आदिवासी एक्स एक्स एक्स बीएफ

छवि स्रोत,बद्रीनाथ सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

स्थान का बीएफ: आदिवासी एक्स एक्स एक्स बीएफ, मुझे अभी भी मेरे पेट से लेकर बच्चेदानी पर दर्द हो रहा था, पर माइक के लिंग के शिथिल होने से थोड़ा राहत जैसा लगने लगा था.

नया सेक्सी वीडियो साड़ी वाली

छोटे चाचा को डकैती के केस में सात साल की सजा हुई है और पिछले दो साल से छोटे चाचा जेल की सजा काट रहे हैं. सेक्सी वीडियो महाराष्ट्र सेक्सी वीडियोमेरी एक बड़ी प्रॉब्लम है कि मैं हर एक खूबसूरत स्त्री से प्रेम करने लगता हूँ, तो शायद उनसे भी करने लगा.

तब मैंने उनसे कहा- आप एक हफ्ते की छुट्टी ले लो और हम रूम पर ही प्यार करेंगे. सेक्सी 1 साल की लड़की कीउसने मेरी चूत में दस मिनट तक उंगली की और इतने में मेरी चूत ने दो बार पानी छोड़ दिया.

लेकिन आखिर इस खेल का भी अंत होना था, और हुआ भी!हम्म्म आआआ आआह …!” एक गहरी और जोर से मादक सीत्कार हम दोनों के होंठों से निकली और एक साथ हम दोनों झड़ने लगे.आदिवासी एक्स एक्स एक्स बीएफ: थोड़ी देर में मुझे कुछ और अच्छा लगने लगा, मैंने अपनी टांगों पर जोर देना कम कर दिया.

”मैंने नशीली आवाज़ में उसकी आंखों में देखते हुए कहा- तो क्या माँ जी कल नहीं जाएंगी क्या?उसके लंड को ऊपर से दबाया, तो उसने मुझे बांहों में कसते हुए मेरे होंठों को चूम लिया और मेरे चूचों को दबाने लगा.लेकिन मुझे क्या मालूम था कि वो मुझसे सही में ऐसी दोस्ती करना चाहता था.

हॉलीवुड फिल्म सेक्सी फिल्म - आदिवासी एक्स एक्स एक्स बीएफ

मैंने उसकी आँखों पे किस किया, तो वो आंखें खोल कर मेरी तरफ देखने लगी.हम दोनों पति पत्नी की चुदाई को नीरू बहुत गौर से देख रही थी और हमारी चुदाई देखकर वह अपनी चूत में उंगली चलाने लगी, अपने बूब्स को अपने हाथों से मसलने लगी.

आधे घण्टे चुम्मा चाटी के बाद मैं चाची की बड़ी और मुलायम गांड पर पहुँच गया और उसे चूमने चाटने लगा. आदिवासी एक्स एक्स एक्स बीएफ इधर आ और निकाल अपना लंड। अभी तूने मेरा देखा ही क्या है।मैं डर गया और चुपचाप उनके पास खड़ा हो गया.

मैंने लंड छुट के छेद पर टिका कर एक धक्का लगाया और लंड पूरा मैडम की चूत के अंदर…मैडम कराह उठी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…और फिर धकापेल चुदाई का सिलसिला शुरू हो गया.

आदिवासी एक्स एक्स एक्स बीएफ?

बहूरानी के चाचा जिनके लड़के का ब्याह था वो सबको तैयार होने का निर्देश दे रहे थे की जल्दी जल्दी तैयार होजाओ सब लोग कि साढ़े सात बजे बारात चढ़नी है क्योंकि रात दस बजे के बाद डी जे बजना मना था. ये कहकर मैं बैग लेकर सीधा अन्दर चला गया, वो आयी तो मैं अभी तक बेडरूम में खड़ा था. थोड़ी देर में पूजा ने अपना मुँह खोलकर मेरे सुपारे को मुँह के अन्दर कर लिया और हल्के हल्के चूसना शुरू कर दिया.

दोस्तो, मैं पीहू (नाम बदला हुआ है) आपकोदीदी की सहली की चुदाई की कहानीसे आगे की घटना बताने जा रहा हूँ. इतना कह कर अब राज अंकल ने अपनी हथेली से मेरे पेट को सहलाना शुरू किया और अपनी एक उंगली मेरी नाभि में बहुत हल्के हल्के से डालने लगे. उसने आंखें बन्द की हुई थीं और अपना मुँह एक तरफ करके लम्बी व गहरी गहरी सांसें ले रही थी.

आज की रात मेरी चूत को फाड़ कर उसको भोसड़ा बना दो, मेरी गांड में अपना लंड पेल कर उसको भी फाड़ दो. उसने बताया के लोग अब केवल संभोग मात्र तक सीमित नहीं रह गए … बल्कि संभोग का मजा बढ़ाने के तरीकों पे जोर देने लगे हैं. अब हिमांशु ने आगे से आकर मेरी कमर के दोनों तरफ पैर डालकर अपना लंड हाथ से पकड़ कर मेरी चूत में टच करा दिया.

मैं पूजा की बातों को सुनकर हॅंस दिया और फिर उसको चूमते हुए बोला- मुझे पता है कि यह तुम्हारा पहली बार किसी मर्द के ऊपर चढ़कर चुदाई करना नहीं था, क्योंकि तुम बहुत ही सधे हुए तरीके से अपनी चूत से मेरे लंड पर धक्का मार रही थीं. मैं अभी भी डरी हुई थी और जैसे जैसे उसका लिंग मेरी योनि के नजदीक रहा था, मेरी धड़कन बढ़ती जा रही थी.

मैंने बोला ओके … कैसा रहा सारू?वो मुझे चूम कर बोलीं- टॉप ऑफ़ द वर्ल्ड!फिर दस मिनट हम दोनों ऐसे ही लिपट कर सोये रहे.

मैंने उस रात उन्हें 2 बार और चोदा और उनकी गांड भी मारी और सुबह होने से पहले अपने घर वापिस आ गया.

ज़िंदगी में मैंने बहुत मोमे दबाए थे, पर उस जैसा कसाव किसी में भी नहीं था. मेरा उठने का दिल‌ तो नहीं कर रहा था मगर सुलेखा भाभी के डर के कारण मैं भी अब उठकर अपने‌ कपड़े पहनने‌ लगा‌ और प्रिया‌ कमरे से बाहर चली गयी. मैंने कल रिसीव किया, सामने से बहुत मधुर आवाज़ आई, ये किसी लड़की की आवाज थी.

मैं उल्टी लेटी थी, जीजू ने बीच में हाथ घुसा मेरी कमर पर हाथ फेरने लगे और बोले- मेरी जान उठ भी जाओ ना. अगले दिन जब मैं कम्प्यूटर कोर्स के लिये निकल रहा था, तब वो सब भी शायद गांव जाने की तैयारी कर रहे थे. उसने बताया कि जीजू का औजार बहुत बड़ा और ज़बरदस्त है और वो उसको बहुत जबरदस्त तरीके से चोदते हैं.

मुझे हंसी आ गयी, पर मैंने किसी से कुछ नहीं कहा और फिर चुपचाप आकर सो गयी.

छह बजे होटल पहुंच कर मेम ने कहा कि अभी रेस्ट कर लो … आठ बजे डिनर के लिए मिलते हैं. मैंने उस रात उन्हें 2 बार और चोदा और उनकी गांड भी मारी और सुबह होने से पहले अपने घर वापिस आ गया. मैंने दिमाग लगाया और एक नए सिम कार्ड से उस नम्बर से व्हाट्सअप शुरू किया और उसे हाय कहकर भेजा.

इसके बाद जब मैं मॉल में गई तो बिना पेंटी की मेरी चूत ने फर्श पर रस टपका दिया था. मैंने यह नहीं बताया कि मैं कमलेश के साथ घूमने जा रही हूं। अगर मैं ऐसा बता देती तो मेरे घरवाले मुझे कभी उसके साथ नहीं जाने देते. मैंने बोला कि अगर मैंने बताया तो हमारा ये भाई बहन का रिलेशन खत्म हो जाएगा.

माइक भी धक्के मार मार कर पसीने पसीने होने लगा था, पर मैं उसका साथ नहीं दे पा रही थी.

शीतल- तो कहाँ?विक्रम- कमरे में चलते हैं… वह आराम से करेंगे… मैं चाहता हूँ कि जब मैं माँ की चूत की चुदाई करूँ तो मेरे पास पूरी जगह हो. फिर एक दिन उसका फोन आया और उसने मुझसे कहीं बाहर घूमने जाने के लिए पूछा.

आदिवासी एक्स एक्स एक्स बीएफ जब भी कोई घर से बाहर जाता है और किसी और को बाहर नहीं जाना होता तो वो बाहर से लॉक कर जाता है. पर संभोग क्रिया में वो तारा की भाँति फुर्तीली नहीं थी और उसकी भी योनि उसे तारा जैसी महसूस नहीं हुई.

आदिवासी एक्स एक्स एक्स बीएफ अब मेरी चूत में सतीश का लंड और गांड में हिमांशु का लंड घुसा हुआ था. उसकी बहन केवल पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान देती थी क्योंकि अब उसके लिए लंड का इंतजाम हो चुका था.

मैं कई बार कुछ ना कुछ काम की वजह से उसके केबिन में चला जाता और वो हमेशा चेयर पर झुक कर बैठकर मुझे काम बताती थी.

xxx.iii वीडियो सेक्सी सेक्सी वीडियो

जिस औरत ने भी मेरे लंड का स्वाद चखा था, उसने मुझे एक एक्स्ट्रा चुत जरूर दिलाई है क्योंकि मेरे लंड का लम्बा और मोटा होना ही उनकी चुत की खुजली को पूरी तरह से मिटाने में सक्षम होता था. गैब्रियल ने मेरे सीने में हाथ से धक्का देकर मुझे बेड में गिरा दिया और अपने दोनों बाजू इधर उधर करके मेरे ऊपर चढ़ गया. उसकी चूत पहले से ही साफ थी, इसलिए उसने कहा- इस पर अपना मुँह मारो और चूत पर मुँह से धक्के मारो ताकि चूत के आस पास का सारा हिस्सा खुश हो जाए कि आज उसको कोई मिला है.

मगर जैसे ही मैंने उनके एक दो हुकों को खोला, सुलेखा भाभी ने अपनी आंखें खोल लीं- येऐ … क्याआ … कर … रहे … होओओ?सुलेखा भाभी ने भर्राई सी आवाजें में कहा. अपने लंड को नेहा के होंठों पर लगाकर धीरे धीरे मैं उसके होंठों पर लंड का दबाव बढ़ाने लगा, जिससे वो उउऊऊ. नीता आंटी का चेहरा बहुत ही खूबसूरत है, वो एकदम तीखी मिर्ची लगती हैं.

भाभी की बुर पर छोटे छोटे बाल थे, जिनको देख कर मुझसे रहा नहीं गया और मैंने भाभी को लिटा दिया और उनकी बुर को पागलों की तरह चाटने लगा.

बची हुई कमी को रेवती की कमर, उठ उठ कर गिरती हुई उसकी गांड और उसके उछलते हुए चूचे पूरा कर रहे थे. प्रशान्त का घर मेरे घर के पास ही में है। जिन दीदी(दुल्हन) की शादी में मैं आयी थी, उनकी मम्मी का प्रशान्त के घर आना जाना है, प्रशान्त भी कभी-कभी दीदी के घर आ जाता था. इधर मैं नीचे से धक्का दे रहा था … वो हिल ही नहीं पा रही थी क्योंकि लंड उसकी गाण्ड में जकड़ गया था.

ये कहानी बिल्कुल सच्ची घटना पर आधारित है जो कि मेरी दो चाचियां के साथ मेरे सेक्स की है. ऐसा कोई एक डेढ़ मिनट ही चला होगा कि वो मेरा हाथ अपनी चूत पर से हटाने का प्रयास करने लगी. मैं अब धीरे से खिसक कर उसके नजदीक हो गया और उसके दोनों कंधों को पकड़ कर धीरे से उसे बिस्तर पर धकेलने लगा.

अभी तक आप मेरी पहली कहानीदीदी संग मेरी पहली चुदाईमें पढ़ चुके हैं कि मैंने अपनी शादीशुदा दीदी को कैसे चोदा. मैंने मनीषा के बारे में ऐसा पहले कभी नहीं सोचा नहीं था, लेकिन ना जाने क्यों उस दिन के बाद मैं हर समय मनीषा के बारे में सोचने लगा.

मैंने तो ये अन्धेर में ऐसे ही तीर चलाया था मगर वो सही निशाने पर लगा था. आओ बेटी उधर लेटो बेड पर!दीपक ने उसे एक कोने में बेड पर लेटाया और जांच शुरु कर दी. इन कपड़ों में नीता गज़ब सेक्सी लग रही थी।मैं बोला- तुम दोनों बेड पे सो जाओ और मैं सोफे पे सो जाता हूँ।वो बोली- नहीं, आप थके हुए हैं, बेड पे ही सो जाओ, एडजस्ट कर लेते हैं।मैंने बोला- तुम्हारा बेटा रात को नींद में लातें तो नहीं मारेगा?वो हंसने लगी, बोली- मैं बेटे को दूसरी साइड में सुला देती हूँ.

उसने मेरे लंड पर से कंडोम निकाला और उसे कचरे के डिब्बे में फेंक दिया.

वो बोला- साली बहुत मस्त गांड है तेरी … गजब चुदवाती है भैन की लौड़ी … बहुत मजा आ गया तुझे चोद कर वन्द्या … मैं धन्य हो गया. मैंने यह नहीं बताया कि मैं कमलेश के साथ घूमने जा रही हूं। अगर मैं ऐसा बता देती तो मेरे घरवाले मुझे कभी उसके साथ नहीं जाने देते. जब वो वापिस आई तो उसने अपने हाथों में एक डिल्डो (नकली लंड) लिया हुआ था.

पर मैं तो अपना सुपारा रगड़े जा रहा था, क्योंकि दोस्तो, लड़की को जितना अधिक तड़पाओगे, उसे उतना ही मज़ा आएगा. मैंने देखा बीच वाली सीट में दो बहुत लंबे लंबे करीब सात-सात फिट के बिल्कुल काले सांड जैसे नीग्रो बैठे थे.

मेरा पूरा मुँह उनके वीर्य रूपी अमृत से भर गया, जिसे मैंने पूरा पी लिया और पूरी चूत को चाट के साफ कर दिया. मैं बोला- मेरे को कोई दिक्कत नहीं है, आप मेरे को इवनिंग में कॉल कर लेना. फिर जैसे ही मैंने अपना हाथ उसकी पेंटी में घुसाया, नेहा के मुँह से हल्की एक ‘आह्ह …’ सी निकल गयी और उसने घुटनों को मोड़कर अपनी जांघों को जोरों से भींच लिया.

ब्लू पिक्चर वीडियो सेक्सी सेक्सी वीडियो

थोड़े दिनों बाद वो दिल्ली में सैटल हो गयी, पर आज भी उसकी याद आती है.

और इसी बीच मेरी पत्नी ने उसके बूब्स को सहलाना शुरू कर दिया था और उसके चूतड़ों पर प्यार से हाथ फेर रही थी. अब तक सड़क सुनसान दिखने लगी थी और उसकी कार एक मध्यम रफ्तार से आगे बढ़ रही थी. उसने जल्दी से घर को अन्दर से लॉक किया और सारे पर्दे ठीक से लगा दिए ताकि किसी को भी कोई शक ना हो कि अन्दर कोई है.

उसने धीरे धीरे लिंग को हिलाते हुए थोड़ा लिंग बाहर निकाला और फिर हौले से दोबारा उतना ही अन्दर डाला, जितना वो अन्दर था. मैं उल्टी लेटी थी, जीजू ने बीच में हाथ घुसा मेरी कमर पर हाथ फेरने लगे और बोले- मेरी जान उठ भी जाओ ना. 2022 की सेक्सी ब्लू पिक्चरमैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने लंड के ऊपर रखा और वो पेंट के ऊपर से मेरा लंड सहलाने लगी.

मैंने एक हाथ से आंटी की चूत में उंगली की और दूसरे हाथ से मैं अपने लंड के सुपाड़े को सहला रहा था. भाभी की बुर पर छोटे छोटे बाल थे, जिनको देख कर मुझसे रहा नहीं गया और मैंने भाभी को लिटा दिया और उनकी बुर को पागलों की तरह चाटने लगा.

फिर मैंने दांतों से उसकी पैंटी को खींचकर उसके जिस्म से अलग किया और उसके पैरों के बीच में आ गया. मैं पूजा को बिस्तर पर बैठा कर खुद भी बिस्तर पर बैठ गया और उसकी चूची से खेलने लगा. फिर मैं उनको चूमते हुए थोड़ा ऊपर उनके पैरों की एड़ियों तक आ गया तो उनकी पायल बजने लगी.

मैं चूमता हुआ उसकी पैंटी को थोड़ा खिसका के उसकी वैस्ट लाइन पे किस करने लगा। फिर मैंने पैंटी के ऊपर से उसकी पुसी पे किस किया तो नीता ज़ोर से कसमसाई. इस सेक्स स्टोरी में अब तक आपने जाना कि मैं पूजा को तीसरी बार कुतिया बना कर चोदने में लगा हुआ था. जब मुझे कुछ समझ में नहीं आया तो मैंने चांदनी जी से बात की तो उन्होंने कहा कि उन्होंने भी 3-4 साल से कुछ नहीं किया.

लेकिन कहते है न कि जिस चीज़ की चाह रखो और पाने की कोशिश करो तो वो मिल ही जाती है.

अब जैसे ही सुलेखा भाभी ने अपनी चूचियों‌ को ब्रा की कैद से आजाद किया, उनकी बड़ी बड़ी और सुडौल भरी‌ हुई चूचियां ऐसे फड़फड़ा कर बाहर आ गईं … जैसे कि वर्षों की कैद के बाद कोई पंछी आजाद हुआ हो. चाची लम्बी लम्बी सीत्कार भरने लगीं साथ ही वे बोले जा रही थीं- हाँ … हाँ ऐसे ही … ऐसे ही हचक कर चोद दे … सच्ची बहुत मजा आ रहा है … उफ्फ … उफ्फ … ओह … आह … चोदो जल्दी जल्दी … मैं बस झड़ने वाली हूँ … आह … आह!चाची की चूत में तेज सुरसुरी होने लगी और चाची ने मुझे जोर से जकड़ कर पकड़ लिया.

वो लेटी हुई कंबल को खींच रही थी, शायद उसको मेरे सामने पहली बार नंगी होने में शर्म आ रही थी. फिर मैडम ने अपने बारे में बताया, मैंने उनके पति के बारे पूछा, तो बताया कि वो बहुत बड़े बिजनेस में हैं और अक्सर बाहर रहते हैं. मैंने देखा उनमें से दोनों की उम्र लगभग वही राज अंकल के आसपास थी 50-55 साल की.

ये कहानी मेरे और मेरे बॉस की वाइफ सुमन (नाम बदला हुआ) के बीच की है. फिर उनके हाथ मेरी पीठ पे रेंगने लगे और उन्होंने मेरी पैन्ट में खुरसी हुई शर्ट बाहर निकाल दी. उसने मुझसे दोबारा कहा- जब से तुम्हारी फ़ोटो देखी, तब से मिलना चाहता था.

आदिवासी एक्स एक्स एक्स बीएफ तभी चाचा चाची को चित करके उनके दोनों मम्मों को अपने दोनों हाथ से मसलते हुए उनके होंठ को लेमनचूस की तरह चूसने लगे. एक दिन दिन नीता की कमर में बहुत दर्द था तो मैंने उसे उसके घर तक छोड़ा तो उसकी माँ से भी मिला.

घोड़ा और लेडीस की सेक्सी वीडियो

हिमांशु बहुत खुला लड़का था, उसने सीधे मुझे लिटा कर मेरी टांग फैला दीं और अपने जीभ मेरी चूत के फांकों के बीच रख कर चाटने लगा और नाक से सूंघने लगा. तभी कोई एक अंकल मेरे होंठों के पास अपने लंड को ले आए और मेरे होंठों पर अपने लंड को रगड़ने लगे. वो ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ करती रहीं और इधर मयूरी भाभी उन्हें किस करती रहीं.

फिर हम एक मॉल में मिले जहाँ उसने पूछा- कैसे क्या होगा … और किसी को पता नहीं लगे! मैंने अपने हस्बैंड से बात कर ली है. एक दिन सबा ने मुझसे कहा- मूवी चलें?मैंने कुछ सोचे बिना हां कह दिया. ब्लू फिल्म हिंदी में सेक्सी दिखाओफिर मैंने उन्हें लिटाया और उनके ब्लाउज के हुक खोल कर उनके बूब्स बाहर निकाल लिए.

मैं कुल मिलकर बहुत मेहनती लड़की हूँ और मस्ती से चूत चुदवाने वाली भी हूँ.

वो भी तेजी से आते हुए अचानक मेरी बर्थ के सामने वाली सीट पर आकर बैठ गई. हम दोनों साथ में कभी मूवी देखने जाते, तो कभी गार्डन में बैठ कर अपने प्यार को परवान चढ़ाते रहते.

मयूरी के आनन्द की चरमसीमा आ चुकी थी… वो इतनी देर में कम-से-कम पांच बार झड़ चुकी थी. छह बजे होटल पहुंच कर मेम ने कहा कि अभी रेस्ट कर लो … आठ बजे डिनर के लिए मिलते हैं. उनसे बात करके समय भी मैं उनके तने हुए बोबों को ही देख रहा था और ये चीज़ वो भी नोटिस कर रही थीं.

उन्होंने तेल लगाया और लंड हिलाते हुए मस्ती से कहा- हरामज़ादे तू टंच माल है, जियो मेरे शेर जियो.

उन्होंने अपना वादा पूरा किया और मैं अब सब समझ भी गई कि मेरी मम्मी सच में कैसी हैं. उन्होंने बोला कि बुरी आदतें मतलब सिगरेट पीना या ड्रिंक करना पूछा है. मैंने चुत की फांकों के बीच के गुलाबी भाग को ऊपरी छोर से चाटना शुरू किया और धीरे धीरे नीचे की तरफ बढ़ने लगा.

बिहारी मैथिली सेक्सीउन सब को‌ गांव छोड़कर आने‌ के लिये प्रिया के पापा ने भी ऑफिस से छुट्टी ली हुई थी. खैर मैंने तो पहली बार लंड पकड़ा था, तब यह नहीं पता था कि हर मर्द का अलग साइज़ होता है.

पिक्चर सेक्सी वीडियो मूवी

अब मैंने अपने लंड की स्पीड बढ़ा दी, अब सविता चुदाई का पूरा मजा ले रही थी और नीरू उसकी गांड की दरार को फैलाकर मेरे लंड को सविता की चूत में अंदर बाहर होते देख कर मजे ले रही थी. मुनीर अपनी जुबान मेरी योनि के ऊपरी हिस्से के दाने पर टिका कर उसे चाटने लगी. मेरे इसी विश्वास की वजह से ही मैंने अब आनन्द लेना शुरू कर दिया और उसका साथ भी खुल कर देना शुरू कर दिया.

सुशीला सिसकारियां भर भर के तड़पने लगी … दो बडे बड़े लंड उसके दो छेदों में थे। मानसी देख रही थी कि उसकी माँ को दो मर्द रगड़ रगड़ कर चोद रहे हैं. रमीज जाते-जाते महेश और सुनील को बोला कि तुम लोग भी थोड़ा आगे पीछे डाल के इस मखमली लौंडिया को चोद लो. लगभग चार मिनट के बाद मैंने महसूस किया कि रेवती कि चूत का कसाव मेरे लंड पर कुछ ज्यादा बढ़ गया और रेवती की सिसकारियां और ज्यादा तेज हो गई थीं.

इतने में देखा कि वो भाभी (मैडम) रेलिंग पर खड़ी थी और उनकी आँखों में आंसू थे. पर मैं बोला- बेबी मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है … मैं बस दीदी को ही लाइक करता था. तुम्हें बहुत अच्छा लगेगा, मेरा वादा है, नहीं लगे अच्छा तो बता देना, तुम्हें तुम्हारी मर्जी के बिना कोई कुछ नहीं करेगा.

आज मैं फिर आपको अपनी सच्ची दास्तान लिखने जा रहा हूँ, जो शतप्रतिशत सही है. मेरे जैसे नये नवेले लेखकों के लिए आप सभी पाठकों के सुझाव ही प्रोत्साहन का काम करते हैं और हमारा हौसला बढ़ाते हैं.

कुछ पल अपनी जवानी को निहारने के बाद मैं तैयार होकर गेम के लिए आ गई.

वो चिल्ला उठी उन थप्पड़ों के प्रहार से- हाँ, मैं रंडी हूँ! मुझे चोदो!मैं- किससे।सुशीला हाथ उठाकर- इससे।मैं- नाम बताओ।सुशीला- लंड से!मैं- हाँ … थोड़ा आकर मेरे लंड को चूस साली रंडी … प्यार कर अपने यार को!मानसी सारा खेल देख रही थी. 100 साल पुरानी सेक्सी वीडियोअब हम दोनों मां बेटियों को रंडियों की तरह कुतिया बनाकर पेल रहे थे।अब हमने दोनों को एक दूसरे के पास कर दिया और दोनों को एक दूसरे का मुंह चूमने को बोला. देसी लुगाई की सेक्सी वीडियोमुझे आपके जवाब का इंतजार रहेगा कि आपने मेरे उपाय को करके कैसा अनुभव प्राप्त किया. हालांकि उन्होंने मुझसे भी साथ चलने को कहा था, पर मुझे छुट्टी नहीं मिल रही थी.

मेरी सासू माँ के गीले गीले मुँह से मेरा लंड और भी गरम हो रहा था और बढ़ता ही जा रहा था.

अब मैं उन्हें चोदते रहता हूँ और शायद उनकी शादी तक उन्हें चोदता रहूँ. मैं- कैसे?अंकल- चुत के अन्दर जो चीज है ना … उसको मेरा लंड उसको हटाएगा तो तुम फूल बन जाओगी. वो मेरे लंड को सहलाने लगी और फिर अपने मुँह भर लिया और मजे से चूसने लगी.

मैं रेवती को उस स्पीड से चोदे जा रहा था कि कहीं मेरा लंड सच में उसकी चूत नहीं फ़ाड़ दे. नहीं तो मैं तुम्हारे मुँह में ही झड़ जाउंगा और तुम्हारी चूत प्यासी रह जाएगी. उसने भी विज्ञान विषय ले रखा था और वो भी मेरी तरह डॉक्टर बनना चाहती थी.

इंडियन सेक्सी मूवी एचडी ओपन दिखाओ जी

बीवी बोली- क्या बात है आज तो थक ही नहीं रहे तुम?मैंने बहाना बना दिया कि इतने दिनों से प्यासा था. शायद सभी इसी बात का इन्तजार कर रहे थे लेकिन पहल कोई नहीं करना चाह रहा था. मैं भी उनकी संभोग क्रिया देख कर, अब बहुत व्याकुल हो चली थी और अब मुझसे भी नहीं रहा गया.

आप कह सकते हैं कि सेक्स लाइफ के बारे में सबसे ज्यादा मैंने यहीं से सीखा है.

मुझसे रुका नहीं गया और मैंने अपना लोवर बिना वक़्त गंवाए उतारा और कविता के ऊपर चढ़ कर उसे किस करने लगा.

फिर करीब 10 मिनट के बाद दूसरी बार मैंने उसके साथ चुदाई का खेल फिर से शुरु किया, मैंने उसके बूब्स को सहलाया, फिर मैंने उसके निप्पल चूसे और उसके ऊपर चढ़कर अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और पूरा ज़ोर लगाकर अपना लंड उसकी चूत के अंदर किया. मगर मैंने उन्हें बांहों में लेकर बिस्तर पर गिरा लिया और अपने शरीर के भार से दबाकर फिर से उनके नर्म नर्म गालों पर चुम्बनों की‌ बौछार सी‌ कर दी. एमपी सेक्सी एमपीतभी नीरू बेड पर लेट गई और लेट कर अपनी टांगें चौड़ी कर अपनी चूत को उंगली से फैलाकर पायल को दिखाती हुई बोली- देख यार, मेरी चूत 3 महीने पहले तक बिल्कुल बंद थी.

एकता भाभी ने मयूरी के दूध को चाट कर मेरा माल चखा और रिया भाभी ने चुत चाट कर स्वाद लिया. फिर मेरे लंड को देखते हुए पूजा मुझसे बोली- लगता है कि तुम्हारे लंड में अभी काफ़ी दमखम है और तुम अभी भी शरारत करने के लिए तैयार हो. थोड़ी देर में वो सिकुड़ने लगा, तो मुझे धीरे धीरे राहत सी महसूस होने लगी.

देख कम्मो, मुझे तुम्हारे घर चलने में कोई आपत्ति नहीं, लेकिन तुम्हारी आंटी, मेरी बहूरानी अदिति को ये बात अजीब लगेगी कि मैं तुम्हारे गांव क्यों जा रहा हूं. देख ले … अब सोच ना तुझको है!पायल ने पूछा- किस तरह के मजे?नीलू बोली- मजे एक तरह के होते हैं लड़कियों के लिए इस उम्र में! तू समझ कर रही है कि मैं क्या कह रही हूं.

पूजा मुझे फिर से अपनी बांहों में भरती हुई मुझे चूम कर बोली- ओह डार्लिंग, बहुत मज़ा आ रहा है.

मैं अपनी ही धुन में लगातार धक्के लगाता रहा, जिससे प्रिया अब जोरों से कराहने लगी- आआ … अहह्हह … ओय्य … बस्स्स … अब बहुत जल रहा है …प्रिया ने मेरी कमर को पकड़कर कराहते हुए कहा. उनका पल्लू भी उनके मम्मों से हटा हुआ था, मैं जब भी गियर चेंज करता तो मेरा हाथ उनकी जांघों से टकरा जाता. मैं सोच में पड़ गया, कभी भाभी को कोसता कि क्यों इधर रहने आ गईं, कभी बहन के दिमाग को कोसता कि अजीब पगली है, कभी डैड को कोसने लगता कि उन्होंने क्यों कहा कि अपने झगड़े अपने तक रखो.

मां बेटे की सेक्सी डॉट कॉम लखनऊ बस स्टैंड के पास ही दो तीन दिन बाद वह मुझे फिर से दिखी, तो मैंने उसे इशारा करके अपनी बस में, जिसमें मैं बैठा था. इस सेक्स कहानी में आज आप मज़े लीजिए कि कैसे रिया भाभी ने मुझे उनकी सहेलियों की गांड भी दिलवाई.

खाना खाते हुए कभी कभी मैं रेवती के पैर को अपने पैर से छू देता तो रेवती मुस्कुरा जाती. उनके बारे में मैं भी सोचने लगी कि मैं भी अपने जीजू से चुदूँगी तो घर की बात घर में ही रह जाएगी. अबकी बार जैसे ही रेवती ने अपनी गांड को उठाकर नीचे पटका, मैंने अपना आधा से ज्यादा लंड रेवती की चूत में उतार दिया.

मुझे अंग्रेजी सेक्सी

मैं टेबल के पास गया और तेल के शीशी से तेल निकाल कर पहले अपने पूरे लंड पर तेल लगाया. शीतल- अच्छा?मयूरी- हाँ… और इसीलिए दोनों आपको एक साथ चोदना चाहते हैं… एक आपकी गांड में और एक आपकी चूत में लंड डालकर आपको चोदना चाहते हैं. हम दोनों बाथरूम में जाकर पहले मैंने अपने हाथों से पूजा की गांड को साबुन लगा कर धोया और फिर पूजा ने मेरे लंड को पकड़ कर मसल मसल कर धोया.

मैंने समझते हुए कहा- ठीक है, शनिवार शाम 5 बजे यहीं मिलूंगा … तैयार रहना. तो मैं सोचने लगा कि क्या आंटी के रूम से आवाज़ आ रही है?मैंने खिड़की के एक छेद से झांक कर अन्दर देखा.

मैंने समाली अंकल का लौड़ा मुँह से निकाल कर कहा- राज, बहुत मस्त गांड चोदता है तू.

माइक धक्के पर धक्के मार रहा था, मुझे तभी एक पल के लिए मुझे ऐसा लगा. बीच बीच में मैं उनके कान पर दांतों से हल्का सा काट देता था, जिससे वो सिहर रही थीं. मुझे बहुत ही अच्छा अनुभव हुआ और आंटी की एक लम्बी चीख निकल गई- अऔच …ऐसे ही झटके मारते मारते मैं अब चरम सीमा तक पहुंच गया था, मगर मेरे पहले आंटी ने अपनी चूत का पानी छोड़ दिया और उनकी चुत की गर्मी से मैं भी पिघल कर उनको तेज तेज चोदते हुए उनकी ही चूत में झड़ गया.

मैं बोली- ओके अंकल जैसा आपको ठीक लगे! पर मम्मी जान ना पाए कहीं कि मैं रात में बाहर गई थी. मेरे जोर से चूसने पर वो चिल्ला उठी- यार आराम से करो ना … मैं तुम्हारे पास ही हूँ पूरे एक हफ्ते के लिए …इसके बाद मैंने उसकी पैंटी को ऊपर से सूँघा तो मादक खुशबू का अहसास हुआ. वो बाथरूम से बाहर निकला, विक्रम भी नीचे से बिल्कुल नंगा था क्योंकि थोड़ी देर पहले ही उसकी अपनी माँ ने उसके लंड को चूसने के लिए उसकी शॉर्ट्स को खोल दिया था.

मैं जैसे ही नीचे चुत चाटने को हुआ तो वो बोली- जानू … नीचे अभी गन्दा है.

आदिवासी एक्स एक्स एक्स बीएफ: मैंने अपने होंठ उसके मम्मों की चोंचों से लगा दिए और जोर जोर से निप्पल चूसने लगा. थोड़ी देर में उसके मुँह से अस्स अस्स की आवाज़ निकली, बोली- मैं गयी!इधर मैं भी चरम पे था और आह करते हुए उसके अंदर ही अपना वीर्य छोड़ दिया और नीता के ऊपर ही गिर गया।5 मिनट बाद जब थोड़ा होश आया तो मैंने उसके माथे पे चूमा और उसके ऊपर से उठ के साइड में आया.

कभी उसके अधखुले उफनाते होंठों को चूमता तो कभी उसके लहलहाते मम्मों की कड़क चूचुकों को मसलता या हवा में झूलते उसके पांवों को सहलाता, जिनके बीचों बीच अपनी मस्त मुलायम गुलाब सी कोमल चूत में वो गोरा अंग्रेज अपने मूसल लंड के साथ जोरदार धक्के मार रहा था. मैंने कहा कि ये तो मेरी किस्मत है कि मुझे तुम्हारी सेवा का मौका मिला. ’ की आवाज मारी और हम दोनों ने लंड पेल कर धक्कों की गिनती करते हुए चोदना शुरू कर दिया.

चिराग ने पहले भी अपनी गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स किया था और मैं भी अपने ब्वॉयफ्रेंड से चुदी थी.

थोड़ी देर बाद वो अब अपने पैरों से मेरे घुटने तक की टाँग को अपने पैरों से सहला रहा था. आंटी ने अपनी आंखें बंद कर लीं और मजे से मेरी उंगली से चुदवाने लगीं. कुछ दिन बाद मैं भी परेशान हो गया कि इसकी जिद तो लम्बी होती जा रही है.