मूवी की बीएफ

छवि स्रोत,बीपी सेक्सी वीडियो दीजिए

तस्वीर का शीर्षक ,

हॉट सेक्सी वीडियो पंजाबी: मूवी की बीएफ, जैसे ही वसुन्धरा अपना बैग लेकर कार से उतरी तो मैंने कहा- अच्छा … वसुन्धरा जी!क्या मतलब?”मैं चलता हूँ वसुन्धरा जी! मैंने बहुत दूर जाना है.

गूगल हिंदी ब्लू फिल्म

फिर मैं धीरे धीरे धक्के देने लगा और अब अपने मुँह से उसकी चुची को ऊपर सही से चूसने लगा. मोटी चुत की फोटोपहले तो मुझे उनको देख डर लगने लगा कि ये तो मेरी चूत का कीमा बना देगा.

जब भी मैं उनके रिश्ते की लड़कियों की चुदाई करता हूं, तब मैं उनको अलग से ले जाकर उनकी ठुकाई करता हूं. चोदा चोदी वाला बीएफ सेक्सीउन्होंने मुझे सीधा लिटा दिया और मेरे लंड पर अपने कोमल हाथों से तेल मल दिया.

थोड़ी देर चूची मसलने के बाद मैं अपना हाथ उसके पेट से होते हुए उसके लोवर के अन्दर ले गया और उसकी चुत को सहलाने लगा.मूवी की बीएफ: फिर भी कंट्रोल करते हुए मैंने अपने अंगूठे को बहन की गांड के अन्दर डालते हुए कूल्हे पर दांत गड़ाना शुरू कर दिया। पर वो ब्राउनिश छेद मुझे बेचैन किये जा रहा था। शुभ्रा अब अपना सब दुख दर्द भूलकर उसी पोजिशन में खड़ी रही और स्स.

”अंकल बहुत ही नॉटी बातें कर रहे थे और अब तो मेरी तरफ से भी उन्हें ग्रीन सिग्नल मिला था.मैं भी चूतड़ उठाते हुए लंड पेलने की कोशिश करता हुआ बोल रहा था- आह मेरी संगीता डार्लिंग … मेरा ये लंड भी पहली बार किसी की बुर में गया है.

जानवरों की बीएफ फिल्म - मूवी की बीएफ

हमने एक दूसरे से अपने मोबाइल नंबर ले लिए थे और अब हम दोनों व्हाट्सैप पर भी एक दूसरे से जुड़ गए थे.मैं धीरे से अपना एक हाथ ले जाकर शोना के चेहरे पे चलाने लगा … उसने भी अपना हाथ बढ़ाकर मेरे चेहरे पे रख दिया और मैं उसकी उंगलियाँ मुँह में लेकर चूसने लगा.

मेरी जब शादी हुई, उससे पहले भी मैं अपने एक ब्वॉयफ्रेंड से चुद चुकी हूँ. मूवी की बीएफ उससे बातचीत शुरू होने पर पता चला कि वह मेरे शहर सीतामढ़ी की रहने वाली है और उसका नाम मीना है.

आप लोगों को तो पता ही है कि गांव में लोग अक्सर जल्दी खाना खा पीकर सो जाते हैं.

मूवी की बीएफ?

मेरे लंड के इस तरह से उतार-चढ़ाव को देखते हुए नम्रता होंठ को गोल करके सीटी बजाते हुए हंसने लगी. मैंने जैसे ही लण्ड का सुपारा चूत के छेद पर लगाया, दीपिका ने अपनी आंखें बंद कर लीं और नीचे का होंठ दाँतों से दबा लिया. फिर उन्होंने कहा- आज तू अपनी चूची बाहर निकाल, ब्रा की जगह सीधे उसी पर माल गिरा देता हूँ.

उस मस्त कामवाली के इतना करने के बाद मैं उसके साथ चिपक गया और उससे कसकर लिपटकर बिस्तर पर रोल करने लगा. मेरे दोस्त की बीवी का दूध जैसा सफेद जिस्म होटल के उस कमरे की चकाचौंध भरी लाइट में इतना जोर से चमक मार रहा था कि ऐसा लगा कि सामने कोई अंग्रेज विदेशी महिला नंगी हो रखी हो. वह मेरे होंठों के रस को ऐसे चूसने लगा जैसे एक भंवरा शहद को चूसता है.

आह्ह … बस!” जूली के मुंह से निकला।मैंने तुरन्त ही अपने आपको काबू में किया और रुक गया और फिर धीरे-धीरे करके लंड को उसकी चूत के अन्दर पेवस्त किया। मैं उसके ऊपर लेट गया और उसकी चूची को अपने मुंह में भर लिया।आमिर, तुम बहुत अच्छे हो। मैं आज दुनिया के सब सुख पा गई!” जूली के मुंह से आनंद के सीत्कार बहने लगे. हार कर मैंने अपना बायां हाथ वसुन्धरा के पीछे की ओर से लहँगे के अंदर डाल दिया. मेरे साथ हुई ये घटना सत्य है इसलिए मैंने ऐसे शब्दों का प्रयोग किया.

दस मिनट तक उसके होंठ चूसने के बाद मैंने उसको गोद में उठा लिया और बेड पर पटक दिया. शाम को वह करीब 08:00 बजे आई और उसे वापस जाने में रात के 10:30 बज गए.

उसने कहा- तुझे भाभी को चोदना है, तो अन्तर्वासना पर कहानी पढ़, वहां पर ऐसी बहुत सी सच्ची कहानी हैं.

मेरी भी लाज शर्म अब उतार गई थी, तो मैंने भी अपनी उंगलियों से मेरी चुत की पंखुड़ियां खोल कर अन्दर की गुलाबी गुहा उनको दिखाने लगी.

फिर मैंने कपड़ा बोला तो उसने चूतड़ टिका कर गांड ऊपर उठा दी और मैंने लंड पूरा निकाल कर उसकी चूत में पूरी ताकत से मार दिया. मेरे पैर राज की कमर से उतर बिस्तर पर इस तरह गिर पड़े जैसे पेड़ से कोई शाखा टूट गयी हो. हालांकि नम्रता की चूत भी लसलसी हो चुकी थी, फिर भी माल अभी बाहर नहीं निकला था.

चूचियों को दबाने का इरादा तो मैंने छोड़ दिया मगर अभी इतना कंट्रोल नहीं हो पाया था कि मैं उससे अलग हो जाऊं. भार्गव बोला- अरे पार्किंग में बहुत अंधेरा है … तुम अकेली कहां जाओगी. मम्मी बोलीं- वो ब्यूटीपार्लर में पार्ट टाइम काम करने लगी हैं, शायद वहीं गई होंगी.

फोन बंद करने के बाद दीपिका ने मुझे झप्पी डाली और बोली- मेरे दिल के राजा मेरे साथ हैं, अब काहे का डर?दीपिका उठी और बोली- अब हम सुबह 7 बजे तक फ्री हैं, मैं खाना लाती हूँ.

मैं यूनिवर्सिटी से दो पीरियड छोड़कर 10:30 बजे निकल लिया और ठीक 11:00 बजे घर पर पहुंच गया. मीरा ने आज एक सुन्दर सी नाइटी पहनी थी और वो पूरी तरह से चुदाई का मजा लेने के लिए तैयार थी. ”तू साली कुतिया बन जा, मैं कुत्ता बन के तुझे कैसे चोदता हूँ देख तू.

जब मैं अगले दिन ऑफिस गया, तो मेरा एक दोस्त बोला कि उसे ऑफिस के काम से कुछ दिनों के लिये बाहर जाना है और 3 दिन बाद उसके माता पिता आने वाले हैं, तो वो घर बंद करके नहीं जा सकता. डॉक्टर- क्या सेक्स करने के बाद तुम बैठकर पढ़ती हो, तो क्या तुम्हारा ध्यान भटकता है? दोबारा सेक्स की तरफ जाता है?मैं- जी डॉक्टर, मैं सेक्स करने के बाद तो खूब दिल लगा कर पढ़ती हूँ और मेरा ध्यान इधर उधर नहीं भटकता है. डगशाई पहुँच कर वसुन्धरा मुझे रास्ता बताती गयी और हम लोग एक घुमावदार और सुनसान सी सड़क के सिरे पर स्थित वसुन्धरा के कॉटेज पहुँच गए.

उन्होंने लंड बाहर निकालने की कोशिश की, पर मैं भी बहुत बड़ा चोदू हूँ, तो मैंने भी भाभी की मुंडी कसके पकड़ ली और उनको सर हटाने ही नहीं दिया.

उसकी आँखों में चमक थी।कुछ भी हो मैं उससे प्यार बहुत करता था; मैंने हाथ आगे ले जाकर उसके हाथों को पकड़ा और चूम लिया।तब तक वेटर आ गया आर्डर लेकर। हमने एक दूसरे से बात करते हुए डिनर किया। वो बार-बार डांस फ्लोर की तरफ देख रही थी जहाँ कपल्स डांस कर रहे थे। मैं उठा और रोमांटिक अंदाज में उसका हाथ पकड़ के डांस फ्लोर पर ले गया।हमने थोड़ा डांस किया। वो बहुत खुश थी। फिर हम वहाँ से निकल गए. फिर पांच मिनट बाद मैं उसके गेट के अन्दर घुस गया और दरवाजे को जैसे ही हल्के से थपकी देकर खटखटाया, सामने मेरी जान नग्न अवस्था में खड़ी बेहद खूबसूरत और चॉदनी रात की हूर लग रही थी.

मूवी की बीएफ उसे थोड़ा दर्द हो रहा था। लेकिन मुझे बडा मज़ा आ रहा था। वो भी मुझे सहयोग कर रही थी। फिर मैं उसकी गांड में झड़ने ही वाला था कि चाची ऊपर आयीं और दरवाजा खटखटाया. मेरा मानना है कि यह एक ऐसा मंच है जहाँ पर हम अपने मन की बात आसानी से शेयर कर सकते हैं क्योंकि सेक्स संबंधी बातें अक्सर घनिष्ठ मित्रों के साथ शेयर करने में भी कई बार संकोच पैदा होता है.

मूवी की बीएफ नम्रता- अच्छा, अब मैं भी तुम्हारे लंड को सूंघकर देखती हूं कि मुझे मदहोश कर पाता है कि नहीं. सोनल उठकर राधिका के पास चली गई और नीचे झुककर अपनी भाभी राधिका की चुत चाटने लगी.

मैं उसको फिर तेज तेज चोदने लगा और कमरे में हम दोनों की सिसकारियां गूंजने लगीं.

सेक्सी वीडियो सनी लियोन का बीएफ

और उसके बाद मेरी नज़र मेरी बेटी की कोमल चूत पड़ी जिस पर एक भी बाल नहीं था. अब आशीष को क्या पता था कि मैं रियल में ही अपने जीजा का लंड चूसने में लगी हुई हूं. जब मैं आगे की तरफ नहीं हो पाया तो वो पलट कर सीधी हो गई और मैं उसके ऊपर आ गया.

ऐसा लग रहा था, उसकी बुर मेरे लंड को औऱ अन्दर तक खींच रही थी और मैंने अपनी पूरी जान अपने लंड के रास्ते उसकी बुर में जैसे लबालब भर दी. नम्रता- अच्छा तुम बताओ अपनी खुशी का राज?उसके हाथ को अपने हाथ में लेते हुए मैं बोला- जान, मेरी खुशी में तुम्हारी खुशी छिपी है. मैंने अपने मोटे लंड वाले जीजा के साथ कुल मिलाकर 4 बार सेक्स किया था.

दूसरा यह कि एक औरत जो खुलकर मस्त होकर सेक्स अपने प्रेमी से करती है.

उस दिन मैं पूरा मन बना चुका था कि आज तो चाची की चूत का रस पीना ही है. थोड़ी ही देर में मौसी के निप्पल कड़क हो गए, तब लगा कि यही मौसी की वासना जगाने का सही वक्त है. अब मेरे अंदर थोड़ी हिम्मत आ गयी थी और मैंने भाभी को बात करने के लिए रोक लिया.

वह मेरे होंठों के रस को ऐसे चूसने लगा जैसे एक भंवरा शहद को चूसता है. दीपिका ने फोन उठाया और स्पीकर ऑन करके बोली- हाँ संजना, कैसी हो?संजना- तुम बताओ, सब सेटिंग हो गई?दीपिका- हाँ, सब हो गई. मेरी कहानी आपको पसंद आयी या नहीं, मुझे आपके कमेंट्स का इन्तजार रहेगा.

”अब चल भाई शाम के 6 बज गए, घर जाता हूँ, रात में मिलते हैं … ठीक 8 बजे ग्राउंड में बेडमिंटन खेलेंगे. आपको कल सुबह आठ बजे ऑफिस भी जाना है ना!पिता जी को ये याद आया, तो वो भी उनकी हां में हां मिलाते हुए हाथ धोने चले गए.

आपने मेरी पिछली इन्सेस्ट कहानीचचिया ससुर से चूत चुदाई औलाद के लिएपढ़ी. सारा को समझ आ गया था कि दिलिया की चूत की चाबी उसके ओंठ और जीभ है और उसे इस तरह से किस करने लगी. मैंने तुरंत सभी सामान किनारे कर दिया और सुमन को खींचकर कमरे के बीच में ले आया और एक झटके में उसका गाउन उतार फेंका, वो केवल चड्डी में ही थी क्योंकि उसने ब्रा नहीं पहनी हुई थी.

मैंने आज जानबूझ कर मीता से बात कहते हुए सेक्स शब्द का इस्तेमाल किया था.

तभी मुस्कान ने भी मेरा लंड मुंह से निकाल दिया और ‘उफ्फ उन्हह उन्ह उई मैं गयीईई ईईईई …’ ऐसे करती हुई झड़ने लगी. मैंने भी उसको ज्यादा जोर जबरदस्ती नहीं की … और उसको डॉगी स्टाइल में आने के लिए बोला. वो मेरा पूरा साथ दे रही थी।रात के 11:30 बज रहे थे। यह रास्ता शहर के बाहर हो कर जाता था, बिल्कुल सुनसान था। मैं बीच सड़क पर अपनी बहन के होंठ चूस रहा था। क्या मस्त अहसास था।कुछ देर के बाद उसने मेरे होंठ छोड़े.

अब मैंने अपना छह इंच बड़ा लंड दीपाली की चुत के मुँह पर रखा और अन्दर डालने की कोशिश की, पर सिर्फ मेरे लंड का सुपारा ही उसकी चुत में घुस पाया. दो मिनट बाद ही मेरे लंड से वीर्य की धार निकली और शुरू का कुछ वीर्य उसके मुंह में गिरा और बाकी का उसके बूब्स पर।मैरी के गोरे गोरे बूब्स पर मेरा सफेद वीर्य गिरा तो वो उसको दोनों चूचियों के बीच में रगड़ने और मसलने लगी.

मलाई जैसे लेस की एक बड़ी बूंद टोपे के छेद से निकली जिसे उसने जीभ से उठाया और पी लिया. अब तक इस सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि नम्रता और मैं, हम दोनों अपने अपने पार्टनर के साथ रात को चुदाई कर चुके थे. नम्रता अब तेज गति के साथ धक्के लगाती जा रही थी, जितनी तेज वो धक्के लगा रही थी, उतना ही मुझे मजा आ रहा था.

बल्लू सेक्सी फिल्म

वो इतने मदमस्त तरीके से मेरी गांड को चाट रहा था, जैसे कोई कुत्ता चाट रहा हो … उफफ्फ.

काजल का हाथ पैन्ट पर महसूस होते ही मेरा लंड ताव में आ गया और विकराल रूप में आने लगा. ये सब सोच कर इस बार मैंने ठान लिया था कि अब मैं भाभी को चोद कर रहूँगा. ऐसी धमाकेदार चुदाई और चरम आनंद प्राप्ति के बाद नींद आ जाना स्वाभाविक ही है.

फिर उसने कहा- अगले हफ्ते मेरे पति मेरी सासू माँ को दिल्ली के हॉस्पिटल में लेकर जाना है, तुम मेरे घर पे मिल लो. मेरी बात पर हीना ने कहा- तो क्या हुआ सर … आप मेरे अन्दर ही समा जाइए न … बाकी मैं संभाल लूंगी. मां बेटे की सेक्सी बीएफ देहातीउन्होंने मेरे दोनों हाथों को पीछे ले जाकर अपने हाथ से पकड़ लिया और दूसरे हाथ से फिर मेरी चूत को छेड़ना शुरू कर दिया.

मैं तो गर्म हो चुका था मगर शिखा भी अब गर्म होने लगी थी और उसको खाना बनाने में परेशानी होने लगी. फिर मैं फ्रेश हुई और एक शॉर्ट गाउन निकाल कर उससे बोली- वंश मैं ये पहन लूँ?वंश बोला- मम्मी, आप तो लेडी की जगह गर्ल बन के रहने लगी हो.

मैंने पीछे मुड़ने की कोशिश की, लेकिन तेरे पति ने मुझे अपनी बांहों में जोर से जकड़ा हुआ था. उसके बाद जब तक चांदनी भाभी नॉर्मल नहीं हो गयी मैं उसको किस करता रहा. कुछ पहले से ही सूजन थी ऊपर से जूली की कसी हुई चूत और साथ में सारा की चुदाई करके लंड लाल गाजर के जैसा हो गया था.

मैंने जल्दी से अपने अंडरवियर को नीचे किया और उसकी चूत पर लंड लगाकर उस पर पूरी तरह से लेटते हुए उसके होंठों को चूसने लगा. लेकिन थोड़ी देर बाद कंचन ने कहा- सारा मज़ा अपनी चाची को ही दोगे?तो मैंने चाची से कहा- अब इसकी हवस ही मिटा ही देता हूँ।फिर मैंने कंचन के ऊपर उल्टा लेटा जैसे मेरा मुँह उसके पैरों की तरफ हो जाये. मैंने अपने हाथों की एक बार फिर हरकत की और उसके गोल कूल्हे को बारी-बारी से दबा दिया.

तो मैंने अपने लंड कंचन की गांड से निकाल कर उसके ही मुंह में दे दिया और चाची को मेरे मुंह पर चुत रखने को कहा.

उनका दूध सा गोरा बदन देख के मुझे विश्वास ही नहीं हो रहा था कि वो मेरे सामने ऐसे खड़ी हैं. मैंने सुना था कि दिल्ली में लड़कों के साथ में रिलेशन बनाना काफी आसान होता है जबकि इसके विपरीत हरियाणा में किसी लड़के को पटाना काफी मुश्किल होता है.

उसने मेरी एक ना सुनते अपना लंड मेरी गांड में लगा दिया और डालने की कोशिश करने लगा. उसने इस मौके का पूरा फायदा उठाया और अपना लंड मेरी चूत में पेल दिया. उसकी चुत पर हाथ लगते ही वो सिटपिटा गयी और मुझे धक्का देकर खुद को मुझसे आज़ाद कर लिया.

बाप बेटी दोनों एकदम सामान्य लग रहे थे जैसे कुछ हुआ ही ना हो!आज रविवार था तो सब घर पर ही रहने वाले थे. मैं मौसी के दोनों चुचियों पर बारी बारी से लगा रहा, जिस वजह मौसी की सिसकारियां धीरे धीरे बढ़ने लगीं. लोग सच ही कहते हैं कि सेक्स के खेल में आदमी एक बार घुस जाए, फिर उसको इसके अलावा किसी चीज़ का मज़ा नहीं आता.

मूवी की बीएफ मेरी चूत पर थोड़े थोड़े बाल थे, जिससे उसके चूत चूसते समय उसको मेरी रेशमी झांटें और भी मजा दे रही थीं. फिर उसने अपनी पैंटी धीरे से उतार कर उसी से अपनी बुर को पोंछ लिया और अपनी पैंटी को अपने हैंड बैग में रख लिया.

बीएफ पिक्चर दिखलाइए

मैंने पूछा- क्या तुम्हें यह सब करना अच्छा लगता है?बिन्दू कुछ नहीं बोली. वो तो वहाँ कभी-कभी ही आता है, अब मोनी भी वहाँ पर नहीं रहेगी तो गांव का घर तो पहले ही नहीं रहा, अगर रायपुर में थोड़ी बहुत जगह है वो भी छिन जायेगी तो फिर मोनी कहाँ जायेगी. कभी-कभी छिप कर अपने जिओ वाले फोन में चुदाई वाली ब्लू फिल्म देख लेती पर शांति नहीं मिलती.

मैं शलाका को ज्यादा से ज्यादा मजा देकर खुद भी ज्यादा से ज्यादा मजा लेना चाहता था इसलिए बहुत ही धीरे-धीरे घुसा रहा था. लेकिन उसके अलावा और कोई ख्वाहिश हो तो बताओ, जैसे बियर या दारू … वाईन. हिंदी ब्लू फिल्म फोटोएक क्षण … मात्र एक पल और … और सब स्वाहा!फिर न तो राजवीर बचता, न वसुन्धरा बचती और न ही बचती कोई सामाजिक वर्ज़ना.

मैं झड़ने ही वाला था, मैंने दीपाली से पूछा- कहां निकालूँ?दीपाली बोली- ये मेरा पहला सेक्स है, तू अपना माल मेरी चुत में ही निकाल कर भर दे मेरी चुत को.

वो फिर से गर्म हो गयी और लण्ड को जोर जोर से हिलाते हुए बोली- मनमीत, जल्दी से डाल दो … अब इंतजार नहीं होता!फिर उसको सीधा लिटा कर जैसे ही उसकी चूत पर लण्ड लगाया, वो फिर से सिसकारने लगी. उसे शायद बहुत जोर से जलन हो रही थी लेकिन वह कसमसा कर रह गई लेकिन कुछ नहीं कहा.

बस उसका इतना कहना ही था कि मैंने आव देखा न ताव लंड को गांड में एक ही झटके में पेबस्त कर दिया. मुझे औरतों का आत्म सम्मान कुचल कर उन्हें चोदने में बहुत मजा आता है. फिर उसके भगनासा पर अपनी जीभ चलाते हुए उसकी फांकों को भी चाटता और उसके अनारदाने को चुटकियों से मींजते हुए अपने लंड को भी मसल देता.

क्या उसका भी पहली बार है?मीता- हांमैं- उसने कभी किस करते हुए तुम्हारी चूची दबाई है और तुमने उसका लंड पकड़ा है?मैंने जानबूझ कर एक कदम आगे जाकर लंड चूची जैसे शब्द बोले.

मगर जिन्दगी में फिर से घुमावदार मोड़ मेरा इंतजार कर रहा था जो मुझे मेरे अतीत की तरफ वापस मोड़ ले गया. वो वहां मुझे छोड़ने आया … और फिर मैंने तुषार को एक किस किया और एक्टिवा लेकर घर जाने को निकल गयी. आज मैं अपनी कार सेक्स पोर्न स्टोरी वहीं से शुरू करती हूँ जहां मैंने अपनी पिछली सेक्स कहानी ख़त्म की थी.

ब्लू फिल्म भेजिए ब्लू फिल्म भेजिएवो बोली- अर्पित मैंने अपना सब कुछ तुम्हें दे दिया है, अब मुझे छोड़ना मत!मैंने बोला- नहीं अदिति, मैं तुमसे शादी करना चाहता हूँ, बोलो तो कल ही अपनी माँ पापा को तुम्हारे घर भेज दूँ. मुझे भी काफी आग लगी थी, उसकी चूत के चिकने पानी से मेरा लंड बड़ी तेजी अन्दर बाहर होने लगा था.

ब्लू फिल्म ट्रिपल सेक्स

भैया भी बहुत बड़े चुदक्कड़ थे, पर फिर भी भाभी बहुत ही चंचल और कुछ नया करने की शौकीन थीं. वैसे तो वसुन्धरा से मुझे कुछ ख़ास उम्मीद नहीं थी लेकिन इंसानी ख़्वाहिशों और कल्पनाओं का कोई ओर-छोर तो होता नहीं. मैं चूंकि बिल्कुल नंगा ही सोया था, तो माँ ने मुझे खड़ा किया और बाथरूम में ले जाकर मुझे नहलाने लगीं.

मेरी कहानी आपको पसंद आयी या नहीं, मुझे आपके कमेंट्स का इन्तजार रहेगा. क्योंकि औरतों के अंदर आज भी पति के साथ सेक्स करते वक्त थोड़ी शर्म रहती है. यह रस भरी चुदाई स्टोरी जब अपने चरम पर पहुंचेगी, तब आपको खुद ब खुद अपने आइटम पर हाथ ले जाना ही पड़ेगा.

मेरी बंद आंखों को उनके होंठों का स्पर्श महसूस हुआ, मेरे नाक को हल्के से काटकर उन्होंने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिये. थोड़ी देर बाद भाभी के घर में मुकेश जाता हुआ दिखा, मुझे समझ आ गया कि भाभी ने मुझे घर क्यों भेज दिया था. लगता है मुझको तो निचोड़ ही डालोगे … और ठरकी कहीं के! निशा कोई लड़की नहीं है.

दो खाटों की वजह से पूरा लंड उसकी चुत में डालना मुश्किल हो रहा था … इसलिए बस लंड का अगला हिस्सा ही अन्दर जा पाया था. आकार भले ही कम था परन्तु बिल्कुल ‌कसी हुई और स्पंज के जैसी एकदम गुदाज थी। ऐसा लग रहा था जैसे कि मेरे हाथ में कोई रबड़ की‌ बॉल आ गयी हो जिसको मैंने पहले तो हल्के हल्के सहलाया फिर थोड़ा जोर से मसलना शुरू कर दिया जिससे मोनी अब फिर से कसमसाने लगी।मोनी की चूची को मसलते हुए मैंने अपने हाथ को अब उसके गले के पास से अन्दर भी घुसाने की कोशिश की किंतु मोनी ने अपने हाथ से गले के पास से सूट को दबा लिया था.

”मेरी मम्मी शुरू हो गयी। पहले लण्ड को हाथ में पकड़ा, जांघों को चूमा, लौड़े को ऊपर से नीचे तक चाटा और फिर मुंह में ले लिया।मैं अपनी चुचियाँ दबवाते हुए देख रही थी कि मेरी माँ घुटनों पे थी, झुकी हुई लण्ड चूस रही थी।अंशु बोली- कैसे मज़े लेके चूस रही है। मस्त माल है तेरी माँ! चूतड़ देख … चौड़े, चिकने और गांड भी टाइट लग रही है। चूत को भी एकदम चिकनी कर के रखती है.

मैं बोला- तो तुम हमें चुदाई करते देखती हो, तो तुम्ह़ारा मन नहीं होता?इस पर वो शर्मा गई. ट्रिपल एक्स हिंदी फिल्मकौन मूर्ख होगा, जो ऐसे ऑफर को ठुकराएगा, पैसा भी मिल रहा था और चूत भी दमदार थी. मराठी सेक्सी ओपन सेक्सकरते हुए नम्रता मेरे लंड को चूसने लगी और इसी बीच मैं और उसके पतिदेव दोनों एक साथ खलास हो चुके थे. दीदी ने धीरे धीरे मेरे लंड पे हाथ घुमाना शुरू किया, पहली बार कोई लेडी मेरे लंड को छू रही थी तो मुझे तो एकदम स्वर्ग सा लग रहा था.

एक दिन सीमा जी ने कहा- मुझे इस तरह छिप कर मिलना अब अच्छा नहीं लगता, हमें शादी कर लेना चाहिए.

फिर मैं अपने कमरे में आया, तो वो मुझसे बोली- मैं कहां सोऊंगी?मैंने उससे कहा- इसी बिस्तर पर. जैसे ही मेरा लंड अन्दर गया, उसके चूत के पानी से वह एकदम मखमली हो गया और आराम से उसकी चूत में सरक गया. दो चार मिनट ऐसा ही चलता रहा, फिर मैंने ही अंकल को जोर से पीछे धकेला और खांसने लगी.

मेरी साँसें तेज़ हो चली थीं और माथे पर पसीने की बूंदें झलक आईं थीं. हालांकि पहले मैंने ये कभी नहीं सोचा था कि मैं अपने मामा के बेटे के साथ सेक्स करूंगी. इस धक्के के कारण मेरा लंड एक चौथाई से भी ज्यादा अंदर तक उसकी चूत में चला गया था.

बीएफ सेक्स पेज

वहाँ बस अड्डे पर अनिल की सास अपने बेटे के साथ हमारा इंतजार कर रही थी. इतने में शिखा की चूत ने पानी छोड़ दिया और मेरा मुंह उसकी चूत के पानी से भीग गया. ”अंकल अपनी पहली चढ़ाई कर चुके थे, उन्होंने मेरी कमर को पकड़ के मुझे बेड के किनारे के एकदम करीब खींचा और मेरी चुत में किस की बारिश शुरू कर दी.

मैंने कहा- जानू, एक बार पीछे की चुदाई भी करने दो प्लीज!वह बोली- गांड की?मैंने कहा- हाँ.

इसलिए जब भी मेरा मन करता था, तो तब कॉलब्वॉय बुला लेती और बहुत एन्जॉय कर लेती.

आखिर चाल बिगड़ती भी क्यों नहीं, जिस बुर में कभी उंगली तक नहीं गयी थी, आज उसमें वो पूरा का पूरा लंड लेकर बैठी थी. मकान मालिक की पत्नी बड़ी ही आकर्षक दिखती हैं, उनका माप 38-32-40 का है. सनी लियोन की चुथनितिन का लंड 20 मिनट तक सीमा की चूत की खुदाई करता रहा, सीमा के कुँए से तीन बार पानी निकलने के बाद ही नितिन के लंड ने पानी छोड़ा.

मेरी नाक को पकड़ते हुए नम्रता बोली- आस मत छोड़ो, पता नहीं कब पूरी हो जाए. मैंने फिर कहा- नहीं यार तुम गलत समझ रही हो … मैं तो सिर्फ ये जानना चाह रहा था कि मेरी बदनामी की आग कहां तक फैली है. तुषार की बात सुनकर मैंने कहा- ठीक है … मैं भी देखती हूँ कि तुममें भी कितना पावर है.

मैंने अपने सर को ज़रा सा झुकाया और अपने बाएं बाज़ू को हल्की सी ऊपर को जुम्बिश दे कर वसुन्धरा के होठों को अपने और करीब कर लिया और अपने जलते-तपते होंठ वसुन्धरा के गुलाब की बंद कलियों जैसे नम और रसभरे होंठों पर रख दिए. मेरे सीने पर एक गर्म चुम्बन किया और फिर मेरे बाजुओं को ऊपर उठाकर मेरी टीशर्ट को निकलवा दिया.

’ये कहते हुए उसने अपने हाथ से मेरे हाथ को पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया.

और कमला चाची भी हमारे घर को‌ अपना‌ मानकर कोई भी जरूरत पड़ने पर मेरी मम्मी-पापा से ही कहती है।मोनी के ससुराल के बारे में मुझे ज्यादा कुछ तो नहीं पता, बस इतना ही पता है कि मोनी की शादी पास के ही गाँव में हुई है. फिर लंड धकापेल पेलने के साथ में मैंने उसके दोनों मम्मों को पकड़ा और मसलते हुए चुदाई करने लगा. जैसे उन दोनों ने मुझसे वादा किया था कि वह मुझे और भी चूतें दिलवा देंगी.

बीएफ सेक्सी पिक्चर चाहिए हिंदी में पर मैंने भाभी को थोड़ी दूर जाकर ही पकड़ लिया और भैया को वहीं पड़े दीवान पर लिटा दिया. मैंने अपनी जुबान से उनकी चुत का दाना भी खींचते हुए चूस दिया, इससे वो बिलबिला उठीं.

कुछ देर के बाद भाभी नीचे आ गई और अपने घर को लॉक करके मेरी गाड़ी में आकर बैठ गई. जब कुछ देर भैया को मेरे ऊपर लेट कर चुदाई करते हुए हो गई तो उसके बाद उन्होंने मुझे उठने के लिए कहा. तभी शुभ्रा ने मेरे हाथ में जोर से चुटकी काट ली जिससे मेरा हाथ स्वत: ही उसके मुंह से हट गया। जैसे ही मैं उसके चुटकी काटने से बिलबिलाया और मेरा शरीर ढीला पड़ा तो शुभ्रा ने मुझे पीछे धकेल दिया। मैं लगभग गिरते पड़ते जमीन की तरफ लुढ़क गया।वो तो अच्छा रहा कि मैंने अन्तिम समय पर अपने आपको संभाल लिया नहीं तो पास पड़ी टेबल से मेरा सर लड़ जाता.

सुहागरात वाली बीएफ सेक्सी

फिर मैंने बोला- मीता बोलो न … क्या तुमने उसका लंड देखा है? या उसने तुम्हारी चूचियों को दबाया है?मीता फिर भी चुप रही. इसके बाद मैंने उसको अपनी खाट पे बुलाया, पर उसके उठकर आकर बैठने से खाट आवाज़ करने लगी. थोड़ी देर बाद मैं काजल की पैन्टी को हाथ में लेकर अपनी नाक के पास ले गया.

उन्होंने चाय पीकर कप टेबल पर रखा और अपना एक हाथ मेरी जांघ पर रख दिया. उसकी फूली हुई गुलाबी चूत को देखकर मेरे लौड़े में फिर से उबाल आ गया था.

मेरी एक छोटी सी लापरवाही जैसे वसुन्धरा के उरोजों पर मेरी सिर्फ एक गर्म सांस या उसकी योनि के इर्द-गिर्द मेरी हथेली की एक हल्की सी रगड़ या उसके कूल्हों पर मेरी उँगलियों का उचटता सा स्पर्श वसुन्धरा को बेक़ाबू कर सकता था … और मैं ऐसा हरगिज़ हरगिज़ नहीं चाहता था.

मेरी बेटी भी आह्ह्ह ह्हह्ह … आय्ह्ह… अय्य्य्ह ह्ह्ह करके हिल रही थी और अब मस्त चुदवा रही थी. तो मीरा ने पलट कर रितेश को उठाया और ज़ोर का चूमा लेकर उसके होंठों को काटते हुए कहा- अभी नहीं, आज रात का इन्तजार करो, आज पूरा मजा मिलेगा. मुझे लगने लगा कि मेरा लंड अगर ज्यादा देर तक चादर से रगड़ खाता रहा तो माल कभी भी निकल सकता है। मैं सीधा होकर शुभ्रा के बगल में बैठ गया.

इस दूसरी बार में जूली की चूत को चोद कर लंड को अबकी बार कुछ ज्यादा सुकून सा मिला. खैर मैंने शुभ्रा की टांगें पकड़ीं और लंड को बहन की चूत के मुहाने से लगाकर अन्दर घुसेड़ने की कोशिश करने लगा। तभी दो बातें एक साथ हुईं. मैं- मजा तब आएगा, जब मैं तुम्हारी चुत का कबाड़ा करूंगा मेरी राधिका रानी.

आज सीमा जी बैंक की जरूरी मीटिंग में शहर से बाहर गई थीं, तो पिंकी पूरी तरह से चुदने का मन बना कर आई थी.

मूवी की बीएफ: मेरे मामा के लड़के को भी समझ आ गया था कि जब वो झगड़ा करते में मेरी चूची दबाता था, तो मुझे भी मजा आता था इसलिए वो जानबूझ कर मेरी चूची बार बार दबाता था. ऐसे मोनू भी झड़ गया।अब हम सभी झड़ चुके थे।हम सभी अब बैड पर आकर बैठ गये.

आई एम् सॉरी …” कहते हुए वसुन्धरा मुझ से अलग़ हुई और बॉथरूम में जा घुसी. आप मुझे नीचे दी गई ईमेल पर मैसेज कर सकते हैं अथवा कहानी के नीचे दिये गये टिप्पणी वाले खाने में अपने कमेंट्स छोड़ सकते हैं. रितेश भी मौके की नज़ाकत देख कर तेज़ी से धक्के लगाने लगा और करीब 10-15 मिनट की चुदाई के बाद दोनों झड़ गए.

एक दिन हम दोनों घर में अकेले थे और एक दूसरे से बातें करते करते हम दोनों लोग सेक्स वाली बातें करने लगे.

तभी मेरी नजर बॉस की पैन्ट पर गई, वहाँ उनका लड़ बिल्कुल टाईट था क्योंकि मुझे उभार नजर आ रहा था. कुछ ही पल के बाद भाभी ने मेरे कपड़े भी उतार दिये और मुझे भी पूरा नंगा कर दिया. एक दिन वो मशीन में बैठ कर शोल्डर की एक्सरसाइज कर रही थीं और मैं लगातार उनको घूर रहा था.