बीएफ हिंदी बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,बिहार की सेक्सी चुदाई वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ मशीन वाली: बीएफ हिंदी बीएफ फिल्म, मैंने बोला- अरे ये तो सिर्फ इमेजीनेशन था, मैं तो तुम्हें तुम्हारे भाई से सचमुच में चुदवाऊंगा.

हिन्दी सेक्सी वियफ विडियो

देखते ही देखते उसके लंड ने अपना पूरा आकार ले लिया और वो उसकी पैंट में उछलने लगा. கேரளா ஆன்ட்டி பிஎஃப்जैसे कि मैंने आप लोगों को पिछली सेक्स कहानीसेक्सी भाभी को पूरी नंगी करके चोदामें बताया था कि कैसे मैंने भाभी की चुदाई की रात भर की थी.

प्रीति के शब्द:मेरी सहमति क्या मिली, मेरा सेक्सी भाई विशाल मेरे ऊपर भूखे भेड़िये की तरह टूट पड़ा। मेरे ऊपर उसने चुम्बनों की बारिश कर दी। मेरे होंठों को चूसते हुए खुद से ही मेरे जिस्म से चिपकने लगा। वो दोनों हाथों से मेरे चेहरे को पकड़े हुए जोरों से मेरे होंठों का रसपान कर रहा था।उसने मुझे एक झटके में गोद में उठा लिया जैसे कि मैं कोई छोटी सी बच्ची थी. hindi sex story दो बेटीमैं एक साफ दिल का इंसान हूं, इसलिए सभी मुझे पसंद भी जल्दी ही कर लेते थे.

मैं दुकान वाले को ताड़ ही रहा था कि बाइक पर बैठ कर इतने में ही सुमित ने मेरे पेट में कोहनी मारते हुए पूछा- तू भी आ रहा है ना?मैंने कहा- साले चूतिया है क्या.बीएफ हिंदी बीएफ फिल्म: जब उससे बर्दाश्त नहीं हुआ तो वो बोली- बस जानू, अब कर दो कुछ, नहीं तो मैं मर जाऊंगी.

वो मुझे गोद में उठाकर बिस्तर पर ले गया, जहां गुलाब के फूलों के प्रिंट वाला चादर बिछा था.मजबूरन अकेले सफर करना पड़ रहा है।मैं बोला- कोई बात नहीं! अकेले नहीं आज हम दोनों सफर करेंगे!बोल कर मैंने बरमूडा से अपना लन्ड निकाल कर पूर्णिमा के हाथ में दे दिया और बोला- हिला और चूस!इतना बोल कर मैंने उसकी कुर्ती को उतार दिया.

தமிழ் செஸ் ஸ்ண்ஸ்ஸ் - बीएफ हिंदी बीएफ फिल्म

नितिन[emailprotected]लेखक की पिछली कहानी:मेरी चुदासी मम्मी मेरे टीचर से चुद गई.मैं उसकी चूत में जीभ दे रहा था और वह अपनी जीभ को मेरे लंड के टोपे पर फिरा रही थी.

नमस्कार दोस्तो, मैं आरूष दुबे एक बार फिर से अपनी सेक्स कहानी का अगला भाग लेकर हाजिर हूँ. बीएफ हिंदी बीएफ फिल्म अगली बार क्या पता दो साल या 4 साल या सारी जिन्दगी इंतज़ार करो … और रही मां पापा की बात, आपके पास इतना समय बहुत है, इतने में तो मैं आपको जन्नत के दरवाजे तक 3-4 बार ले चलूंगी और तब तक ले जाती रहूँगी, जब तक आप खुद ना कहो कि बस मोनिका बस … अब और नहीं.

मेकअप के बाद उन्होंने एक बार मुझसे फिर चुदाई करवाई और फिर हम दोनों पति पत्नी की तरह रहने लगे.

बीएफ हिंदी बीएफ फिल्म?

इसके बाद हमारी योजना के अनुसार पूजा बोली- धीरे धीरे करो, नहीं तो मीना जाग जायेगी. फिर उन्होंने कुछ देर बाद बताया कि वो फोटो बहुत सुन्दर थी, इसलिए कहा था. मैं उसकी जांघों पे बैठ कर उसकी पैंट निकलने लगा तो सिल्क ने चूतड़ उठा कर सहयोग किया.

उससे संबंधित और भी वीडियो नीचे अपने आप ही सूचीबद्ध तरीके से दिखाई दे रहे थे. उसने मुझसे कहा- नहीं, ऐसे ही कर दो प्लीज!तो मैं नीचे अपने घुटनों पर बैठ कर उसका लंड चूसने लगी और बहुत देर तक ऐसे ही लंड चूसती रही।बहुत देर तक चूसने के बाद वह मुठ मारने लगा और मेरे मुंह पर ही उसने सारा पानी निकाल दिया।मैंने एक टिशु से अपने चेहरे को पौंछ लिया. जब लंड सिकुड़ कर बाहर निकल गया, तो वो मेरे बगल में आकर लेट गई और अपना एक पैर मेरे जाघों पर रख कर हाथों से मेरे छाती के बालों से खेलने लगी.

दीदी ने अपनी टांगें अपने हाथों से खुद पकड़ रखी थीं और मेरी तरफ देखे जा रही थीं. तो अब चाची जरा शांत हो गई।मैंने उनको अपने ऊपर चढ़ा दिया और उनके ब्लाउज़ को निकाल के उनकी ब्रा को खोल दिया. मैं उस लड़के के पास गई और उसका लंड पकड़ कर उसके कान में बोली- इसे अच्छे से चोदो … और इसे खुश कर दो.

मैं सीधा उसके ऊपर टूट पड़ा और उसके मम्मों को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा. मुझ पर खीझते हुए बोली- तुम्हें बड़ी भूख लग रही है इसके साथ खाने की! मुझे इसके साथ खाना नहीं खाना है.

अगर कहानी में आपको मजा आ रहा हो तो मुझे अपने मेल और कमेंट्स के जरिये प्यार दें.

थोड़ी देर लंड चूसने के बाद वो बोली- देवर जी अब चोद भी दो … नहीं तो मैं मर जाऊंगी.

मेरी बहन ने मेरे लंड को धीरे से पकड़ लिया, लेकिन लंड की लंबाई और मोटाई को महसूस कर, बदहवास हो गयी. इस पोज में मुझे भी थोड़ा आराम मिल रहा था और भाभी भी कुछ ही देर में जोर जोर से ऊपर नीचे होने लगीं. तुम्हारी दीदी मुझसे बोल कर गई है कि वो बाजार से दो घंटे के बाद लौटेगी.

जैसे जैसे उसके पैर फैल रहे थे, वैसे वैसे उसकी गुलाबी चूत मेरे सामने खुली हुई दिखायी दे रही थी. फिर भानुप्रताप अंकल मेरे पीछे आये और अपने लन्ड को मेरी गांड के छेद पर लगाया और धक्का दिया तो अंकल के लन्ड का टोपा मेरी गांड में चला गया. मैं- मैं कल पक्का आता हूं … अभी 3 घण्टे बाद तुम्हारी मां भी जग जाएंगी, तो अभी रहने देते हैं, कल की पूरी रात साथ रहेंगे.

मैं- ले लंड ले मेरी रानी … आज तेरी चुत का भर्ता नहीं, चबूतरा बनेगा आज तेरी चुत फटेगी … ले भैनचोद.

मम्मी बोलीं- हां यार मन तो मेरा भी है … पर किससे चुदवा लिया जाए?आंटी ने मम्मी की नाइटी में हाथ डाल दिया और उनकी चुचियों को मसलने लगीं. आपको मेरी दीदी की चुदाई की सेक्स कहानी कैसी लगी, प्लीज़ कमेंट्स कीजिएगा. ऊपर आकर मैंने अपने लंड को उनकी चूत पर सैट किया और एक जोरदार झटका दे मारा.

उसके 5 मिनट बाद मैंने भी अपना पानी निकाल दिया मैम की चूत में।तब तक उनके हस्बैंड भी मैम के मुंह में झड़ चुके थे।उसके बाड मैम नंगी ही बाथरूम में गयी और अपने को साफ़ करके आई. मैंने उसको मैसेज करके रात का खाना लाने को कहा, तो ठीक रात आठ बजे वो आया खाना लेकर. अभी जॉब की तालाश में हूँ।मैं दिखने में खुद को हैंडसम तो नहीं बोलूंगा लेकिन हां, मैं एवरेज लुक्स वाला हूं और देखने में ठीक-ठाक दिखता हूं।यह मेरी पहली कहानी है सड़क पर गर्लफ्रेंड की चुदाई की.

तो मैंने सोचा कि चलो ये सब बाद में! मैंने लंड चुसवाने का इरादा छोड़ दिया.

फिर मैंने सोचा कि चूत चुदाई में तो मुझे बहुत मजा आया लेकिन गांड मरवाने में बहुत तकलीफ हुई. इसके दो दिन तक उसका फोन नहीं आया, तो मैंने सोचा लगता है, ‘आई लव यू’ कहने से नाराज हो गई.

बीएफ हिंदी बीएफ फिल्म मैंने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और मेरे लंड से निकले वीर्य ने भाभी की चुत को भर दिया. आपके गुलाबी गाल … जब आप हँसती हो तो गुलाब से खिल उठते हैं।”इतना कहकर मैं रुक गया। हम दोनों ने असहज महसूस किया। मैं कुछ ज्यादा बोल गया था। मैं माफी मांग कर अपनी गलती जाहिर नहीं करना चाहता था।दीदी बोली- मेरी आज तक किसी ने ऐसे तारीफ नहीं की, आशू ने भी नहीं.

बीएफ हिंदी बीएफ फिल्म इसके बाद भाभी ने मेरी साड़ी को उतार दिया … अब मैं सिर्फ ब्लाउज और पेटीकोट में रह गया था. मम्मी- आआह शिल्पा … क्या कर रही हो?आंटी बोलीं- आज तुम मुझे अपने दूध पिला दो.

जब सुबह उठ कर देखा, तो मेरी सेक्सी चाची के चेहरे पर एक विजयी मुस्कान थी.

ఇంగ్లీష్ సెక్స్ వీడియో

निधि समझ गई कि उसके पतिदेव बहुत गुस्से में हैं और लवड़ा पकड़ कर मुठ मार रहे हैं … इसलिए इतने भड़के हुए हैं. घर पर अकेली बोर हो जाती हूँ दिन भर!मैं- मैं आ जाऊँ क्या?वो- क्यों क्या करोगे आकर?मैं- बातें कर के आपका टाइम पास कर दूंगा. मैंने आंटी को बर्तन साफ करने में हेल्प की, फिर मैं गेस्ट रूम में और आंटी बेडरूम में सोने चली गईं.

मगर सच कहूँ, मुझे इस तरह अपने शौहर से फरेब करना बड़ा अजीब लग रहा है. उधर भैया और भाभी अपने रूम में चुदाई के मजे ले रहे थे और इधर मेरा हाथ भी मेरे लंड पर चलने लगा था. अब आगे:बेडरूम में जाते ही उसको मैंने बेड पर धकेल दिया और उसकी टांगें खोल कर चुत को चाटने लगा.

लण्ड पर तेल लगाकर उसकी बुर में पेला तो अन्दर चला गया, उसको दर्द तो हुआ लेकिन झेल गई.

जीजा बोले- क्या हुआ मम्मी, कुछ गलती गई क्या उनसे?मां बोली- नहीं कोई गलती नहीं हुई है. हम लोग को जैसे ही मौका मिलता था, किस कर लिया करते थे या फिर मैं कभी कभी उसकी चूचियां दबा दिया करता था. सिल्क भी पूरा साथ दे रही थी, उसकी बांहें मेरी पीठ को सहला रही थी और मुझे टांगों में जकड़ के रखा था जैसे मैं भाग न जाऊं.

तभी मुझे एक आईडिया आया कि क्यों न किसी कॉलब्वॉय को बुलाकर आदी को उससे चुदवा दूँ. मैं किसी भी तरह से छूटना चाह रही थी मगर उसने मुझे दबा रखा था और दनादन मुझे चोदते जा रहा था. नीतू ने टॉवल से अपना बदन सुखाया और मैंने भी फिर से शॉर्ट्स और टी-शर्ट डाल ली.

मगर मेरी मॉम की जवानी थी ही ऐसी कातिल कि किसी भी बूढ़े का लंड जवान हो जाता था. इस बात को कमीनी परमीत ने दूसरे तरीके से लिया और दोहराते हुए कहा- अच्छा जो भी करेंगे!इस पर दीदी हंस पड़ीं और मनु शरमा गई.

अब दीदी तो निढाल हो चुकी थीं, उन्होंने लेटे हुए ही आंखें बंद कर लीं. उसकी मस्त शेप वाली गोल मटोल जांघों में फंसी जीन्स की जिप के अगल-बगल लौड़े के करीब बनी पैंट की सिलवटें देख कर मेरी सांसें भारी होने लगीं. मैंने डीएनडी का लोगो लगाया और दरवाजा बंद कर के पूर्णिमा से बोला- लो अब तो टीटी भी चला गया, अब तो कोई नहीं आने वाला!उसने मुझे गुस्से से देखा.

कहानी पर अपने कमेंट के जरिये मुझे जरूर बतायें कि आपको मेरी कहानी में मजा आया या नहीं.

अब पिंकी मेरे सामने पूरी अनावृत हो चुकी थी, खजुराहो की सेक्सी मूर्ति के तरह उसका सेक्सी बदन मेरे सामने था. जींस और लाल रंग के टॉप में जैसे ही मीना एयरपोर्ट से बाहर निकली, उसे देखते ही मेरा लण्ड उछल उछलकर सैल्यूट करने लगा. अब हम लोग अक्सर रोल प्ले करके तथा इमेजिन करके चुदाई कर लिया करते थे.

लेखक की पिछली कहानी थीकुंवारी लड़की की चुदाई का सपनासेवक राम मनवानी हमारे मुहल्ले में रहते हैं. मैं आहह उम्म्ह हहह ओहह उह की आवाजें निकालने लगी और मैंने कहा- सर, अब मेरी चूत में अपना लन्ड डाल दो.

जब मुझे भी मेरी गांड में जीभ चलने अहसास हुआ तो मैं चिहुंका, मेरे चिहुंकने से मेरी नजरो से बचती हुई सायरा फिर से मेरे लंड और अण्डों के साथ खेलने लगी. उसके मुंह से आवाज आई- आ आ मार दिया मम्मी!पूरे जोश में था मैं, मेरे मुँह से गाली निकली. अब जब वो सो रही थी तो मैं ध्यान से उसके पूरे जिस्म को निहार रहा था.

सेक्सी व्हिडीओ करताना दाखवा

जेठजी- काम तो कल सुबह भी हो जाएगा जस्सी, अभी मुझे और मत तड़पाओ प्लीज!जेठजी की तड़प देखकर मुझे मज़ा आ रहा था, उन्हें और तड़पाने के लिये मैं थोड़ा गुस्से का नाटक करते हुए बोली- नहीं, सुबह आप को भी आफिस जाने की जल्दी होती है और मुझे भी … ये सब काम अभी खत्म नहीं किया, तो सुबह दोनों को लेट हो जाएगा, अभी आप चुपचाप जाकर हॉल में या अपने बेडरूम में बैठिए … और मुझे मेरा काम खत्म करने दीजिए.

उसके बाद ससुर के लंड ने बहू की चूत के अन्दर अपना जलवा दिखाना शुरू किया। थप थप की आवाज और सायरा के उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज से कमरा गूंजने लगा।थोड़ा सा खुलापन हम दोनों के बीच हो चुका था।कुछ देर बाद मैंने सायरा को गोद में लेकर धक्का लगाने लगा, मैं धीरे-धीरे मजे का डोज बढ़ाने लगा।पापा … बहुत मजा आ रहा है. मैं उस लड़के के पास गई और उसका लंड पकड़ कर उसके कान में बोली- इसे अच्छे से चोदो … और इसे खुश कर दो. उनके मुँह से एक तेज आवाज निकलने को हुई, तभी अंकल ने दीदी के मुँह पर अपने मुँह को जमा दिया.

चुदाई करने के बाद मैं उसे उठाकर वाशरूम में ले गया क्योंकि उससे चला नहीं जा रहा था. वो एक हाथ से अपनी चूत तथा एक हाथ से अपनी चुची को ऊपर से ही मसल रही थी. साड़ी पिकबुर चटवाने से वो पागल होती जा रही थी, उसने मेरा लोअर नीचे खिसका दिया और उछलकर मेरा लण्ड अपने मुंह में ले लिया और अपने दोनों हाथों से मेरी कमर को पकड़ लिया.

उसकी आंखों में सेक्स का ऐसा नशा मैंने देखा कि अगर अब मैं उससे किसी भी गैर मर्द का लंड उसकी चूत में डलवाने के लिए कहती तो वो बिना सोचे ही अपनी चूत को चुदवाने के लिए तैयार हो जाती. मेघा के साथ भी ऐसा हुआ, मैंने अपना लंड उसकी चुत पर घिसा … तो उसने गांड उठाते हुए कहा- अब डाल भी दो … इतना क्यों तड़फा रहे हो.

मुझे यह सब देख कर बहुत अच्छा लगा अब तक दूध में मिलाई गई प्यार बढ़ाने वाली गोली से मेरे अन्दर कुछ कुछ होने सा लगा था. जब उनको मजा आने लगा, तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ानी शुरू कर दी और फुल स्पीड में भाभी की गांड में धक्के मारने लगा. करीब 20 मिनट बाद मेरा निकलने को हुआ तो मैं पूरा माल उसकी चूत में भर कर बर्थ में उसके ऊपर लेट गया।उस रात हम लोगों ने 2 बार और चुदाई की और हर बार मैं उसकी चूत भरता रहा।सुबह करीब 7 बजे रायपुर आने वाला था, हम दोनों कपड़े पहन कर सलीके से हुए, फिर दोनों ने मोबाइल नम्बर बदली किए और एक दूसरे को गले लगा कर बैठ गए.

वे लोग चले गए … मैंने दरवाजा बंद कर लिया और दीदी के कमरे में चला गया … मैं लैटर निकाल कर पढ़ने लगा. उसके बाद ससुर के लंड ने बहू की चूत के अन्दर अपना जलवा दिखाना शुरू किया। थप थप की आवाज और सायरा के उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज से कमरा गूंजने लगा।थोड़ा सा खुलापन हम दोनों के बीच हो चुका था।कुछ देर बाद मैंने सायरा को गोद में लेकर धक्का लगाने लगा, मैं धीरे-धीरे मजे का डोज बढ़ाने लगा।पापा … बहुत मजा आ रहा है. मैं तो बस चिल्लाये जा रही थी- ऊऊईई ईई आआअह्ह आआअह्ह्ह बस आअह्ह हो गया … निकालो! नहीं करो … मर जाऊँगी.

इसके दो दिन तक उसका फोन नहीं आया, तो मैंने सोचा लगता है, ‘आई लव यू’ कहने से नाराज हो गई.

ये कहानी आज से 3 साल पहले की हैमेरी गर्लफ्रेंड का नाम अंशी (बदल हुआ नाम) है, वो बहुत ही सुंदर माल है. हम दोनों सुबह करीब 9 बजे घर से निकले और गुड़गांव के ही एक कॉम्प्लेक्स में गए.

वो आज अपनी जवानी के दिनों की सोची हर फंतासी को पूरा करना चाह रही थी. फिर वो बोलती- आह इतनी अन्दर तक पेल रहे हो … क्या मार ही डालोगे … धीरे धीरे पेलो … बहुत दर्द हो रहा है … आह सैयां धीरे धीरे चोदो. आशा है आप सभी प्रिय पाठकों को पसन्द आयेगी।मेरी इससे पहली कहानी बॉडी मसाज और चूत की चुदास को लेकर आप लोगों के बहुत से सुझाव और मेल आये.

सुबह का नाश्ता भी कभी कभी ममता उसके लिए भी बना लेती और दोनों साथ नाश्ता कर लेते. मन तो मेरा भी यही चाहता था कि बाकी कामों के बारे में सोचना छोड़ कर इस पल का मज़ा लूं, पर फिर दिमाग में आया कि पूरी रात बाकी है और जेठजी को भी तो तड़पाना है … इसलिए मैं उन्हें अपने से अलग करते हुए बोली- ठीक है, आपको जो करना है बाद में करना … क्योंकि अभी मुझे बहुत काम करना बाकी है. ”ऐसे ही मतलब?”कुछ नहीं अंकल, बात दरअसल यह है कि सण्डे को पापा की छुट्टी रहती है, मैं कई साल से देख रही हूँ कि हर शनिवार को पापा मम्मी की चुदाई करते हैं, मेरा और पापा का बेडरूम अगल बगल है, भइया ऊपर सोता है.

बीएफ हिंदी बीएफ फिल्म मैं बोली- अच्छा ठीक है … वैसे बाबू क्या तुमने मेरे कपड़े देखे हैं, पता नहीं कहां चले जाते हैं … मिल ही नहीं रहे हैं. पीछे से मेरी गांड को भी चोदा और फिर मेरी कमर पर अपना माल गिरा दिया.

dog सेक्सी वीडियो

भैया दीदी अपने एक हाथ से दीदी के मम्मों को नाइटी के ऊपर से ही दबा रहे थे और दीदी भैया की पीठ सहला रही थी. कोई 10-12 मर्तबा अप-डाउन करने के बाद मैंने जेबा की कमसिन जवानी क़िले के फाटक को तोड़ कर घुसने की कोशिश की, लेकिन असफल रहा. कभी कभी तो कोई नहीं होता था प्रीति के घर में … तो मैं जाकर सोफे पर बैठ जाता था और टीवी चालू कर के कुछ ना कुछ देखता रहता था.

क्योंकि मेरी शादी पहले हो गयी थी, इसलिए प्रिया मुझसे घूंघट करती थी. एक दिन मैंने फोन पर उससे उसका फिगर पूछा, तो उसने 32-30-34 का बताया. शर्मा सेक्सी फिल्मउनकी चूचियों की दरार देख मेरा लंड खड़ा होने लगा था, जो मेरी पैन्ट से साफ नजर आ रहा था.

तभी अंकल ने दीदी की कमर को पकड़ कर अपनी कमर को एक जोर से झटका मारा, तो दीदी अपनी जगह से एक इंच ऊपर को खिसक गईं.

लंड जैसे ही आधा गया तो भाभी की चूत से खून आने लगा तो वो बोली- सही मायनों में आज मेरी चुदाई हुई है. वो मुझे चूमते हुए बोलीं- दरवाजा खुला रखना है क्या?मुझे याद आया कि जल्दीबाजी में दरवाजे बंद ही नहीं किये थे.

दोस्तों क्या गांड थी, पीछे से चुदाई करने में इतना मज़ा आ रहा था कि बस मन कर रहा था कि इसको जीवन भर ऐसे ही चोदूं … कभी अलग ना होऊं. बाद में भाभी ने बच्चों उठा कर तैयार किया और स्कूल भेज कर फारिग हो गईं. इसी तरह वो एजेंट महीने में तीन या चार बार हमारी सेटिंग करवाता। इसके बदले वो हमारी कमाई में से कमीशन खाता था.

अब तक शायद वो भी ये समझ चुकी थी कि मैं क्या चाहता हूँ … और वो क्या चाहती है … मुझे भी पता था.

और फिर पिंकी ने मुझे कमर से जकड़ लिया और मेरे निप्पलों को बारी-बारी से चूसने लगी. फिर मैंने एक शॉट में मेरा पूरा लंड अंदर डाला और अंदर बाहर करने लगा. वो लगभग कांपती आवाज में बोली- आंह … हां भैया … और जोर से … आह … आपकी बहन आ….

पंजाबी सेक्सी पिक्चर बताओकमल की गर्म जीभ मेरी पैंटी पर लगी तो मैं चुदने के लिए एकदम से तड़प गयी. मगर जब उसने अपनी सलवार उतारी तो उसकी सफेद पैंटी हल्की सी दिख रही थी.

बैंकॉक की सेक्सी वीडियो

एक दिन वो कहने लगी- मैंने जब से तुम्हारा हस्तमैथुन करने का वीडियो देखा है तब से मेरी चूत में कुछ कुछ होने लगा है. मैंने ट्रेन में कई बार मुठ मारी, लेकिन लंड महाराज शांत होने का नाम नहीं ले रहे थे. चाची मुझसे व्हाट्सएप पर बातें किया करती थीं, तो कभी कभी वो मेरे सामने रो दिया कर दी थीं.

बहनचोद था ही इतना हैंडसम, कई चूतों को पटा कर रखा होगा इसने गारंटी के साथ. अपनी बहन की चुत चोदने के बाद जीजा जी ने कंडोम को लंड से निकाला और डस्टबिन में फेंक कर आलिया के पास लेट गए. पतली-दुबली गीत अब गजब की खूबसूरत माल और कटीले कामुक बदन की मल्लिका बन चुकी थी.

मैं विक्की से बोली- अरे यार ये तो भारी प्रॉब्लम हो गई … उसने सब कुछ देख लिया है और अब वो मम्मी को बता देगा. कुछ देर लंड ऐसे ही चूसने के बाद मैंने उसका लंड अपने मुंह से निकाल दिया और उसे मेरी चुदाई करने को कहा. आंखों में वासना की मस्ती और चाल में चंचल हिरनी की अदा … होंठ जैसे मद से भरे प्याले हों.

मैंने ज्योति को गोद में उठा लिया और बेडरूम में ले आया, पलक झपकते ही उसको नंगी कर दिया. जैसे ही मैंने उसकी चुत को चाटना और चूसना शुरू किया, वो बस अपनी चुत मेरे मुँह में धकेलने लगी.

दुकान का नाम था- दहिया न्यूट्रीशन्स!शीशे के मेन डोर पर ही जॉन अब्राहिम की मस्क्यूलर बॉडी वाली हॉट शर्टलेस फोटो लगी हुई थी.

अंदर आकर वो बोली- बताओ भैया क्या करना है?एक बार तो मेरे मुंह से निकलने ही वाला था- चुदाई!मगर किसी तरह मैंने जुबान संभालते हुए उससे कहा- सफाई!उसने देखा कि रूम में किसी ने उल्टी की हुई थी. दूध्वली सेक्सी व्हिडिओकभी कभी तो मैं नीचे से ब्रा भी नहीं पहनती थी ताकि उसको मेरे कड़क निप्पल्स दिखाई दे जायें. स्कूल गर्ल वीडियो सेक्सीमैं- आज का क्या प्लान है?दीदी- कल रात तुम दोनों ने मजा किया था, आज हम दोनों मजा लेंगी. इस बात पर नीरज ने हकलाते हुए बोला वोअ…वो … तो … मुझे माफ कीजिएगा … गल…लती हो गई.

तुम दूसरे कमरे में क्या करने के लिए गये थे?मैंने अन्जान बनते हुए कहा- अरे हां, मैं तो इसी को ढूंढ रहा था.

हम एक दूसरे से चिपक कर करीब 10 मिनट तक ऐसे ही लेटे रहे, फिर एक दूसरे से अलग हुए. फ़िल्म शुरू के कुछ देर बाद मैंने देखा कि मम्मी की शर्ट अधखुली हो गई थी. सेक्सी भाभी की चुदाई की कहानी के अगेल भाग में पढ़ें कि क्या मैं अपनी प्यासी चूत ड्राईवर से चुदा पाई?[emailprotected]कहानी का अगला भाग:ऑटो ड्राइवर ने सारी रात चोदा-2.

फिर आख़िरकार उसने एक चुंबन मेरी फुदी के होंठों पर भी छोड़ दिया और फिर मेरी फुदी को नोच नोच कर चूसने लगा. और मैं अपनी छाती और पेट पर वसुंधरा की नारी-देह से उठती तीव्र ऊष्णता सहित वसुंधरा के जिस्म में तरंगित होती मदन-तरंग के और अपनी नासिका … जोकि वसुंधरा की छातियों के ऊपर ऐन सीध में थी … में समाती वसुंधरा की छातियों में से उठती सहमतिपूर्वक अभिसार के पूर्व उठती स्त्री-देह की ख़ास नशीली गंध का जी भर कर रसपान कर रहा था. बैंक में उसके केशियर ने बताया कि उसका भी ट्रान्सफर मेरठ हो गया है और उसे जल्दी ही जाना है.

दूध्वली सेक्सी

कुछ देर घंटी जाने के बाद मेरे भैया ने फोन उठाया, तो परमीत ने ‘भैया नमस्ते कहा’ और बोला कि दीदी आपसे बात करेंगी. मैं समझा कि कहीं स्कूल में किसी से तू तू मैं मैं हो गयी होगी तो प्रीति कुछ गुस्से में होगी. मैं भाभी के बताए फ्लैट नम्बर पर चला गया … वहां जाकर मैंने जैसे ही बेल बजायी, एक 32 साल की खूबसूरत भाभी सामने आई.

उसने कहा- नहीं सर … ऐसा मत करो!मैंने कहा- क्यों? मजा नहीं आ रहा?तो उसने कहा- नहीं सर … ऐसी बात नहीं है … पर ये सब कुछ जल्दी नहीं है?मैंने कहा- प्यार करने के लिए कोई जल्दी नहीं होती है, आज नहीं तो कल होना ही है, तुम सोचो मत … बस मजा लो और मुझे भी मजा दो.

अपनी गोल गोल गांड को मटकाते हुए वो ऐसे चल रहा था जैसे तेंदुआ मस्ती में झूमता हुआ जा रहा हो.

मैंने दीदी की गीली पैंटी निकाली और उसको मुंह पर लगा कर लंड को रगड़ने लगा. चाची की गर्म सिसकारियां उम्म्ह… अहह… हय… याह… कमरे में भरने लगी थीं. सेक्सी ओपन बीपी मराठीवो आज अपनी जवानी के दिनों की सोची हर फंतासी को पूरा करना चाह रही थी.

मैं आवेग में कह गया।प्रीति के शब्दों में:मैं अपने भाई की आंखों में देख रही थी। मैं सच में उसकी ओर बहती जा रही थी। ऐसी तारीफ मेरी किसी ने नहीं की। उसके द्वारा मेरे होंठों की तारीफ़ ने तो मेरे अंदर हलचल पैदा कर दी थी। मैं उसकी आंखों में अपने लिए चाहत देख पा रही थी। जी हाँ … जिस्मानी चाहत।मगर विशाल की बातें उससे थोड़ी अलग थीं. उसने पहले मेरे घर का नम्बर मिलाया क्योंकि मेरे घर ही ज्यादा दबाव रहता था. मुझे किसी भी प्रकार से मजा नहीं आ रहा था, बहुत ज्यादा दर्द हो रहा था क्योंकि उसका लंड बहुत ही मोटा और तगड़ा था।उसको बर्दाश्त कर पाना मेरे बस के बाहर था.

मैंने जल्दी से प्रिया भाभी के बदन से सारे कपड़े एक एक करके उतार दिये. मैंने उनके चेहरे को अपने हाथों से सामने किया और उनको एक लिप किस कर दी.

एक दिन वो ग्रुप स्टडी के लिए मेरे घर आई थी। हम दोनों पढ़ाई कम और इधर उधर की बातें ज्यादा कर रहे थे।यार तेरा भाई बड़ा डैशिंग है.

भाभी का नाम सपना था (बदला हुआ नाम) उसने तीन मैसेज में लिख कर मुझसे कुछ जानना चाहा था. पर अंकल ये चूत को एक बार लंड मिल गया, तो इसको हमेशा लंड की खोज रहने लगी है. अब जब उससे मिलने का मौका मिलेगा या कोई और सच्ची घटना घटेगी तो आप लोगों को जरूर बताऊंगा.

अंग्रेजों के जमाने की सेक्सी करीब 5 मिनट बाद वो मुझे पलंग से नीचे ले गए और मेरे पीछे आ गए और मेरी कमर पकड़ के पूरा लंड उतार दिया मेरी प्यासी फुद्दी में! और मेरी गोरी गोरी पीठ को चूमते हुए मेरी चुदाई करने लगे. मैं कॉलेज के प्रथम वर्ष के अंतिम दिनों में थी, सुडौल बदन और ललचाती जवानी थी.

आह आह करती स्वीटी आंटी अपने हाथों से मेरे सर को अपनी चुत में और भी जोर से दबाते हुए सीत्कार भरने लगीं. तब मुझे भी बहुत मजा आ गया और मैं भी आवाज निकालने लगा ‘आ … आह …स्श्सस …’ और मजे लेने लगा।फिर उन्होंने मेरी चड्डी के ऊपर से ही मेरे लंड को किस किया. उसके जिस्म के साइज़ की बात करूं, तो दीदी की ब्रा की साइज़ 95 सेंटीमीटर की और पैंटी शायद 100 सेंटीमीटर की थी.

प्रीति जिंटा की सेक्सी

खैर, वो इश्क ही क्या जिसको मंजिल मिल जाये!समाज के एक तबके को लगता है कि गांडू केवल गांड मरवाने के शौकीन होते हैं. तभी मेरे दोस्त ने एक लड़की से पूछा- प्रीति कहां है?उस लड़की ने कहा- बस वो आ रही है. मैंने पूछा- नंबर कहां से मिला?उसने बताया- दीदी के मोबाइल से चुराया.

मेरा लंड आकार लेने लगा … जिसे देख कर चाची की आंखों से वासना टपकने लगी. इस गर्म सेक्स स्टोरी में आपको मजा आ रहा है या नहीं? मुझे निम्न इमेल आईडी पर मेल करें.

जैसे उसने हबी शब्द लिखा, मैंने एक पल की भी देर न की और बिना कुछ बोले जाने को तैयार हो गया.

मैं अपने ख्वाबों के राजकुमार संदीप की जिंदगी में खुशियों की बहार मांगने गई थी. उसके बाद उसने मुझे बेड पर लिटा दिया और मेरे पूरे बदन को किस करने लगा. मैं तत्काल वसुंधरा के सामने की सीध में आया और अपने घुटनों पर हो गया.

मेरा दिल जोरों से धड़क रहा था, क्योंकि मैं बहुत बड़ा कदम उठाने जा रहा था. उस तरह से मैंने अपनी पड़ोसन चाची के तीनों छेद चोद कर उन्हें पूरी तरह से अपनी बना लिया।कुछ देर आराम से लेटने के बाद मैंने चाची से कहा- चाची, मुझे 69 पोजीशन में सेक्स करना बहुत पसंद है. मैं मन में सोचने लगा माय गॉड … कोई टाइम का इतना पक्का कैसे हो सकता है.

हे भगवान, तूने वो फोटोज देखे तो नहीं?” मेरी बात पर वो मूक बना खड़ा था।बोल, बोलता क्यों नहीं… ” मैंने गुस्से से पूछा.

बीएफ हिंदी बीएफ फिल्म: ड्राइवर ने भी मेरी कमर को पकड़ते हुए नीचे से एक झटका लगा दिया जिससे उसका मोटा और विशाल लंड मेरी फुदी के भीतर तक समा गया. आपने मेरी शैदाई बन चुकी गीत की कलम से इस सेक्स कहानी के पिछले भाग में पढ़ रहे थे.

एक बार अपने दोस्त की बात याद करके मैंने सोचा कि क्या पता मेरे दोस्त की ये बात सच हो कि ऋतु दीदी का किसी से घर में ही कोई चक्कर हो … या उसका कोई ब्वॉयफ्रेंड हो. अगले कुछ ही पल में मेरा भी पानी निकल गया और मैंने सारा माल भाभी की गांड पर बाहर निकाल दिया. मेरे बहुत ज़ोर देने पर भी जब वो नहीं मानी, तो मैंने सोचा जाने दो … आज पहली बार ही तो है … दूसरी बार कैसे भी करके चाची की गांड भी मार लूँगा.

धीरे-धीरे उसके पेट पर चूमते हुए मैंने उसकी चूचियों को मुंह में भर लिया.

इस बात को कमीनी परमीत ने दूसरे तरीके से लिया और दोहराते हुए कहा- अच्छा जो भी करेंगे!इस पर दीदी हंस पड़ीं और मनु शरमा गई. आलिया ने अपनी आंखें खोल दीं और मैंने उसी समय गुलाब आगे करके प्रपोज कर दिया. दोस्तों क्या गांड थी, पीछे से चुदाई करने में इतना मज़ा आ रहा था कि बस मन कर रहा था कि इसको जीवन भर ऐसे ही चोदूं … कभी अलग ना होऊं.