एक्स एक्स एक्स बीएफ फिल्म मूवी

छवि स्रोत,अन्तर्वासना 3

तस्वीर का शीर्षक ,

ಚಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋ: एक्स एक्स एक्स बीएफ फिल्म मूवी, मैं वैसे तो साईट पर सुबह के समय जाती थी, मगर एक दिन मैं शाम को वहां गई.

एसएसएक्सएक्स

क्रूरता के आधार पर तलाक की अर्जी दी गई व वो दोनों लड़के लड़की बंगलोर रवाना होने को रेडी हो गए. सेक्स कंडोमदोस्तो, नंदा की बड़ी लौंडिया मेरे लौड़े से चुद चुकी थी और अब छोटी की चूत चुदाई बाकी थी.

इतना बोल कर भाभी ने मेरे लंड को अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगीं. सेक्सी मां बेटे कीवो सिर्फ काम में ही दिमाग लगाए रहता है … बहुत अच्छा हुआ कि तू आ गया.

Xxx कुकोल्ड हस्बैंड सेक्स कहानी में पढ़ें कि एक बार मैं अपने पड़ोस की आंटी की गांड मार रहा था.एक्स एक्स एक्स बीएफ फिल्म मूवी: इस सबसे मैं भी इतने जोश में आ गया कि मैं अब उसकी चुत फाड़ने के लिए कंडोम लगाने लगा.

वैसे तो उसके किसी भी छेद को चोदने में बड़ा मज़ा आता था पर उसकी गांड चोदने का मज़ा इस दुनिया के सबसे अधिक मजा देने वाली चीजों से भी ज्यादा मजेदार था.एक बार रायपुर के ही पास एक छोटे मजार पर फकीर आया हुआ था और उसी के कहने पर मेरी बीवी उस जलसे में शामिल होने गई थी.

कोमल नाम की लड़कियां कैसी होती है - एक्स एक्स एक्स बीएफ फिल्म मूवी

लेकिन वीर्य की हर बूंद हर बार उसने अपनी चूत में ही डलवाई क्योंकि वो कोई रिस्क नहीं लेना चाहती थी.अपने सिर फ़टे को उसकी चूत पर दबाते हुए उसके रसीले खूबसूरत लबों के भरे प्याले को अपने होंठों से अभी थामा ही था कि तभी मेरे फ़ोन की घंटी बजी और सारे काममय ख्याल की तन्द्रा भंग हो गई.

फिर उनके मम्मों को उनकी ब्रा पर से ही चूसने लगा और वो आह उह्ह की आवाज निकालने लगीं. एक्स एक्स एक्स बीएफ फिल्म मूवी महिलाओं के बीच मैं काफी मशहूर हूँ इसलिए अपने दोस्तों और रिश्तेदारों में चोदने के लिए मुझे कोई न कोई चूत मिल ही जाती रही.

जब वो अपने बाल संवारने के लिए अपने हाथ उठाती, तो उसके अंडरआर्म देख कर मेरा लंड झटके मारने लगता.

एक्स एक्स एक्स बीएफ फिल्म मूवी?

उधर फकीर जिस कमरे में रुका हुआ था, उसने अपने उसी रूम में मेरी बीवी को बुलाया. पापा मस्त सिसकारियां भरने लगे तथा कहने लगे- आंह बहू, यह सुख तुम्हारी सास ने कभी नहीं दिया … आज मेरी सच की सुहागरात मनी है. वो मुँह से बेहद कामुक सिसकारियां भर रही थी ‘अहह … अम्म्म् …’मैंने उसकी चूत के फांकों को खोला तो देखा कि ये तो अभी तक सील पैक ही थी.

चुदाई के झटकों से हिलते दीदी की बड़ी बड़ी चूचियों को सुमंत अपने हाथों से संभाल कर बारी बारी से चूस और मसल रहा था. यदि दिक्कत होती तो मैं इधर आती ही क्यों? मुझे तो बहुत ख़ुशी हो रही है कि आज मैं तुम्हारे साथ कुछ पल बिताने आई हूँ. फिर मैंने याचना भरी नजरों से मनीष की तरफ देखा तो उसने मेरी स्थिति देखकर मुझे सहारा देकर उठाया.

फिर रियान ने मुझे रुकने के लिए कहा, तो मैंने मजाकिया अंदाज में कहा कि यार इस सौंदर्य सागर के दर्शन को छोड़ कर भ्रमण करने कौन जाएगा?इस पर सना ने इसका अर्थ पूछा, क्योंकि सना को हिंदी इतनी अच्छी नहीं आती थी. [emailprotected]लेखिका की पिछली कहानी थी:मेरी अम्मी ने पड़ोसी से फड़वा दी मेरी बुर. मैं समझ गया कि किला फ़तेह हो गया है, बस अब फ़ौज को अन्दर बाहर करके धाएं धाएं करना शेष है.

मैंने भी उनकी चूचियों को देख कर कहा- हां मैं अभी कुछ देर पहले देखा था. एक दिन रात को मैं अपने कमरे में लेटा अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ रहा था और नंगा लेटा अपने लंड को सहला रहा था.

मैं सुधीर … मेरी पहली दो कहानीबीवी की मेरे दोस्त से चुदने की चाहतआप लोगों ने पढ़ी जिसमें मैंने अपने दोस्त से अपनी चुदासी पत्नी सोनम को चुदवाया था.

कुछ देर बाद भाभी ने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत पर सैट किया और धीरे धीरे नीचे बैठने लगीं जिससे मेरा लंड भाभी की चूत में घुसता चला गया.

ये देख कर मैंने मन में सोच लिया कि आज तक मैंने भाभी से सेक्स की बातें नहीं की हैं. मेरी जिंदगी भी पहले की तरह चलती रही और अभी भी मुझे अपनी उंगलियों का ही सहारा लेना पड़ता था. न जाने क्यों अब जब भी उसकी कमर मेरी तरफ होती, तो उसकी चाल बदल जाती.

वो बोली- कहां जा रहे हो मेरे पंडित जी … मैंने आपको अपने पास ये वाली पूजा ही तो करवाने के लिए बुलाया है. वो भी अपने मम्मों को चुसवाने का मजा लेने लगी और मेरे लौड़े पर हाथ फेरने लगी. उस कंपनी के ऑफिस का पार्किंग एरिया अंडरग्राउंड था इसीलिए वहां थोड़ा अंधेरा था और इक्का दुक्का लोग ही वहां थे.

जावेद ने लपक कर उनके पैर छू लिए और कहा- सर कृपा बनाए रखिए, आपका छोटा भाई हूं.

अपनी चाय खत्म करके मैंने कप को सिंक में रखा और कमरे में पहुँच कर फोन देखा तो उर्वशी की कॉल थी. क्या मस्त गोल गोल चूचियाँ थी उनकी!थोड़ी देर में मुझे लगा कि दीदी नींद से जग गयी हैं. मैंने सोचा कि आज कुछ भी हो जाये, मैं आज दीदी की पेंटी में अपना लंड का पानी ज़रूर लगाऊंगा.

उसके कपड़े बहुत साधारण से थे लेकिन उसने अपने कपड़े अच्छी तरह से पहने हुए थे. काफी देर बाद जब उसकी चूत में मैं स्खलित हुआ, तब नंदा को भी अहसास हुआ. अंगिका अपनी मां पर चिल्लाने लगी।तभी मैंने उसका हाथ पकड़ते हुए कहा- जो मुग्धा को चाहिए … वो मैं उसे दे रहा हूँ.

हम लोग मामा के उस एरिया को बागड़ कहते है क्योंकि उनकी भाषा थोड़ी अलग किस्म की है.

वहाँ कहीं नीचे लेटने की जगह तो थी नहीं … और मेरे लन्ड से अब इंतेजार नहीं हो रहा था. मुझे हल्की सी मायूसी सी हुई पर मैंने सोचा कि संतोष का शायद ज्यादा बड़ा हो, पर अभी तक देखा नहीं था.

एक्स एक्स एक्स बीएफ फिल्म मूवी तो माँ बोली- उन्होंने हमारी मजबूरी समझी और हमें पैसे चुकाने के थोड़ा और टाइम दे दिया है।उसके बाद माँ नहाने चली गयी. अञ्जलि ने अपना दूसरा हाथ उठाकर, मेरे बाएं कंधे को पकड़ और मुझे अपनी ओर खींचने लगी.

एक्स एक्स एक्स बीएफ फिल्म मूवी अभी आप मुझे सभी ओरिजिनल कागज दिखाएं और दूतावास के कागज भी दे दीजिए. मैं नीचे झुककर अपने मुँह से उसके दोनों चूचुकों को बारी बारी से चूसने लगा.

वो झड़ रही थी और उसकी चूत का पानी रुक रुक कर चूत से बाहर निकल रहा था.

किन्नरों की चुदाई सेक्सी

अब जब उसकी वासना बढ़ने लगी तो उसने मेरे बालों को पकड़ कर मेरे सिर को अपने लंड पर दबाना शुरू कर दिया और अपना पूरा सांड जैसा लम्बा लौड़ा मेरे मुँह में ठूंस दिया. कुछ देर बाद मैंने उसे सीधा खड़ा किया और उसकी टांग उठा कर उसकी चुदाई करने लगा. भाभी- तोड़ दो कसम और जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डालकर मुझे चोद दो.

अमन यह सुनते ही खड़ा हुआ, उसने अपने लंड को हाथ में पकड़ा और मेरी चूत पर रख कर धीरे से धक्का लगाया. फिर नेहा भाभी बोलीं- मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा तोहफा तुमने मुझे आज दे दिया है, मुझे यह जन्मदिन याद रहेगा. मैंने भी उसके पास जाते हुए उसका हाथ फिर से अपने हाथ में लिया और उसके बिल्कुल करीब जाकर खड़ा हो गया.

ये कहते हुए उसने मेरा ब्लाउज खोला और मुझे घुमा घुमा कर साड़ी अलग कर दी.

अगले दिन मैंने कैसे भाभी की गांड मारी, ये आपको अगली चुदाई कहानी में बताऊंगा. दोनों छेदों में लंड होने के कारण … और पहली बार दो लंड एक साथ लेने के कारण मेरी चूत से नदी बह गई और मैं थ्रीसम का आनन्द पहली बार लेकर एकदम निढाल हो गई. लेकिन पक्का आप उसी दिन होम डिलीवरी कर देंगी?शायद वो मेरे कहने का अर्थ समझ गई और मुस्कान के साथ बोली- आप 100% निश्चिंत रहे, सामान की डिलीवरी में और क्वालिटी में आपको शिकायत का मौका नहीं मिलेगा.

वो कराहती हुई बोलने लगी- बहुत दर्द हो रहा है यार … इसे निकालो, मैं मर जाऊंगी. जैसे ही उसका हब्शी लंड चूत के अन्दर जाने लगा, मेरी चूत चिरने सी लगी और दर्द के मारे मेरी हालत खराब हो गयी. काफी देर तक मैंने उसके दोनों दूध को बहुत बुरी तरह से चूसा और दबाया जिससे उसके दोनों दूध लाल टमाटर की तरह दिखने लगे.

बीच बीच में मैं लंड मुँह से निकाल निकाल कर उसे मुट्ठी में लेकर ऊपर नीचे करती रही और आगे पीछे भी करती रही. मौके का फायदा उठा कर मैं अपने लंड को धीरे धीरे गांड में आगे बढ़ाने लगा.

मैंने उनकी चूत के पास के बालों पर वैक्स लगा कर झांटों को निकालना शुरू कर दिया जिसमें उनकी चूत की फांकों को पकड़ कर निकालना पड़ रहा था. मैं- सब्र कर मेरी जान, कहीं तेरे अम्मी ने देख लिया तो इधर ही तेरा निकाह पढ़वा देंगी. मैंने अपना दूसरा हाथ भी सोनाली की गांड पर रखकर जोर का धक्का मारकर आधा लंड चूत में घुसेड़ दिया.

नीचे लंड चूत में काम कर रहा था और ऊपर मैं उनके उभारों को जी भरकर चूस रहा था.

अगर तुम्हें बुरा न लगे तो क्या हम दोनों एक गहरे दोस्त बन सकते हैं?पता नहीं कैसे, पर उसने बिल्कुल भी गुस्सा नहीं किया और अपना सर मेरे कंधे पर रखते हुए बोली- मैंने तो आपको अपना गहरा दोस्त आज से ही मान लिया है, बस हमारा रिश्ता दुनिया के सामने नहीं आना चाहिए. मैंने उनके एक दूध को मुँह में ले लिया और चूसने लगा, साथ ही मैं दूसरे मम्मे को जोर जोर से दबा रहा था. मेरी इस तरह कि बिंदास बातों से कमरे में सेक्स का माहौल बनने लगा था.

दूसरा शायद मेरी चूत का स्वाद तुम्हें अच्छा लगे और मेरी कम्पनी को लोन मिल जाए. फिर कुछ देर बाद दूधवाले के दोस्त ने मुझे बेड पर लेटा दिया और टांगें कंधे पर रख कर बोला- साली, चल अब तुझे चुदाई का असली मजा चखाता हूँ.

मैंने भी चुपके से अपना मोबाइल निकाला और उन दोनों की वीडियो बनाने लगा. लेकिन भाभी मेरा पूरा लंड नहीं ले पाईं और मेरे लंड से हट कर साइड में लेट गईं. दोस्तो मैं नैना, आपको बता रही थी कि मेरे और ससुर जी के बीच एक दूसरे को गंदी निगाहों से देखने का खेल काफी समय से चल रहा था.

16 साल की लड़कियों का सेक्सी

हम दोनों पांच मिनट तक एक दूसरे के होंठों को चूसते हुए ऐसे ही कुछ मिनट लेटे रहे.

मैंने अपने लंड पर थोड़ा सा थूक लगाया और दीदी की चूत में अपना लंड घुसाने लगा. उसके बाद नीता ने अपनी टांगें मेरी कमर से हटाकर मुझे अपनी पकड़ से आजाद किया और वो अपने हाथों से मेरी पीठ, कमर और गांड को बारी बारी से सहलाने लगी. उनके दो बच्चे भी हैं, पर कोई बोल नहीं सकता कि ये दो बच्चों की मां होंगी.

मैडम की चूत इस वक्त इतनी सुंदर और चिकनी थी कि मुझसे खुद भी नहीं रुका जा रहा था. बुर की गर्मी पाकर लंड में मस्ती आने लगी और मैं बुर की फांकों में लंड रगड़ने लगा. सील पैक लड़की की सेक्स वीडियोमैं आराम से भैंस वाले कमरे की साइड में गया और गेट की सांकल खोलने लगा.

जब तक वो आइस लेकर आती, तब तक उसने टेबलेट का चूर्ण गिलास में डाल दिया और अपना गिलास एक झटके में खाली करके रुचिका के गिलास की तरफ देखा. वो जरा शर्माई मगर मैंने एक-एक करके उसके सारे कपड़े निकाल कर उसे नंगी कर दिया.

अब मैंने ललिता भाभी की पीठ पर हाथ फेरते हुए कहा- अरे भाभी, यह तो मेरा फ़र्ज़ था. रियान के जाने के बाद सना ने मुझसे कहा- रियान के लोन के लिए मैं आपका किस तरह शुक्रिया करूँ?मैंने कहा कि तरीका तो है, गर आपको ऐतराज न हो तो!सना ने कहा- मुझे इल्म है कि आप क्या चाहते हैं … आइए. सामने अपने पति को देखते ही वो मुझसे एक पल में ही अलग हो गई और अपने ज़मीन पर पड़े हुए कपड़े उठा कर अपने बदन को ढकने लगी.

ताऊ ताई छत पर, चाचा बरामदे में और मैं भाभी और चाची आंगन में सो रहे थे. हम दोनों एक साथ स्खलित हो गए और हांफते हुए एक दूसरे को जकड़ कर लेट गए. मैंने अपने कपड़े पहने और काफी देर तक बिस्तर पर बैठकर इस घटना के बारे में सोचती रही कि अब कैसे बाहर जाऊं, ससुर जी क्या सोचेंगे.

उन्होंने कभी चुत चुसवाने का मज़ा नहीं लिया था तो मुझे मना किया कि गंदी चीज़ को नहीं चूसते.

कुछ देर बाद मैंने क्रीम से लिपटा लंड मैंने उसकी गांड पर टिकाया तो वह फिर से गांड सिकोड़ने लगा. तब तक मैं किचन में पहुंच गया और नंदा को पीछे से जकड़ लिया, अपने दोनों हाथ उसके बूब्स पर रख कर अपना मुँह उसके कंधों पर रख दिया.

छोटी कमर और गदरायी हुई बाहर को निकली हुई गोल मटोल छत्तीस इंच की गांड देखकर मेरा लंड तनाव में आने लगा था. खाने के समय ही मैंने मां को बता दिया कि आज मैं दोस्त के घर जाकर पढ़ाई करूंगा. उसने धीरे से झट से मेरी धोती खोल दी, जिसकी मैंने कल्पना भी नहीं की थी कि मेरे साथ ऐसा भी कुछ हो सकता है.

उसका माल मेरी टांगों से होता हुआ बाहर निकल कर मेरे पैरों के नीचे तक बह गया था. ‘आह आह ऊईईई ऊईईई धीरे धीरे आह आआऊच आह …’ऐसी आवाज पूरे कमरे में गूंजने लगीं. बीच बीच में मैं लंड मुँह से निकाल निकाल कर उसे मुट्ठी में लेकर ऊपर नीचे करती रही और आगे पीछे भी करती रही.

एक्स एक्स एक्स बीएफ फिल्म मूवी मैंने अदिति से कहा- ये बात सच है अदिति कि तुम बार बार झड़ जाती हो क्योंकि मेरे लंड के हिसाब से तुम्हारी चूत छोटी है. मैंने उसे अपने दूध दिखाते हुए अपनी साड़ी ठीक की और वहीं सोफे पर बैठ कर टीवी देखने लगी.

खुद का सेक्सी वीडियो

वो बहुत ज्यादा वासना में डूबी हुई थी और उससे बर्दाश्त नहीं हो रहा था पर मैं उसकी तरफ ज्यादा ध्यान न देते हुए अपना काम कर रहा था. गाँव की चूत चुदाई की स्टोरी आपको कैसी लगी, मेल से जरूर बताना दोस्तो. इस पोजीशन में मेरा लंड उसकी गांड पर रगड़ मार रहा था और मैं समझ रहा था कि उसको भी मेरा कड़क लंड अपनी गांड में रगड़ता हुआ महसूस हो गया था.

एक बार मेरे इशारे से वो मेरे पास से निकली … तो मैंने मौका देखकर उसके चूतड़ों पर हाथ को टच कर दिया. वो बोली- अब क्यों उतार रहे हो?मैं बोला कि हम दोनों बिना कपड़ों के ही सोएंगे. हीरोइन की नंगी सेक्सी फोटोमैं उसकी आंखों में देख का उसे चुदाई के लिए बार बार इशारा कर रहा था.

वो जा रही थी कि मैंने उसे चोटी से पकड़ कर रोका और कहा- एक कुतिया कभी दो पैरों पर नहीं चल सकती, चल साली चार पैरों पर रेंगते हुए जा.

इतने में सरिता भाभी आकर बोली- आप लोग फ्रेश हो जाओ, तब तक मैं चाय और नाश्ते का इंतजाम करती हूँ. कुछ ही देर में उसका दर्द खत्म हो चुका था और मेरा पूरा लंड भी उसकी चूत में एडजस्ट हो चुका था.

मैंने विलास को बुलाकर तिपाई एक साईड में रखी और एक कुर्सी सोहम को बैठने के लिए रखी. फिर शादी तय हो गई और वो दिन भी आ गया जब हम दोनों एक साथ एक ही बिस्तर पर आने वाले थे. उस दिन मैं नीचे कमरे मैं अकेला लेटा हुआ था और मामी भैंस का दूध निकाल रही थीं.

तब तक दूसरे बाबा ने मुझे अपने पास बुला कर मुझे अपनी गोद पर बिठा लिया.

वो मुँह से बेहद कामुक सिसकारियां भर रही थी ‘अहह … अम्म्म् …’मैंने उसकी चूत के फांकों को खोला तो देखा कि ये तो अभी तक सील पैक ही थी. चूत सामने लपलप कर रही थी … मैंने लंड चूत पर लगाया और एक झटका दे मारा. दोस्तो, मैं कुणाल अपनी पहली कहानी लेकर आपके सामने हाज़िर हूं।कहानी शुरू करने से पहले मैं अपने और कहानी से जुड़े किरदारों के बारे में बता देना चाहता हूं ताकि आप सभी को कहानी समझने में आसानी हो।मैं छत्तीसगढ़ के छोटे से शहर से हूं और पढ़ाई में तेज होने के साथ-साथ दोस्तों में काफी मशहूर हूं।मेरी हाइट 5.

सविता भाभी कॉमस्कूल मास्टर सेक्स कहानी पर अपने विचार आप मेल कीजिएगा और अभी विदा दीजिए. उसे डर था कि कहीं मैंने अबकी बार फिर से 40 मिनट लिए तो उसकी हालत खराब हो जाएगी.

एक्स एक्स राजस्थानी वीडियो सेक्सी

रेशमा को देख कर मैंने कहा- माफ कर दे जानेमन, पर क्या करूं तेरी फुद्दी मेरे लौड़े का कहा मान ही नहीं रही थी, साली को सबक सिखाने का मन कर रहा था. उसकी गांड अपने लंड के निशाने पर ली और थोड़ा सा थूक लगा कर उसकी गांड को चिकना किया और लंड पेल दिया. चुदाई के लिए उतावली अर्चना नीचे से कमर उछाल कर एक करारा धक्का लगाया और दो-तीन इंच लंड गटक तो लिया, लेकिन दर्द से बिलबिला उठी.

तभी दीदी जोर जोर की सिसकारी के साथ मेरे मुँह में झड़ गईं और मैंने दीदी का सारा माल पी लिया. वो दोनों काफी देर तक वहां नहाते रहे और मैं किनारे पर बैठे हुए सविता के बदन को देखे जा रहा था. अब तो आप हमारे घर आते ही नहीं हो?फिर अपने पति की ओर इशारा करती हुई बोलीं- ये आपको बहुत याद करते हैं.

कहानी के दूसरे भागप्राइवेट सेक्रेटरी के साथ ओरल सेक्समें अब तक आपने पढ़ा था कि मैंने रेशमा की संकरी सी चूत में अपना मूसल लौड़ा पूरा पेल दिया था. उसने मुझसे अगला सवाल पूछा- क्या तुम प्यार मुहब्बत में भरोसा करते हो?मैंने उसकी तरफ देखा और कहा- मैं उसमें घर का खाना … और बाहर खाना जैसा फर्क ही समझता हूँ. मेरे आने से पहले भाभी अपने पति से नाराज थीं, किसी भी तरह मान ही नहीं रही थीं.

तभी पीछे से आवाज आयी- अरे सुनिए मेमसाब!मैं जैसे ही पीछे मुड़ी तो देखा वह हमारे दरवाज़े के अन्दर पहुंच चुका था और उसने अपनी धोती जानबूझ कर गिरा दी. उसने हंस कर कहा- हां मेरे राजा, तुम मेरी गांड ही मार लेना! लेकिन ये उसके लिए नहीं है और किसी काम के लिए है.

वो जोश में आकर बोला- पहले मेरा लंड मुँह में लेकर चूस, फिर चोदता हूं.

खाना खाकर मैं अपने मोहल्ले में ही घूम रहा था ताकि पेट का खाना जल्दी से पच जाए और रात को नींद जल्दी से आ जाए. जंगल में मंगल ब्लू फिल्मअब उसे और मुझे पहले से भी ज्यादा मजा आ रहा था क्योंकि अब वो मेरे लंड का पूरा सुपारा अन्दर लेकर चूस पा रही थी. मां बेटे की सेक्स वीडियोकरीब 30 मिनट की घमासान चुदाई के बाद मैंने चाची की गांड में ही लंड का पानी निकाल दिया और चाची के ऊपर ही लेट गया. अब अञ्जलि ने मुझे कमर से हल्का सा कस कर पकड़ लिया और अपने पैर के पंजों पर उठ कर मेरी गर्दन पर किस करने लगी.

मैंने अब और जोर से लंड मुँह में भरा और कहा- हां हो जाओ खलास मेरे मुँह में, मैं लौड़ा बाहर नहीं निकालूंगी.

’उसी समय समीर का लंड चूसती हुई मैंने लंड का माल पीने की आवाज निकाल दी. मैडम ने जो कागजात दिखाए, उन कागजों से मैं पूरी तरह से संतुष्ट नहीं था. मैं- ओह … तो भाभी ये दिक्कत है … आपको दाद हुई है, पर इसमें इतना परेशान होने वाली कौन सी बात है!भाभी- भैया तो क्या करूं.

भाभी बोलीं- चूत तो बाद में फाड़ना, पहले मेरी चूत की आग ही शांत कर दो तो बहुत है. रीतिका ने अपनी दिलचस्पी दिखाई और मुझसे पूछा कि वो कोई और जगह कहां है?मैं कुछ सोचने लगा. मैंने कुछ धक्के नीचे से मारे, तो अदिति झड़ गयी और उसका गर्म चुतरस मेरे लंड को नहलाने लगा.

हरियाणा की देहाती सेक्सी

मैंने उनकी चूत में अपनी जीभ डाल रखी थी, इससे उनकी चूत का सारा रस मेरे मुँह में चला गया. मैंने उसे नजर भर कर देखा और कहा- बिजली क्यों नहीं आ रही है?वो बोली- मुझे नहीं मालूम. उसने शायद नीचे जाकर अपने स्टाफ के साथियों को मेरे बारे में सब बता दिया.

सोनाली ने खुश होकर मुझे अपनी बांहों में कसकर कहा- कितना ख्याल रखते हो मेरा हर्षद.

मेरी गर्लफ्रेंड मेरे बड़े लंड के कारण मेरे लंड की बहुत बड़ी दीवानी और फैन थी.

एक बार उसने दोनों लड़कों से एक साथ चुदवाया फिर मैंने भी दोनों लड़कों से एक साथ चुदवाया. उसके सर को मैं अपनी दोनों टांगों के बीच जोर जोर से दबाने लगी और वह मेरी चूत और गांड का रसपान करने लगा. दीपिका पादुकोण क्सक्सक्समैंने कहा- आपका नाम तो सर्वाधिक खूबसूरत और यूनिक है, बिल्कुल आप जैसा.

कुछ ही देर बाद भाभी बोलीं- लाला, एक बार अपने लंड का गाढ़ा माल मेरी चूत में टपका दो ताकि मैं तुम्हारे बीज से मां बन जाऊं. उसकी चूचियों को, दोनों निप्पलों को स्क्रबर से खूब रगड़ते हुए दबाया और अञ्जलि का एक पैर उठा कर, वहीं पर रखी बाल्टी पर रख दिया. विक्की ममा को ब्रा पेंटी में देख कर हैरान हो गया।बिस्तर पर 1 तरफ मैं और साथ में निहारिका सो रही थी।फिर कुछ दूरी पर ममा।विक्की निहारिका और ममा के बीच में सो गया। उसको सिर्फ अंडरवीयर में सोने की आदत है।हम सब बात करने लगे.

मैंने चादर से ही अपना हाथ पौंछ लिया और आयशा के साथ चिपक कर लेट गया. फिर दवा लगा कर पट्टी बांधी और पट्टी बांधने के बाद ऊपर से वाटर प्रूफ डॉक्टर टेप लगा कर बोली कि अब चाहे हाथ पर कितना भी पानी गिरे, पट्टी नहीं भीगेगी.

मैंने भी पूरा जोर लगा कर मेरा मुँह और उसके फुद्दी पर दबाव दे दिया और पूरी जीभ उसके गीली चूत में घुसाकर चूतरस का मजा लेने लगा.

चाची भी अपनी गांड को हिलाने लगीं- अहह उहह चोद आह्ह चोद फाड़ दे मेरी गांड और जोर से चोद आहह उहह उहह मर गई आहह ऊईईई मार जोर से झटके मार … आहह आआह फाड़ और फाड़. लीशा बोली- अभी मम्मी जी जाग रही हैं और दीदी भी पढ़ाई कर रही हैं, अभी कैसे आ सकती हूँ. सविता अपनी गांड उचका उचका कर चुदवा रही थी और उसकी ये अदा मुझे दीवाना बना रही थी.

सुखी वीडियो ये सुनकर उसकी पकड़ मेरे लंड पर तेज़ हो गयी, जिसे वो मस्ती से सहलाने लगी. आंटी से अभी तक मेरी कभी भी बात नहीं हुई थी क्योंकि वो किसी से भी बात नहीं करती थीं.

महंत भी कहां पीछे रहने वाला था, इतने दिनों में अहसास हो चुका था कि उसका लंड जरूरत से कुछ ज्यादा ही बड़ा है इसलिए उसने बहन के दोनों कंधों को पकड़ कर होंठों पर अपने होंठ रखे और एक और धक्का दे मारा. मैं बोला- क्या साथ में एन्जॉय करते हुए शॉवर लेना पसंद करोगी?उसने पलटते कर मेरी तरफ देखा, मैं उसके सामने पूरा नंगा खड़ा था और सिरफटे साहब भी अञ्जलि के सम्मान में अर्धमूर्छा में भी आदर पूर्वक खड़े थे. अब वो दोनों पूरी नंगी हो गई थीं और मुझे उनकी चूत साफ़ दिखाई दे रही थी.

छोड़ा छोड़ि सेक्सी फिल्म

मैंने कहा- ये बात सच है कि मनोकामना पूर्ण करने के लिए ही पूजा की जाती है. मैंने कहा- हां चाची, मुझे आपकी गांड बड़ी ही मस्त लगती थी और मैं न जाने कबसे आपकी गांड मारना चाह रहा था. मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और धीरे से कहा- ज्यादा हल्ला नहीं करो, कोई आ जाएगा.

सोनम की चूत पर पापा की उगलियों की रगड़ उसे और अधिक मदहोश कर रही थीं. फिर उसकी गांड के नीचे तकिया लगा कर उसको चुदाई के लिए तैयार कर दिया.

मैंने विलास की गांड को दोनों हाथों से पकड़ कर अपने लंड पर दबाव बनाए रखा था.

बड़ी सहजता से मैंने कहा- मामी की बहन मामी ही हुई न!तभी अमरचंद ने अपने कमरे से आवाज़ लगाई- भांजे साब इधर आओ. उन्होंने मुझे उसी समय झट से अपनी गांड में ऐसे दबा लिया, जैसे भाभी इसी पल का इंतजार कर रही थीं. आज तुम मेरे तन बदन में लगी आग को बुझाकर मुझे ढेर सारी खुशियां दे दो हर्षद.

मैं भी अब देर ना करते हुए लंड उनकी चूत पर रगड़ने लगा, उनकी चूत के दाने को लंड से छेड़ने लगा. मनीष के झटके बहुत ही जबरदस्त लग रहे थे जिससे थोड़ी ही देर में मेरी चूत पानी छोड़ने लगी. मैंने चुपके से अपने गाउन का फीता खोला तो गाउन नीचे गिर पड़ा और मैं उसके एकदम नंगी हो गयी.

मेरे ऐसा करने से सीमा सिहर सी उठी और मेरे सर को अपनी जांघों के बीच दबाने लगी.

एक्स एक्स एक्स बीएफ फिल्म मूवी: हम दोनों हंसी मज़ाक बहुत करते थे लेकिन कभी भाभी के साथ सेक्स हो, ऐसा वैसा विचार मेरे मन में नहीं आया था. वो अपने हाथों से मेरा सर जोर दबाने लगी और बोली- ओह हर्षद, कितने गंदे हो तुम … कहां कहां भी जीभ डालते हो, मुझे गुदगुदी हो रही है.

उसके बाद मैंने दीदी की चुत की गर्म पानी से सिंकाई कर, पोंड्स पाउडर छिड़का, तब जाकर वो कुछ राहत महसूस कर रही थीं. कुछ देर बाद मैंने उसका टॉप और जींस उतार दिया और खुद भी कमीज और निक्कर उतारकर उसकी ब्रा और पैंटी खींचने लगा. लंड पर गर्म बुर रस महसूस कर मैंने भी अपने वीर्य को बुर में खाली कर दिया.

मेरे लंड ने लगातार कुछ पिचकारियां नीता के मुँह में मारकर उसका मुँह वीर्य से भर दिया.

स्कूल मास्टर सेक्स कहानी पर अपने विचार आप मेल कीजिएगा और अभी विदा दीजिए. आज तू अपनी कमसिन बुर को चोदने के लिए अच्छे से तैयार कर लेना ताकि चुदाई का मजा बढ़ जाए. फिर मैंने उससे लंड को मुँह में लेने को इशारा किया तो वो मना करने लगी.