बीएफ सेक्सी चुदाई ओपन

छवि स्रोत,सेक्सी हॉलीवुड में सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ ब्लू पिक्चर चुदाई: बीएफ सेक्सी चुदाई ओपन, इससे मुझे हल्का दर्द भी हुआ, लेकिन मज़े के आगे दर्द कुछ पता ही नहीं चला.

ब्यूटीफुल सेक्सी हिंदी

हालांकि अन्तर्वासना साईट पर कहानियों को पढ़ पढ़कर चुदाई का लिखित ज्ञान मिल गया था लेकिन उसको अभी अनुभव बनाना बाकी था।मेरी कोई गर्लफ्रेंड तो थी नहीं इसलिए बस जब मन करता तब हाथ से ही हिलाकर अपने लंड को शांत कर लेता था।जब मैं दिल्ली आया तो इस शहर में आने के बाद तो जैसे कि सब कुछ ही बदल गया।यहाँ के हुस्न को देखकर मेरा लंड बेकाबू हो जाता था. एकादशी सेक्सीतकरीबन 15 मिनट बाद मेरे शरीर में ऐंठन सी होने लगी और मेरी सारी गर्मी चुत से लावा बनकर निकलने लगी.

अनु के मुँह में मेरा लंड था तो वो साली इस तरह से वीर्य पी रही थी, जैसे आज उसे अमृत मिल गया हो. सेक्सी सुंदर वीडियोतभी सूरज की ज़ोर की आह की आवाज से मेरा ध्यान उसकी तरफ गया, तो देखा तो वो लंड हिलाते हुए फिर से जल्दी झड़ गया था.

बैंक क्रेडिट कार्ड से मैंने क्रेडिट प्वाइंट खरीद लिये जो सेशन शुरू करने के लिए जरूरी थे.बीएफ सेक्सी चुदाई ओपन: ऐसे ही अस्मिता हर बार मेरे सामने एक कॉलेज गर्ल की तरह रहती … और घर पर एक इंडियन हाउस वाइफ की तरह बनी रहती.

लेखक की पिछली कहानी थीमैं बनी स्कूल की नंबर वन रंडीअब इस नयी कहानी का मजा लें.वेबकैम मॉडल शनाया के साथ दिल्ली सेक्स चैट पर मेरा पहला सेशन बहुत मजेदार रहा.

देहाती सेक्सी मूवी ब्लू - बीएफ सेक्सी चुदाई ओपन

इसके बाद मैं दूसरे कहानी में बताऊंगा कि कैसे लॉकडाउन में मैंने शशिकला भाभी के साथ रात भर चुदाई की.चुत चटाई के बाद मैं उठ कर उन्हें किस करने गया, तो मामी बोलीं- मुँह में किस नहीं करना.

दोनों के मुंह से मस्त कामुक सिसकारियां निकल रही थीं- आह्ह … राज … आह्ह … ओह्ह … ओह्ह … राज … आह्ह … चोदो … तेज तेज चोदो … ओह्ह … यार … करते रहो।कुछ देर मुझसे चूत चटवाने के बाद उसने मोना के मुंह पर चूत लगा दी. बीएफ सेक्सी चुदाई ओपन अब मैं गाड़ी में ऊपर से नंगी बैठी थी, अगर कोई चादर हटा देता तो मेरी सारी फिल्म दिखने लगती.

मेरा तो पहला सेक्स था इसलिए मैं तो उसकी चूत को बस रौंदने में लगा हुआ था.

बीएफ सेक्सी चुदाई ओपन?

उनको मैंने बताया कि आज नहीं आ सकूँगा क्योंकि कल सुबह मेरा एक्जाम है और मैं कल दोपहर तक आ सकता हूं. मैं चाची के घर के बाहर गया और दीवार कूदकर अन्दर गया तो उनके कमरे का दरवाजा बंद नहीं था, हाथ लगाते ही खुल गया।चाची सो रही थी एक ओर करवट लेकर!मैं चुपके से उसके पीछे लेट गया और गांड पर लंड लगाकर गालों पर किस करने लगा. सच कहूँ तो समझ नहीं आ रहा था कि उसने अपनी योनि इस तरह कैसे बनायी रखी थी.

जब मैं उसकी बारात में गया, तो वहां पर मुझे भाई की साली बहुत पसंद आई. किसी किसी के ही लंड में ऐसा दम होता है कि वो औरत की चूत को पहली बार में ही संतुष्ट कर दे. साला मादरचोद मेरी बीवी को मेरे सामने चोदता है … और खुद की बीवी की बारी आई … तो अब उसकी मां चुद रही थी.

एक दिन की बात है कि मैं सुबह नहाने के लिए उससे पहले बाथरूम में चली गयी. अनामिका- हां जीजू, मैं आपका मूसल लंड लेने के लिए पूरी तरह तैयार हूँ. मैंने उसकी तरफ देखा तो उसने गांड उठा कर चुदाई शुरू करने का इशारा दे दिया.

जब वो दोनों स्टेशन पर पहुंची, तो मैं उनके पैर छूने के लिए झुक रहा था. इससे पहले मोहित कुछ बोलता सामने से आती हुयी संध्या बोली- बिल्कुल बहन जी जैसी.

उसके ऐसा करने से मैं भी थोड़ा हड़बड़ा गया था, इसलिए मैंने तुरन्त अपना मुँह दूसरी तरफ‌ कर लिया और बाहर खिड़की की ओर देखने लगा.

उन्होंने लंड के सुपारे पर थूक लगा कर मेरी गांड पर टिका ही दिया और अन्दर करने लगे.

लेकिन एक दिन मैंने नंगी बहू को चूत उंगली करते देखा तो …हाय फ्रेन्ड्स कैसे हो … आप सभी लोगों का मैं तहे-दिल से शुक्रगुजार हूं कि आप लोगों नेबहू के साथ शारीरिक सम्बन्धसेक्स कहानी को बहुत पसंद किया और मेरी इस काल्पनिक देसी बहू की चुदाई कहानी को बहुत मजे लेकर पढ़ा. अनामिका- चुदाई की वीडियो कैसे बना ली थी तूने!प्रियंका- मैंने चुपके से आयशा के रूम के बाहर से बना ली थी. उसने विरोध न करके मजा लेना शुरू कर दिया था, इससे समझ आ गया था कि उसको सब पता था.

उसने फुदकना शुरू किया तो मेरा आधा लण्ड उसकी बुर के अन्दर बाहर होने लगा जिससे सलोनी की बुर गीली होने लगी. अन्दर जाते ही मैंने भाभी की खूबसूरती और उनके घर की नफासत को देख कर निहाल हो गया. मैंने कहा- वह तो तुम्हारे ऊपर डिपेंड करता है … अगर तुम खुलकर साथ दोगी और एक दूसरे को समझने में थोड़ा टाइम लगाओगी … तो मजा भी खूब आएगा.

अब मेरे कंठ से बर्दाश्त नहीं हुआ- आह चाचा जी … आहह … रुक जाओ … प्लीज … आहह.

इसका मजा लेने के लिए आप अपनी चुत में लंड के जगह कुछ डाल लीजिए और लंड वाले लंड हिलाते हुए मजा लीजिएगा. उसकी मादक आवाजों से पूरा कमरा गूंज रहा था और वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी. फिर उसने दबी आवाज में अपना नाम नौशीन (बदला हुआ नाम) बताया।नीचे मेरा हाथ लगातार उसकी गांड पर चल रहा था.

मैंने अपने पूरे रस को उसकी चूत में छोड़ दिया और निढाल होकर उसके साथ लेट गया।आज वो पूरी संतुष्ट थी. मेरी जिन्दगी में पहली बार किसी मर्द ने मेरे जिस्म को इस तरह चाटा था. मैं आते समय होटल से ले आऊँगी तुम दोनों के लिए।यह बोलकर वो बाथरूम में चली गई और मैं मीना के पास गया और बोला- अब हम दोनों 2-3 घण्टे के लिए अकेले हैं। मौसी बाजार जा रही है और बोला है कि खाना भी नहीं बनाना। अब जल्दी से मेरा लन्ड मुंह में लो और पानी निकालो इसका!वो नीचे बैठ गयी और मेरा लंड चूसने लगी.

मानवेन्द्र ने वेलकम ड्रिंक्स के बाद हमें बताया कि वो मिस्टर धीमान का मैनेजर है, जो उनकी फैमिली की ही तरह है.

कसरत वगैरह भी करते होंगे, इसीलिए अब तक पेट नहीं निकला … वरना निकल आता है. ये सोचते ही मेरा मूड बनने लगा और मैंने एक बार फिर से मां की चुदाई की कोशिश करने की ठान ली.

बीएफ सेक्सी चुदाई ओपन पर प्रिया ने उसकी इतनी तारीफ कर ली थी कि मनीषा मिनटों में ही अजय से घुलमिल गयी. ”कुछ देर बाद सलोनी आई तो मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और उसकी स्कर्ट ऊपर उठा दी.

बीएफ सेक्सी चुदाई ओपन वह अब पूरी तरह से नंगा हो चुका था मैं जानती थी कि अब हमारा असली मिलन होने वाला है. उनकी चुत में पानी लेने की बात सुनकर मैं आंख बंद करके धकापेल चालू हो गया.

फिर उनके लिये लौड़ों के इंतजाम कैसे हुए? ग्रुप सेक्स की कामुक स्टोरी में पढ़ें.

बीएफ सेक्सी औरत वाला

मेरे जोर जोर से धक्के देने के कारण उनकी मादक सिसकारियां निकलने लगीं और वो जोर जोर से चिल्लाने लगीं. कुछ देर तक यूं ही चूसने के बाद उसने अचानक से शॉवर को बंद कर दिया और फिर से मेरे होंठों के पास से गिरती हुई बूंदों को चाट कर साफ़ कर दिया. बात तो तेरी सही है … तो चल तेरी चूत को खाता नहीं हूं, बस थोड़ा प्यार कर लेता हूँ.

दूसरी तरफ से रोहित ने योगेश को बोला कि उसे आने में बहुत देर हो जाएगी. दस मिनट भाभी की गांड मारने के बाद मैंने भाभी को फिर से सीधा लिटा दिया और न्यूड भाभी की दोनों टांगों को उनके सर तक कर दिया. पिंकी बोली- मौज क्या हुई होगी … चूत का भोसड़ा बन गया होगा, अगले दो-तीन दिन तो वो सीधे चल भी नहीं पायी होगी.

मेरे भूरे निप्पल पर उसकी गर्म जीभ चाटते हुए मुझे बहुत मजा दे रही थी.

वो- मुझे धोखा मत देना, तुम पर विश्वास तो पहले ही था मगर अब सच में तुमसे प्यार करने लगी हूँ, इस प्यार को बदनाम मत होने देना. उसने बस एक बार तो मेरी तरफ देखा, फिर गंदा सा मुँह बना कर दूसरी तरफ देखने लगी. वो- मतलब मैं सेफ हूँ, तुमसे मुझे कोई ख़तरा नहीं है!मैं- तो इसलिए पूछा? मुझे लगा तुम्हारे दिल में भी मेरे लिए कुछ कुछ होने लगा है?वो- देख रही थी कि तुम क्या कहते हो, पर तुमने जो जवाब दिया … वो बहुत कम लोग ही जवाब देते हैं.

वैसे अगर आज के लिए माफ कर दिया, तो कल वो दिन भी दूर नहीं होगा … जब मैं उसके रसीले होंठों पर भी किस करूंगा. इस तरह विभिन्न मुद्राओं में दोनों मिलकर पत्नी का बैंड बजाने लगे थे. मगर मैं प्यार से उसके चेहरे में आ रहे बालों को हटाता हुआ लम्बी सांस लेकर लखनऊ के अदब के साथ बोला- साली साहिबा, अगर इज़ाज़त हो तो आपके आमों को चूसने से पहले आपके होंठों का रसपान कर लूं.

क्योंकि लौड़ा पानी से साफ़ हो गया था, तो मैंने भी लौड़े को एक बार फिर से मुँह में ले लिया और हल्के फुल्के बच्चे हुए वीर्य का एहसास लेते हुए, उसे कुछ देर चूसा. वो मेरे लंड को पकड़ कर अपने होंठों मेरे लंड पर फिराने लगी और मेरे लंड को चूसने लगी.

उसने अभी भी कुछ नहीं कहा, इससे मेरी हिम्मत बढ़ने लगी और मैं और जोर से उसके दूध दबाने लगा. उसके गांव में कई घरों में रिश्ते होने के कारण मैं बहुत जगह चाय पीने गया, जिससे किसी को ये न लगे कि मैं उसे अकेला पाकर उसके घर चला गया. अनामिका ने पूरी मदहोशी के नशे में अपनी गर्दन प्रियंका की तरफ घुमाई और नशीली निगाहों से प्रियंका की तरफ देखने लगी.

उसकी चूत में मेरा लन्ड फच्च फच्च की आवाज के साथ अंदर बाहर होने लगा।मैं अपर्णा के होंठों को चूसने के साथ साथ बीच बीच में उसकी गर्दन और गालों पर भी चूम रहा था.

उस रात मुझे भाभी का ही सपना आया। सच बताऊं तो दोस्तो, दूसरे दिन मेरा पेपर भी ठीक से नहीं गया।पेपर खत्म होते ही मैंने उन्हें मैसेज किया और रिक्शा पकड़ कर सीधा भाभी के घर की तरफ निकल गया. मैं उन्हीं पलों को फिर से जीना चाहती हूं; काश वो पल फिर लौट आयें …मेरा नाम प्रीति है और मैं एक हाउसवाइफ हूं। मेरी उम्र 28 साल है। मैं आज आप लोगों के साथ अपनी लाइफ के कुछ बेहतरीन पलों को बांटना चाहती हूं. ”सलोनी बाथरूम से लौटी तो मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और उसका कुर्ता नाभि तक ऊपर कर दिया.

वो मेरे होंठ, गाल और कान की लौ को चूसने और चुभलाने लगा।मेरे कान की लौ को जब उसने अपनी जीभ से छेड़ा तो मैं तो बेसाख़्ता ही उससे लिपट गयी और ज़ोर ज़ोर से उसे अपनी ओर खींच कर दबाते हुए उसकी पीठ पर अपने हाथों से सहलाने लगी।उसका लंड अपने पूरे आकार में आ चुका था और पंकज के ऊपर गिरी हुई अवस्था में ही मैंने खुद को अपनी टांगों के द्वारा थोड़ा एडजस्ट करके उसके लंड को अपनी चूत के ठीक बीचोंबीच दबा लिया था. इसी के साथ ही वो मेरे कान की लौ को भी काट लेता और मेरी गर्दन पर चुम्बन कर देता.

अनु ने ना बोला तो मौसी बोली- साली इधर क्या मां चुदवाने आई है भड़वी … या तो हराम खाना नहीं, अगर खा लिया तो फिर पीछे देखना नहीं. जब बहन थोड़ी शांत हुई तब मैंने एक और शॉट मारा और पूरा लंड उसकी बुर में उतार दिया. जब आयशा अपने रिश्ते में किसी की शादी में गयी थी … तो मैंने जीजू को अपनी चूत को शांत करने के लिए बुलाया था.

देसी भाभी सेक्सी बीएफ वीडियो

मेरा मन तो कर रहा था कि अभी उसके कमरे को खुलवाकर उसकी कामवासना को शांत कर दूं.

बाथरूम से बाहर आकर मैं अपनी साड़ी पहनने के लिए उसके करीब गई, जोकि उसी के सर के पास रखी थी. मुझे बहुत आश्चर्य हुआ कि ये दोनों स्त्रियां एक दूसरे के बारे में सबूत चाहती थीं. उसके बाद वो पीछे से ही मेरे ऊपर चढ़ गया और मेरी गांड में अपना लंड डाल कर मुझे चोदने लगा.

काफी देर तक चुत चोदने पर मुझे लगा कि अब मेरा माल गिरने वाला है, तो मैंने भाभी से बोला- मेरा माल गिरने वाला है … जल्दी बोलो क्या करूँ?भाभी ने धीरे से कहा- साले तुझसे किस लिए चुद रही हूँ तुझे मालूम नहीं है क्या … तुम पूरा रस अन्दर ही टपका दो. दस मिनट भाभी की गांड मारने के बाद मैंने भाभी को फिर से सीधा लिटा दिया और न्यूड भाभी की दोनों टांगों को उनके सर तक कर दिया. सेक्सी वीडियो मूवी फुल मूवीमैं- अरे ऐसे कैसे जाऊं?वो- तो अब क्या लात खाके जाओगे?मैं- लात क्यों? इतनी मेहनत करवाई है तो कुछ इनाम तो बनता है.

मैंने कहा- इसीलिए मैं इस काम में हूं … शादीशुदा औरत को चोदने का जो मजा आता है … और जितनी जल्दी वह राजी हो जाती है, इतनी जल्दी कुंवारी औरत नहीं राजी होती. 5-7 मिनट तक मैंने हेतल की गांड चोदी और फिर रागिनी की गांड पर लंड लगा लिया.

शायद वो मेरे अगले धक्के का इंतजार कर रही थी, इसलिए मैंने भी अब एक जोरदार धक्का और लगा दिया. जब वो मुझे चोदते थे तब भी मैं अपने बॉयफ्रेंड को ही सोचा करती थी और मुझे इससे बहुत मजा मिलता था. मैंने सूरज का हाथ पकड़ कर उसको खड़ा किया और अपने लाल होंठ उसके होंठों पर रख कर हल्के हल्के किस करने लगी.

वो हंस दी और बोली- मेरा मन तो करता है मगर आप मेरे भाई हो न इस वजह से मेरी हिम्मत नहीं होती. मगर वो लड़की तो शायद यही सोच रही थी कि मैं ये सब बातें जानबूझकर उसे सुनाने के लिए कर रहा था. मैं- ज़्यादा सोचो मत, तुम प्रेमी बनाओगी … तो भी मैं यही रहूँगा और दोस्त बनाओगी, तो भी मैं तुम्हारे साथ रहूंगा.

फिर मैं धीरे धीरे उसको किस करता हुआ उसके पेट से लेकर उसकी चूत तक पहुंच गया.

शायद पसीने और परफ्यूम के मिले जुले होने से गंध कुछ ज्यादा ही चुदास भड़का रही थी. नसीम भाई की याद में असलम भाई की आंखें बन्द हो गईं, वो उनकी याद में खो गए.

मगर शायरा को सांत्वना देने के लिए उसके होंठों को मैंने फिर से चूसना शुरू कर दिया, साथ ही एक हाथ से उसके मम्मों को भी दबाने लगा. मैंने उस विज्ञापन पर क्लिक किया तो मैं सीधा शनाया की प्रोफाइल पर पहुंच गया जोदिल्ली सेक्स चैट की वेबसाइटपर बनी हुई थी. उसने हां में सर हिलाया और बोली- अब आएगा … मेरे बेबी को मज़ा!मुझे पता था कि अब सच में मुझे मज़ा आने वाला है.

पहले फोटो में वो पूर्णतः नग्न अवस्था में अपने पैरों के बल दीवार से टिककर बैठी थीं … तथा दूसरी में उनकी दोनों टांगों के बीच का फोटो था. मुझे उसकी गांड मारने का मन हुआ … तो मैंने पास रखा तेल लेकर उसकी गांड के छेद में तेल लगा दिया. हालांकि रूम हीटर चल रहा था, पर आज सर्दी कुछ ज्यादा थी और काफी देर से दरवाजा भी खुला हुआ था जिस वजह से रूम गर्म नहीं हो पाया था.

बीएफ सेक्सी चुदाई ओपन प्रिया भाभी अपनी सेक्सी सहेली ट्विंकल को लेकर कमरे में आ गईं और दरवाजा अन्दर से लॉक कर दिया. मैं क्या, वहां पर जो चार पांच लड़के-लड़कियां खड़े थे, वो सब भी उसी बस से चढ़ गए.

नेपाली वाला बीएफ

सनी हंसते हुए बोला- मासी को फोन करूँ क्या!मैं बोली- यार तू बहुत गन्दा है. ओय् … बस चुप कर बदतमीज!”मैं- आह मम्मी … अब क्यों मारा?वो- कुछ तो शर्म कर ले!शायरा ने शर्माते हुए कहा. उन्होंने पहचान के लिए हम चारों का फोटो मांगी, जो हमने तुरंत भेज दीं.

मैंने बिन्नी को हाथ से थोड़ा धकेलते हुए बेड पर लिटा लिया और उसके ऊपर चढ़ गया. मेरा मन कर रहा था कि उसके सिर को थोड़ा दबा कर उसकी नाक को चूत पर और जोर से रगड़वा दूं. प्रियंका चोपड़ा का सेक्सी पिक्चर वीडियोमैं धीरे से उसके पास गया औऱ उसके मुँह पर हाथ रख कर उसे जगाया ताकि वो अचानक से किसी अजनबी को देख कर चिल्ला न दे.

वो मेरे चूतड़ों में हाथ फेरने लगी और साथ ही उंगली को मेरी गांड के अन्दर डालते हुए और मेरी तरफ देखते हुए बोली- वैसे बात आपकी भी सही है कि जब हम लोगों ने हर जगह का मजा लिया है … तो फिर इससे क्या फर्क पड़ता है.

हम दोनों एक बार फिर से चुदाई के लिए तैयार हो गये और मैंने एक बार उसको बाथरूम में भी चोद डाला. मेरा विक्की मेरे बारी बारी दोनों स्तनों के निप्पलों को चूसने में लगा हुआ था.

मैं बिन्नी के पीछे गया, उसके दोनों मम्मों को पकड़ा और जोर से भींच दिया. मैं- हां, एक प्यासी औरत, जो सेक्स, खुशी, हंसी, प्यार सबकी प्यासी है. मगर मैंने उसको चश्मा नहीं उठाने दिया और बोली- तुम उठाकर दिखाओ इसे हिम्मत है तो? मैं तुम्हें खुद को नंगी नहीं देखने दूंगी.

लूडो खेलते खेलते हम दोनों ही काफी बोर हो गए थे … तो मैं भाभी के साथ बेड पर ही लेट गया.

मैंने पूछा- क्यों मौसा का कितना बड़ा है?वो हंस कर बोलीं- तेरे मौसा का लंड तेरे लंड से तो काफी छोटा है. रूम में आने के बाद मैंने दरवाजे को जोर से पटका और अपने लग्गेज बैग को इस तरह से लात मारी जैसे कि वो बैग नहीं बल्कि उस टिकट ऑफिसर के टट्टे हों. क्रिसमस से पहली रात को मैंने उसकी गांड को चोदते हुए वीर्य से भरने की कल्पना करते हुए मुठ मारी.

गाड़ी की सेक्सीमेरे सामने अभी भी वो नंगी खड़ी थी और बहुत कामुक और आकर्षक दिख रही थी. वो- क्या मतलब!मैं- मतलब तुम ये चुपचाप व गुमसुम सा रहना बंद करो और अपनी लाईफ को एन्जाय करो.

कुत्ता और कुत्ते का बीएफ

मैंने तो जितनी भी लड़कियां व औरतें पटाई थीं … वो सब ऐसे ही पट गयी थीं. वो- तुम लड़के हो, तुम्हें कैसे बता सकती हूँ?मैं- अच्छा अब मैं समझा … तुम्हारे पीरियड आ गए है ना?मेरी बात सुनते ही वो अब शॉक्ड सी हो गयी, कितनी आसानी से बोल दिया था मैंने, पर मेरी बात से शायरा एकदम से शर्मा गयी थी. इसी बात का फायदा उठाते हुए मैंने अपना दूसरा हाथ नीचे ले जाकर उसकी पैंट का बटन खोलकर अंदर सरका दिया। मैं अब पैटीं के ऊपर से ही नौशीन की गीली हो चुकी चूत को महसूस कर सकता था।थोड़ी देर ऊपर से ही सहलाने के बाद मैंने अपना हाथ उसकी पैंटी के अंदर घुसा दिया।यह पहली बार था जब मेरा हाथ किसी की नंगी चूत पर लगा हो।चूत को स्पर्श करते ही मेरी धड़कन तेज हो गई थी.

पिछले चौबीस घंटों में तीन चार बार चुदाई करने के कारण अब मेरा स्खलन का समय बढ़ चुका था. वो मेरे दोनों हाथों के अपने हाथों के बीच में रगड़ने लगा और मुँह से भाम्प देने लगा. आपको स्टोरी कैसी लग रही है इस बारे में अपनी राय और सुझाव जरूर लिखें.

फिर मैंने सोचा जब फिंगरिंग से ही काम चलाना है … तो ब्वॉयफ्रेंड का सिरदर्द कौन पाले? उसके बाद मैंने कभी कोशिश नहीं की. उसकी फिगर तो अभी भी ऐसी थी कि कोई भी उसे नजर भर कर देख लेगा, तो उसका लंड खड़ा हो जाए. एक बार मैंने उनके लंड की पूरी चमड़ी नीचे खींची ओर उसके गुलाबी सुपारे को प्यार से देखा और फिर जीभ से उसे चाटने लगा.

अब उससे कैसा पर्दा!मैं बोला- क्या मतलब?प्रियंका- अरे जीजू, तुम वो सब छोड़ो और मेरी चुत का पानी निकलवाओ. इसमें वीर्य और अच्छे से निकलता है, जब मैं इसको लेकर बेड पर मुठ मारता हूं.

जब से प्रिया आगरा आई थी, उसके बड़े भाई मनीष होली के पांच-छह दिन बाद ही कम्पनी के काम से सिंगापूर गए थे 10 दिन के लिए.

मैं- हम‌ दोस्त हैं और दोस्ती में क्या लड़का … और क्या लड़की! दोस्त तो सब एक जैसे ही होते हैं. एक्स एक्स एक्स सेक्सी फुलअब मकान मालकिन को तो बुढ़ापे में महीना आने से रहा, बाकी रही तुम … तो वो तुम्हारा ही होगा ना?मेरी इस वात पर शायरा एक बार तो शॉक्ड हो गयी और फिर हंसते हुए बोली- मैं बताती हूँ तुझे … तू रुक अभी … तू बहुत कमीना है. बिहारी सेक्सी वीडियो देमैंने उनका सर अपने हाथों से पकड़ा और जोर जोर से उनके सर को आगे पीछे करने लगा. मानवेन्द्र ने पहले मेरे दोनों पैरों को अपने पैरों से चौड़ा किया … फिर दोनों हाथों की उंगली को, जो मेरी गांड में थीं, एक दूसरे के विपरीत दिशा में खींच कर गांड को चौड़ा करने लगा.

पिंकी भी गर्म हो रही थी, वो बोली- ठीक है, अगली बार दबवा लूंगी और सिर्फ दबवाना ही क्या … उससे चुदवा भी लूंगी.

उसके बाद उन सब ने बारी बारी से हम सबकी गांड मारी और अपना पानी हमारी गांड में छोड़ दिया. जब वो उस छोटी शीशी को छुपा रही थी तो मैंने उसकी सलवार के नाड़े में कुछ और छोटी बोतलें भी देखीं. आप लोग तो जानते ही होंगे कि सेल्स में आने-जाने और रहने का खर्च कंपनी ही देती है और ज्यादातर लग्ज़री रिसोर्ट्स में ठहरने का मौका मिलता है.

मगर दस बीस धक्कों के बाद मेरे वीर्य की धार निकली और उसकी चूत को मैंने अपनी सफेद रबड़ी से भर दिया. मैं- सलीम भाई अकसर बीच में ही फिस्स हो जाते, डालते ही छूट जाते या कभी गांड में छुलाते ही झड़ जाते. सेशन खत्म होने से पहले मैंने रोजी को वादा किया मैं जल्दी ही फिर आऊंगा.

सेक्सी बीएफ साडी

अनामिका उससे छूटते हुए बोली- आह छोड़ कमीनी … मैं अभी तेरे को बताऊँगी साली रुक. मैं भाभी से बोला- पता नहीं क्यों … उसने बस मुझसे बात करना छोड़ दिया है. दो मिनट बाद मैं बोला- कल्पना डार्लिंग, मेरी चुदाई कैसी लगी?मामी बोलीं- मुझे बहुत मज़ा आया.

रास्ते में जहां कहीं सड़क पर अंधेरा आता, तब अनु मेरे लंड को सहलाने लगती.

क्या नाम है आपका?मैंने कहा- जी अमित … आप जैसी खूबसूरत औरत तारीफ करेगी, तो दिल खुश हो जाता है.

लेकिन प्रियंका मैं चाहती हूँ कि मेरा पहला सेक्स रोमांटिक हो … हॉट हो … तड़प के साथ ज्यादा हो और दर्द थोड़ा कम हो. उसका लंड एकदम से ऐसे सोया हुआ था, जैसे उसके शरीर से मांस लटक रहा हो. दुश्मनी सेक्सीफिर मैंने उसके मुंह को चूत में दबा लिया और तेजी से उसके सिर को चूत पर दबाते हुए उसके होंठों को चूत पर रगड़वाने लगी.

फिर मैंने अपने कपड़े उतार दिए तो मेरा लंड एकदम खड़ा होकर तम्बू बना हुआ था. मेरी हल्की सी नींद लग गयी थी, इसलिए जब मेरी नींद खुली … तो 10 बज रहे थे. मैं उठकर चलने लगी, तो डॉक्टर बोला- मैडम, अगर आप कल फिर से मेरे पास आएं … तो एक निर्णय लेकर आएं.

कभी वो मुझे अपने बगल‌ में सोते हुए दिख रही थी, तो‌ कभी मेरे पास बैठी हुई नजर आ रही थी … और अब वो तो मुझे दरवाजे पर भी खड़ी नजर आ रही थी. तभी संजू का ध्यान दरवाजे के तरफ गया और वो मुझे इशारे से रुकने को बोलकर परछाई को दिखाने लगी.

प्रिया- अगर मैं ऐसा लड़के से मिलवाऊं, जो तुझे अपने मोटे लंड से खुश कर दे तो?ट्विंकल- क्या यार सच में! फिर तो तू मेरी सच्ची सहेली कहलाएगी.

उन्होंने मेरी मां का नंबर ले लिया और मेरी मां को मेट्रो तक छोड़ दिया. हालांकि मैंने कई बार प्रयास किया था कि चित्रा को अपने जाल में फांस कर चोद दूं, मगर वो भी एक नम्बर की शातिर लौंडिया थी. वो बोला- सनी यार, एक बार और ट्राई कर ले प्लीज!मैं भी अब मान गया क्योंकि मेरा भी मूड बन गया था.

हिंदी पिक्चर सेक्सी साड़ी वाली फिर उसने पूछ लिया- अभी करना है या पहले खाना खा लें?मैं एकदम से चुप हो गया और फिर सोचने लगा कि जब गांड चुदाई करवानी ही है तो पहले ही चुदवा लो, खाने के बाद क्या होगा. वो बोली- लेकिन वैसा आदमी किधर का होगा?मैंने उसकी प्यासी नजरों के देखकर बोला- बड़े लंड में बड़ा इंटरेस्ट आ रहा है … क्या टेस्ट करना है?वो बोली- धत् बदमाश.

सिगरेट, चिप्स और बियर के साथ नॉन वेज जोक्स भी शुरू हो गए और धीरे धीरे शर्म की सीमा भी ख़त्म हो गयी. इसलिए मेरे भैया ने मुझे कॉलेज के‌ पास ही एक कमरा किराये पर दिलवा दिया. वो दर्द से कलप रही थी लेकिन मेरा एक हाथ उसके मुँह पर जमा था जिससे उसकी तेज आवाज में चीख नहीं निकल पा रही थी.

सेक्सी बीएफ सेक्सी वीडियो में

मैंने धक्के लगाते हुए बोला- होने वाला है यार … आह्ह … आह्ह … क्या करना है?वो एकदम से आगे को हो गयी और उसने मेरे लंड को चूत से निकलवा दिया. मैंने तो बस अब तक उंगली ही पेली है … और उसमें भी आज असली मजा आ रहा है. शायरा का बचा हुआ दर्द कम करने के लिए मैं अब उसके मम्मों दबाने‌ लगा.

गर्म लड़की की वासना की कहानी में पढ़ें कि कॉलेज की दो लड़कियाँ सेक्स की बातें कर रही थी. मैं उसके पीछे ही था … इसलिए मैं अब उससे आगे नहीं गया बल्कि उसकी सीट के पास ही खड़ा हो गया.

मेरी पहली चुदाई बहुत धमाकेदार थी और इतना मजा तो शायद मुझे कोई और नहीं दे सकता था.

थोड़ी देर बाद डॉक्टर ने मुझे अपने ऊपर से उठाया और कुर्सी पर मुझे बैठने का इशारा कर दिया. तभी संजू मादक मुस्कान बिखेरते हुए बोली- सुनिये ना … जल्दी आइएगा … मैं अभी भी प्यासी हूँ. हेतल ने मुझे गले लगा लिया और मुझे किस करके बोली- ओह्ह … अरमान कितना अच्छा हुआ कि तुम यहां आ गये.

वो अपनी गांड को चौड़ी करके दिखा रही थी और ये नजारा देखकर मेरे लंड से प्रीकम रिसने लगा था. मैंने बड़े प्रेम से तौलिये से न्यूड भाभी का पूरा बदन पौंछा और भाभी ने मेरा बदन पौंछा. दोस्तो, मेरी ये सेक्स कहानी आपको कैसी लगी, इस बारे में आप मुझे अपने मेल से जरूर बताना.

डेजी बोली- ठीक है, चल मेरी रंडी भाभी, आज मैं खुद ही तुझे अपने आशिक के लंड से चुदवाती हूं.

बीएफ सेक्सी चुदाई ओपन: सच में शायरा ने खाना बहुत टेस्टी बनाया था इसलिए मैंने कुछ ज्यादा ही खा लिया था. मैं सोच रहा था कि अगर इसका यहां ये हाल है … तो नीचे क्या हो गया होगा.

मैं शर्मिंदगी से उठा और उसे आवाज दी- कुछ काम था क्या मोनी?वो फिर अंदर आकर बोली- नहीं, मैं तो वैसे ही आ गयी थी. मैंने सोचा कि साला पैसे तो लग नहीं रहे हैं, फिर से एप डाउनलोड कर लेता हूँ. मीनू ने फिर अपनी पहली चुदाई के बारे में भी बताया कि कैसे उसने पहली बार अपनी चूत की सील तुड़वाई थी।इतनी सेक्सी बातें करते हुए दोनों ही चुदाई करने को मचल जाते थे.

पिछले भागशिमला में लंड की तलाश- 1में अब तक आपने पढ़ा था कि मैं नंगी कमरे में थी और उसी वक्त एक जवान लौंडा, जोकि वेटर था, कमरे में आ गया और उसने मुझे नंगी देख लिया.

मैंने अपनी गीली पैंटी को उतार दिया और अपनी गीली गर्म चूत को उससे रगड़ कर साफ कर दिया. मैंने उसके होंठों को होंठों से कस कर पकड़ कर लंड को जोर से धक्का दे दिया. हालांकि अन्तर्वासना साईट पर कहानियों को पढ़ पढ़कर चुदाई का लिखित ज्ञान मिल गया था लेकिन उसको अभी अनुभव बनाना बाकी था।मेरी कोई गर्लफ्रेंड तो थी नहीं इसलिए बस जब मन करता तब हाथ से ही हिलाकर अपने लंड को शांत कर लेता था।जब मैं दिल्ली आया तो इस शहर में आने के बाद तो जैसे कि सब कुछ ही बदल गया।यहाँ के हुस्न को देखकर मेरा लंड बेकाबू हो जाता था.