बाप और बेटी के बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,मेवाती सेक्सी फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

सक्सेस मूवी राजस्थान: बाप और बेटी के बीएफ वीडियो, तभी दीदी ने मेरे सर को छोड़ा और हाथ को जल्दी से नीचे मेरे लंड पर ले गई और लंड को पकड़ कर चूत पर रख दिया और मुझे आगे होने को इशारा करने लगी.

राजस्थानी सेक्सी वीडियो मूवी

ऐसा कहते हुए वो दो मिनट बाद मेरे मुँह में ही झड़ गईं, मैं उनका सारा माल पी गया. फिल्म कश्मीरी पंडितउन्होंने बोला- जितना भी हो पर मुझे इतना पता है कि ये मेरे हज़्बेंड से बड़ा और मोटा है.

प्रिया के शरीर में रह रह कर उत्तेज़ना की तरंग उठ रहीं थी जिन के फलस्वरूप प्रिया का हाथ मेरे हाथ पर कस कस जाता था जिन्हें मैं स्पष्ट महसूस कर रहा था. आदिवासी लड़की का सेक्सउस दिन शाम में मीना आंटी ने अपने पड़ोसी को मेरी ट्यूशन क्लास के बारे में बताया कि कैसे मैंने पिंकी और रोशनी को पढ़ाने के साथ साथ उनकी बॉडी लैंग्वेज भी विकसित कर दी है.

कुछ देर तक वो देखती रही फिर पलट कर जाने को हुई तो मैंने लपक कर उसको पकड़ लिया और उसे खींच कर बेड पर बैठा लिया.बाप और बेटी के बीएफ वीडियो: पीछे से मेरा छोटा भाई भी आया और बोला- चलो भैया, उस दूसरे वाले झूले पर चलते हैं.

अब तो मम्मी एकदम गरम हो गई थीं और स्टीव का चेहरा अपनी चूत में घुसा रही थीं.निर्मला ने किस के बाद ही बोला- थैंक्स अतुल, बहुत अच्छा लगा मुझे!फिर मैं उनके मम्मों को चूसने लगा और वो मेरे लंड से खेलने लगीं.

सेक्सी फिल्म हिंदी गांव की - बाप और बेटी के बीएफ वीडियो

कुछ देर बाद किसी ने दरवाजा खटखटाया तो हम दोनों ने झटपट कपड़े ठीक किए और मैं वहीं सोने का बहाना करके लेटा रहा.मेरी जम कर चुदाई आखरी बार किशोर ने की थी और वर्षा की भी तब हुई थी, उसको पन्द्रह दिन हो चुके थे, अब मेरी चूत फिर से लंड के लिये तड़प रही थी, मैं रोज टॉयलेट में मेरी चूत में मोमबत्ती डालती पर वो ठंडक नहीं मिलती जो लंड से मिलती है.

अब घर आकर मैं फ्रेश होकर नाश्ता करने के बाद अपने रूम में आ गया और क्या सरप्राइज़ दूं, यही सोचने लगा. बाप और बेटी के बीएफ वीडियो वो मेरी पेंटिंग थी, जिसमें मैं बिना दुपट्टे के सिर्फ़ ब्लैक सूट और सलवार में थी, मेरे बाल खुले हुए और मेरे पूरे शरीर को बखूबी पेंट किया हुआ था, बहुत ही खूबसूरत पेंटिंग थी वो, मैं उसे देखने में खो गई थी कि तभी पीछे से संजय की आवाज़ आई- कैसी लगी भाभी जी पेंटिंग?मैं चौंक गई और पीछे मुड़ते हुए बोली- अच्छी है पर क्यों ऐसी? मेरा मतलब बिना दुपट्टे के.

गोलू पीछे होने की कोशिश करता रहा, पर पूजा ने ताकत से उसका मुँह चूत पर दबोच दिया.

बाप और बेटी के बीएफ वीडियो?

मैंने उनको 6 बजे मेट्रो से अपने घर के पास वाले मेट्रो स्टेशन पर बुला लिया और जल्दी जल्दी अपना पूरा कमरा ठीक करके कपड़े पहन कर उन लोगों को लेने के लिए चली गई. अगर आप मेरी कहानी पढ़ना चाहें तो मेरा ईमेल आईडी इस वेबसाइट पर टाइप करके पढ़ सकते हैं. मैं अपनी सबसे बड़ी वाली उंगली को दीदी की चूत की लाइन में ऊपर से नीचे चला रहा था और बूब्स चूसते हुए दीदी की तरफ देख रहा था.

मुझे पटा नहीं था कि वो कुंवारी है या पहले चुदाई करवा चुकी है इसलिए अगर दर्द हो तो मुझे हटाने लगे तो उसे रोकने के लिए मैंने उसे जकड़ लिया और लंड का दबाव उसकी चूत पर बनाने लगा. उसके बाद तो हम हर महीने इस तरह के चुत चुदाई समारोहों का आयोजन करने लगे थे. गोलू ने मज़बूरी में पूजा के मुँह में सु सु कर दी पर पूजा ने उसकी सु सु मुँह ने ही दबा कर रख ली.

तो फ्रेंड्स कैसी लगी मेरी प्यासी भाभी की चूत चुदाई की रियल कहानी… कुछ गलती लगी हो तो माफ करना और मुझे मेल जरूर करना. लेकिन उस दिन दीदी की पीठ पर साबुन लगाने के बाद से, सब कुछ मानो बदल सा गया था. अइय्आआ आऐययईया…मैंने भी मौका पाते ही झट से लंड चूत से निकाल कर गांड में घुसा दिया.

उसने मुझे और जोर से जकड़ा और उसके मुँह से मस्त मस्त आवाजें निकलने लगीं. अब वो दोनों हाथ को जमीन पर रख कर सिर्फ मुँह से मेरे लंड को चूस रही थीं.

अवी ने बताया था कि कम से कम 25 से 30 लोग आएंगे, तब मैं और स्वाति दूसरे रूम में चली गईं, ताकि ड्रेस बदल सकें.

यह देख कर मैं डर गयी, घबरा गयी और बोली – मुझे छोड़ दो, प्लीज़ जाने दो!तभी भाभी के पापा बोले- आरती, चिंता मत करो, डरो नहीं, कोई दिक्कत नहीं होगी! मेरी जिम्मेदारी… भरोसा रखो, किसी को पता नहीं चलेगा, तुम एंजॉय करो, मेरा वादा है, भरोसा रखो.

अवी ने वो दोनों ड्रेस और टॉप दे दिया और उसी के साथ एक घड़ी भी बिलिंग के लिए दे दी. चाची कपड़े सूखने डाल कर घर के अन्दर आईं और बोलीं- रुक बेटा मैं जरा नहा लूँ. मैंने लंड पूरा बाहर निकाला तो चुत में से ढेर सारा पानी भी बाहर आ गया.

फिर हमने दूसरी बार कोशिश कि इस बार लंड का अगला हिस्सा उसकी बुर में घुस गया. चार तक ज्यादा डर नहीं लगा क्योंकि उतना तो मैंने सोच ही रखा था, पर जब पांचवें, छटवें और सातवें साधक ने उस कक्ष में प्रवेश किया तो मेरी गांड पहले से फटनी शुरू हो गई।मैं डर रही थी कि और भी कोई ना आ जाये. एक साफ़-सुथरा छोटा सा, बीच में से फूला सा V का आकार, जिस पर किसी रोम या बाल का नामोनिशाँ तक नहीं, जिसकी भुजाओं का ऊपर का खुला फ़ासिला तीन इंच से ज्यादा नहीं और बिलकुल मध्य में जरा सा नीचे की ओर गोलाई लेती एक पतली सी दरार जिस के ऊपरी सिरे पर से ज़रा सा झांकता भगनासा.

मुझे शर्म आ गयी इसलिए मैं सर नीचे करके अपनी नादानी से शर्मसार हो गया.

तो मैंने कहा- बहनचोद! ना मत कर! मेरा लंड मान नहीं रहा!वो बोली- अगर बच्चा रुक गया तो?मैंने कहा- मैं बाहर निकाल लूंगा, कुछ नहीं होगा. उसका तना हुआ लंड मुझे अपनी गांड के छेद में गड़ता सा महसूस हो रहा था. अन्तर्वासना की कामवासना से भरी सेक्सी सेक्सी फ्री चुदाई स्टोरीज पढ़ने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मैं आज आपके सामने अपनी रियल सेक्स स्टोरी लेकर आया हूँ, मुझे पूरी उम्मीद है कि मेरी कामुकता से भरी चुदाई की कहानी आपको पसंद आएगीमैं रमनदीप, हिसार हरियाणा का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 19 साल है, कद 5 फुट 7 इंच, मेरे लण्ड का साइज 6.

उसने भी वैसे किया वो मेरा लंड चूसने लगी और ढेर सारा थूक मेरे लंड पर लगा दिया. अब मेरे चूतड़ और चूचे जैसे पहले बिना ब्रा के भी काफी कसे कसे रहते थे. थोड़ी देर चुत में उंगली करने के बाद मैं नीचे आ गया, मैंने उनकी जाँघों को फैलाया और उनकी पेन्टी को सूँघने लगा, उसमें से बहुत ही मादक खुशबू आ रही थी.

वर्षा नहा कर आई और मेरी तरफ देखा भी नहीं, तभी उसकी स्कूल की क्लासमेट तीन सहेलियां आईं.

एक उसका सामाजिक सेवा में साथी था, जिसे मैं जानता था और दो शायद उसके फ्रेंड थे, जो थोड़े गुंडे जैसे तगड़े दिख रहे थे. आपको कौन सा फल पसन्द है?भाभी ने भी मुस्कुरा कर कहा- मुझे केला चूस कर खाना अच्छा लगता है!मैंने कहा- क्या.

बाप और बेटी के बीएफ वीडियो तुमने ये सब इतना गंदा कहाँ से सीखा?वो- मैंने एक गंदी फिल्म देखी थी. यही फायदा होता है लड़कों के साथ में शॉपिंग करने का, बहुत प्यारी ड्रेस खरीद कर लाई हो.

बाप और बेटी के बीएफ वीडियो एक दिन शायद फरवरी का आखिरी सप्ताह था, मैंने उसे अपने रूम में आने को कहा तो वो आने को मान गई. मेरी पीड़ा समझ कर कमल थोड़ी देर रुक गया और मेरी कमर और पीठ को सहलाने लगा.

मैंने देखा मेरी बहन सो गई और फिर मैंने रज़ाई को अपने सर तक खींच लिया और भाभी को किस करने लगा.

हिंदी में चोदने वाली पिक्चर

मोना को भी मेरे लंड का पानी का स्वाद शायद बुरा नहीं लगा इसलिए उसने जोया के मुँह में जीभ डाल कर उसके मुँह को साफ करना शुरू कर दिया. वो एक गर्ल कॉलेज में पढ़ती थी और दोस्त के साथ रहते रहते मेरी भी सुमन के साथ दोस्ती हो गई. ‘मैं तो प्रिया से प्यार करता हूँ… चाहे मुझे हक़ नहीं है ऐसा करने का, लेकिन करता हूँ.

उसके बाद राहुल का लंड एकदम साफ़ हो चुका था लेकिन तब भी जोया ने उसके लंड को चूसना बन्द नहीं किया और उसे एक छोटे बच्चे की नूनी की तरह चूसती रही. जोया कढ़ाई वाले एक सलवार सूट में थी लेकिन वह मेकअप में किसी एक्ट्रेस से कम नहीं लग रही थी. उसको बहुत तेज पेशाब आ रही थी, तो वो उठ कर जाने लगी, मैंने उसका हाथ पकड़ कर रोक लिया और मेरे सामने वहीं मूतने को कहा.

मम्मी पापा दोनों के मुँह से घुँ घुँ की आवाज आने लगी, मम्मी ने बाहुपाश के बाद अपनी दोनों टांगों को उठाते हुए पापा की दोनों टांगों को अपनी जकड़न में ले लिया.

उन्होंने कहा कि उन्होंने मेरी रेज़्यूमे देखी है और मैं उनकी जरूरत के लिए सही हूँ. उसकी चूचियों के निप्पल गुलाबी थे, अब तक उसके निप्पल टाइट हो गए थे जिन्हें मैं मुँह में लेकर चूसने लगा. तो उसने कहा कि देखो अब मैं कैसे खाऊंगी?इतना कहते ही उसने मेरे होंठों पर लगी चॉकलेट को चूसना शुरू किया.

कुछ देर बाद भाभी ने कहा- आज तुम्हारे भाई को काम है इसलिए वो आज नहीं आने वाले हैं. फिर रोहण मेरे पूरे शरीर को किस करने लगा और फिर वो मेरी चूत पर आ गया और फिर उसने मेरी पैंटी निकाल दी. क्योंकि जब मुझे खाने के बुलाने आई थीं, तब सलवार-कमीज में थीं और अब एक पतली सी नाईटी में गजब ढा रही थीं.

मेरे हृदय में बहूरानी से मिलने की अभिलाषा तीव्र से तीव्र हो रही थी, मैंने अपने बेटे के आने की प्रतीक्षा नहीं की और मैं अपने बेटे के फ़्लैट की ओर बढ़ गया. अब मेरा पूरा डर खत्म हो गया, मुझे राहत की सांस लेने का मौका मिला, अब मेरे अंदर सिर्फ जिस्म की भूख बची थी.

जब कुछ देर बाद दिमाग हल्का हुआ तो मैंने सोचा कि ममता भाभी तो अपनी चूत चुदवाने के लिए तैयार ही है, अब खुल कर नहीं बोल पा रही है या सिर्फ मुझे तरसा रही है. इसके बाद अगले दिन उसके मम्मी पापा चले गए और हम उसी होटल में रुक गए ताकि दूसरे दिन उसका प्रोजेक्ट पूरा हो जाए. माया ने अंकित का लंड अपने मुँह से बाहर निकाला और अंकित के टट्टों को अपने मुँह में भर लिया.

भाभी ने मस्ती में मुझे अन्दर बुला कर एक धौल मारी और बोलीं- मुझे बाद में उसके सामने जाने में शरम आएगी.

अब मेरा पूरा लंड अन्दर ही अपना माल छोड़े जा रहा था- आआहा आआहा… आह एयाया… ले आंटी मेरी मलाई खा ले…मेरा सारा बीज आंटी की चूत के अन्दर ही छूट गया. अब वो 69 की स्थति में मेरा लंड पकड़ कर चूसने लगी और मैं चुत और गांड बारी बारी से उंगली पेलने लगा. अब उसने मेरी ओर देखा और धीरे से उसके चेहरे को चादर के अन्दर ले लिया.

उतना ही प्यार करूँगा।उसने मुझे पास खींचते हुए कहा- प्रॉमिस करो कि जब मैं कहूँगी. वो दिखने में बहुत सुन्दर थी और दो बच्चों की माँ थी, फिर भी अपने आपको बड़ा मेन्टेन करके रखा हुआ था.

वो एचडी वीडियो थी, उसे 5-10 मिनट देखने के बाद मैं अपना लंड हिलाने के लिये उठकर बाथरूम जाने लगा तो दीदी अचानक से बोलीं- जो करना है. आंटी ने पूजा से कहा- देखो रोशनी को पहले वो भी शर्मीली थी, पर अब बड़े आत्मविश्वास से चलती है. अब मैं और जीजू किस कर रहे थे, मैं उनके अंडरवियर में अपना हाथ डाल कर उनका लंड पकड़ कर सहला रही थी.

ओपन आर्केस्ट्रा

मैं तो वैसे भी डर रहा था कि माँ ने वीडियो के बारे में पूछ लिया तो क्या बोलूँगा.

अन्दर आकर जब उसने व्हिस्की की बोतल और गिलास देखा और टीवी को बंद देखा तो बोल पड़ी- लगता है कि आज फिर मूड बनाया जा रहा है. मेरी बहनें मेरी माँ पर गई थीं बिल्कुल गोरा चिट्टा बदन, स्तनों और चूतड़ों पर भारीपन. रवि ने कई बार पूछा कि महेश के और तेरे बीच लड़ाई हुई क्या, तो मैं बात को बदल देती रही.

हम दोनों काफ़ी देर तक डीप किस करते रहे ‘उउंम उउउंम उउउंम उम्म्म…’वो पागल हो रही थीं और बोल रही थीं- ओह प्लीज़ और जोर से किस करो… प्लीज़ उउउंम उउंम उउंम उउंम…मैंने किस करते करते उनकी साड़ी के पल्लू को नीचे गिरा दिया और उनके मम्मों को प्रेस करने लगा. अगले दस मिनट में चाची की चूत का रस पीने के बाद मैंने उनको बिस्तर पर चलने को कहा. वीडियो वाली सेक्सी फिल्मवो धीरे धीरे कर रही थी… मेरे लम्बे और मोटे लंड के माप को भाम्प कर वो… शायद वो घबरा गयी… उसके हाथ कांपने लगे.

फिर घर पर इस तरह से डरी डरी और चुपचाप क्यों रहती हो?दो मिनट नीचे देखने के बाद उसने कहा- नवीन मैं भी खुल कर रहना चाहती हूँ, पर मम्मी के नियम और सोसाइटी में लोगों की सोच की वजह से मुझे दब कर रहना पड़ता है. मेल और फीमेल दोनो प्रजातियों को मिस्टर इलाहाबादी कानमस्कार!दोस्तो, मेरी एडल्ट स्टोरी इस उम्मीद से पेश कर रहा हूँ कि आपको पसंद आयेगी.

बॉस गंदी गंदी गालियां देकर मेरी गांड मार रहे थे, जो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. बहू रानी तुरन्त उठ के सीधी हुई और मुझे शिकायत भरी निगाहों से लेकिन होंठों पर मुस्कराहट लिए देखती रही, तभी उसके होंठों ने ज़रा सा गोल होकर जैसे हवाई चुम्बन दिया; प्रत्युत्तर में मैंने भी अपने होठों से जवाब दिया. अब दीदी ने कुछ नहीं बोला तो मैंने उनका हाथ लेकर अपने लंड पर रख दिया और बोला- दीदी थोड़ा सहला दो ना, अभी भी टाइट है.

मैंने उसे थोड़ा सा छुआ तो वह भी एक छुईमुई के पौधे जैसे डर कर मुर्झा गई. मैंने अपना सारा पानी दीदी की चूत में ही छोड़ दिया और ऐसे ही दीदी के ऊपर लेटा रहा. हमारे बीच हंसी मजाक होने लगा, कभी कभी हम दोनों डबल मीनिंग बातें भी कर लेते थे.

”विक्की ने अपने दोनों हाथों से रोशनी के मोटे मोटे चुचों का दबोच लिया और बोला- दीदी, ज्यादा हिली डुलीं तो मैं तेरे काले अंगूर जैसे निप्पल को मसल के लाल रसभरी बना दूंगा.

फ़िर आहिस्ता आहिस्ता अपनी स्पीड तेज कर दी और उन्हें पूरे जोश से चोदने लगा. मैंने भी जवाब में कहा- मुझे भी!फिर मैं स्वाति के गले से लगी और स्वाति के हालचाल पूछे और उसने भी बताया.

रोशनी की गांड का ढक्कन खुल बंद हो रहा, जैसे वो एक जल बिन मछली की तरफ उछल उछल के सारे जूस को बाहर फेंक रहा हो. कुछ देर बाद मम्मी ने अपनी नाइटी पहनी और फूफा जी ने भी अपने कपड़े पहने. इस कोशिश में उसने थोड़ा वक़्त लिया और अपनी गांड जानबूझ कर हिला हिला कर मटकाती रही.

उसको लेकर मैं चाह कर भी कुछ नहीं कर सकता था क्योंकि मैंने जैसा पहले ही आपको बताया कि मेरी मम्मी बहुत सख्त थीं और मम्मी और भाई हमेशा हम दोनों के आजू बाजू होते थे. उनकी दोनों चुचियां और सपाट पेट, गहरी नाभि के साथ पूरा नंगा मेरे सामने था. किड का लंड अब बहुत सख्त हो चुका था, जिसके फलस्वरूप वो किसी खंजर की तरह मेरी अर्धांगिनी की गांड में घुस गया.

बाप और बेटी के बीएफ वीडियो मुझे शर्म आ गयी इसलिए मैं सर नीचे करके अपनी नादानी से शर्मसार हो गया. ये कह कर अवी अन्दर चला गया और थोड़ी देर बाद आया और साउंड सिस्टम में रोमांटिक गाने की टोन बजा दिया.

करीना कपूर की बीपी

उस्मान माया के मम्मों को घूरते हुए बोला- क्यों मैडम, सुमित सर ने ज्यादा परेशान तो नहीं किया ना?नहीं उस्मान, अभी मुझे जल्दी है मैं बाद में बात करती हूँ. अरविंद भैया की उम्र 26 हो चली थी चूँकि मम्मी बुर्के वाले धर्म से थीं तो उन्हें भैया की शादी की बहुत जल्दी थी और वो चाहती थीं कि भैया की शादी उनके मायके के धर्म की लड़की से हो. हम लेडीज को पुरुष की चौड़ी छाती ही सबसे ज्यादा अटरेक्ट करती है, आदमी की चौड़ी छाती हमें एक सिक्योर फीलिंग देती है फिर आपके इस चौड़े चकले सीने के तले पिसते हुए आपके लम्बे मोटे लंड की ठोकरें चूत को वो मजा देती हैं कि आत्मा तक तृप्त हो जाती है.

तभी बाहर से आंटी की आवाज आई- कल्याणी बेटी, क्या कर रही है?कल्याणी ने बोला- मैं रवि से कुछ सम सीख रही हूँ. [emailprotected]कहानी का तीसरा भाग :सेक्स कहानी प्यार में दगाबाजी की-3. लेडीस गले की चैनऔर जो अभी सुबह सुबह तू मुझे थैंक्स बोल रही थी वो किसी ख़ुशी में था?”वो तो ऐसे ही आपका दिल रखने के लिये; रात में आपने इतनी कठोर मेहनत जो की थी न मेरे ऊपर चढ़ के!”और अब क्या इरादा है मेरी प्यारी प्यारी बहूरानी का?”पापा जी, जो आप चाहो… आखिर हमने हजारों रुपये रेलवे को पे किये हैं, उसमें से जितने वसूल हो जायें उतना अच्छा!”यह हुई न बात!” मैं बोला और बहूरानी को अपनी गोद में घसीट लिया.

उसके बाद मैंने देर न करते हुए सीधा उसके होंठों पर होंठ रख दिए औऱ उसके होंठ चूसने लगा.

मैंने सोचा कि पहले कपड़े बदल लेती हूँ बाद में अवी से मोबाइल के बारे में पूछ लूँगी. मैंने उसकी चूत पर लौड़ा रखा और अपने लण्ड पर ढेर सारा थूक लगा लिया। एक हाथ से उसके मम्मे दबा रहा था.

मैंने अन्तर्वासना की बहुत सी रियल कहानी पढ़ी हैं मुझे इधर की चुदाई की कहानी पढ़ कर बहुत मजा भी आया. मेनका- अतुल, आइ लव यू सो मच…मैं- आइ लव यू टू जान…मेनका- तेरा लंड तो फिर से खड़ा हो गया? और इस बार तो यह और भी बड़ा लग रहा है… ला इसको सेकेंड राउंड के लिए तैयार करती हूँ. कुछ देर बाद फिर से वे मेरी चुचियों को अपने मुँह में भरने लगे, उन्होंने मेरी चूचियों के ऊपर से अपने ही माल को अपने होंठों से लगा लिया, फिर मुझे किस करने लगे.

अब जल्दी से अपनी जीभ से चाट कर मेरे जूते चमकाओ, वर्ना कोड़े मार मार के चमड़ी उधेड़ दूंगी.

आधा वीर्य उनकी चुत में और आधा उनके पेट पर निकाल कर मैं उनके बाजू में लेट गया. इस बार मैंने के टुकड़ा उनके मम्मों पर और दूसरा टुकड़ा उनकी चूत पर रख दिया और उन्हें फिराते हुए अपने मुँह से उनकी नाभि चूसने लगा. आनन्द मोना की गांड पर एक चांटा मार कर बोला- इसका तो बाजा बजाना बाकी है.

औरतों की योनि कैसी होती हैइसलिए उसने अंकित को नहीं रोका और अपनी गांड को पीछे की तरफ धकेलने लगी. मैंने पूछा- कैसे?तो बोली- अगले महीने वो 15 दिन के लिए बाहर जा रहे हैं और मैं तुम्हारे बीवी से बात करूँगी कि जब तब मेरे पति ना आ जाएं, तब तक क्या मैं आपके साथ रह सकती हूँ.

टेबलेट किस काम आती है

बहूरानी ने मुझे अपने आलिंगन में भर कर प्यार से चूमा और अपनी कमर ऊपर तक उठा के मेरे लंड का सत्कार किया- बस पापाजी, ऐसे ही लेटे रहिये मेरे ऊपर चुपचाप!वो बोली और अपने घुटने मोड़ के ऊपर उठा लिए; अब उसकी चूत का खांचा अपने पूरे आकार में आ चुका था; मैंने अपने लंड को और दबाया तो लगभग एक अंगुल के करीब लंड और सरक गया चूत में. क्या हुकुम है मेरे लिए?मैं- कहीं भी चलो, मुझे कुछ शॉपिंग करनी है तो किसी मॉल में चलते हैं. वो बुरी तरह से तड़पने लगी और मुझे पीछे धकलने लगी और उसने मेरे होंठ भी काट लिए, पर ना ही मैंने उसके होंठ चूसना छोड़ा और ना ही अपनी पकड़ ढीली की, क्योंकि मुझे पता था कि अभी सिर्फ सुपारा ही अन्दर गया है.

चाची के पूछने के बाद दीदी ने उनको बताया कि मुझसे खेलते हुए पैर में मोच आ गई. फिर मैंने उसे तौलिया देते हुए कहा- रजनी तुम्हारे हाथ कितने गोरे हैं?वो बोली- हट बेशर्म. मैं थोड़ा उदास हो गया, मुझे उदास देखकर रुबीना ने मेरा लंड पकड़ा और अपने मुँह में ले लिया.

मैं आज भी पैंटी में थी और रोहण सो गया और मैं फिर आज उदास होकर सो गयी. थोड़ी देर चुत में उंगली करने के बाद मैं नीचे आ गया, मैंने उनकी जाँघों को फैलाया और उनकी पेन्टी को सूँघने लगा, उसमें से बहुत ही मादक खुशबू आ रही थी. मैं जब जवानी की दहलीज पर कदम रख ही रहा था और वो पूरी मस्त जवान हो चुकी थीं.

मैंने कहा- हां, मैं समझ तो रहा हूँ, लेकिन फिर भी आपके मुँह से सुनना चाहता हूँ. मैंने भी देर करना उचित नहीं समझा और अपना लंड उनकी चूत में ठोक दिया.

मेरा विश्वास है कि इस हिंदी सेक्स कहानी को पढ़ कर लड़के अपना लंड हिलाएंगे और लड़कियां अपनी चूत में उंगली किए बिना नहीं रह पाएंगी.

नताशा की क्लिट को मसलते मसलते ओमार इतना अधीर हो उठा कि उसने मेरी पत्नी को अपने ऊपर लेटा कर नीचे से उसकी चूत मारते हुए उसके होठों को चूमना शुरू कर दिया:आह. सेक्सी हिंदी वीडियो फुल मूवीमैं उन्हें खूब प्यार से समझाने लगा कि जीवन में धैर्य बड़ी बात होती है. ब्यूटी प्लस कैमराआँगन में खड़े दोनों बहन भाई अब प्रेमी बन चुके थे, और एक लंबे और प्रगाढ़ चुंबन में लिप्त थे. मैंने अजय को बता दिया कि यहीं पास में एक होटल है, वहां पर दिन में खाना खा लेना.

मैं उसकी यादों को आँखों में सजाए वहाँ से निकलने लगा, तभी वहाँ के अधिकारी ने पूछ ही लिया- सर आपने पत्र लिया ना.

शायद अब उनके सब्र का बांध टूटने को तैयार था और उस बाँध के टूटने पर यक़ीनन मेरा डूबना भी तय था. फिर संजय उठा और मेरे ऊपर चढ़ गया और मेरे होंठों को मुँह में लेकर कस के चूसने लगा. भाभी ने भी थोड़ा गुस्सा दिखाते हुए कहा- ये तूने क्या किया, मुझे बिल्कुल नंगी कर दिया और मेरा सब कुछ देख लिया.

बातों बातों में एक दिन भाभी ने बताया कि उनकी शादी को दो साल हो गए हैं. मैं- क्यों? सब कुछ तो तुमने उतार दिया है?संजय- हां, पर मैं तुम्हें ऐसे देखना चाहता हूँ. मैंने उसे थोड़ा सा छुआ तो वह भी एक छुईमुई के पौधे जैसे डर कर मुर्झा गई.

बालों को लंबा करने का उपाय

कमल के चूत चाटने के अंदाज के इस अनुभव को में पहली बार महसूस कर रही थी. हालांकि मैं शादी से पहले गांड मराने का सुख ले चुकी हूँ इसलिए मेरी गांड खुली हुई थी. पापा जी, अब बताओ, आप कुछ कहने वाले थे मुझे देख कर?” बहूरानी सामने वाली कुर्सी पर बैठती हुई बोली.

यह कहते हुए मैंने अवी को रोका, जो वो खींच रहा था, मैंने कहा- तुम चलो मैं अभी आती हूँ.

उनके ऐसे देखने से मेरा लिंग आकार लेने लगा और तौलिया आगे से उठ गया, मुझे शरम आई तो मैंने कहा- आंटी वो मेरे पैर में चोट है तो मैं बाथरूम में कपड़े नहीं उतार पाता.

और मेरे साथ चल पड़ा। मैंने सोचा चलो अपने भतीजे का तो साथ बना। उसका नाम रविंदर था. मैंने सोचा कि छोड़ो… चूत तो मिल रही है! मैंने उसे कहा- ठीक है, कोई बात नहीं!फिर मैंने उसकी ब्रा हटा दी और उसके आम चूसने, काटने लग गया. वॉलपेपर डाउनलोड लड़कियों केफिर रोहण ने मेरी दो बार चूत मारी और दो बार गांड!मेरे बेटे ने अपनी माँ की पूरी वासना शांत कर दी और मेरी चूत और गांड बंदर की तरह लाल कर दी थी.

वो तो मैंने पहले ही अपने हाथों से खोल रखी है पूरी… आ जाओ आप जल्दी से!” वो बेचैन स्वर में बोली. मैं तो बहुत देर से जोया को चोदना चाह रहा था, इसलिए कुछ देर आराम करने के बाद मैंने राहुल से जोया को बेड के किनारे सिर करके चोदने को कहा. उसके गीले चमकते हुए गोल गुलाबी नितम्बों का जोड़ा मेरे सामने था जिनके बीच बसी चूत का छेद किसी अंधेरी गुफा के प्रवेश द्वार की तरह लग रहा था.

आह… और मेरा बेटा… चूस ले, निचोड़ दे अपनी माँ की चूत को!मेरे पूरे चेहरे पे मेरी माँ की चूत का पानी लग गया था. पापा जी… अब आप ऊपर आ जाओ, थक गई मैं तो!” बहूरानी बोली और मेरे ऊपर से हट गयी.

पता होता तो रोज़ तेरे बाप को छोड़ कर तेरे से ही चुदती!और यह कहते हुए उन्होंने लंड के सुपारे को अपने दाँतों से काट दिया.

बहुत मोटा है इस नीग्रो हब्शी का… अपनी मासूम बच्ची को बचा ले राधिका. इस फंसी सी स्थिति में लंड इतना अच्छा तो नहीं आ रहा था लेकिन एक चालू गाड़ी में अपनी सगी बहन को चोदने का मजा ही कुछ और था. मैंने बहुत कोशिश की कि उसके लिए ऐसा न सोचूँ, पर वो थी कि मेरे दिमाग़ से उतरती ही नहीं थी.

वाई2मेट 2023 क्या तूने कभी सेक्स किया है?मैंने झूठ बोलते हुए कहा- नहीं भाभी!भाभी ने हंसते हुए कहा- क्या तेरा मन करता है या सिर्फ़ हाथ से हिला कर सो जाता है?मैं भाभी के मुँह से ये शब्द सुन कर हैरान हो गया, पर अन्दर ही अन्दर खुश भी बहुत हो रहा था कि चलो बात तो बन रही है. लेकिन अगले दो दिन मैं उसका इंतज़ार करता रहा और अपने लंड को समझाता रहा कि चिंता मत कर, चूत का इंतज़ाम हो गया है और मुठ मारकर सो जाता.

मैंने अपने होंठों उसे उसकी चुची पर चूमना शुरू किया और जब उसके एक निप्पल को अपने मुख में लिया तो रिया की सिसकारी निकल गयी. वो योग गुरू आनन्द मेरी बीवी मोना के होंठों के रस को पी रहा था और मेरी बीवी के हुस्न की दावत उड़ा रहा था. ‘आप तो कह रही थीं कि आपको केला चूसना पसंद है!’‘वो तो ऐसे ही मजाक में कह दिया था.

सेक्सी फिल्म चौधरी

सुबह छह बजे हमें निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन (दिल्ली में कई रेलवे स्टेशनों में से एक) पहुंच जाना था. उनकी चूत से चुदाई का रस मेरे लंड से होते हुए मेरी गोलियों तक आ गया. तकरीबन सुबह 5 बजे मेरी आँख खुली तो मेरा सर दर्द से फटे जा रहा था, शराब का नशा अभी भी मुझ पर था.

माधुरी को तलाक के फैसले से जो पैसा मिला उससे उसने एक काम चलाऊ घर खरीदा और अपने माँ बाप को लेकर इस घर में आ गई क्योंकि माधुरी के भाई पहले ही अलग घर किराए पर लेकर रहने लगे थे. पुलकित को यह भय था कि अगर मंजरी का भाई और मम्मी घर आ गए तो कहीं उसे यह मौका भी न गंवाना पड़े, तो पहले एक बार मंजरी कंजरी को ठोक लो, चुदाई कर लो, प्यार बाद में करते रहेंगे.

तभी अचानक से भाभी ने मुझसे पूछ लिया- दीनू क्या तुम्हारी कोई जीएफ है?मैंने मना कर दिया.

दोस्तो, तब ये सोचा भी नहीं था कि ओरल सेक्स एक दिन फुल सेक्स में बदल जाएगा. कुछ मिनट उंगली करने के बाद भाभी भी मेरा साथ देने लगी और हांफने लगी. उस हल्की रोशनी में वो बहुत ही हसीन लग रही थी और कुछ पैग का सुरूर भी था.

जब वो फ़िर से नॉर्मल हुईं तो मैंने फ़िर से धक्का दिया, इस बार मेरा लंड काफी अन्दर घुस गया था. दीदी ने मुझे उनकी चूत को घूरते देखा तो दोनों टाँगों से चूत को मेरे से छुपा लिया और अपने सर को भी शरमा कर दूसरी तरफ पलट लिया. यही सोच कर मैं चुपचाप पड़ा रहा और मन ही मन ईश्वर से प्रार्थना करता रहा कि वे कोई चमत्कार करें और मुझे इस पापकर्म में लिप्त होने से बचा लें.

फिर से पापा बोले- प्लीज मेरी जान, आँखें खोलो, मुझे देखो!मैंने अपनी आँखें खोली और पापा एकटक मेरी आँखों में आँखें डाल कर मुझे देखते रहे, मै भी बिना पलक झपकाए पापा को देखती रही पापा बिल्कुल बॉयफ्रेंड की तरह मुझसे लिपट गये और मेरे होठों को फिर से जोर से चूमने लगे.

बाप और बेटी के बीएफ वीडियो: मैं- तो ठीक है, मैं कॉलेज ही जाता हूँ और सारे कॉलेज में इस वीडियो को बाँट देता हूँ क्योंकि आपने तो अमित का ही लंड चूसना है, मेरा नहीं!मैं जाने के लिए मुड़ा और अपनी पैन्ट को ऊपर करने लगा; तभी दीदी उठ कर मेरे सामने आ गई; मेरे देखते ही देखते ज़मीन पर बैठ गई और मेरी पैन्ट को वापिस नीचे करके लंड को हाथ में पकड़ा और लंड की टोपी को किस करने लगी. अब उसने मेरी ओर देखा और धीरे से उसके चेहरे को चादर के अन्दर ले लिया.

लगभग दस मिनट चलने के बाद मेरी बैटरी लो हो गई, उधर सुकुमारी भौजी भी हांफने लगी थीं. वह- अब चोद भी दे मादरचोद… कितने दिन से चुदी नहीं हूँ!मैं- कितनी बार और कितने लड़कों से चुदी हो तुम?वह- कभी गिना नहीं… पर मेरा बॉयफ्रेंड मुझे हर हफ्ते में दो बार तो चोदता ही चोदता है. मैं कुछ समझ पाती, तब तक उसने अपने लंड का सुपारा मेरी गांड के छेद पर रखा और जोर का झटका लगा दिया.

मैंने कहा- चचीजान, इसमें शुक्रिया वाली क्या बात ये तो मेरा फर्ज़ था.

न एकदम गोरी न काली, पर आँखों से सेक्स टपकता था या यों कहें सेक्सी आँखें थीं. सर के गहरे भूरे बाल ज्यादा सिल्की हो गए थे, साफ़ गेहुंए रंग के जिस्म की रंगत में एक चमक थी और कदम धरते वक़्त पुष्ट जांघों और ठोस नितम्बों में हलकी सी हिलोर उठती थी. मेरे लंड का चुम्बन लिया और प्यार से लंड को मेरी अंडरवियर के हवाले कर दिया.