बहन भाई की बीएफ सेक्सी हिंदी

छवि स्रोत,ओपन सेक्सी वीडियो फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

धारा 336 क्या है: बहन भाई की बीएफ सेक्सी हिंदी, पहले तो धीरे धीरे धक्के दिए, फिर तो मानो हथियार उनके कन्ट्रोल में ही नहीं रहा; जोर जोर से धक्कम पेल मचा दी.

सेक्स मूड

क्योंकि शायरा से दूर रह कर मैं भी तो ठीक से कहां जी नहीं पा रहा था. नए गाना सेक्सीपापा ने मम्मी की चूत में उंगली डालकर देखा कि मम्मी की चूत पानी छोड़ने लगी थी.

सुबह मेरी आंख पांच बजे खुली तो मैं उल्टी करवट लेटी थी और पीछे से मेरी नाइटी कमर तक उठ गयी थी जिसकी वजह से मेरी 40 की गांड पूरी नंगी थी।मैं जल्दी से उठी तो देखा समीर अपने बिस्तर पर नहीं था तो मैं समझ गयी कि आज लड़के ने सुबह सुबह अपनी मालकिन की नंगी गांड का दर्शन कर लिया है।अब मैं भी उठी तो देखा वो झाड़ू लगा रहा था. सेक्सी वीडियो फोटो दिखाइएमामी इस कामुक मजे को बर्दाश्त नहीं कर पाईं और वो कांपते हुए झड़ गईं.

आदमी मुझसे मुखाबित हुआ और मुझसे हाथ मिलाकर बोला- मैं सुलतान (बदला हुआ नाम).बहन भाई की बीएफ सेक्सी हिंदी: हॉट देसी औरत चुदाई कहानी मेरे पड़ोसी की पत्नी के मेरे साथ सेक्स सम्बन्ध की है.

फिर दो मिनट बाद उसने लंड निकाला और बोली- अब बस … पहले मेरी आग बुझाओ बाकी सब आगे राउंड में होगा.मुझे आंटियां और भाभियां चोदना ज्यादा पसंद है क्योंकि उन्हें चोदने में कोई खतरा नहीं होता है.

हीनदीसेकसी - बहन भाई की बीएफ सेक्सी हिंदी

पूनम बुआ सिर हिलाती हुई बोलीं- हम्म्म …मैं- अन्दर ही डाल दूँ ना?पूनम बुआ- जहां तुम्हारा मन करे.फिर जैसे ही खाना खत्म हुआ, तो मैंने उसे उसी मेज पर उसकी टांगें चौड़ी करके बैठा दिया.

उनकी चुत ने रस छोड़ दिया था जिस वजह से लंड सटासट अन्दर बाहर होने लगा था. बहन भाई की बीएफ सेक्सी हिंदी मैंने जाते ही रसोईए को पकड़ा और जोर से कहा- अरे सर को किसी की गांड ही मारना थी, तो क्या उसी की मारते? अरे उनका ज्यादा सुरसुरा रहा था … तो मेरी गांड में लंड पेल देते.

उसके बाद साल भर तक मैं महीने में 2-3 बार उसको होटल ले जाकर चोदता रहा.

बहन भाई की बीएफ सेक्सी हिंदी?

जब मुझे लगने लगा कि उसके लंड में तनाव आ रहा है तो मैंने उसके लोअर में हाथ डाला और लंड को पकड़ लिया. मैंने प्राची से पूछा, तो उसने भी यही बताया कि जब से मैं प्रेग्नेंट थी, तब से अब तक मैंने लंड का स्वाद ही नहीं चखा था. मैंने अपना पेग लिली के होठों की ओर किया तो लिली मेरी आँखों में देखने लगी.

अबकी बार मैंने फ़लक को बेड पर घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी सुन्दर चूत की फाँकों को अलग करते हुए पूरा लण्ड चूत में बैठा दिया. बहुत देर तक किस करने के बाद मैंने मामी का कुर्ता और सलवार निकाल दी, अब सुमन मामी मेरे सामने सिर्फ ब्लैक कलर की ब्रा और पैंटी में रह गयी थीं. थोड़ी देर में वो औरत हाथ में चाय के 2 कप लेकर आई और मेरे पास बैठ गई.

हम दोनों ने खुद को साफ किया और जल्दी से मामी ने खाना बना कर मुझको खाना परोस दिया और मैं खाना खाकर मामा के लिए खाना ले कर चला गया. उन्होंने मेरे बाल पकड़ लिए जो सीधा ऑर्डर था लंड को चूसने का।मुझे भी हवस चढ़ी हुई थी तो मैंने भी बिना देरी किये उनका लंड चूसना शुरू कर दिया. मैं बोली- पापा अगर मुझे देख कर आपका इतना ही लंड खड़ा हो रहा था … तो घर में ही पटक कर क्यों नहीं चोद दिया.

तुम सिर्फ मेरी तरफ देखो आरुष, नीचे मत देखना … तुम्हें कुछ नहीं होगा. लेकिन मेरी सेक्स कहानी में तो मेरे भाई ने ही मेरी चुत में सबसे ज्यादा झंडे गाड़े हैं.

मैंने उसको फिर से बांहों में भरा और उसकी आंखों में प्यार से देखा तो वो शर्मा गई.

ताई ने मेरी तरफ अपनी गांड कर रखी थी और उन्होंने मुझसे पलट कर लेटने के लिए कह दिया था.

दोनों ने सेक्स को लेकर अपनी-अपनी पसंद और अपनी ख़्वाहिशों के बारे में बताया. जब खाने का समय हुआ तो मेरे ना आने के कारण भाभी मुझे आवाज लगाती हुई मेरे कमरे में आ गईं. देसी गाँव की भाभी की चूत कहानी में पढ़ें कि एक फोन काल से एक भाभी मेरी दोस्त बनी.

मैं आनन्द से सराबोर होकर अपने अन्दर उठे वासना के तूफान के शांत होने की अवस्था में आ चुकी थी. ज्योति, जो बैग में से अपने कपड़े निकाल रही थी, पलट कर देखते हुए सीटी बजाकर बोली- क्या बात है जानेमन, ये बिजली किस पर गिराने का इरादा है?उसने पीछे से आकर स्नेहा को बांहों में भर लिया और उसके गाल पर किस करते हुए मस्ती करने लगी- क्या बात है यार … तेरे आम तो दिन पर दिन बड़े होते जा रहे हैं, आज कल किससे दबवा रही है?ये कहते हुए ज्योति ने स्नेहा की रसभरी चूचियों पर अपने हाथ रख दिए. उसका ये मस्त सेक्सी लुक देखकर मेरे लंड में एक उत्साह की लहर दौड़ गयी जिसने मुझे मुठ मारने पर मजबूर कर दिया.

तान्या बोली- तुम चिंता न करो, आज मैं तुम्हारा वीर्य ऐसे निकलवाऊंगी कि तुम्हें कभी ऐसा मजा इससे पहले किसी स्खलन में नहीं मिला होगा.

शायरा ने भी अब मेरे होंठों को चूसना शुरू कर दिया था, जिससे हम दोनों ही इस दुनिया को पीछे छोड़ कर अब अपनी एक नयी ही दुनिया में खो गए थे. अनु दीदी के साथ अब तो हालात ये हो गए थे कि हम दोनों एक-दूसरे के बिना एक हफ्ते भी नहीं झेल पाते थे. मैंने तुरंत ही वो सारे पिक्स अपने नम्बर पर सेंड कर लिए और उनकी सारी चैट के स्क्रीन शॉट लेकर भी सेंड कर ली.

चूत और गांड की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैं गांडू हूँ पर मौक़ा मिले तो चूत भी मार लेता हूँ. आपको दर्द हो रहा हो तो लंड बाहर निकाल लूं?दीदी- नहीं … मुझे गांड में प्लग लेने की आदत है. मोना भाभी मुझसे छूटने की कोशिश भी ऐसे कर रही थीं, जैसे उनके मन भी मुझसे छूटने का मन न हो.

[emailprotected]दोस्त की दीदी सेक्स कहानी का अगला भाग:दोस्त की सेक्सी दीदी की चुदाई की कहानी- 2.

मैंने पकड़ पर ढील देकर एक हाथ गर्दन पर लगाया और भाभी के होंठों के किस का पूरा मजा लेने लगा. वैसे मैं उनसे मजबूत था, ज्यादा मस्कुलर था … तगड़ा था, पर इस समय उनका लंड मेरी गांड में था.

बहन भाई की बीएफ सेक्सी हिंदी मुझे रोहन नाम से एक आदमी ने फ़ोन किया और कहा कि मुझे उनकी बीवी को इंजेक्शन लगाना है. मैं- ठीक है, क्या आप मेरे सामने बिना कपड़े आओगी!भाभी- बदमाश कहीं का … मैं तुम्हारी भाभी हूँ, कोई भाभी से ऐसे बात करता है क्या?मैं- क्यों भाभी देवर का रिश्ता होता ही ऐसा है.

बहन भाई की बीएफ सेक्सी हिंदी हर लड़की के जीवन में एक दिन ऐसा आता है जब अपना शरीर किसी के हवाले करती है, मैं चाहता हूँ कि आज की रात तुम खुद को मेरे हवाले कर दो. प्रीति ने गिड़गिड़ाते हुए मुझसे कहा- सारिका जी प्लीज, यहाँ मुझसे नहीं हो पायेगा, प्लीज बिस्तर पर चलिए और जो मर्ज़ी हो आपकी मेरे साथ करो।ये कहते ही उसने मुझे पकड़ कर उठाया और हम दोनों एक दूसरे का हाथ पकड़ कमरे की ओर जाने लगे।मेरी पैंटी अभी भी मेरी जांघों तक ही थी.

अब आगे कश्मीरी गर्ल सेक्स कहानी:मैं लण्ड का पानी निकालने के बाद बाहर शहर के आउटलेट्स के दौरे पर चला गया.

सेक्सी वीडियो भोजपुरी बीएफ सेक्सी

अब वो उठे और मेरी टांगें फैलाकर मेरी चूत में लंड दे दिया और चोदने लगे. मेरी चूत को लंड की जरूरत पड़ी तो …मैं रूपा आपके सामने अपनी चुत की प्यास न बुझने वाली सेक्स कहानी में सुना रही हूँ. फिर भाभी जी ने थोड़ा ऊपर हुईं और लंड के टोपे के किनारे तक ले जाकर ऊपर होकर पूरी ताकत के साथ ऊपर नीचे की तरफ हुईं, जिससे चार इंच तक लंड वो निगल गईं.

एक बार इसी तरह हम दोनों मैसेज पर बातें कर रहे थे और मैंने उससे पूछा- ये फ़ोन सेक्स क्या होता है?उसने बोला- फ़ोन या मैसेज पर बात करते हुए खुद हस्तमैथुन करने को फ़ोन सेक्स कहते हैं।मैंने हिम्मत करके उसको पूछ लिया- हम करें क्या?उसने हाँ बोला और कहा- यह बात सिर्फ हम दोनों के बीच ही रहनी चाहिए और सिर्फ फ़ोन तक ही रखना. फिर लगभग 10 मिनट बाद उस लड़के ने, जो सबसे पहले मेरे पास आया था, मेरी कमर में उंगली चलाना शुरु कर दिया. मैंने मामी को सीधा लिटा दिया और उनके पैरों को अपने कंधों पर रख लिया.

वे बोले- अरे, तेरा तो बहुत बड़ा लौकी सा लटक रहा है … खड़ा होकर तो नौ-दस इंच का होगा.

औरत और मर्द बिना चुदाई के इस सर्दी से किसी भी तरह से निजात नहीं पा सकते थे. क्या तुम इस सेशन के खत्म होने तक इस काम में मेरी मदद कर सकती हो?तान्या- अपनी गोटियों को सहलाओ, मगर लंड को मत हाथ लगाना. फिर मैंने जोर लगाकर संगीता से होंठ छुड़वाए और उसकी चूचियों पर होंठ रख दिए.

संध्या- और तुम्हारे चाचू, वो कहां हैं?स्नेहा- पापा के एक दोस्त रतन अंकल आए थे, वो अपने साथ चाचू को ले गए. मेरी बहन कॉलेज में सलवार सूट पहन कर जाती थीं … तो सब उन्हें बहनजी कह कर चिढ़ाते थे. कुछ दिनों बाद उसने बताया कि वो खुद एक बड़ी कंपनी में काम करती है और उसके पति बड़े बिजनेसमैन हैं.

अब मैं कल्पना करने लगा कि मैं उसके कमरे में हूं और वो मेरे सामने चूत खोलकर लेटी हुई है. वो पलंग पर घुटनों के बल थी और मैं उसके पीछे अपना मोटा लंड लिए उसे चोदने के लिए तैयार था.

मैं उसके पास बैठ गया और उसका हाथ अपने हाथों में लेकर बात करने लगा उसको समझाने लगा. स्नेहा ने आज टाईट फिटिंग वाली ब्लू जींस और ढीला ढाला ब्लैक कलर का टॉप पहना था. एक रात बारिश होने से सर्दी बढ़ गयी तो …दोस्तो, यह मेरी पहली सेक्स कहानी है, जो मैं अन्तर्वासना पर शेयर करने जा रहा हूं.

लेकिन इस जबरदस्त कजिन सेक्स कहानी के अगले भाग में और भी मजा आने वाला है.

फिर उसने उस डिल्डो पर काफी मात्रा में गाढ़ा चिकनाई युक्त पदार्थ लगा दिया और डिल्डो पर रगड़ते हुए उसे पूरा चिकना बना दिया. उसका मोटा लम्बा हथियार देखकर मेरी बहन रीना अपनी बुर में लंड लेने से मना कर रही थीं. ऐसे में मैं रोज रात में बरामदे में पड़े तख्त पर सोता था और दोनों भाभी अपने अपने कमरे में सोती थीं.

मामी पूरी जी जान से अपनी गांड उछाल कर मेरे लंड को अपनी चूत में ले रही थीं. मैं तो कुछ बोल भी नहीं सकता था … क्योंकि मुँह तो मेरा पहले से ही पैक था.

बाहर बरामदे की लाइट जल रही थी जिससे रोशनदान से आ रही लाइट से अंदर का सब कुछ साफ दिखाई दे रहा था. करीब बीस मिनट तक बेड के चारों तरफ घुमा घुमा कर चोदने के बाद वो ऊपर आकर मेरे लंड पर बैठ गई. इसी से एक घटना घटी, जो मैं इस पोर्न भाभी सेक्स कहानी के जरिये आप तक पहुंचा रहा हूँ.

बीएफ फिल्म सील पैक

अब उसने झटके देना शुरू कर दिए और मैं भी अपनी गांड पीछे को हिलाते हुए उसका साथ दे रहा था.

मैंने मन में सोचा कि साली भैन की लौड़ी तेरी चुत सिर्फ लंड के इंतजार में तड़फती है. अभी भी भाभी दिखावा करने के लिए आराम आराम से बोल रही थीं- यश कोई देख लेगा. जिससे उनके मुँह से मादक सिसकारियां निकल रही थीं- ओह यस्स ओह … खा ले चूस ले.

ये उसी समय की बात है दीदू?नेहा- हां!अतीतावलोकन यानिअब कहानी फ्लैशबैक में!संध्या- अरे स्नेहा, तुम आज स्कूल नहीं गई?स्नेहा- जी चाची, मॉम को अचानक पापा के साथ कहीं जाना पड़ा. फिर भाभी जी ने थोड़ा ऊपर हुईं और लंड के टोपे के किनारे तक ले जाकर ऊपर होकर पूरी ताकत के साथ ऊपर नीचे की तरफ हुईं, जिससे चार इंच तक लंड वो निगल गईं. डॉक्टर के साथ सेक्सीजब उसका पानी निकला, तो पूरा लंड उसने मेरी चुत के अन्दर ही रोक दिया था.

मैं सो गया और दूसरे दिन कल्पना मामी की गांड मारने के मीठे सपने देखने लगा. इस बार वो मेरे और भी करीब सट कर बैठी थीं जिससे मेरी जांघ उनकी जांघ को छू रही थी.

अब मैंने सोचा कि क्यों न मैं भी अपनी एक सेक्स कहानी लिखकर आप सभी पाठकों के मन को रोमांचित करूं!जंगल सेक्स कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको अपना परिचय दे देता हूं. मैं अपने अंगूठे से भी थोड़ा प्रेशर बनाकर उसके चूचों की गोल गोल मालिश करने लगा. मेरे लंड का रस पूनम बुआ के मल से मिलकर उनकी गांड से बाहर बहने लगा था.

कुछ तो समझा करो यार!उसे मैंने अपनी चुत तक पहुंचने के लिए ग्रीन सिग्नल दे दिया था और वो बहुत खुश था. ममता जी ने जिस चुदाई‌ की‌ मेरी तारीफ की थी, वो चुदाई उसे दिखानी थी, साथ ही उसको दिखाना था कि मुझमें कितना दम है. अगले 15 दिन हम साथ रहे, इन पंद्रह दिनों में खूब चुदाई हुई और एक दूसरे के मजे भी लिए.

जैसे ही मैंने उसे अपनी बांहों में लेना चाहा उसने छुड़ाते हुए कहा कि हर रोज मम्मी को बेवकूफ नहीं बना सकते।कहते हुए वो बाहर निकल गयी।मैं भी उसके पीछे गया.

संध्या- सीईईई आआह!स्नेहा निप्पल मुँह से बाहर निकाल कर बोली- क्या हुआ चाची दर्द हुआ क्या?संध्या- नहीं रे, तू पी … मुझे बहुत अच्छा लगता है. अबकी बार इंडिया में पूरी तरह से लॉकडाउन तो नहीं था, जरूरत के वक्त लोग बाहर आ-जा सकते थे … लेकिन फिर भी लॉकडाउन लगा हुआ था.

मैंने कहा कि इंसान की बॉडी में सबसे गर्म हिस्सा चुत और लौड़ा होता है. उसकी गांड इतनी टाइट थी कि वो जैसे मेरे लंड को अन्दर वैक्यूम की तरह खींच रही थी. निर्मला जी निआग्रा फाल्स से भी ज़्यादा गीली हो रही थीं, उनकी चूत भट्टी जैसी गर्म और अपना चिपचिपा माल छोड़ रही थी, जो उनकी कच्छी और और उनकी झांटों को भिगो चुका था.

फिर मैं थोड़ी इठलाते हुए बोली- अब आप इतनी मिन्नत कर रहे हो … तो मैं मना कैसे कर सकती हूँ. अब मैंने उसकी क्लिट को रगड़ना शुरु किया और कुछ ही देर में उसे भी झाड़ दिया. यह सही है कि आप अपने काम के पैसे ले रहे हो लेकिन जब परिस्थिति ऐसी हो तो फिर चार्ज नहीं देखा जाता.

बहन भाई की बीएफ सेक्सी हिंदी सबसे पहले मैंने भाभी की नाइटी उतार कर उनकी पूरी बॉडी पर किस किया और फिर हेलीमा का टॉप और उसकी शॉर्ट निकाल दी. मैंने अपने दिल को हजारों बार समझाया मगर ये जवानी बहुत ही तकलीफ देने वाली होती है.

सेक्सी बीएफ बुर चोदने

दोस्तो मैं कोटा, राजस्थान में एक प्राईवेट कम्पनी में 4 साल से काम कर रहा हूँ. यदि कहानी में कोई कमी हो तो वो भी बताएं ताकि उसको सुधारा जा सके।आपसे ये भी अनुरोध है कि यदि इस भानजी की चुदाई कहानी में कोई खूबियां हो तो वो भी बताएं ताकि उनको और अधिक निखारा जा सके. दस साल तक कंपनी में काम करते रहने के बाद अब मेरे बेटे निखिल की उम्र जानने समझने की हो गई थी.

अभी भी भाभी दिखावा करने के लिए आराम आराम से बोल रही थीं- यश कोई देख लेगा. तुम्हें यहां कोई कुर्सी नहीं दिख रही ना मेरे बैठने के लिए।” मैंने उसको बताते हुए कहा।वो नीचे कूबड़ निकाल कर बैठ गया ताकि मेरे लिए कुर्सी बन सके।मैंने अपनी गांड की फाड़ों को खोला और गांड के छेद को उसके चेहरे पर रगड़ने लगी. आंटी आंटीवो मुझे बेड वाले रूम में ले गयी और दरवाजा बंद करते ही मुझसे लिपट गयी.

कहानियाँ पढ़ते वक़्त कभी-कभी उसके हाथ बग़ल में सोयी रेणु के जिस्म पर रेंगते रहते और कभी उसकी गोल-गोल दूध से भरी चूचियों को सहला लेते।या तो कभी उसकी साड़ी और साये के अंदर हाथ डाल कर उसकी नर्म मख़मली चूत को सहला दिया करता और फिर अपने लंड को झटके दे-दे कर अपना पानी निकाल लिया करता.

लेकिन मैं ऐसे किसी अनजान के रूम में नहीं जाना चाहती थी क्योंकि वहां पर ज्यादा खतरा हो सकता था इसीलिए मैंने उनको रूम में जाने से मना कर दिया. मैं फिर से उसकी गीली रसीली चूत को चाटने लगा और वो अपनी टांगों को खुद ही फैलाने लगी.

मैंने यामिना से कहा- यामिना, मैं भी कितना मूर्ख था कि तुम्हें छोड़कर उस लिली को देख रहा था. वो मेरी तरफ देखकर बोलीं- ये तो मैं हूँ!मैंने कहा- हां चाची … मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ. वो मेरी तरफ देखता ही रह गया और दोनों लिफाफों को अपने पास रखते हुए बोला- मैडम, मैं अपने जीवन में कुछ भी भूल जाऊं, मगर आपको कभी नहीं भूलूंगा.

मैं करीब ऐसे ही 2 घंटे तक चुदती रही और मेरी पूरी जान निकल गई।फिर सब ने कपड़े पहने। जब मैं पहनने लगी तो एक ने मेरी ब्रा और एक ने पैंटी रख ली और उसे सूंघने लगे।मैंने मजबूरी में जींस और शर्ट पहनी जिसकी वजह मेरे बूब्स बहुत हिल रहे थे.

जंगल की तरफ जाकर मैंने बाइक रोक दी और उसे लेकर पैदल ही अन्दर को निकल गया. फिर अगले दिन 6 बजे मैंने उससे मार्किट चलने को बोला तो वो अपना हाथ मुंह धोने लगा. एक-दो महीनों तक रोज रात को रेणु का फ़ोन आ जाता और दोनों फ़ोन पर बात करते-करते या स्काइप के ज़रिए एक दूसरे के साथ सेक्स चैट और डर्टी वीडियो चैट करके अपना दिल बहला लिया करते थे.

शुक्राणु का निर्माण होता हैनर्म गर्म बदन दबाने में मुझे मज़ा आ गया और ऊपर से उसके बोबों के थोड़े थोड़े दर्शन भी मेरे लंड को गर्म कर रहे थे. मैं क्या बताऊं … इतना मजा तो मुझे अब तक किसी कुंवारी लौंडिया ने भी नहीं दिया था.

सेक्सी बीएफ चुदाई बीएफ चुदाई

इनकी बातचीत खत्म हुई और अब मैं आपको फिर से नेहा के घर में सेक्स कहानी में ले चलती हूँ, जिधर सेक्स भरा पड़ा है. मैंने हाथ उनके बाल पकड़ कर अपनी तरफ खींच लिया क्योंकि मुझे लगा कि ये मुँह में लंड नहीं लेंगी. अनीता सोचने लगी कि अब कैसे रमण को ऊपर पहुंचाए?उसने प्रकाश से कहा कि उसका मन बीयर पीने को कर रहा है, मगर साथ प्रकाश को व्हिस्की से देना होगा।प्रकाश बोला- नहीं, आज पहले तुम मेरा लंड चूस दो। साले विजय ने बार बार तेरी चूत दिलाने की बात कह कर मेरा लंड खड़ा कर दिया।अनीता ने फटाफट रमण को पर्दे के पीछे छिपने का इशारा किया और रूम में जाकर पहले लाइट बंद की.

चूंकि मैंने अभी तक शादी नहीं की थी और मैंने अभी तक किसी के साथ सेक्स भी नहीं किया था. दीपिका- अच्छा तो क्या करना चाहते हो!उसकी आंखों में एक चमक थी और सांसें भारी हो उठी थीं. अब संगीता ने वापस बगल की दराज से सिगरेट की डिब्बी और लाइटर निकाल कर टेबल पर रख दी.

पर उसकी दुर्दशा पर जरा सा तरस खाये बिना, मानस और जोर जोर उसकी भोसड़ी को अपने लौड़े से कूट रहा था. फिर मैंने एक झटके में पूरा लंड अंदर घुसा दिया और वो जोर से चिल्लाई- उईई … आईई … आह्ह … निकाल ले … मर जाऊंगी मैं!तभी मैंने उसके होंठों को चूसना शुरु कर दिया और लंड को रोक दिया। थोड़ी देर बाद उसका दर्द कम हुआ तो मैंने लंड को अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया. ज्योति- तू मेरे साथ क्यों आई बीसी? मैं चिराग के साथ उसके रूम में जाने वाली थी, पर तूने तेरी बहन चुदवा ली.

इसकी चूत में अपने लंड को देकर मैं इसकी चूत की सही से चटनी बनाती और सारा रस निकाल देती इसको चोदकर।मैंने हल्के से उसकी टांगें फैलाईं और योनि को छुआ. घर वाले थोड़े खुश हुए कि चलो अब ये दोनों कम से कम काम तो कर रहे हैं.

दोस्तो, मैं राज आपको अपनी पड़ोसन भाभी उनकी दो किरायेदार लड़कियों की चुदाई की कहानी सुना रहा था.

मैं ये सब देख कर भी अंजान बनी रही क्योंकि मेरा मकसद पूरा हो चुका था. अफगानिस्तान का सेक्सी वीडियोमैंने भी अपना पूरा जोर लगा कर लण्ड को उसके होठों के बीच चलाना जारी रखा. श्रद्धा कपूर की नंगी तस्वीरेंमैंने अपने एक हाथ को उसकी चूचियों के नीचे ले जा कर उन्हें मसल दिया. थोड़ी देर बाद मैंने एक इलेक्ट्रीशियन को बुलाया और भाभी के घर की लाइट ठीक करवाई.

प्रकाश ड्राइंग रूम से बाहर आ रहा था।वो लड़खड़ा रहा था।अनीता ने उससे पूछा- विजय चला गया क्या?प्रकाश बोला- हाँ, अभी लेकर गया है उसका ड्राइवर, आज विजय ने मेरे से ज्यादा पी है.

फिर थोड़ा सा तेल लेकर उसकी गुलाबी चूत पर भी टपका दिया और अपने गाल को चुत पर रगड़ कर साथ में उंगलियों की मदद से चुत की मसाज करने लगा. वो इसलिए होने लगा था क्योंकि एक बार जल्दी जल्दी में लंड मम्मी की गांड में घुस गया था और वो दर्द से चिल्ला उठी थीं, तो पापा पूछने लगे थे कि क्या हुआ. अब मैंने अपने हाथों के बल अपने शरीर को ऊपर उठा‌ लिया और नीचे से अपनी पूरी तेजी व ताकत से ममता जी चुत में लंड के धक्के लगाने शुरू कर दिए.

वो बेशर्मी से मेरे दूध मसलते हुए बोला- अरे यार मुझे मालूम है कि तेरा पति बाहर है. अब मैंने एक हाथ भाभी के गाल पर रखा और उनके रसीले लाल होंठों का रस पीने लगा. भाभी- मुझे भी अपनी रंडी बनाओगे?मैंने थोड़ा इंतजार किया कि भाभी का अगला वाक्य क्या होता है.

बीएफ चाहिए वीडियो में हिंदी में

उस पूरी रात में कामशास्त्र की ऐसी कोई पोजीशन बाकी नहीं रही होगी जो हम दोनों ने नहीं की हो. वो भी नीचे से अपनी कमर उठा उठा कर मेरा साथ देने लगी।अब मेरा लंड उनकी चूत में जड़ तक जाने लगा. आपको हॉट देसी औरत चुदाई कहानी कैसी लगी … बताने के लिए मुझे मेरी मेल पर अपनी राय जरूर भेजिएगा.

जिससे कुछ ही देर में मेरी बहन को भी मजा आने लगा … अब वह भी अमन का पूरा साथ दे रही थीं.

[emailprotected]हॉट दीदी सेक्स स्टोरी का अगला भाग:भाई के लंड से दीदी की चुत गांड चुदाई- 2.

खाते समय जब मैं झुकती तो मेरी चूचियों के बीच की गहरी दरार पर बार बार उसकी नज़र जाती।खाने के बाद कुछ देर उसने मेरे कमरे में मेरे साथ टीवी देखा और फिर वो ऊपर चला गया सोने के लिए।अब उसके जाने के बाद मैंने अपनी नाइटी उतार कर ब्रा पैंटी को उतार दिया और ऊपर से सिर्फ नाइटी डालकर टीवी पर आवाज़ बन्द करके ब्लू फिल्म लगाई।चुदाई की फिल्म देखते हुए मुझे समीर का ही ख्याल आ रहा था. कहते है न कि आज तुमने जो भी अनुभव हुआ हो, उसकी शुरुआत कभी न कभी जरूर हुई होगी. करिश्मा कपूर की सेक्स वीडियोथोड़ी देर में पापा मम्मी को उठाकर अपने पलंग पर ले गए और मम्मी की साड़ी पेटीकोट उतार दिया, ब्लाउज भी उतार दिया.

आपको सेक्स विद फ्रेंड Xxx कहानी कैसी लगी मुझे इस ईमेल पर जरूर बताना. मुझे लगा कि ये साला गांडू है और मुझे अपनी बीवी की झूठी कहानी बता कर खुद गांड मरवाने की फिराक में है. करीब आधा घंटे तक ऐसे ही भाभी की चुत चोदने के बाद मैं झड़ गया और भाभी के ऊपर ही गिर गया.

यह सेक्स कहानी तब की है, जब मुझे पढ़ाई में सफलता हासिल नहीं हुई और मैं बहुत ही परेशान रहने लगा. मैंने उसे देखते ही सोच लिया था कि इसको तो कैसे भी करके चोदना ही है.

मैंने थोड़ा खुलते हुए कहा- आपका कोई ब्वॉयफ्रेंड है?भाभी मेरी पीठ पर एक धौल मार कर बोलीं- नहीं है यार … शादी के बाद तो पति ही सब कुछ हैं.

मैं भी पूरे जोर के साथ लंड को उनके मुँह में पूरा गले तक डाल रहा था. नसीम भाई भी उन्हें खूब मक्खन लगाते ताकि वे दुबारा गांड मरवाने को तैयार हो जाएं. जिससे शायरा मेरी बांहों में अब मचलने लगी मगर उसने खुद को मुझसे दूर नहीं किया.

इंग्लिश पोर्न वीडियो चिराग- दोस्तो, हम दो दो के ग्रुप में बंट जाते हैं और चार रूम में एडजस्ट कर लेते हैं. मैंने तीन बार लगातार शायरा के दरवाजे को‌ जोर जोर से पीटा, तब जाकर कहीं उसके घर का दरवाजा खुला और वो बाहर आई.

कभी मेरी जीभ उसके मुख के अंदर तो कभी उसकी जीभ मेरे अंदर होती और हम काफी देर तक किस करते रहे. हालांकि हम दोनों ने हाथों से ही एक दूसरे के आइटम का निरीक्षण किया था. फिर उनकी टांगों को थोड़ा चौड़ा करके उनकी चूत के ऊपर अपने सुलगते लंड के सुपारे को रखा और इसी पोजीशन में उनके उभरे हुए गोल और चिकने चूतड़ों को अपने हाथों से दबाता रहा.

बीएफ सेक्स करती हुई

मैंने उसकी नेकर और पैंटी निकाल दी और उसे पलंग पर ही घोड़ी बना दिया. जूस पीकर चाची जाने लगीं, तो मैंने हाथ पकड़कर चाची को बिठाया और उनसे कुछ देर और बैठने को कहा. चूंकि शिर्डी से वापस आने के बाद हम लोग थोड़ा बिजी हो गए थे, तो मिलना हो ही नहीं पा रहा था.

मेरे हाव भाव किसी शर्मीली लड़की की तरह थे।अब उसने अपना हाथ मेरी जींस के अंदर डाल दिया और मेरे लंड को सहलाने लगा. मैं कैसा लगता हूँ आपको?भाभी- अरे नहीं, आपको तो मुझसे भी अच्छी मिल जाएगी.

उधर स्वाति को घोड़ी बनाए हुए आलोक मस्त चुदाई कर रहा था और इधर निधि मोहित का लंड चूसने लगी थी.

मुझे ये डर लग रहा था कि पता नहीं वीडियो देखने के बाद क्या होगा … कहीं भाभी जी मेरी मम्मी से शिकायत न कर दें. अब तो वो खुद भी नीचे से अपनी गांड उठा कर चूत में लंड लेने के लिए धक्के लगाने लगी थी. मेरे ताऊ सरकारी नौकरी करते हैं, तो आजकल उनका तबादला दूसरे गांव में हो गया था.

कुछ देर बाद यामिना उठी तो उसकी चूत, जांघें और चूतड़ वीर्य और चूत के रस से लिबड़े हुए थे. मैंने भी उसकी स्कूटर को स्टार्ट करने की बहुत कोशिश की, पर गाड़ी चालू ही नहीं हुई. अब तुम भी वायदा करो कि अपनी शादी के बाद इस भाई का लंड से चुदती रहोगी … बोलो मंजूर है.

पल्लवी- हां यार, तू सच बोल रही है तन्वी … साली ये भी कोई जिंदगी है, घर से कॉलेज और कॉलेज से घर … बोर हो गई थी मैं तो.

बहन भाई की बीएफ सेक्सी हिंदी: मैं एक मजबूत मर्द था, गोरा हैंडसम स्मार्ट कसरती बदन का छरहरा बांका नौजवान था. वो अगर पानी पीती तो पानी के गिलास में मेरा लंड डाल देती और दो मिनट तक उस पानी में मेरे लंड को रखती, फिर पानी पीती.

ममता जी भी एक बार तो थोड़ा सा कराहीं, मगर वो भी तो पूरे जोश में थीं इसलिए अब उन्होंने भी अपने दोनों पैरों को मेरी जांघों में फंसा लिए थे और नीचे से अपने‌ कूल्हों को जोरों से उचका उचका कर लंड को धक्के देने लगीं. अचानक से शेखर के दिमाग़ में ललित की वो बात घूमने लगी जो कि उसने धारा के बारे में बतायी थी, धारा से बात करने वाली बात!पता नहीं क्या हुआ, शेखर ने अचानक से लंच छोड़ दिया और अपने डेस्क की तरफ़ दौड़ा. फिर संगीता बोली- मेरी खुद की कंपनी है और कई कंपनियों के साथ मैं बिजनेस पार्टनर भी हूं.

वो सब मैं आगे की सेक्स कहानी में लिखूंगा की मैंने सादिका की चुदाई कैसे की.

लेकिन इस बार उसकी मिठास ही कुछ अलग थी।वह मुझे पीछे से चोद रहा था और मेरी दर्द और आनन्द मिश्रित सिसकारियां निकल रही थी।मेरी आवाज कमरे की दीवार से टकराकर मेरे कानों तक वापस आ रही थी. मैंने उनको उठा कर टेबल पर बैठाया और उनकी टांगों को खोल कर उनके बीच खड़ा होकर और जोर से उनको चूमने लगा. उसकी चूत ने ढे़र सारा योनिरस उगल दिया और मैंने भी 2-3 धक्कों के बाद उसकी गाँड को कस कर पकड़ा और पूरा वीर्य रेनू की चूत में छोड़ दिया।रेनू चूत में लण्ड छोड़ कर ऐसे ही ऊपर लेट गयी।जान आज तो बिना मज़दूरी के मेहनत करवा रही हो … कुछ चाय-नाश्ता भी नहीं, बस खेत में हल चलवाये जा रही हो कंजूस … कहीं की!”सुनकर रेनू हंस पड़ी और मुझसे लिपट गयी।इस तरह से मेरा बरसों पुराना सपना पूरा हुआ.