट किया है।काजल ने कहा- भैया मैंने बहुत कोशिश की. उस दिन छुट्टी थी और उसने घर का पता दिया तो मैं उस पते पर उसके घर पहुँच गया।मैंने बेल बजाई. तो मैं हैरान हो गया… इतने बड़े मम्मों को मैंने आज तक नहीं देखे थे।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं कभी उसके बायें मम्मे को चूसता और दायें मम्मे को दबाता और कभी दायें को चूसता और बायें मम्मे को दबाता।उसे भी बहुत मज़ा आ रहा था.

’कहकर मैं वापस छत की तरफ भागा और कमरे में जाकर उसी गद्दे पर गिर गया जिस पर पहली रात रवि के साथ सोया था. इस फिगर के साथ ही आप इतनी अच्छी लगती हो।शायद वो मेरा इशारा समझ गई थीं।उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा- ह्म्म्मं. मैं बिस्तर पर लेट गया। सोनिया मेरे लौड़े को चूत में लेकर मेरे ऊपर चढ़ गई और मदन सोनिया के ऊपर आ गया।अब हम दोनों सोनिया की चूत में लण्ड डालने लगे.

’फिर मैंने उसे किस किया जैसे उसे सेक्स चैटिंग के समय उससे बोला था। वैसे ही सब मैंने करने की कोशिश भी की.

बीएफ सेक्सी फिल्म बढ़िया: तो मेरी एक उंगली उनकी चूत में चली गई, वहाँ गीला सा लगा, मैं अपनी उंगली को उनकी चूत में घुमाता रहा।इस पर भी जब भाभी कुछ नहीं बोलीं. क्या ठंडक महसूस हो रही थी और क्या ताकत से लौड़ा तन रहा था।जब मुझे चुसाई से तसल्ली हो गई.

आयशा के मम्मों को दबा और मसल रही थी। मैं आयशा की कमर पकड़ कर जोरदार झटके दोनों की चूत में मार रहा था।इस तरह से करीब 10 मिनट चुदाई करने के बाद प्रियंका बोली- अब डॉगी पोज़. मैं उसे ज़ोर-ज़ोर से रगड़ने लगा।कुछ ही पलों में मैंने नीचे घास पर लेट कर उसे अपने ऊपर 69 की अवस्था में ले लिया।अब वो मेरा लण्ड और मैं उसकी चूत को चाटने लगा। धीरे-धीरे उसे मज़ा आने लगा। वो मेरा मुँह अपनी चूत पर दबाने लगी और मैं भी उसकी चूत को ज़ोर-ज़ोर से चाटने लगा।वो जोश में आ गई. मेरे से काबू करना और भी मुश्किल हो गया, मैंने लौड़ा सहलाते हुए कहा- अब चुद भी जाओ मुझसे.

वो क्या है कि मेरे क्लास के लड़के गंदी पिक्चर देख कर मुझे बोलते हैं.

बस चोट करना बाकी था। मैंने अपने लण्ड पर थोडा सा थूक डाला और सीधा उसकी चूत पर टिका दिया, एक झटका दिया और आधा लौड़ा ‘पक्क. लेकिन उसे ठीक से नींद नहीं आ रही थी।मैंने पूछा- क्या हुआ?वो बोली- दर्द काफ़ी हो रहा है।मैंने पूछा- मैं पैर दबा दूँ।तो उसने ‘हाँ’ कर दी। मैं दीदी के पैर दबाता रहा. और उसकी चूत के पानी ने मेरी दोनों उंगलियों को पूरा चिप-चिपा सा कर दिया.